Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

पत्रकार की पुत्री के दहेह हत्यारोपित फौजी पति को नहीं मिली जमानत

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये

 

मृतका विमला

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 मार्च 2019। मुक्तेश्वर के पत्रकार गंगा सिंह की पुत्री बिमला की बीते वर्ष 27 दिसंबर को अपनी पसंद से विवाह करने के आठ माह के भीतर ही मौत हो गयी थी। इस मामले में उसके फौजी पति गौरव सिंह, मौसेरी सास सरस्वती देवी व शादी में बिचौलिया रहे कृपाल सिंह के विरुद्ध मुक्तेश्वर पुलिस में मामला दर्ज हुआ था। तभी से जेल में बंद फौजी पति गौरव सिंह ने इधर अपनी जमानत के लिए अदालत में अर्जी दी थी।
मंगलवार को प्रभारी जिला जज प्रथम अतिरिक्त जिला जज विनोद कुमार की अदालत में जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान जिला शासकीय अधिवक्ता सुशील कुमार शर्मा ने विरोध करते हुए बताया कि आरोपित 10 लाख रुपये की मांग कर रहे थे। दिसंबर माह में ही उन्हें 35 हजार रुपये दिये भी गये थे, बावजूद उन्होंने जहर पिलाकर बिमला की हत्या कर दी थी। उन्होंने सात गवाह भी पेश किये जिन्होंने आरोपों की पुष्टि की। इस पर न्यायालय ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

पूर्व समाचार : पत्रकार की पुत्री की दहेज हत्या के प्रकरण का आरोपी पहुँचा जेल

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 7 जनवरी 2019। मुक्तेश्वर थाने क्षेत्र में हुई पत्रकार की पुत्री की दहेज हत्या के मुख्य आरोपी गौरव सिंह को आज कोर्ट में पेश किया गया। जहाँ से उसे जेल भेज दिया गया है। सोमवार को विवेचना अधिकारी सीओ आरएस नबियाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि आगे की जाँच जारी रहेगी।
उल्लेखनीय है 26 दिसंबर धानाचूली निवासी गंगा सिंह बिष्ट की पुत्री विमला बिष्ट की संदिग्ध हालत में मौत होने पर मृतका के पिता द्वारा अपने दामाद गौरव सिंह, उसकी नानी एक अन्य के खिलाफ दहेज हत्या का भादस की धारा 304 बी के तहत थाना मुक्तेश्वर में मुकद्दमा दर्ज कराया गया था। मामले की विवेचना सीओ भवाली आरएस नबियाल द्वारा की जा रही है। पीएम रिपोर्ट मिलने के उपरांत मुख्य आरोपित गौरव को बीते रविवार को गिरफ्तार कर लिया था। इधर मृतका के पिता गंगा सिंह बिष्ट ने आरोप लगाया है कि उनकी पुत्री के पांव में गले में चोट के निशान थे, उसको मारपीट कर जहर देकर मारा गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपी के द्वारा धनबल का प्रयोग करके पीएम रिपोर्ट पर भी छेड़छाड़ की गई है। उन्होंने अन्य आरोपितों के गिरफ्तारी न होने पर भी संदेह जताया है।

सीओ को ज्ञापन सोंपते मुख्यालय के पत्रकार।

पत्रकार की पुत्री की दहेज के लिए हत्या पर पत्रकारों में आक्रोश

नवीन समाचार, नैनीताल, 29 दिसंबर 2018। जनपद के धानाचूली से एक समाचार पत्र के लिए पत्रकारिता करने वाले पत्रकार गंगा सिंह बिष्ट की नवविवाहिता पुत्री की दो दिन पूर्व ससुरालियों ने दहेज के लिए हत्या कर दी है। इससे जनपद भर के पत्रकारों में आक्रोश है। शनिवार को इस संबंध में धानाचूली क्षेत्र के पत्रकारों द्वारा थाना मुक्तेश्वर पहुंचकर आरोपित ससुरालियों के खिलाफ तहरीर दी, जिस पर भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया। तहरीर में बताया गया है कि बेटी के ससुराली 10 लाख रुपये की मांग कर रहे थे। मृत्यु से कुछ देर पूर्व बेटी ने अपनी पूरी होने जा रही कन्याधन की पासबुक के बारे में भी जानकारी ली थी। यानी ससुराली उसका कन्याधन भी हड़पना चाह रहे थे। इधर मुख्यालय के पत्रकारों ने भी इस मुद्दे पर पुलिस क्षेत्राधिकारी विजय थाप के माध्यम से एएसपी को ज्ञापन दिया एवं दहेज हत्या के आरोपितों को शीघ्र गिरफ्तार कर जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने की मांग की। इस मौके पर नवीन जोशी, कमल जगाती, अजमल हुसैन, दीवान बिष्ट, सुरेश कांडपाल, सुनील बोरा, भूपेंद्र रावत, मनीश उपाध्याय आदि पत्रकार मौजूद रहे।

उल्लेखनीय है कि प्रमुख दैनिक समाचार पत्रों ने अपनी ही बिरादरी के एक पत्रकार के साथ घटी इतनी बड़ी दुर्घटना का दुःख बांटने तक की इंसानियत नहीं दिखाई और बहुत ही ‘हल्की’ खबर लगाई। इस पर भी पत्रकारों में कड़ा आक्रोश है।

पूर्व समाचार : दहेज की बलि चढ़ी समाचार पत्र प्रतिनिधि की पुत्री, फौजी पर लगा दहेज हत्या का आरोप


मृतका बिमला की शादी से पूर्व की फाइल फोटो।

मुक्तेश्वर थाने के सुनकिया गांव की है घटना, हल्द्वानी में इलाज के दौरान हुई नवविवाहिता की मौत, इसी वर्ष 9 मार्च को हुई थी शादी
नवीन समाचार, धानाचूली, 28 दिसंबर 2018। मुक्तेश्वर थाना क्षेत्र के सुनकिया गांव में एक नव विवाहिता घरेलू हिंसा की भेंट चढ़ गयी। मृतका के पिता के द्वारा अपनी पुत्री के ससुरालियों, उसके फौजी पति आदि पर दहेज हत्या करने का आरोप लगाया गया है, तथा उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी की जा रही है। मृतका की इसी वर्ष मार्च माह में ही शादी हुई थी। उधर मृतका का पोस्टमार्टम कराने के बाद अंतिम संस्कार रानीबाग में कर दिया गया है। मृतका के पिता हल्द्वानी से प्रकाशित एक दैनिक समाचार पत्र के प्रतिनिधि हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार धानाचूली निवासी गंगा सिंह बिष्ट की पुत्री विमला बिष्ट (22) का विवाह मुक्तेश्वर थाना क्षेत्र के लेटीबुंगा निवासी हिम्मत सिंह उर्फ पहाड़ी के फौज में कार्यरत पुत्र गौरव सिंह के साथ इसी वर्ष मार्च माह में हुआ था। अब यह परिवार सुनकिया गांव में रहता है। बताया गया है कि बृहस्पति को विमला ने अपने पिता को फोन कर उसे मायके ले जाने को कहा था, साथ ही अपने पति व सास पर मारपीट करने की बात भी कही थी। इस पर उसके पिता गंगा सिंह द्वारा उसको लेने के लिए अल्टो कार भेजी। जिस पर उसे पता चला कि उसकी बेटी ने जहर खा लिया है। आनन-फानन में बिमला का पति उसे कार से सरगाखेत मुक्तेश्वर के चिराग अस्पताल में ले गया। जहां से उसे पहले पदमपुरी अस्पताल और वहां से हल्द्वानी के सुशीला तिवारी चिकित्सालय रेफर कर दिया गया। जहां उसने बृहस्पतिवार रात्रि में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इधर शुकवार को उसका पीएम कराया गया। जिसके बाद उसका गमगीन माहौल में रानीबाग चित्रशिला घाट में अंतिम संस्कार कर दिया गया।

बेटी के अंतिम शब्द: पापा काश मैं आपकी बात मान लेती, ये लोग मुझे मार डालेंगे !
धानाचूली। सूत्रों के अनुसार बेटी के अंतिम शब्द थे – पापा जल्दी यहां आ जाओ, नहीं तो ये लोग मुझे मार डालेंगे। इस पर पापा बोले, बेटा तू चिंता मत कर, मैंने गाड़ी भेज दी है। पहले घर आ जा, फिर देखेंगे क्या करना है। साथ ही वह बार-बार यही कहती रही कि मैंने यहां शादी करके गलती की। काश, मैं आपकी बात मान लेती तो ये दिन नही देखना पड़ता। मेरी जिंदगी खराब हो गयी। यह आखरी शब्द मृतका विमला के थे। इसके बाद वह नही बोली। बताया जा रहा है विमला ने अपने परिजनों की इच्छा के विपरीत अपनी पसंद से विवाह किया था।

Loading...

3 thoughts on “पत्रकार की पुत्री के दहेह हत्यारोपित फौजी पति को नहीं मिली जमानत

  • December 29, 2018 at 11:32 PM
    Permalink

    दहेज लोभियों को आजीवन कारावास की सजा दी जाये, ताकि आगे से दहेजलोभियों को सबक मिल जाये कि दूसरे की बेटियों को दहेज के लिए परेशान न कर सकें, और दूसरी ओर समस्त पत्रकार जगत को साथ देना चाहिए।

    Reply
  • January 4, 2019 at 3:01 PM
    Permalink

    Kanun se kuch bhi nhi ho skta avi tk
    Apradhi khuleaam ghum rahe hain jiski beti mari
    h usse puche koi? Police aankhir kya kr rhi h??????

    Reply

Leave a Reply