News

14 दिन क्वारन्टाइन में रहने के बाद घर पहुंचा तो दूसरे दिन ही पत्नी ने मार डाला

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना अपडेट : उत्तराखंड में आज 31 नये मामले, कुल 1816 हुए

नवीन समाचार, बागेश्वर, 14 जून 2020। गत दिवस जनपद के कौसानी में 14 दिन क्वारन्टाइन में रहने के बाद दिल्ली से घर लौटे एक प्रवासी युवक द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने की सनसनीखेज घटना सामने आई थी। अब मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने दावा किया है कि दीपू की हत्या उसकी पत्नी ने मामूली विवाद में की थी। पुलिस ने आरोपित महिला द्वारा गुनाह कुबूल करने का दावा किया है, और उसे उसके घर से गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया है। बताया गया है कि मृतक व आरोपित का विवाह करीब एक वर्ष पूर्व ही हुआ था। आरोपित का मायका सोमेश्वर के पास है।
इधर पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार गरुड़ तहसील के गागरीगोल के निकट स्थित बंड गांव निवासी 30 वर्षीय जितेंद्र सिंह पुत्र स्व. लक्ष्मण सिंह बीती बुधवार को, 14 दिन क्वारन्टाइन में रहने के बाद दूसरे दिन ही घर के पास ही नाली से संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिला था। बृहस्पतिवार की सुबह ग्राम प्रहरी हरीश राम की सूचना पर बैजनाथ पुलिस ने उसका शव बरामद किया। इधर शनिवार को बैजनाथ पुलिस ने मृतक की मां मुन्नी देवी की तहरीर पर मृतक की पत्नी दीपा देवी के खिलाफ धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया था और रविवार को मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सिर में चोट लगने से मौत का खुलासा होने के बाद आरोपित दीपा देवी से कड़ी पूछताछ की और उसके द्वारा अपना जुर्म कबूल करने पर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुुलिस के अनुसार आरोपित ने महिला ने पुलिस को बताया कि बुधवार की रात पति-पत्नी में किसी बात को लेकर झगड़ा व हाथापाई हो गई थी। इसी दौरान धक्का लगने से पति दीपू के सिर में अंदरूनी चोट लग गई और उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इस पर हत्या से बचने के लिए उसने पति द्वारा शहतूत के पेड़ में फांसी लगाने वाली मनगढ़ंत कहानी रची और उसी ने पति को चादर में लपेटकर नाली में फेंक दिया था।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी से 3 दिन पहले लौटी महिला की क्वारन्टाइन में मौत

नवीन समाचार, पिथौरागढ, 26 मई 2020। सीमांत पिथौरागढ़ जिले की तहसील मुनस्यारी के ग्राम जेरथी, खोयम में अपने दो बच्चों के साथ हल्द्वानी से लौटकर तीन दिन से क्वारन्टाइन में रह रही एक महिला की सोमवार दे शाम मौत हो गई। इससे लोग कोरोना के प्रति आशंकित हो गये। डीएम डॉ. विजय कुमार जोगदंडे ने स्वास्थ्य विभाग को महिला की जांच के आदेश दिये हैं। साथ ही उन्होंने ग्रामीणों से इस मामले को लेकर किसी भी प्रकार न घबराने की अपील की है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार शाम ग्राम प्रधान खोयम राजेन्द्र सिंह ने सूचना दी कि बीती 22 मई को हल्द्वानी से अपने 19 व 21 वर्ष के बेटों के साथ लौटी 52 वर्षीया शांति देवी को ग्राम जेरथी के प्राथमिक विद्यालय में क्वारन्टाइन किया गया था। सोमवार को शांति देवी की अचानक मृत्यु हो गई। इस पर राजस्व, मेडिकल एवं पुलिस की टीम को मौके पर भेजा गया। बताया जा रहा है कि महिला टी.बी. की बीमारी से भी ग्रसित थी।

यह भी पढ़ें : साठ दिन बाद कोरोना महामारी कि गिरफ्त में आया समूचा कुमाऊं, एक दिन में 14 सहित कुल 83 मरीज आये

-चम्पावत सात, पिथौरागढ़ दो, अल्मोड़ा तीन और नैनीताल में दो केस, कुमाऊं में 83 पहुंचा आकड़ा
-मुंबई, नोएडा व गुरुग्राम बन रहा है कैरियर, दो हजार से ज्यादा लोगों को क्वारंटाइन करने की संभावना
-चम्पावत के मरीज हल्द्वानी और पिथौरागढ़ के अल्मोड़ा कोविड अस्पताल में कराए गए भर्ती
नवीन समाचार, नैनीताल, 23 मई 2020। कुमाऊं के लिए माह का चौथा शनिवार काला साबित हुआ है। एक ही दिन में ग्रीन जिला चम्पावत और पिथौरागढ़ भी कोरोना महामारी के चपेट में आ गए हैं। लॉकडाउन के साठवें दिन चम्पावत में सात और पिथौरागढ़ में दो कोरोना पॉजिटिव मिलने से प्रशासन एवं जनता में हड़कंप मच गया है। दोनों जिलों में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने की यह पहली घटना है। वहीं एक बार फिर अल्मोड़ा में तीन और नैनीताल में दो कोरोना पॉजिटिव मिलने से प्रवासियों को सरहद के आसपास क्वारंटाइन न किए जाने की चूक के तौर पर सामने आ रहा है। चारों जिलों में एक ही दिन एक दर्जन केस दर्ज करने से करीब आने के साथ ही कुमाऊं में कुल 83 लोग कोरोना की जद में आ गए हैं। दो हजार से ज्यादा लोगों के क्वारंटाइन होने की संभावना बढ़ गई है। यही नहीं मुंबई, गुरूग्राम और नोएडा इन जिलों में कोरोना केरियर के तौर पर उभरने लगे हैं। अभी भी जिला प्रशासन और राज्य सरकार ने नीति स्तर पर बदलाव नहीं किया तो पहाड़ों को कोरोना से मुक्त रखना मुश्किल हो जाएगा।

कोरोना : प्रदेश में आज कोरोना के 61 नए सहित कुल 1785 मामले, 1077 स्वस्थ, 23 की मौत

आज चम्मावत में सात कोरोना पॉजिटिवों में चार युवक मुबंई, तीन युवक नोएडा और गुरुग्राम से आए थे। मुंबई से आए लोगों को 21 मई को पर्ययन आवास गृह टनकपुर में क्वारंटाइन किया गया था। इसी तरह से शेष तीन को बनबसा में क्वारंटाइन किया गया था। प्रशासन ने सातों लोगों को कोविड विशषेज्ञ अस्पताल एसटीएच में भर्ती कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। चम्मावत के सीएमओ डा.आरपी खंडूड़ी ने बताया कि मुंबई से लौटे चारों युवक चम्पावत व लोहाघाट के रहने वाले हैं। 21 मई को ये लोग रोडवेज की बसों से आए थे। इन दोनों बसों में 74 लोग सवार थे। इसमें दस चम्पावत, 47 पिथौरागढ़, एक सितारगंज, दस रुद्रपुर के और छह बसों के चालक-परिचालक शामिल थे। इस घटना के बाद ये सभी लोग संस्थागत क्वारंटाइन की जद में आ गए हैं। सीएमओ ने बताया कि बाहर से आने वाले 39 लोगों की थर्मल सक्रीनिग में तापमान अधिक पाया गया था। इनके जांच के नमूने एसटीएच भेजे गए थे। शनिवार सुबह इनकी रिपोर्ट मिल गई। इसमें से सात लोग कोरोना पांजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि इन लोगों को टनकपुर व बनबसा में क्वारंटीन किया गया था। अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनबसा के चिकित्सा प्रभारी डा.मो. उमर ने बताया कि 20 मई को नोएडा, दिल्ली और मुंबई क्षेत्रों से लोग बनबसा पहुंचे थे। इनमें चंदनी निवासी एक व्यक्ति नोएडा से इनोवा कार बुक कराकर परिवार के पांच सदस्यों के साथ बनबसा आया था। अगले दिन इस व्यक्ति को परिवार सहित चंदनी स्कूल में क्वारंटीन किया गया था। वहीं इस कमरे में दो अन्य लोग भी क्वारंटीन किये गये हैं। यह सातों लोग एक ही टॉयलेट इस्तेमाल कर रहे थे। इसी तरह से गुदमी निवासी एक व्यक्ति पांच लोगों के साथ एक प्राइवेट वाहन से दिल्ली से बनबसा पहुंचे थे। जिसमें दो लोग बनबसा और तीन लोग पिथौरागढ़ के सवार थे। वार्ड नंबर चार निवासी व्यक्ति मुंबई से ट्रेन से दिल्ली पहुंचा था। इसके बाद दिल्ली से खटीमा के दो लोगों के साथ एक प्राइवेट वाहन बुक किया और बनबसा पहुंचा। उसके साथ खटीमा के दो लोग खटीमा में ही उतर गये थे। इनमें से तीन लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनकी पहचान ग्राम सभा चंदनी, गुदमी और बनबसा वार्ड नंबर चार के तीन लोगों के तौर पर की गई है। डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय ने बताया कि इसकी सूचना संबंधित जिलों के प्रशासन को दे दी गई है। इस ताजा घटना के बाद प्रशासन प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर इन लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों को चिन्हित करने में जुट गया है। एक मोटे अनुमान में करीब पांच सौ लोगों पर क्वारंटाइन का खतरा बढ़ गया है। इससे बनबसा से लेकर चम्पावत तक खलबली सी मच गई है।
उधर ताड़ीखेत ब्लॉक से तीन नए कोरोना पाजिटिव केस दर्ज हो गए हैं। इसके साथ ही अब तक जिले में कोरोना संक्रमण के सात मामले सामने आ चुके है। प्रशासन ने दो कोरोना पॉजिटिव युवकों के स्वस्थ्य में सुधार आने के बाद होम क्वारंटीन के लिए घर भेज दिया है। तीन नए केसों के आने के बाद अब भी एक्टिव केसों की संख्या पांच हो गई है। ताजा मिले केस के तार भी मुंबई से जुड़े हैं। इसका संबंध गरुड़ (बागेश्वर) में मिले कोरोना पॉजिटिव युवक से बताया जा रहा है। ये लोग 15 मई को हल्द्वानी से एक ही बस में साथ आए थे। जिला प्रशासन से मिली सूचना के अनुसार 15 मई को गॉव लौटे तीनों युवक होम क्वारंटाइन थे। प्रशासन ने 21 मई को इनके सैंपल को जॉच के लिए एचटीएस भेजे थे। शनिवार को तीनों की जॉच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। तीनों संक्रमित रानीखेत के ताड़ीखेत ब्लक के हैं। ये मुंबई से अपने साथ कोरोना लाए हैं। इसमें एक युवक मलौना निवासी 45 वर्षीय है, जबकि दूसरा 39 वर्षीय चापड़ निवासी एवं तीसरा बाइस वर्षीय युवक कुटोली का रहने वाला है। इससे तीनों गांवों में हड़कंप है। अब जाकर प्रशासन इनके संपर्क में आने वालों की पड़ताल कर रहा है। तीनों को कोविड अस्पताल मेडिकल कालेज अल्मोड़ा में भर्ती कर दिया है।
वहीं, ग्रीन जोन सीमान्त जिले पिथौरागढ़ में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। शनिवार को दो लोग कोराना संक्रमित की पुष्टि हो गई है। इनमें से एक गंगोलीहाट के दशाईथल जबकि दूसरा बेरीनाग के चौकोड़ी में संस्थागत क्वारंटाइन में था। 23 और 32 साल के ये दोनों युवक करीब 12 दिन पहले दूसरे राज्य से अपने गृह जनपद पहुंचे थे। जिला प्रशासन ने इसकी पुष्टि कर दी है। इस घटना के बाद प्रशासन में हलचल बढ़ गई है। ताजा रिपोर्ट के बाद अब प्रशासन की अलग अलग टीम इन लोगों के संपर्क में आने वालों को टटोल रही है। प्रशासन सभी संपर्क में आए लोगों को चिन्हित कर रही है। मोटे अनुमान में करीब 50 से ज्यादा लोगों के संपर्क में आने का अनुमान है। इनकी संख्या और बढ़ घट सकती है। दोनों मरीजों को बेरीनाग तथा गंगोलीहाट से लाकर कोविड अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया जा रहा है। इस बात की पुष्टि कोविड नोडल चिकित्सा अफसर डा.राजेश ढकरियाल ने की है।

यह भी पढ़ें : सुबह-सुबह राज्य के एक अछूते पहाड़ी-मैदानी सीमांत जिले में कोरोना ब्लास्ट, एक साथ आये 7 सहित कुमाऊँ में 8, राज्य में 9 नये सहित कुल 162 पॉजिटिव

नवीन समाचार, टनकपुर (चंपावत), 22 मई 2020। शनिवार सुबह उत्तराखंड के अब तक पूरी तरह से अछूते, नेपाल के सीमावर्ती, पहाड़-मैदान से लगे चंपावत जिले में कोरोना का ब्लास्ट हुआ है। यहां एकमुस्त सात मामलों का खुलासा हुआ है। इनमें 51, 27, 50, 23, 22, 24, 32, 47 व 39 वर्षीय पुरुष शामिल हैं। वहीं रामनगर के संयुक्त चिकित्सालय में भर्ती एक 33 वर्षीय युवक में भी कोरोना की पुष्टि हो गई है। इस प्रकार आज सुबह-सुबह कुमाऊं मंडल में कुल आठ नये मामले आ गये हैं। उधर हरिद्वार जनपद के रुड़की में भी एक नये मामले की पुष्टि हुई है। एक युवक का गत 19 मई को नारसन बॉर्डर पर नमूना लिया गया था। आज उसकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इसके साथ राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 9 बढ़कर 162 पहुंच गई है।
शुक्रवार रात्रि तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के द्वारा बताया गया कि इनमें से 30 नमूनों की रिपार्ट नकारात्मक आई है, नौ की आनी शेष है। इधर शनिवार सुबह बताया गया है कि शेष नौ में से सात की रिपोर्ट सकारात्मक आई है। इनमें चार लोग टनकपुर स्थित केएमवीएम के पर्यटक आवास गृह में बनाये गये संस्थागत एकांतवास में और अन्य तीन लोग निकटवर्ती बनबसा के गांवों में स्कूलों में बनाये गये छोटे केंद्रों में पिछले तीन दिन से रखे गये थे। रिपोर्ट सकारात्मक आने के बाद जनपद प्रशासन में हड़कंप मच गया है। जनपद को अभी ऐसे मामले संभालने का सीधा अनुभव भी नहीं था, ऐसे में एकमुस्त एक-दो नहीं सीधे सात मामले आ जाने से प्रशासन के हाथ-पांव फूलने तय हैं। बताया गया है कि इन्हें जिला मुख्यालय स्थित कोविद समर्पित जिला चिकित्सालय में आगे उपचार के लिए ले जाया जा रहा है।

बताया गया है कि टनकपुर में मुंबई से तीन दिन पहले आये 44 लोगों को रखा गया था। अन्य भी बाहर से आये लोग ही हैं। ये चंपावत और पिथौरागढ़ जिलों के निवासी बताये गये हैं। उल्लेखनीय है कि अब राज्य में पिथौरागढ़ व रुद्रप्रयाग जिले ही कोरोना से बचे रह गये हैं। नमूने रेंडम आधार पर लिये गये थे। अब प्रशासन इनके संपर्क में आये अन्य लोगों के नमूने भी लेगा। ऐसे में प्रशासन की जिम्मेदारी इस ओर भी बढ़ गई है। प्रशासन ने जनपद वासियों से इन स्थितियों से डरने नहीं बल्कि सावधान रहने की हिदायत दी है।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं में आज कोरोना विष्फोट, भाई-बहन सहित एकमुश्त आये सात मामले

नवीन समाचार, नैनीताल, 19 मई 2020। उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में मंगलवार को एक तरह से कोरोना का विष्फोट हुआ है। यह सभी बाहर से आये प्रवासी हैं। आज यहां तीन जनपदों में एकमुश्त सात मामले आये हैं। इनमें बागेश्वर जनपद भी शामिल हैं, जहां पहली बार दो मामले प्रकाश में आये हैं। वहीं ऊधमसिंह नगर जनपद में दो चचेरे भाई-बहन में कोरोना की पुष्टि हुई है। उल्लेखनीय है कि इनके एक और भाई को पहले ही कोरोना की पुष्टि हो चुकी है।
नैनीताल जनपद की एसीएमओ डा. रश्मि पंत ने बताया कि नैनीताल जनपद में से आज पॉजिटिव आये दो युवकों में से एक 22 वर्षीय युवक मनरसा सुयालबाड़ी का है। वह गत 15 मई को उन तीन लोगों में शामिल था, जिसमें से एक को पहले ही कोरोना की पुष्टि हो चुकी हैं। जबकि इस युवक को बाद में बुखार होने पर 17 मई को नमूना लिया गया था। आज रिपोर्ट आने पर उसमें कोरोना की पुष्टि हुई है। वहीं जनपद के रामनगर निवासी एक 14 वर्षीय बालक में भी कोरोना की पुष्टि हुई है। वह रामपुर से 15 मई को यहां आया था और क्वारन्टाइन किया गया था। उसका नमूना भी 17 मई को लिया गया था। रामनगर के किशोर को कॉर्बेट किंगडम रिसॉर्ट में और सुयालबारी के युवक को काकड़ीघाट के प्राइमरी स्कूल में क्वॉरेंटाइन किया गया था। इसके साथ जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 18 हो गई है।
वहीं, ऊधमसिंहनगर में आज तीन और मामले आये हैं। इसके साथ ही जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या 23 हो गई है। इनमें एक बन्नाखेड़ा बाजपुर का और दो ग्राम बंडिया किच्छा के रहने वाले तीन दिन पहले कोरोना पॉजिटिव पाये गये 18 वर्षीय युवक का 13 वर्षीय भाई और 19 वर्षीया चचेरी बहन हैं। युवक गुरुग्राम से परिवार के साथ आया था। इसके अलावा गत 15 मई को मुंबई से बाजपुर लौटे बन्नाखेड़ा निवासी 41 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट भी आज पॉजिटिव आई है।
उधर, अब तक अछूते बागेश्वर जनपद में मंगलवार को पहली बार में ही दो मामले आ जाने से स्वास्थ्य विभाग के साथ ही प्रशासनिक हलकों में हड़कंप मच गया है। बताया गया है कि यहां स्थानीय बिलौना गांव निवासी 20 वर्षीय युवक एवं गरुड़ के पास बनतोली गांव निवासी 35 वर्षीय युवक में कोरोना की पुष्टि हुई है। यह दोनों बीती 15 मई को मुंबई से यहां आये थे। तभी से उन्हें नगर के अन्नपूर्णा होटल स्थित संस्थागत एकांतवास केंद्र में रखा गया था। यहीं से 17 मई को उनके नमूने लिये गये थे, जोकि पॉजिटिव आये हैं। इसके बाद प्रशासन उनके उपचार एवं उनके संपर्क में आये लोगों को अलग कर उनके भी नमूने लेने आदि की तैयारी कर रहा है।

नैनीताल, 19 मई (हिं.स.)।
हिंदुस्थान समाचार / नवीन जोशी
यह भी पढ़ें :
नवीन समाचार, 19 मई 2020।

Leave a Reply

loading...