News

भ्रष्टाचार के आरोप गायब ! डीएसबी परिसर के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष सहित तीन लोगों के खिलाफ धारा 506 में मुकदमा दर्ज, फिर इसे भी निरस्त करने की मांग

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलसचिव की तहरीर पर दर्ज हुआ मुकदमा
नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जुलाई 2020। कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलसचिव की तहरीर पर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने डीएसबी परिसर नैनीताल के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष पंकज बिष्ट, विकास जोशी व एक अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के तहत यानी जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं शाम को दोनों पक्षों के बीच समझौता हो जाने के बाद मल्लीताल कोतवाली में मुकदमा निरस्त किये जाने की मांग भी की गई है। अलबत्ता, मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई मो. यूनुस ने बताया कि दोनों पक्ष समझौता पत्र लाये थे, लेकिन चूंकि मामला दर्ज हो चुका है, इसलिए विवेचना के बाद ही कार्रवाई की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि एक दिन पूर्व सोमवार को कुमाऊं विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष भूपाल सिंह करायत व महामंत्री लक्ष्मण सिंह रौतेला ने इस मामले में कुलपति को ज्ञापन देकर कहा था कि विश्वविद्यालय के 16वें दीक्षांत समारोह के भुगतान बिलों में व्याप्त अनियमितताओं एवं इसके भुगतान हेतु छात्र नेताओं के द्वारा कर्मचारी को विश्वविद्यालय परिसर में धमकी दी गई व अनर्गल आरोप लगाये गये। लिहाजा महासंघ ने इस मामले में छात्र नेताओं के खिलाफ विश्वविद्यालय की ओर से प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग करते हुए आज मंगलवार से पूर्ण कार्य बहिस्कार करने की चेतावनी दी थी। बहरहाल, आज भ्रष्टाचार का मामला पीछे चला गया है और केवल कर्मचारी को जान से मारने की धमकी देने के आरोप में ही मुकदमा दर्ज किया गया है।

कुमाऊं विश्वविद्यालय शिक्षणेत्तर कर्मचारी महासंघ ने दी कल से पूर्ण कार्य बहिस्कार की धमकी

आज कर्मचारियों की मांग पर कुलसचिव केआर भट्ट की ओर से तहरीर देकर कहा गया था कि आठ जुलाई को विवि कर्मचारी दीपक बिष्ट ड्यूटी के बाद जब घर को जा रहे थे। तब केंद्रीय पुस्तकालय के समीप पंकज भट्ट, विकास जोशी और एक अन्य युवक द्वारा रुके हुए बिलो के भुगतान को लेकर अभद्रता की गई व जान से मारने की धमकी दी थी। उल्लेखनीय है कि इस मामले में पंकज भट्ट और विकास जोशी की ओर से घटना के दिन ही पुलिस में तहरीर देकर कर्मचारी दीपक बिष्ट द्वारा उनसे रिश्वत मांगने के आरोप लगाये गये थे। मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई यूनुस खान ने बताया कि मामले में पंकज भट्ट, विकास जोशी और एक अन्य युवक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच एसआई नरेंद्र सिंह को सौपी गयी है। 

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय में सक्रिय छात्र नेता कर रहे ठेकेदारी, बिलों के भुगतान को लेकर कर्मचारियों से बवाल..

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 जुलाई 2020। जी हां, कुमाऊं विश्वविद्यालय की छात्र राजनीति में सक्रिय छात्र नेता विश्वविद्यालय के कार्यों में ठेकेदारी भी कर रहे हैं। यह खुलासा स्वयं उन्होंने ही किया है। हुआ यह कि आज पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष पंकज भट्ट व विकास जोशी अपने किये हुए कार्यों के बिलों के भुगतान को लेकर पहले कुलपति तथा उसके बाद आंतरिक लेखा परीक्षा एवं कर्मचारी नेता दीपक बिष्ट से मिले। इस दौरान दोनों के बीच में किसी बात को लेकर विवाद हो गया।
इस पर कुमाऊं विवि के कर्मचारी संघ के अध्यक्ष भूपाल सिंह करायत की अगुवाई में कर्मचारी नेता उखड़ गए और उन्होंने प्रशासनिक भवन के आगे एकत्र होकर दोषियों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कार्रवाई की मांग की। साथ ही कुलसचिव को ज्ञापन देकर बतौर छात्र नेता पंकज भट्ट, विकास जोशी और एक अज्ञात व्यक्ति ने कार्यालय में लेखा परीक्षक दीपक बिष्ट को 16वें दीक्षांत समारोह के टेंट पंडाल के बिलों में भुगतान में आपत्ति किए जाने पर अंजाम भुगतने और जान से मारने की धमकी देने के आरोप लगाए। उन्होंने इस मामले में कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर पुलिस में तहरीर देने की बात भी कही। उल्लेखनीय है कि इस मामले में छात्र नेताओं का एक दूसरा वर्ग पहले ही भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए झंडा उठाए है।
इधर पंकज भट्ट व विकास जोशी ने कुलपति एवं थानाध्यक्ष मल्लीताल को सोंपे दो अलग-अलग पत्रों में कहा है कि वह अपने बिलों के भुगतान के लिए आंतरिक लेखा परीक्षा एवं कर्मचारी नेता दीपक बिष्ट से मिल रहे थे। बिष्ट ने उनसे कथित तौर पर बिलों के भुगतान के ऐवज में धनराशि की मांग की और न देने पर गाली गलौज करते हुए जान से मारने की धमकी भी दी।

यह भी पढ़ें : डीएसबी में छात्र-छात्राओं को अलग बैठाने का फरमान, भड़का संस्कारवान शिक्षा का पैरोकार छात्र संगठन..

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अगस्त 2019। कुमाऊं विश्वविद्यालय के सर्वप्रमुख डीएसबी परिसर के वाणिज्य विभाग में छात्र एवं छात्राओं को अलग-अलग शिफ्ट की कक्षाओं में पढ़ने की व्यवस्था शुरू हुई है। इस पर छात्र-छात्राओं में संस्कारवान शिक्षा की बात करने वाला छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भड़क गया है। इसे समानता के दौर में विद्यार्थियों, खासकर छात्रों व छात्राओं के बीच विभेद पैदा करने वाला एवं पुरुषवादी सोच वाला कदम बताते हुए शुक्रवार को परिषद के कार्यकर्ताओं ने विरोध दर्ज करा दिया है, और आगे आंदोलन का ऐलान भी कर दिया गया है। इस मुद्दे को लेकर शुक्रवार को विशाल वर्मा, हरीश राणा, पंकज भट्ट, भरत अधिकारी, करन दनाई, रति मेलकानी, पवन कन्याल व करन देव आदि अभाविप कार्यकर्ताओं ने वाणिज्य विभागाध्यक्ष व परिसर अध्यक्ष डा. अतुल जोशी का घेराव भी किया। इधर परिषर के निवर्तमान राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य निखिल बिष्ट ने इसे तुगलकी फरमान बताते हुए कहा कि मुद्दे पर आंदोलन छेड़ा जाएगा।

विभागाध्यक्ष जोशी ने बताया कारण

नैनीताल। डीएसबी परिसर के वाणिज्य विभागाध्यक्ष प्रो. अतुल जोशी ने बताया कि बी कॉम के पहले, तीसरे व पांचवे सेमेस्टरों में 150 से अधिक विद्यार्थी पंजीकृत हैं। अधिक छात्र संख्या के कारण पहले अंग्रेजी के ए से एम तक से नाम शुरू होने वाले विद्यार्थियों को सुबह की 10 से 12 एवं एन से जेड नाम वालों को शाम की एक से तीन बजे की शिफ्ट में पढ़ाने की व्यवस्था की गयी थी। ऐसे में शाम की शिफ्ट में बच्चे नहीं आते थे। इसलिए छात्राओं के लिए सुबह एवं छात्रों के लिए सुबह की शिफ्ट में पढ़ने की व्यवस्था बैठक के बाद लागू की गयी है। विरोध में वाणिज्य विभाग के बजाय कला विभाग के अधिक छात्र आ रहे हैं। आगे पुनः बैठक कर निर्णय पर पुर्नविचार किया जा सकता है।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...