Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

आपका कोना : आज गांवों से पलायन की पीड़ा पर दिल्ली से अल्मोड़ा मूल के नवीन जोशी ‘नवल’ की अभिव्यक्ति

Spread the love

(‘नवीन समाचार’ में हम एक नया स्तंभ ‘आपका कोना’ शुरू कर रहे हैं। इस स्तंभ में हम ‘नवीन समाचार’ के पाठकों की कविताएं, लेख, विचार आदि प्रकाशित करेंगें। यदि आप भी ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने विचार, कविता-लेख आदि प्रकाशित कर हमारे अन्य पाठकों तक पहुंचना चाहते हैं तो हमें अपने विचार, कविता या लेख आदि हमें हमारे ईमेल पते saharanavinjoshi@gmail.com पर भेज सकते है। – नवीन समाचार)

अंक-2 : “मैं तेरा घर-आंगन”

नवीन जोशी “नवल”

बनकर मूक-तपस्वी रहता आस संजोये मन ही मन 
सूना-सूना बाट जोहता वर्षों – “मैं तेरा घर-आंगन”

भरे नेत्रजल राह ताकता, दे प्रियवर अब मुझको तोषिक,
करले मुझको याद कभी तो, मैं तेरा तू मेरा पोषित।
कहाँ गया उल्लास मोद, कहाँ गयी वह अमित प्रीत है,
कहाँ गयीं होली-दीवाली, कहाँ गये वे नवल गीत हैं।
तीज-बसंत विविध अवसर पर, क्यों छोड़ा है मेरा दामन?
सूना-सूना बाट जोहता वर्षों – “मैं तेरा घर-आंगन” ।१।

कितने सावन, कितने फागुन, मैंने देख लिये भर लोचन,
विस्मित कातर भीत बना अब, जो आँगन था नंदन कानन ।
पर छोड़ी ना आस आज लौ, फिर बहुरेगा उपवन मेरा,
उल्लसित किलकित गुंजित होकर, सुरभित हो हर कोना मेरा ।
नव-बसंत, अगणित पतझड़ औ, झेली हैं ऋतुएँ मनभावन,
सूना-सूना बाट जोहता वर्षों – “मैं तेरा घर-आंगन” ।२।

किस सुख की चाहत में मुझको छोड़ा तूने आज बता दे,
क्या खोया-क्या पाया अब लौ, सारी गठरी आज दिखा दे ।
था वैभव गोदी में मेरी, कितना उसको और बढाया ?
संरक्षण की बात नहीं है, संवर्धन कितना कर पाया ?
किंचिद् उस निधि में से मेरी जीर्ण देह तो कर दे पावन,
सूना-सूना बाट जोहता वर्षों -“मैं तेरा घर-आंगन” ।३।

चिर प्रतिक्षित मैं उपेक्षित, जर्जर, दुर्बल, मौन, हताहत,
शिथिल ह्रदय मैं खड़ा आज ले, अपनों से मिलने की चाहत ।
कालकूट सी मेघ गर्जना, भरी दुपहरी, रात घनेरी,
पर विश्वास न छोड़ा अब तक, आयेगी फिर संतति मेरी।
पुन: खिलेंगे पुष्‍प गोद में, फिर आयेगा नूतन सावन,
सूना-सूना बाट जोहता वर्षों – “मैं तेरा घर-आंगन” ।४।

श्री जोशी का पत्र : 

महोदय,

नमस्कार, अत्यंत हर्ष का विषय है कि आपने “आपका कोना” नाम से पाठकों के लिए स्तंभ बनाया है, जो निश्चित ही साहित्य को प्रोत्साहन देने में महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान करेगा।
मैं नवीन जोशी “नवल” मूलतः अल्मोड़ा जिले से हूं, वर्तमान में दिल्ली में निवास है। मैं अपनी स्वरचित कविता प्रकाशन हेतु भेज रहा हूं, यदि संभव हो तो प्रकाशित करने की कृपा करेंगे।

                  – नवीन जोशी “नवल”, ,मूलतः अल्मोड़ा से, वर्तमान में दिल्ली में निवासरत (10 फ़रवरी 2019)

अंक-1, दिल्ली बटी लोक कलाकार जगदीश तिवारी ज्यूकि द्वि कुमाउनी कविता 

1- सड़का तू आई लकी आब आई

जगदीश तिवारी

सड़का तू आई लकी आब आई
सड़का तू आई लकी आब आई

गौं-बाखई खाली हैगे,
चौथरमॅ बुकिल भौगाव जामिगे
पख दन्यारिम बाघ भै रौ
मलस्यारि बानर, तलस्यारी सूअरा बोई रौ
भितेर टुटि ग्वोठ ऐगो
ग्वठ बयै रै बिराई
सड़का तू आई लकी आब आई
सड़का तू आई लकी आब आई

32 झड़ियॉ कुठुम्ब ओ ईजा
राति शंखक टुटाट, दिन भरी चडमडाट
परबेर गोबिन्दुकरॉक बुड़बाड़ीलै
य तलि है न्है गयीं
हिन्दी में, जानि द्या मिहै कै गयी, हमर द्वार म्वार लै चहै दिये, ताई
सड़का तू आई लकी आब आई
सड़का तू आई लकी आब आई

खेती पाति बड-ख्वड़
तलि-तलि, मलि-मलि
सारी व्वड़ सारिय रै गो
गोरू बछा टान पन
टान टान रै गो
टपकनै टपकनै आखों मजा ऑस लै सुखि गो
बिजुली त छ, बडम, जगहै आब काकै बुलाई
आई लै म्यर नान-तिन एैल, आस सबुल लगै रै, मैल लै लगाई
सड़का तू आई लकी आब आई
सड़का तू आई लकी आब आई

2- नक झन माानिया ईजा, पहाडी छूं पहाड़ी बुलानू

नक झन माानिया ईजा, पहाडी छूं पहाड़ी बुलानू

आफूं कतुकै हिन्दी में बड़बड़ाट पाड़ो, अंग्रेजी में फड़फड़ाट पाड़ो
मिकैं नी लागनी सरम, किलैकि मैं इकैणी माननू आपण धरम करम
आपण भिड़ परि ल्यौण, म्यर उचेणी उचेणी बै खाई छीं
झाल परि हिसाव थ्वप, किलमौड़, काफों, ब्यर
राति पर पॉव पड़ि ताजि, ख्याणा, मिहौव म्यर पचकायी छीं
तुमलै खछा के,
अलघता-परघता नी टावो,
जे नी हल झनप्प हो, में त हर साल एक-द्वी बार, आपण पहाड़ जरूर जानू
नक झन माानिया ईजा, पहाडी छू पहाड़ी बुलानू
नक झन माानिया ईजा, पहाडी छू पहाड़ी बुलानू

ओ ईजा भटक चुड़काणी, गाजड़
गहतक बेडू, डुबुक, मनुवक स्वटमॅ घ्यों पचक
गुनीगुनी ताज्जी छॉ, झोई व छचियै गजैक,कैं
किलै भुलीगोछा,
वू मू-गढेरी साग, आहा पिगौं ककड़ रैत
आज लै पहाड़ जै बेर, पिसी लूणम नीमू राई बेर
पैलियैक जस, मैतै पचकानु
नक झन माानिया ईजा, पहाडी छू पहाड़ी बुलानू
नक झन माानिया ईजा, पहाडी छू पहाड़ी बुलानू

हमर गौं मथै द्यप्ता थान, ठुल बाज्यू रातियै नाई धोई बेर, दुर्गा पाठ, ज्ञान ध्यान
मन्दिरों में ह्यौनों दिनोंक सप्ताह, गमिछिकांे रामलीला
फुल देई फूल, दिवाई ऐपण, उतरैणी गूड़, नाख ठुकुम घ्यांे, कान जडों में जौ
तुमुकै लै याद हुनल,
मैं आजि लै पहाड़ जै बेर, दशहरा द्वार पत्र
आपण हाथोंल आपण द्वारों पै चिपकौनूं
नक झन माानिया ईजा, पहाडी छू पहाड़ी बुलानु
नक झन माानिया ईजा, पहाडी छू पहाड़ी बुलानु

                                              -जगदीश तिवारी, लोक कलाकार, उत्तराखंड, वर्तमान में दिल्ली में निवासरत (9 फरवरी 2019)

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply