News

कारगिल शहीद मेजर राजेश अधिकारी को श्रद्धांजलि

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 जुलाई 2021। कारगिल विजय दिवस के अवसर पर व्यापारियों ने जिला मुख्यालय में तल्लीताल स्थित दर्शन घर स्थित शहीद मेजर राजेश अधिकारी स्मारक स्थल पर पुष्प अर्पित कर तथा मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इस अवसर पर तल्लीताल व्यापार मंडल के अध्यक्ष मारुति नंदन साह की अगुवाई में व्यापारियों ने शहीदों को तथा उनके परिवार को नमन किया और शहीद मेजर राजेश अधिकारी के व्यक्तित्व की कुछ अनजानी खासियतों से सभी को अवगत कराया।

इस मौके पर महामंत्री अमनदीप सिंह आनंद ‘सनी’, उपाध्यक्ष नासिर खान, ममता जोशी, कोषाध्यक्ष हरीश लाल, उपसचिव जयंत उप्रेती, मल्लीताल व्यापार मण्डल उपाध्यक्ष राजू वर्मा, पूर्व कोषाध्यक्ष ललित मोहन सती, नरदेव शर्मा, अजय वर्मा, विजय कुमार, हर्ष साह, ललिता खत्री, गीता लोहनी, बबीता मनराल, दामोदर फर्त्याल, इंद्र सिंह बिष्ट, मयंक शाह, नीरज पांडे व कमल कुमार आदि लोग मौजूद रहे।

‘है नमन उनको जो इस देश को अमरत्व देकर इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गए हैं..’
नैनीताल। 22वें कारगिल विजय दिवस के अवसर पर मुख्यालय में तल्लीताल स्थित शहीद मेजर राजेश सिंह अधिकारी शहीद पार्क में विभिन्न वर्गों ने कारगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिको को याद करते हुए श्रद्धांजलि दी। डीएसबी परिसर के 79 यूके बटालियन एनसीसी कैडेटों एवं एनसीसी कर्मियों ने शहीद मेजर राजेश अधिकारी की मूर्ति पर माल्यार्पण किया एवं उन्हें सैल्यूट कर सलामी दी। कैडेटों ने ‘है नमन उनको जो इस देश को अमरत्व देकर इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गए हैं..’ गीत गाकर उपस्थित लोगों को देश के लिए कार्य करने हेतु प्रेरित किया।

इस अवसर पर सीओ कर्नल अजय सिंह, सूबेदार मेजर ललित मोहन, सूबेदार शिव सिंह, सूबेदार महिपाल सिंह, नायब सूबेदार किशन सिंह, नायब सूबेदार लक्ष्मण सिंह, बीएचएम किरण कुमार, सीएचएम भूषण जोशी व हेम जोशी, हवलदार डीके पाठक, नरेंद्र चंद्र, दिनेश, नीरज व भानु प्रताप, लेंस कार्पोरल कपिल भाकुनी, कैडेट दीपक रावत, प्रिया मेहरा, सिमरन नाज, हर्षित जोशी, खुशाल सिंह आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : हरेला: नैनीताल की प्रेरणा से 11 राज्यों में रोपे गए पौधे, कुमाऊं विवि के पाठ्यक्रम में भी शामिल होंगे लोक पर्व

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जुलाई 2021। उत्तराखंड के सर्वप्रमुख प्रकृति, पर्यावरण, कृषि एवं मौसम परिवर्तन से संबंधित लोक पर्व हरेला पर जहां प्रकृति ने खुद भी हर ओर हरियाली बिखेर रखी है, वहीं मानव में भी पेड़ों एवं पर्यावरण के प्रति चिंता अपने चरम पर दिखाई दी। मान्यता है कि इस दिन लगाया गया हर पौधा जम जाता है, इसलिए भी हर किसी में एक इस मौके पर पौधे लगाने की होड़ रही। घरों की बड़ी-बुजुर्ग महिलाओं ने इस दौरान बच्चों-बड़ों को ‘लाग हरयाव, लाग दसैं, जी रया, जागि रया, यो दिन-मास भेटनै रया..’ की आशीषें देते हुए उनके पैरों से छूकर सिर में खास तरीके से घर के भीतर उगाए सात अनाजों के हरेले के तिनके चढ़ाए।

कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनके जोशी।

हरेला पर्व के इस अवसर पर कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनके जोशी ने शुक्रवार को कहा कि उत्तराखंड के प्रकृति पर्वों को पाठ्यक्रम में शामिल किया जायेगा। इस अवसर पर उन्होंने विश्वविद्यालय के प्रशासनिक परिसर एवं कृषि विज्ञान विभाग में अधिकारियों, प्राध्यापकों एवं कर्मचारियों के साथ एचडीएफसी बैंक के सौजन्य से पौध रोपण किया। कुलपति ने कहा कि इस दिन के लिए मान्यता है कि अगर पेड़ की कोई टहनी भी मिट्टी में रोप दी जाए तो वह भी जड़ पकड़ लेती है। यह बात भले ही किवदंती के रूप में प्रचलित हो लेकिन इससे यह भाव स्पष्ट है कि यह प्रकृति को समर्पित पर्व है। उन्होंने यह भी कहा कि शीघ्र ही उत्तराखंड के प्रकृति पर्वों को पाठ्यक्रम में शामिल करने हेतु कार्य योजना बनाई जाएगी।

इस मौके पर कुलसचिव दिनेश चंद्रा, प्रो. ललित तिवारी, डॉ. आशीष तिवारी, डॉ. विजय कुमार, डॉ. विनोद जोशी, बैंक मैनेजर एघडीएफसी श्री बसंत जोशी, राहुल कुमार, सुमित कुमार, चंदन रावत के साथ विश्वविद्यालय एवं बैंक के कर्मचारिगणों द्वारा बुरांश, जामुन, देवदार एवं मोरपंखी के पौधे लगाए।

11 राज्यों के 72 प्रतिभागियों ने भी अपने घरों पर हरेला मनाते हुए किया पौधरोपण
नैनीताल। कुमाऊं विवि के यूजीसी मानव संसाधन विकास केंद्र में चल रहे ऑनलाइन फैकल्टी इंडक्शन प्रोग्राम में शामिल देशभर के 11 राज्यों- पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात,, छत्तीसगढ़ हरियाणा, सिक्किम, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के 72 प्रतिभागियों ने भी केंद्र की प्रेरणा पर हरेला पर्व पर अपने-अपने घरों पर पौधरोपण किया गया। उल्लेखनीय है कि इस ऑनलाइन चल रहे पाठ्यक्रम के दौरान केंद्र की ओर से प्रकृति के संरक्षण और संवर्धन की दिशा में उत्तराखंड की सांस्कृतिक धरोहर और परंपरा के प्रतीक हरेला की जानकारी देते हुए इसे मनाने के लिए समस्त प्रतिभागियों को इस अवसर पर पौध रोपण करने के लिए आवाहन किया गया था। प्रतिभागियों ने पौध रोपण करने की फोटो भी ऑनलाइन माध्यम से केंद्र को उपलब्ध कराए हैं। इस दौरान केंद्र की निदेशक प्रो. दिव्या उपाध्याय जोशी, सहायक निदेशक व कार्यक्रम समन्वयक डॉ. रीतेश साह, इंद्र सिंह नेगी दशरथ बिष्ट, अरविंद सिंह, जतिन सिंह व कैलाश जोशी आदि ने हरमिटेज परिसर में भी पौधे रोपे।

हरेला पर वन विभाग के वन महोत्सव में विधायक, डीएम, आईजी व डीएफओ आदि ने किया पौधरोप नैनीताल। जिला मुख्यालय में हरेला पर्व पर मुख्य कार्यक्रम वन विभाग के द्वारा निकटवर्ती भूमियाधार में आयोजित हुआ। डीएफओ बीजू लाल टीआर की अगुवाई में आयोजित इस कार्यक्रम में विधायक संजीव आर्य, आईजी कुमाऊं अजय रौतेला, जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल, मुख्य विकास अधिकारी डॉ. संदीप तिवारी, वन संरक्षक कुबेर सिंह बिष्ट, प्रभागीय वनाधिकारी टीआर बीजूलाल, दिनकर तिवारी व संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन सहित अनेक लोगों के द्वारा पीपल, काफल, जामुन, आंवला, चमेली, बोटल ब्रश, अकेसिया, चिनार सहित विभिन्न प्रजातियों के करीब 250 पौधों का रोपण किया गया। इस दौरान अल्मोड़ा से आए लोक कलाकारों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन, जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, मुख्य उद्यान अधिकारी भावना जोशी, रेंजर ममता चन्द, सोनल पनेरू, प्रमोद तिवारी, तनूजा परिहार, सहित नितेश बिष्ट, मनोज बिष्ट ‘गुड्डू’, चंदन जोशी, डॉ. विकास वर्मा, मनोज, उमेश बिष्ट, सर्वप्रिय कंसल, संजीव तिवारी, मयंक भट्ट, नवीन भट्ट, चंद्रेक बिष्ट, खष्टी बिष्ट, बीएस नेगी सहित अनेक गणमान्यजन मौजूद रहे।

विधायक, डीएम, आईजी, सीडीओ को महिलाओं ने चढ़ाया हरेला

नैनीताल। हरेला पर्व पर नगर में अनेक स्थानों पर पौधारोपण हुआ। मुख्यालय के निकट भूमियाधार में आयोजित हुए वन विभाग के कार्यक्रम ‘वन महोत्सव’ में विधायक संजीव आर्य, डीएम धीराज गर्ब्याल, कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी अजय रौतेला, सीडीओ संदीप तिवारी व संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन को स्थानीय महिलाओं, ग्राम सिरोड़ी की ग्राम प्रधान नीमा बिष्ट की अगुवाई में कमला भंडारी, गीता ढैला, कमला ढैला, हेमा बिष्ट, देवकी ढैला, पुष्पा ढैला, देवकी ढैला, आशा ढैला व तुलसी मेहरा आदि ने पैर छूकर सिर में हरेला चढ़ाया तो यह यह बेहद भावुक पल रहे।

अनेक स्थानों पर हुआ पौधरोपण
नैनीताल। हरेला पर्व पर नगर के दुर्गापुर स्थित पार्वती प्रेमा जगाती सरस्वती विहार में हुए पौधरोपण कार्यक्रम में हरेला फाउंडेशन के अध्यक्ष संदीप बालियान, प्रधानाचार्य नरेंद्र सिंह, विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष कामेश्वर प्रसाद काला सहित अनेक लोगों ने पौधे लगाए। उधर, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने नगर के भूमियाधार स्थित शिव मंदिर के पास फलदार वृक्ष जामुन, काफल, बुरांश, तिमील आदि के पौधे लगाए गए। इस स्थान का नामकरण ‘माधव वाटिका’ रखा गया। स्वयंसेवकों ने वर्ष भर रोपित पौधों के संरक्षण का संकल्प भी लिया। कार्यक्रम में मदन जलाल, मनोज, रमेशना, सर्वप्रिय, नवीन, राम सिंह रौतेला, उमेश, धर्मेंद्र, चंदन, मयंक, डॉ. माधव त्रिपाठी, नरेंद्र सिंह, डा. सुनील, डा. कमलेश, डा. ललित, डॉ. मनोज, अखिलेश, डॉ. विकास वर्मा एवं अन्य स्वयंसेवकों ने प्रतिभाग किया। वहीं, पुलिस उप महानिरीक्षक अग्निशमन एवम आपात सेवा की स्थानीय शाखा के कर्मियों ने हरेला पर हल्द्वानी रोड़ पर हनुमानगढ़ी मे वन विभाग कर्मचारियों के साथ एवम राजभवन नैनीताल में पीएसी प्रांगण सहित विभिन्न स्थलों पर 40 फलदार पौधे लगाये गये। पौधारोपण करने वालों में जवाहर सिंह, राजेंद्र नाथ, उमेश कुमार, कुलदीप कुमार, मोहन सिंह, नीरज कुमार आदि कर्मी शामिल रहे।

साढ़े चार वर्ष के नन्हे वंश ने लगाया जीवन का पहला पौधा
नैनीताल। नैनीताल ताईक्वांडो क्लब के सचिव विनोद कुमार वैद्य के नेतृत्व में केंद्री मंत्री अजय भट्ट के सांसद प्रतिनिधि व क्लब के संरक्षक भाजपा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य गोपाल रावत की अगुवाई में सूखाताल स्थित चर्च कंपाउंड क्षेत्र में तिमिल, पांगर व बाज के पौधे लगाकर हरेला पर्व मनाया। पौधरोपण में क्लब के अध्यक्ष विश्वकेतु वैद्य, विनोद कुमार, विभोर भट्ट, खुशी भट्ट, गुंजा बिष्ट, अर्णव, वंश, त्रिशिखा, वैभव व नजर खान आदि शामिल रहे। साढ़े चार वर्ष के नन्हे वंश कुमार ने भी यहां अपने जीवन का पहला पौधा लगाया।

हरेला पर्व के उपलक्ष्य में नगर की ‘अपनी धरोहर’ संस्था के सदस्य-पूर्व सांसद डॉ. महेंद्र पाल, सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. सरस्वती खेतवाल, योगेश साह, पान सिंह ढेला, छात्र संघ अध्यक्ष विशाल वर्मा, पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष सौरभ रावत, जूनैद अहमद, संतोख, अरुण साह, समीर, कुंदन, चैतन्य, विश्वकेतू वैद्य व रुचिर साह आदि ने द्वारा नैनी झील के चारों ओर 201 पौधों का रोपण किया। जय जननी जय भारत संस्था के अध्यक्ष नगर पालिका सभासद मनोज साह जगाती ने पवन आर्या व प्रियांशु के साथ अरविंद आश्रम क्षेत्र में पौध रोपण किया। इसके अलावा ‘हिमाल’ आर्ट एंड कल्चर सोसायटी ने हरेला के अवसर पर रूसी बाईपास में पौधे रोपे। अभियान में संस्था की संस्थापक अध्यक्ष अदिति खुराना, सचिव नीरज डालाकोटी, गंगोत्री बिष्ट, पवन कुमार, अजय कुमार, दीक्षय आर्या, मोहन कनवाल, केसर बोरा, गौरव व केए बब्बी ने योगदान दिया।

न्यायालयों में भी रोपे गए पौधे
नैनीताल। हरेला पर्व के अवसर पर उत्तराखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मनोज तिवारी ने पौधरोपण किया। साथ ही उन्होंने राज्य के सभी जिला विधिक सेवा प्राधिकरणों को भी इस अवसर पर पौध रोपण करने को कहा। इसके अलावा हाईकोर्ट बार एसोसिएशन नैनीताल के द्वारा उच्च न्यायालय के ग्लेनथॉर्न परिसर में विपिन बिलो के पौधों का रोपण किया। यहां पौधे रोपने वालों में बार के अध्यक्ष अवतार सिंह, महासचिव विकास बहुगुणा, मुख्य शासकीय अधिवक्ता सीएस रावत, बार काउंसिल के अध्यक्ष अर्जुन सिंह भंडारी, नेहा खत्री, आदित्य कुमार आर्या, सिद्धार्थ जैन, शक्ति सिंह, गोपाल वर्मा, महावीर प्रसाद कोहली, आकिब व प्रभात बोहरा सहित कई अधिवक्ता शामिल रहे। इसके अलावा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल के द्वारा इस अवसर पर हनुमानगढ़ स्थित ईको पार्क में पौधे लगाए गए। पौध रोपण करने वालों में प्रभारी जिला जज एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की अध्यक्ष प्रीतू शर्मा, प्राधिकरण के सचिव सिविल जज सीनियर डिवीजन इमरान मौहम्मद खान प्रमुख रहे। इस दौरान वन क्षेत्राधिकारी प्रमोद तिवारी भी उपस्थित रहे। प्राधिकरण के द्वारा दीवानी न्यायालय परिसर नैनीताल में भी पौध रोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें परिवार न्यायाधीश अंजूश्री जुयाल, अपर जिला जज राकेश सिंह, मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट एमएम पांडे, अपर मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट ज्योत्सना, जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील शर्मा, अभियोजना अधिकारी श्रद्धा, अधिवक्ता नवीन चंद्र, प्रमोद तिवारी, पंकज कुमार, हरेंद्र सिंह, मौहम्मद खुर्शीद हुसैन आदि भी शामिल रहे।

यह भी पढ़ें : प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’ के विषय पर नैनीताल में भी आयोजित हुई वेबीनार…

-भारतीय मानक ब्यूरो के नए मानकों से देश के खिलौना उद्योग में चुनौतियों से निपटने का अवसर: मित्रा
-भारतीय ‘खिलौना उद्योग के विकास की संभावनाओं’ पर आयोजित हुआ वेबीनार
नवीन समाचार, नैनीताल, 01 मार्च 2021। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो नैनीताल द्वारा सोमवार को ‘खिलौना उद्योग के विकास की संभावनाओं’ पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया। वेबीनार में वक्ता के तौर पर जाने-माने मार्केटिंग विशेषज्ञ और योजना आयोग के पूर्व मुख्य सलाहकार सुशांतो मित्रा ने अपने 40 वर्षों के अनुभव से इस बात पर जोर दिया की भारत के खिलौना उद्योग को चीन से जो कड़ी चुनौती मिल रही है उसका समाधान हाल के भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा स्थापित नए नियमों से हो सकता है। साथ ही भारतीय उद्योग के लिए यह एक नया अवसर भी साबित हो सकता है। उन्होंने खिलौना उद्योग के सभ्यतामूलक महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि खिलौनों का बच्चों के व्यक्तित्व पर काफी प्रभाव पड़ता है। इसलिए शिक्षा एवं मनोरंजन के क्षेत्रों में खिलौने बनाने वाली कंपनियों की विशेष भूमिका है।

वेबीनार में कोटद्वार के उद्यमी सहवाल रावत ने कहा कि वह खिलौनों की वजह से ही उद्यमी बने हैं। हालांकि उन्हांेने मास्टर ऑफ कंप्यूटर अप्लायंस यानी एमसीए की पढ़ाई की थी, लेकिन उन्होंने सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनी को नौकरी छोड़ खिलौना उद्योग में उद्यमी के तौर पर कदम रखा। उन्होंने सरकार को इस क्षेत्र की चुनौतियों का समाधान करने के लिए उपयोगी सुझा भी दिए। वहीं नैनीताल जिले के उद्यमी दीपक पांडे ने कहा कि जब उन्होंने 2002 में एक उद्यमी के तौर में इस क्षेत्र में शुरुआत की थी तो काफी अधिक चुनौतियां थीं। आज चीन से इतनी कड़ी टक्कर मिल रही है कि हमारे यहां का कच्चे माल ही चीन के बने खिलौनों से भी महंगा होता है। उन्होंने इस मामले में आयात के लिए कोई कड़ा पैमाना तय नहीं होने जबकि भारतीय उद्यमियों के लिए निर्यात के काफी कड़े पैमाने होने की ओर भी ध्यान आकृष्ट कराते हुए बैंकों की कर्ज देने के प्रणाली में भी सुधार की आवश्यकता बताई। वेबीनार का संचालन क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो नैनीताल में कार्यरत भारतीय सूचना सेवा के अधिकारी राजेश सिन्हा ने किया। उन्होंने 27 फरवरी से 2 मार्च तक चलने वाले वर्चुअल टॉय फेयर का जिक्र करते हुए कहा कि इस में करीब 1000 से अधिक वर्चुअल स्टाल लगाए गए हैं और यह भारत को कई आयामों में आत्मनिर्भर बनाने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री के 30 अगस्त 2020 के इसी विषय पर केंद्रित रहे ‘मन की बात’ कार्यक्रम का हवाला देते हुए कहा कि यह क्षेत्र 2022 तक लोगों केा आत्म निर्भर बनाने के प्रयास में किया गया एक कदम है।

इस वेबीनार के आयोजन के लिए उन्होंने रीजनल आउटरीच ब्यूरो देहरादून के अपर महानिदेशक नरेंद्र कुमार कौशल का उनके मार्गदर्शन के लिए तथा वक्ताओं एवं प्रतिभागियों को उनके समय के लिए व क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो नैनीताल के अधिकारी व कर्मचारियों का उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।

यह भी पढ़ें : अंतर्राष्ट्रीय वेबीनार से मनाया गया गुरुदेव का जन्मदिन, राष्ट्रगान दिवस के रूप में मनाने का केंद्रीय मंत्री ने जताया संकल्प

-गुरुदेव द्वारा रचित राष्ट्रगान वाले दो देश भारत और बांग्लादेश आज साथ मिलकर गुरुदेव का जन्म दिन मना रहे हैं: रिवा
Rabindranath Tagore Jayanti : विश्वभारती की स्थापना रामगढ़ में करना चाहते थे गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोरनवीन समाचार, देहरादून, 7 मई 2020। राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ के लेखक गुरुदेव रबींद्रनाथ टैगोर का 159वां जन्मोत्सव बृहस्पतिवार को ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार के जरिये आयोजित किया गया। इस मौके पर बोलते हुए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डा. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि गुरुदेव ने अपनी अद्वितीय रचना गीतांजलि के लिये साहित्य के क्षेत्र में एशिया में पहला नोबेल पुरस्कार हासिल कर राष्ट्र का नाम ऊंचा किया। हमारे रग-रग में बसा टैगोर रचित राष्ट्रगान हमारा मान-सम्मान बढ़ाता है। उन्होंने देश और दुनिया में सात मई को प्रति वर्ष टैगोर जी के जन्मोत्सव को राष्ट्रगान दिवस के रूप में मनाने का समर्थन करते हुए कार्यक्रम के आयोजक ‘शान्तिनिकेतन ट्रस्ट फॉर हिमालया’ से इसकी शुरुआत आज से करने का आह्वान किया।
उल्लेखनीय है कि नोबेल पुरुस्कार से अलंकृत गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर के जन्मोत्सव कार्यक्रम गुरुदेव की कर्मस्थली जनपद के रामगढ़ मंे विगत 6 वर्षों से ‘शान्तिनिकेतन ट्रस्ट फॉर हिमालया’ के द्वारा आयोजित किया जाता रहा है। इस दौरान ट्रस्ट द्वारा निर्मित वेबसाइट ूूूण्जंहवतमजवचण्बवउ का भी विमोचन किया गया। आयोजन में यूजीसी यानी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अध्यक्ष प्रो. डीपी सिंह ने गुरुदेव का साहित्यकार के साथ ही प्रकृति प्रेमी भी बताया। कहा कि उन्हीं की दूरगामी सोच को आधार बनाकर आयोग ने देश के विवि व महाविद्यालयों में विभिन्न पाठ्यक्रम लागू किये हैं। उन्होंने हिमालय में गुरुदेव के सपनों के अनुरुरू शिक्षण संस्थान की स्थापना में उनके स्तर से हर संभव सहायता का आश्वासन भी दिया। विशिष्ट अतिथि बांग्लादेश में भारतीय उच्चायुक्त रिवा गांगुली दास ने वेबीनार को ढाका से संबोधित करते हुए कहा कि आज गुरुदेव द्वारा रचित राष्ट्रगान वाले दो देश भारत और बांग्लादेश आज साथ मिलकर गुरुदेव का जन्म दिन मना रहे हैं। कार्यक्रम के आयोजक सचिव प्रो. अतुल जोशी ने प्रतिभागियों का स्वागत-अभिनंदन एवं आयोजक ट्रस्ट के प्रन्यासी-पूर्व विधान सभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल ने वेबीनार के प्रतिभागियो का आभार जताया। अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार में पूर्व विदेश सचिव शशांक, देवेंद्र ढैला, देवेंद्र बिष्ट, शुभम डालाकोटी, नवीन वर्मा, डा. नवीन जोशी, डा. सुरेश डालाकोटी, डा. एचडी तिवारी, डा. पंकज उप्रेती, मोहन जोशी, दिलीप पॉल, डा. सविता मोहन, डा. एसएस यादव, चारु तिवारी, बंगाल से डा. ज्योतिर्मय गोस्वामी सहित बड़ी संख्या में प्रतिभागी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : सरोवरनगरी में बसंत पंचमी पर 24 वर्षों बाद हुआ यह आयोजन

-श्रीराम सेवक सभा के तत्वावधान में 1994 के बाद आयोजित हुआ सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार

श्रीराम सेवक सभा में आयोजित कार्यक्रम में सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार कराते बटुक।

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 फरवरी 2019। सरोवरनगरी की सबसे पुरानी धार्मिक-सामाजिक संस्था श्रीराम सेवक सभा के तत्वावधान में रविवार को बसंत पंचमी के अवसर पर सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार का आयोजन किया गया। इस अवसर पर पांच बटुकों-उज्जवल साह, कुणाल, गौतम, कृष्णा व प्रणय साह का यज्ञोपवीत संस्कार किया गया। बताया गया कि यह आयोजन संस्था के द्वारा 24 वर्षों के बाद किया गया। बताया गया कि  इससे पूर्व 1994 में हुए ऐसे ही आयोजन में 51 बटुकों का यज्ञोपवीत संस्कार किया गया है।
श्रीराम सेवक सभा के सभागार में आयोजित हुई कार्यक्रम में धार्मिक अनुष्ठान आचार्य जगदीश लोहनी, घनश्याम जोशी व मनोज कांडपाल ने संपन्न कराये। आगे सामूहिक भोज का कार्यक्रम भी हुआ। सभा के उपाध्यक्ष अनूप शाही ने बताया कि इस बार जल्दी में यह कार्यक्रम किया गया। भविष्य में इसे बृहद स्तर पर किया जाएगा। आयोजन में सभा के अध्यक्ष मनोज साह, महासचिव राजेंद्र लाल साह, विमल चौधरी, मुकेश जोशी, विमल साह, सतीश पांडे, मिथिलेश पांडे, कमलेश ढोंढियाल, हिमांशु जोशी, राजेंद्र बिष्ट, चंद्र लाल साह, ललित साह, पुष्कर साह व गीता साह आदि ने भी योगदान दिया, जबकि डा. राजीव उपाध्याय, भारती साह, आभा साह, दीप्ति साह, कमला साह, सुनीता साह, सुधा साह, सुनीता साह व डा. सावित्री कैड़ा जंतवाल आदि भी मौजूद रहे।

घर-घर में रहा भक्तिमय माहौल
नैनीताल। बसंत पंचमी के अवसर पर नगर में घर-घर में भक्तिमय माहौल रहा। लोगों ने नहा-धोकर पीले बासंती रंग के वस्त्र धारण किये एवं घरों में विशेष सरस्वती पूजा की एवं पकवान बनाये। इस दौरान नगर की आराध्य देवी नयना देवी सहित अन्य देवालयों में भी पूरे दिन श्रद्धालुओं की भीड़भाड़ रही। रविवार का साप्ताहिक अवकाश होने के कारण व्यवसायी वर्ग भी घरों-मंदिरों में धार्मिक आयोजनों में शामिल हो पाये।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply