News

भवाली एयर फोर्स स्टेशन के करीब ड्रोन उड़ाने के आरोप में पुष्पेंद्र, ताहिर व ओसामा गिरफ्तार

Thumbnail imageडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जून 2022। निकटवर्ती भवाली के श्यामखेत से लगे एयर फोर्स स्टेशन के तीन किलोमीटर के ‘नो ड्रोन जोन’ में बीते सोमवार 12 जून को ड्रोन उड़ता हुआ देखा गया था। इसकी शिकायत स्टेशन के सिक्योरिटी ऑफिसर स्क्वाड्रन लीडर प्रशांत डांगर ने भवाली कोतवाली में की थी। इस पर पुलिस ने तत्काल अज्ञात के विरुद्ध धारा 188, 287, 747 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया था।

इस मामले में पुलिस ने ड्रोन उड़ाने वाले तीन लोगों, श्यामखेत भवाली स्थित एग्जॉल्टर सोसाइटी से तीन व्यक्तियों पुष्पेंद्र सिंह निवासी बुलंदशहर, मोहम्मद ताहिर निवासी गाजियाबाद और मोहम्मद ओसामा निवासी बिजनौर को दो ड्रोन व उसे उड़ाने के उपकरण के साथ गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार तीनों आरोपितों ने पूछताछ में ड्रोन उड़ाने की बात कबूल कर ली है।

डीआर वर्मा के हवाले से बताया गया है कि पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि वह फ्लैटों की बिक्री और प्रॉपर्टी सेलिंग का कार्य करते हैं और अपने यूट्यूब चैनल पर अपार्टमेंट की फुटेज डाल कर बेचते हैं। एयर फोर्स के क्षेत्र में ड्रोन उड़ाया जाना प्रतिबंधित होने की जानकारी उन्हें नहीं थी। उन्होंने यह भी स्वीकारा है कि अगस्त माह में भी उन्होंने इसी तरह ड्रोन उड़ा कर फ्लैटों की वीडियोग्राफी कराई थी।

तहरीर में कहा गया कि एयरफोर्स स्टेशन ‘नो ड्रोन जोन’ है, इसके बावजूद इसके ऊपर और आसपास के क्षेत्र में एक ड्रोन उड़ता देखा गया। ऐसे में स्टेशन के महत्वपूर्ण उपकरणों की जानकारी लीक हो सकती है। इस पर पुलिस ने मामले के देश की सुरक्षा से जुड़े होने की गंभीरता को देखते हुए कर जाँच शुरू कर दी। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ा समाचार: भवाली स्थित एयर फोर्स स्टेशन के ‘नो ड्रोन जोन’ में उड़ा ड्रोन, आरोपित की पहचान हुई, होगी गिरफ्तारी

Drone Services in India: उड़ेगा ड्रोन, मिलेगा रोजगार, सरकार ने बताया पूरा  प्लान - drone services in india employment jyotiraditya scindia chamber of  commerce tuts - AajTakनवीन समाचार, भवाली, 16 जून 2022। जनपद के भवाली स्थित एयर फोर्स स्टेशन के ‘नो ड्रोन जोन’ में ड्रोन उड़ाने का मामला प्रकाश में आया है। मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही ड्रोन उड़ाने वाले की पहचान भी कर ली गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को भवाली के श्यामखेत से लगे एयर फोर्स स्टेशन के तीन किलोमीटर के ‘नो ड्रोन जोन’ में ड्रोन उड़ता देखा गया। इसकी शिकायत स्टेशन के सिक्योरिटी ऑफिसर स्क्वाड्रन लीडर प्रशांत डांगर ने भवाली कोतवाली में की। तहरीर में कहा गया कि एयरफोर्स स्टेशन ‘नो ड्रोन जोन’ है, इसके बावजूद इसके ऊपर और आसपास के क्षेत्र में एक ड्रोन उड़ता देखा गया। ऐसे में स्टेशन के महत्वपूर्ण उपकरणों की जानकारी लीक हो सकती है। इस पर पुलिस ने मामले के देश की सुरक्षा से जुड़े होने की गंभीरता को देखते हुए तत्काल अज्ञात के विरुद्ध धारा 188, 287, 747 के तहत मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी।

कोतवाल डीआर वर्मा ने बताया कि हालांकि ड्रोन एयर फोर्स स्टेशन के ऊपर नहीं उड़ा पर इसके तीन किलोमीटर क्षेत्र में फैले ‘नो ड्रोन जोन’ में उड़ा है। आरोपित श्यामखेत का निवासी है। मामले में आरोपित की गिरफ्तारी की जाएगी। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अग्निपथ योजना पर बोले उत्तराखंड के राज्यपाल, कहा-सेना में युवापन व कौशल बढ़ेगा व युवाओं को अच्छे अवसर मिलेंगे

-कहा, 4 साल के प्रशिक्षण से युवाओं की सोच, विचार और धारणा में देशप्रेम का जज्बा और जुनून पैदा होगा
-कहा, युवा अग्निवीर बनेंगे तथा अग्निपथ पर चलेंगे, और राष्ट्र निर्माण एवं देश की सुरक्षा में अपना अमूल्य योगदान देंगे
लेफ्टिनेंट जनरल जेपी मैथ्यू से मुलाकात करते राज्यपाल।डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 जून 2022। उत्तराखंड के राज्यपाल सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह से शुक्रवार को नैनीताल राजभवन में उत्तर भारत क्षेत्र के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल जेपी मैथ्यू ने मुलाकात की। इस दौरान राज्यपाल व मेजर जनरल के बीच अग्निपथ योजना सहित सेना से जुड़े कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर बातचीत हुई।

इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि इस योजना से हमारे युवा अग्निवीर बनेंगे तथा अग्निपथ पर चलेंगे, और राष्ट्र निर्माण एवं देश की सुरक्षा में अपना अमूल्य योगदान देंगे। इस योजना से सशस्त्र बलों में यूथफुल प्रोफाइल यानी सेना में युवापन और कौशल बढ़ेगा। यह योजना देश के सशस्त्र बलों को ऊँचे दर्जे पर ले जायेगी। इससे युवाओं के लिए अच्छे अवसर भी पैदा होंगे। युवाओं के फौज में आने से 4 साल के प्रशिक्षण के पश्चात् उनकी सोच, विचार और धारणा में देशप्रेम का जज्बा और जुनून पैदा होगा। साथ ही 25 प्रतिशत युवा सेना में आकर देश की सुरक्षा में अपना योगदान देंगे, जबकि शेष 75 प्रतिशत युवा राष्ट्र की मुख्यधारा में आकर समाज में अपने कौशल एवं प्रतिभा के बल पर कार्य करेंगे।

उन्होंने जोड़ा कि हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश व मध्य प्रदेश राज्यों ने ऐसे युवाओं को पुलिस एवं सशस्त्र बलों में प्राथमिकता देने तथा केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केन्द्रीय सुरक्षा बलों की भर्ती में उन्हें प्राथमिकता देने की बात कही है। राज्यपाल ने कहा कि योजना के तहत आयु सीमा से 21 से 23 करना भी सरकार का बहुत सराहनीय कदम है। उन्होंने यह बात भी रेखांकित की कि अग्निपथ योजना में सरकार द्वारा सुझाव भी आमंत्रित किए गए हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ व हल्द्वानी में रेलवे भूमि पर अतिक्रमण आदि मुद्दों पर खुलकर बोले केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री भट्ट

-कहा, अग्निपथ योजना सरकार की ‘राष्ट्रनीति’ का हिस्सा, और विपक्ष कर रहा राजनीति
-कहा, जल्द ही युवा समझ जाएंगे योजना की हकीकत और छोड़ देंगे विरोध
कार्यकर्ताओं से संवाद करते सांसद अजय भट्ट। डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 जून 2022। केंद्रीय पर्यटन एवं रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने देश में चर्चा में चल रही केंद्र सरकार की ‘अग्निपथ’ योजना पर मुख्यालय में बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा, अग्निपथ योजना केंद्र सरकार की राष्ट्रनीति का हिस्सा है। इजराइल, अमेरिका, रूस व ब्रिटेन आदि की सेना में भर्ती प्रक्रिया का अध्ययन कर सर्वोत्तम विकल्प के रूप में यह योजना बनाई गई है। देखें विडियो :

इससे देश की फौज की औसत आयु घटेगी और देश की फौज सर्वोत्तम फौज हो जाएगी। इससे 17.5 से लेकर 23 वर्ष तक के युवाओं को 4 वर्ष की सेवा में करीब 30 लाख रुपए की आय मिलेगी, साथ ही भारतीय सेना के साथ ही 45 वर्ष की आयु तक देश के अन्य विभागों में सरकारी नौकरी के उत्तम अवसर भी प्राप्त होंगे। केंद्र सरकार के साथ ही उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश व हरियाणा जैसी अनेक राज्य राज्य सरकारें उन्हें सशस्त्र बलों एवं आपदा प्रबंधन आदि में प्राथमिकता देने का पहले ही ऐलान कर चुकी हैं।

उन्होंने कहा कि विपक्ष धारा 370, सीएए, एनआरसी व तीन तलाक की तरह इस मुद्दे पर भी बचकाना विरोध कर राजनीति कर रहा है। उन्होंने विश्वास जताया कि अगले कुछ दिनों में ही विरोध कर रहे युवा इस महत्वाकांक्षी योजना के जीवन भर मिलने वाले अनुशासन, राष्ट्रीयता के साथ अच्छी नौकरी के अवसरों के लाभ को समझेंगे और विरोध छोड़ देंगे।

श्री भट्ट ने यह बात शुक्रवार को मुख्यालय स्थित राज्य अतिथि गृह-नैनीताल क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए कही। साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में भी उन्होंने कार्यकर्ताओं को योजनाओं की जानकारी दी, और उनसे जनता तक योजना के लाभ पहुंचाने को कहा। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना में भर्ती के लिए भी देश भर में 50 हजार युवा शामिल होते हैं, लेकिन करीब 5000 ही भर्ती हो पाते हैं। जबकि इस योजना से इससे कहीं अधिक युवा सेना में भर्ती हो सकेंगे।

उन्होंने कहा कि पिछले 2 वर्ष कोरोना की वजह से सेना भर्ती न हो पाने के बावजूद इससे पूर्व के 2 वर्षों में भाजपा सरकार ने करीब एक लाख युवाओं को सेना में भर्ती किया है। उन्होंने पूर्व में सेना में भर्ती के लिए मेडिकल करा चुके परंतु भर्ती न होने के कारण लंबित युवाओं के मुद्दे पर कहा कि यह मामला न्यायालय में विचाराधीन है, और केंद्र सरकार के संज्ञान में है।

वहीं राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राहुल न्यायालय से जेल से छूटे हुए हैं। बोले, उनसे केवल पूछताछ हो रही है। यही जांच एजेंसियों का काम है। इस पर विरोध होने से लग रहा है कि दाल में कुछ काला है। कहा, यदि इतने बड़े लोग भी जांच का विरोध करेंगे तो अपराधी क्या करेंगे। उन्होंने कहा, यह मामला इस सरकार के समय का नहीं है, और मामले मे किसी को दोषी ठहराने का काम तो न्यायालय तय करेगा। देखें विडियो :

इसके अलावा नैनीताल के कैंट क्षेत्र में पार्किंग के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि बतौर केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री उन्होंने इस मुद्दे पर पहल की, किंतु सेना की ओर से पार्किंग के निर्माण पर सुरक्षा की पेंचीदगी बताई। लेकिन इसके बाद भी उन्होंने बतौर क्षेत्रीय सांसद इस मामले में सुरक्षा के मुद्दे को खारिज करते हुए इस मामले की फाइल को फिर से खुलवाया है। उम्मीद जताई कि पार्किंग बनाने में वह सफल होंगे। उन्होंने नगर में मस्जिद तिराहे से आगे नाले पर सड़क चौड़ीकरण करने की बात भी कही।

इसके साथ ही उन्होंने कार्यकर्ताओं से नगर के भूस्खलन प्रभावित खतरनाक बलियानाला क्षेत्र में रह रहे लोगों को कृष्णापुर स्थित आवासों में जाने के लिए समझाने और दुर्घटनाओं जैसी स्थितियों व जनता के दुःख-दर्द में सक्रियता से शामिल होने व उनका समाधान कराने का आह्वान भी किया। हल्द्वानी में रेलवे भूमि से अतिक्रमण हटाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि यह मामला न्यायालय में है, अलबत्ता उनकी सहानुभूति प्रभावितों के साथ है। इस दौरान श्री भट्ट ने एक-एक कार्यकर्ता से कुमाउनी भाषा में सीधा संवाद कर उनकी समस्याएं सुनीं।

इस मौके पर सांसद प्रतिनिधि गोपाल रावत, नगर अध्यक्ष आनंद बिष्ट, प्रतिभा जोशी, मनोज भट्ट, कुंदन चिलवाल, पुष्कर जोशी, अम्बा दत्त आर्य, विश्वकेतु वैद्य, अरविंद पडियार, नीमा बिष्ट, ज्योति गोस्वामी गजाला कमाल, विमला तिवारी, दीपिका बिनवाल, सोनू साह, राहुल चौहान, भूपेंद्र बिष्ट, राधा खोलिया, खीम सिंह, रवि आर्य, नितिन कार्की, कैलाश रौतेला, अजय उपाध्याय, मोहित, विमल बिष्ट, कविता गंगोला, तुसी साह, जीवंती भट्ट, विक्रम राठौर, कुंदन नेगी, ज्योति साह, सचिन, संजय कुमार, विभोर भट्ट, शिवशंकर मजूमदार, होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश साह तथा पूर्व सीएम हरीश रावत के करीबी रहे पूर्व कांग्रेस नेता पुष्कर मेहरा व कृपाल मेहरा आदि भी मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : केंद्र सरकार ने घोषित की युवाओं को रोजगार के लिए अग्निपथ योजना तो उत्तराखंड सरकार ने खोला अग्निवीरों के लिए सरकारी नौकरी का पिटारा

Imageनवीन समाचार, देहरादून, 15 जून 2022। उत्तराखंड सरकार ने केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना में शामिल होने वाले अग्निवीरों के लिए नई योजना का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि अग्निवीरों को पुलिस भर्ती व अन्य सम्बंधित सेवाओं में प्राथमिकता दी जाएगी। सीएम धामी ने कहा कि अग्निपथ योजना से देशभर के नौजवानों के भारतीय सेना में शामिल होने के रास्ते खुल गए हैं। उन्होंने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का आभार जताया।

कहा कि इस योजना से जहां सैन्य ताकत को मजबूती मिलेगी, वहीं युवाओं की कौशलता और प्रतिबद्धता में भी सुधार आएगा। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के तहत देश भर में साढ़े 17 से 21 वर्ष के बीच युवाओं को 30 से 40 हजार के वेतन पर भारतीय सेना में अग्निवीर के रूप में चार साल की सेवा देनी होगी। इस दौरान उन्हें नई इंटरमीडिएट की पढ़ाई कराने के साथ नई तकनीकों का भी प्रशिक्षण दिया जाएगा।

सेना की चार साल की नौकरी के बाद युवाओं को सेवा निधि पैकेज मिलेगा। साथ ही भविष्य के लिए अन्य अवसर दिए जाएंगे। इसी कड़ी में उत्तराखंड सरकार ने अग्निवीरों को पुलिस भर्ती में वरीयता देने की घोषणा की है। अगर कोई अग्निवीर देश सेवा के दौरान शहीद हो जाता है, तो उसके परिजनों को सेवा निधि के तहत एक करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि ब्याज सहित दी जाएगी। इसके साथ ही बाकी बची नौकरी का भी वेतन दिया जाएगा। वहीं, अगर कोई अग्निवीर विकलांग हो जाता है, तो उसे 44 लाख रुपये तक की राशि दी जाएगी। इसके अलावा बाकी बची नौकरी का भी वेतन मिलेगा। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भारतीय नौसेना के अगले कमीशंड जहाज का नाम ‘नैनीताल’ रखने की मांग उठी

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 29 अप्रैल 2022। भारतीय नौसेना मुख्यालय के कमांड रेजिमेंटल सिस्टम अधिकासीएसआरओ कमांडर दशरथ शौर्य चक्र एवं आरपीओ योगेश कुमार शुक्रवार को जिला सैनिक एवं पुनर्वास कार्यालय हल्द्वानी पहुंचे। यहां पहुंचने पर सहायक अधिकारी पुष्कर सिंह भंडारी एवं सुरेंद्र सिंह रौतेला एवं नौसैनिक कल्याण समिति के संस्थापक आनंद सिंह ठठोला, अध्यक्ष दीप जोशी, सचिव केवलानंद पंत व तथा सैनिक कल्याण कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह रौतेला ने पुष्पगुच्छ देकर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया।

आगे सीएसआरओ श्री कुमार ने पूर्व नौसैनिकों एवं वीर नारियों से उनकी समस्याएं जानीं, एवं उनके त्वरित समाधान का आश्वासन दिया। यह भी बताया कि नौसेना पूर्व नौ सैनिकों एवं वीर नारियों के प्रति काफी गंभीर है और उनकी हर समस्या का समाधान करने के लिए हर स्तर पर तत्पर है। इस दौरान पूर्व नौसैनिको एवं वीर नारियों ने अपनी पेंशन एवं अन्य मुद्दे उनके समक्ष रखे, जबकि पूर्व सैनिक कल्याण समिति के संस्थापक आनंद सिंह ठठोला ने अनुरोध किया कि भविष्य में जो भी जहाज कमीशन हो उसका नाम नैनीताल रखा जाए, जिससे उत्तराखंड में नौसेना का प्रचार प्रसार हो और उत्तराखंड की शोभा बढ़ सके।

वहीं सुरेंद्र रौतेला ने नौ सैनिकों की भर्ती हेतु विशेष अभियान चलाने हेतु अनुरोध किया। दीप जोशी व केएन पंत ने ईसीएचएस कार्ड वेरीफिकेशन के मुद्दे को उठाया। बैठक की अध्यक्षता करते हुए कैप्टन पुष्कर भंडारी ने भी पूर्व सैनिकों की कई समस्याएं रखीं। सभा में विमला कनवाल, सावित्री बिष्ट, रमेश चंद्र, नौ सेना पदक प्राप्त वयोवृद्ध नौसैनिक जनार्दन पंत, एनसी जोशी, खड़क सिंह बिष्ट सहित कई पूर्व नौसैनिक एवं वीरांगनाएं तथा सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास हल्द्वानी के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी विमला चंद, तारा दत्त जोशी, कैलाश भट्ट, शंकर बिष्ट, जगत बोरा, नरेंद्र बिष्ट, हरीश मटेरा खत्री अािद जिला सैनिक कल्याण के कर्मचारी उपस्थित रहे। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सेना की फर्जी स्टार लगी वर्दी में खुद को लेफ्टिनेंट बताने वाला व्यक्ति गिरफ्तार

लेफ्टिनेंट बन करता था ठगी, फर्जी स्टार लगी यूनिफार्म पहन लेता था झांसे में।नवीन समाचार, देहरादून, 9 अक्टूबर 2021। उत्तराखंड पुलिस की एसटीएफ यानी स्पेशल टास्क फोर्स ने खुद को आर्मी का लेफ्टिनेंट बताने वाले, फर्जी स्टार लगी यूनिफार्म पहने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि आरोपित की पहचान सचिन अवस्थी के रूप में हुई है। एसटीएफ आरोपित से पूछताछ कर रही है।

जांच में सामने आया है कि आरोपित ने आर्मी का लेफ्टिनेंट बनकर काफी लोगों को नौकरी लगाने का झांसा देकर ठगी को अंजाम दिया है। उसके घर से तलाशी के दौरान लैपटाप में ऐसे दस्तावेज मिले हैं, जो फर्जी नौकरी देने से संबंधित हैं। साथ ही आर्मी की यूनिफार्म, आर्मी का पहचान पत्र सहित अन्य उपकरण भी बरामद हुए हैं। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पांचवे धाम-सैन्य धाम के लिए ले जाई गई नैनीताल जनपद से पहली मिट्टी

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 23 सितंबर 2021। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की तर्ज पर उत्तराखंड सरकार द्वारा घोषित पांचवे धाम-सैन्य धाम के निर्माण हेतु मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार राज्य के सभी शहीदों के घरों से मिट्टी एकत्र की जा रही है। इस हेतु नैनीताल जनपद से पहली मिट्टी कोटाबाग विकासखंड के ग्राम महरोड़ा के तोक दौनियाखान से ली गई।

यहां जिला सैनिक कल्याण कार्यालय की टीम सेवानिवृत्त कैप्टन पुष्कर सिंह भंडारी के नेतृत्व में 6 किलोमीटर पैदल चलकर पहुंची और शहीद पैराट्रूपर जगदीश चंद्र जोशी पुत्र पीतांबर जोशी के माता-पिता के साथ उनके घर-आंगन की मिट्टी ससम्मान ग्रहण की। साथ ही बुजुर्ग माता-पिता का हाल जाना। बताया कि यह नैनीताल जनपद से ली जा रही पहली मिट्टी है। इससे उनके गांव को नई पहचान मिलेगी। इस अवसर पर टीका सिंह गंगोला, डुंगर सिंह, लछम सिंह महरा, देवेंद्र चंद, दलीप सिंह, संतोष, मोहन सिंह, केसर सिंह, गीता देवी, गोधन राम व पान देव आदि ग्रामीण भी मौजूद रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भारतीय सेना के फर्जी दस्तावेज बनाकर विदेश गए व विदेश भेजने वाले गिरोह के मिले और सुराग

उत्तराखंड : STF की साइबर सेल ने किया नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का  खुलासा | Khabar Uttarakhand Newsनवीन समाचार, देहरादून, 8 अगस्त 2021। उत्तराखंड एसटीएफ व आर्मी इंटेलीजेंस की टीम ने देश की सुरक्षा को ताक पर रखकर यहा के लोगों को सेना के फर्जी दस्तावेजों के जरिये नौकरी के लिए अफगानिस्तान भेजने वाले तथा इस गिरोह की मदद से फर्जी कागजातों से विदेश गए लोगों की पहचान की है। बताया जा रहा है कि इस संबंध में जांच एजेंसियों के हाथ ऐसे कई अहम सुराग भी लगे हैं कि गिरोह में सेना के कुछ पूर्व अधिकारियों की भी संलिप्तता है। साथ ही अन्य राज्यों में भी कुछ ऐसी प्लेसमेंट एजेंसियों के बारे में पता लगा है, जो फर्जी तरीके से लोगों को अफगानिस्तान, इराक, दुबई और शिपिंग कंपनियों के लिए भेजती थीं।

उल्लेखनीय है कि इस वर्ष जनवरी माह में एसटीएफ ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया था, जो सेना के फर्जी दस्तावेज बनाकर लोगों को अफगानिस्तान, इराक और दुबई आदि देशों में भेज रहा था। विदेश में उन्हें पूर्व सैनिक बताकर नौकरी दिलाने की बात सामने आई थी। एसटीएफ ने डिस्चार्ज बुक व सेना से संबंधित मोहरे भी आरोपितों से बरामद की थी। मामले की जांच में एसटीएफ और आर्मी इंटेलीजेंस ने राष्ट्रीय एजेंसियों से संपर्क किया तो पाया कि काफी लोग फर्जी तरीके से संवेदनशील जगहों पर पूर्व सैनिक बनकर गए हैं।

मामले में एसपी एसटीएफ चंद्रमोहन सिंह ने बताया कि कुछ ऐसे लोगों के बारे में जानकारी मिली है, जो फर्जी दस्तावेज बनाकर अफगानिस्तान जैसे संवेदनशील जगहों पर नौकरी करने के लिए गए हुए हैं। अन्य कुछ व्यक्ति जो संवेदनशील जगहों से वापस आए हैं, उनके पासपोर्ट व वीजा का सत्यापन करने के लिए राष्ट्रीय एजेंसियों से संपर्क किया जा रहा है। संदिग्ध व्यक्तियों व संस्थाओं के खिलाफ भी कार्रवाई के लिए रिपोर्ट तैयार की जा रही है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जिंदा रहने के मौसम बहुत हैं मगर.. पत्नी के हाथों की मेहंदी के सूखने से पहले ही देश पर कुर्बान हो गया था मेजर राजेश

शहीद राजेश अधिकारी

डॉ .नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 जुलाई 2021। करगिल विजय दिवस जब भी आता है, वीरों की भूमि उत्तराखंड का नैनीताल शहर भी गर्व की अनुभूति के साथ अपने एक बेटे, भाई की यादों में खोये बिना नहीं रह पाता। नगर का यह होनहार बेटा देश के दूसरे सर्वोच्च वीरता पुरस्कार महावीर चक्र विजेता मेजर राजेश अधिकारी था, जो इस युद्ध में शादी के नौ माह के भीतर ही पत्नी के हाथों की हजार उम्मीदों की गीली मेंहदी को सूखने से पहले और मां के बुढ़ापे का सहारा बनने व नाती-पोतों को गोद में खिलाने के सपनों को एक झटके में तोड़कर चला गया था। मेजर राजेश अधिकारी ने जिस तरह देश के लिये अपने प्राणों का सर्वोच्च उत्सर्ग किया, उसकी अन्यत्र मिसाल मिलनी कठिन है। 29 वर्षीय राजेश 18 ग्रेनेडियर्स रेजीमेंट में तैनात थे। वह मात्र 10

रानीबाग में गार्गी (गौला) नदी के तट पर शहीद मेजर राजेश अधिकारी के पार्थिव शरीर को आखिरी प्रणाम करते कृतज्ञ राष्ट्रवासी (फाइल फोटो)

सैनिकों की टुकड़ी का नेतृत्व करते हुए 15 हजार फीट की ऊंचाई पर तोलोलिंग चोटी पर पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा स्थापित की गई पोस्ट को दुश्मन के कब्जे से मुक्त कराने के इरादे से आगे बढ़े थे। इस दौरान सैनिकों से कई फीट आगे रहते हुऐ चल रहे थे, और इस कारण घायल हो गये। इसके बावजूद वह अपने घावों की परवाह किये बगैर आगे बढ़ते रहे। वह 30 मई 1999 का दिन था, जब मेजर राजेश प्वाइंट 4590 चोटी पर कब्जा करने में सफल रहे, इसी दौरान उनके सीने में दुश्मन की एक गोली आकर लगी, और उन्होंने बंकर के पास ही देश के लिये असाधारण शौर्य और पराक्रम के साथ सर्वोच्च बलिदान दे दिया। युद्ध और गोलीबारी की स्थितियां इतनी बिकट थीं कि उनका पार्थिव शरीर  करीब एक सप्ताह बाद युद्ध भूमि से लेकर नैनीताल भेजा जा सका।

शहीद राजेश अधिकारी की पत्नी किरन

राजेश ने नगर के सेंट जोसफ कालेज से हाईस्कूल, जीआईसी (जिसके नाम में अब उनका नाम भी जोड़ दिया गया है) से इंटर तथा डीएसबी परिसर से बीएससी की पढ़ाई की थी। पूर्व परिचित किरन से उनका विवाह हुआ था। परिजनों के अनुसार यह ‘लव कम अरेंज्ड’ विवाह था। लेकिन शादी के नौ माह के भीतर ही वह देश के लिये शहीद हो गये। उनकी शहादत के बाद परिजनों ने उनकी पत्नी को उसके मायके जाने के लिये स्वतंत्र कर दिया। वर्तमान में सैनिक कल्याण विभाग के अनुसार किरन ने पुर्नविवाह कर लिया। उनकी माता मालती अधिकारी अपने पुत्र की शहादत को जीवंत रखने के लिये लगातार संघर्ष करती रहीं, जिसके बावजूद उन्हें जीवित रहने तक व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक दोनों स्तरों पर कुछ खास हासिल नहीं हो पाया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

‘नवीन समाचार’ पर पूर्व में प्रकाशित भारतीय सेना से संबंधित समाचार पढ़ने को यहां क्लिक करें।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

2 Replies to “भवाली एयर फोर्स स्टेशन के करीब ड्रोन उड़ाने के आरोप में पुष्पेंद्र, ताहिर व ओसामा गिरफ्तार

  1. शहीद हीरा बल्लभ भट्ट का प्रकरण आपने प्रसारित किया पर कौन कहां कब का विषय स्पष्ट नहीं हुआ।

Leave a Reply