Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

काम की बातें : अपने नाम में ऐसे मामूली सा बदलाव कर लाएं अपने भाग्य में चमत्कारिक बदलाव…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये

समझें नाम परिवर्तन का जीवन पर प्रभाव–

एक समय वह भी था जब लोग अपने नाम के बजाए काम पर अधिक ध्यान दिया करते थे, परंतु इस संबंध में लोगों की बदलती हुई प्रवृत्ति को देखकर लगता है कि अब उनके लिए नाम का महत्व पहले की अपेक्षा ज्यादा हो गया है। कईं बार आपने देखा या सुना होगा कि अधिकांश लोग अपने बच्चों एवं अन्य परिवारजनों के भाग्य के खराब होने का दोष उनके नाम को देते है। उनका मानना होता है कि नाम में परिवर्तन उनके भाग्य को सुधार कर सकता है| यह बात काफी हद तक सही है क्योंकि अंक ज्योतिष ज्ञान के अनुसार नाम में परिवर्तन करके भाग्य में लिखी समस्याओं से निदान प्राप्त करना संभव है।

अमिताभ बच्चन हो या शारूख खान अधिकांश बडे फ़िल्म स्टारों के बग़लों के नामों से आप जरूर परिचित होगें इन स्टारों की सफलता के पीछे इनके बग़लों के नामों का योगदान कम नही है

किसी भी भवन का नाम, उसका नंबर और रंग भी यदि उसमें रहने वाले लोगो के लिए अनुकूल हो तो इससे वास्तु का शुभ फल कई गुना बढ़ जाता है और परिणाम चमत्कारी प्राप्त होते हैं
परन्तु किसी भवन का सही नाम रखना इतना आसान काम नही होता ।करीब-करीब सभी धर्मों में विवाह से पहले लड़कियों के नाम के साथ जहाँ पिता का उपनाम या कुलनाम (सरनेम) लगता है वहीं विवाह के उपरांत पति का कुलनाम लगने लगता है। ऐसे मामलों में सामान्यतः उनका उपनाम ही बदलता है। तथापि कुछ परिवारों में विवाह के बाद लड़की का नाम बदलने की परंपरा होती है।

कुछ मामलों में लोग इसलिए भी नाम बदलते हैं क्योंकि उनके नाम में पिता का नाम या उनका कुलनाम नहीं जुड़ा होता। शुरू में तो इस बात पर ध्यान नहीं दिया जाता, लेकिन बाद में बड़े होने पर अथवा जरूरत पड़ने पर उन्हें यह अनुभव होता है कि उनका कुलनाम भी नाम के साथ होना चाहिए। अतः लोग अपना नाम परिवर्तन कर लेते हैं।

कई बार लोग किसी ज्योतिषी की सलाह पर भाग्य की दृष्टि से भी अपने नाम में परिवर्तन कर लेते हैं।उज्जैन के ज्योतिर्विद पण्डित दयानन्द शास्त्री ने इस बारे में जानकारी देते हैं कि ज्योतिष में किसी भी जातक का नाम बहुत महत्वपूर्ण होता है।

नाम वह होता है जिसे सुनकर व्यक्ति या पशु जाग जाए या मुड़कर देखने लगे। व्यक्ति का नाम बार-बार बोला जाता है, इसलिए उसका बहुत प्रभाव हमारे ऊपर पड़ता है।

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार ‘ज्योतिष में नाम का केवल प्रथम अक्षर ही अधिक महत्वपूर्ण होता है, परंतु अंकशास्त्र में पूरे नाम की वर्तनी का महत्व होता है। लोग अपने मूलांक और भाग्यांक को ध्यान में रखते हुए नाम रखने का प्रयास करते हैं। यदि किसी का नाम इनके अनुरूप न हो तो वह अपना नाम बदलने की सोचता है। वैसे ज्योतिषीय दृष्टि से नाम बदलने का चलन ज्यादातर उच्च वर्ग के लोगों में ही अधिक देखा जाता है।’

ज्योतिषीय कारणों से लोग कभी तो अपना पूरा नाम ही बदल डालते हैं या कभी अपने पुराने नाम में ही थोड़ा बहुत हेरफेर अथवा वर्तनी में परिवर्तन कर देते हैं। ऐसे लोग नाम परिवर्तन करने के लिए कभी उसमें कुछ जोड़ते हैं तो कभी कुछ घटाते हैं। कभी-कभार लोग इसलिए भी नाम आंशिक परिवर्तन करते हैं क्योंकि उनके पुराने नाम की वर्तनी गलत होती है और जब उन्हें इस बात का ज्ञान होता है तो वे भी मानने लगते हैं कि गलत वर्तनी वाला नाम उनके व्यक्तित्व में बाधा डाल रहा है। इस प्रकार के मामलों में भी लोग अपना नाम बदल लेते हैं।

यूँ तो नाम रखना या उसमें परिवर्तन करना पूरी तरह से व्यक्तिगत होता है और कोई भी कभी भी अपना नाम परिवर्तन कर सकता है लेकिन जहाँ तक सरकारी दस्तावेजों, प्रमाण पत्रों, खातों आदि में नए नाम के अनुसार परिवर्तन करवाने की बात है तो इसके लिए अनिवार्य रूप से कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। नाम परिवर्तन के लिए व्यक्ति को इस संबंध में ‘एफिडेविट’ के साथ-साथ किन्हीं दो राष्ट्रीय समाचार पत्रों में अपने बारे में बताते हुए इस बात की जानकारी देनी पड़ती है।

दूसरी मान्यता यह भी है कि जन्म के समय बच्चे की राशि के अनुसार ही नाम रखा जाना शुभ होता है जिससे जन्म पत्री व ग्रह,नक्षत्रों का सही सकारात्मक प्रभाव व्यक्ति पर पडे। नाम में कुछ परिवर्तन करके अपने भाग्य व जीवन में महत्वपूर्ण परिवर्तन किया जा सकता है। ज्योतिष अनुसार अगर नाम मेष राशि से संबंधित है तो राशि का स्वामी मंगल ग्रह होने की वजह से ऐसे लोग निडर, ऊर्जावान होते हैं और दूसरे लोगों को आकर्षित करने वाले भी होते हैं। यदि वृषभ राशि से संबंधित नाम हो तो ऐसे व्यक्ति शुक्र ग्रह के प्रभाव के कारण भौतिक सुख—सुविधा पसंद करने वाले होते हैं ओर आरामपसंद जीवन जीना चाहते हैं। मिथुन राशि से जुडे नाम वाले लोग अपने जीवन को लेकर काफी सतर्क रहते हैं और लोगों से मधुर संबंध बनाए रखते हैं।

सबसे पहले आप जिस राशि पर अपने घर का नाम रखना चाहते हैं वो उस घर में रहने वाले लोगों के लिए तो अनुकूल होनी ही चाहिए साथ ही आपके शहर ,कालोनी या मुहल्ले के नाम से भी देखें तो राशियों का आपस में शुभ सम्बन्ध बनना चाहिए ।।

हमने अपने अनुभव में कई बड़ी ऐसी कामर्शियल बिल्डिंगें देखी हैं जिनका सिर्फ नाम बदलने मात्र से ना सिर्फ उनके सभी आफिस और शोरूम तुरन्त बिक गये बल्कि किराये पर भी लग गये।
और कई बडे उधोगपतियों के बग़लों का नाम रखने या उसमें सुधार करने के बाद ही उनकी बहुत तरक़्क़ी हुई है ।।

भवन के नाम के साथ साथ उसके नंबर का भी बहुत ज़्यादा महत्व होता है । आपके घर के नंबरों का जो भी योग आता है उनको तब तक आपस में जोडें जब तक की अंत में एक सिंगल नंबर ना आ जाये अब जो भी नंबर आया है उसके स्वामी ग्रह अगर आपकी कुण्डली में शुभ हैं तो ये नंबर भी आपके लिए बहुत शुभ रहेगा

ज्योतिषशास्त्र में नाम के केवल प्रथम अक्षर का महत्व होता है, परंतु अंकशास्त्र में पूरे नाम की वर्तनी का विशेष महत्व है। लोग अपने मूलांक व भाग्यांक को ध्यान में रखते हुए नाम रखने का प्रयास करते हैं। यदि किसी का नाम इनके अनुरूप न हो तो वह अपना नाम बदलने की सोचता है। ज्योतिषीय कारणों से लोग अपने पुराने नाम में की वर्तनी में बदलाव करते हैं। अधिकतर जीवन के मूलांक और भाग्यांक वाले माह, तारीख तथा सन लाभकारी रहते हैं। यदि राशि के हिसाब से भी योगकारी ग्रह का अंक, मूलांक या भाग्यांक से मेल खाता है तो वह अंक बहुत लाभकारी रहेगा।

यदि व्यक्ति के नाम का अंक भी भाग्यांक या मूलांक से मिल जाए तो जीवन में बहुत उन्नति होती है।

अंकशास्त्र के अनुसार व्यक्ति कर्म तो करता है परंतु उसका भाग्य नहीं बदल पाता। मूलांक व भाग्यांक तो अपरिवर्तनशील हैं परंतु सही ढंग से नामांक, मूलांक व भाग्यांक का मेल हो जाए तो व्यक्ति के लिए सफलता के द्वार खुल सकते हैं।

जन्मकुंडली में ग्रह-नक्षत्र मनुष्य का भाग्य दर्शाते हैं जो उसके पूर्व जन्मों के कर्मों के अनुसार बनता है। जन्म राशि, जन्म लग्न एवं अंकज्योतिष का मूलाधार मूलांक व भाग्यांक तो जन्म की तारीख से बनते हैं जिसको बदला नहीं जा सकता। लेकिन नाम में परिवर्तन करके आप अपने जीवन की रूपरेखा में कुछ महत्वपूर्ण परिवर्तन अवश्य ला सकते हैं।

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री ने बताया कि आपके लिए अपना मूलांक व भाग्यांक जानने की सरल विधि यह है कि जन्म तारीख का योग करें वह आपका मूलांक व जन्म तारीख, माह तथा सन् के अंक का योग भाग्यांक कहलाता है।

जैसे 3, 12, 21, 30 जन्म तारीख वाले का मूलांक 3 होगा और 18-01-1926 जन्म तारीख वाले का भाग्यांक 1 होगा। इसमे जन्म तारीख माह व सन् का योग करने से 28 अंक आया। इस का योग मूलांक 1 होगा।

अधिकतर जीवन में जूझते गए लोगों में प्रायः तीनों अंकों में तालमेल नहीं होता है।

यदि मूलांक, भाग्यांक व नामांक में तालमेल न हो तो हम नामांक बदल सकते हैं, क्योंकि जन्मांक व भाग्यांक तो जन्म लेते ही निश्चित हो जाते हैं। केवल नाम ही है, जिसे बदला जा सकता है। यदि आवश्यक हो तो अपना नाम बदलें व उसका लाभ उठाएं। अंकज्योतिष अंकों का गणित नहीं, बल्कि अंकों का विज्ञान है। अंक ज्योतिष का आधार वास्तव में नौ ग्रह ही हैं। अंग्रेजी के प्रत्येक अक्षर का तथा प्रत्येक ग्रह का भी एक अंक निर्धारित किया गया है। प्य्थोगोरियन तकनीक अनुसार A=1, B=2, C=3, D=4, E=5, F=6, G=7, H=8, I=9, J=1, K=2, L=3, M=4, N=5, O=6, P=7, Q=8, R=9, S=1, T=2, U=3, V=4, W=5, X=6, Y=7, Z=8 ।

इसी तरह हर अंक पर अलग गृह का आधिपत्य होता है।

जैसे की
1=सूर्य,
2=चंद्र,
3=बृहस्पति,
4=राहू,
5=बुध,
6=शुक्र,
7=केतू,
8=शनि,
9=मंगल।

यदि मूलांक या भाग्यांक के अनुसार नामांक भी हो तो जीवन में उन्नति की संभावना अधिक रहती है ।।

उदाहरण —
बॉलीवुड अदाकारा रानी मुख़र्जी ने एक अंक ज्योतिष कि सलाह के पश्चारत अपने नाम की वर्तनी अंग्रेजी में Rani Mukherji से Rani Mukerji में परिवर्तित किया था। रानी के करियर को देखें, तो यही बोल सकते हैं कि नाम के इस बदलाव का उनके करियर पर अच्छा प्रभाव पड़ा।

इसी तरह अजय देवगन ने भी अपने नाम कि अंग्रेजी स्पेलिंग में से ‘A’अक्षर को हटा कर ‘Ajay Devgn‘ कर दिया. उसके बाद उनका करियर काफी फला फूला।

यह भी पढ़ें : जानें शरीर के दाएं और बाएं अंगों के बारे में बेहद रोचक व महत्वपूर्ण जानकारी, जिससे बेहतर कर सकते हैं अपना जीवन

अक्सर हम सुनते हैं कि दायां हाथ सही है और बायां हाथ गलत है। कारण क्या है?

ऐसा क्यों है कि दायां हाथ सही है और बायां हाथ गलत है?

बाएं हाथ में ऐसी कौन सी बुराई है, ऐसी कौन सी खराबी है?

दायां हाथ सूर्य केंद्र से, भीतर के पुरुष से जुड़ा हुआ है। बाया हाथ चंद्र केंद्र से भीतर की स्त्री से जुड़ा हुआ है। और पूरा का पूरा समाज पुरुषकेंद्रित है।

हमारा बायां नासापुट चंद्रकेंद्र से जुड़ा हुआ है। और दायां नासापुट सूर्यकेंद्र से जुड़ा हुआ है। तुम इसे आजमा कर भी देख सकते हो। जब कभी बहुत गर्मी लगे तो अपना दायां नासापुट बंद कर लेना और बाएं से श्वास लेना और दस मिनट के भीतर ही तुमको ऐसा लगेगा कि कोई अनजानी शीतलता तुम्हें महसूस होगी। तुम इसे प्रयोग करके देख सकते हो, यह बहुत ही आसान है। या फिर तुम ठंड से कांप रहे हो और बहुत सर्दी लग रही है, तो अपना बायां नासापुट बंद कर लेना, और दाएं से श्वास लेना; दस मिनट के भीतर तुम्हें पसीना आने लगेगा।

ध्यान रहे, हमारा पूरा शरीर दो भागों में विभक्त है। हमारा मस्तिष्क भी दो मस्तिष्कों में विभाजित है। हमारे पास एक मस्तिष्क नहीं है; दो मस्तिष्क हैं, दो गोलार्ध हैं। बायीं ओर का मस्तिष्क सूर्य मस्तिष्क है, दायीं ओर का मस्तिष्क चंद्र मस्तिष्क है। दायीं ओर का मस्तिष्क शरीर के बाएं हिस्से से जुड़ा हुआ है। बाया हाथ दायीं ओर के मस्तिष्क से जुड़ा हुआ है, दायां हाथ बायीं ओर के मस्तिष्क से जुड़ा हुआ है, यही कारण है। वे एक दूसरे से उलटे जुडे हुए हैं।

पुरुष की कामवासना सूर्यगत है, स्त्री की कामवासना चंद्रगत है। इसीलिए स्त्रियों के मासिक धर्म का चक्र अट्ठाइस दिन का होता है, क्योंकि चंद्र का मास अट्ठाइस दिन में पूरा होता है। स्त्रियां चंद्रमा से प्रभावित होती हैं चंद्र का वर्तुल अट्ठाइस दिन का होता है। क्या तुमने कभी ध्यान दिया है? पुरुष खुली आंखों से प्रेम करना चाहता है। केवल इतना ही नहीं, बल्कि प्रकाश भी पूरा चाहता है। अगर किसी तरह की बाधा न हो, तो पुरुष दिन में प्रेम करना पसंद करता है। और उन्होंने ऐसा करना शुरू भी कर दिया है विशेषकर ‘अमेरिका में, क्योंकि उस तरह की बाधाएं और समस्याएं अब वहां पर समाप्त हो गयी हैं। वहा लोग रात्रि की अपेक्षा सुबह प्रेम अधिक करते हैं। स्त्री अंधकार में प्रेम करना पसंद करती है, जहां थोड़ी भी रोशनी न हो और अंधेरे में भी वे अपनी आंखें बंद कर लेती हैं। पुरुष सूयोंमुन्धी होता है, उसे प्रकाश अच्छा लगता है। आंखें सूर्य का हिस्सा हैं, इसीलिए आंखें देखने में सक्षम होती हैं। आंखों का तालमेल सूर्य ऊर्जा के साथ रहता है। तो पुरुष आंखों से, दृष्टि से अधिक जुड़ा हुआ है। इसीलिए पुरुष को देखना अच्छा लगता है और स्त्री को प्रदर्शन करना अच्छा लगता है। पुरुषों को यह समझ में ही नहीं आता है कि आखिर स्त्रियां स्वयं को इतना क्यों सजाती संवारती हैं?

स्त्रियों में प्रदर्शन की प्रवृत्ति होती है वे चाहती हैं कोई उन्हें देखे। और यह एकदम ठीक भी है, क्योंकि इसी तरह से तो पुरुष और स्त्रियां एक दूसरे के अनुकूल बैठ पाते हैं पुरुष देखना चाहता है, स्त्री दिखाना चाहती है। वे एक दूसरे के अनुरूप हैं, यह एकदम ठीक है। अगर स्त्रियों को प्रदर्शन में उत्सुकता न होगी, तो वे दूसरी कई मुसीबत खड़ी कर देती हैं। और अगर पुरुष स्त्री को देखने में उत्सुक नहीं है, तो फिर स्त्री किसके लिए इतना श्रृंगार करेगी, आभूषण पहनेगी, सजेगी संवरेगी आखिर किसके लिए? फिर तो कोई भी उनकी तरफ नहीं देखेगा। प्रकृति में हर चीज एक दूसरे के अनुरूप होती है, उनमें आपस में सिन्क्रानिसिटी, लयबद्धता होती है।

हर किसी को किसी स्त्री या पुरुष के बारे में यह जानने की इच्छा जरुर होती है कि उस स्त्री या पुरुष का स्वभाव कैसा होगा| इसके लिए हमने अब तक आपको कई उपाय बताएं हैं जिसे देखकर आप उस स्त्री या पुरुष के बारे में जान सकते हैं कि उसका स्वभाव कैसा होगा| जैसे उसके अंगों को देखकर, उसकी चाल- ढाल देखकर या फिर उसके खानपान से भी उसके स्वभाव के बारे में अंदाजा लगाया जा सकता है। इसी क्रम में आज आपको एक और चीज बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानकर आप उस स्त्री या पुरुष के स्वभाव के बारे में जान सकते है।

यह भी पढ़ें : नाम के पहले अक्षर से जानें अपना और अपने चाहने वालों का भविष्य

आपको पता है कि किसी व्यक्ति के जीवन में अक्षरों का क्या प्रभाव पड़ता है अगर नहीं तो आज हम आपको ‘ए’ से लेकर ‘जेड’ तक बताते हैं|

ए अक्षर:- अगर किसी लड़की या लड़के का नाम अंग्रेजी के ए अक्षर से शुरू होता है तो ऐसे व्यक्ति प्यार और रिश्तों का काफी महत्व देते हैं लेकिन बहुत ज्यादा रोमांटिक नहीं होते हैं। ए अक्षर वाले सुंदरता को काफी पसंद करते है और खुद भी बहुत सुन्दर और सेक्सी होते है। इनकी एक खासियत होती है ये अपनी बात सबसे नहीं कहते हैं। इनके जीवन में हर चीज देर से हासिल होती है| लेकिन जब भी सफलता मिलती है तो वो सफलता की चरम सीमा होती है। जीवन संघर्ष से भरा होता है लेकिन ये मंजिल को पा ही लेते हैं। ये धोखेबाज बिलकुल नहीं होते है और ना ही ये धोखेबाजी को पसंद करते हैं। ये मौके की नजाकत को समझने वाले और हालात के हिसाब से फैसले लेने के कारण ये हर दिल अजीज होते हैं। लेकिन इनमे एक दोष होता है ये क्रोधी स्वभाव के होते हैं।

बी अक्षर:- इस अक्षर वाले संवेदनशील और रोमांटिक होते है, इन पर छोटी-छोटी बातें काफी असर डालती हैं, इन्हें मनाना काफी आसान होता है। बी अक्षर वाले व्यक्ति सेक्स लाइफ पर काफी भरोसा करते हैं इसलिए अक्सर इस नाम के व्यक्ति प्रेम विवाह करते हैं। ये सौंदर्य प्रेमी, प्रकृति से स्नेह रखने वाले होते हैं। इनके लिए पैसा भी काफी महत्वपूर्ण होता है। ये लेन-देन भी बहुत करते हैं। ये आमतौर पर हिम्मती होते हैं। इसलिए अक्सर इस नाम के लोग सेना या दूसरे जोखिम भरे क्षेत्र में अपना करियर बनाते हैं। इन्हें अपनी मेहनत पर भरोसा होता है। और आम तौर पर इस नाम के लोग धनवान भी होते है। इनके बड़बोले पन के कारण इन्हें घमंडी होने की संज्ञा मिल जाती है। इसलिए इनके दोस्त बहुत ज्यादा नहीं होते है लेकिन जो होते हैं वो काफी पक्के और गहरे होते है

सी अक्षर:- हर दिल अजीज और मिलनसार होते हैं सी अक्षर वाले | ऐसे व्यक्ति सामाजिक कार्यों में बाद चढ़ कर हिस्सा लेने वाले होते हैं| इनके लिए लोगों की भावनाएं काफी मायने रखती है क्योंकि ये खुद भी काफी भावुक होते हैं। लेकिन ये स्पष्ट बोलने वाले होते है लेकिन फिर भी ये जानबूझकर किसी का दिल नहीं दुखाते हैं। इनकी सेक्स लाईफ काफी अच्छी होती है, ये आसानी से किसी को भी अपने वश में कर लेते है लेकिन ये ईमानदार होते हैं। देखने में भी सी नाम के लोग काफी अच्छे होते है । जो भी करियर चुनते हैं उसमें खासा कामयाब होते हैं क्योंकि इनके काम से ज्यादा इनके व्यवहार से लोग खुश होते हैं जिसका फायदा इनके अपने प्रोफेशनल लाईफ में भी आजीवन मिलता रहता है। लक्ष्मी जी की भी इन पर खासी मेहरबानी होती है। कुल मिलाकर ऐसे लोग काफी संपन्न होते हैं।

डी अक्षर:- अपनी मेहनत के दम पर ये काफी आगे जाते हैं डी अक्षर वाले। इस नाम के व्यक्ति काफी जिद्दी स्वाभाव के होते हैं| डी अक्षर से जिन लड़कों का नाम शुरु होता है वे बातों के जादूगर होते हैं। लड़कियां उन तक तितलियों की तरह मंडराती रहती है मगर वे एक समय में एक ही रिश्ता निभाते हैं। यूं भी उनकी किस्मत में फालतु प्यार नहीं लिखा है वे जब भी करेंगे जहनी तौर पर ऐसे व्यक्ति से ही प्यार करेंगे जो उनके आतंरिक संसार को समझने की क्षमता रखता हो। और इस नामाक्षर की अधिकांश लड़कियां किसी बुद्धिमान व्यक्ति से मन ही मन प्यार करती है, और करती रह जाती है। अक्सर बड़ी उम्र तक इस इंतजार में रहती है कि वह खुद इनके पास लौट आएगा।

ई अक्षर:- बहुत बोलने वाला होते हैं ई अक्षर वाले, लेकिन अपने ज्यादा बोलने के कारण ये हमेशा खतरों में पड़ जाते हैं| ये लोग बड़े ही दिल फेंक होते है। ये काफी मजाकिया स्वभाव के भी होते हैं| ई अक्षर वाले व्यक्ति सेक्स के प्रति ये काफी आकर्षित होते है। इसलिए इनकी लिस्ट में लड़के-लड़कियों की पूरी जमात होती है। ये जो रिश्ता निभाते है उसके प्रति ईमानदार होते है मतलब ये कि भले ही ये चार लोगों से मोहब्बत करे लेकिन अगर ये किसी से शादी करते है तो अपने हमसफर के प्रति ईमानदार होते है।

एफ अक्षर:- इस अक्षर वाले बहुत ही प्यारे और ज़रूरत से ज्यादा भावुक और लोगों की मदद करने वाले होते हैं| इस अक्षर के लोगों की जिंदगी प्यार से शुरू होती है और प्यार पर ही खत्म होती है। ये व्यक्ति सभी कार्य दिल लगाकर करते हैं | इन लोगों की खासियत होती है कि जहाँ भी जाते हैं वहां लोगों को अपना बना लेते हैं| इनके अन्दर आत्म विश्वास कूट-कूट कर भरा होता है। इस अक्षर के व्यक्ति झगडालू नहीं होते हैं| इसके अलावा इस अक्षर वाले व्यक्ति काफी आकर्षक, सेक्सी और रोमांटिंक होते हैं| जिंदगी में हर चीज का लुत्फ उठाते हैं| अपनी मन मोहक छवि से लोगों का दिल जीतने वाले होते है |

जी अक्षर:- शांत प्रिय होते है जी अक्षर वाले लेकिन जब इन्हें गुस्सा आता है तो अगले की खैर नहीं होती है। इस अक्षर वाले व्यक्ति गलतियों को दोहराते नहीं हैं बल्कि उससे सबक लेकर आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं और खासा सफल भी होते है। ये तब तक किसी को परेशान नहीं करते हैं जब तक कोई इन्हें तंग नहीं करता है। फिलहाल इनमें आत्मविश्वास कूट-कूट कर भरा होता है। इस अक्षर वाले व्यक्ति कम बोलने वाले और प्यार पर ज्यादा भरोसा न करने वाले होते हैं| अपनी मेहनत पर भरोसा करने वाले ये व्यक्ति जीवन को एक संघर्ष मानकर चलते हैं इसलिए इन्हें अपनी परेशानियों से ज्यादा दिक्कत नहीं होती है। इस अक्षर वाले व्यक्तियों को ईश्वर पर काफी भरोसा होता है, इसलिए ये हमेशा धर्म-कर्म के काम करते रहते हैं। इनका वैवाहिक जीवन हमेश सुखी रहता है। इन्हें हर वो चीज मिलती है जिसकी इन्हें चाहत होती है लेकिन हर चीज में इन्हें वक्त लगता है।

एच अक्षर:- संकोची और संवेदनशील होते हैं एच अक्षर वाले और इसके साथ ही ये अपनी ख़ुशी और अपना दर्द किसी से शेयर नहीं करते| ये रहस्यमयी व्यक्ति होते हैं, इनको समझ पाना थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन दिल के अच्छे और सच्चे व्यक्ति होते हैं। ये तेज़ दिमाग वाले होते हैं| ये व्यक्ति ना काहू से दोस्ती और ना ही काहू से बैर वाले होते हैं | इस अक्षर के व्यक्ति अक्सर राजनीति और प्रशासनिक क्षेत्र में दिखायी देते हैं। इस अक्षर के व्यक्ति किसी से भी अपने प्यार का इजहार नहीं करते हैं लेकिन ये जिसे चाहते हैं, उसे दिल की गहराई से प्यार करते हैं। इनका वैवाहिक जीवन काफी अच्छा होता है। ये इंसान पैसा खूब कमाते है लेकिन ये अपने पैसों को सिर्फ अपने ऊपर खर्च करते हैं। फिलहाल ये काफी तरक्की करने वाले होते है। ऐसे लोग सिर्फ अपनी मर्जी के मालिक होते है ये दूसरों पर हुकूमत करते हैं लेकिन कोई इन पर हुकूम चलाये ये इन्हें बर्दाश्त नहीं। ज्ञान का अथाह सागर कहलाने वाले ये व्यक्ति समाज के लिए अलग मिसाल बनते हैं।

आई अक्षर- यदि किसी लड़की या लड़के का नाम अंग्रेजी के I अक्षर से शुरू होता है तो ऐसे व्यक्ति काफी सुंदर होते हैं और सुंदरता को पसंद भी करते हैं। इन्हें बच्चों की कंपनी भी काफी अच्छी लगती है। धर्म-कर्म में रूचि रखते हैं। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि ऐसे लोग बहुत ही प्यारे और मोहक होते है जिनका साथ हर कोई पसंद करता है। इस अक्षर वाले व्यक्ति सिर्फ और सिर्फ प्यार का भूखा है। उसे अपनेपन और प्यार की तलाश होती है । ये इंसान बहुत ही भावुक होते हैं। ये हर काम दिल से करते हैं इसलिए इन्हें आसानी से इन्हें बुद्धू भी बनाया जा सकता है। ये अक्सर अपने इस स्वभाव के कारण अपनी बहुत सारी उपयोगी चीजों को खो देते हैं। इस अक्षर वाले व्यक्तियों को जिंदगी बहुत कुछ देती है लेकिन उसका सुख कम ही मिल पाता है। शिक्षा और लेखनी के क्षेत्र में ये विशेष जानकारी रखते है। खैर इन्हें कभी पैसे की कमी नहीं होती है। प्रेम और पारिवारिक सौगात भी इन्हें थोक मात्रा में मिलती है। समाज में ये अच्छी पकड़ रखते है। सेक्स लाईफ काफी अच्छी होती है।

जे अक्षर:- जिंदगी को बहुत ही खुशनुमा अंदाज से जीते है जे अक्षर वाले| इस नाम का व्यक्ति अपने रिश्तों के प्रति काफी ईमानदार और वफादार होता है। इस नाम के व्यक्ति जितने तन से सुन्दर होते हैं, उतना ही मन से सुन्दर होते हैं| ऐसे लोग जीवन में काफी तरक्की करते है| स्वभाव से बेहद ही नखरीले होते हैं जे अक्षर वाले| पैसा,रूतबा, मुहब्बत हर चीज इनके पास थोक मात्रा में होती है| इस अक्षर के लोगों के साथ बस एक समस्या होती है और वो है इनका स्वास्थ्य जो कि काफी कमजोर होता है। इनको हमेशा कोई न कोई बीमारी घेरे रहती है| इनकी सेक्स लाईफ काफी रोमांचित होती है। ये प्रेम विवाह पर ज्यादा भरोसा रखते हैं।

के अक्षर:-किसी लड़की या लड़के का नाम अंग्रेजी के ‘K”अक्षर से शुरू होता है तो वे व्यक्ति काफी निडर होते है। इस अक्षर वाले व्यक्ति बेहद खुबसूरत होते हैं यही वजह है कि लोग इनकी तरफ काफी आकर्षित भी होते है। इस अक्षर वाला व्यक्ति बेहद ही दिखावे वाला होता है। किसी को कुछ भी कह देना इनके स्वभाव में शामिल होता है। बिना कुछ सोचे समझे ये किसी को भी कुछ सुना देते है जिसकी वजह से इन्हें लोग मुंहफट कहते हैं| इस नाम के व्यक्ति अपने फायदे के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। के अक्षर वाले पैसा तो बहुत कमाते हैं, लेकिन इन्हें इज्जत से कुछ लेना-देना नहीं होता है। जहां तक वैवाहिक संबधों का सवाल है तो ये ससुराल पक्ष पर भी अपना रुतबा कायम रखते हैं| लोग इनसे डरते हैं। इनके सामने अपनी बात कहने में हिचकते हैं। “के” अक्षर वाले सेक्स लाईफ को भी ये ज्यादा तवज्जों नहीं देते है और ज्यादातर ये लोग अरेंज मैरिज ही करते हैं| इनका वैवाहिक जीवन समझौतों पर ही निर्भर होता है।

एल अक्षर- जिस लड़की या लड़के के नाम की शुरुआत अंग्रेजी के ‘L’ अक्षर से होता है तो उस व्यक्ति के लिए प्यार, रोमांस ही सब कुछ होता है| रंग-रूप में भी ये काफी सुंदर होते हैं| हर चीज दिल से सोचने वाले होते हैं एल अक्षर वाले| इन्हें गुस्सा भी बहुत जल्दी आता है, लेकिन इनके गुस्से पर भोलेनाथ की कृपा रहती है इसलिए इनका गुस्सा जल्द ही काफूर हो जाता है। इस अक्षर वाले लोगों की एक खासियत होती है वो है इस अक्षर का व्यक्ति कभी किसी बड़ी चीज की तमन्ना नहीं रखता हैं। इन्हें छोटी-छोटी ही चीजों में खुशी मिलती है। ये बहुत कल्पनाशील होते हैं। इसलिए ये लोग अक्सर साहित्य के क्षेत्र में अपना करियर बनाते हैं।

एम अक्षर- संकोची और चिंतन में डूबे रहने वाले होते हैं एम अक्षर वाले| इस अक्षर का व्यक्ति हर छोटी-बड़ी बात को दिल से लगा लेने वाले होते हैं, इसलिए इनका जब दिल टूटता है तो कभी-कभी दूसरों के लिए काफी खतरनाक साबित होते है। इसलिए इन्हें संवेदनशील भी कहा जा सकता है। ऐसे लोग राजनीति में ज्यादा दिखायी पड़ते है। आमतौर पर इन्हें लोग पसंद ही करते है। वैसे ये दिल के काफी साफ इंसान होते है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि जब तक आप इन्हें छेड़े नहीं तब तक ये आपको नुकसान नहीं पहुंचायेगे। एम अक्षर वाले व्यक्तियों के लिए प्रेम काफी मायने रखता है और ये अपना प्यार पाने के लिए हर संभव कोशिश भी करते है लेकिन ये धोखा करने वालों को बिल्कुल भी बक्शते नहीं है । इनके ऊपर किस्मत काफी मेहरबान होती है इसलिए धन और इज्जत इन्हें मिल ही जाती है। इस अक्षर वाले व्यक्तियों के लिए सेक्स लाईफ काफी मायने रखती है। जिद्दी स्वभाव के होते हैं एम अक्षर वाले | ये जिस चीज को एक बार पकड़ लेते हैं उसे छोड़ते भी नहीं है।

एन अक्षर:-बेहद ही स्वतंत्र विचारों वाले और मनमौजी होते है एन अक्षर वाले| एन अक्षर वाले व्यक्तियों को दिखावे पर बहुत यकीन होता है। ये कब क्या करेगें इन्हें खुद भी पता नहीं होता है। इनका किसी से कोई लेना-देना नहीं होता है| अपनी ही धुन और दुनिया में मस्त रहने वाले होते हैं ये लोग| कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि मस्तमौला होते हैं एन अक्षर वाले| एन अक्षर वाले बिना मेहनत के हर चीज पाने की कामना रखते है| ऐसे व्यक्ति वैसे तो ऊपरी तौर पर शांत दिखायी देते है लेकिन अंदर ही अंदर ये बेहद ही आक्रमक होते है। इनको अपनी आलोचना बर्दाश्त नहीं होती है। ये जरूरत से ज्यादा मुंहफट,स्वार्थी,और घमंडी होते हैं| एन अक्षर वाले अपना काम निकालने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं| ऐसे व्यक्तियों के लिए प्रेम एक हिसाब किताब की तरह होता है| ये वहीं रिश्ता जोड़ते है जहां इनका फायदा होता है। सेक्स लाईफ भी इनके लिए काफी मायने रखती है| ये आकर्षक रूप-रंग के मालिक होते हैं। जिसका फायदा ये समय-समय पर उठाते रहते है। मै तो यही कहूँगा कि इन लोगों से दूरी बनाकर ही रखिए|

ओ अक्षर- बेहद आकर्षक और उर्जावान होते हैं ओ अक्षर वाले| इस अक्षर वाले व्यक्ति सामाजिक सेवा में काफी योगदान देने वाले होते हैं| कुल मिलाकर यह कहा जाता है कि इस नाम के लोग सफल और अच्छे इंसान होते है। इन्हें नाम, पैसा, सोहरत सभी इनके क़दमों तले होती है| प्रेम, भावनाएं और रिश्ते इन लोगों के लिए काफी मायने रखते है। सेक्स लाइफ को बहुत पसंद करते है। इस अक्षर वाले लोग प्रेम विवाह पर ज्यादा भरोसा करते हैं| बस इनमें एक कमी होती है कि हर चीज को दिल से लगा लेते है। जो चीज इनके दिल में एक बार घर कर गई उसे निकालना काफी मुश्किल होता है। ये जल्दी किसी को माफ नहीं करते हैं।

पी अक्षर- यदि किसी लड़के या लड़की का नाम अंग्रेजी के ‘P’ अक्षर से शुरू होता है तो ऐसे व्यक्ति देश, दुनिया, घर, परिवार सबका ख्याल रखने वाले होते हैं| पी अक्षर वाले व्यक्तियों के लिए अपना मान-सम्मान ही सबसे बड़ा है जिसके लिए कुछ भी त्यागने को तैयार रहते हैं। ये तानाशाही भी कहलाते है क्योंकि इनका स्वभाव जिद्दी प्रवृत्ति का होता है। इनकी नजर से जो एक बार उतर जाये वो फिर लाख कोशिश कर ले वो इनके करीब नहीं आ सकता है| इनके रुतबे को लोग पसंद भी करते है और डरते भी है। पी अक्षर वाले आकर्षक छवि के मालिक होते है। इनके लिए इनके अपने अलग उसूल होते है जिसके लिए किसी भी प्रकार का कोई समझौता नहीं करते है। इन्हें प्रेम जैसे शब्द पर ज्यादा भरोसा नहीं होता है। इनके लिए सेक्स लाईफ भी काफी महत्त्वपूर्ण होती है| हालांकि ये जिस किसी को भी मानते हैं उसे दिल से मानते हैं।

क्यू अक्षर- पैसा,प्यार और नाम कमाने वाले होते हैं क्यू अक्षर वाले| इनको हर छोटी-छोटी चीजों में खुशी मिलती है। अपने आप में हमेशा खोए रहने वाले होते हैं क्यू अक्षर वाले| ये लोग कभी किसी को नुकसान नहीं पहुंचाते है। लेकिन इनकी इस प्रवृत्ति के चलते इन्हें लोगों की उपहास का शिकार भी होना पड़ता है। क्यू अक्षर वाले सबको खुश रखने की कोशिश करते है बस इन में एक कमी होती है और वो ये कि ये अपनी बातें जल्दी किसी से शेयर नहीं करते है। कुल मिला कर कहा जा सकता है ऐसे नाम के लोगों के साथ अक्सर लोगों को मित्रता रखनी चाहिए क्योंकि इनसे आपको हमेशा कुछ ना कुछ सीखने को मिलेगा। सेक्स लाईफ को भी ये काफी पसंद करते है। इन्हें गुस्सा आमतौर पर बहुत कम आता है लेकिन जब भी आता है तो बहुत बुरी तरह से आता है। हर काम को दिल से करने वाले ये लोग अक्सर एक बहुत अच्छे चित्रकार,कवि या लेखक होते है।

आर अक्षर:- अपनी ही दुनिया में खोये रहने वाले होते हैं R अक्षर वाले| इन्हें रूतबा और दौलत दोनों ही नसीब होती है। ये दिल के भी बहुत अच्छे होते है। ये समय पड़ने पर दूसरों की मदद भी करते है। इनकी एक खास बात होती है ये हमेशा कुछ नये चीज की तलाश में होते है। इन्हें वहां अच्छा लगता है जहां इन्हें ज्ञान मिलता है। इसलिए इनकी दोस्ती लेखकों, दार्शनिकों इत्यादि से ही होती है। इन्हें सासंरिक चीजों में कोई खास रूचि नहीं होती है। आर अक्षर वालों का वैवाहिक जीवन ज्यादा सही नहीं होता है ज्यादातर इनके वैवाहिक जीवन में खटपट होती रहती है| इन्हें प्रेम, सेक्स आदि में कोई खास दिलचस्पी नहीं होती है।

एस अक्षर:- बहुमुखी प्रतिभा और क्रोधी स्वाभाव वाले होते हैं एस अक्षर वाले| पैसा,रूतबा हासिल करने वाले ये लोग अपनी चीज आसानी से किसी को कुछ नही देते है। कुल मिलकर कहा जा सकता है कि ये कंजूस होते है, एस अक्षर वाले दिल के बुरे नहीं होते लेकिन उनका तेज स्वभाव उन्हें बुरा बना देता है। ये व्यक्ति अपनी मेहनत के बल पर ये सब कुछ पा ही लेते है। एस अक्षर वाले अपने प्यार के प्रति सचेत रहने वाले होते हैं, ये लोग कुछ शक्की मिजाज के भी होते हैं, इसके पीछे इनकी भावना सिर्फ इतनी होती है कि वो अपने प्रेम को किसी से शेयर नहीं करते हैं लेकिन उनका ये ही तरीका दूसरे लोगों के लिए सिरदर्द का कारण बन जाते हैं। इनकी सेक्स के प्रति भी कोई दिलचस्पी नहीं होती है|

टी अक्षर- यदि किसी लड़की या लड़के का नाम अंग्रेजी के प्रथम अक्षर ‘T’ अक्षर से शुरू होता है तो वह व्यक्ति बेहद मेहनती, होशियार, चालाक औऱ बुद्धिमान होता है। इस अक्षर वाले व्यक्ति अपनी खुशी और गम जल्दी किसी को नहीं बताते हैं लेकिन हां दूसरो को हमेशा खुश और उनके दुख दूर करने की कोशिश करते है। लोग इनके इस गुण के कारण इन्हें काफी पसंद करते हैं। इन्हें खुद पर काफी भरोसा होता है। अपने दम पर ये बड़ी से बड़ी मुश्किलों को भी सुलझा लेते हैं। अपनी मेहनत के बल पर ये दुनिया जीतने का भी रिस्क रखते हैं। टी अक्षर वाले पैसा और शोहरत तो बहुत कमाते हैं लेकिन प्रेम के नाम पर इनका सिक्का नहीं चलता है। ये प्रेम और सेक्स के प्रति इनकी सोच नकारात्मक होती है| वैसे ये रिश्तों और भावनाओं के प्रति काफी केयरिंग होते हैं लेकिन इन में अपनी भावनाओं को व्यक्त करने की क्षमता नहीं होती है।

यू अक्षर:- ऐसे व्यक्ति बेहद जोशीले, होशियार और नेकदिल के होते हैं| इस अक्षर वाले व्यक्ति छोटी- छोटी बातों से ही खुश रहने वाले होते हैं| इनके किस्मत के सितारे हमेशा इन पर मेहरबान भी रहते हैं। अपने लोगों और अपनी चीजों से बेइंतहा प्रेम करने वाले इन लोगों के व्यक्तित्व में जरूर ऐसा कुछ होता है जो इन्हें लोगों की भीड़ से अलग करता है। मेरा कहने का मतलब यह है कि या तो अत्यधिक लम्बे होंगे या फिर अत्यधिक छोटे ही होंगे| ऐसे व्यक्तियों के पास पैसा, शौहरत सब कुछ होता है लेकिन इनके पास घमंड नाम की कोई चीज नहीं होती है| ऐसे इन्सान थोडा हठी स्वभाव के होते हैं लेकिन अगर इन्हें प्रेम से समझाया जाये तो मान भी जाते है। ये व्यक्ति बच्चों को बेहद प्यार करने वाले होते हैं| आपको बता दें कि इस अक्षर वाले व्यक्ति अपने प्यार के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं| ऐसे लोग बहुत ज्यादा रोमांटिक और अपनी सेक्स लाईफ को लेकर बहुत ज्यादा उत्साहित रहते हैं।

वी अक्षर:- जिसके नाम की शुरुआत अंग्रेजी के ‘V’ अक्षर से होती है, तो वह व्यक्ति किसी की बंदिशे पसंद नहीं करता है। ऐसे व्यक्ति अपनी बातें , अपने सपने , ये किसी से शेयर नहीं करते हैं। किसी को रोक-टोक इन्हें अच्छी नहीं लगती है| ये केवल वो ही काम करते हैं जो इनका मन कहता है, इनसे किसी काम को जबरदस्ती नहीं करवाया जा सकता है अगर किसी ने भूल से इनसे जबरदस्ती काम करवाने की कोशिश की तो ये ऐसा कुछ कर देगें जिससे वो काम रूक जायेगा। कुल मिलकर कहा जा सकता है की आजाद ख्याल के होते हैं वी अक्षर वाले व्यक्ति| इस अक्षर वाले व्यक्ति नाम, इज्जत और पैसा बहुत कमाते हैं लेकिन इसमें वक्त लगता है। इनको चीजें रूक-रूक कर और धीमी गति से मिलती है लेकिन स्थायी तौर पर इनके पास रहती है। ये जिद्दी और आलसी भी होते हैं लेकिन वक्त आने पर अपनी जिम्मेदारियों का बखूबी निर्वहन करते हैं। सामाजिक जीवन में इनकी रूचि ज्यादा नहीं होती है इसलिए ये आलोचनाओं के भी शिकार होते हैं। वैसे अपने दम पर आगे बढ़ने वाले ये लोग जीवन में देर से तरक्की करते है और जिनके निकट होते हैं उनके काफी अजीज होते हैं। वी अक्षर वाले व्यक्ति भावनाओं की कद्र करते हैं | लेकिन अपनी भावनाओं के बारे में ये किसी से कुछ नहीं कहते हैं। इनका पारिवारिक और वैवाहिक जीवन आम तौर पर सुखमय ही होता है। इसलिए इन्हें अपनी चीजों को लेकर परेशानी नहीं होती है। इनमें एक चीज होती है, ये बहुत जल्दी किसी भी चीज से ऊब जाते हैं। परिवर्तन से प्रेम करने वाले इन लोगों के लिए सेक्स भी मायने नहीं रखता है।

डब्ल्यू अक्षर:- ज्ञानी,रौबदार और जिद्दी स्वभाव वाले होते हैं डब्ल्यू अक्षर वाले व्यक्ति| ऐसे व्यक्ति दिखावा भी बहुत करते हैं जिसके चलते ये अक्सर फिजूल खर्ची भी कर जाते हैं | इस नाम के लोग काफी तरक्की करते हैं, नाम, पैसा और शोहरत इनके कदम चूमती है लेकिन इस बात का इनको अभिमान बहुत होता है। डब्लू अक्षर वाले व्यक्तियों को अपनी सुनाने की आदत होती है, दूसरों की सुनने की नहीं| इनकी एक खास बात होती है वह है इनकी सबसे पटती भी नहीं है, इसलिए ये हमेशा आलोचनाओं के घेरे में घिरे रहते हैं। हालांकि ये दिल के बुरे नहीं होते हैं| अक्सर इस नाम के लोग राजनीति, सिविल सर्विसेज और पुलिस विभाग में पाये जाते हैं| इस नाम के लोग धर्म-कर्म में भी काफी रूचि रखते है। इस अक्षर वाले व्यक्ति प्रेम पर यकीन नहीं करते हैं। अक्सर ये असफल प्रेमी करार दिये जाते है लेकिन इनको हमसफ़र हमेशा अच्छा ही मिलता है|

एक्स अक्षर:- आप बहुत जल्दी बोर हो जाते हैं। आप एक साथ कई प्रेम संबंधों को निभाने की ताकत रखते हैं। आपको लगातार बोलते रहने में भी मजा आता है। आपके अपनी तरफ से कई प्रेम संबंध होते हैं यानी उनमें से कई काल्पनिक होते हैं। आप ख्वाबों में अव्वल दर्जे के सेक्सी हैं लेकिन हकीकत में ऐसे संयमित होने का ढोंग करते हैं जैसे आपके जैसा सीधा कोई नहीं। अपने अल्फाबेट की तरह ही प्यार के मामले में आप गलत इंसान है।

वाय अक्षर:- आप संवेदनशील और आत्मनिर्भर हैं। आप संबंधों में ज्यादा हक जताते हैं जिससे आपका रिश्ता लंबे समय तक नहीं टिकता। प्रेम में आपको स्पर्श में बहुत आनंद आता है जैसे हाथ पकड़कर बैठना, कंधे पर हाथ रखकर चलना। आप अपने प्रेमी को बार बार जताते हैं कि आप कितने अच्छे प्रेमी हैं। आपको उनकी प्रतिक्रिया भी चाहिए। आप खुले दिल के और रोमांटिक हैं।

जेड अक्षर:- आप सामान्य रूप से रोमांटिक हैं। जीवन में चीजों आसानी से लेना आपका शौक है और प्यार में भी यही बात आपको सच लगती है। आपको कहीं भी किसी से भी प्रेम हो सकता है। हर शख्स में आप खूबी तलाश लेते हैं। इसी कारण से लोग आपसे प्रभावित हो जाते हैं। आप प्रेम के मामले में खिलाड़ी हैं। आपको कोई खास फर्क नहीं पड़ता जब ब्रेक अप होता है। आप तुरंत नई तलाश शुरू कर सकते हैं

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….।मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply