इटली के ‘ऑर्डर ऑफ स्टार अवार्ड’ से सम्मानित होंगे नैनीताल के अनुपम

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-भारत में कला एवं संस्कृति के संरक्षण के साथ ही देश-विदेश में तकनीक के आदान-प्रदान के लिये कला संरक्षकों को मिलेगी अमेरिकी भारतीय फेलोशिप

नवीन जोशी, नैनीताल। नैनीताल की कला एवं संस्कृति तथा प्राचीन पांडुलिपियों के संरक्षण के लिए समर्पित संस्था हिमालयन सोसायटी फॉर हेरिटेज एंड आर्ट कंजरवेशन (हिमसा) के प्रमुख अनुपम साह को अगले माह इटली में वहां के राष्ट्रपति सर्जियो मटरेल्ला के हाथों प्रतिष्ठित ‘ऑर्डर ऑफ द स्टार ऑफ इटली’ अवार्ड प्रदान किया जाएगा।जानकारी के अनुसार 2011 तक ‘ऑर्डर ऑफ द स्टार ऑफ इटेलियन सोलिडेरिटी’ अवार्ड कहा जाने वाला यह पुरस्कार इससे पूर्व केवल एक भारतीय, मशहूर शेफ एवं रेस्टोरेंटों की श्रृंखला की मालिक रितु डालमिया को वर्ष 2011 में प्राप्त हुआ था। इस प्रकार अनुपम यह पुरस्कार प्राप्त करने वाले दूसरे भारतीय होंगे।  

Med-placca.jpg
आर्डर ऑफ़ स्टार ऑफ़ इटली अवार्ड

अनुपम साह
अनुपम साह

एक भेंट में साह ने बताया कि उन्हें यह सम्मान कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में वर्षो कार्य करने एवं उत्कृष्टता हासिल करने के साथ ही देश-विदेश में इस तकनीक के आदान-प्रदान तथा कला व संस्कृतियों के संरक्षण के साथ ही सामाजिक-आर्थिक व नगरीय विकास जैसे अन्य क्षेत्रों में भी कार्य करने के लिए घोषित किया गया है। उल्लेखनीय है कि जनपद के रानीबाग निवासी साह ने कला एवं संस्कृतियों के संरक्षण की विकास यात्रा रानीबाग के ही शीतला माता मंदिर से की। उन्होंने यहां सीमेंट-कंक्रीट से नये आधुनिक स्वरूप में बदले गये मंदिर को चूने एवं उड़द की दाल के परंपरागत लेप से दीवारों को चिनकर तथा मूर्तियों को भी उनके प्राचीन स्वरूप में लौटाने से शुरुआत की। वहीं 2002 में एनडीए सरकार के दौरान तत्कालीन केंद्रीय पर्यटन मंत्री जगमोहन के दौर में उन्होंने उड़ीसा के पुरी जिले के लोककला शिल्पियों के अपनी कला को खो रहे एक गांव-रघुराजपुर को ऐसे अपने पुराने स्वरूप में लौटाया कि इसे ‘‘हेरिटेज विलेज’ घोषित किया गया और केंद्र सरकार ने इसकी तरह ही देश के सभी राज्यों में दो-दो मिलाकर कुल 60 गांवों को विकसित करने की ‘रूरल टूरिज्म’ योजना शुरू की।इसके अलावा वह उड़ीसा के भुवनेश्वर व अरुणाचल प्रदेश के चीन के सीमावर्ती 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित तवांग स्थित बौद्ध मंदिर-गोम्फा के परंपरागत पूजा संबंधी हस्तशिल्प को संरक्षित करने के कायरे में तथा यहां नैनीताल की ठंडी सड़क एवं अग्निकांड से बर्बाद हुए ऐतिहासिक जिला कलक्ट्रेट भवन को उसके प्राचीन परंपरागत स्वरूप में लौटाने में भी अपना योगदान दे चुके हैं। इसके अलावा वे विश्व धरोहर स्थल एलोरा एवं हंफी की दो हजार वर्ष पुरानी मूर्तियों व भित्ति चित्रों के संरक्षण के लिए भी प्रस्ताव तैयार कर चुके हैं।

40 कला संरक्षकों को मिलेगी अमेरिकी भारतीय फेलोशिप

नैनीताल। भारत सरकार तथा अमेरिका की एंडूमैलन फाउंडेशन के द्वारा अगले पांच वर्षो तक हर वर्ष कला एवं संस्कृति संरक्षण में कार्यरत आठ भारतीयों को फेलोशिप प्रदान करेगी। फाउंडेशन से जुड़े अनुपम साह ने बताया कि फेलोशिप के तहत चयनित कला प्रेमियों को अमेरिका, बेल्जियम एवं नीदरलैंड में कला के संरक्षण का अनुभव प्रदान करने का अवसर मिलेगा।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...