Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

मां दुर्गा की शोभायात्रा में बर्षों बाद मशहूर शायर इकबाल के शब्द हुए साकार

Spread the love

-जुम्मे की नमाज संग नजर आया धार्मिक सद्भाव का बेमिसाल नजारा
-शुक्रवार को शोभायात्रा के उपरांत देर शाम नैनी सरोवर में मूर्तियों के विसर्जन के साथ संपन्न हुआ आयोजन

दुर्गा पूजा महोत्सव के तहत शुक्रवार को शोभायात्रा के मल्लीताल जामा मस्जिद के सामने से निकलने के दौरान वहां मौजूद मुस्लिम समुदाय के लोग।

नैनीताल, 19 अक्टूबर। सरोवर नगरी में गत पांच दिनों से सर्वजनिन दुर्गा पूजा समिति के तत्वावधान में चल रहा 62वां दुर्गा महोत्सव शुक्रवार को माता महिसासुर मर्दिनी दुर्गा, सरस्वती, लक्ष्मी, प्रथम पूज्य गणेश व कार्तिकेय की सुंदर मूर्तियों की भव्य शोभायात्रा के पश्चात नैनी सरोवर में विसर्जन के साथ संपन्न हो गया।
इस दौरान एक ऐसी मिसाल हुई कि इसे जिसने भी देखा, वाह ! कह बैठा। उल्लेखनीय है कि मशहूर शायर इकबाल ने कभी कहा था-‘है राम के वजूद पे हिंदोस्तां को नाज अहले नजर समझते हैं उसको इमाम-ए-हिंद।’ इकबाल की यह पंक्तियां शुक्रवार को एक बार फिर विजयादशमी के अवसर पर याद र्हो आइं, जब दुर्गा पूजा महोत्सव के समापन अवसर पर माता दुर्गा की झांकी जिस समय मल्लीताल जामा मस्जिद के सामने से गुजर रही थी, उस समय मस्जिद से मुस्लिम समुदाय के लोग जुम्मे की नमाज पढ़कर बाहर निकल रहे थे। बताया गया कि ऐसा संयोग वर्षों के बाद आया। इसलिए इस दौरान माता की शोभायात्रा में मुस्लिम समुदाय के लोग भी शामिल से नजर आये। वहीं इस दौरान फ्लैट्स मैदान में विजयादशमी के मौके पर बुराई के प्रतीक रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों को आग के हवाले करने के लिये तैयार किया जा रहा था।
शुक्रवार दोपहर माता दुर्गा के साथ ही भगवान गणेश, कार्तिकेय, माता लक्ष्मी व सरस्वती की सुंदर मूर्तियों की शोभायात्रा नयना देवी मंदिर से प्रारंभ हुई, व मल्लीताल की प्रमुख बाजारों तथा माल रोड से होती हुई तल्लीताल पहुंची, जिसके बाद पाषाण देवी मंदिर के पास से मूर्तियों का नैनी सरोवर में विसर्जन कर दिया गया। इससे पूर्व शोभायात्रा के शुरू होने के दौरान बंगाली समुदाय के तथा स्थानीय लोगों ने परंपरागत गुलाल की होली खेली। नगर के अनेक स्कूलों के बच्चों ने रंग-बिरंगे परिधानों में कुमाऊं के छोलिया व झोड़ा नृत्य सहित अनेक अन्य नृत्यों की छटा बिखेरी। खास बंगाली स्टाइल की लाल पल्ले वाली सफेद साड़ियों में गालों में सिंदूर लगाकर महिलाएं भी नृत्य करते हुए शोभायात्रा की शोभा बढ़ा रही थीं। शोभायात्रा में कई बालिकाऐं मां दुर्गा के स्वरूप धारण कर भी चल रही थीं। आयोजन में आयोजक संस्था अध्यक्ष चंदन कुमार दास, त्रिभुवन फर्त्याल, नरदेव शर्मा, राकेश कुमार, केएस अधिकारी, दिनेश भट्ट, भास्कर महतोलिया, पीके शर्मा, सुरेश चौधरी, दीपक गुरुरानी, विनोद पंत, गुरविंदर सिंह, शंकर गुहा मजमूमदार, उमेश मिश्रा, शिवराज नेगी व पवन व्यास आदि जुटे रहे। इधर फ्लैट्स मैदान में लगे मेले में भी लोगों की जबर्दस्त भीड़ उमड़ी रही।

Loading...

Leave a Reply