राजनीतिक दलों-जन संगठनों ने कोरोना से बचाव के लिए मुख्यमंत्री को भेजे सुझाव

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
https://chat.whatsapp.com/BXdT59sVppXJRoqYQQLlAp

-लॉक डाउन व कर्फ्यू को जरूरी बताते हुए गरीबों को दो सप्ताह की मदद, हर परिवार को एक माह का राशन आदि मांगें उठाईं
नवीन समाचार, नैनीताल, 25 मार्च 2020। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर 21 दिन के ‘लॉक डाउन’ में व्यवस्थाओं में और बेहतरी के लिए विभिन्न जनवादी संगठनों एवं राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र भेजा है। उत्तराखंड महिला मंच की कमला पंत, उत्तराखंड लोक वाहिनी के राजीव लोचन साह, कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव समर भंडारी, समाजवादी पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. एसएन सचान, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के बची राम कंसवाल, तृणमूल कांग्रेस के संयोजक राकेश पंत, चेतना आंदोलन के शंकर गोपाल और त्रेपन सिंह चौहान, परिवर्तनकामी छात्र संगठन के कविता कृष्णपल्लवी, अन्वेषा व कैलाश आदि के नाम से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि कर्फ्यू और लॉकडाउन के अतिरिक्त कोरोना वायरस को रोकने का फिलहाल और कोई तरीका नहीं है। उत्तराखंड की जनता से वे भी अपील करते हैं कि इस आपातकाल में वह लगातार अपने घर पर ही रहें और सरकार द्वारा बनाये गये नियमों का पूरी तरह पालन करें।
लेकिन सरकार से भी कुछ निवेदन करना चाहते हैं। उनके द्वारा किये गए निवेदनों में स्वास्थ्य सेवाओं में लगे डॉक्टर, नर्स और अन्य कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए उन्हें तुरंत मास्क, कवरआल, वेंटीलेटर और अन्य बुनियादी उपकरण युद्धस्तर पर खरीदकर उपलब्ध कराने, गरीबों के लिए तुरंत उत्तर प्रदेश, दिल्ली और केरल की सरकारों की तरह जन धन खातांे, मनरेगा जॉब कार्ड, निर्माण मजदूर योजना और अन्य कल्याणकारी योजनाओं के द्वारा सभी गरीब लोगों को कम से कम दो हफ्ते के लिए अपना घर चला पाने लायक सहायता उपलब्ध कराने, राज्य के हर परिवार को एक महीने का मुफ्त राशन देने, सब्जियों की पहुंच के लिए मंडी में काम करने वाले मजदूरों की सुरक्षा के लिए तुरंत कदम उठाने, सरकार को राजस्व वसूली-बिजली बिल, पानी बिल, अतिक्रमण हटाना, सम्पति पर जब्त करना आदि को कम से कम एक महीना के लिए स्थगित करने, शहर की मलिन बस्तियों में हर परिवार को तुरंत सैनिटाइजर और मास्क उपलब्ध कराने, बस्ती के अंदर ही स्वास्थ्य केंद्र खोलने और इन बस्तियों एवं शहर के खाली प्लाटों और नालियों की सफाई के लिए में तुरंत मुहिम चलाने की मांगें की गई हैं।

नवीन समाचार
मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...