नैनीताल। प्रदेश के राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी की पहल पर शुरू होने जा रही काठगोदाम से देहरादून के लिए जन शताब्दी सुपरफास्ट एक्सप्रेस का समय प्रातः छह बजे काठगोदाम से देहरादून को तथा शाम चार बजे देहरादून से चलकर रात्रि 11 बजे काठगोदाम पहुंचने का है। उच्च न्यायालय के महाधिवक्ता कार्यालय के कर्मचारी संघ ने इस मामले में सांसद को ज्ञापन भेजकर जन शताब्दी एक्सप्रेस चलाने के लिए आभार चलाने के साथ अनुरोध किया है कि इसे सुबह 6 बजे देहरादून से तथा शाम 4 बजे काठगोदाम से चलाया जाए। क्योंकि तय कार्यक्रम के अनुसार पहाड़वासियों को इसे पकड़ने के लिए सुबह 6 बजे काठगोदाम और रात्रि 11 बजे काठगोदाम पहुंचने पर पहाड़ को जाना संभव नहीं होगा। वहीं इस संबंध में हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष ललित बेलवाल ने इस रेलगाड़ी को सुबह 5 बजे देहरादून से तथा शाम 5 बजे काठगोदाम से चलाने की मांग करते हुए प्रधानमंत्री, केंद्रीय रेल मंत्री व राज्य सभा सांसद को ज्ञापन भेजे हैं।

तय समय पर चलने से ही मिलेंगे कुमाऊंवासियों को लाभ

वहीं अनेक लोगों का कहना है कि समय परिवर्तन करने से काठगोदाम से देहरादून जाने वालों को लाभ नहीं मिल पायेगा। तय समय ही ठीक है। तय समय से ही जन शताब्दी एक्सप्रेस के चलने पर कुमाऊं के लोग सुबह यहां से चलकर दिन के कार्य करने तक देहरादून पहुंच पाएंगे, और शाम 4 बजे तक कार्य निपटाकर वापस भी लौट सकेंगे। लेकिन यदि जैसी मांग की जा रही है, वैसा समय बदला तो इसका कुमाऊं वासियों को कोई लाभ नहीं मिलेगा। पहले की तरह शाम को चलेंगे, रात में देहरादून पहुचेंगे। रात को होटल लेना पड़ेगा। और सुबह लौटते समय भी इसका कोई लाभ नहीं मिल सकेगा।

यह भी पढ़ें : ‘शान-ए-भोपाल’ की तर्ज पर अपग्रेड हुई रानीखेत व कार्बेट पार्क लिंक एक्सप्रेस

नयना देवी के चित्र युक्त नये कलेवर में सजी रानीखेत एक्सप्रेस।

-नयना देवी मंदिर चित्रों से भी सजी रानीखेत एक्सप्रेस
-इन गाडियों में यात्रियों को मिलेगा सुरक्षित, आरामदायक व घर जैसा स्वच्छ वातावरण
नैनीताल। उत्तराखंड की काठगोदाम व रामनगर से चलने वाली रानीखेत एक्सप्रेस (15013/15014) व जिम कार्बेट पार्क लिंक एक्सप्रेस (25013/25014) ‘शान-ए-भोपाल’ की तर्ज पर अपग्रेड हो गयी हैं। रेलवे बोर्ड, नई दिल्ली से इस संबंध में जारी निर्देशों के क्रम में शनिवार को रेलवे के इज्जतनगर मंडल में इस गाड़ियो के सभी कोचों को अपग्रेड कर दिया गया है। इस नयी पहल के फलस्वरूप इन गाडियों में यात्रा करने वाले यात्रियों को सुरक्षित, आरामदायक व घर जैसा स्वच्छ वातावरण उपलब्ध होगा।

चित्रों में काठगोदाम रेलवे स्टेशन तब और अब :  

काठगोदाम रेलवे स्टेशन तब
काठगोदाम रेलवे स्टेशन अब

इन गाड़ियों को अपग्रेड करने गाडियों में उनके गन्तव्य स्थलों को दर्शाने वाले स्क्रीन प्रिन्टेड बोर्ड लगाये गये हैं। साथ ही गाडी के अन्य स्टेशनों पर आगमन व प्रस्थान की जानकारी उपलब्ध कराने के लिए सभी कोचों के अन्दर समय सारणी तथा यात्रियों की सुविधा एवं सुरक्षा से सम्बन्धित निर्देश व जानकारी दर्शाने वाले एकीकृत स्टीकर लगाये गये हैं। इसके अलावा कोचों के शौचालयों को स्वच्छ बनाने रखने के उददे्श्य से, सभी शौचालयों में हेल्थ फॉसेट, फ्लावर पोस्टर्स, स्टेनलेस स्टील मग व डस्टबिन लगाये गये हैं। साथ ही एसी टू टियर व थ्री टियर कोचों में उच्च गुणवत्ता के कंबल, एसी प्रथम श्रेणी कोचों में उच्च गुणवत्ता के मिंक ब्लैंकेट (कंबल) उपलब्ध कराए गए हैं, तथा केबिनों मंे फूट स्टेप का प्रावधान किया गया है। साथ ही कॉरीडोर में स्टेनलेस स्टील की हैंड रेल व फ्लावर बेस लगाये गये हैं। इसके अलावा अनारक्षित यानों की सीटों के कोनों पर रिइन्फोर्समेंट लगाये गये हैं, तथा यानों के प्रवेश द्वार पर स्वागत चिन्ह व बराबर में कलश का शुभ चिन्ह बनाया गया है। बताया गया है कि इन कार्यों को पूरा करने हेतु रेलवे बोर्ड द्वारा 31 मार्च 2018 का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसे तय समय सीमा में पूरा कर लिया गया है। ऐसी पहली रेलगाड़ी 31 मार्च को काठगोदाम व रामनगर से चला भी दी गयी है।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय बजट से कुमाऊं में रेल लाइनों के विदयुतीकरण  का तोहफा, कायाकल्प होगा

अपर मंडल रेल प्रबंधक-(ढांचा) आशीष कुमार अग्रवाल

-मुरादाबाद-काशीपुर-रामनगर, रामपुर-काठगोदाम, काशीपुर-लालकुआ तथा बरेली-लालकुआ रेल लाइनों का विदयुतीकरण  करने को मिली स्वीकृति
-काठगोदाम व टनकपुर की लाउंड्री के गंदे पानी के रिसाइकिलिंग का प्लांट, कई उपरिगामी पथ भी बनेंगे 
-रामपुर-काठगोदाम, मुरादाबाद-रामनगर, लालकुआं-काशीपुर व भोजीपुरा-लालकुआ के बीच रेल लाइनों के नवीनीकरण कार्यो को भी मिली स्वीकृति
नवीन जोशी, नैनीताल। आगामी वित्तीय वर्ष 2018-19 के बजट से कुमाऊं मंडल की रेल लाइनों को काफी कुछ मिलने जा रहा है। आगामी वित्तीय वर्ष में भारतीय रेलवे के कुमाऊं से संबंधित इज्जतनगर रेल मंडल में 6000 किमी रेल विदयुतीकरण  का लक्ष्य रखा गया है। इसमें कमोबेश पूरा लाभ कुमाऊं को मिलने जा रहा है। स्वीकृत बजट के अनुसार आगामी वर्ष में कुमाऊं के सभी प्रमुख रेल मार्गोे मुरादाबाद-काशीपुर-रामनगर, रामपुर-काठगोदाम, काशीपुर-लालकुआ तथा बरेली-लालकुआ रेल लाइनों का विद्युतीकरण करने को स्वीकृति मिल गयी है, तथा इज्जतनगर रेल मंडल ने इसे अपने लक्ष्य में भी रख लिया है। इन लाइनों में रेल विद्युतीकरण से रेलगाड़ियों की गति में वृद्धि होने के साथ ही इलेक्ट्रिक इंजनों के ईको-फ्रेंडली हाने से पर्यावरण भी संरक्षित होगा।

यह भी पढ़ें : 
राष्ट्रीय सहारा, 10 फ़रवरी 2018

इसके अतिरिक्त रेलवे पीलीभीत जिले की ओर से उत्तराखंड को जोड़ने वाली मझोला पकड़िया-टनकपुर रेल खंड का आमान परिवर्तन का कार्य पूरा करने के साथ पूर्णागिरि मेले से पहले रेलगाड़ी चलाने की भी योजना बना रहा है। यह रेलगाड़ी 21 फरवरी से चल सकती है। इसके अलावा बाजपुर-हेमपुर इस्माइल स्टेशनों के बीच किमी संख्या 48/9 से 29/1 पर स्थित पुल संख्या 104 के पुर्ननिर्माण के लिए 25.8 करोड़ की स्वीकृति भी बजट में मिल गयी है। इसमें से 10 लाख रुपए 2018-19 में मिलेंगे। इसके अलावा काठगोदाम, लालकुआ व टनकपुर रेलवे स्टेशनों पर मैकेनाइज्ड लाउंड्री से निकलने वाले गंदे पानी को रि-साइकिल करने के लिए संयंत्र बनाए जाएंगे। बजट में इसके लिए 3.75 करोड़ की स्वीकृति दी गयी है, जिसमें से 2018-19 में 5 लाख का आउटले है। इसके अलावा रामपुर-काठगोदाम के बीच 57.41 किमी तथा मुरादाबाद से रामनगर के बीच 25.18 किमी इकहरी रेल लाइन खंडों के सतत नवीनीकरण, लालकुआं-काशीपुर के बीच 51 किमी तथा भोजीपुरा से लालकुआ के बीच 64.271 किमी रेल खंड का रेल फिटिंग नवीनीकरण के साथ ही कई स्टेशनों पर उपरिगामी पथों एवं रोड ओवर ब्रिज व रोड अंडर ब्रिजों के लिए भी केंद्रीय बजट में प्राविधान किये गये हैं। इज्जतनगर मंडल के अपर मंडल रेल प्रबंधक-(ढांचा) आशीष कुमार अग्रवाल, परिचालन विनोद कुमार गुप्ता ने बताया कि भारतीय रेलवे मौजूदा वित्तीय वर्ष 2017-18 में इज्जतनगर रेल मंडल में 4000 किमी रेल लाइनों का विदयुतीकरण कर रही है, अलबत्ता कुमाऊं में रेल विदयुतीकरण के कार्य अभी शुरू नहीं हुए हैं। लिहाजा आने वाले वित्तीय वर्ष में कुमाऊं में रेलवे का कायाकल्प होने जा रहा है।

About Admin

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है।

यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….।

मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Similar Posts

Leave a Reply

Loading...