विज्ञापन सड़क किनारे होर्डिंग पर लगाते हैं, और समाचार समाचार माध्यमों में निःशुल्क छपवाते हैं। समाचार माध्यम कैसे चलेंगे....? कभी सोचा है ? उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 30 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 13.7 मिलियन यानी 1.37 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

July 25, 2024

पति द्वारा बांझ कहने पर पत्नी ने की आत्महत्या, पति को सुनाई 7 वर्ष के कठोर कारावास की सजा

0

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 जून, 2024 (Husband called wife infertile-She commit suicide)। जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुबीर कुमार की अदालत ने शादी के 6 वर्ष से पहले पत्नी को बांझ बताकर उत्पीड़न करने के दोषी पति को 7 वर्ष के कठोर कारावास सजा सुनाई है। साथ ही न्यायालय ने इस मामले में कड़ी टिप्पणी भी की है।

(Husband called wife infertile-She commit suicide)जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि 4 जनवरी 2020 की शाम साढ़े पांच बजे सरियाताल झील में एक महिला का शव मिला था। मृतका की पहचान 28 वर्षीय मीता देवी के रूप में हुई। उसकी शादी को संजय कुमार पुत्र आनंद कुमार निवासी ग्राम चारखेत से हुए 5 वर्ष, 9 माह 28 दिन हुए थे। इस मामले में मीता के भाई ने मल्लीताल कोतवाली में 5 जनवरी को तहरीर देकर बताया कि मीता की शादी 7 मार्च 2014 को संजय से हुई थी।

उसकी सास दीपा देवी, ससुर आनंद कुमार, पति संजय कुमार, देवर अजय कुमार, विजय व संतोष उसका दहेज के लिए उत्पीड़न करते थे और उसे बच्चा न होने के लिये बांझ कहकर प्रताणित करते थे। दहेज के कारण ही उन्होंने मीता की हत्या कर दी। पोस्टमॉर्टम में मीता की मौत पानी डूबने के कारण दम घुटने से होनी पायी गयी।

इस मामले में जांच के उपरांत 13 जुलाई 2020 को मृतका के पति संजय को गिरफ्तार किया गया। इधर मंगलवार को अभियोजन एवं बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की बहस सुनने के बाद न्यायालय ने अभियुक्त संजय कुमार को आत्महत्या के लिये मजबूर करने के लिये भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत 7 वर्ष के कठोर कारावास व 10 हजार के अर्थदंड तथा अर्थदंड न चुकाने पर 6 माह के अतिरिक्त कारावास के साथ ही दहेज के लिये प्रताड़ित धारा 498 ए के तहत 3 वर्ष के कठोर कारावास व 5 हजार के अर्थदंड तथा अर्थदंड न चुकाने पर 3 माह के अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई है।

साथ ही उत्तराखंड अपराध से पीड़ित अधिनियम के तहत जिला विधिक प्राधिकरण से मृतका की मां को अनुमन्य सहायता उपलब्ध कराने के आदेश भी दिये हैं।

न्यायालय ने यह टिप्पणी भी की (Husband called wife infertile-She commit suicide)

इस मामले में न्यायालय ने यह टिप्पणी भी की है कि किसी महिला की संतान होना या न होना एक जैविक तथ्य है, जिसके लिये महिला जिम्मेदार नहीं है। अभियुक्त ने ऐसा कोई साक्ष्य उपलब्ध नहीं कराया कि उसने इसके लिये पत्नी का किसी विशेषज्ञ चिकित्सक से उपचार कराया। उल्टे अभियुक्त द्वारा अपनी निर्दोष पत्नी को बांझ बताकर अपमानित एवं कलंकित किया। ऐसे में पत्नी के समक्ष आत्महत्या करने के अलावा कोई विकल्प शेष नहीं रहा। इसलिये अभियुक्त को दंडित करना जरूरी है, ताकि वह कारागार में रहकर अपने अपराध का प्रायश्चित भी कर सके। (Husband called wife infertile-She commit suicide)

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप चैनल से, फेसबुक ग्रुप से, गूगल न्यूज से, टेलीग्राम से, कू से, एक्स से, कुटुंब एप से और डेलीहंट से जुड़ें। अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..। (Husband called wife infertile-She commit suicide, Suicide, Husband-Wife, Pati-Patni, commits suicide, Infertile, Banjh, Husband sentenced to 7 years Rigorous Imprisonment, Wife commits suicide, Rigorous Imprisonment)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :