यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..

हल्द्वानी में विद्युत चोरी कर चला रहा था फैक्टरी, मिली एक वर्ष के जेल व सवा पांच लाख जुर्माने की सजा

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, नैनीताल, 4 अक्टूबर 2019। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने बिजली चोरी के आरोप में हल्द्वानी के इमरान नाम के व्यक्ति को विद्युत अधिनियम के अधीन दोषी पाते हुए एक वर्ष के कारावास तथा 5 लाख 25 हजार 199 रुपए की धनराशि अदा करने की सजा सुनाई है। इमरान पर मीटर से पहले बिजली की केबल काटकर उससे मोमबत्ती बनाने की फैक्टरी चलाने का आरोप है।
मामले के अनुसार विद्युत वितरण उप खंड द्वितीय हल्द्वानी के अवर अभियंता बंशीधर डालाकोटी ने थाना बनभूलपुरा में फरजाना, मोहम्मद नाजिका, मो. आरिफ व इमरान को 8266 वाट की विद्युत चोरी करते पकड़कर उनके विरुद्ध विद्युत अधिनियम की धारा 135 के तहत 23 फरवरी 2017 को मुकदमा दर्ज कराया था। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने पैरवी करते हुए पांच साक्षी पेश किये, जिसके फलस्वरूप इमरान दोषी सिद्ध हुआ, और उसे शुक्रवार को सजा सुनाई गई।

यह भी पढ़ें : साथ रह रही साली के हत्यारे की जमानत अर्जी खारिज

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 अक्तूबर 2019। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने अपने पति से अलग जीजा के साथ रह रही महिला की हत्या के आरोप में बंद उसके जीजा की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। आरोपित जीजा सोनू सैनी पुत्र पूरन सिंह सैनी निवासी चोरपानी स्टोन क्रेसर के पीछे रामनगर की जमानत अर्जी का मंगलवार को न्यायालय में विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि मृतका जन्नत उर्फ निखत अंसारी की शादी भजनपुरा दिल्ली निवासी अंकित शर्मा से हुई थी, किंतु पांच-छह दिन ही पति के साथ रहने के बाद वह नवंबर 2018 से पति से अलग अपने जीजा सोनू सैनी के पास रह रही थी।

नोट: पंचायत चुनावों की पूरी अवधि के लिए ‘सबसे सस्ती’ दरों पर विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9412037779 अथवा 8077566792 पर।

इधर जून 2019 में पुलिस को एक अज्ञात महिला का शव बरामद किया गया। उसके शव के इश्तिहार को देखकर उसके पति ने 22 जून को उसकी शिनाख्त की। पति की तहरीर पर मृतका के जीजा सोनू व उसके साले गुड्डू के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302 व 201 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ। मामले में आरोपित स्वयं अपना जुर्म कबूल कर चुका है कि उसने घटना के दिन मृतका के साथ शराब पी थी। इस दोरान दोनों के बीच झगड़ा होने पर सोनू ने जन्नत को पहले पटका और गिरने पर बिजली के तार से उसका गला घोंटा और मरने पर उसे रेलवे लाइन पर डाल दिया और उसकी पहचान छुपाने के लिए उसके मुंह पर कपड़ों में पेट्रोल डालकर आग लगा दी थी। हत्या में प्रयुक्त तार आदि भी आरोपित से बरामद हो चुके हैं, लिहाजा उसे जमानत नहीं दी जा सकती।

यह भी पढ़ें : आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपित हल्द्वानी के दो बैंकट हॉल संचालकों को रहना पड़ेगा जेल में…

-जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत ने जमानत अर्जी की खारिज
नवीन समाचार, नैनीताल, 19 सितंबर 2019। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव कुमार खुल्बे की अदालत ने हल्द्वानी के दो बैंकट हॉल संचालकों-भूपेंद्र मेहरा पत्र बीरेंद्र मेहरा निवासी जीतपुर निगल्टिया लामाचौड़ हल्द्वानी व विशाल मेहरा पुत्र जगमोहन मेहरा निवासी जगतपुर थाना चोरगलिया गौलापार हल्द्वानी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए न्यायालय को बताया कि दोनों ने ओम प्रकाश उर्फ पप्पू मौर्य निवासी दमुवाढूंगा से बैंकट हॉल के गार्डन में दो लाख 25 हजार रुपए का कार्य कराने के बावजूद उसे पैंसे नहीं दिये। ऐसे में ओम प्रकाश को दूसरों से उधार पैंसे लेकर कार्य कराना पड़ा। बावजूद पैंसे मांगने पर उसके साथ मारपीट की। इस कारण ओम प्रकाश ने गत 25 जुलाई माह में जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। दलीलों को सुनने के बाद न्यायालय ने आरोपितों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

Leave a Reply

Loading...
loading...