Court News Crime

लाखों के मसाले चोरी के आरोपितों की जमानत अर्जी खारिज

समाचार को यहाँ क्लिक करके सुन भी सकते हैं

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 जनवरी 2022। जनपद के प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत ने हल्द्वानी में एक दुकान से बड़ी मात्रा में मसालों के कट्टे चोरी करने के आरोप में जेल में बंद दो आरोपितों का जमान प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन पक्ष की ओर से अदालत को बताया कि बीती दो जनवरी की रात्रि नई दिल्ली के शिव विहार रावत नगर निवासी डेविड पुत्र प्रेम शर्मा की हल्द्वानी की कलावती कॉलोनी चौराहे स्थित दुकान से 32 कट्टे जीरा, 5 कट्टे धनिया व 6 पैकेट इलायची आदि मसाले चोरी हुए थे। पीड़ित ने दुकान में माल लाने वाले गगन पुत्र राम विलास निवासी गंगवा मोती विहार पर शक जताते हुए मामले की पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी।

अगले दिन तीन जनवरी को आरोपित 12 कट्टे जीरा के साथ पकड़ा गया। शेष सामग्री भी आरोपित की निशानदेही पर अब्दुल रहमान इंद्रा नगर थाना वनभूलपुरा निवासी अब्दुल रहमान के पास से बरामद की गई। इस आधार पर अदालत ने दोनों आरोपित का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : सलमान खुर्शीद के बंगले में फायरिंग के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 दिसंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने गत 15 नवंबर को जनपद के ग्राम सतखोल पोस्ट प्यूड़ा में कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद की कोठी में आगजनी के एक आरोपित नथुवाखान निवासी चंदन सिंह लोधियाल पुत्र हरेंद्र सिंह की जमानत अर्जी शुक्रवार को खारिज कर दी है। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व इस मामले में सूपी मुक्तेश्वर निवासी उमेश मेहता पुत्र गंगा सिंह, कृष्ण बिष्ट पुत्र शंकर सिंह व राजकुमार मेहता पुत्र गंगा सिंह की जमानत अर्जी खारिज हो चुकी है।

जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि आरोपित उमेश मेहता से मैगजीन सहित पिस्टल भी बरामद हुई थी और उसने माफी मांगते हुए बताया कि उसने सलमान खुर्शीद के बयान के विरोध में आवेश में आकर फायरिंग की थी। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

गौरतलब है कि इस मामले में भाजपा नेता कुंदन चिलवाल व एक अन्य की गिरफ्तारी पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय रोक लगा चुका है। इस मामले में शिकायतकर्ता कोठी के केयरटेकर सुंदर राम ने कहा है कि करीब 20 लोग कोठी पर आए थे और उन्होंने हिंदूवादी तथा सलमान खुर्शीद मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए कोई में आग लगाई। 5-6 राउंड फायर भी किए। जबकि उनमें से दो लोगों ने आग बुझाने में भी सहयोग किया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अरुणांचल प्रदेश से NOC लेकर, इंजन व चेसिस नंबर बदलकर, फर्जी कागजातों से हल्द्वानी RTO में बनाए गये थे वाहनों के कागजात

-इस तरह चोरी की गाड़ी बेचने के आरोपित को नहीं मिली जमानत
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 23 दिसंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने चोरी की गाड़ी इंजन व चेसिस नंबर बदलबर तथा फर्जी कागजातों से बेचने के आरोपित इम्तियाज उर्फ छोटा पुत्र निसार अहमद मूल निवासी ग्राम परेवा वैश्य थाना जहानाबाद जिला पीलीभीत उत्तर प्रदेश व हाल वार्ड नंबर 5 सितारगंज का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।

बृहस्पतिवार को आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन की ओर से विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित नदीम व इस्तियाक आदि अन्य आरोपितों के साथ मिलकर चोरी के वाहनों को इंजन व चेसिस नंबर बदलकर अरुणांचल प्रदेश से अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कराकर आरटीओ हल्द्वानी में असल के रूप में पंजीकरण कराकर वाहन बेचते थे।

ऐसा ही एक 14 टायर का ट्रक उन्होंने शिकायतकर्ता सुधीर कुमार पुत्र त्रिगुनानंद निवासी 25 एकड़ कॉलोनी लालकुआं को 20 मार्च 2021 को 22 लाख रुपए में बेचा था। आरोपितों ने यह चोरी का ट्रक 10 लाख रुपए में खरीदा था। इस मामले में आरोपित पर यूपी के चित्रकूट थाने में भी अभियोग पंजीकृत हुआ था। इस आधार पर न्यायालय ने मामले को गंभीर मानते हुए आरोपित का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया।

गोली मारने के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज
नैनीताल। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने गत 19 नवंबर को भवानीगंज चौराहा रामनगर में चंदन सिंह पुत्र गोविंद सिंह व दीपक आर्या पुत्र त्रिलोक राम आर्या पर ठेले पर छोले खाने के दौरान गोली मारने के आरोपित शैलेंद्र वर्मा का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है। बृहस्पतिवार को आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन की ओर से विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि इस घटना में दोनों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। आरोपित के पास से गोली चलाने वाली लाइसेंसी रिवॉल्वर व 4 जिंदा कारतूस व खोखे भी बरामद हुए। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : शारीरिक संबंध बनाने से मना करने पर महिला की हत्या करने वाले दो दोषियों को इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस ने दिलाई सजा

-दोनों दोषियों को आजीवन कारावास, साथ ही नाबालिग बच्चों को प्रतिकर की धनराशि दिए जाने के आदेश भी

मृतका दीपा।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 दिसंबर 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह की अदालत ने शारीरिक संबंध बनाने से मना करने पर महिला की हत्या करने के दो दोषियों-जोगा सिंह उर्फ जग्गू पुत्र मोहन राम निवासी ग्राम दुधरौली थाना बेरीनाग पिथौरागढ़ व मोहन राम पुत्र गुसाई राम निवासी ग्राम बना तहसील कांडा जिला बागेश्वर को आजीवन कारावास तथा साक्ष्य छुपाने के आरोप में 3-3 वर्ष की सजा एवं 5-5 हजार रुपए अर्थदंड एवं अर्थदंड न चुकाने पर छह माह के अतिरिक्त कारावास की सुनाई है। जमानत पर चल रहे दोनों दोषियों को जेल भेजने के आदेश भी पारित किए गए हैं। दोनों सजाएं साथ-साथ चलेंगी, यानी दोषियों को आजीवन कारावास में रहना होगा। साथ ही मृतका के 8 व 11 वर्ष के दोनों बच्चों को धारा 337ए के तहत प्रतिकर की धनराशि दिलाने के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को भी आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि बृहस्पतिवार को दोनों आरोपितों पर न्यायालय में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 व 201 के तहत दोष साबित हुआ था। जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से पैरवी करते हुए मामले को महिला के उत्पीड़न व हत्या का बताते हुए दोषियों के लिए अधिकाधिक सजा दिए जाने व बच्चों को प्रतिकर दिलाए जाने की पैरवी की। उन्होंने बताया कि 7 जून 2016 को आरोपित जोगा सिंह उर्फ जग्गू पुत्र मोहन राम निवासी ग्राम दुधरौली थाना बेरीनाग पिथौरागढ़ व मोहन राम पुत्र गुसाई राम निवासी ग्राम बना तहसील कांडा जिला बागेश्वर अपने वाहन से हल्द्वानी के मुखानी चौराहे से दीपा पुत्री रंजीत राम निवासी बड़यूडा पोस्ट देवराड़ी पंत तहसील गणाई गंगोली जिला पिथौरागढ़ को घुमाने के बहान बाजपुर काशीपुर ले गए।

जहां दोनों ने शराब पी। लौटते हुए गड़प्पू के जंगल में दीपा लघुशंका के लिए उतरी तो उससे छेड़खानी की और उससे शारीरिक संबंध बनाने को कहा। इस पर मृतका ने दोनों की पुलिस में शिकायत दर्ज कराने की बात कही तो दोनों ने गला घोंटकर दीपा की हत्या कर दी और उसके शव को नग्नावस्था में भाखड़ा पुल के पास फेंक दिया। मामले में अभियोजन ने इलेक्ट्रॉनिकट सर्विलांस के व्यक्तियों सहित 13 गवाह पेश किए और घटनास्थल पर अभियुक्तें की उपस्थिति व उनके द्वारा हत्या किया जाना साबित किया। इस पर न्यायालय ने दोषियों को सजा दी गई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मुफ्तखोरी के लिए शराब के नशे में कर दी थी दुकानदार की हत्या, जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 11 दिसंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने गत दो नवंबर 2021 की शाम जनपद की धारी तहसील के झुपली बांज नरतोला में मछली की दुकान चलाने वाले भवान सिंह पुत्र गणेश सिंह की पीट-पीटकर की गई हत्या के आरोपित भूपाल सिंह उर्फ भूपेंद्र सिंह का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है। बताया गया कि विवाद मुफ्त मछली देने को लेकर और शराब के नशे में हुआ।

अदालत में अभियोजन की ओर से जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को गवाहों एवं दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर बताया कि आरोपित ने अपने दो साथियों चंचल सिंह, गोपाल सिंह व खुशाल सिंह के साथ भवान सिंह की बुरी तरह से पिटाई की।

आरोपितों ने भी स्वीकारा कि मारपीट के दौरान भवान सिंह लेंटर की छत से गिर पड़ा। इससे उसके सिर व चेहरे पर गंभीर चोटें आईं। आरोपितों व भवान सिंह के बीच शराब के नशे में गाली-गलौज हुई थी। आरोपित पहले भी भवान सिंह के साथ पूर्व में भी मुफ्त मछली देने को लेकर विवाद होता रहता था। इस घटना के बाद उपचार के दौरान 9 नवंबर को भवान सिंह की मौत पूरे शरीर में चोटों के साथ संक्रमण फैल जाने की वजह से हो गई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

किराये का घर अपना बताकर बेचने वाले की जमानत अर्जी खारिज
नैनीताल। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने जफर पुत्र अब्दुल सत्तार निवासी निवासी उत्तर उजाला हल्द्वानी के जमानत प्रार्थना पत्र को शनिवार को खारिज कर दिया। आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र को खारिज करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित वार्ड 14 शनि बाजार हल्द्वानी में जिस किराये के कमरे में रहता था, उसे अपना बताकर उसका सौदा उसने मौ. शाकिर पुत्र साबिर से 15.4 लाख रुपए में सौदा कर दिया और साढ़े छह लाख रुपए ले लिए। शेष रुपए देने पर कब्जा देने की बात की, लेकिन शेष रुपए देने से पहले ही खरीददार को पता चल गया कि सौदा किया गया उसका नहीं है। इस पर उसने रुपए नहीं लौटाए और रुपए मांगने पर जान से मारने की धमकी दी। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ा फैसला : दिनदहाड़े मां की गला काटकर हत्या करने वाले कलयुगी पुत्र को फांसी की सजा, जिले में छठे मामले में फांसी

-सात अक्टूबर 2019 को उदयपुर रैक्वाल क्वीरा फार्म चोरगलिया में अभियुक्त डिगर सिंह ने अपनी मां जोमती देवी की एक हाथ से सिर के बाल पकड़कर और दूसरे हाथ से दराती से गर्दन पर वार कर सिर धड़ से अलग कर दिया था
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 नवंबर 2021। प्रथम अपर जिला सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने हल्द्वानी के गौलापार क्षेत्र में मां की हत्या करने के मामले में बेटे को हत्या करने के अभियोग में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत फांसी व 10 हजार रुपए के अर्थदंड एवं हत्या के प्रयास के अभियोग में धारा 307 के तहत आजीवन कारावास व पांच हजार रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है। साथ ही धारा 357 जाफ्ता फौजदारी के प्राविधानों के तहत राज्य सरकार की योजना के माध्यम से मृतका के परिजनों के प्रतिकर की धनराशि दिलाए जाने की संस्तुति जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से की है।

बुधवार को दोष सिद्ध डिगर सिंह को सजा सुनाये जाने पर हुई चर्चा में अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने कहा कि अभियुक्त डिगर सिंह ने मामूली विवाद पर अपनी उस मां जोमती देवी की बेहद बेरहमी से, एक हाथ से सिर के बाल पकड़कर और दूसरे हाथ से दराती से गर्दन पर वार कर सिर धड़ से अलग कर दिया था, जिसने उसे 9 माह पेट में रखा। लिहाजा उसे फांसी की सजा दी जाए तो वह भी कम है। इन तर्कोे के साथ उन्होंने अभियुक्त को अधिकतम सजा दिए जाने की प्रार्थना भी की।

इस मामले में अभियोजन की दोषी को मृत्यु दंड की मांग के इतर न्यायालय ने उच्चतम न्यायालय महाराष्ट्र के वसंत संपत दुपारे के मामले में दी गई सजा के सुस्थापन सिद्धांत के आधार पर यह सजा सुनाई। न्यायालय ने फांसी की सजा सुनाते हुए कहा, इस मामले में मृतका घटना के समय असहाय थी। दोषसिद्ध मृतका का सगा पुत्र है, जिसका मृतका से विश्वास का रिश्ता था। दोषसिद्ध ने बिना किसी प्रकोपन के इतनी क्रूरता से हत्या की जिससे ना केवल न्यायिक विवेक अपितु सामाजिक विवेक को भी झकझोर दिया। इस मामले में दोष सिद्ध ने ऐसी भी कोई परिस्थिति नहीं बताई कि उससे अपराध किसी अन्य कारणवश हुआ हो। मां का स्थान सामाजिक मान्यता के अनुसार पृथ्वी पर ईश्वर के समान माना जाता है। माता द्वारा अपने पुत्र के लालन पालन में किए गए श्रम का विकल्प नहीं हो सकता। इस का समाज पर भी बुरा प्रभाव पड़ना स्वाभाविक है। इसलिए इस हत्याकांड को दुर्लभ से दुर्लभतम श्रेणी में मानते हुए सजा ने दोषसिद्ध को फांसी एवं आजीवन कारावास की सजा सुनाई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

उत्तराखंड बनने के बाद पांच मामलों में सुनाई जा चुकी है फांसी की सजा, पर मिली किसी को नहीं
नैनीताल। नैनीताल जनपद में इससे पूर्व पांच मामलों में फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है। अलबत्ता वास्तव में 19 वर्ष पुराने मामलों में भी अब तक किसी को फांसी पर लटकाया नहीं गया है। जनपद में सर्वप्रथम तत्कालीन जिला शासकीय अधिवक्ता सतीश चंद्र पंत की पैरवी पर बाद में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश एवं मेघालय के मुख्य न्यायाधीश रहे न्यायमूर्ति पीसी पंत की अदालत ने नाई की दुकान में हत्या करने के मामले में राजेश शर्मा व नवीन शर्मा को 9 मार्च 2002 को फांसी की सजा सुनाई थी। आगे तत्कालीन सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा की पैरवी पर तत्कालीन अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश जीके शर्मा की अदालत ने सात जनवरी 2004 को थाना बाजपुर में एक बच्ची की बलात्कार के बाद हुई हत्या के मामले में आफताब व मुतताज को फांसी की सजा सुनाई गई थी।

वहीं आगे 28 जून 2004 को थाना मल्लीताल क्षेत्र में एक नेपाली बच्ची की एक निर्माणाघीन घर में बलात्कार के बाद हत्या करने वाले मजदूरों बाबू, अमीर, पवन व अर्जुन को तत्कालीन एडीजीसी शर्मा की ही पैरवी पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश जीके शर्मा की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई गई थी। इसके अलावा जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा की पैरवी पर ही जिला एवं सत्र न्यायाधीश मीना तिवारी की अदालत ने थाना लालकुआं के बहुचर्चित संजना हत्याकांड मामले में बच्ची की बलात्कार के बाद हत्या के मामले में 28 फरवरी 2014 को मृतका बच्ची के फूफा दीपक आर्या को फंासी की सजा सुनाई थी। इसके अलावा आज फांसी की सजा सुनाने वाले न्यायाधीश प्रीतू शर्मा ने पास्को कोर्ट की न्यायाधीश रहते पिथौरागढ़ की बच्ची के बहुचर्चित कशिश हत्याकांड में हल्द्वानी में शादी समारोह के दौरान बच्ची का अपहरण कर उसकी दुष्कर्म के बाद हत्या करने के दोषी ट्रक ड्राइवर अफसर अली को 11 मार्च 2016 फांसी की सजा सुनाई थी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 2-3 वर्षीय दो बच्चियों की मां को दहेज के लिए गला दबाकर मार डाला

-जिला अदालत ने खारिज की जमानत अर्जी
HC extends Interim Orders passed by it and by subordinate courts till May  10, 2020 | Lawsisto Legal Newsडॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 नवंबर 2021। जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने दहेज हत्या के आरोपित पति मो. इरशाद पुत्र छोटे निवासी इंद्रानगर वनभूलपुरा हल्द्वानी की जमानत अर्जी बुधवार को खारिज कर दी। मृतका की मौत शादी के 6 वर्ष के भीतर हो गई थी। उसकी 3 व 2 वर्ष की दो बच्चियां हैं।

आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि इरशाद की शादी शबाना पुत्री अनवार हुसैन निवासी काजीबाग काशीपुर से 2015 में पिता की सामर्थ्यानुसार पूरे दान-दहेज के साथ हुई थी। तभी से उसका पति, सास, ससुर व मामा आदि उसे कम दहेज लाने के ताने देकर प्रताणित करते थे और दहेज में मोटरसाइकिल लाने का दबाव डालते थे। इस बीच उसकी दो पुत्रियां होने पर उसे पुत्र न होने को लेकर कोसा जाने लगा।

इधर उससे दो लाख रुपए दहेज लाने की मांग की जा रही थी। इसी बीच गत 29 सितंबर 2021 को शबाना की देवरानी ने फोन से उसके पिता को उसकी मौत होने की सूचना दी। सूचना दिए जाने पर पुलिस पहुंची तब जाकर उसके गले में निशान दिखाई दिए। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण गले में फंासी लगने व दम घुटने से मृत्यु बताई गई। इस प्रकार अभियोग की गंभीरता को देखते हुए अदालत ने आरोपित पति का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कलयुगी पुत्र ने अपनी मां की गर्दन दराती से काट कर अलग कर दी, दोष सिद्ध

-नौ माह की अदालती कार्रवाई में ही त्वरित न्याय, 24 नवंबर को सुनाई जाएगी हत्या व हत्या के प्रयास की धाराओं के तहत सजा
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 नवंबर 2021। प्रथम अपर जिला सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने हल्द्वानी के गौलापार क्षेत्र में मां की हत्या करने के मामले में बेटे को हत्या करने व हत्या की धमकी देने का दोषी करार दिया है। अब अदालत अभियुक्त को आगामी 24 नवंबर यानी बुधवार को सजा सुनाएगी। अभियुक्त को हत्याकांड के बाद से जमानत नहीं मिली है। उसे दोषी करार देने के बाद अदालत ने फिर से जेल भेज दिया गया है। खास बात यह है कि इस मामले में सुनवाई शुरू होने के 9 माह में ही अदालत का फैसला आ गया है।

अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत में पैरवी करते हुएब ताया कि सात अक्टूबर 2019 को उदयपुर रैक्वाल क्वीरा फार्म चोरगलिया में अभियुक्त डिगर सिंह ने मामूली विवाद पर अपनी मां जोमती देवी की बेहद बेरहमी से, एक हाथ से सिर के बाल पकड़कर और दूसरे हाथ से दराती से गर्दन पर वार कर सिर धड़ से अलग कर दिया था। अभियोजन द्वारा अपराध साबित करने को एक दर्जन गवाह पेश किए और साक्षियों ने भी साबित किया कि जोमती देवी के चिल्लाने पर देवकी देवी व मृतका की बहू नैना कोरंगा मौके पर पहुंचे तब भी डिगर सिंह अपनी माता की गर्दन पर वार कर रहा था।

उसने ही अपनी माता जोमती देवी की गर्दन पर दराती से वार कर उसकी गर्दन काट कर सिर धड़ से अलग कर दिया था। उसी दिन मृतका के पति सोबन सिंह पुत्र कुंवर सिंह निवासी ग्राम उदयपुर रैक्वाल गौलापार ने चोरगलिया थाने में बेटे डिगर सिंह कोरंगा के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी थी, जिस पर पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया था।

अभियोजन के दौरान विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट में भी दराती से वार से हत्या की पुष्टि हुई। अभियोजन के अनुसार इस मामले में पांच मार्च 2020 को अभियुक्त पर धारा 307 जोड़ी गई थी। जबकि 25 फरवरी 2021 से ट्रायल शुरू हुआ। अदालत ने नौ माह में केस पर फैसला सुनाकर त्वरित न्याय प्रदान किया है।  आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : व्यवसायियों से करीब 65 लाख उधार लेकर फरार हुए व हत्यारोपितों की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 नवंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने गत जून माह में हल्द्वानी के एक व्यवसायी से 35 लाख एवं अन्य आधा दर्जन व्यवसायियों से 30 लाख रुपए से अधिक की धनराशि का माल लेकर हुए फरार हुए आरोपित सचिन अग्रवाल पुत्र मुकेश कुमार अग्रवाल निवासी कृष्णा नॉवल्टीज नवाबी रोड हल्द्वानी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि आरोपित कृष्णा नॉवल्टीज नाम से फर्म बनाकर शिकायतकर्ता अंकुर गुप्ता के 35 एवं अन्य व्यवसायियों से करीब 30 लाख रुपए का माल उधार लेकर फरार हो गया था। आरोपित ने यह सामान लेकर दूसरी जगह सस्ते में बेच दिया। इस आधार पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

वहीं एक अन्य मामले में जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने एक अन्य मामले में जानलेवा हमला करने के शडयंत्रकारी हरियाणा निवासी आरोपित बलवान पुत्र रामकिशन निवासी हरियाणा व शूटर अमित उर्फ मित्ता पुत्र कृष्ण कुमार, अमरजीत सिंह उर्फ मीनू पुत्र बलवान सिंह की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से आरोपितों की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि उन्होंने कौस्तुभानंद नाम के व्यक्ति पर जानलेवा हमला किया। अदालत ने इस आधार पर अदालत ने आरोपितों की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : धर्म-नाम बदलकर किशोरी से दुष्कर्म करने के मामले में दोषी को 20 साल की सजा सुनाई

नवीन समाचार, देहरादून, 17 नवंबर 2021। धर्म-नाम बदलकर किशोरी से दुष्कर्म करने के एक मामले में अतिरिक्त जिला व सेशन जज अश्वनी गौड़ की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने आरोपित आमिर निवासी मुस्लिम बस्ती, शास्त्रीनगर खाला को दोषी मानते हुए 20 साल की सजा सुनाई है, साथ ही 40 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है। जुरमाना अदा न करने पर दोषी को छह महीने अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता किशोर कुमार ने बताया कि मामला वर्ष 2018 को प्रकाश में आया था। आमिर वसंत विहार में एक दुकान में काम करता था। वहीं पास ही किशोरी का घर है। आमिर ने किशोरी को अपना नाम हर्ष बताया और उसके साथ दोस्ती कर ली। कुछ समय तक दोनों एक-दूसरे से मिलते रहे। इस बीच आमिर ने किशोरी को शादी का झांसा देकर कई बार दुष्कर्म किया।

वर्ष 2018 में ईद पर दोषी ने किशोरी से घर से एटीएम कार्ड लाने को कहा। किशोरी अपने भाई का एटीएम कार्ड लाकर उसे दे दिया। आमिर ने एटीएम कार्ड से तीन हजार रुपये निकाल लिए। जब किशोरी के भाई के पास रुपये निकलने का मैसेज पहुंचा और घर पर कार्ड नहीं मिला तो उन्होंने कार्ड की तलाश शुरू की। कार्ड न मिलने पर भाई ने किशोरी से पूछताछ की तो उसने बताया कि एटीएम कार्ड उसने अपने दोस्त को दिया है।

किशोरी के भाई ने जब जांच पड़ताल की तो तब पता लगा कि उसका नाम हर्ष नहीं, बल्कि आमिर सिद्दीकी है। किशोरी से जब और पूछताछ की गई तो उसने बताया कि आमिर उससे अब तक 56 हजार रुपये ले चुका है। किशोरी की भाई की तहरीर पर वसंत विहार थाना पुलिस ने आमिर के खिलाफ दो जुलाई 2018 को दुष्कर्म, पोक्सो के तहत मुकदमा दर्ज किया था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में खुद को हिंदू बताकर रहने के बाद हिंदू महिला की हत्या करने वाले आरोपित को न्यायालय ने तीन माह बाद भी नहीं दी जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 नवंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने गत अगस्त माह में मुख्यालय में हुई हत्या के मामले में खुद को हिंदू नाम ऋषभ बताकर लिव इन में रहने के बाद दीक्षा शर्मा नाम की हिंदू महिला की हत्या करने वाले आरोपित इमरान खान पुत्र इत्वेजामू अदनीन निवासी पटेल नगर गाजियाबाद को तीन माह बाद भी जमानत नहीं दी है।

इमरान उर्फ़ ऋषभ के साथ कमरे में मृतका (फाइल फोटो)।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित इमरान के जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि आरोपित अपना नाम ऋषभ बताकर श्वेता शर्मा के साथ लंबे समय से पत्नी के रूप में रखे हुए था। 14 अगस्त 2021 को उसने नैनीताल के गैलेक्सी होटल में दीक्षा की हत्या की और उसके शव को नग्नावस्था छोड़कर फरार हो गया। हत्या के बाद विवेचना में उसका वास्तविक नाम इमरान होने का पता चला। देखें विडियो :

घटना के बाद रात्रि 2.55 बजे वह बैग लेकर कमरे से जाता हुआ कैमरे में रिकॉर्ड हुआ। शव विच्छेदन में मृतका की गदन पर खरोंच के निशान पाए गए व उसकी मौत गला दबाने से होने की पुष्टि हुई। इस पर मामले की गंभीरता व प्रथमदृष्टया गंभीर साक्ष्य उपलब्ध होने को देखकर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 10वीं की छात्रा से अश्लील हरकत करने वाले शिक्षक को साढ़े तीन वर्ष बाद 7 साल की कैद की सजा

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 11 नवंबर 2021। शिक्षक द्वारा 10वीं की छात्रा को कार में अगवा कर अश्लील हरकत करने के करीब साढ़े तीन वर्ष पुराने मामले में विशेष न्यायाधीश पॉक्सो नंदन सिंह की अदालत ने आरोपित शिक्षक को गुरुवार को सात साल कैद और 32 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। इसके बाद पुलिस ने आरोपित शिक्षक को हिरासत में ले लिया है।

जिला सहायक शासकीय अधिवक्ता नवीन जोशी ने बताया कि 30 जुलाई 2017 को कालाढूंगी की 10वीं में पढ़ने वाली छात्रा अपने भाई के साथ स्कूल जा रही थी। अचानक रास्ते में छात्रा के भाई की बाइक खराब हो गई। तो छात्रा पैदल स्कूल जाने लगी।

कुछ ही दूरी पर पूर्व में कालाढूंगी के एक जूनियर हाईस्कूल में पढ़ाने वाला शिक्षक मोहम्मद मोबिन खान निवासी वार्ड नंबर-2 कालाढूंगी कार से वहां पहुंचा और उसने छात्रा को कार में बैठने के लिए कहा। छात्रा के मना करने पर उसने छात्रा को जबरन कार में बिठा लिया। इसी बीच छात्रा को हल्द्वानी को लाते समय राहगीरों ने आरोपित को कमलुआगांजा के पास पकड़ लिया।

इसके बाद छात्रा के पिता की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार किया। लेकिन इसके बाद वह जमानत पर बाहर आ गया और ओखलकांडा के सरकारी स्कूल में पढ़ाने लगा। बीते बुधवार को पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। मामले में 12 गवाह पेश किए गए। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जिला बदर व गुंडा एक्ट में निरुद्ध को सात माह बाद भी नहीं मिली जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 नवंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने जिला बदर किए जाने के बाद निरुद्ध क्षेत्र में अन्य अपराधियों के साथ एक व्यक्ति पर गोली चला कर जानलेवा हमला करने के बाद गुंडा एक्ट में निरुद्ध आरोपित को सात माह बाद भी जमानत नहीं दी।

मामले में आरोपित सोनू धनेला उर्फ महेंद्र सिंह पुत्र बहादुर सिंह मूल निवासी ग्राम पिठौली थाना मुक्तेश्वर जिला नैनीताल व वर्तमान निवासी आदर्श नगर विवेक बिहार थाना मुखानी हल्द्वानी को 7 मार्च 2021 को हल्द्वानी में एक व्यक्ति पर गोली चलाकर जानलेवा हमला करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

जबकि उसे जिलाधिकारी नैनीताल के आदेश पर 14 जनवरी 2021 केा जिला बदर किया गया था। इस पर उसके विरुद्ध उत्तर प्रदेश गुंडा नियंत्रण अधिनियम 1970 की धारा 10 के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित सोनू धनेला की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के दिनदहाड़े हुए हत्याकांड के आरोपितों को दो वर्ष बाद भी जमानत नहींयह भी पढ़ें : हल्द्वानी के दिनदहाड़े हुए हत्याकांड के आरोपितों को दो वर्ष बाद भी जमानत नहीं

भूपेंद्र पांडे उर्फ भुप्पी पांडे

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 30 अक्टूबर 2021। हल्द्वानी में करीब दो वर्ष पूर्व 15 दिसंबर 2019 को सिंधी चौराहे पर काठगोदाम निवासी भूपेंद्र पांडे पुत्र मोहन चंद्र पांडे की दिनदहाड़े हत्या हो गई थी।

इस हत्याकांड के एक आरोपित भाई सौरभ गुप्ता पुत्र सुरेश चद्र गुप्ता निवासी त्रिलोक नगर दो नहरिया मुखानी ने जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत में प्रार्थना पत्र दिया था, जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया है। उल्लेखनीय है इस मामले में आरोपित के एक अन्य हत्यारोपित भाई गौरव गुप्ता का जमानत प्रार्थना पत्र भी पूर्व में खारिज किया जा चुका है।

जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने शनिवार को जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन की ओर से विरोध करते हुए अदालत को बताया कि आरोपित को मौके से हत्या में प्रयुक्त असलहे के साथ पकड़ा गया था। वर्तमान में न्यायालय में आरोपितो के मामले में चश्मदीदों के बयान कराये जा रहे हैं।

अगर उसे जमानत पर छोड़ा जाएगा तो वह जेल से बाहर आकर गवाहों को डरा-धमकाकर प्रभावित कर सकता है। इस पर मामले की गंभीरता को देखते हुए अदालत ने उसका जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : विवाहिता से मारपीट कर दुष्कर्म किया, नग्नावस्था में वीडियो बनाया और वायरल कर दिया, कोर्ट ने नहीं दी जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 26 अक्टूबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने मदद के नाम पर महिला के पहले आभूषण हड़पने और लौटाने को कहने पर अस्मत लूटने व नग्नावस्था में वीडियो बनाकर वीडियो वायरल करने के आरोपित का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया।

आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन की ओर से विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित कुलदीप सिंह निवासी बिंदूखत्ता ने हल्द्वानी निवासी विवाहिता से जान-पहचान बनाई और अपनी परेशानी बताकर दो लाख रुपए की नगदी व एक लाख रुपए के सोने के जेवर ले लिए, और बाद में लौटाने को कहने पर गत चार अगस्त 2021 को पैंसे देने के बहाने रामपुर रोड यातायात नगर के पास सैलम होटल ले जाकर मारपीट कर दुष्कर्म कर डाला। साथ ही नग्नावस्था में पीड़िता का वीडियो बनाकर उसे वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करते हुए और रुपए मांगने लगा।

रुपए न देने पर उसने 10 अगस्त को यह वीडियो पीड़िता के ताऊ को भेज दिया, और यह नग्नावस्था का वीडियो पीड़िता के पति तक भी पहुंच गया। इस पर पति ने पीड़िता को घर से निकाल दिया और पीड़िता के भाइयों ने भी उसे अपने घर में रखने को मना कर दिया। इस पर अदालत ने आरोपित कुलदीप के कृत्य को गंभीर मानते हुए उसका जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गांधी जयंती पर गौहत्या करते पकड़े गए आरोपित की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 अक्टूबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने गांधी जयंती के अवसर हल्द्वानी के लाइन नंबर 17 में गाय काटते हुए पकड़े गए आरोपितों, आफताब, ताजिम व अफसार की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए बताया कि अफसार उर्फ टिंकू पुत्र अबरार निवासी लाइन नंबर 14 के पास गौमांस एवं गौहत्या में प्रयुक्त औजार बरामद हुए थे। पूछताछ में उसने बताया कि यह गौमांस किसी शादी के समारोह में बेचने के लिए रखा गया था। इस मामले में आफताब पुत्र मुन्ना निवासी नई बस्ती बनभूलपुरा पहले ही जेल जा चुका है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : तीन नाबालिग बच्चों की मां की मौत के मामले में अदालत ने तीन माह बाद भी नहीं दी पति व सास को जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अक्टूबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने दहेज उत्पीड़न से परेशान होकर जहर खाने से मरने वाली तीन नाबालिग बच्चों की मां की मौत के मामले में उसके पति व सास को तीन माह बाद भी जमानत नहीं दी है।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से मृतका के आरोपित पति भुवन चंद्र पुत्र बल्लभ राम, सास मोहनी देवी व देवर प्रमोद कुमार के जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए अदालत में विरोध किया। बताया कि पाटकोट निवासी मीना देवी पुत्री चनी राम की शादी भुवन चंद्र से गर्जिया मंदिर में 10-12 वर्ष पूर्व हुई थी।

जून 2021 में उसे उसके ससुरालियों ने जबरन जहर खिला दिया, इससे उसकी मौत हो गई। मामले में गवाहों ने भी माना कि या तो उसे जबरन जहर खिलाया गया या उसे जहर खाने के लिए मजबूर किया गया। बताया कि इस मामले में मृतका के देवर की भी जमानत अर्जी खारिज हो चुकी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पति की हत्या में पत्नी व उसके प्रेमी को उम्रकैद की सजा

नवीन समाचार, काशीपुर, 8 अक्टूबर 2021। जनपद के प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश सुबीर कुमार की अदालत ने पति की हत्या में पत्नी और उसके प्रेमी को आजीवन कारावास एवं दस-दस हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना अदा न करने पर एक साल की सजा और भुगतनी होगी।

मामले के अनुसार मूल रूप से मेरठ के थाना हस्तिनापुर के अंतर्गत ग्राम खुदली निवासी 35 वर्षीय गुरमीत सिंह उर्फ मंटू पुत्र बारा सिंह एक वर्ष पूर्व से अपनी ससुराल के पास ही मानपुर नई बस्ती में किराए के मकान में पत्नी सुमन तथा पांच वर्षीय पुत्री सोना और दो वर्षीय पुत्र प्रभजोत के साथ रह रहा था। पांच नवंबर 2018 की रात पुलिस को सूचना मिली कि गुरमीत सिह अपने घर में रस्सी के सहारे बल्ली से लटका हुआ है।

लेकिन पोस्टमार्टम व बिसरे की जांच में गुरमीत की हत्या की पुष्टि हुई। पुलिस पूछताछ में मृतक की पत्नी सुमन ने अपने प्रेमी ग्राम सैंटाखेड़ा निवासी सुनील के साथ मिलकर पति गुरमीत सिंह की हत्या करने का जुर्म कबूल लिया। पुलिस ने दोनों के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट पेश की। अब अदालत ने पत्रावली का परीक्षण कर दोनों आरोपियों सुमन व उसके प्रेमी सुनील को उम्रकैद की सजा सुना दी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पत्नी से प्रेम संबंधों में आढ़े आ रहे कैटरिंग व्यवसायी के हत्यारोपित पूर्व सहयोगी की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 1 अक्टूबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने प्रेम प्रसंग में आढ़े आ रहे प्रेमिका के पति की हत्या करने के आरोपित सोनू सैनी पुत्र चोखे लाल निवासी सती कॉलोनी वनभूलपुरा को तीन माह बाद भी जमानत नहीं दी है।

इस मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से आरोतिप की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि आरोपित सोनू सैनी कैटरिंग व्यवसायी मृतक सोनू गुप्ता पुत्र तेजपाल निवासी उजाला नगर वनभूलपुरा का पूर्व सहयोगी था और उसके मृतक की पत्नी के साथ प्रेम संबंध थे।

पूर्व में कई बाद सोनू गुप्ता ने सोनू सैनी को घर न आने ओर अपनी पत्नी से दूर रहने की हिदायत दी थी। मामले में अभियोजन की ओर से पेश किए गए गवाहों ने आरोपित को मृतक से बात करते व गमछे से गला दबाते हुए देखने के बयान दिए। इस आधार पर आरोपित के कृत्य को गंभीर पाते हुए अदालत ने उसके जमानत प्रार्थना पत्र को खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा व पूर्व केंद्रीय मंत्री के नाम पर 3 लाख की ठगी के आरोपित को नहीं मिली जमानत…

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 28 सितंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा व पूर्व केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद से पहुंच का झांसा देकर नौकरी दिलाने के लिए तीन लाख ठगी करने के आरोपित प्रमोद कुमार निवासी प्लेजाघाट सोनपुर, ऊधमसिंह नगर की जमानत अर्जी सुनवाई के बाद मामले की गंभीरता को देखते हुए खारिज कर दी है।

जिला शासीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि मैसी देवी निवासी तुलसी नगर पॉलीशीट को काका बाबा उर्फ सुरेंद्र उनियाल निवासी पुरोला उत्तरकाशी व प्रमोद कुमार निवासी ऊधमसिंह नगर ने उसके दामाद को नौकरी लगाने का वादा कर तीन लाख अपने खाते में धोखाधड़ी कर डलवाए, लेकिन नौकरी नहीं लगवाई। इस पर मैसी ने रकम लौटाने की बात की तो आरोपित जान से मारने की धमकी देकर कहने लगे कि उनकी उच्चाधिकारियों के साथ ही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से निकटता है।

अभियोजन के अनुसार इन आरोपितों ने छलकपट के साथ राजनेताओं के साथ खींची गई फोटोग्राफ भी दिखाए। मामला दर्ज होने के बाद पुलिस से पूछताछ में आरोपित सुरेंद्र उनियाल व प्रमोद कुमार ने बताया कि वह सांई बाबा टूर में सचिव है। कोर्ट ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : 5 वर्षीय बालिका से 6 माह से दुष्कर्म कर रहा था सौतेला भाई, न्यायालय ने सुनाई फांसी की सजा, जिले का पहला मामला

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 24 सितंबर 2021। जनपद में पहली बार दुष्कर्म के मामले में दोषी को फांसी की सजा सुनाई गई है। जनपद की फॉस्ट ट्रेक कोर्ट ने पांच वर्षीय बालिका के साथ छह माह तक दुष्कर्म करने वाले उसके 32 वर्षीय सौतेले बड़े भाई 32 वर्षीय जनक बहादुर को फांसी की सजा सुनाई है। अदालत ने इस मामले को अत्यधिक घृणित बताया है। वही पीड़िता को सात लाख रुपये का प्रतिकर देने के आदेश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व पिथौरागढ़ न्यायालय में पूर्व में एक महिला को अपने दो नादान बच्चों को दराती से काट कर मारने पर फांसी की सजा हुई थी। इस प्रकार दुष्कर्म के मामले में फांसी की सजा का जनपद में यह पहला मामला है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें :तीन पत्नियां होने के बावजूद की चौथी शादी, फिर भी पत्नी को करता था प्रताड़ित..

-पत्नी को प्रताणित करने वाले पति से कोर्ट ने नहीं दिखाई मुरौबत

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 26 सितंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने तीन शादियां करने के बाद चौथी शादी कर पत्नी का दहेज के लिए उत्पीड़न करने और जबरन गर्भपात कराने के आरोपित पति की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

जिला शासकीय अधिवक्ता- फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि पीड़िता किरन की शादी 23 जुलाई 2020 को रवि अनेजा पुत्र जगदीश निवासी, सिंह कालोनी गली नंबर -500, 3ए रुद्रपुर के साथ हुई थी। शादी के बाद किरन को पता चला कि उसके पति रवि ने पहले ही तीन युवतियों से शादी रचाई है और उसे धोखे में रखकर शादी की। जिसकी सूचना किरन ने अपने पिता को दी।

उसके परिजनों ने जब इसकी शिकायत रवि व उसके परिवार वालों से की तो पहले वह साफ मुकर गये फिर तीन शादी करने की बात स्वीकार की। इसके बाद सास रमेश रानी, ननद सोनम खुराना व पति उससे दहेज में कार व पांच लाख की मांग करते हुए प्रताड़ित करने लगे। तीन शादियां होने के बाद भी मना करने पर उससे जोर जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाये और गर्भवती होने पर गोली आदि खिलाकर गर्भपात कराया। साथ ही मारपीट व दुर्व्यवहार करने लगे और उसका मायके जाना भी बंद करवा दिया।

किसी तरह उसने फोन कर अपने भाई गौरव कम्बोज को बुलाया और पिता के खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर वह किसी तरह बचकर अपने मायके आ गयी। पीड़िता को अपने ससुरालियों व पति से जान का खतरा भी बना हुआ है। इस पर अदालत ने आरोपित पति की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : 75 ग्राम स्मैक के साथ पकड़े गए तस्कर को नहीं मिली जमानत, बीमा कंपनी को सोंपना पड़ा 15 लाख का चेक

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 25 सितंबर 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश एवं विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट राकेश कुमार सिंह की अदालत ने गत 14 सितंबर को हल्द्वानी पुलिस 75.80 ग्राम स्मैक के गिरफ्तार किए गए आरोपित नरेश पुत्र झम्मन लाल निवासी रामलीला ग्राउंड पीपलसाना, थाना भोजीपुरा जिला बरेली की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अभियोजन की ओर से सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता पूजा साह ने उनसे बरामद स्मैक की मात्रा को अत्यधिक बताते हुए मामले को गंभीर बताया। इस पर न्यायालय ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

बीमा कम्पनी और वादी के बीच हुआ 15 लाख का सुलह-समझौता
नैनीताल। स्थायी लोक अदालत में इफको टोक्यो हल्द्वानी के विरूद्ध दायर वाद में वादी संजीव भल्ला व कंपनी के बीच 15 लाख रुपए का समझौता आपसी सुलह के आधार पर हुआ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में वादी संजीव भल्ला ने स्थायी लोक अदालत में अपना आवेदन पत्र प्रस्तुत कर कहा कि उसके भाई की इफको टोक्यो कंपनी हल्द्वानी से बीमित मोटर साईकल से सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गयी थी। उसके निरंतर अनुरोध करने के बावजूद भी बीमा कम्पनी बीमे की धनराशि देने में टालमटोल कर रही थी। इधर स्थायी लोक अदालत में उसका मामला सुनवाई के लिए रखा गया। सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों के मध्य हुए समझौते के बाद बीमा कंपनी ने 15 लाख रुपये का चेक उसके नाम जारी कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : 7 ग्राम स्मैक के साथ पकड़े गए तस्कर को 3 वर्ष की सजा व जुर्माना

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 23 सितंबर 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट राकेश कुमार सिंह की अदालत ने मो. ताहिर नाम के एक स्मैक तस्कर को तीन वर्ष के कठोर कारावास एवं 10 हजार रुपए के जुर्माने से दंडित किया है।

बृहस्पतिवार को अभियोजन पक्ष की ओर से जिला सहायक शासकीय अधिवक्ता पूजा साह ने अदालत को बताया कि ताहिर पुत्र अय्यूब निवासी मोहल्ला बाजार बहेड़ी जिला बरेली यूपी को 20 फरवरी 2016 को मंगल पड़ाव हल्द्वानी पैर के मौजे के अंदर 7 ग्राम स्मैक के साथ पकड़ा गया था। मामले में 7 गवाहों की पेशी व अन्य सबूतों के आधार पर स्मैक तस्कर को अदालत ने सजा सुनाई।

कार चालक ही हत्या कर कार लूट के आरोपितों को 3 माह बाद भी नहीं मिली जमानत

नैनीताल। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने देहरादून निवासी कार चालक की कार बुक कराकर लाने और उसकी हत्या कर कार लूट ले जाने के दो आरोपितों-तंजील अली पुत्र वाजिद अली निवासी समादार विजय टॉकीज थाना कुतुबसोर सहारनपुर यूपी एवं अजय कुमार पुत्र सुरेंद्र कुमार निवासी हौज खेड़ी कुतुबसोर सहारनपुर की जमानत अर्जी तीन माह बाद भी खारिज कर दी।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने बृहस्पतिवार को आरोपितों की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि उन्होंने 27 जून 2021 को देहरादून निवासी सलीम अहमद की होंडा सिटी कार बुक कराई और सलीम की हत्या कर कार लूट कर फरार हो गए थे। रामनगर के थाना प्रभारी अबुल कलाम ने उन्हें 30 जून को सहारनपुर क्षेत्र से लूटी गई कार के साथ गिरफ्तार किया था। इस आधार पर न्यायालय ने उनकी जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें : दहेज हत्या की आरोपित सास, पति व देवर को नहीं मिली जमानत, पति ने कहा था-मैंने नहीं मेरी मां ने मारा था…

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 17 सितंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने नवविवाहिता की दहेज के लिए हत्या करने के आरोपित पति मनीष कुंवर, देवर प्रकाश व सास हंसी देवी पत्नी हयात कुंवर निवासी हिम्मतपुर चौमवाल, बेरीपड़ाव, लालकुआं का जमानत प्रार्थना पत्र अपराध की गंभीरता को देखते हुए खारिज कर दिया है।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने आरोपितों के जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए तर्क दिया कि 14 अगस्त 2021 को पुष्पा देवी पत्नी प्रेम सिंह निवासी ग्राम खड़कपुर मोटाहल्दू ने लालकुआं कोतवाली में तहरीर दी। पुष्पा के अनुसार नौ जून 2020 को उसकी बेटी दीपा की शादी मनीष कुंवर के साथ की गई थी। शादी में अपनी हैसियत से बढ़कर दान दहेज दिया परंतु ससुराली दहेज से संतुष्ट नहीं थे और शादी के बाद दहेज में और पांच लाख की मांग करने लगे थे। मांग पूरी नहीं होने पर वह दीपा के साथ मारपीट व उत्पीडन करने लगे। कुछ समय बाद दीपा की बेटी हुई तो बेटा नहीं होने के कारण पांच लाख दहेज की मांग करते हुए मारपीट पर उतारू हो गए।

दीपा 13 अगस्त को अपनी नवजात पुत्री को लेकर अपने मायके बहन राधा के पास आयी और बताया कि उसके ससुराल में उक्त लोग दहेज के कारण मारपीट कर रहे हैं। बच्ची को ससुराल वालों के पास छोड़कर वापस ससुराल चली गई। थोड़ी देर बाद मनीष ससुराल आया और उसने कहा कि मैंने नहीं दीपा को मेरी मां ने मारा है। शव विच्छेदन रिपोर्ट में मृतका की मृत्यु दम घुटने के कारण बताई गई। उसके शरीर पर कई चोटें भी पाई गई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बीमा कम्पनी को देना पड़ेगा क्षतिग्रस्त मशीन का 46 लाख रुपये का क्लेम..

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 9 सितंबर 2021। नैनीताल की स्थायी लोक अदालत ने जनोपयोगी मामलों की लगातार सुनवाई करते हुए त्वरित गति से मामलों का निस्तारण करते हुए बृहस्पतिवार को श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड को 46 लाख 52 हजार 500 रुपये की बीमित धनराशि वादी को देने के आदेश दिए हैं। यदि बीमा कम्पनी यह धनराशि एक माह के भीतर अदा न करे तो उसे इस धनराशि पर 9 फीसद का ब्याज भी अदा करना पड़ेगा।

मामले के अनुसार शिकायतकर्ता गुरुप्रीत सिंह चड्डा ने श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कम्पनी से अपने हिताची ऐक्सकावेटर मशीन का बीमा कराया था। मशीन के क्षतिग्रस्त होने पर कंपनी ने उसका बीमा क्लेम भुगतान नहीं किया। इसकी शिकायत चड्ढा ने स्थायी लोक अदालत में की। शिकायतकर्ता के अधिवक्ता पीसी जोशी व विपक्षी बीमा कम्पनी के बीच सुनवाई पूरी होने के बाद स्थायी लोक अदालत ने वाद को गुण-दोष के आधार पर निस्तारण कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : प्रेम प्रसंग में ग्राम प्रधान की हत्या करने वाले और नाबालिग को बालिग दिखाकर शादी पंजीकृत करने व हाईकोर्ट से सुरक्षा प्राप्त करने वालों की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 7 सितंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने नैनीताल जनपद के ग्राम पातली पट्टी अमगड़ी के प्रधान जगदीश सती के हत्यारोपित हंसा दत्त सती पुत्र पूरन चंद्र सती की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि गत 13 जुलाई 2021 को जगदीश सती रात्रि 11 बजे घर से कुछ दूर जख्मी स्थिति में मिले। उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

बताया कि मृतक का गांव की एक लड़की से पिछले 7-8 वर्षों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। लड़की के पिता ने दोनों की शादी कराने का आश्वासन दिया था। किंतु आरोपित ने दो माह पूर्व लड़की की शादी अन्यत्र तय कर दी थी और जगदीश को लड़की से कोई संपर्क न रखने की चेतावनी दी थी। बाद में उसकी हत्या कर उसके बाद शव को छुपाया भी गया था। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

इसके अलावा जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने एक अन्य मामले में कूटरचित फर्जी दस्तावेजों के आधार पर अपनी व अपहृता की उच्च न्यायालय से सुरक्षा प्राप्त करने वाले आरोपित अंकित कुमार पुत्र मदन लाल निवासी मुढ़नाला थाना झबरेड़ा हरिद्वारा का जमानत प्रार्थना पत्र भी खारिज कर दिया। जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि अंकित ने नाबालिग किशोरी का अपहरण कर उससे मंदिर में शादी रचाई और उसके जन्म प्रमाण पत्र व अन्य प्रपत्रों में किशोरी को बालिग दिखाकर रजिस्ट्रार कार्यालय हरिद्वार में अपनी शादी पंजीकृत कराई और बाद में उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर प्राप्त की। इस प्रकार उसके गंभीर कृत्य को देखते हुए अदालत ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : स्पा सेंटर की संचालिका व पुलिस कर्मी पति को को आत्महत्या के लिए उकसाने की आरोपित पत्नी सहित तीन महिलाओं का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र खारिज

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 1 सितंबर 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने काठगोदाम में स्थित जंगल लग्जरी स्पा सेंटर में देह व्यापार कराने की आरोपित संचालक स्वीटी वर्मा पत्नी कृष्ण कुमार शर्मा निवासी डीएलएफ फेस-1 गुड़गांव हरियाणा व जागनाथ कॉलोनी काठगोदाम निवासी निवासी एक अविवाहित युवती का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र सुनवाई के बाद खारिज कर दिया है।

इस मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र का विरोध करते हुए कहा कि दो अगस्त को छापेमारी में इस स्पा सेंटर के एक कक्ष में एक युगल आलिंगन करते हुए आपत्तिजनक वस्तुओं के साथ पकड़े गए। साथ ही बेसमेंट में भी 8 पीड़ित लड़कियां बरामद हुईं और उन्हें स्वीटी शर्मा द्वारा जबरन देह व्यापार कराने की बात कही है। इस आधार पर न्यायालय ने दोनों का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र उन पर लगे आरोपों की गंभीरता को देखते हुए खारिज कर दिया।

इसी तरह एक अन्य मामले में श्री जोशी की अदालत ने गत दिवस हल्द्वानी में आत्महत्या करने वाले पुलिस आरक्षी पुष्कर सिंह की पत्नी राधिका बिष्ट का अग्रिम जमानत प्रार्थना पत्र भी खारिज कर दिया है। राधिका पर मृतक के पिता गोविंद सिंह की ओर से दी गई तहरीर में अपने पति का शादी के बाद से ही शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए उसे आत्महत्या के लिए जिम्मेदार बताया है। डीजीसी शर्मा ने कहा कि मृतक ने सुसाइड नोट में भी अपनी पत्नी को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया था। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 11 साल से भटक रही एक विधवा को स्थायी लोक अदालत के माध्यम से मिला त्वरित न्याय

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 28 अगस्त 2021। स्थायी लोक अदालत के माध्यम से शनिवार को 11 वर्ष से न्याय के लिए भटक रही विधवा महिला को त्वरित न्याय मिला। शिकायतकर्ता ललिता देवी पत्नी स्व. रमेश सिंह फर्त्याल ने भारतीय जीवन बीमा निगम की काठगोदाम जिला नैनीताल शाखा के विरूद्ध एक दिसम्बर 2020 को अपने स्वर्गीय पति का दुर्घटना बीमा हित लाभ भुगतान न दिये जाने पर एक प्रार्थना दिया था। इस पर लोक अदालत ने पीड़िता के अधिवक्ता पीसी जोशी व विपक्षी बीमा कम्पनी के बीच सुलह-समझौता करा लिया है। समझौते के अनुसार जीवन बीमा कंपनी ने पीड़िता को 1.75 लाख रूपये की बीमित धनराशि का चेक तुरंत दिलवाया।

इसके अलावा एक अन्य मामले में बजाज फिन्सर्व मुम्बई के शाखा प्रबंधक व मो. खुर्शीद हुसैन के मध्य समय से पूर्व ही कार्ड ब्लॉक किये जाने के मामले में सुनवाई के दौरान सुलह हो गई। इसके बाद बजाज फिन्सर्व के द्वारा पीड़ित का कार्ड अनब्लॉक कर दिया जायेगा। बताया गया कि इसी प्रकार स्थायी लोक अदालत में लोग जन उपयोगी सेवाओं से सम्बन्धित अपनी बीमा, दूरसंचार, विद्युत, अस्पताल, जल, सफाई, भू-सम्पदा, परिवहन, वित्तीय व बैंकिंग आदि जन उपयोगी सेवाओं से सम्बन्धित मामलों जल्दी निवारण करा सकते हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के मार्बल प्रतिष्ठान में लूट के आरोपित को 6 माह बाद भी नहीं मिली जमानत

डॉ. नवीन जोशी, नवीन समाचार, नैनीताल, 27 अगस्त 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने गत तीन मार्च 2021 को हल्द्वानी के बरेली रोड स्थित श्याम मार्बल नाम के प्रतिष्ठान में तमंचा दिखाकर हुई लूट की घटना के मामले में आरोपित कुलदीप सिंह पुत्र सुरजीत सिंह निवासी ग्राम पाटिया सितारगंज की जमानत अर्जी को 6 माह बाद भी खारिज कर दिया है।

मामले में अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि घटना के बाद 11 मार्च को गिरफ्तार हुए आरोपित के कब्जे से लूटे गए सामान, रुपए व तमंचा बरामद हुए। उनके पास से मिली मोटरसाइकिल भी चोरी की निकली। उसमें फर्जी नंबर प्लेट लगाकर फिर से लूट की योजना बनाई जा रही थी। इस पर न्यायालय ने मामले की गंभीरता को देखते हुए आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : धोखाधड़ी, लूटपाट व हत्या के आरोपितों की जमानत अर्जी खारिज…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 अगस्त 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने धोखाधड़ी के एक आरोपित गौरव गुप्ता पुत्र सुरेश चंद्र गुप्ता निवासी त्रिलोक नगर हल्द्वानी का धारा 468त्र 471, 506 व 120बी के अंतर्गत प्रस्तुत जमानत प्रार्थना पत्र आरोपों की गंभीरता को देखते हुए खारिज कर दिया है।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित के विरुद्ध गत 28 अगस्त को थाना हल्द्वानी में सौम्या दुआ पत्नी राजीव दुआ निवासी गली नंबर 8 रामपुर रोड हल्द्वानी ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसने 26 अगस्त को उसकी सास के साथ मिलकर उसकी सास का मकान फर्जी हस्ताक्षर कर कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर हड़पने के लिए जान-माल के नुकसान की धमकी दी।

वहीं एक अन्य मामले में अदालत ने सुल्तान नगरी गौलापार निवासी लूट के आरोपित मनोज पुत्र मोहन राम व चंदन पुत्र लालू राम तथा सूरज लटवाल व दीपक लटवाल पुत्र गोपाल सिंह निवासी ठोकर लाइन कॉलटैक्स काठगोदाम की धारा 394 व 411 के अंतर्गत दायर जमानत अर्जी को भी खारिज कर दिया। उन पर आरोप है। कि उन्होंने गत 22 जुलाई को गाजियाबाद से इवेंट कराने के लिए आई स्नेहा वर्मा से मारपीट की और उसका मोबाइल, टैबलेट, चालक लाइसंेस व अन्य कागजात तथा नगदी लूटकर ले गए।

इसके अलावा न्यायालय ने गत 30 मई को चंदेश नाम के बाबा की उसकी झोपड़ी में साथ चिलम पीने के बाद रुपए उधार देने से मना करने पर हत्या करने के आरोपित सौरभ चंद्रा उर्फ मनीष पुत्र राजकुमार निवासी वार्ड 1 रामलीला भवन के पास भवानी गंज रामनगर की जमानत अर्जी भी खारिज कर दी है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : विवाहिता को आत्महत्या के लिए उकसाने वाले व जानलेवा हमला करने के आरोपितों को नहीं मिली जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 अगस्त 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने ससुरालियों के उत्पीड़न से तंग आकर, ससुराल में आत्महत्या करने वाली विवाहिता मीना देवी निवासी ग्राम रामपुर पाटकोट कालाढुंगी के हत्यारोपित देवर प्रमोद कुमार पुत्र बल्लभ राम की जमानत याचिका खारिज कर दी है। मीना ने शादी के 10-12 वर्ष बाद ससुराल में 31 मई 2021 को जहर पीकर आत्महत्या कर ली थी।

इसके अलावा एक अन्य मामले में जानलेवा हमला करने के आरोपित अशोक कुमार पुत्र चंदन निवासी टिनशेड जवाहर ज्योति दमुवाढूंगा हल्द्वानी का जमानत प्रार्थना पत्र भी खारिज कर दिया है। जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित पर 18 जुलाई 2021 को मोहन राम पुत्र स्वर्गीय प्रेम राम पर जानलेवा हमला करने का आरोप है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गौकशी के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 अगस्त 2021। द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश एवं प्रथम जिला एवं सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह की अदालत ने गौवध करने वाले तस्कर आफताब उर्फ मुन्ना पुत्र अवनान हुसैन निवासी नई बस्ती ताज मस्जिद के पास वनभूलपुरा हल्द्वानी का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया हैं

मामले में अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि गत 31 मई को गौरक्षण स्क्वॉड के उप निरीक्षक चंद्र सिंह ने गौवंशीय पशु के मांस के साथ दबोचा था। आरोपितों ने गाय काटने की बात भी स्वीकारी थी। यह भी बताया कि आरोपित के विरुद्ध थाना वनभूलपुरा में चोरी से संबंधित एक और गौकशी के तीन मामले चल रहे हैं। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के चरस तस्कर की जमानत अर्जी पांच माह बाद भी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 अगस्त 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश-विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट राकेश कुमार सिंह की अदालत ने मंगलवार को चरस की तस्करी करने वाले आरोपित योगेश नेगी पुत्र शिव सिंह नेगी निवासी महर्षि स्कूल छड़ायल सुयाल हल्द्वानी की पांच माह बाद भी जमानत अर्जी खारिज कर दी है।
मामले में अभियोजन की ओर से सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता पूजा साह ने न्यायालय को बताया कि योगेश को गत 25 मार्च को धारानौला अल्मोड़ा निवासी गिरीश लोहनी को एक किलो 110 ग्राम चरस के साथ पकड़ा गया था। उसने बताया कि वह यह चरस योगेश से खरीद कर लाया था। दोनों के बीच मोबाइल पर काफी बात होने की भी पुष्टि हुई। इस आधार पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : गैंग्स्टर एक्ट में पांच लोगों को सजा सुनाई…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 14 अगस्त 2021। विशेष न्यायाधीश उत्तर प्रदेश गिरोहबंद और समाज विरोधी क्रियाकलाप निवारण-1986 यानी गैंग्स्टर एक्ट प्रीतू शर्मा की अदालत ने काशीपुर-रामनगर क्षेत्र के पांच लोगों को सजा सुना दी है। न्यायालय ने दोष सिद्ध अभियुक्तों, मोहल्ला भोगपुर काशीपुर निवासी मोहित पुत्र स्वर्गीय ओम प्रकाश, महेश पुत्र अमर सिंह व अंकित पुत्र दानवीर सिंह तथा सूरज पुत्र अमर सिंह निवासी ग्राम पीपलसाना थाना रामनगर को तीन-तीन वर्ष के सश्रम कारावास एवं पांच-पांच हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया गया है। अर्थदंड न अदा करने पर सभी को दो-दो माह का अतिरिक्त साधारण कारावास भी भुगतना होगा। अलबत्ता उनके द्वारा अब तक जेल में बिताई गई सजा भी इस सजा में समायोजित की जाएगी।

इसके अलावा दोष सिद्ध अभियुक्त सुनील जाटव पुत्र नरेश जाटव निवसी ग्राम जुड़का नंबर 2 थाना काशीपुर को इस मामले में जेल में व्यतीत की गई अवधि की सजा एवं पांच हजार रुपए अर्थदंड से दंडित किया गया है। दंड न चुकाने पर दो माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। इनमें से जेल में बंद सुनील व महेश को 50 हजार रुपए का व्यक्तिगत बंधपत्र प्रस्तुत करने को भी कहा गया है।

उल्लेखनीय है कि इस मामले में रामनगर के प्रभारी निरीक्षक विक्रम राठौर ने 23 मार्च 2017 को मौखिक रूप से शिकायत दर्ज कराई थी कि इन लोगों के द्वारा इन लोगों के द्वारा एक अपराधी गैंग का संचालन किया जा रहा है। इस गैंग ने असलहों से लेस होकर डकैती जैसे जघन्य अपराध को लगातार अंजाम दिया। इससे क्षेत्रीय जनता में भय व्याप्त है। इस आधार पर न्यायालय से आरोपितों को सजा सुनाई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : संगठित रूप से चरस की तस्करी कराने वाले की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अगस्त 2021। जनपद के द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट राकेश कुमार सिंह की अदालत ने संगठित रूप से चरस की तस्करी कराने वाले आरोपित पूरन सिंह लमगड़िया का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।

मामले में अभियोजन की ओर से सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता पूजा साह ने अदालत को बताया कि गत 25 फरवरी को सुमित व आनंद नाम के दो लोग डेढ़-डेढ़ किलोग्राम चरस के साथ पकड़े गए थे। उन्होंने यह चरस पूरन सिंह लमगड़िया पुत्र राम सिंह लमगड़िया निवासी ग्राम कत्या पोस्ट धारी से खरीदकर लाने की जानकारी दी। साथ ही उनके बीच कई बार फोन पर बात होने की भी पुष्टि हुई। लिहाजा न्यायालय ने इस तरह संगठित तौर पर चरस की तस्करी करने के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : साथियों से रुपए लेकर युवती से सामूहिक बलात्कार करवाना पड़ा भारी…

-अदालत ने खारिज की जमानत अर्जी
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 9 अगस्त 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने गैंग रेप के आरोपित सुरजीत उर्फ बिहारी पुत्र कल्याण सिंह निवासी वार्ड नंबर 2 गांधी नगर लालकुआं का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित के जमानत प्रार्थना पत्र का अभियोजन पक्ष की ओर से विरोध करते हुए अदालत को बताया कि गत 9 जून को आरोपित पीड़िता को दोपहर में वाटर पार्क स्विमिंग पूल में सफाई करने के बहाने 500 रुपए में तय करके ले गया और पार्क के अंदर राकेश बोरा व राजेंद्र जोशी उर्फ फौजी ने उससे सामूहिक बलात्कार किया। उसने चिल्लाकर मदद लेने की कोशिश की तो उसका विडियो वायरल करने की धमकी दी।

बाद में आरोपित ने पीड़िता को रुपए ले-दे कर मामला रफा-दफा करने व पुलिस में रिपोर्ट दर्ज न करने को धमकी दी। पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट में बलात्कार एवं सीसीटीवी में आरोपित द्वारा उसे पार्क में ले जाने की पुष्टि हुई। यह भी कहा कि आरोपित ने अपने साथियों से रुपए लेकर पीड़िता से सामूहिक बलात्कार करवाया। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जबरन शारीरिक संबंध बनाए, कुरान की कसम खाकर शादी का वादा करने के बावजूद दूसरी से निकाह करने चला

-जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने आरोपित जमानत अर्जी की खारिज
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 4 अगस्त 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने दो बार, यहां तक कि मासिक धर्म के दौरान भी युवती से जबरन शारीरिक संबंध बनाने और कुरान की कसम खाकर शादी का वादा करने के बावजूद दूसरी युवती से निकाह करने की तैयारी कर रहे आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

बुधवार को आरोपित शब्बू पुत्र जाउद्दीन कुरैशी निवासी इंद्रा नगर मोहम्मदी मस्जिद हल्द्वानी की जमानत अर्जी का जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को पीड़िता की तहरीर के आधार पर विरोध किया। बताया कि दो वर्ष पूर्व एक शादी में मुलाकात होने के बाद आरोपित पीड़िता का पीछा करने लगा और किसी से उसका मोबाइल नंबर लेकर गत 5 जून को उसके घर में घुसा और उसे घर में अकेली पाकर उसका मुंह बंद कर उससे शारीरिक संबंध बनाए। वह रोने लगी तो कुरान की कसम खाकर शादी करने का वादा किया और पुनः 30 जून को दूसरी बार शारीरिक संबंध बनाए।

इस दौरान ही तीन जुलाई को पीड़िता को पता चला कि वह कहीं और शादी कर रहा है तो उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। आरोपित ने गिरफ्तारी से बचने के लिए अग्रिम जमानत का प्रार्थना पत्र भी लगाया, परंतु प्रार्थना पत्र खारिज होने, जांच में सहयोग न करने, विवेचना में बलात्कार की पुष्टि होने तथा 13 जुलाई को गैर जमानती वारंट जारी के बाद उसे गिरफ्तार किया गया। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसिड अटैक के मामले में पहली सजा, पत्नी से बोलने पर शक में चेहरे पर डाला था तेजाब

-आरोपित को 10 वर्ष के सश्रम कारावास की सजा
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 जुलाई 2021। द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह की अदालत ने मोहन राम नाम के व्यक्ति के चेहरे पर तेजाब डालने के आरोपित को 10 वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। जनपद में किसी अदालत द्वारा तेजाब से हमला करने वाले आरोपित को सजा सुनाने का यह पहला मामला बताया जा रहा है।

अभियोजन की ओर से सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता पूजा साह ने 10 गवाह पेश करते हुए अदालत को बताया कि अभियुक्त चंद्रशेखर पुत्र विशन राम निवासी जंगलियागांव तोक सिमाला थाना भीमताल जिला नैनीताल ने गत 21 जनवरी 2019 की शाम गांव के ही मोहन राम के कमरे के अंदर घुसकर उसके चेहरे पर तेजाब फेंका, और दरवाजा बंद कर भाग गया। ऐसा करने से मोहन राम की बांयी आंख की रोशनी चली गई।

वहीं जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि इस घटना के बाद खुलासा हुआ कि अभियुक्त को अपनी पत्नी विमला देवी के मोहन राम से बोलने को लेकर उसके चरित्र पर शक था। इस कारण वह इस घटना से पहले अपनी पत्नी और 12 व 15 वर्षीय दो नाबालिग बेटियों उमा व रेनू को पहाड़ से धक्का देकर मार आया था। वह मामला अलग से चल रहा है। इसलिए उसने मोहन राम के चेहरे पर भी तेजाब फेंका। इधर मंगलवार को न्यायालय ने इस मामले में सजा सुनाते हुए अपने निर्णय में इस बात का भी उल्लेख कि तेजाब से संबंधित मामला होने के कारण भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 357क के तहत राज्य के गृह विभाग को पीड़ित को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से क्षतिपूर्ति की धनराशि भी उपलब्ध कराने को कहा है। उल्लेखनीय है कि आरोपित को दो वर्ष से जमानत नहीं मिल पाई है, और वह पकड़े जाने के बाद से जेल में ही बंद है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दहेज के लिए पत्नी के साथ दुधमुंहे बच्चे को जहर देने वाले को उम्र कैद की सजा

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 जुलाई 2021। प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने दहेज की मांग पर पत्नी और बेटे की हत्या का आरोप सिद्ध होने पर शनिवार को नैनीताल जिले के पतलिया गांव निवासी आरोपित केशव दत्त मेलकानी पुत्र पान देव निवासी पतलिया जिला नैनीताल को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत आजीवन कारावास और दस हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुना दी है। अर्थदंड अदा न करने पर आरोपित को एक साल का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। साथ ही धारा 498 ए में तीन साल का साधारण कारावास और पांच हजार रुपये अर्थदंड तथा दहेज प्रतिषेध अधिनियम की धारा 4 में दो वर्ष के साधारण कारावास और दो हजार रुपये अर्थदंड व अर्थदंड न देने पर एक माह के अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई है। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी और दोष सिद्ध के द्वारा कारागार में व्यतीत अवधि उक्त सजा में समायोजित की जाएगी।

इस मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन की ओर से 9 गवाह पेश करते हुए इस तथ्य को साबित किया कि शादी के बाद से ही अभियुक्त मृतका को एक लाख रुपए और लाने की मांग करते हुए आए दिन मारपीट करता था। यह धमकी भी देता था कि वह दूसरी जगह शादी करके अच्छा दहेज लेगा। घटना से पहले दो बार उसने ग्राम प्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्य आदि के सामने पत्नी से दहेज की मांग करने का जुर्म स्वीकार किया था। बाद में उसके पत्नी व दुधमुंहे बेटे को 19 दिसंबर 2015 को जहर दे दिया था, जिससे उनकी मौत हो गई। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : इंटेलीजेंस ब्यूरो में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों ठगने वाले व छात्रवृत्ति घोटाले में संविदा कर्मी की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने बृहस्पतिवार को नौकरी दिलाने का झांसा देकर लाखों रुपए हड़पने के आरोपी उज्जवल गोस्वामी पुत्र मंजू देवी निवासी कैलाश गली खरखड़ी हरिद्वार की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि आरोपित के विरुद्ध 28 जनवरी 2021 को थाना रामनगर में केशव विश्वकर्मा पुत्र राम स्वरूप निवासी ग्राम गांधीनगर मालधनचौड़ी रामनगर ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसने खुद को आईबी-एसएसएफ में तैनात बताते हुए इंटेलीजेंस ब्यूरो में सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 6 लाख 33 हजार 900 रुपए हड़प लिए। यह रुपए उसने अपनी मां, भाई व दोस्तों के बैंक खातों में उन्हें बिना बताए डलवाए। इसकी जांच में पुष्टि हो चुकी है। उसने पीड़ित को नौकरी के जो प्रपत्र दिए वह ब भी जांच में फर्जी निकले। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

छात्रवृत्ति घोटाले में संविदा कर्मी को नहीं मिली जमानत
नैनीताल। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम प्रीतू शर्मा की अदालत ने राज्य के बहुचर्चित एससी-एसटी छात्रवृत्ति घोटाले में समाज कल्याण अधिकारी ऊधमसिंह नगर कार्यालय के तत्कालीन संविदा पर कार्यरत पटल सहायक का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।

अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि आरोपित राजेंद्र कुमार पुत्र निर्मल पाल निवासी वार्ड नंबर 7 निकट छोटी मस्जिद किच्छा की 6 छात्रों को फर्जी तरीके से नेशनल एजुकेशन कॉलेज मध्य प्रदेश में बीएड में प्रवेश दिखाकर 73,450 रुपए छात्रवृत्ति का गबन करने में दलालों से कमीशन प्राप्त करने में सक्रिय भूमिका रही है। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पत्नी व व्यवसायी के हत्यारोपितों की जमानत अर्जी खारिज…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत 15 जून की रात्रि अपनी पत्नी बसंती उर्फ बीना को कमरे में बंद कर लात-घूसों से पीटकर जान से मारने वाले पति मदन गिरि पुत्र धन गिरि निवासी ग्राम रैना द्वितीय पोस्ट ताड़ीखेत रानीखेत जिला अल्मोड़ा की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

इसके अलावा अदालत ने हल्द्वानी में गत 27 मार्च को ऑटो पार्ट्स विक्रेता भगीरथ सुयाल नाम के दुकानदार की कलावती कॉलोनी चौराहा पर हत्या करने वाले पवन पाल पुत्र संजय निवासी मल्ला गोरखपुर विकास पुर हल्द्वानी का जमानत प्रार्थना पत्र भी खारिज कर दिया है। दोनों मामलों में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी की। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 200 रुपए के लिए नैनीताल में हुई युवक की हत्या के आरोपितों को नहीं मिली जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत 14 अप्रैल को जिला मुख्यालय में 200 रुपए के लिए हुई एक युवक की हत्या के मामले में तीन माह से जेल में बंद आरोपित इमरान पुत्र फारुख व आरिफ उर्फ आशु पुत्र सहाबुद्दीन निवासी हरिनगर तल्लीताल नैनीताल का जमानत प्रार्थना पत्र भी खारिज कर दिया है। उल्लेखनीय है कि न्यायालय ने इससे पहले गत 14 जुलाई को इस मामले की एक अन्य आरोपित महिला शायरा उर्फ बबली पत्नी फारूख को भी जमानत नहीं दी थी।

इस मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत याचिका का विरोध करते हुए बताया कि मामले में नवाब नाम का युवक वैल्डिंग करने के ऐवज में 200 रुपए लेने शाहिद उर्फ मौजम के पास गया था, लेकिन आरोपितों ने उसकी और उसे बचाने आए सामीन की पिटाई कर दी। इस घटना में सामीन की मौत हो गई थी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: छात्रवृत्ति घोटाले में पटल सहायक की जमानत याचिका खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 जुलाई 2021। प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने प्रदेश के बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले के एक आरोपित राजेंद्र कुमार पुत्र निर्मल पाल निवासी छोटी मस्जिद किच्छा यूएस नगर की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। आरोपित जिला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर के कार्यालय का पटल सहायक-ओबीसी है।

आरोपित की जमानत अर्जी का अभियोजन पक्ष की ओर से विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि उत्तराखंड उच्च न्यायालय में दायर गोविंद बल्लभ जोशी की याचिका पर जारी आदेशों के क्रम में एससी एसटी-ओबीसी के 43 छात्र-छात्राओं को मारवाड़ यूनिवर्सिटी में बीएड पाठ्यक्रम में गलत तरीके से अध्ययनरत दिखाकर उनके नाम की 23 लाख 21 हजार 750 रुपए की छात्रवृत्ति हड़पने के मामले में कार्रवाई की गई थी, जिसमें तत्कालीन जिला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर व हरीश नाथ गोस्वामी तथा पटल सहायक-ओबीसी राजेंद्र कुमार की षडयंत्र संलिप्तता की पुष्टि हुई है। शर्मा ने कहा क आरोपित के खिलाफ 41 अन्य अपराध भी पंजीकृत हैं एवं उसका संबंधित धाराओं में आपराधिक इतिहास भी है। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित को जमानत नहीं दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : 7 लाख से अधिक के गबन के आरोपित सचिव को राहत नहीं, आत्मसमर्पण करने के आदेश..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जुलाई 2021। प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने वर्ष 1991 से 1996 के बीच स्थानीय लोगों के साथ मिलकर सात लाख 33 हजार 623 रुपए की धोखाधड़ी करने के आरोपित साधन सहकारी समिति सुयालबाड़ी के सचिव मोहन सिंह बिष्ट को कोई राहत नहीं दी। अदालत ने आरोपित पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की निचली अदालत द्वारा 19 दिंसबंर 2013 को भारतीय दंड संहिता की धारा 409, 420, 467, 468 व 471 के तहत किए गए दोष सिद्ध की पुष्टि कर दी है। अलबत्ता उसे धारा 120बी व 409 में दोषमुक्त किया है। साथ ही आरोपित दो अगस्त तक अवर न्यायालय के समक्ष आत्मसमर्पण करने के आदेश दिए। उल्लेखनीय है कि आरोपित ने उसे मिली सजा को ऊपरी अदालत में चुनौती दी थी।

जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की अपील का विरोध करते हुए कहा कि उसने सहकारी समिति की धनराशि का क्षेत्रीय काश्तकारों से मिलकर व्यक्तिगत उपयोग किया। उसके खिलाफ निचली अदालत में पुख्ता सबूत पेश हुए हैं, जिस पर उसे सही सजा मिली है। उसकी अपील आधारहीन है। उल्लेखनीय है कि आरोपित को निचली अदालत विभिन्न धाराओं में दो व तीन वर्ष की कैद तथा 10-10 हजार के जुर्माने की सजा सुना चुकी है। उसे 26 सितंबर 1996 को निलंबित भी कर दिया गया था।

आरपीएफ आरक्षी को पीटने वाले आरोपितों को नहीं मिली जमानत
नैनीताल। प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत 29 मई को टनकपुर रेलवे स्टेशन पर लॉक डाउन के दौरान तैनात आरपीएफ के आरक्षी नीरज शर्मा पुत्र स्वर्गीय सतपाल शर्मा निवासी स्वान गोपीपुर देहरा, कांगड़ा हिमांचल प्रदेश पर जानलेवा हमला करने के आरोपित वार्ड नंबर 9 टनकपुर निवासी अमन कश्यप पुत्र मिश्री लाल व सुनील कश्यप पुत्र पुत्र राम बहादुर की जमानत अर्जी खारिज कर दी। शुक्रवार को अदालत में आरोपितों की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि पीड़ित आरक्षी ने चार युवकों को रेलवे यार्ड में संदिग्ध तरीके से घूमते हुए टोका था, इस पर उन्होंने अपनी ड्यूटी कर रहे आरक्षी को सिर पर वार कर गंभीर चोट पहुंचाई। इनमें से दो को उसने पकड़ लिया था, जबकि दो बाद में गिरफ्तार हुए।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में 200 रुपए के लिए हुई युवक की हत्या के मामले आरोपित महिला को 3 माह बाद भी नहीं मिली जमानत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत 14 अप्रैल को जिला मुख्यालय में 200 रुपए के लिए हुई हत्या के मामले में तीन माह से जेल में बंद महिला शायरा उर्फ बबली पत्नी फारूख निवासी हरिनगर का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।

इस मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत याचिका का विरोध करते हुए बताया कि मामले में नवाब नाम का युवक वैल्डिंग करने के ऐवज में 200 रुपए लेने शाहिद उर्फ मौजम के पास गया था, लेकिन उसकी और उसे बचाने आए सामीन की पिटाई कर दी गई। इस घटना में सामीन की मौत हो गई थी। यह भी बताया कि आरोपित आपराधिक प्रवृत्ति की महिला है, उसके खिलाफ थाना तल्लीताल में पहले से दो आपराधिक मामले दर्ज हैं। इस पर न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : नाबालिग के अपहरणकर्ता को संरक्षण देने के आरोपित फूफा की जमानत अर्जी खारिज..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 13 जुलाई 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत मई माह में हुए जनपद के नाथूपुर छोई निवासी एक नाबालिग के अपहरण के मामले में उसके अपहरणकर्ता डम्पर चालक नरेश को संरक्षण देने के आरोपी फूफा भगवान पुत्र मेवा राम निवासी ग्राम नया गांव थाना सहजवान की जमानत अर्जी खारिज कर दी। अभियोजन की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि जांच में उसका मोबाइल नंबर सामने आया था। उसने नाबालिग के अपहरणकर्ता से 50 से अधिक बार बात की थी। फोन नंबर की लोकेशन के आधार पर उसे पकड़ा गया। नाबालिग और उसका अपहरणकर्ता आरोपित के घर से ही बरामद हुए थे। उसने यह बात छुपाई भी। इस आधार पर न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : 22 वर्षीय मंदबुद्धि युवती करती थी घर में काम, गृहस्वामी ने कर दिया अपना मुंह काला, पिता भिक्षावृत्ति से करते हैं गुजारा…

-अदालत ने की दुष्कर्मी की जमानत अर्जी खारिज
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जून 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने दूसरों के घरों में काम कर गुजारा करने वाली तथा मंदबुद्धि 22 वर्षीय युवती से दुष्कर्म करने के आरोपित यशपाल आर्या पुत्र मोहन आर्या निवासी राजपुरा नई बस्ती वार्ड नंबर 2 हल्द्वानी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि इस मामले में पीड़िता के राजपुरा निवासी पिता ने थाना गत 4 सितंबर 2020 को रिपोर्ट दर्ज कराते हुए कहा था कि उसका जीवन भिक्षावृत्ति से चलता है, जबकि मंदबुद्धि बेटी इंदु पत्नी यशपाल के घर पर घरेलू कार्य करने जाती है, पता चला है कि वह 8 माह की गर्भवती है। पीड़िता ने भी इशारों से कूड़े की गाड़ी चलाने वाले यशपाल द्वारा उसके साथ दुष्कर्म किए जाने के आरोपों की पुष्टि की। नवजात बच्चे के डीएनए परीक्षण में बच्चे का डीएनए पीड़िता व आरोपित से मिलान हो चुका है। इस आधार पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : आर्थिक रूप से कमजोर बंदियों की पैरवी करे विधिक सेवा प्राधिकरण: जोशी

प्राधिकरण के अध्यक्ष ने ली ‘अंडर ट्रायल रिव्यू कमेटी’ व प्राधिकरण की मासिक बैठक
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 जून 2021। उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशों के अनुपालन में कोविड-19 की दूसरी लहर को देखते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष, जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेन्द्र जोशी की अध्यक्षता में ‘अंडर ट्रायल रिव्यू कमेटी’ की शुक्रवार को वर्चुवल मोड में बैठक आयोजित की गई। बैठक में श्री जोशी द्वारा आर्थिक स्थिति सही ना होने के कारण जमानत मिलने के बावजूद जमानत की धनराशि जमा करने में असमर्थ बंदियों जमानत की धनराशि कम कराने के लिए पैनल अधिवक्ताओं द्वारा संबंधित न्यायालयों में आवश्यक पैरवी कराने तथा शमनीय मामलों में निरुद्ध बंदियों के मामलों को लोक अदालत में निस्तारित कराने के लिए सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को निर्देशित किया। साथ ही बीमार कैदियों को आवश्यक उपचार उपलब्ध कराने के लिए जिला कारागर नैनीताल व उप कारागार हल्द्वानी के अधीक्षकों को निर्देशित किया। इसके अतिरिक्त श्री जोशी ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल की मासिक बैठक भी आयोजित करते हुए प्रत्येक ग्राम पंचायत की कोविड मॉनेटरिंग कमेटी हेतु एक पीएलवी को नामित करने के लिए प्रशासन को निर्देशित किया। बैठक में डीएम धीराज गर्ब्याल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शनी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एमएम पांडे, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव इमरान मौहम्मद खान, जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील शर्मा व महेश सुयाल, तथा जिला बार अध्यक्ष नीरज साह ने प्रतिभाग किया।

ऑनलाइन धोखाधड़ी के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज
नैनीताल। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश, प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत नौ फरवरी को आईआरबी प्रथम बैलपड़ाव में कार्यरत शिशुपाल सिंह के बैंक खाते से 24 हजार रुपए की ऑनलाइन धोखाधड़ी करने के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से आरोपित शिवा उर्फ सागर पुत्र कृष्ण कुमार निवासी रामा पार्क द्वारका नई दिल्ली की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए बताया कि सर्विलांस की मदद से पता चला कि 9 फरवरी को पीड़ित के खाते की धनराशि आरोपित के खाते में जमा हुई। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : तमंचे के बल पर लूट ली थी नैनीताल के लिए बुक कराई कार, जिला न्यायालय ने नहीं दिखाई कोई मुरौबत

डॉ. नवीन जोशी / नवीन समाचार, नैनीताल, 17 जून 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने गत 24 अप्रैल 2021 को टैक्सी चालक से तमंचे के बल पर उसकी कार व नगदी लूटने वाले आरोपित रंजीत सिंह पुत्र राम कुमार निवासी मानकपुर बजरिया टांडा जिला रामपुर यूपी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता-फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि 24 अप्रैल को आरोपित रंजीत व उसके चार अन्य साथियों-सोनू पुत्र प्रेमपाल, टेक चंद्र पुत्र हेतु, अचिन अरविंद पुत्र हरपाल आदि ने टैक्सी चालक नारायण सिंह पुत्र बहादुर सिंह निवासी बसान पट्टी पाटी चंपावत की कार हरिद्वार से नैनीताल के लिए बुक कराने के दौरान कालाढुंगी के पास जंगल में, उसे मार पीट कर व तमंचे के दम पर उसकी अर्टिको कार संख्या यूके08टीए-7527 लूट ली थी। 25 अप्रैल को कालाढुंगी पुलिस ने शिकायत दर्ज करने के बाद पांचों आरोपितों को हल्द्वानी के होटल अलंकार के दो कक्षों से गिरफ्तार किया था। उनके कब्जे से लूटी गई कार, नगदी व गाड़ी की चाभी भी बरामद हुई थी। इस आधार पर न्यायालय ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले में बैंक प्रबंधक की जमानत अर्जी और पूर्व जिला समाज कल्याण अधिकारी की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जून 2021। प्रभारी विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण-अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश-प्रथम की अदालत ने प्रदेश के बहुचर्चित दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले में आरोपित हरि प्रकाश अग्रवाल पुत्र स्वर्गीय निरंजन लाल अग्रवाल निवासी 12 शांति विहार कॉलोनी मेरठ रोड हापुण की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित जिला कोऑपरेटिव बैंक की हापुड़ शाखा का प्रबंधक था। उसके द्वारा पहले छात्रों की उपस्थिति एवं उनके हस्ताक्षरों का मिलान किए बिना विवादित मोनाड यूनिवर्सिटी के कवरिंग पत्र पर 28 छात्रों के खाते अपने बैंक में खोले और फिर जिला समाज कल्याण नैनीताल से आए 78 हजार रुपए के चेकों को मिलीभगत कर फर्जी हस्ताक्षरों से मोनाड यूनिवर्सिटी के खातों में हस्तांतरित कर दिया। इस प्रकार उसे भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 420, 466, 467, 468, 471 व 120 बी के तहत मुकदमा पंजीकृत कर गिरफ्तार किया गया है। इस दलील पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

छात्रवृत्ति घोटाले के आरोपित जिला समाज कल्याण अधिकारी की अग्रिम जमानत अर्जी भी खारिज
नैनीताल। प्रभारी विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण-अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश की ने इसी घोटाले की जांच में प्रकाश में आए एक वांछित आरोपित, तत्कालीन जिला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर की गिरफ्तारी से बचने के लिए लगाई गई अग्रिम जमानत अर्जी को खारिज कर दिया हैं। अग्रिम जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित के विरुद्ध काशीपुर, बाजपुर, कुंडा, खटीमा, केलाखेड़ा, जसपुर आदि में कई मामलों में आरोप पाये जाने के बाद भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 420, 466, 467, 468, 471 व 120 बी के तहत मुकदमा पंजीकृत किए गए हैं।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जून 2021। प्रभारी विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण-अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश-प्रथम की अदालत ने प्रदेश के बहुचर्चित दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले में आरोपित हरि प्रकाश अग्रवाल पुत्र स्वर्गीय निरंजन लाल अग्रवाल निवासी 12 शांति विहार कॉलोनी मेरठ रोड हापुण की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित जिला कोऑपरेटिव बैंक की हापुड़ शाखा का प्रबंधक था। उसके द्वारा पहले छात्रों की उपस्थिति एवं उनके हस्ताक्षरों का मिलान किए बिना विवादित मोनाड यूनिवर्सिटी के कवरिंग पत्र पर 28 छात्रों के खाते अपने बैंक में खोले और फिर जिला समाज कल्याण नैनीताल से आए 78 हजार रुपए के चेकों को मिलीभगत कर फर्जी हस्ताक्षरों से मोनाड यूनिवर्सिटी के खातों में हस्तांतरित कर दिया। इस प्रकार उसे भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 420, 466, 467, 468, 471 व 120 बी के तहत मुकदमा पंजीकृत कर गिरफ्तार किया गया है। इस दलील पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

छात्रवृत्ति घोटाले के आरोपित जिला समाज कल्याण अधिकारी की अग्रिम जमानत अर्जी भी खारिज
नैनीताल। प्रभारी विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण-अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश की ने इसी घोटाले की जांच में प्रकाश में आए एक वांछित आरोपित, तत्कालीन जिला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर की गिरफ्तारी से बचने के लिए लगाई गई अग्रिम जमानत अर्जी को खारिज कर दिया हैं। अग्रिम जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि आरोपित के विरुद्ध काशीपुर, बाजपुर, कुंडा, खटीमा, केलाखेड़ा, जसपुर आदि में कई मामलों में आरोप पाये जाने के बाद भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 420, 466, 467, 468, 471 व 120 बी के तहत मुकदमा पंजीकृत किए गए हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : करोड़ों रुपए की छात्रवृत्ति घोटाले में समाज कल्याण विभाग के पटल सहायक की जमानत अर्जी खारिज…

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जून 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश, प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने प्रदेश के बहुचर्चित समाज कल्याण विभाग की करोड़ों रुपए की छात्रवृत्ति के घोटाले में जिला समाज कल्याण अधिकारी के कार्यालय में तैनात तत्कालीन पटल सहायक मोहन गिरि पुत्र अमर गिरि निवासी ग्राम भेंटी शांत बाजार जिला चंपावत की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि आरोपित पर तत्कालीन जिला समाज कल्याण अधिकारी जगमोहन कफोला के साथ 26 छात्रों के नाम पर 20.63 लाख रुपए से अधिक की धनराशि छात्रों के जाति, आय व शैक्षिक प्रमाण पत्र भौतिक सत्यापन किए बिना जारी करने का आरोप है। जबकि उन पर यह प्रपत्र जांच कर ही चेक जारी करने का दायित्व था। यह चेक डिस्पैच रजिस्टर में अंकित किए बिना मैमो के रूप में आरोपित मोनाड यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधि अंकित अग्रवाल के द्वारा जिला सहकारी बैंक हापुड को भेजे गए। इस आधार पर अदालत ने आरोपित की जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : दहेज के लिए प्रताणित करने वाले सास-ससुर की जमानत अर्जी खारिज…

-मृतका का दो वर्ष पूर्व हुआ था विवाह, सास-ससुर 10 लाख लाने की मांग पर कर रहे थे प्रताणित, जहर खाने से हुई थी मौत
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 14 जून 2021। जनपद की प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश-प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश प्रीतू शर्मा की अदालत ने गत 14 मई को हल्द्वानी में रिचु नाम की विवाहिता की मौत के मामले में दहेज के लिए हत्या करने के आरोपित उसके ससुर भगवान सिंह पुत्र दलीप सिंह व सास मोहनी देवी निवासी इंद्रपुरी गली नंबर 1 तल्ली हल्द्वानी की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।
मामले में आरोपितों की जमानत अर्जी का अभियोजन पक्ष की ओर से विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि मृतका रिचु की शादी आरोपितों के पुत्र कृपाल सिंह के साथ एक मई 2018 को यानी करीब दो वर्ष पूर्व ही हुई थी। आरोपित रिचु को 10 लाख रुपए लाने की मांग करते हुए प्रताड़ित कर रहे थे। वह बेटे से बहु को तलाक देने को भी कहते थे। रिचु ने पुत्री को जन्म दिया तो उसके साथ भी सही व्यवहार नहीं किया, जिस कारण बच्ची की मौत हो गई। रिचु ने मौत से 10 दिन पहले भी मायके वालों को उत्पीड़न व जान से मारने की धमकी देने की शिकायत की थी। फलस्वरूप 13 मई को उसके द्वारा जहर खाने के कारण 14 मई को उसकी अस्पताल में मौत हो गई थी। इन दलीलों पर अदालत ने आरोपितों को जमानत नहीं दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : अफीम व चरस के दो तस्करों की जमानत अर्जी खारिज..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 जून 2021। विशेष न्यायाधीश एनडीपीएस एक्ट-द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार सिंह की अदालत ने 800 ग्राम अफीम के साथ पकड़े गए आरोपित मनदीप पुत्र जसपाल निवासी लक्ष्मण सिंह आजाद नगर सोनेरा किच्छा की जमानत याचिका खारिज कर दी है। उसे हरप्रीत सिंह एवं मनप्रीत के साथ गत तीन जून को रामनगर पुलिस ने पीरूमदारा रामनगर के पास कार से अफीम ले जाते हुए पकड़ा था।
वहीं एक अन्य मामले में इसी अदालत ने चरस की तस्करी में शामिल पाए गए अमन सागर उर्फ प्रदीप सागर पुत्र पूरन चंद्र निवासी पाडली लामाचौड़ की जमानत याचिका भी खारिज कर दी। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से जमानत अर्जी का विरोध करते हुए एडीजी-क्राइम पूजा साह ने न्यायालय को बताया कि गत 4 जून को हल्द्वानी की मुखानी पुलिस द्वारा पाडली लामाचौड़ निवासी चंद्रकिरण को 60 ग्राम व धर्में को 540 ग्राम चरस के साथ पकड़ा था। दोनों आरोपियों ने इस मामले में अमन की संलिप्तता बताई थी, साथ ही पूर्व में भी उसकी ऐसे मामलों में संलिप्तता एवं कई गवाहों के बयानों के आधार पर अमर को गिरफ्तार किया गया था। इस आधार पर न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : व्यवसायी के हत्यारोपित की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 08 जून 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने हल्द्वानी में गत 27 मार्च को हुई कलावती कॉलोनी के पास स्थित ऑटो स्पेयर पार्ट की दुकान के स्वामी भगीरथ सुयाल पुत्र त्रिलोचन सुयाल नाम के व्यवसायी के हत्यारोपी राहुल धनेला पुत्र सुरेंद्र धनेला का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर दिया है।
मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए न्यायालय को बताया कि आरोपित राहुल धनेला निवासी ग्राम पिठौली मुक्तेरूवर व पवन लाल ने पहले भगीरथ से झगड़ा किया। इस दौरान भगीरथ ने उसे गालियां दीं तो उसने करीब एक घंटे बाद रात्रि करीब 11 बजे वापस आकर लाठी-डंडों से पीटकर भगीरथ की हत्या कर दी। उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त स्कूटी व डंडा भी बरामद किए गए। इसलिए उसे जमानत नहीं दी जा सकती। इस पर न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : देश में 300 शाखाएं खोलकर खाताधारकों के करोड़ों रुपए हड़पने वाले कंपनी के चेयरपर्सन की जमानत अर्जी खारिज

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 08 जून 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने लखनऊ की कैमुना क्रेडिट कॉरपोरेशन लिमिटेड के सीएमसी चेयरपर्सन प्रदीप अस्थाना पुत्र कैलाशनाथ अस्थाना निवासी शाही सदन अलीगंज लखनऊ की जमानत अर्जी मंगलवार को खारिज कर दी। प्रदीप पर आरोप है कि उसने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में अनेक शाखाएं खोलकर खाताधारकों से उनके उनके खातों में एफडी, चालू खाते व विभिन्न मदों में निश्चित समयावधि के लिए करोड़ों रुपए जमा करवाए, और परिपक्वता अवधि पूरी होने के बाद फरार हो गया व जमाकर्ताओं के पैंसे नहीं लौटाए।
जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए न्यायालय को बताया कि 28 सितंबर 2020 को इसी कंपानी की पवलगढ़ कालाढुंगी शाखा के मैनेजर लक्ष्मण सिंह पुत्र देव सिंह ने उसके विरुद्ध जमा कराए गए 8 लाख 88 हजार 645 रुपए, रामनगर के शाखा प्रबंधक आनंद जोशी ने लगभग 22 लाख, कठघरिया के शाखा प्रबंधक गुरुप्रकाश पुत्र लछम सिंह ने भी रुपए हड़पने के आरोप लगाए थे। आरोपित ने इसी तरह देश के 9 राज्यों में 300 शाखाएं खोलकर करोड़ों रुपए हड़पे। इस पर उसके खिलाफ अनेक थानों में मुकदमे दर्ज हुए और उसे टनकपुर में गिरफ्तार किया गया। इसलिए उसे जमानत नहीं दी जा सकती। इस पर न्यायालय ने उसकी जमानत अर्जी खारिज कर दी।आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : बंदी की मौत पर जेल कर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 मई 2021। हल्द्वानी जेल में गत 6 मार्च प्रवेश कुमार नाम के बंदी की पिटाई से मौत के मामले में जनपद के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मनींद्र मोहन पांडे ने मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं। प्रापत जानकारी के अनुसार ऊधमसिंह नगर जनपद के ग्राम कुंडेश्वरी काशीपुर निवासी प्रवेश कुमार को गत 3 मार्च को पुलिस ने छेड़छाड़ के आरोप में गिरफ्तार कर 5 मार्च को हल्द्वानी जेल भेज दिया था। अगले ही दिन यानी 6 मार्च की शाम 5 बजे प्रवेश के परिवार वालों को सूचना मिली कि जेल में प्रवेश की बीमारी के कारण मौत हो गई है। अगले दिन प्रवेश के परिवार वाले हल्द्वानी जेल पहुंचे तो उन्हें शव गृह हल्द्वानी बुला लिया गया और वहीं प्रवेश की मौत का कोई स्पष्ट कारण बताए बिना शव पंचनामा भरकर मृतक की पत्नी भारती के सुपुर्द कर दिया गया। लेकिन मामले में मोड़ 13 मार्च को आया, जब राहुल श्रीवास्तव नाम के व्यक्ति ने भारती को फोन कर बताया कि प्रवेश के साथ जेल में ज्यादती हुई। इससे परेशान होने पर प्रवेश ने जेल में हल्ला किया। इस पर जेल के बंदी रक्षकों ने डंडे, पट्टे और लात-घूसों से उसे इतना पीटा कि वह वहीं गिर गया और उसकी मौत हो गई। इस मामले में भारती की ओर से हल्द्वानी कोतवाली में तहरीर दी गई पर रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। बाद में उसने जनपद की एसएसपी और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को भी पत्र दिये। इस पर मामला मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट नैनीताल की आ गया। न्यायालय ने मामले में आख्या तलब की और जेल में तैनात हेड कांस्टेबल देवेंद्र प्रसाद यादव, नैनवाल, देवेंद्र रावत व हरीश रावत आदि पर हत्या का मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए।

यह भी पढ़ें : जिंदा व्यक्ति को मृतक दिखाकर जमीन बेचने के आरोपित की जमानत अर्जी खारिज…

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 मई 2021। जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र जोशी की अदालत ने दस्तावेजों में हेराफेरी कर जिंदा व्यक्ति को मृत दर्शाकर जमीन का सौदा करने के दो आरोपितों की जमानत अर्जी नामंजूर कर दी। आरोपितों की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने अदालत को बताया कि सात दिसंबर 2010 को शिकायकर्ता हरिकृष्ण पुत्र स्व लक्ष्मीदत्त निवासी कमोला, कालाढूंगी द्वारा भवाली कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई। बताया कि उसकी ग्राम बुढलाकोट, तहसील कोश्याकुटौली में भी भूमिधरी भूमि है और उक्त भूमि प पिता के विरासतन प्राप्त हुई है। जो खतौनी में खाता सं-175 के खसरा 236, रकवा 0.056 हेक्टेयर व खाता संख्या-203, 205 में दर्ज है।
शिकायतकर्ता का नाम बतौर खातेदार दर्ज होने के साथ जीवित भी है। जब अक्टूबर 2020 की अवधि की भूमि की खतौनी की नकल ली गयी तो पता चला कि पदमादत्त, यतीश चन्द्र पुत्रगण भवानी दत्त एवं कांति बल्लभ पुत्र हरिदत्त निवासी झलुवा जाला थाना कालाढूगी, द्वारा तहसील कोश्याकुटौली के राजस्व अधिकारी, कर्मचारियों से मिलीभगत व धोखाधड़ी कर शिकायतकर्ता को मृतक दर्शा दिया। साथ ही अपने को उत्तराधिकारी बताकर भूमि को नाम करवा लिया। इसके बाद खाते की भूमि का विक्रय पत्र उमेश चन्द्र तिवारी निवासी अल्मोड़ा के हक में कर दिया। यही नहीं संबंधित खरीददार के नाम दाखिल खारिज भी कर दिया गया। अदालत ने इस मामले में जेल में बंद पदमादत्त व यतीश चन्द्र पुत्रगण भवानी दत्त की जमानत अर्जी खारिज कर दी।
डीजीसी के अनुसार रिपोर्टकर्ता हरिकृष्ण का बुढलाकोट व कमोला गांव, दोनों जगह मकान है। सर्दी में वह कमोला व गर्मी में बुढलाकोट जाते हैं। अक्टूबर 2020 में हरिकृष्ण ने पैतृक भूमि पर बाग लगाने का विचार किया, तब पटवारी कैलाश को लेकर मौके पर गए। भूमि पर उगे पेड़ को परमिशन लेकर काटकर बाग लगाने के लिए खसरा खतौनी की जरूरत पड़ी। खसरा खतौनी देखने पर पता चला कि जमीन पर उसका नाम कट गया है। जब खतौनी पटवारी से निकाली, तब पता चला कि आठ मार्च 2011 को मृत घोषित करके 14 मार्च 2011 को उत्तरजीविता के आधार पर रिपोर्टकर्ता की भूमि पदमादत्त व यतीश व कांति बल्लभ ने अपने नाम पर दर्ज करा ली गयी है। अभियुक्तगणों द्वारा राजस्व अधिकारी व कर्मचारी से मिलकर धोखाधड़ी से मृतक दर्शाकर भूमि अपने नाम करने के उपरान्त समस्त खाते की भूमि उमेश चन्द्र तिवारी को विक्रय कर दी गयी।

यह भी पढ़ें : छात्र नेता सहित दो युवकों को आत्महत्या के लिए उकसाने की आरोपित प्रेमिकाओं को नहीं मिली जमानत

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 मई 2021। हल्द्वानी के मुखानी थाना क्षेत्र में गत 23 फरवरी 2021 को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नैनीताल व ऊधमसिंह नगर के विभाग संयोजक-दात्र नेता सुंदर आर्या पुत्र राम लाल निवासी गैस गोदाम रोड हल्द्वानी ने अपनी कथित प्रेमिका के घर पर नुवान पीकर आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने बुधवार को मृतक की प्रेमिका की जमानत अर्जी खारिज कर दी है।
मामले में जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने आरोपित की जमानत अर्जी का विरोध करते हुए मामले के शिकायतकर्ता, मृतक के भाई जगदीश राम द्वारा पुलिस को दी गई तहरीर के आधार पर न्यायालय को बताया कि मृतक व आरोपित दोनों एक-दूसरे को चाहते थे, किंतु जाति-विभेद के कारण आरोपित के परिजन शादी के लिए तैयार नहीं थे। इस पर दोनों ने कथित तौर पर 2019 में गोल्ज्यू मंदिर में प्रेम विवाह भी कर लिया था। आरोपित मृतक से महंगे उपहार लेती थी, जबकि उसके परिजन मृतक को धमकियां देते थे। इसका जिक्र मृतक ने अपने सुसाइड नोट में भी किया है। इस आधार पर न्यायालय ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।
वहीं एक अन्य मामले में भी जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेंद्र कुमार जोशी की अदालत ने मृतक युवक नितिन जोशी पुत्र नवीन जोशी निवासी भवानीपुर बड़ी पीरूमदारा रामनगर को झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देकर मानसिक उत्पीड़न करने की आरोपित उसकी प्रेमिका ग्राम बसई निवासी युवती की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। न्यायालय में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से हुई सुनवाई के दौरान जमानत अर्जी का विरोध करते हुए जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने कहा कि आरोपित का चार वर्ष से नितिन से प्रेम संबंध एवं घर में आना-जाना था। लेकिन बाद में उसका समीर नाम के अन्य युवक से संपर्क हुआ तो वह नितिन को आये दिन जान से मारने की धमकी देती थी और मर जाने को कहकर आत्महत्या करने के लिए उकसाती थी। इस कारण ही नितिन ने 20 मार्च 2021 को सल्फास खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। मृत्यु पूर्व की एक रिकॉर्डिग में भी मृतक नितिन ने आरोपित युवती को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार बताया।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के बहुचर्चित सर्राफ हत्याकांड में अंडरवर्ल्ड सरगना दोषमुक्त, शूटर दोषी साबित, भाई पर ही था भाई की हत्या का आरोप

-पंकज खंडेलवाल हत्याकांड में अंडरवर्ल्ड सरगना पीपी, भुपी व पांडे दोषमुक्त
नवीन समाचार, नैनीताल, 4 जनवरी 2019। हल्द्वानी में वर्ष 2006 में हुई सर्राफ पंकज खंडेलवाल की हत्या के मामले में गैंगस्टर से संबंधित एक मामले में विशेष जज गैंगस्टर एक्ट-अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रथम नैनीताल विनोद कुमार की अदालत ने अंडरवर्ल्ड सरगना प्रकाश पांडे उर्फ पीपी, भूपेंद्र बोरा उर्फ भुपी एवं सतीष पांडे को दोषमुक्त पाया है, जबकि एक अन्य आरोपित शूटर इरफान को दोषी पाया है। आगे न्यायालय 13 वर्ष से जेल में बंद इरफान को दी जाने वाली सजा पर आगामी 7 जनवरी सुनवाई करेगी।
उल्लेखनीय है कि 24 जनवरी 2006 की शाम सवा आठ बजे हल्द्वानी के जय गुरु ज्वेलर्स के स्वामी पंकज खंडेलवाल की दुकान बंद कर पत्नी व बेटे के साथ निकलते समय मृतक के भाई द्वारा दी गई सुपारी पर भाड़े के दो शूटरों ने गोली मारकर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या का आरोप मृतक के बड़े भाई प्रदीप खंडेलवाल, कथित तौर पर वियतनाम में मौजूद एवं रेड कॉर्नर नोटिस जारी अंडरवर्ल्ड डॉन प्रकाश पांडे उर्फ पीपी एवं उसके स्थानीय तौर पर सक्रिय साथी भुपी व सतीष पांडे आदि पर लगा था। इनके खिलाफ यूपी गैंगस्टर एंड एंटी सोसियल एक्टीविटीज प्रिवेंशन एक्ट 1986 के तहत मुकदाम चल रहा था। बाद में मामले में प्रदीप खंडेलवाल तो बरी हो गया अलबत्ता एक शूटर वकील अहमद उर्फ गुड्डू को आजीवन कारावास की सजा मिल चुकी है। जबकि इधर शनिवार को दूसरे शूटर इरफान का मामला न्यायालय में विचाराधीन था। गैंगस्टर एक्ट के मामले में एडीजे प्रथम विनोद कुमार की अदालत में पीपी, भुपी व सतीष पांडे दोषमुक्त हो गए, जबकि अन्य आरोपित इरफान दोषी साबित हुआ है।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply