News

छात्र संघ चुनाव पर बुधवार से बेमियादी आंदोलन की धमकी

समाचार को यहाँ क्लिक करके सुन भी सकते हैं

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 29 नवंबर 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव को लेकर छात्र नेताओं में रोष बना हुआ है। सोमवार को छात्रों के एक शिष्टमंडल ने छात्र नेता शुभम कुमार के नेतृत्व में विश्वविद्यालय मुख्यालय में प्रदर्शन किया और कुलपति प्रो. एनके जोशी व कुलसचिव दिनेश चंद्रा से मिलकर परीक्षाओं की तिथि घोषित करने की मांग की। चेतावनी दी गई कि यदि विवि की ओर से निर्णय नहीं लिया गया, तो बुधवार से मुख्यालय में अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया जाएगा।

छात्रों का कहना था कि कोरोना काल के बीच बीते दो वर्षों से विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव नहीं कराए जा सके हैं। चुनाव नहीं होने पर पूर्व की कार्यकारिणी ही छात्र संघ को संचालित कर रही हैं। बीते दिनों शासन की ओर से छात्रसंघ चुनाव को लेकर यह निर्णय लिया गया, कि चुनाव विवि स्तर पर ही कराए जाएं। इस संबंध में विश्वविद्यालय प्रबंधन की ओर से निर्णय लिया जाए। इसलिए विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव की तिथि घोषित करे।

छात्र नेताओं ने कहा कि छात्रसंघ चुनाव नहीं होने से छात्र हित में कार्य नहीं हो पा रहे हैं। आगामी विधानसभा चुनाव से पूर्व आचार संहिता प्रभावी हो जाएगी। ऐसे में इस बार भी छात्रसंघ चुनाव कराया जाना मुश्किल है। लिहाजा विवि की ओर से जल्द ही तिथि घोषित कर चुनाव संपन्न कराए जाएं। इस मौके पर राहुल नेगी, शुभम बिष्ट, दीप चंद्रा, सुशील कुमार, अभिनव कुमार, अंकित चंद्रा, रोहन, अभिषेक कुमार, अमन कुमार आदि रहे। अन्य नवीन समाचार पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : परिसरों-महाविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव पर कुमाऊं विश्वविद्यालय ने सरकार को भेजी अपनी मंशा

सभी महाविद्यालयों में प्रवेश प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद ही कराये जाएं छात्र संघ चुनाव
-कुमाऊं विश्वविद्यालय के परिसरों व महाविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव कराये जाने के लिए ऑनलाईन आयोजित आयोजित हुई छात्र संघ निर्मात्री समिति की बैठक में पारित हुआ प्रस्ताव
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 नवंबर 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय के परिसरों व महाविद्यालयों में कोरोना की वजह से पिछले दो वर्षों से छात्र संघ के चुनाव नहीं हो पाए हैं। इधर छात्र नेताओं की ओर से इस संबंध में उठ रही मांगों के परिप्रेक्ष्य में कुमाऊं विश्वविद्यालय की छात्र संघ निर्मात्री समिति की बैठक ऑनलाइन माध्यम से आयोजित हुई। बैठक में लिए गए निर्णयों के अनुसार संस्तुतियां शासन को भेजकर अपनी मंशा से अवगत कराया गया है।

बैठक में सम्बद्ध महाविद्यालयों के प्राचार्यों ने कहा कि वर्तमान में अधिकांश महाविद्यालयों में प्रवेश की प्रक्रिया पूर्ण नहीं हो पायी है। साथ ही प्रवेश हेतु छात्र संख्या अधिक होने के कारण शासन द्वारा कुछ महाविद्यालयों को सांयकालीन कक्षाओं के संचालन की अनुमति दी गयी है। इसकी अनुमति शासन स्तर पर गतिमान है। शासन की स्वीकृति के बाद ही प्रवेश प्रक्रिया की जायेगी। इसमें अतिरिक्त समय लगना संभावित है। इसलिए प्रवेश प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही छात्र संघ चुनाव कराये जाने पर विचार किया जा सकता है, जिससे सभी छात्रों का चुनाव व मतदान प्रक्रिया में भाग लेने का अवसर मिल सके।

यह भी कहा गया कि शासन से प्राप्त दिशा-निर्देशानुसार ही छात्र संघ चुनाव कराये जाएंगे। बैठक में तय हुआ कि इस अनुसार ही शासन को प्रस्ताव प्रेषित किया जाये। बैठक में डीएसबी परिसर के निदेशक प्रो. एलएम जोशी, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. डीएस बिष्ट, कुलानुशासक प्रो. नीता बोरा शर्मा, एमबीपीजी कॉलेज हल्द्वानी के प्राचार्य प्रो. बीआर पंत, रूद्रपुर के प्राचार्य डॉ. केके पांडे, कुलसचिव दिनेश चन्द्रा, उप कुलसचिव दुर्गेश डिमरी सहित विभिन्न महाविद्यालयों के प्राचार्य उपस्थित रहे। अन्य नवीन समाचार पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : छात्र नेताओं ने कुमाऊं विश्वविद्यालय में की तालाबंदी, की जोरदार नारेबाजी, कर रहे किताबों के साथ परीक्षा देने की मांग

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 1 अक्टूबर 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े छात्र नेताओं ने शुक्रवार को विश्वविद्यालय के मुख्य गेट पर ताले जड़ दिये और परीक्षा नियंत्रक के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। देखें विडियो :

हुआ यह कि परिषद के कार्यकर्ता यूजीसी के परीक्षाओं के सरलीकरण के निर्देशों के क्रम में प्रथम सेमेस्टर के विद्यार्थियों को उत्तीर्ण करने की तर्ज पर प्रथम वर्ष के परीक्षार्थियों के लिए सपुस्तकीय प्रणाली लागू करने यानी पुस्तकों के साथ परीक्षा देने की अनुमति मांगने सहित अन्य मांगों पर विश्वविद्यालय पहुंचे थे।

कार्यकर्ताओं के अनुसार यहां उन्हें बताया कि कुलपति देहरादून गए हैं, ऐसे में वह शाम चार बजे तक रामनगर से पहुंच रहे परीक्षा नियंत्रक से वार्ता कर लें। लेकिन कथित तौर पर परीक्षा नियंत्रक विश्वविद्यालय नहीं आए और उन्होंने स्वास्थ्य खराब होने की बात कही। उनके अलावा भी परीक्षा विभाग से कोई अधिकारी उनसे मिलने नहीं पहुंचा। इस पर कुलसचिव के कक्ष में जमे कार्यकर्ताओं ने तालाबंदी कर परीक्षा नियंत्रक के खिलाफ नारेबाजी कर दी। प्रदर्शन में डीएसबी परिसर के छात्र संघ अध्यक्ष विशाल वर्मा, पूर्व अध्यक्ष अभिषेक मेहरा, खटीमा के सुमित बहादुर पाल, रामनगर के शिखर भट्ट, हल्द्वानी के कुलदीप कुल्याल, कोटाबाग के कमल बोरा सहित अन्य छात्र नेता मौजूद रहे।

बड़ा समाचार: यह भी पढ़ें : कल परीक्षाएं देरी से कराने की मांग कर रहे अभाविप ने आज की परीक्षाएं जल्दी कराने की मांग

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 1 सितंबर 2021। प्रवेश, परीक्षा और परिणाम समय पर कराने की मांग करने वाले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने मंगलवार को कोविड की परिस्थितियों में पढ़ाई न होने का हवाला देते हुए कुमाऊं विश्वविद्यालय की एक सितंबर से प्रस्तावित परीक्षाएं पीछे करने की मांग की थी। इस पर उनके विश्वविद्यालय प्रशासनिक भवन में किए गए बड़े प्रदर्शन के आगे विश्वविद्यालय प्रशासन ने झुकते हुए परीक्षाएं एक माह बाद यानी सितंबर की जगह अक्टूबर माह में कराने का ऐलान किया।

लेकिन इसके एक दिन बाद ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता परीक्षा को जल्दी करने की मांग पर सहमत दिखे। इस बाबत परिषद के कुमाऊं सह संयोजक रचित सिंह व अभिषेक मेहरा, कल प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे अल्मोड़ा छात्र संघ के अध्यक्ष दीपक उप्रेती, बागेश्वर के छात्र संघ अध्यक्ष सौरभ जोशी, खटीमा के अध्यक्ष सुमित पाल, सितारगंज के उपाध्यक्ष अंकित गोयल, काशीपुर के करन भारद्वाज, रामनगर के शिखर भट्ट, हल्द्वानी के कमलेश भट्ट, भावना व रश्मि लमगड़िया ने कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति से वार्ता के बाद उन्हें पत्र लिखकर कहा है कि छात्र हितों को ध्यान में रखते हुए स्नातक व स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष व अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं 10 सितंबर से कराने पर सहमति बनी है। लिहाजा 10 सितंबर से यह परीक्षाएं करा ली जाएं। साथ थी द्वितीय वर्ष व द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षाओं से पूर्व एक माह ऑफलाइन शिक्षण कार्य सुचारू रूप से करा लिया जाए।

गौरतलब है कि मंगलवार को परिषद कार्यकर्ताओं के दबाव में सभी परीक्षाएं पीछे करने के विश्वविद्यालय प्रशासन के ऐलान के बाद कई छात्र विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन में धरने पर बैठ गए थे। उनका कहना था कि परीक्षाएं देरी से होने के कारण अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को अन्यत्र प्रवेश नहीं मिल पाएगा। माना जा रहा है कि इसके बाद ही परिषद कार्यकर्ता छात्र हित में अपने फैसले से एक कदम पीछे जाने को राजी हुए। अन्य नवीन समाचार पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : छात्र नेताओं के विरोध प्रदर्शन के बाद कुमाऊं विश्वविद्यालय की कल से होने वाली परीक्षाएं स्थगित

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 31 अगस्त 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय की कल यानी बुधवार से प्रस्तावित परीक्षाओं को पीछे करने की मांग पर मंगलवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन में विरोध-प्रदर्शन किया। छात्रों के विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने परीक्षाओं को एक माह के लिए स्थगित कर दिया है। कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलसचिव दिनेश चंद्रा ने बताया कि परीक्षाएं एक सितंबर से प्रस्तावित थीं। परीक्षाओं को एक माह के लिए स्थगित कर दिया गया है। अब परीक्षाएं सितंबर नहीं अक्टूबर माह में होंगी। इस बारे में आदेश जारी किया जा रहा है।

कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलसचिव दिनेश चंद्रा।

इस दौरान विरोध प्रदर्शन करते हुए छात्र नेताओं ने परिसरों व महाविद्यालयों में पढ़ाई न होने की बात कहते हुए बुधवार से परीक्षाओं की जगह ऑफ लाइन कक्षाएं चलाने, 2016 के बैच के बैक आए परीक्षार्थियों के लिए इस वर्ष अंतिम मौका देखते हुए उनके लिए विशेष परीक्षाएं कराने एवं विश्वविद्यालय की गलती से होने वाली स्थितियों में परीक्षा का विल्ंब शुल्क नहीं लिये जाने की मांग भी रखी।

विरोध प्रदर्शन करने वालों में अल्मोड़ा छात्र संघ के अध्यक्ष दीपक उप्रेती, रुद्रपुर महाविद्यालय के सुमित बहादुर पाल, रचित सिंह रुद्रपुर, चन्द्र मोहन पांडे पिथौरागढ़, राहुल गुप्ता, विशाल श्रीवास्तव, हरजीत सिंह, सौरभ राठौर, शिखर भट्ट, चित्रेश त्रिपाठी, आकाश बाठला, मुकेश अश्नौरा, भावना रावत, रश्मि लमगड़िया चंदन भट्ट अंकित गोयल व कैलाश सहित नैनीताल को छोड़कर कुमाऊं मंडल के विभिन्न परिसरों व महाविद्यालयों के छात्र नेता मौजूद रहे। बताया गया कि नैनीताल के छात्र नेताओं के बाहर होने के कारण वह विरोध प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए, हालांकि यहां किसी स्थानीय नेता को इस विरोध-प्रदर्शन की जानकारी न होना प्रश्न भी खड़े कर रहा है। अन्य नवीन समाचार पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मारपीट, तोडफोड़ व बलवे के आरोप में संस्कारवान छात्र संगठन के जिला संयोजक गिरफ्तार, जेल भेजा

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 26 अगस्त 2021। हल्द्वानी पुलिस ने मारपीट, तोडफोड़ व बलवे के आरोप में संस्कारवान युवाओं के संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत 23 अगस्त की शाम करायल चतुर सिंह निवासी हरक सिंह बिष्ट ने कोतवाली में शहर की यातायात नगर पुलिस चौकी क्षेत्र में तीनतास रोड पर समूह में आए गोविंद गैड़ा, नीरज गैड़ा, सुनील राणा, एबीवीपी जिला संयोजक देवेंद्र बिष्ट, सूरज नेगी, निश्चय व आठ से 10 अज्ञात लड़कों पर हॉकी, डंडे व रॉड से हमला कर मारपीट करने व एक कांप्लेक्स में तोडफोड़ करने का आरोप लगाते हुए तहरीर दी थी।

चौकी प्रभारी सतीश शर्मा ने बताया कि इस मामले में सभी आरोपितों पर धारा 125, 147, 149, 504, 506 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। अब अभाविप के जिला संयोजक देवेंद्र बिष्ट को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है। मामले की विवेचना एसआई मनोज यादव कर रहे हैं। (डॉ. नवीन समाचार) अन्य नवीन समाचार पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : केनफील्ड छात्रावास में नई कार्यकारिणी का हुआ गठन, मिलीं जिम्मेदारियां

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 मार्च 2021। कुमाऊं विश्वविद्यालय के सर्वप्रमुख डीएसबी परिसर के केनफील्ड छात्रावास में रविवार को नई-41वीं कार्यकारिणी का गठन किया गया। नई कार्यकारिणी में तरुण पांडेय को चीफ प्रीफेक्ट, हिमांशु साह को डिप्टी चीफ प्रीफेक्ट चुना गया। वहीं शिवम शर्मा, सव्यसाची गुप्ता, करन ढेक व नवीन मित्रा को अनुशासन समिति में, राकेश कुमार, उत्तम ठगुन्ना, गौरव जोशी व योगेश जोशी को एंटी रैगिंग समिति में, यशदेव चौहान, तनुज बिष्ट, दीपेंद्र भंडारी व विवेक जोशी को मैस समिति में तथा पारस खाती, अनमोल वशिष्ठ, कमल कन्याल व सौरभ कोहली को सांस्कृतिक क्रियाकलाप समिति में सदस्य बनाया गया है। इसके अलावा सचिन असवाल को शैक्षणिक गतिविधि प्रमुख, सौम्य नैनवाल को खेलकूद समिति प्रमुख, गौरव हर्नवाल को जिम एवं अर्जुन धपोला को पुस्तकालय समिति का प्रमुख तथा सौरभ बिष्ट को कोषाध्यक्ष एवं मयंक पाठक व राहुल कुमार को सलाहकार समिमि का सदस्य बनाया गया है।

छात्रावास अधीक्षण डॉ. प्रकाश चन्याल व सहायक छात्रावास अधीक्षक डॉ. संतोष कुमार की मौजूदगी में नवनियुक्त कार्यकारिणी को एवं आगामी परीक्षाओं के लिए सभी छात्रावासियों को शुभकामनाएं दी गईं एवं नए सत्र के छात्रों का छात्रावास में स्वागत किया गया।

यह भी पढ़ें : अभाविप कार्यकर्ताओं की गुहार पर बढ़ी परीक्षा फार्म भरने की तिथि…

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 फरवरी 2021। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनके जोशी से मुलाकात की और आ रही समस्याओं से उन्हें अवगत कराया। उनका कहना था कि कोविद-19 के मौजूदा दौर में विश्वविद्यालय के फरमानों व अव्यवस्थाओं ने विद्यार्थियों का मनोबल तोड़ दिया है। विद्यार्थी परीक्षा आवेदन पत्र के साथ 500 से 2000 रुपए तक विलंब शुल्क लिये जाने से प्रताड़ित महसूस कर रहे हैं। हल्द्वानी के एमबीपीजी महाविद्यालय में परीक्षा फार्म भरने की तिथि तक भी कई विद्यार्थियों को प्रवेश नहीं मिला है। इसलिए परीक्षा का फार्म भरने की तिथि 5 मार्च तक बढ़ाई जाए।एमसीक्यू को परीक्षा में पुनः शामिल किए जाने, प्रवेश प्रक्रिया में ऑनलाइन के साथ ही ऑफलाइन का विकल्प भी रखने एवं परीक्षा के बाद परिणाम व अंकतालिकाएं जल्द जारी करने एवं परिणामों में नामांकन संख्या व नाम गलत होने की समस्याओं का समाधान करने की भी मांग की गई। ज्ञापन सोंपने वालों में सुमित बहादुर पाल, सीएम पांडेय, विशाल वर्मा, अभिषेक मेहरा, कुलदीप कुल्याल, देवेंद्र बिष्ट, गौरव कोरंगा, शुभांग रौतेला, शिखर भट्ट, रचित सिंह, राहुल गुप्ता, हरजीत कम्बोज, प्रमोद गड़कोटी, केशव, चित्रेश त्रिपाठी, आशु मेहरा व नवीन जोशी आदि कार्यकर्ता शामिल रहे।

अभाविप की मांग के बाद पांच मार्च तक बढ़ी तिथि
नैनीताल। कुमाऊं विश्वविद्यालय की आगामी वार्षिक पद्धति, विषम सेमेस्टर, मुख्य व बैक परीक्षा तथा भूतपूर्व परीक्षार्थियों की वर्ष 2021 की स्नातक, स्नातकोत्तर व व्यवसायिक पाठ्यक्रमों की परीक्षाओं में शामिल होने की तिथि पांच मार्च तक बढ़ा दी है। परीक्षा नियंत्रक ने यह जानकारी दी।

यह भी पढ़ें : उच्च शिक्षा मंत्री को कुमाऊं विश्वविद्यालय के परिसरों व महाविद्यालयों की समस्याओं से कराया अवगत

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जनवरी 2021। प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत मंगलवार को मुख्यालय पहुंचे और यहां कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ रूसा सहित अन्य विषयों पर समीक्षा बैठक ली। इस दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से कुमाऊँ संयोजक अभिषेक मेहरा व छात्र संघ अध्यक्ष विशाल वर्मा के द्वारा उन्हें ज्ञापन सोंपकर विश्वविद्यालय के परिसरों व महाविद्यालयों की समस्याओं से अवगत कराया। ज्ञापन में कुमाऊं विश्वविद्यालय के परिसरों में महाविद्यालयों की तरह एमसीक्यू को परीक्षाओं में सम्मिलित करने, परीक्षा परिणाम में आ रही त्रुटियों के समाधान हेतु तीन या चार जगह सहायता केंद्र स्थापित करने व त्रुटिपूर्ण अंकतालिकाओं को सही कराने के लिए व्यक्ति नियुक्त करने, विश्वविद्यालय की वेबसाइट को अत्याधिक यूजर फ्रेंडली बनवाने, सेमेस्टर प्रणाली में यूजीसी की नियमावली के आधार पर असाइनमेंट, उपस्थिति व परीक्षा के आधार पर आंतरिक परीक्षाओं का मूल्यांकन करने, अंकतालिकाओं को अतिशीघ्र महाविद्यालय में पहुंचाने की व्यवस्था करवाने, मुख्य परीक्षा में तो उत्तीर्ण होने के बावजूद आंतरिक परीक्षा में फेल किए जाने वाले विद्यार्थियों को लोक सूचना के अधिकार से उनकी कॉपी दिखाने, एचएनबीजी कॉलेज खटीमा में प्रोफेशनल कोर्स के विद्यार्थियों को अन्य परिसरों व महाविद्यालयों की तरह छात्र संघ चुनाव में मताधिकार देने, शोधार्थियों को वाई-फाई के जरिये इंटरनेट की सुविधा देने तथा विश्वविद्यालय में रिक्त पदों पर यथाशीर्घ नियुक्ति किए जाने की मांग की गई। इस दौरान मोहित रौतेला सहित अन्य पदाधिकारी भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : भ्रष्टाचार के आरोप गायब ! डीएसबी परिसर के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष सहित तीन लोगों के खिलाफ धारा 506 में मुकदमा दर्ज, फिर इसे भी निरस्त करने की मांग

-कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलसचिव की तहरीर पर दर्ज हुआ मुकदमा
नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जुलाई 2020। कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलसचिव की तहरीर पर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने डीएसबी परिसर नैनीताल के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष पंकज बिष्ट, विकास जोशी व एक अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के तहत यानी जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं शाम को दोनों पक्षों के बीच समझौता हो जाने के बाद मल्लीताल कोतवाली में मुकदमा निरस्त किये जाने की मांग भी की गई है। अलबत्ता, मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई मो. यूनुस ने बताया कि दोनों पक्ष समझौता पत्र लाये थे, लेकिन चूंकि मामला दर्ज हो चुका है, इसलिए विवेचना के बाद ही कार्रवाई की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि एक दिन पूर्व सोमवार को कुमाऊं विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष भूपाल सिंह करायत व महामंत्री लक्ष्मण सिंह रौतेला ने इस मामले में कुलपति को ज्ञापन देकर कहा था कि विश्वविद्यालय के 16वें दीक्षांत समारोह के भुगतान बिलों में व्याप्त अनियमितताओं एवं इसके भुगतान हेतु छात्र नेताओं के द्वारा कर्मचारी को विश्वविद्यालय परिसर में धमकी दी गई व अनर्गल आरोप लगाये गये। लिहाजा महासंघ ने इस मामले में छात्र नेताओं के खिलाफ विश्वविद्यालय की ओर से प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग करते हुए आज मंगलवार से पूर्ण कार्य बहिस्कार करने की चेतावनी दी थी। बहरहाल, आज भ्रष्टाचार का मामला पीछे चला गया है और केवल कर्मचारी को जान से मारने की धमकी देने के आरोप में ही मुकदमा दर्ज किया गया है।

उत्तराखंड हाईकोर्ट का निर्णायक फैसला: उत्तराखंड के सभी चर्तुर्थ श्रेणी कर्मियों को मिलेगा एसीपी का लाभ

आज कर्मचारियों की मांग पर कुलसचिव केआर भट्ट की ओर से तहरीर देकर कहा गया था कि आठ जुलाई को विवि कर्मचारी दीपक बिष्ट ड्यूटी के बाद जब घर को जा रहे थे। तब केंद्रीय पुस्तकालय के समीप पंकज भट्ट, विकास जोशी और एक अन्य युवक द्वारा रुके हुए बिलो के भुगतान को लेकर अभद्रता की गई व जान से मारने की धमकी दी थी। उल्लेखनीय है कि इस मामले में पंकज भट्ट और विकास जोशी की ओर से घटना के दिन ही पुलिस में तहरीर देकर कर्मचारी दीपक बिष्ट द्वारा उनसे रिश्वत मांगने के आरोप लगाये गये थे। मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई यूनुस खान ने बताया कि मामले में पंकज भट्ट, विकास जोशी और एक अन्य युवक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच एसआई नरेंद्र सिंह को सौपी गयी है। 

यह भी पढ़ें : कुमाऊं विश्वविद्यालय में सक्रिय छात्र नेता कर रहे ठेकेदारी, बिलों के भुगतान को लेकर कर्मचारियों से बवाल..

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 जुलाई 2020। जी हां, कुमाऊं विश्वविद्यालय की छात्र राजनीति में सक्रिय छात्र नेता विश्वविद्यालय के कार्यों में ठेकेदारी भी कर रहे हैं। यह खुलासा स्वयं उन्होंने ही किया है। हुआ यह कि आज पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष पंकज भट्ट व विकास जोशी अपने किये हुए कार्यों के बिलों के भुगतान को लेकर पहले कुलपति तथा उसके बाद आंतरिक लेखा परीक्षा एवं कर्मचारी नेता दीपक बिष्ट से मिले। इस दौरान दोनों के बीच में किसी बात को लेकर विवाद हो गया।
इस पर कुमाऊं विवि के कर्मचारी संघ के अध्यक्ष भूपाल सिंह करायत की अगुवाई में कर्मचारी नेता उखड़ गए और उन्होंने प्रशासनिक भवन के आगे एकत्र होकर दोषियों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कार्रवाई की मांग की। साथ ही कुलसचिव को ज्ञापन देकर बतौर छात्र नेता पंकज भट्ट, विकास जोशी और एक अज्ञात व्यक्ति ने कार्यालय में लेखा परीक्षक दीपक बिष्ट को 16वें दीक्षांत समारोह के टेंट पंडाल के बिलों में भुगतान में आपत्ति किए जाने पर अंजाम भुगतने और जान से मारने की धमकी देने के आरोप लगाए। उन्होंने इस मामले में कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर पुलिस में तहरीर देने की बात भी कही। उल्लेखनीय है कि इस मामले में छात्र नेताओं का एक दूसरा वर्ग पहले ही भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए झंडा उठाए है।
इधर पंकज भट्ट व विकास जोशी ने कुलपति एवं थानाध्यक्ष मल्लीताल को सोंपे दो अलग-अलग पत्रों में कहा है कि वह अपने बिलों के भुगतान के लिए आंतरिक लेखा परीक्षा एवं कर्मचारी नेता दीपक बिष्ट से मिल रहे थे। बिष्ट ने उनसे कथित तौर पर बिलों के भुगतान के ऐवज में धनराशि की मांग की और न देने पर गाली गलौज करते हुए जान से मारने की धमकी भी दी।

यह भी पढ़ें : डीएसबी में छात्र-छात्राओं को अलग बैठाने का फरमान, भड़का संस्कारवान शिक्षा का पैरोकार छात्र संगठन..

नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अगस्त 2019। कुमाऊं विश्वविद्यालय के सर्वप्रमुख डीएसबी परिसर के वाणिज्य विभाग में छात्र एवं छात्राओं को अलग-अलग शिफ्ट की कक्षाओं में पढ़ने की व्यवस्था शुरू हुई है। इस पर छात्र-छात्राओं में संस्कारवान शिक्षा की बात करने वाला छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भड़क गया है। इसे समानता के दौर में विद्यार्थियों, खासकर छात्रों व छात्राओं के बीच विभेद पैदा करने वाला एवं पुरुषवादी सोच वाला कदम बताते हुए शुक्रवार को परिषद के कार्यकर्ताओं ने विरोध दर्ज करा दिया है, और आगे आंदोलन का ऐलान भी कर दिया गया है। इस मुद्दे को लेकर शुक्रवार को विशाल वर्मा, हरीश राणा, पंकज भट्ट, भरत अधिकारी, करन दनाई, रति मेलकानी, पवन कन्याल व करन देव आदि अभाविप कार्यकर्ताओं ने वाणिज्य विभागाध्यक्ष व परिसर अध्यक्ष डा. अतुल जोशी का घेराव भी किया। इधर परिषर के निवर्तमान राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य निखिल बिष्ट ने इसे तुगलकी फरमान बताते हुए कहा कि मुद्दे पर आंदोलन छेड़ा जाएगा।

विभागाध्यक्ष जोशी ने बताया कारण

नैनीताल। डीएसबी परिसर के वाणिज्य विभागाध्यक्ष प्रो. अतुल जोशी ने बताया कि बी कॉम के पहले, तीसरे व पांचवे सेमेस्टरों में 150 से अधिक विद्यार्थी पंजीकृत हैं। अधिक छात्र संख्या के कारण पहले अंग्रेजी के ए से एम तक से नाम शुरू होने वाले विद्यार्थियों को सुबह की 10 से 12 एवं एन से जेड नाम वालों को शाम की एक से तीन बजे की शिफ्ट में पढ़ाने की व्यवस्था की गयी थी। ऐसे में शाम की शिफ्ट में बच्चे नहीं आते थे। इसलिए छात्राओं के लिए सुबह एवं छात्रों के लिए सुबह की शिफ्ट में पढ़ने की व्यवस्था बैठक के बाद लागू की गयी है। विरोध में वाणिज्य विभाग के बजाय कला विभाग के अधिक छात्र आ रहे हैं। आगे पुनः बैठक कर निर्णय पर पुर्नविचार किया जा सकता है।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply