Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

नई तरह की ठगी: हल्द्वानी में स्टार स्काई शॉप के नाम पर फर्जीवाड़े के आरोप में महिलाओं का गिरोह दबोचा

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 12 जून 2019। हल्द्वानी में ‘स्टार स्काई शॉप’ के नाम पर फर्जीवाड़े के आरोप में तीन महिलाओं के एक गिरोह को पुलिस की एसआईटी के द्वारा दबोचा गया है। इन महिलाओं के द्वारा सैकड़ों लोगों को ठगे जाने की संभावना है। शिकायतकर्ता हल्द्वानी के इंद्रप्रस्थ पुरम निवासी दयानंद जोशी ने बताया कि तीन महिलाएं गत 27 मई को उनके घर पर आई थीं। उन्होंने उनकी पत्नी को विश्वास में लेकर 500 रुपए में स्टार स्काई शॉप का स्क्रैच कार्ड दिलाया। कार्ड को घिसने पर मॉर्निंग वॉकर पर 56 फीसद की छूट का कूपन निकला। महिलाओं ने बताया कि नैनीताल रोड पर विशाल मेगा मार्ग के पास 10 मई को स्टार स्काई शॉप खुलने वाली है। तभी दुकान पर जाकर या घर पर ही 56 फीसद की छूट पर मॉर्निंग वॉकर मंगा लें। साथ ही एक कप-प्लेट का सेट भी उपलब्ध कराया था, जिसमें कि महिलाओं के जाने के बाद खोलने पर टूटे हुए चीनी मिट्टी के कप-प्लेट निकले। वहीं 10 मई के बाद ना ही दुकान खुली, ना ही महिलाओं से ही संपर्क हुआ। ठगे जाने का अहसास होने पर उन्होंने बुधवार को कोतवाली पुलिस में शिकायत की। अनेक अन्य लोग भी यही शिकायत लेकर पहुंचे थे। आखिर उनकी तहरीर पर पुलिस ने शिकायत दर्ज कर महिलाओं की एसआईटी से ढूंढ खोज करवाई एवं गिरफ्तार कर लिया। वहीं नगर कोतवाल ने बताया कि पकड़ी गई महिलाओं में टिहरी गढ़वाल निवासी नीलम, बदायूं यूपी निवासी शशि और कानपुर यूपी निवासी वंदना शामिल हैं। उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल में सेना में भर्ती के नाम पर फर्जीवाड़ा करने वाला फर्जी कर्नल कानपुर से गिरफ्तार

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 मई 2019।नैनीताल में बीते डेढ़ माह से युवाओं को सेना में नौकरी लगाने का झांसा देकर लाखों रुपये ठगने वाले आरोपी फर्जी कर्नल को कानुपर में गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि फर्जी कर्नल के खिलाफ कानपुर में भी नौ लाख रुपये ठगने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है। नैनीताल में ठगी के शिकार हुए युवाओं ने कथित कर्नल के साथ एक शिक्षक पर भी मिलीभगत के आरोप लगाए हैं।

बता दें कि नगर के मल्लीताल स्थित सुमन रीजेंसी होटल में एक व्यक्ति ने बीती 30 मार्च को सूर्य प्रताप सिंह के नाम से कमरा बुक कराया था। 31 मार्च से वह यहां रहने लगा। इस दौरान उसने होटलकर्मियों पर ठगी का जाल बिछा दिया। खुद को सेना से रिटायर कर्नल बताते हुए उसने होटल कर्मचारियों को फौज में भर्ती कराने का दावा किया। झांसे में आकर युवकों ने उसे लाखों रुपये दे भी दिए। जब उसके फर्जी होने की बात सामने आई तो मामला पुलिस तक पहुंचा। फर्जी कर्नल पर होटल कर्मी विनोद कुमार तथा कमल किशोर से तीन लाख, नाव चालक चनीराम से एक लाख और रामगढ़ की एक युवती के पिता से एक लाख रुपये लेने का आरोप है। इस संबंध युवकों ने शुक्रवार को मल्लीताल कोतवाली में तहरीर दी। पुलिस ने एसएसपी एसके मीणा के निर्देशों पर मुकदमा दर्ज कर अन्य थानों को फर्जी कर्नल का फोटोग्राफ भेजा।

इधर शनिवार को पुलिस को रेलबाजार कानपुर थाना से आरोपी के गिरफ्तार होने की सूचना मिली है। बताया जा रहा है कि आरोपी इससे पहले भी नौकरी के नाम पर झांसा देकर कानपुर में युवकों से नौ लाख रुपये ठग चुका है। वह बीते कई सालों से फरार चल रहा था। कमल और विनोद ने कथित कर्नल के साथ राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त बागेश्वर के शिक्षक और अन्य पर मिलीभगत का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि शिक्षक ने ही उन्हें विश्वास में लेकर नौकरी देने की बात कही। पुलिस ने युवकों के बयान दर्ज कर लिए हैं, मामले में जांच जारी है। बताया जा रहा है कि नैनीताल में अन्य लोगों के साथ भी ठगी हुई है, लेकिन फिलहाल इसके अलावा कोई तहरीर थाने नहीं पहुंची है।

तेज सिंह बिष्ट @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 मई 2019। नगर में सेना में भर्ती के नाम पर सेना का अधिकारी बनकर एक व्यक्ति द्वारा लोगों से लाखों रुपए की लूट करने का मामला प्रकाश में आया है। नगर के मल्लीताल बड़ा बाजार सुमन रीजेंसी होटल के कर्मचारी कमल कुमार आर्य मूल निवासी बृद्ध जागेश्वर अल्मोड़ा ने नैनीताल कोतवाली पुलिस को शिकायत दर्ज कराई है कि उस के होटल में पिछले 31 मार्च से सूर्य प्रताप सिंह के नाम से रह रहे एक व्यक्ति ने उसे उसके भाई को सेना में भर्ती करने का झांसा देकर ₹300000 लूट के अतिरिक्त मूलतः बागेश्वर के ग्राम असों निवासी कल्याण सिंह मनकोटी से भी इसी व्यक्ति द्वारा लूट की गई है। आज नगर के केनरा बैंक में पैसे जमा करने के दौरान वह गायब हो गया। कोतवाली पुलिस उसके खिलाफ धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज कर रही है। एसएसआई वालों ने बताया कि आरोपी को जल्द पकड़ लिया जाएगा। बताया गया है कि आरोपी खुद को सेना का पूर्व कर्नल बताता था अलबत्ता केनरा बैंक की पासबुक के अनुसार उसका नाम मनोज कुमार है।

यह भी पढ़ें : चंपावत में किये थे 70 हजार के नोट अंदर, 12 घंटे में भीमताल से बाहर निकले…

-नोट बदलने के नाम पर की गयी ठगी
नवीन समाचार, भीमताल, 12 मई 2019। चंपावत में नोट बदलने के नाम पर ठगी के मामले में पुलिस की तत्परता से चार ठगों को 12 घंटे के भीतर भीमताल से गिरफ्तार कर लिया गया है। ठगों से ठगी की गई धनराशि भी बरामद कर ली गई है तथा मुकदमा पंजीकृत कर लिया है। पकड़े गए ठगों ने चंपावत के साथ ही दिल्ली व गुरुग्राम में छह वारदातों को अंजाम देने की बात स्वीकार कर ली है।
बताया गया है कि शुक्रवार को चंपावत के ललुआपानी निवासी बाला दत्त जोशी पुत्र हरी दत्त से 70 हजार रुपये ठगी हुई थी। हुआ यह कि बाला दत्त पंजाब नेशनल बैंक के अपने खाते में रुपये जमा करने गए थे। जहां दो लोगों ने उन्हें छोटे नोटों की जगह बड़े नोट देने की बात की, और उनके मानने पर उन्हें पोस्ट ऑफिस के पास ले गए जहां ठगों ने जोशी से 2000 व 500 रुपये के नोटों में 70 हजार रुपये लिए और रुमाल में बंधी गड्डी दी। बाद में उन्होंने रुमाल खोलकर देखा तो वह कागज की गड्डी थी। जब तक वह कुछ समझ पाते दोनों ठग रफूचक्कर हो चुके थे। जिसके बाद उन्होंने बाजार पुलिस चौकी में ठगी की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए ठगी करने वाले चार लोगों के गिरोह को 12 घंटे के अंदर भीमताल से गिरफ्तार कर लिया गया। भीमताल में पकड़े गए चारों अभियुक्तों को पुलिस चम्पावत ले गई। पकड़े गए चारों आरोपित सुनील कुमार राय पुत्र बिंदेश्वर राय उर्फ यादव निवासी जनार्दनपुर थाना चकमैसी जिला समस्तीपुर बिहार हाल निवासी बी-61 दालमिल रोड थाना उत्तमनगर दिल्ली, लालू कुमार यादव पुत्र बचकन यादव निवासी कालूता थाना बेहरा जिला दरभंगा बिहार, दिलीप कुमार पुत्र योगेंद्र राय निवासी कढूवा भट्टी चौक थाना चकमैसी जिला समस्तीपुर बिहार व राजू कुमार पुत्र जगदीश शॉ निवासी बसवाम थाना बेहरा जिला दरभंगा बिहार के रहने वाले हैं।

इस तरह पकड़े गये

पुलिस ने मामले में तत्परता दिखाते हुए पीएनबी के सीसीटीवी की फुटेज से दोनों ठगों की फोटो निकाली और जिले सहित अन्य जिले के थानों में भेज दी। पुलिस द्वारा क्षेत्र में पूछताछ में पता चला कि अभियुक्त चंपावत के होटल शिवा रेजिडेंसी में रुके थे। होटल के कर्मचारी जीवन चंद्र जोशी की मदद से पुलिस को ठगों का नंबर मिल गया जो उन्होंने होटल में नोट कराया था। पुलिस अधीक्षक डीएस गुंज्याल ने तत्काल छह टीमें बनाकर सीसीटीवी फुटेज खंगालने तथा सर्विलांस की मदद से लोकेशन निकाल कर जनपद के सभी थाना क्षेत्रों में सघन चेकिंग अभियान चलाने को कहा। इस पर ठगों के मोबाइल नंबर की लोकेशन भीमताल में मिली। तुरंत भीमताल थानाध्यक्ष को इस संबंध में सूचित किया गया तथा भीमताल पुलिस द्वारा चार लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिन्हें शनिवार को पुलिस चम्पावत ले गई। चारों अभियुक्तों पर कोतवाली में मुकदमा पंजीकृत किया गया। बताया गया है कि उन्होंने चंपावत के ग्राम पुनावे में पंकज सिंह तड़ागी के साथ ही दिल्ली के पालम, नांगलोई व विकासपुरी तथा गुरुग्राम के डीएलएफ व इंडस्ट्रीयल एरिया में छह लोगों के साथ इस प्रकार की धोखाधड़ी कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें : दो युवतियों को भारी पड़ा इंटरनेट पर दो अनजाने-अजीब से लिंको पर क्लिक करना

नवीन समाचार, रामनगर (नैनीताल), 14 अप्रैल 2019। इंटरनेट पर एक अनजाने-अजीब से लिंक पर क्लिक करते ही दो नैनीताल जिले के रामनगर निवासी दो युवतियों-पुरानी केनाल कॉलोनी निवासी सुमन रावत और रेलवे पड़ाव भवानीगंज निवासी प्रियंका वर्मा के फेसबुक अकाउंट हैक हो गए। युवतियों की तहरीर के आधार पर रामनगर कोतवाली पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस को दी तहरीर में युवतियों ने बताया है कि शनिवार को सुमन के फेसबुक मैसेंजर पर प्रियंका नाम की आईडी से और प्रियंका के मैसेंजर पर रविवार को देहरादून निवासी रेनू जोशी की आईडी से मैसेज आया कि आपकी फोटो किसी ने एडिट करके पोस्ट की है। दोनों ने फोटो दिखाने को कहा तो आरोपियों ने एक लिंक भेजा। उस लिंक पर क्लिक करते ही दोनों के फेसबुक एकाउंट बंद हो गए। तब से कई बार प्रयास करने के बावजूद फेसबुक लॉग इन नहीं हो सका। एसएसआई कश्मीर सिंह ने बताया कि दोनों युवतियों की तहरीर आईटी सेल में भेजी जा रही है।

यह भी पढ़ें : इतनी हिमाकत, एक नहीं 10 लोगों ने झोंक दी थी नैनीताल की अदालत की आंखों में धूल, अब हुई यह कार्रवाई

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 मार्च 2019। एक गैंगस्टर पिता को जेल से रिहा कराने के लिए उसके पुत्र ने न्यायालय की आंखों में धूल झोंककर फर्जी जमानती पेश करने की हिमाकत कर दी थी। यह अपनी तरह का इकलौता भी नहीं, बल्कि पांचवा मामला था। शायद फर्जियों ने सोचा हो कि पहाड़वासियों की तरह यहां की अदालतों को भी हमेशा की तरह बेवकूफ बना लेंगे। लेकिन ऐसा हो न सका। फर्जीवाड़े का मुकदमा दर्ज होने के बाद शनिवार को तल्लीताल थाना पुलिस ने इस मामले के तीसरे व अंतिम फर्जी जमानती को भी गिरफ्तार करने में सफलता पाई है।
पकड़ा गया आरोपित कृष्ण कुमार पुत्र बच्चू सिंह निवासी जैन मंदिर वाली गली वार्ड नंबर 18 कटोराताल थाना काशीपुर ऊधमसिंह नगर को शनिवार को उप निरीक्षक मनोज नयाल व आरक्षी उपेंद्र राठी ने गिरफ्तार किया। उस पर सरवन कुमार के नाम से फर्जी जमानत देने के आरोप में वर्ष 2018 में धोखाधड़ी के आरोप में धारा 420, 467, 468, 471 व 120 बी के तहत अभियोग पंजीकृत था। आगे उसे न्यायालय में पेश कर न्यायालय के आदेशों पर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।
उल्लेखनीय है कि पूर्व में पकड़े जा चुके मो. नाजिम नाम का युवक अक्तूबर 2010 में हल्द्वानी जेल में गैंगस्टर एक्ट में बंद अपने पिता नन्हे की जमानत के लिए फर्जी तरीके से अफसर अली की जगह मो. नासिर व सिकंदर की जगह कृष्ण कुमार को लाया था। उल्लेखनीय है कि तल्लीताल थाना पुलिस में ऐसे ही कुल पांच मामले दर्ज हुए हैं, जिनमें से आज 10वां आरोपित गिरफ्त में आया है।

पूर्व समाचार : अदालत की आंखों में धूल झोंक आरोपित फर्जी, जमानती फर्जी, पर पुलिस की आंखों से न बच पाये

नैनीताल, 6 नवंबर 2018। तल्लीताल थाना पुलिस ने अदालत की आंखों में धूल झोंकने वाले एक आरोपित सरजीत पुत्र ओमप्रकाश निवासी श्यामनगर बाबरखेड़ा थाना कुंडा जनपद उधमसिंहनगर को गिरफ्तार किया है। इसके बाद उसे न्यायालय मे पेश करते हुये न्यायिक हिरासत’ में जेल भेज दिया गया है।
तल्लीताल थाना प्रभारी राहुल राठी ने बताया कि बीते वर्ष 2017 में वसीम उर्फ शादाब निवासी कच्ची बस्ती बेगमपुरवा कानपुर यूपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468 व 471 की विवेचना उप निरीक्षक मनोज नयाल द्वारा की जा रही है। इस विवेचना के दौरान वर्ष 2015 में थाना काठगोदाम मे दर्ज एक प्राथमिकी में गैंगस्टर एक्ट मे आरोपित वसीम का पता फर्जी पाया गया। उसकी जमानत हुकुम सिह व महावीर सिंह पुत्र कृपाल सिह निवासी महुवाखेड़ा थाना आईटीआई जनपद ऊधमसिंहनगर के नाम पते से ली गई थी। इन दोनों जमानतियों के नाम पते भी तस्दीक करने पर फर्जी पाए गए। इस बीच न्यायिक हिरासत मे उपकारागार हल्द्वानी में बंद थाना तल्लीताल मे इस वर्ष पंजीकृत धारा 420, 467, 468 व 471 के मामले में भी नामजद आरोपित विजय सिंह की फोटो आरोपित वसीम उर्फ शादाब के जमानती हुकुम सिंह के नाम से न्यायालय में पेश किये गए शपथ पत्र व फर्जी पहचान पत्र से मिल रही थी व हुकुम सिंह के शपथ पत्र व प्रतिभूति पत्र मे लगे अंगुलियों की छाप को विजय सिंह की अंगुलियों की छाप से मिलान किया गया तो स्पष्ट हुआ कि हुकुम सिंह ही विजय सिंह है। इस पर बीती 9 अक्तूबर 2018 को विजय सिंह को न्यायालय में पेश कर रिमांड में लिया गया व उसके खिलाफ धारा 419 बढ़ाई गईं। विजय सिंह ने अपने बयानों मे बताया कि उसने व सरजीत पुत्र ओमप्रकाश निवासी श्यामनगर बाबरखेड़ा थाना कुण्डा जनपद उधमसिंहनगर ने वसीम उर्फ शादाब की जमानत ली है। इस पर आज आरोपित सरजीत सिंह को एसआई राहुल राठी के नेतृत्व मे उपनिरीक्षक मनोज नयाल व आरक्षी उपेंद्र राठी ने दबोच लिया।

एक और गैंग्स्टर के फर्जी जमानती को दबोचा

नैनीताल पुलिस की गिरफ्त में आये फर्जी जमानती।

नैनीताल, 16 अक्तूबर 2018। तल्लीताल थाना पुलिस ने मंगलवार को इस वर्ष जनवरी माह से फरार फर्जी जमानत देने के मामले में वांछित आरोपित सुरेंद्र पुत्र रामचन्द्र को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गये सुरेंद्र पर थाना हल्द्वानी में पंजीकृत वर्ष 2012 के एक मामले के गैंगस्टर एक्ट के अभियुक्त शब्बू उर्फ अभिताभ की अदालत में फर्जी शपथ पत्र के आधार पर जमानत देने का आरोप है। गिरफ्तारी के बाद उसे न्यायालय मे पेश किया गया, और न्यायालय के आदेशों पर न्यायिक हिरासत मे जेल भेज दिया।
तल्लीताल के थाना प्रभारी राहुल राठी ने बताया कि थानाध्यक्ष भारतीय दंड संहिता की धारा धारा 420, 467, 468 व 471 के तहत विजय सिंह व सुरेंद्र सिंह निवासी श्यामनगर बाबरखेड़ा थाना कुंडा जनपद उधमसिंहनगर के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत किया गया था। इसकी विवेचना उप निरीक्षक मनोज नयाल द्वारा की जा रही है। मामले में हल्द्वानी जेल में बंद एक आरोपित विजय सिंह को पहले ही अदालत में पेश किया गया था, जबकि जनवरी 2018 से फरार दूसरे आरोपित सुरेंद्र की तलाश जारी थी, उसे आज विवेचक मनोज नयाल व आरक्षी तरुण चौधरी ने टैक्सी स्टैंड तल्लीताल के पास से गिरफ्तार कर लिया।

ऐसा धंधा भी करते हैं लोग, जानकर हैरान हो जाएंगे, नैनीताल पुलिस ने पकड़े ऐसे ही दो धंधेबाज

नैनीताल पुलिस की गिरफ्त में आये फर्जी जमानती।

-फर्जी जमानत लेने का धंधा करने वाले दो आरोपित मेरठ यूपी से दबोचे
-वर्ष 2012 में जिला न्यायालय में गैंगस्टर को छुड़वाया था, 2017 में हुआ था इनके विरुद्ध मामला दर्ज
नैनीताल, 5 अक्टूबर 2018। तल्लीताल थाना पुलिस ने छह वर्ष पुराने वर्ष 2012 में जिला एवं सत्र न्यायाधीश नैनीताल की अदालत में झूठे पते के पहचान पत्रों से एक अभियुक्त की फर्जी पते से जमानत लेने वाले दो आरोपितों को मेरठ यूपी से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। उल्लेखनीय है कि इनके खिलाफ पिछले वर्ष ही मुकदमा दर्ज हुआ था। गिरफ्तारी के बाद शुक्रवार को दोनों को जिला एवं सत्र न्यायालय में पेश किया गया, जहां से दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। तल्लीताल थाना प्रभारी राहुल राठी ने बताया कि यह लोग कुछ रूपये लेकर फर्जी पतों से फर्जी जमानतें लेने का धंधा करते हैं।

एक धंधा ऐसा भी →

मामले के अनुसार गैंगस्टर एक्ट वर्ष 2012 में हल्द्वानी थाने से संबंधित एक मामले में जेल में बंद गैंगेस्टर एक्ट से सम्बंधित अभियुक्त धर्मवीर ठाकुर पुत्र चंद्रपाल ठाकुर निवासी ग्राम कंधारी थाना सिकंदराबाद जिला अलीगढ़ की 6 अगस्त 12 को जिला एवं सत्र न्यायाधीश नैनीताल में फर्जी पते देवेंद्र पुत्र विजयपाल निवासी ग्राम भावनपुर थाना भावनपुर जिला मेरठ व छोटेलाल पुत्र खचेड़ू निवासी ग्राम भावनपुर थाना भावनपुर जिला मेरठ के फर्जी पहचान पत्र बनाकर जमानती बनकर जमानत ली गयी थी। जमानत के बाद आरोपित और जमानती दोनों गायब हो गये। इस पर जिला न्यायाधीश के रीडर राजेन्द्र सिंह चम्याल की तहरीर पर 11 दिसंबर 2017 को दोनों जमानतियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468 व 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। तल्लीताल थाना पुलिस ने मेरठ क्षेत्र में मुखबिरों का जाल बिछाकर और आरोपितों की फोटो आदि दिखाकर तलाश की। इस पर बृहस्पतिवार को उप निरीक्षक मनोज नयाल को मेरठ के ग्राम रसूलपुर धनतला थाना खरखौदा से देवेंद्र पुत्र विजयपाल तथा ग्राम कुनकुरा थाना इंचौली जिला मेरठ से छोटेलाल पुत्र खचेड़ू को गिरफ्तार करने में सफलता मिल गयी।

यह भी पढ़ें : सावधान ! मोदी, अक्षय कुमार व भारतीय सेना के नाम पर हो रहा जनता को ठगने का बड़ा प्रयास

-सोशल मीडिया पर चल रहे मैसेज में की जा रही है सेना के कल्याण कोष में धन जमा करने की अपील

सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रहा फर्जी संदेश।

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 फरवरी 2019। बीती 14 फरवरी को देश पर हुए बड़े आतंकी हमेले की आढ़ में देशवासियों के आहत दिलों में भारतीय सेना के प्रति बढ़ी संवेदनाओं का लाभ उठाने के लिए ठगों के गिरोह भी सक्रिय हो गये हैं। सोशल मीडिया पर एक संदेश बहुत तेजी से प्रसारित हो रहा है, जिसकी हेडिंग है, ‘सुपरस्टार अक्षय कुमार के ‘मास्टर स्ट्रोक’ सुझाव पर मोदी सरकार का एक और अच्दा फैसला’, आगे संदेश में कहा गया है कि मोदी सरकार की कैबिनेट की बैठक में सेना की आधुनिकता और युद्ध में घायल और शहीद होने वाले सेना के जवानों के लिए सिंडिकेट बैंक की साउथ एक्सटेंशन नई दिल्ली शाखा में ‘आर्मी वेलफेयर फंड वेलफेयर बैटल कैजुअलटीज’ नाम से खाता संख्या 90552010165915 खोला गया है।
जनता से कहा गया है कि ‘पाकिस्तान हाय-हाय करने, सड़क जाम करने और बयानबाजी करने’ से कुछ नहीं होने वाला है। इसकी जगह 1 रुपये से लेकर असीमित धनराशि इस खाते में जमा करें। कहा गया है कि यदि देश की 130 करोड़ जनसंख्या में से 70 फीसद लोग भी यदि हर रोज इस खाते में एक-एक रुपये डालते हैं तो यह 100 करोड़ होगा, यानी एक महीने में 100 करोड़ और एक वर्ष में 36 हजार करोड, जो कि पाकिस्तान का सालाना रक्षा बजट भी नहीं है। यानी स्वयं बताया गया है कि ठग कितनी बड़ी ठगी करने जा रहे हैं। संदेश में इस संदेश को सभी सोशल मीडिया ग्रुपों में भेजने की अपील भी की गयी है और मजे के बात यह है कि इस संदेश की सत्यता का पता लगाये बिना ही संदेश को आगे बढ़ा रहे हैं, और अनजाने में यह संदेश आगे बढ़ाने में पुलिस एवं बैंकों से जुड़े लोग भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। लेकिन बताया जा रहा है कि यह संदेश पूरी तरह से झूठा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से कभी ऐसे किसी बैंक खाते का जिक्र नहीं किया गया है, और ना ही केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कभी ऐसा फैसला किया है। बल्कि इस तरह की कोई भी धनराशि जिला प्रशासन को चेक के माध्यम से जमा कराने का प्राविधान है। लिहाजा जानकारों का कहना है कि यह पूरी तरह से ‘फ्रॉड’ है।

यह भी पढ़ें : विश्वविद्यालय में पद सृजित कर नौकरी लगाने के नाम पर डेढ़ करोड़ की ठगी

नवीन समाचार, देहरादून, 12 जनवरी 2019। उत्तराखंड के आयुर्वेद विश्वविद्यालय में सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देकर डेढ़ दर्जन लोगों से अब तक 1.41 करोड़ रुपये हड़पने का मामला सामने आया है, जबकि धनराशि अन्य पीड़ितों के भी आगे आने से डेढ़ करोड़ से भी अधिक बढ़ सकती है। इंस्पेक्टर नेहरू कॉलोनी राजेश साह ने बताया कि बेरोजगार आयुर्वेदिक डिप्लोमा फार्मेसी संघ के प्रदेश अध्यक्ष की तहरीर पर रकम हड़पने के दो आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।  दोनों आरोपियों ने यूनिवर्सिटी में 90 पद सृजित कराने का झांसा देकर भी 54 लाख रुपये हड़पे। इसके बाद नौकरी के नाम पर अलग-अलग बेरोजगार को झांसे में लिया गया। नौकरी नहीं मिलने पर पीड़ितों ने अपनी रकम वापस मांगी तो उन्हें आरोपियों ने चेक थमा दिए। जो बैंकों में बाउंस हो गए।

इंस्पेक्टर साह के अनुसार सरकारी नौकरी का झांसा देकर रकम हड़पने को लेकर बेरोजगार आयुर्वेदिक डिप्लोमा फार्मेसी संघ के प्रदेश अध्यक्ष आजाद डिमरी मूल निवासी भाटिया, तहसील बड़कोट, जिला उत्तरकाशी हाल निवासी चौहान सदन, टी एस्टेट, बंजारावाला ने तहरीर दी। आरोप लगाया कि मृणाल धूलिया पुत्र दिनेश चंद्र धूलिया निवासी जीटीएम, मोहकमपुर ने अपने भाई नीरज धूलिया के साथ मिलकर झांसा दिया कि वह उनके संघ से जुड़े लोगों को आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में फोर्मेसी स्टोर के नए पद सृजित कर उनकी नौकरी लगवा देंगे। आरोप है कि नीरज नेहरू कॉलोनी में ओजस्वी एसोसिएट्स के नाम से कार्यालय चलाता है। पीड़ितों के सामने उसने खुद को उत्तराखंड आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी का संचालक बताया। इस पर आजाद डिमरी व उसके साथी आरोपियों के झांसे में आ गए। इंस्पेक्टर साह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। दोनों आरोपी आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में पीपीपी मोड पर पंचकर्म यूनिट और आयुर्वेदिक चिकित्सालय का संचालन कर चुके हैं।

इनसे ठगी गई इतनी रकम
आजाद डिमरी से उसके साथियों को नौकरी दिलाने के नाम पर 54 लाख रुपये, दीपक थपलियाल से सात लाख रुपये, विजय डोभाल से 12 लाख रुपये, विपिन चंद से सात लाख रुपये, संजय कुमार से 5.60 लाख रुपये, जयवीर रावत से तीन लाख रुपये, अशोक रावत से सात लाख रुपये, नीरज चौहान से पांच लाख रुपये, रवि सैनी से छह लाख रुपये, उपासना सेमवाल से पांच लाख रुपये, स्मिता कोठियाल से पांच लाख रुपये, विपिन उनियाल से चार लाख रुपये, अंजली सेमवाल से छह लाख रुपये, विपिन से पांच लाख रुपये, अवधेश नेगी से छह लाख रुपये, मनीष नेगी से चार लाख रुपये हड़पे गए हैं। शुरुआती जांच में 16 पीड़ित सामने आए हैं। जबकि पहाड़ के दूरदराज के लोग भी दोनों आरोपियों के झांसे में आकर ठगे गए हैं। वो भी मुकदमा दर्ज होने की सूचना मिलने पर नेहरू कॉलोनी थाने में पहुंच सकते हैं। आरोपियों ने वर्ष मार्च से जून के बीच पीड़ितों से यह रकम ठगी है। पीड़ितों को फार्मेसी स्टोर के अलावा क्लर्क, पंचकर्म यूनिट, फार्मासिस्ट, लैब टैक्निशियन, नर्सिंग पदों पर नौकरी का झांसा दिया।

यह भी पढ़ें : पंजाब के कबूतरबाजों ने नैनीताल की महिला से की कनाडा भेजने के नाम पर 2.4 लाख की धोखाधड़ी

नैनीताल, 1 अक्टूबर 2018।  नैनीताल नगर की एक महिला को अज्ञात सन्देश पर भरोसा करना भारी पड़ गया। वह विदेश जाने के फेर में करीब ढ़ाई लाख रूपये गंवा बैठी है। बताया गया है कि नगर के स्नो व्यू मल्लीताल निवासी महिला राजकुमारी शर्मा के मोबाइल पर एक कंपनी के द्वारा रुद्रपुर केे गाबा चौक स्थित कार्यालय के जरिये कनाडा भेजने के लिए संदेश आया था। महिला ने दर्ज पते पर संपर्क कर सारी औपचारिकताओं को पूरा करते हुए दो लाख चालीस हजार रुपये जमा कर दिये। इसके कुछ दिनों के बाद उसे वाट्सएप पर वीजा भेजा गया। इसे लेकर वह कनाडा जाने के लिए दिल्ली एयरपोर्ट पहुंची तो पता चला कि वीजा फर्जी था। मामले में उसने घटनास्थल रुद्रपुर पुलिस को शिकायत सोंपी किंतु पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं की। इसके बाद वह उत्तराखंड के डीजीपी तक पहुंची और उनसे शिकायत की। डीजीपी के आदेशों पर रुद्रपुर पुलिस ने राजपुरा गुरुजनदेव कॉलोनी पंजाब एमबीएस नगर निवासी करनदीप बरार पुत्र सुखदेव सिंह बरार के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है, और आरोपित की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं।

नैनीताल विधायक के पीआरओ के नाम से एसबीआई के मैनेजर से धोखाधड़ी का प्रयास

नैनीताल। नैनीताल विधायक संजीव आर्य के पीआरओ के नाम से भारतीय स्टेट बैंक की मुख्यालय स्थित मुख्य शाखा प्रबंधक से धोखाधड़ी का प्रयास करने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। मामले में भाजपा नगर अध्यक्ष मनोज जोशी की ओर से कोतवाली पुलिस में लिखित शिकायत कर संबंधित व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की गई है। पुलिस ने जांच प्रारंभ कर दी है।
भारतीय स्टेट बैंक के शाखा प्रबंधक मनीश चौधरी ने बताया कि उन्हें सुबह दो-तीन बार मोबाइल संख्या 9870338455 से फोन आया। पंजाबी लहजे में बोल रहे फोन करने वाले व्यक्ति ने स्वयं को नैनीताल विधायक का पीआरओ बताते हुए उसके चंडीगढ़ स्थित बैंक खाते में बच्चों की फीस के लिए 29 हजार रुपए डालने और यह धनराशि पार्टी कार्यालय में अध्यक्ष से ले लेने को कहा। शंका होने पर चौधरी ने भाजपा के कार्यकर्ताओं से इस संबंध में संपर्क साधा तो पता चला कि ऐसा कोई व्यक्ति विधायक का पीआरओ नहीं है। बात विधायक आर्य तक भी पहुंची, और उन्होंने मामले में पुलिस में शिकायत करने के निर्देश दिये, जिसके बाद भाजपा नगर अध्यक्ष मनोज जोशी ने थाना मल्लीताल में शिकायती पत्र दे दिया है। नगर कोतवाल विपिन चंद्र पंत ने कहा कि मामले की जांच शुरू कर दी है।

हिमालय पर ‘रेलवे स्टेशन ढूंढते’ चीन सीमा पर मिला मध्य प्रदेश का संदिग्ध

  • 6 दिन बाद हैलीकाप्टर के जरिये पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय लाया गया

देश के उत्तराखंड प्रांत के चीन सीमा से सटे पांछू गांव में मध्य प्रदेश के एक संदिग्ध व्यक्ति को भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किया गया है। उसे 6 दिन बाद हैलीकाप्टर के जरिये पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय लाया गया। संदिग्ध अजीब बहकी-बहकी बातें कर रहा है। स्वयं को मध्य प्रदेश के रीवा जनपद का निवासी बता रहे इस व्यक्ति का कहना है कि वह उस अति दुर्गम क्षेत्र में रेलवे स्टेशन ढूंढ रहा था।
अलबत्ता, उच्च हिमालयी-बर्फीले इलाके में काफी समय तक रहने के कारण संदिग्ध व्यक्ति गैंग्रीन रोग से पीढ़ित हो गया है। उसके पैरों की अंगुलिया एक तरह से सड़ सी गयी हैं। इसे देखते हुए उसे इलाज के लिए पिथौरागढ़ के जिला चिकित्सालय में भर्ती किया गया है, जहाँ चिकित्सकों की टीम उसके इलाज में जुट गयी है। अलबत्ता, उच्च हिमालयी इलाकों में बर्फबारी के हालिया सर्दियों के मौसम में कैसे पांछू गांव तक जा पहुंचा, इसका फिलहाल पता नही चल पाया है। फिलहाल वह अपना नाम-पता भी ठीक से नहीं बता रहा है। चीन सीमा से जुड़ा मामला होने के चलते स्थानीय और केंद्रीय गुप्तचर एजेंसियां उससे पूछताछ करने व सही कारण जानने का प्रयास कर रही हैं। वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला होने के कारण प्रशासन भी इस मामले में जानकारी देने से बच रहा है।  

इनपुट: मनोज चंद, पिथौरागढ़।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….।मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

One thought on “नई तरह की ठगी: हल्द्वानी में स्टार स्काई शॉप के नाम पर फर्जीवाड़े के आरोप में महिलाओं का गिरोह दबोचा

Leave a Reply