News

नैनीताल : शहर में गुलदार ने बड़ी गाय को मार डाला

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
नवीन समाचार, नैनीताल, 23 सितंबर 2020। अब तक जिला-मंडल मुख्यालय नैनीताल में केवल गुलदारों के दिखाई देने के समाचार आते थे, लेकिन संभवत पहली बार गुलदार ने नगर क्षेत्र में एक गाय को मार डालने की बड़ी घटना को अंजाम दिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार की रात्रि गुलदार ने नगर के बेकंबरी कंपाउंड स्नोव्यू निवासी प्रेम राम की गाय को अपना शिकार बना डाला। इस घटना के बाद से क्षेत्र में जहां लोगों में रोष है, वहीं भविष्य में गुलदार के द्वारा किसी अन्य बड़ी घटना को अंजाम दिए जाने की आशंका से भय भी व्याप्त हो गया है। बताया गया है कि गौ स्वामी ने मंगलवार को गाय चराने के लिए जंगल भेजी थी लेकिन रात्रि तक न लौटने पर उसकी तलाश की गई। बुधवार सुबह वह बिड़ला चुंगी से पुराना राजभवन जाने वाले मार्ग पर मृत अवस्था में मिली। इस बारे में पूछे जाने पर डीएफओ बीजू लाल टीआर ने कहा कि आवश्यक औपचारिकताएं पूरी कर लेने पर प्रभावित व्यक्ति को गाय की मृत्यु का 15000 रुपए मुआवजा तत्काल दिया जाएगा। उन्होंने कहा की लॉकडाउन के उपरांत वन्य जीवों की संख्या एवं आवासीय स्थानों में आवाजाही बढ़ी है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि कोई वन्य जीव किसी पालतू पशु को मार जाता है, तो उसे मारे गए पशु को खाने भी दिया जाना चाहिए। इससे उसके द्वारा निकट भविष्य में नया शिकार किए जाने की संभावना कम होती है।

यह भी पढ़ें : खूब लड़ी मर्दानी: दराती से गुलदार से लड़ी और भगा दिया

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 21 सितंबर 2020। अल्मोड़ा जिले के सल्ट ब्लॉक के कालीगाढ़ ग्राम पंचायत के तल्ला बिरल गांव में एक महिला शक्ति का प्रतीक बन गई। वह उसकी जान लेने आए गुलदार से दराती लेकर भिड़ गई और उसे भगाकर ही दम लिया। हुआ यह कि गांव के एक मासूम को मार डालने के बाद सोमवार शाम तीन-चार महिलाएं खेतों से घास लेकर जंगल से लौट रही थीं। तभी बरसात में ऊंची घास में छुपे तेंदुए ने उन पर हमला बोल दिया। इस पर एक महिला-प्रताप सिंह की पत्नी मधुली देवी दराती लेकर-मर्दानी बन तंेदुवे से अकेले भिड़ गई। तीन-चार मिनट तक दोनों के बीच जबर्दस्त संघर्ष हुआ। साथी महिलाओं ने भी शोर मचाकर उसे तेंदुए के चंगुल से छुड़ा लिया। उसके चेहरे, गर्दन व बाह पर नाखून के गहरे निशान हैं। आखिरकार संघर्ष के बाद महिला को छोड़कर तेंदुआ जंगल की ओर भाग गया। हमले में महिला भी बुरी तरह जख्मी हो गई है। उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र देवायल ले जाया गया है। क्षेत्रीय लोगों ने गुलदार को पिंजड़ा लगा कर कैद करने की मांग उठाई है। इधर रतखाल बाजार के पास एक गुलदार के गायों के झुंड के बीच से बछिया को उठा कर पेड़ पर चढ़ने की घटना भी प्रकाश में आ रही है। इससे भी लोगों में भय व्याप्त है।

यह भी पढ़ें : ‘नवीन समाचार’ Exclusive : अब नैनीताल के गांव में गुलदार का महिला पर हमला, जीवन-मृत्यु के बीच झूल रही महिला को पीठ व बाइक पर लाए सड़क तक

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 सितंबर 2020। पहाड़ में गुलदार का आतंक जारी है। अब ताजा घटना नैनीताल जनपद के ग्राम बेल में घटित हुई है। हल्द्वानी के निकट लामाचौड़, फतेहपुर से करीब 20 किमी दूर स्थित इस गांव में रविवार सुबह करीब नौ बजे करीब 40 वर्षीय महिला ममता देवी पत्नी हरक सिंह मटेला घास लेने जंगल गई थी, तभी गुलदार ने उसके गले पर हमला कर दिया। गनीमत रही कि उसके साथ कुछ पुरुष भी घास लेने गए हुए थे। उन्होंने शोर मचाकर और पत्थर मारकर बमुश्किल महिला को गुलदार के जबड़ों से बचाया और पीठ से कच्ची सड़क तक व वहां से बाइक से पक्की सड़क बसानी तक लेकर आए और किसी तरह हल्द्वानी के बेस चिकित्सालय में भर्ती कराया। जहां वह जीवन-मृत्यु के बीच झूल रही है। बताया जा रहा है कि उसका ऑपरेशन किया जा रहा है। महिला की दो लड़कियां व एक लड़का है। महिला के पड़ोस में रहने वाले धीरज जेम्स ने बताया कि गांव में काफी दिनों से गुलदार का आतंक बना हुआ है। अब तक गुलदार घरेलू पशुओं को शिकार बनाता रहा है, पर गांव के किसी इंसान पर उसने पहली बार हमला किया है। यह जंगल के बीच बसे गांव के बाहरी जंगल में जैव विविधता के घटने का प्रमाण और चिंताजनक संकेत हो सकता है।

यह भी पढ़ें : दिन के उजाले में बच्चों के साथ खेलती बच्ची को ले गया गुलदार…

नवीन समाचार, भिकियासैंण (अल्मोड़ा), 19 सितंबर 2020। भिकियासेंण नगर पंचायत के बाराकोट वार्ड में शनिवार शाम छह बजे दिन के उजाले में ही घर के पास खेल रही सात वर्षीय व कक्षा दो में पढ़ने वाली बच्ची को गुलदार ने मार डाला। जबकि उसके साथ के तीन अन्य बच्चे हमले में बाल-बाल बच गए। उनकी चीख पुकार सुन आसपास के लोग बच्ची को बचाने के लिए दौड़े। लेकिन बच्ची को बचाया नहीं जा सका। वन संरक्षक (कुमाऊं) प्रवीण कुमार व डीएफओ महातिम सिंह यादव ने ने वन क्षेत्राधिकारी मोहन राम आर्या को विभागीय टीम के साथ कांबिंग करने के निर्देश दिए। एसडीएम ने पुलिस व राजस्व की टीम के साथ गश्त तेज की। लगभग डेढ़ घंटे तक चले सर्च अभियान के घटना स्थल के 15 फिट दूर ही घनी झाडियों के बीच बच्ची का शव बरामद हुआ। लोगों का कहना था कि यदि नगर पंचायत की ओर से सफाई अभियान चला कर समय पर झाडियां काटी जाती तो गुलदार आबादी के बीच से बच्ची को नहीं उठा पाता।
प्राप्त जानकारी के अनुसार भिकियासेंण बाजार क्षेत्र से करीब डेढ़ किमी दूर नगर पंचायत के ही बाराकोट वार्ड मंे रहने वाले गिरीश बिष्ट की 7 वर्षीय पुत्री दिव्या घर से 50 मीटर की दूरी पर आम के पेड़ के नीचे तीन अन्य बच्चों के साथ खेल रही थी। तभी झाडियों के बीच से निकलकर गुलदार उसे उठा ले गया। यह मंजर देख साथ खेल रहे तीन बच्चे बदहवास हो चिल्लाने लगे। इस पर दिव्या की मां कविता व आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने हिम्मत जुटा कर गुलदार का पीछा किया। साथ ही पुलिस प्रशासन को भी सूचना दी। बाद में उसका शव बरामद होते ही क्षेत्र में कोहराम मच गया। मां कविता देवी गश खाकर गिर पड़ी। क्षेत्र में दहशत व गम का माहौल है।
उल्लेखनीय है कि पहाड़ में मानव-वन्य जीव व खासकर गुलदार मानव संघर्ष कई लोगों की जान ले चुका है। वर्ष 2018 में अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत व पिथौरागढ़ में गुलदार मानव संघर्ष में 12 ग्रामीणों जान गवां बैठे, जबकि 70 घायल हुए। वहीं 2019 में 15 शिकार बने, और 75 घायल हुए। इसी तरह 2020 में अब तक गुलदार के हमले में पांच लोग मारे जा चुके हैं और 42 घायल हुए हैं। वहीं अल्मोड़ा डिवीजन (रिजर्व व सिविल) में पिछले पांच साल में अब तक 21 लोग जान गंवा चुके हैं। बीती छह जुलाई की शाम जनपद के डूंगरी ग्राम पंचायत (भैंसियाछाना ब्लॉक) के उडल तोक में ढाई वर्षीय बच्चे और इसके तीन दिन बाद ही पेटशाल में बुजुर्ग महिला को गुलदार ने निवाला बना लिया था। इन तीन वर्षों में चार जिलों में तीन गुलदारों को नरभक्षी होने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी, जबकि कुल 40 गुलदार मारे गए। उल्लेखनीय है कि राज्य गठन से अब तक 155 गुलदार आदमखोर घोषित किए जा चुके हैं और इनमें से 90 से अधिक अधिकृत शिकारियों की गोलियों का शिकार बने।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : घर के बाहर चेन से बंधे कुत्ते को मारकर खा गया वन्य जीव

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 सितंबर 2020। नगर के अयारपाटा क्षेत्र में गुलदार घर के बाहर चेन से बंधे कुत्ते को मारकर उसका काफी हिस्सा खा गया। यह घटना शनिवार सुबह करीब सवा छह बजे की है। कुत्ता नगर के मल्लीताल में व्यवसायी पैंडनिस कोठी अयारपाटा निवासी अबरार खान का था। उन्होंने बताया कि वन्य जीव शोर सुनकर वह मौके पर पहुंचे तो कुत्ता मरा पड़ा था। माना जा रहा है कि गुलदार ने कुत्ते को मारा है।

यह भी पढ़ें : दो महिलाओं के बाद अब खुद से बड़े घोडे़ को खा गया गुलदार

नवीन समाचार, काठगोदाम, 24 अगस्त 2020। जनपद के काठगोदाम क्षेत्र में गुलदार का आतंक लगातार बना हुआ है। दो महिलाओं को शिकार बनाने के बाद अब गुलदार ने अपने से बड़े आकार के एक घोड़े को मार डाला है। इससे क्षेत्रीय लोगों में वन विभाग के प्रति खासा आक्रोश है कि इतनी वारदातों के बावजूद वन विभाग लोगों को गुलदार के भय से मुक्त नहीं करा पा रहा है। क्षेत्रीय लोगों ने घोड़ा मालिक को घोड़े की कीमत सहित पूरा मुआवजा देने की मांग भी उठाई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गुलदार ने देर रात प्रतापगढ़ी क्षेत्र में एक घोड़े पर हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया। सूचना मिलने पर ग्राम प्रधान कलावती थापा और पूर्व जिला पंचायत सदस्य संजय साह घटनास्थल पर पहुंचे और उन्होंने मामले की जानकारी वन विभाग को दी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण शुरु से ही गुलदार के आतंक से निजात दिलाने की मांग कर रहा है लेकिन अभी तक वन विभाग द्वारा मामले में उचित कार्रवाई नहीं की गई है। उन्होंने वन विभाग से गुलदार के आतंक से निजात दिलाने की मांग भी की है।

यह भी पढ़ें : क्या इतनी खराब हुई नैनीताल की जैव विविधता ? जू के पास नन्ही सी बिल्ली पर झपटते कैमरे में कैद हुआ विशाल गुलदार

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 अगस्त 2020। सरोवरनगरी में बीती रात्रि एक छोटी परंतु निहितार्थ निकालने में बड़ी घटना हुई है। हुआ यह कि नगर के चिड़ियाघर के पास कैंट क्षेत्र में स्थित चंदन सिंह अधिकारी के घर में एक विशालकाय गुलदार एक नन्ही सी बिल्ली पर दो बार झपटता हुआ सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है। यह घटना कई मायनों में चिंताजनक है। एक तो यह अपनी तरह का पहला नहीं। कई बार इस घर में गुलदार आ चुका है और कैमरे में इस तरह कैद भी हो चुका है। पिछली बार तो वह घर के एक कुत्ते को ले जाते हुए कैमरे में कैद हुआ था। जबकि इस बार वह सफेद रंग की बिल्ली पर झपटता जरूर नजर आया है, परंतु बिल्ली को मार कर नहीं ले गया। किंतु गृह स्वामी चंदन सिंह अधिकारी का कहना है कि घर से 6-7 बिल्लियां पूर्व में गायब हो चुकी हैं, इसलिए उन्हें लगता है कि बिल्ली प्रजाति का ही बड़ा वन्य जीव होने के बावजूद गुलदार उनकी बिल्लियों को भी खा गया है। वहीं एक सवाल यह भी है कि यह क्षेत्र नैनीताल चिड़ियाघर से सटा हुआ है। ऐसे में यह सवाल भी उठ रहा है कि इस क्षेत्र में लगातार गुलदारों के आने का कारण यहां पास में चिड़ियाघर का होना और चिड़ियाघर के अंदर कई गुलदारों व वन्य वन्य जीवों का होना तो नहीं है। और इससे भी बड़ा व सबसे बड़ा सवाल यह कि क्या क्षेत्र की जैव विविधता इतनी कमजोर हो गई है विशाल गुलदार को अपनी ही प्रजाति की नन्ही सी बिल्ली को शिकार करना पड़ रहा है।
देखें विडियो :

इन प्रश्न पर प्रभागीय वनाधिकारी एवं नैनीताल चिड़ियाघर के निदेशक बीजू लाल टीआर ने कहा कि चिड़ियाघर में वन्य जीवों को मांस दिये जाने की वजह से क्षेत्र में गुलदारों के आने का कारण हो सकता है। लेकिन उन्होंने क्षेत्र की जैव विविधता के कमजोर होने से इंकार किया। साथ ही कहा कि गुलदारों द्वारा बिल्लियों का शिकार किये जाने की घटना पहले कभी प्रकाश में नहीं आई है। इस बारे में वह रेंजर को मौके पर भेजकर जांच करवाएंगे।

यह भी पढ़ें : पिंजड़े में फंसा गुलदार

नवीन समाचार, नैनीताल, 3 अगस्त 2020। मुख्यालय के निकटवर्ती कालाढुंगी रोड स्थित चारखेत गांव में एक गुलदार सोमवार सुबह पिंजड़े में फंस गया है। इसके बाद वन विभाग ने पकड़े गए गुलदार को रानीबाग स्थित रेस्क्यू सेंटर भेज दिया है। गुलदार की उम्र दो से ढाई वर्ष बताई गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सुबह तड़के करीब साढ़े पांच बजे ग्रामीणों को गुलदार के पिंजड़े में फंसे होने की सूचना मिली। उन्होंने वन विभाग के रेंज अधिकारी प्रमोद तिवारी को इसकी सूचना दी। इस पर वन विभाग की टीम सुबह नौ बजे के करीब मौके पर पहुंची और पिंजरे में फंसे गुलदार को रानीबाग भिजवा दिया। श्री तिवारी ने बताया कि करीब एक माह पूर्व चारखेत में गुलदार द्वारा दो बकरियों व एक कुत्ते को निवाला बनाने की घटनाएं सामने आई थी। इसके बाद गांव के पास पिंजड़ा लगाया गया था, जिसमें यह गुलदार फंसा है।

यह भी पढ़ें : अल-सुबह शहर के बीचों-बीच कुत्ते पर झपटा गुलदार का शावक

नवीन समाचार, नैनीताल, 01 अगस्त 2020। गुलदार अब नगर के बीचों-बीच भी आने लगे हैं। बीती रात्रि नगर के मल्लीताल रिक्शा स्टेंड के करीब तक एक गुलदार के शावक के आने की जानकारी है। शावक द्वारा एक कुत्ते पर भी झपटने की जानकारी है, लेकिन शावक छोटा होने की वजह से कुत्ते को मार नहीं पाया। जानकारी के बाद वन विभाग की टीम ने भी मौका मुआयना किया है। वन विभाग की टीम में शामिल रहे निमिष दानू ने बताया कि गुलदार के शावक के पैरों के निशान भी क्षेत्र में पाये गये हैं। पैरों के निशान के आधार पर वह करीब दो वर्ष की उम्र का लगता है। घटना सुबह चार बजे के आसपास हुई बताई जा रही है।

यह भी पढ़ें : ‘हनीमून नगरी‘ में अठखेलियां करते महिला छायाकार के कैमरे में कैद हुआ गुलदार का जोड़ा…

नवीन समाचार, नैनीताल, 30 जुलाई 2020। लॉक डाउन के दौरान घटी मानवी सक्रियता का वन्य जीव पूरा आनंद उठा रहे हैं। बुधवार को नगर के बारापत्थर की पहाड़ियों में एक ऐसा दृश्य कैमरे में कैद हुआ है जो देखने में तो रोमांच पैदा करने वाला ही है, किंतु जब आप यह जानेंगे कि यह दृश्य किसी पुरुष नहीं एक महिला छायाकार ने कैमरे में कैद किये हैं तो रोमांच के साथ कुछ अलग भावनाएं भी आपके मन में जरूर उठेंगी और आप उस महिला छायाकार की हिम्मत की दाद दिये नहीं रह पाएंगे।
नगर की छायाकार रत्ना साह ने बृहस्पतिवार को शाम ढलते समय सूर्य की आखिरी किरणों के बीच मस्ती करते हुए अपनी मौजूदगी से ही भय से रोम-रोम को सिंहरा देने वाले एक नहीं दो-दो गुलदारों को एक साथ अपने कैमरे में कैद करने में सफलता पाई। माना जा रहा है कि युवा गुलदारों का यह जोड़ा मानवों के बीच ‘हनीमून नगरी’ के रूप में भी प्रसिद्ध सरोवरनगरी में संभवतया एक-दूसरे से प्रणय निवेदन करने अथवा नगर की इस खाशियत को भांपने या इसका आनंद लेने आये हुए हों। इस दौरान इन गुलदारों ने बारापत्थर के विशाल पत्थरों पर यहां से वहां खूब अठखेलियां कीं।
रतना ने बताया कि रोजाना वह गुलदारों को बारापत्थर क्षेत्र में देखे जा रहे है। जिससे यहां के लोगो में दहशत का माहौल है। इधर बारापत्थर क्षेत्र में दो गुलदार एक साथ देखे गए। जिसके बाद से वहां भय का माहौल बना हुआ है। स्थानीय लोगों ने क्षेत्र में पिंजड़ा लगाए जाने तथा ट्रैप कैमरा लगाए जाने की मांग की है। साथ ही विभागीय कर्मचारियों की ओर से गस्त किए जाने को लेकर अधिकारियों से पत्राचार किया गया है।
रत्ना ने बताया कि गुलदारों का जोड़ा रोज नगर के बारापत्थर क्षेत्र में देखा जा रहा है। इससे यहां के लोगो में दहशत का माहौल है। इसी सूचना पर वह क्षेत्र में गई थीं और गुलदारों के जोड़े को अपने कैमरे में कैद किया। स्थानीय लोगों ने क्षेत्र में पिंजड़ा लगाए जाने तथा ट्रैप कैमरा लगाए जाने की मांग की है। साथ ही विभागीय कर्मचारियों की ओर से गस्त किए जाने को लेकर अधिकारियों से पत्राचार किया गया है।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग नैनीताल : नैना गांव से बेलुवाखान के बीच घात लगाये बैठा मिला गुलदार

नवीन समाचार, भवाली, 29 जुलाई 2020। बेलुवाखान-नैना गांव के बीच गुलदार की लगातार उपस्थिति बनी हुई है। इन दिनों यह गुलदार लगातार सक्रिय बना हुआ है और दोपहिया वाहनों पर झपटने भी लगा है, इसलिए शाम ढलने के बाद इस मार्ग पर दोपहिया वाहनों को विशेष सतर्कता बरतने, समूह में चलने की आवश्यकता है।
नगर के गोविंद बल्लभ चिकित्सालय-रैमजे हॉस्पिटल में फार्मासिस्ट के पद पर कार्यरत दीपक कुमार ने ‘नवीन समाचार’ को बताया कि बुधवार शाम वह हल्द्वानी की ओर स्कूटी से जा रहे थे। इस दौरान शाम छह बजकर 20 मिनट पर नैना गांव से करीब एक किलोमीटर आगे गुलदार पैरापिट के पीछे घात लगाकर छुपा बैठा हुआ था। दीपक ने उसे देखा तो स्कूटी को भगाकर किसी तरह अपनी जान बचाई। ऐसे में हड़बड़ी में दुर्घटना की भी आशंका थी। उल्लेखनीय है कि इसी क्षेत्र में गुलदार दोपहिया वाहन सवारों पर हमला कर चुका है। इससे पूर्व भी इस क्षेत्र में नैना गांव से रिया गांव एवं बेलुवाखान में गुलदार कई घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं।

यह भी पढ़ें : चिड़ियाघर के पास 15 सेकेंड में ‘डबल अटैक’ कर घर के भीतर से कुत्ते को ले गया गुलदार..

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 जुलाई 2020। जिला-मंडल मुख्यालय में बीती रात्रि चिड़ियाघर के पास हुई एक घटना से सनसनी फैल गई। यहां 21 सेकेंड के भीतर कुत्ते पर दो बार हमला करके वयस्क-विशाल गुलदार एक कुत्ते को घर के भीतर की गली से ले गया। बड़ी बात यह भी है गली के ठीक सामने से घर की बेटी पढ़ाई कर रही थी, और दरवाजा भी खुला था। पूरी घटना घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुई है, जिसमें दिख रहा है कि गुलदार वीडियो के पांचवे सेकेंड में घर के आंगन से होते हुए अंदर गैलरी में जाते कुत्ते के पीछे जाता है और 17वें सेकेंड तक वहां कुत्ता न मिलने पर वापस लौट जाता है। इस बीच 19वें सेकेंड के गुलदार की आहट सुन वहां अंदर की ओर से कुत्ता आ जाता है, जिसे गुलदार अगले दो-तीन सेकेंड के अंदर ही दबोच कर चला जाता है। इस घटना के अगले तीन-चार सेकेंड के भीतर ही घर की बेटी भी वहां आ जाती है, और कुत्ते को गुलदार द्वारा ले जाये जाने पर माथा पीटती है।
देखें विडियो :

यह मामला नगर के चिड़ियाघर से लगे छावनी क्षेत्र स्थित चंदन सिंह अधिकारी के घर का है। श्री अधिकारी ने बताया कि जंगल व चिड़ियाघर से लगे क्षेत्र में होने के कारण घर के आसपास अक्सर गुलदार आता रहता है। पिछले वर्ष भी इसी तरह गुलदार के घर में आने की घटना कैमरे में कैद हुई थी। उन्होंने बताया कि घर में कुल नौ कुत्ते हैं, जिनमें से एक को गुलदार ले गया। जिस जगह से गुलदार कुत्ते को ले गया, वहीं पर खुले दरवाजे के भीतर बेटी पढ़ रही थी, जो कुत्ते की चीख सुनते ही घर के बाहर आई। उल्लेखनीय है कि नगर में वन्य जीवों के आने की घटनाएं होती रहती हैं। पिछले वर्षों में गुलदार से लेकर भालू तक शहर में आ चुके हैं। इधर लॉक डाउन के बाद से वन्य जीवों के शहर में आने की अधिक घटनाएं प्रकाश में आ रही हैं। ऐसे में सतर्क रहने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें : महिला को गुलदार ने मार डाला, इसी आदमखोर ने 22 जून को भी महिला को मार डाला था !

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 11 जुलाई 2020। काठगोदाम के गौजा बैराज के निकट शेरकोट के जंगल में गुलदार ने सुबह-सुबह एक महिला को मौत के घाट उतार दिया है। महिला के शव को बरामद कर लिया गया है। उसकी पहचान गौला बैराज काठगोदाम निवासी 62 वर्षीया महिला पुष्पा देवी पत्नी स्वर्गीय मोहन सांगुड़ी के रूप में हुई है। काठगोदाम के थाना प्रभारी नंदन सिंह रावत ने घटना की पुष्टि करते हुए यह भी बताया कि क्षेत्र में लगातार नजर आ रहा है। बीती शाम पौने सात बजे काठगोदाम थाने के पास हनुमान मंदिर के पास भी गुलदार दिखाई दिया था। उल्लेखनीय है कि गत 22 जून को इसी क्षेत्र के सोनकोट गांव की 58 वर्षीया महिला को भी गुलदार ने मार दिया था। आज महिला को मारने वाला गुलदार भी वही माना जा रहा है। इस प्रकार गुलदार के आदमखोर होने के दृष्टिगत उसे मारने की मांग भी उठ सकती है। फिलहाल क्षेत्र में महिला की मौत से दहशत है। बताया गया है कि महिला आज सुबह ही तीन-चार महिलाओं के साथ घास काटने जंगल में गई थी। तभी जंगल में गुलदार ने उसे दबोच लिया और गले में वार कर उसे मार डाला।

यह भी पढ़ें : दो दिन के भीतर गुलदार का दूसरा शिकार बनी महिला, बुरी तरह क्षत-विक्षत मिला शव

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 8 जुलाई 2020। अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ मार्ग मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर पेटशाल गांव में दो दिन के भीतर नरभक्षी गुलदार द्वारा एक और निवाला बनाने की खबर है। दो दिन पूर्व यहां उडल-डुंगरी गांव में मां की गोद से एक दो वर्षीय बालक को आदमखोर छीन ले गया था, जबकि अब एक 75 वर्षीया वृद्ध महिला आनंदी देवी पत्नी हरीश राम उसका शिकार बनी है। महिला के पति का निधन हो चुका है, और दो बेटियों की भी शादी हो चुकी है। इसलिए वह अकेली रहती थी। बताया गया है कि वह मंगलवार से गायब थी। इस पर किसी ने ध्यान भी नहीं दिया। इधर आज उसका शव अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ मार्ग से कुछ ऊपर व उसके घर से कुछ नीचे बेहद क्षत-विक्षत अवस्था में मिला है।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक कल से गायब आनंदी की स्थानीय पुलिस व ग्रामीणों के द्वारा खोज की जा रही थी। बुधवार शाम उसका क्षत-विक्षत शव घर से कुछ ही दूरी पर बरामद हुआ।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग : ढाई साल के मासूम को मार गया गुलदार, सिर विहीन शव मिलने की प्रारंभिक सूचना

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 6 जुलाई 2020।जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर पिथौरागढ़ मार्ग पर पेटशाल के पास आदमखोर हुए गुलदार के द्वारा एक ढाई वर्ष के मासूम बच्ची को मौत के घाट उतारने व प्रारंभिक जानकारी के अनुसार बच्चे का सिर विहीन धड़ बरामद होने का दिल दहलाने वाला समाचार है। घटना के बाद क्षेत्र में दहशत एवं वन विभाग के प्रति आक्रोश व्याप्त हो गया है। क्षेत्रवासी आदमखोर के भय से मुक्ति दिलाने की मांग कर रहे हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार डुुंगरी के उडल गांव में दीपक व हेमा मेहरा के दो बच्चे हैं। एक नवजात बच्ची का दो दिन पूर्व ही नामकरण हुआ है, जबकि बड़ा बेटा दो साल का था। सोमवार अपराह्न करीब तीन बजे हेमा अपने बच्चे को बरामदे में गोद में लेकर बैठी थी, तभी घात लगाकर बैठा गुलदार उसकी गोद से बच्चे को छीनकर ले गया। बाद में बच्चे का क्षत-विक्षत शव घर से करीब 300 मीटर दूर मिल पाया। उल्लेखनीय है कुछ माह पूर्व भी इसी क्षेत्र में एक राजमिस्त्री बताये जाने वाले ग्रामीण की गुलदार ने हत्या कर दी थी।

यह भी पढ़ें : अभी-अभी काठगोदाम के पास गांव में महिला की गुलदार के हमले से मौत

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 22 जून 2020। काठगोदाम के पास गुलाबघाटी के पास सोनकोट गांव में अभी-अभी एक करीब 58 वर्षीया महिला पर गुलदार द्वारा हमला करने और घटना में महिला की मौत होने की सूचना आ रही है। बताया जा रहा है कि महिला जंगल में घास लेने गई थी, इसी दौरान उस पर गुलदार द्वारा हमला किया। घटना की सूचना के बाद वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच रही है। महिला की मौत के बाद उसके घर में कोहराम मच गया है।
बताया गया है कि आज मंगलवार सुबह लगभग 9:30 बजे भगवती देवी पत्नी पूरन सिंह अनेरिया उम्र 58 वर्ष अपने दो अन्य परिजनों के साथ रानीबाग चौहानपाटा सौनकोट पट्टी चोपड़ा, तहसील व जिला नैनीताल अपने घर के ऊपर फतेहपुर रेंज जंगल में लगभग 300 मीटर दूर स्थित भूमिया देवी मंदिर में पूजा करने जा रहे थे कि घर से वह भी 100 मीटर दूर भी नहीं पहुंचे थे बाघ ने हमला कर दिया।
महिला को गुलदार काफी दूर घसीट कर ले गया। बाद में गांव वालों ने महिला का शव जंगल से बरामद किया। घटना के बाद गांव में महिला की मौत से दुःख एवं कोहराम के साथ ही वन्य जीवों से भय भी व्याप्त हो गया है। महिला के पति पूरन सिंह एवं बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है। लोग महिला के परिजनों को वन विभाग से मुआवजे की मांग भी कर रहे हैं। वन संरक्षक दक्षिणी कुमाऊं एवं मुख्यमंत्री के सचिव डा. पराग मधुकर धकाते ने बताया कि कल तक महिला के परिजनों को तीन लाख रुपए की मुआवजा धनराशि उपलब्ध करा दी जाएगी।

प्रकृति की मन भर सुंदरता के बावजूद विकास का एक अंश भी नहीं डानीजाला गांव में

यह भी पढ़ें : जिम कार्बेट के घर के पास गार्ड पर झपटा गुलदार

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जून 2020। लॉक डाउन होने के बाद से वन्य जीवों का शहरों में आने का सिलसिला बढ़ा है। इसी कड़ी में नगर के अयारपाटा वार्ड में गुलदार दिखाई दे रहा है। यहां एक गुलदार बीती रात्रि नौ बजे एक गार्ड अविनाश कुमार पर झपट पड़ा। खास बात यह भी रही कि यह घटना अंग्रेजी दौर में आदमखोर बाघों के सुप्रसिद्ध शिकारी रहे जिम कार्बेट के घर गर्नी हाउस के पास हुई। बताया गया है कि अविनाश रात्रि की ड्यूटी में घर से खाना लेकर लौट रहा था, तभी गुलदार उस पर झपट पड़ा। क्षेत्रीय सभासद मनोज साह जगाती ने बताया कि घटना शुक्रवार रात्रि की है। तब संपर्क न हो पाने के बारण रविवार को संबंधित व्यक्ति ने उन्हें इसकी सूचना दी। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को घटना की सूचना देकर आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है। इधर बताया जा रहा है कि क्षेत्र में स्ट्रीट लाइटों के गुल रहने से भी गुलदारों के होंसले बुलंद हैं।

यह भी पढ़ें : बड़ा दुःखद समाचार: किसान पर कहर बन कर टूटी बीती रात, गौशाला में 80 बकरियां मृत मिलीं

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 जून 2020। बीती रात्रि मुख्यालय के निकटवर्ती, जिम कार्बेट पार्क से लगे, कार्बेट रेंज के एक गांव जलालगांव में बीती रात्रि एक विकलांग पशु पालक किसान पर कहर बन कर टूटी। सुबह घर के पास बनी गौशाला में 80 बकरियां मृत मिलीं। बकरियों के गले व अन्य हिस्सों पर घाव के निशान देखे गये हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पिछले दो-तीन दिनों से गांव के पास गुलदारों की गुर्राहट सुनाई दे रही थी। माना जा रहा है कि गुलदारों ने ही बकरियां मारी हों। जिस तरह इतनी बड़ी संख्या में बकरियां मारी गई हैं, उससे संभावना व्यक्त की जा रही है कि गुलदार भी संख्यामें अधिक होंगे। इस घटना के बाद पूरे गांव में दहशत का माहौल है, जबकि बकरियां बेचकर ही जीवन यापन करने वाले पीड़ित परिवार को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। उसकी आजीविका का साधन ही उजड़ गया है। घटना में एक दुःखद पक्ष वन विभाग की ओर से है। दो दिन पूर्व गांव के आसपास गुलदार देखे जाने की सूचना के बावजूद विभागीय कर्मी गांव में नहीं आये, और आज सूचना दिये जाने के बाद पीड़ित विकलांग किसान की मदद को स्वयं तत्परता दिखाते हुए उसकी यथासंभव मदद को जाने के बजाय उसे कालाढुंगी आने को कहा गया है। बमुश्किल भाजपा नेता के द्वारा डपटने के बाद वन कर्मियों के गांव की ओर जाने की सूचना है।
जलालगांव के ग्राम प्रधान गिरधर सिंह ने बताया कि गांव निवासी करीब 65 वर्षीय बची सिंह फालिज ग्रस्त हैं। उन्होंने परिवार की आजीविका चलाने के लिए घर से करीब 20 मीटर दूर गौशाला बनाकर करीब 90 बकरियां पाली हुई थीं। आज सुबह जब परिवार के लोग बकरियों को देखने गये तो वहां करीब 80 बकरियां मृत एवं अन्य के भी घायल मिलने से सन्न रह गये।  बताया गया है जलालगांव नैनीताल जनपद के भीमताल विकास खंड के अंतर्गत कालाढुंगी वन क्षेत्रांतगर्तन देचौरी बीट में आता है।
उन्होंने ग्राम प्रधान एवं वन विभाग की कालाढुंगी रेंज के अधिकारियों को घटना की सूचना दी। मुख्यालय में मौजूद ग्राम प्रधान गांव की ओर लौटे, जबकि वन कर्मियों ने शिकायती पत्र लेकर कालाढुंगी आने को कहा। जानकारी लगने पर भाजपा युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष नितिन कार्की ने वनाधिकारियों को फोन किया, तब जाकर वन कर्मी गांव की ओर रवाना हुए हैं। ग्राम प्रधान गिरधर ंिसंह ने बताया कि उन्होंने दो-तीन दिन पूर्व गांव के बाहर गुलदार देखे जाने की सूचना वन रक्षक पान सिंह को दी थी। उन्होंने गांव में आने की बात कही थी, किंतु कोई नहीं आया। बताया कि जलालगांव वन क्षेत्र से पूरी तरह लगा भी नहीं है। उन्होंने संबंधित वनाधिकारियों को मौके पर भेजने और जांच कराने की बात भी कही है।

यह भी पढ़ें : गुलदार ने बनाया नौवीं कक्षा की बच्ची को निवाला

शाकिर हुसैन @ नवीन समाचार, कालाढूंगी, 6 जून 2020। रामनगर वन प्रभाग के बैलपड़ाव रेंज के अन्तर्गत ग्राम मदनवैल चूनाखान मे गुलदार ने 16 वर्षीय एक बच्ची को निवाला बना लिया। घटना में बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। घटना से क्षेत्र में सनसनी फैल गई वही परिवार वालों का रो-रो कर बुरा हाल है। बताया जा रहा है कि मृतक बालिका कक्षा 9 की छात्रा थी।
जानकारी के अनुसार जंगल से सटे गांव मदनवैल गांव मे मृतका कुमारी ममता पुत्री जीवन लाल अपनी सहलियो के साथ नहर पर कपड़े धो रही थी। तभी वहां गुलदार आ गया। गुलदार को देख अन्य बालिकाए शोर मचाती हुए मौके से भाग गईं मगर गुलदार ममता को घसीट के जंगल मे ले गया। इसकी सूचना बालिकाओं ने परिजनों को दी जब तक परिजन मौके पर पहुचे तब तक गुलदार बच्ची को अपना निवाला बना चुका था। बमुश्किल परिजनों ने बच्ची को गुलदार के चुंगल से छीना घटना से परिवार वालों का रो-रो कर बुरा हाल है घटना की सूचना पाकर वन विभाग व पुलिस भी मौके पर पहुच गई। भाजपा नेता मनोज पाठक ने मौके पर पहुंच कर घटना की जानकारी ली व मौके से ही नैनीताल के सांसद अजय भट्ट से वार्ता कर पीड़ित परिवार को मदद के लिए बोला, जिस पर सासंद ने तत्काल पीड़ित परिवार को अनुमन्य सहायता का 30 प्रतिशत-90 हजार रूपये की सहांयता तत्काल उपलब्ध करा दी है। वन विभाग के रेंज अधिकारी संतोष पंत ने भी पीड़ित परिवार को मुआवजा दिए जाने की बात कही व बताया कि घटना को देखते हुए मोके के पास जंगल मे पिंजरा लगया जा रहा है। उम्मीद जताई कि जल्द ही गुलदार को पकड़ लिया जाएगा। वही सीओ पंकज गैरोला ने भी मौके पर पहुंच कर घटना की जानकारी लेते हुवे बताया कि बच्ची का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। उसके बाद शव परिजनों को सौप दिया जाएगा। इस दौरान कालाढूंगी व बैलपड़ाव पुलिस भी मौके पर मौजूद रही।

यह भी पढ़ें : सुबह-सवेरे गुलदार गांव में, पूर्व सैनिक सहित दो ग्रामीण हमले में घायल, खुद भी कर्याड़ी में फंसा

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 5 अप्रैल 2020। रविवार सुबह-सवेरे अल्मोडा जनपद व तहसील के पपोली गांव में एक गुलदार के घुस आने से हड़कंप मच गया। गुलदार ने उसने एक पूर्व सैनिक राजेंद्र सिंह व एक स्थानीय दुकानदार महेंद्र सिंह पर हमला भी बोल दिया, इससे दो ग्रामीण गंभीर रूप से घायल हो गए। भगदड़ मचने पर गुलदार जंगल की ओर जाने के बजाय गांव में ही इधर-उधर भागता हुआ एक घर की गोशाला के पीछे की संकरी गली-कर्याड़ी में फंस गया, और वहां से बाहर नहीं निकल नहीं सका। ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। इस पर वन क्षेत्राधिकारी संचिता वर्मा के निर्देश पर वन विभाग की टीम रेस्क्यू टीम गुलदार को पकड़ने के लिए गांव पहुंच रही है। वहीं घायल ग्रामीणों-राजेंद्र सिंह व महेंद्र सिंह को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया, जहां उनका उपचार किया जा रहा है। महेंद्र की कमर जबकि राजेंद्र के हाथ व पैर में घाव हुए हैं।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के निकटवर्ती नैना गांव में गुलदार के जोड़े का आतंक, मृत मिला बछड़ा..

नवीन समाचार, नैनीताल, 23 मार्च 2020। जिला-मंडल मुख्यालय के निकटवर्ती नैना गांव नाम के गांव में पिछले करीब एक माह से गुलदार का जोड़ा घूमता देखा जा रहा है। इससे गांव में जबर्दस्त भय व्याप्त है। गत दिनों एक घर से बकरी खा जाने के बाद गत दिवस इनमें से एक गुलदार बाइक सवारों पर झपट पड़ा था। इधर सोमवार की सुबह गांव के पास जंगल में करीब एक वर्ष की उम्र का बछड़ा मृत मिला है। बछड़े के शव का काफी हिस्सा वन्य जीव द्वारा छाया गया है। ग्रामीणों को आशंका है कि इसे इसी गुलदार के जोड़े ने अपना शिकार बनाया है। 
नैना गांव निवासी सिचाई विभाग कर्मी रमेश गैड़ा ने यह जानकारी दी। साथ ही बताया कि गांव में कोरोना का भय भी व्याप्त है। इस कारण आम तौर पर एक-दूसरे से मिलने वाले ग्रामीण इन दिनों अपने घरों में ही सिमटे हुए हैं। इसलिए यह पता नहीं चल पाया है कि मृत बछड़ा किसका है। इस बारे में पूछे जाने पर प्रभागीय वनाधिकारी बीजू लाल टीआर ने ग्रामीणों से प्रार्थना पत्र मिलने पर आवश्यकतानुसार कार्रवाई करने की बात कही है।

यह भी पढ़ें : नैना गांव में गुलदार का जोड़ा दिखने से दहशत, सिचाई कर्मी पर झपटा

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 मार्च 2020। मुख्यालय के निकट नैना गांव एवं इसके आसपास के क्षेत्रों में अक्सर गुलदार का जोड़ा नजर आ रहा है। इससे पूरे क्षेत्र में दहशत है। मुख्यालय में सिचाई विभाग में कार्यरत रमेश सिंह गैड़ा ने बताया कि बीती शाम वह अपने तवेरे भाई ललित सिंह गैड़ा के साथ अपने घर जा रहे थे। तभी शाम साढ़े सात बजे हल्द्वानी रोड पर पुल पर गुलदार का जोड़ा दिखाई दिया। इनमें से एक गुलदार उनकी चलती बाइक पर झपट पड़ा। इस पर उन्हें मौत सामने नजर आई। बमुश्किल बाइक को दौड़ाकर उन्होंने जान बचाई। गैड़ा ने बताया कि गुलदार का यह जोड़ा अक्सर क्षेत्र में नजर आ रहा है। इससे पहले करीब पखवाड़े भर पूर्व गुलदार उनके ताऊ चंदन सिंह गैड़ा की गौशाला से दो बकरियां मार कर खा गया है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में रात्रि में रोशनी का अभाव है। जिलाधिकारी को सौर ऊर्जा लगाने का प्रार्थना पत्र दिया गया है।

यह भी पढ़ें : गांव में दिन-दहाड़े दिखे गुलदार के तीन शावक, वन विभाग के इस कदम के बाद भी ग्रामीण दहशत में…

ललित मोहन बधानी @ नवीन समाचार, कालाढुंगी, 18 जनवरी 2020। शनिवार दोपहर जनपद के कोटाबाग विकास खंड मुख्यालय के निकटवर्ती भटलानी गांव के बीचों बीच गुलदार के तीन शावक मिलने से हड़कंप मच गया। देचोरी रेंज के गांव में मिले शावकों को देखने के लिये ग्रामीणों की भीड़ लग गई। सूचना पर वन विभाग की टीम पहुंची और तीनों शावकों को जंगल में उनकी मां के होने के संभावित स्थान पर सुरक्षित छोड़ दिया।

आगे इसके बाद भी ग्रामीणों में गुलदार का भय बना हुआ है। ग्रामीणों का मानना है कि शावकों की मां गुलदार कहीं आसपास हो सकती है, और अपने बच्चे न मिलने पर गांव में हमलावर हो सकती है। कोटाबाग के भटलानी गांव में उस वक्त हड़कम्प मच गया जब गांव के बीचों बीच एक मकान की दीवार से लगे गुलदार के तीन शावक बैठे देखे गए। पहले तो शावकों को देखने के लिये ग्रामीणों की भीड़ लगने लग गयी जब बताया गया कि पता नहीं कब इनकी मां मादा गुलदार यहां आ जाये तो ग्रामीणों में हड़कंप मच गया।
भटलानी गांव रामनगर वन प्रभाग के देचोरी रेंज अंतर्गत आता है। ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। जिसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से वन क्षेत्राधिकारी किरन शाह ग्वासाकोटी सहित तमाम वन कर्मी मौके पर पहुंच गए। वनकर्मियों ने ग्रामीणों को इधर उधर हटाया और तीनों शावकों को की सुरक्षा बढ़ा दी। वन क्षेत्राधिकारी ग्वासाकोटी द्वारा ग्रामीणों को भी सतर्क कर दिया गया है कि वह चौकन्ने रहें। उन्होंने बताया कि जहां शावक हैं वहां गुलदार अपने बच्चों को खोजते हुए आ सकते हैं। इस लिए मौके पर कैमरे लगाए गए हैं तथा वर्षा को देखते हुए तिरपाल भी लगा दिया गया है तथा कई वन कर्मियों को निगरानी के लिए रखा गया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: चार महिलाओं के समूह पर गुलदार ने किया हमला, एक महिला गंभीर

नवीन समाचार, कालाढुंगी, 14 जनवरी 2020। नैनीताल जनपद के कालाढुंगी नगर पंचायत के जंगल से लगे क्षेत्र में गुलदार ने घास काटने वाली महिलाओं के समूह पर हमला बोल दिया। गुलदार के हमले में नगर के रुड़की बहादुर वार्ड नंबर 2 निवासी महिला पार्वती देवी पत्नी दुर्गा दत्त पांडे गंभीर रूप से घायल हो गई। साथ गई महिलाओं ने शोर मचाकर बमुश्किल महिला को गुलदार के जबड़े से बचाया। बताया गया है कि पार्वती देवी सहित चार महिलाएं जंगल में घास काटने गई थीं, तभी पीछे से अकेले गुलदार ने उन पर हमला बोला। महिला को कालाढुंगी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार के लिए लाया गया, जहां से उसकी गंभीर अवस्था को देखते हुए उसे हल्द्वानी रेफर कर दिया गया। बताया जा रहा है जिम कार्बेट नेशनल पार्क क्षेत्र में संरक्षण अभियानों की सफलता के बाद बाघों की आबादी बढ़ने से गुलदारों का भोजन की तलाश में मानव बस्तियों की ओर रुख करना बढ़ रहा है। इसे भी गुलदारों के बढ़ते हमलों का एक कारण माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें : यह भी पढ़ें : शिकारी की गोली से ढेर हुआ गुलदार, आदमखोर था या नहीं-अभी पुष्टि नहीं

नवीन समाचार, श्रीनगर (पौड़ी गढ़वाल), 13 जनवरी 2020। जनपद के श्रीनगर के धारी देवी क्षेत्र में एक गुलदार को शिकारी जॉय ने ढेर कर दिया है। बताया गया है कि क्षेत्र में एक आदमखोर गुलदार हाल में 3 लोगों को अपना निवाला बना चुका था। इस पर शिकारी जॉय पिछले 2 दिनों से आदमखोर गुलदार का पीछा कर रहा था। सोमवार सुबह 6:25 बजे एक गुलदार शिकारी जॉय की गोली का शिकार बन गया। गुलदार के ढेर होने से धारी देवी के ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने राहत की सांस ली। गुलदार को ढेर करने के बाद वन विभाग ने गुलदार के शव को अपने कब्जे में ले लिया है। हालांकि अभी तक कोई भी यह पुष्टि नहीं कर पा रहा है यह गुलदार आदमखोर ही था। वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चल पाएगा क्या यह गुलदार आदमखोर था या नहीं।

यह भी पढ़ें : आंगन में धूप सेंक रही थी महिला, दिन दहाड़े जबड़े में दबाकर 150 मीटर खींच ले गया गुलदार

नवीन समाचार, पिथौरागढ़, 12 जनवरी 2020। पहाड़ में तेंदुए का आतंक बढ़ता जा रहा है। पिथौरागढ़ जनपद के कनालीछीना ब्लॉक मुख्यालय के पास रहने वाली 25 वर्षीया महिला राधा देवी पत्नी गणेश राम पर तेंदुए ने दिन दहाड़े तब पीछे से हमला कर दिया, जब वह घर के सामने आंगन में धूप सेंक रही थी। गुलदार महिला को घर से करीब डेढ़ सौ मीटर तक खींचते हुए ले गया। बहन सहित पड़ोसियों के हो हल्ला मचाए जाने पर तेंदुआ महिला को छोड़ कर जंगल की तरफ भाग गया।

गनीमत थी कि महिला विकास खंड कार्यालय और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के निकट ही रहती थी। इसलिए उसे जल्दी उपचार मिल गया। हालांकि बाद में 108 चिकित्सा वाहन से जिला अस्पताल भेजा गया। जहां महिला का उपचार चल रहा है। चिकित्सकों के अनुसार तेंदुए के हमले में महिला के गले और माथे पर गहरे जख्म हैं, और उसकी हालत सामान्य बनी हुई है। उल्लेखनीय है कि बीते दिनों इस स्थान से लगभग पांच किमी दूर पलेटा के चौक्यालगांव में भी गुलदार ने एक नौ वर्षीय बालिका पर हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया था। घटना से क्षेत्र में गुलदार की दहशत व्याप्त हो गई है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: शाम ढले घर के बाहर दिखा गुलदार, दहशत

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 जनवरी 2019। बुधवार को नये वर्ष पर नगर के आबादी क्षेत्र में मानो गुलदार भी नये वर्ष का जायजा लेने पहुंचा। बताया गया है कि एक गुलदार नगर के रुकुट कंपाउंड क्षेत्र में रहने वाली जिला न्यायालय की अधिवक्ता स्वाति परिहार के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुआ है। बताया गया है कि बुधवार देर शाम करीब 8 बजे बाहर कुत्ते की चीखने की आवाज पर अधिवक्ता ने सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग चेक की तो उसमें गुलदार नजर आया।
उल्लेखनीय है कि बुधवार को ही नगर में आए एक कांकड़ को आवारा कुत्तों ने नोंच कर मार डाला। जबकि उधर नगर के निकट ताकुला क्षेत्र में दिन दहाड़े गुलदार देखे जाने से भय का माहौल बना हुआ है।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

One Reply to “नैनीताल : शहर में गुलदार ने बड़ी गाय को मार डाला

Leave a Reply

loading...