Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

सीटीआर में हाईकोर्ट की सख्ती से पर्यटन कारोबार चौपट होने की कगार पर

Spread the love

नैनीताल, 15 नवंबर 2018। कार्बेट टाइगर रिजर्व (सीटीआर) में उत्तराखंड उच्च न्यायालय द्वारा वन विश्राम गृहों में रात्रि विश्राम पर रोक और उसके अंदर वाहनों के आवागमन पर नियंत्रण लगाने जैसे कई सख्त आदेशों से इस लोकप्रिय पर्यटन स्थल का कारोबार चौपट होने की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। इन स्थितियों की जानकारी प्राप्त कर चुके बहुत से पर्यटकों ने बुकिंग रद्द कर दी हैं, जिससे क्षेत्र में स्थित पर्यटन संस्थाओं-रिजॉर्ट्स आदि को तो काफी नुकसान हुआ ही है, सीटीआर में मौजूद सरकारी वन विश्राम गृहों का राजस्व भी जमीन पर आ गया है। साथ ही इन स्थितियों की जानकारी के अभाव में यहां भ्रमण करने पहुंच रहे सैलानी परेशान हो रहे हैं। वहीं स्थानीय लोगों का रोजगार भी बुरी तरह से प्रभावित हो गया है। इसके बाद स्थानीय लोग पर्यटन कारोबार में सैलानियों के साथ धोखाधड़ी बढ़ने की भी आशंका जता रहे हैं। उनका कहना है कि यदि आसानी से नियमों के अंतर्गत पार्क में जाने की अनुमति नहीं मिलेगी तो हो सकता है यही काम चोरी-छुपे हो, और ऐसे में वन्य जीवों के लिये खतरे उच्च न्यायालय की मंशा के विपरीत घटने के बजाय और बढ़ जाएं। उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायालय की सख्ती से सरोवरनगरी नैनीताल का पर्यटन भी काफी प्रभावित हुआ है।
देश में बाघों के लिये मशहूर कार्बेट रिजर्व में देश के अलावा विदेशों से भी भारी संख्या में पर्यटक घूमने आते हैं। ढिकाला का उदाहरण देते हुए रिजर्व के निदेशक ने कहा कि ढिकाला जोन खुलने का समय आ गया है, लेकिन हमेशा इस वक्त होने वाला उत्साह इस बार गायब है। क्योंकि यहां वन विश्राम गृहों में कोई रात्रि विश्राम नहीं होगा और वन्य जीवों की सफारी के लिये जाने वाली जिप्सी की संख्या भी सीमित कर दी गयी है। इस आदेश के चलते भारी संख्या में बुकिंग रद्द होने और पर्यटकों के देश के अन्य बाघ अभयारण्य में जाने को वरीयता देने से कार्बेट में पर्यटन व्यवसाय से जुडे लोग भी काफी निराश हो गये हैं। सीटीआर के निदेशक राहुल ने बताया कि धारा, झिरना, ढेला, बिजरानी और ढिकाला सहित रिजर्व के विभिन्न भागों में स्थित वन विश्रााम गृहों में रात्रि विश्राम पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय द्वारा प्रतिबंध लगाने से बडी संख्या में बुकिंग रद्द हुई हैं जिससे रिजर्व के राजस्व को भारी हानि हुई है। वहीं क्षेत्र के एक नामी रिजॉर्ट के पर्यटन सलाहकार मनीष कुमार ने कहा है कि मौजूदा स्थितियों में पूरे जिम कॉर्बेट क्षेत्र का पर्यटन कारोबार चौपट होने की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। अन्य पर्यटन कारोबारियों का भी मानना है कि रिजर्व में पर्यटन से संबंधित कारोबार में कम से कम 50-60 फीसदी तक की गिरावट आ गयी है।
उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड उच्च न्यायालय सीटीआर को लेकर खासा सक्रिय नजर आ रहा है। न्यायालय की खंडपीठ ने बीती 10 अगस्त को दिये अपने आदेश में कहा था, ‘हमारा विचार है कि वन्यजीवों को बचाने के लिये किसी भी पर्यटक को राष्ट्रीय पार्को, संरक्षित जंगलों और रिजर्व जंगलों में रात भर ठहरने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए।’ इससे पहले उच्च न्यायालय की इसी पीठ ने अपने एक आदेश में रिजर्व के विभिन्न जोनों में एक दिन में प्रवेश करने वाले वाहनों की संख्या को 100 तक सीमित कर दिया था। साथ ही रिजॉर्टों में पाले गये हाथियों को भी जब्त करने के आदेश दिये थे। वहीं एक अन्य आदेश में यहां के 5 रिजॉर्ट मालिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश भी दिये थे।

पूर्व समाचार : जिम कार्बेट पार्क के रिसॉर्ट मालिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश

नैनीताल, 14 सितंबर 2018। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की खंडपीठ ने जिम कार्बेट पार्क में वन्य जीवों  की सुरक्षा के मामले में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए पांच अतिक्रमणकारी रिसॉर्ट मालिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिये हैं ।साथ ही डीएफओ रामनगर और डीएफओ अल्मोड़ा को एक महिने के भीतर इन पांचों रिसॉर्ट से सरकारी भूमि से अतिक्रमण को मुक्त कराने और रिसॉर्ट में जाने के लिये रामगंगा नदी में बनी सड़क को भी तुरंत सील करने के आदेश दिये हैं । इसके साथ ही कार्बेट पार्क में जिप्सियों की संख्या बढ़ाने को लेकर दायर प्रार्थना पत्र पर विचार करने से फिलहाल मना कर दिया है, और एनटीसीए की हाई पावर कमेटी को जांच कर बताने को कहा है कि कार्बेट पार्क में कितने वाहन जा सकते हैं। साथ ही वन संरक्षक को लम्बित वादों का निस्तारण आठ हफ्तों के भीतर करने को भी कहा है । उल्लेखनीय है कि वन्यजीव सुरक्षा व रिजार्ट मालिकों द्वारा किये गये अतिक्रमण के खिलाफ हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है। जिसमें कोर्ट ने पूर्व में भी 40 के करीब रिजोट्स द्वारा कब्जायी सरकारी, वन भूमि व नजूल भूमि से अतिक्रमण को हटाने के आदेश दिया है।

(10-11 फ़रवरी 2014 की रात्रि नैनीताल की कैमल्स बैक छोटी पर वन विभाग के कैमरे से लिया गया चित्र )

यह भी पढ़ें : जिम कार्बेट पार्क के झिरना, बिजरानी व दुर्गादेवी जोन में वाहन चलाने की मिली अनुपति

नैनीताल, 14 सितंबर 2018। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की खंडपीठ ने जिम कार्बेट पार्क के झिरना व बिजरानी जोन में प्रति दिन 32 प्राइवेट व व्यवसायिक वाहनों एवं दुर्गादेवी जोन में 15 जिप्सी चलाने की अनुमति दे दी है। साथ ही पार्क क्षेत्र में वाहनों के ध्वनि प्रदूषण से पार्क में जानवरों को होने वाली असुविधा को कम करने के लिए एनटीसीए से चार सप्ताह में इलेक्ट्रॉनिक वाहन चलाये जाने की संभावनाओं के बारे में पूछा है।
इधर शुक्रवार को खंडपीठ में सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से बताया गया कि पार्क में बाघों के संरक्षण के लिए ‘टाइगर प्रोटेक्टशन रिर्जव फोर्स’ का गठन कर उसका संचालन शुरू कर दिया गया है। सुनवाई के दौरान दो रिसोर्ट स्वामियों ने उनके कब्जे से छुड़ाए गए हाथियों को पुनः वापस करने का प्रार्थना पत्र देकर कहा कि जब हाथी उनके पास थे तब बीमार नही थे। किन्तु खंडपीठ ने पशु चिकित्सक की इस रिपोर्ट के आधार पर कि हाथी कब्जे से लिए जाने के दौरान से ही बीमार थे। दो हाथियों को टीबी की बिमारी थी, रिसोर्ट स्वामियों के प्रार्थना पत्रों को निरस्त कर दिया।

यह भी पढ़ें : एशिया का पहला जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और ब्याघ्र अभयारण्य

Elephants by Balbeer Singh
जिम कॉर्बेट पार्क में हाथियों का झुण्ड

देश में राष्ट्रीय पशु-बाघों की ताजा गणना के अनुसार बाघों को बचाने के मामले में देश में नंबर-एक घोषित तथा भारत ही नहीं एशिया के पहले राष्ट्रीय पार्क-जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और ब्याघ्र अभयारण्य को 1973 से देश का ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ के तहत पहला राष्ट्रीय वन्य जीव अभयारण्य होने का गौरव भी प्राप्त है। उत्तराखंड राज्य की तलहटी में समुद्र सतह से 400 (रामनगर) से 1100 मीटर (कांडा) तक की ऊंचाई तक, पातली दून, कोसी व रामगंगा नदियों की घाटियों और राज्य के दोनों मंडलों कुमाऊं और गढ़वाल के नैनीताल व पौड़ी जिलों में 1288 वर्ग किमी क्षेत्र में फैले दुनिया के इस चर्चित राष्ट्रीय उद्यान में प्रकृति ने दिल खोल कर अपनी समृद्ध जैव विविधता का वैभव बिखेरा है। हरे-भरे वनों से आच्छादित पहाडियां, कल-कल बहते नदी नाले, चौकड़ी भरते हिरनों के झुंड, संगीत की तान छेडते पंछी, नदी तट पर किलोल भरते मगर, चिंघाड़ते हुए हाथियों के समूह और सबसे रोमांचक रॉयल बंगाल टाइगर की दहाड की गूंज जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व की सैर को अविस्मरणीय बना देते हैं।

पार्क के निर्माण का इतिहास

प्रकृति की अपार वन व जैव-सम्पदा को स्वयं में समेटे जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व की स्थापना आठ अगस्त 1936 में ‘हेली नेशनल पार्क’ के नाम से हुई थी। ब्रिटिश शासन से पूर्व यह क्षेत्र टिहरी गढ़वाल के शासकों की निजी सम्पत्ति हुआ करता था। बेहद दमनकारी गोरखा शासकों के कुमाऊं में आधिपत्य जमाने के दौर में गढ़वाल शासकों ने इसे गोरखाओं के कब्जे में जाने से बचाने के लिए वर्ष 1820 के आसपास राज्य के इस हिस्से को ब्रिटिश शासकों को सौंप दिया था। अंग्रेजों ने पहले रेलगाड़ियों की सीटों के लिए यहां खड़े टीक के पेड़ों को भारी मात्रा में दोहन किया। पहली बार वर्ष 1858 में बाद में कुमाऊं कमिश्नर रहे मेजर हैनरी रैमजे ने यहां के वनों को सुरक्षित रखने के लिये व्यवस्थित कदम उठाये। इसी क्रम में वर्ष 1861-62 में ढिकाला और ‘बोक्साड के चौडों’ (घास के मैदानों) में खेती, मवेशियों को चराने और लकडी कटान पर रोक लगा दी गई। वर्ष 1868 में इन वनों की देखभाल का जिम्मा वन विभाग को सौंपा गया और 1879 में वन विभाग ने इसे अपने अधिकार में लेकर संरक्षित क्षेत्र घोषित किया। वर्ष 1907 में सर माइकल कीन ने इन वनों को वन्य प्राणी अभयारण्य बनाने का प्रस्ताव रखा, किंतु सर जौन हिवेट ने इसे अस्वीकृत कर दिया। इसके पश्चात वर्ष 1934 में तत्कालीन संयुक्त प्रान्त के गवर्नर सर मैल्कम हेली ने इसे अभयारण्य बनाने की योजना बनाई और इसी दौरान लंदन में संपन्न संगोष्ठी में संयुक्त प्रान्त के पर्यवेक्षक स्टुवर्ड के प्रयासों से राष्ट्रीय उद्यान का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया गया। 1935 में सरकार ने वन्य जीवन (संरक्षण) अधिनियम के तहत देशभर में राष्ट्रीय उद्यानों और अभयारण्यों के नेटवर्क में वन्य जीवों के आवास का संरक्षण किया और इस तरह वर्ष 1936 में राष्ट्रीय पार्क की स्थापना हुई और इसे हेली नेशनल पार्क के नाम से जाना जाने लगा। स्वतंत्रता के बाद पहले इसका नाम ‘रामगंगा नेशनल पार्क’ और 1957 में इसे जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान में इसके सीमांकन और इसे स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले और क्षेत्रीय लोगों को आदमखोर बाघों को मारकर भयमुक्त करने वाले मशहूर अंग्रेज शिकारी व पर्यावरण प्रेमी जिम कार्बेट के निधन के पश्चात श्रद्धांजलि स्वरूप इस पार्क को ‘जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान’ नाम दे दिया गया। है। 1973 में देश में वैज्ञानिक, आर्थिक, सौन्दर्यपरक, सांस्कृतिक और पारिस्थितिकीय मूल्यों की दृष्टि से वन्य जीवों की व्यवहारिक संख्या बनाए रखने तथा लोगों के लाभ, शिक्षा और मनोरंजन के लिए राष्ट्रीय विरासत के रूप में जैविक महत्व के ऐसे क्षेत्रों को सदैव के लिए सुरक्षित बनाए रखने के उद्देश्य से बाघ परियोजनाओं की शुरूआत के समय देश के 14 राज्यों में पहले 23 और बाद में दो और मिलाकर कुल 25 आरक्षित वन क्षेत्र-काजीरंगा, दुधवा, रणथंभौर, भरतपुर, सरिस्का, बांदीपुर, कान्हा, सुन्दरवन आदि अभयारण्यों की स्थापना की गई। 1993 में जिम कार्बेट पार्क को भी इस योजना के तहत शामिल किया गया।

पार्क का क्षेत्रफल

प्रारंभ में जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व 323.50 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला हुआ था। आगे वन्य जन्तुओं की आवश्यकताओं के मद्देनजर वर्ष 1916 में इसमें 197.07 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र और मिलाया गया। इस तरह इसका क्षेत्रफल बढकर 520.82 वर्ग किलोमीटर हो गया। पहली अप्रैल 1973 को ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ नामक महत्वाकांक्षी परियोजना का श्रीगणेश इसी पार्क से किया गया। फलस्वरूप 1991 में एक बार फिर इसके विस्तार करने की जरूरत पड़ी, और इसमें सोना नदी वन्य जन्तु विहार और कालागढ आरक्षित वन क्षेत्र को मिलाकर इसका क्षेत्रफल बढ़ाकर 1288 वर्ग किमी हो गया। इसके अंतर्गत 521 वर्ग किमी क्षेत्रफल में जिम कॉर्बेट व्याघ्र संरक्षित क्षेत्र भी आता है।

कब जायेंः

जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व की सैर के लिए 15 नवंबर से 15 जून के बीच का समय सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। नवम्बर से फरवरी के मध्य यहां तापमान 25 से 30 डिग्री, मार्च-अप्रैल में 35 से 40 तथा मई-जून में 44 डिग्री तक पहुंच जाता है।

कैसे जायेंः

corbett-tourism

जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व देश के सभी प्रमुख शहरों से सडक व रेल मार्ग से जुडा हुआ है। दिल्ली से राष्ट्रीय राजमार्ग 24 से गाजियाबाद, हापुड होकर मुरादाबाद पहुंचने के बाद यहां से स्टेट हाइवे 41 को पकडकर काशीपुर, रामनगर होते हुए यहां पहुंच सकते हैं। लखनऊ से भी राष्ट्रीय राजमार्ग 24 से सीतापुर, शाहजहांपुर, बरेली होते हुए मुरादाबाद और वहां से उपरोक्त मार्ग से कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान पहुंचा जा सकता है। निकटतम रेलवे स्टेशन रामनगर व हल्द्वानी है जो दिल्ली, लखनऊ और मुरादाबाद से जुड़े हुए हैं। वायु मार्ग से यहां पहुंचने के लिये 115 किमी दूर पन्तनगर निकटतम हवाई अड्डा है। यह दिल्ली से 290 किमी, लखनऊ से 503 किमी व देहरादून से 203 किमी दूर है। रामनगर में पार्क प्रशसन का मुख्य कार्यालय है, जहां से परमिट लेकर छोटी गाड़ियों, टैक्सियों और बसों से पार्क के 12 किमी की दूरी पर स्थित पार्क के मुख्य गेट एवं 47 किमी दूर ढिकाला तक पहुंचा जा सकता है। उद्यान के अन्दर ही लकड़ी के मचान युक्त लॉज, कैंटीन व लाइब्रेरी भी उपलब्ध हैं। जहां बैठकर वन्य जीवों के दर्शन के साथ ही उनका अध्ययन भी किया जा सकता है।

कहां ठहरेंः

at-leela-vilas-resort
लीला विलास रिजोर्ट ढिकुली रामनगर

जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व में पर्यटकों के आवास के लिये कुमाऊं मंडल विकास निगम के वन विश्राम गृह, ब्रिटिशकालीन वन विश्राम गृहों से लेकर आधुनिक पर्यटक आवास गृह और स्विस कॉटेज टैंट आदि की समुचित व्यवस्था है। सुविधाओं की दृष्टि से ढिकाला पर्यटकों के ठहरने की पसंदीदा स्थान है। इसके अतिरिक्त लोहा चौड़, गैरल, सर्पदुली, खिनानौली, कंडा, यमुनाग्वाड़, झिरना, बिजरानी, हल्दू पड़ाव, मुड़िया पानी और रघुवाढाव सहित 23 वन विश्राम भवन भी हैं, जिनके लिए ऑनलाइन माध्यम से अग्रिम आरक्षण की सुविधा भी उपलब्ध है। ढिकुली स्थित लीला विलास, व नमह और पाटकोट स्थित बाघ द रिजोर्ट जैसे रिजोर्ट में भी बेहतरीन सुविधा उपलब्ध है। कार्बेट टूरिज्म जैसी संस्थाओं से सफारी की सुविधा प्राप्त की जा सकती है।

क्या देखेंः

जंगली जीवः जिम कार्बेट पार्क का मुख्य आकर्षण यहां देश की सर्वाधिक संख्या में मिलने वाले राष्ट्रीय पशु बाघ-रॉयल बंगाल टाइगर हैं। साथ ही यहां रामगंगा के इर्द-गिर्ग फैले घास के पठारों से ‘चौडों’ यानी मैदानों और ‘मंझाड़े’ (जल के मध्य स्थित जंगल), में सैंकडों की तादाद में हिरनों खासकर स्पॉटेड डियर यानी चीतलों के झुंड सहजता से नजर आ जाते हैं। भारतीय हाथी, गुलदार, जंगली बिल्ली, फिशिंग कैट्स, हिमालयन कैट्स, हिमालयन काला भालू, सुअर, तेंदुवे, गुलदार, सियार, जंगली बोर, पैंगोलिन, भेड़िए, मार्टेंस, ढोल, सिवेट, नेवला, ऊदबिलाव, खरगोश, चीतल, सांभर, हिरन, लंगूर, नीलगाय, स्लोथ बीयर, सांभर, काकड़, चिंकारा, पाड़ा, होग हिरन, गुंटजाक (बार्किग डियर) सहित कई प्रकार के हिरण, तेंदुआ बिल्ली, जंगली बिल्ली, मछली मार बिल्ली, भालू, बंदर, जंगली, कुत्ते, गीदड़, पहाड़ी बकरे (घोड़ाल) तथा हजारों की संख्या में लंगूर और बंदरों के अलावा रामगंगा नदी के गहरे कुंडों में शर्मीले स्वभाव के घड़ियाल और तटों पर मगरमच्छ, ऊदबिलाव और कछुए सहित 50 से ज्यादा स्तनधारी पाए जाते हें। रामगंगा व उसकी सहायक नदियों में स्पोर्टिंग फिश कही जाने वाली महासीर, रोहू, ट्राउट, काली मच्छी, काला वासु और चिलवा प्रजाति की मछलियां तथा जंगल में किंग कोबरा, वाइपर, कोबरा, किंग कोबरा, करैत, रूसलस, नागर और विशालकाय अजगर जैसे 25 प्रजाति के सरीसृप व सर्प प्रजातियां भी उपस्थित हैं, जो बताती हैं कि यह क्षेत्र सरीसृपों और स्तनपायी जानवरों की जैव विविधता के दृष्टिकोण से कितना समृद्ध है।

पक्षीः जिम कार्बेट पार्क में बगुला, डार्टर, पनकौवा, टिटहरी, पैराडाइज फ्लाई कैचर, मुनिया, वीवर बर्ड्स, फिशिंग ईगल, सर्पेन्ट ईगल, जंगली मुर्गा, मैना, बुलबुल, कोयल, मोर, बार्बेट, किंगफिशर, बत्तख, गीज, सेंडपाइपर, नाइटजार, पेराकीट्स, उल्लू, कुक्कु, कठफोडवा, चील व सुरखाब सहित 585 रंग-बिरंगे पक्षियों की प्रजातियां पाई जाती हैं।

वनस्पतियांः जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व तराई-भाबर के मैदानों से लेकर पहाड़ियों और नदियों के बीच बसा हुआ है। ऐसे में यहां निचले क्षेत्रों से लेकर ऊपरी हिस्से के पेड़ पौधों में विविधता पाई जाती है। यहां साल, शीशम, खैर, ढाक, सेमल, बेर, चिर, अनौरी, बकली, खैर, तेंदू और कचनार आदि वृक्षों की जैव विविधना से जंगल भरे पड़े हैं। पार्क के कुछ हिस्सों में बांस की विभिन्न किस्में देखी जा सकती हैं।

कैसे देखें :

frh-jhirna

जिम कोर्बेट राष्ट्रीय अभयारण्य का भ्रमण जीपों के द्वारा भी किया जाता है, लेकिन उनके शोर से जानवरों को करीब देखना कठिन होता है, जबकि प्रशिक्षित हाथियों पर सवार होकर सफारी का आनंद लेते हुए जंगल की ऊंची-नीची पगडंडियों, घास की झाड़ियों तथा शाल के पेड़ों के बीच से होकर वन्य जीवों का दर्शन करने की सर्वाधिक संभावना रहती है।

जिम कार्बेट संग्रहालय और कार्बेट फॉल

corbett-fallरामनगर से हल्द्वानी जाने वाली सड़क पर कालाढूंगी के पास ‘छोटी हल्द्वानी’ नाम के स्थान पर एडवर्ड जिम कार्बेट का शीतकालीन प्रसास का घर अब उनकी स्मृतियों को संग्रहालय के रूप में संजो कर रखे हुए है। इस भवन के अहाते में जिम के प्रिय कुत्ते की भी कब्र है। इसमें जिम कार्बेट के चित्र, उनकी किताबें, उनके द्वारा मारे गए बाघों के साथ उनकी तस्वीरें, उस समय के हथियार, कई तरह की बन्दूकें और वन्य-जीवन से संबंधित कई प्रकार की पठनीय सामग्री भी उपलब्ध है। पास ही नयां गांव के करीब जंगह में एक खूबसूरत झरना भी दर्शनीय है, जिसे ‘कार्बेट फॉल’ का नाम दिया गया है। जिम कार्बेट पार्क के भीतर कंडी रोड के वन मार्ग से अथवा यूपी के अफजलगढ़ (बिजनौर) की ओर से मिट्टी से बने देश ही नहीं एशिया के अनूठे रामगंगा नदी पर बना कालागढ बांध भी देखा जा सकता है। गहन वन क्षेत्र होने की वजह से यहां कदम-कदम पर हिंसक वन्य जीवों के खतरे भी रहते हैं, इसलिए हर पल उनसे सतर्क और संयत रहने की सलाह दी जाती है। सुबह सवेरे की प्रभात बेला तथा सांझ ढलने का समय वन्य जीवों और पक्षियों को देखने के लिए सर्वाधिक उपयुक्त होता है।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड