News

शांतिकुंज प्रमुख प्रणव पंड्या को क्लीन चिट, छत्तीसगढ़ की युवती ने लगाए थे रेप के आरोप

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

करन खुराना, हरिद्वार डॉ प्रणव पंड्या और उनकी पत्नी शैलबाला पर छत्तीसगढ़ की एक युवती ने रेप जैसे संगीन आरोप लगाए थे। इस हाई प्रोफाइल मामले की जांच कर रही एसआईटी ने डॉ प्रणव पंड्या और शैलबाला को क्‍लीन चिट दे दी है। एसएसपी हरिद्वार सेंथिल अवुडई कृष्णा राज एस ने बताया कि इस मामले में सोमवार को फाइनल रिपोर्ट कोर्ट में जमा कर दी गई है। जांच के बिंदुओं पर कुछ बोलना जायज नहीं होगा, लेकिन पुलिस को जांच के दौरान चार्जशीट दाखिल करने का कोई आधार नहीं मिला।

गौरतलब है कि युवती के आरोप थे कि वर्ष 2010 में उसे प्रणव पंड्या की सेवा में लगाया गया था। इस दौरान पंड्या ने उसके साथ दुष्कर्म किया। यह बात जब उसने पंड्या की पत्‍नी शैलबाला को बताई तो उन्होंने मुंह बंद रखने के लिए कहा। हाई प्रोफाइल मामला होने के बाद इस मामले में एसएसपी ने एक एसआईटी बनाई जिसने प्रकरण की गहनता से जांच की। एसआईटी की जांच में कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं जिससे शांतिकुंज प्रमुख और उनकी पत्नी को राहत मिली हैं।

युवती ने आवाज का नमूना देने से किया इनकार
बताया जा रहा है कि एसआईटी को एक ऑडियो क्लिप मिली है जिसमें पीड़िता आरोपों को खारिज कर रही है। एसआईटी ने जब ऑडियो क्लिप की जांच के लिए पीड़िता को बुलाया तो उसने अपनी आवाज का नमूना देने से इनकार कर दिया। पीड़िता की जिद थी प्रणव पंड्या की आवाज के नमूने लिए जाएं। एसआईटी का कहना था कि उस ऑडियो में प्रणव पंड्या की आवाज नहीं है। इसके अलावा वर्ष 2013 में शांतिकुंज छोड़ने के बाद भी पीड़िता ने 2015 और 2016 में यहां आयोजित साधना शिविर में भाग लिया था। एसआईटी अधिकारियों ने जब इस बाबत पीड़िता से सवाल पूछे तो वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com
loading...