News

नैनीताल: अधिवक्ता के घर काम करने वाली महिला ने उड़ाए 5 हजार, गिरफ्तार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 जनवरी 2021। नैनीताल के मल्लीताल मनकापुर क्षेत्र निवासी एक अधिवक्ता भगवत मेहरा के घर से पांच हजार की चोरी का मामला सामने आया है। मामले में पुलिस ने तहरीर के आधार पर घर में काम करने वाली महिला के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 380 व 411 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। महिला को पकड़ भी लिया गया है।
पुलिस के अनुसार अधिवक्ता भगवत मेहरा ने पुलिस को तहरीर सौंपकर कहा है कि उन्होंने घर में 24 हजार की नकदी रखी हुई थी। मंगलवार सुबह रकम में से पांच हजार रुपये कम मिले। छानबीन करने पर घर में काम करने वाली महिला के पास पांच हजार की धनराशि पाई गई। उसके बाद अधिवक्ता ने 112 नंबर पर कॉल कर पुलिस को सूचना दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस पूछताछ के लिए महिला को कोतवाली ले आई। एसआई सोनू बाफिला ने बताया कि तहरीर के आधार पर अधिवक्ता के घर काम करने वाली मल्लीताल निवासी महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। मामले की जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें : खुले कराने के बहाने महिला यात्री के पूरे रुपए ले भागा ऑटो चालक, बच्चे संग भटकती रही महिला…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 1 नवम्बर 2020। हल्द्वानी में रविवार सुबह एक महिला यात्री को टेंपो चालक की धोखेबाजी का शिकार हो गई। महिला ने अपने बच्चे के साथ एक ऑटो से उतरने पर ऑटो चालक को किराए के लिए पांच सौ रुपए का नोट दिया। मगर चालक नोट खुले कराने का बहाना बनाकर फरार हो गया। आरोप है कि महिला के चिल्लाने के बावजूद पास में मौजूद टेंपो यूनियन के मुंशी और ड्यूटी पर तैनात होम गार्ड आदि ने उसकी कोई मदद नहीं की। समस्या यह भी रही कि महिला के पास और पैसे नहीं थे, इस कारण वह अपने बच्चे संग टैक्सी स्टैंड पर भटकने को मजबूर हुई।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक फतेहपुर निवासी कमला रविवार सुबह वह अपने बच्चे के साथ अपने मायके गरमपानी जाने के लिए 500 रुपए का नोट लेकर घर से निकली। घर से कालाढूंगी रोड के टेंपो स्टैंड तक पहुंचने पर आटो चालक ने उसके साथ यह वारदात की। अपना एकमात्र 500 का नोट इस तरह लुट जाने से महिला अपने मायके या घर लौटने की स्थिति में भी नहीं रही। बाद में कुछ राहगीरों व आसपास के लोगों ने उसकी मदद की।

नैनीताल, 1 नवम्बर (हि.स.)।
हिन्दुस्थान समाचार/नवीन जोशी

Leave a Reply

loading...