यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..

साइकिलों पर एशिया विजय को निकले नैनीताल के तीन जांबाज युवा..

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-‘रन टु लिव’ संस्था की युवा इकाई के सदस्य लिम्का बुक के लिए 120 दिनों में देश के जम्मू-कश्मीर को छोड़कर शेष सभी राज्यों से होते हुए 15 हजार किमी की यात्रा कर भारतीय व एशियाई रिकॉर्ड बनाने के लिए है अभियान
-साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के उपाध्यक्ष विमल चौधरी ने झंडी दिखाकर किया रवाना

‘रन टु लिव’ संस्था की युवा इकाई के सदस्यों को ‘इंडिया ऑन ह्वील्स’ अभियान के लिए रवाना करते साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के उपाध्यक्ष विमल चौधरी व अन्य।

नवीन समाचार, नैनीताल, 6 नवंबर 2019। ‘रन टु लिव संस्था’ की युवा इकाई के तीन जांबाज युवा ऋषभ जोशी, सागर देवराड़ी व पंकज बिष्ट इंडिया ऑन ह्वील्स’ अभियान के तहत 120 दिनों में 15 हजार किमी की यात्रा के अभियान पर निकल पड़े हैं। अभियान के तहत वे देश के जम्मू-कश्मीर को छोड़कर शेष सभी राज्यों से होते हुए गुजरेंगे। बताया गया कि ऐसा कर पाने वह लिम्का बुक के लिए भारतीय व एशियाई रिकॉर्ड बनाएंगे। चंूकि अब तक पूरे एशिया से इस तरह का रिकॉर्ड कोई बना नहीं पाया है, इसलिए उनके लिए यह अपने क्षेत्र में एशिया विजय की तरह ही होगा। बुधवार सुबह साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के उपाध्यक्ष एवं उत्तराखंड साइकिलिंग फेडरेशन के अध्यक्ष विमल चौधरी ने नगर के लांग व्यू पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य भुवन चंद्र त्रिपाठी व पूर्व अंतर्राष्ट्रीय धावक हरीश तिवारी के साथ उन्हें मल्लीताल बैंड स्टेंड से झंडी दिखाकर अभियान के लिए रवाना किया। यहां से वे कालाढुंगी, जसपुर, हरिद्वार होते हुए पोंटा साहिब हिमांचल प्रदेश के लिए निकले हैं।
इस मौके पर अभियान दल के सदस्य सागर देवराड़ी ने कहा कि वे देश को प्रदूषण व पॉलीथीन से मुक्त करने सहित अन्य जागरूकता संदेश भी देते जाएंगे। साथ ही उनकी कोशिश नैनीताल व उत्तराखंड की खेलों व शिक्षा के क्षेत्र में छवि को उभारने का भी प्रयास रहेगा। इस मौके पर तीनों जांबाजों के परिजन-ऋषभ के पिता शेखर जोशी, माता मुन्नी जोशी व बुआ दीपा जोशी के साथ सागर की माता पुष्पा देवी व अन्य परिजन तथा आयोजक संस्था के हसन रजा, दीपक पांडे, सुधीर वर्मा, जीएस ढैला, कैलाश तिवाड़ी, विजय पंत, विनोद पंत, दीपक पांडे, मनोज बिष्ट व किशन नेगी आदि सदस्य भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : ‘रन टु लिव’ की युवा इकाई एशियाई लिम्का रिकॉर्ड के लिए 4 माह में साइकिल से नापेगी पूरा देश…

-एशियाई और लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए नवंबर माह से साइकिल पर करेंगे देश के सभी प्रांतों से होते हुए 15000 किमी की यात्रा

युवा इकाई के सदस्यों के साथ कार्यक्रमों की रन टु लिव संस्था के प्रमुख पूर्व अंतर्राष्ट्रीय धावक हरीश तिवाड़ी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 4 अक्टूबर 2019। पिछले 10 वर्षों से ‘नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन’ कराने वाली नगर की ‘रन टु लिव’ संस्था ने अपनी युवा इकाई का गठन कर दिया है। युवा इकाई के जरिये संस्था जल्द अंतर्विद्यालयी क्विज व वाद विवाद तथा मुख्यालय के निकटवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों के लिए दौड़ प्रतियोगिता आयोजित करने के साथ साइकिलिंग का एक बड़ा आयोजन करने जा रही ह। इसके तहत संस्था के युवा इकाई के संयोजक सागर देवराड़ी अपने अपने आरएस ग्रुप के साथी ऋषभ जोशी व पंकज बिष्ट के साथ एशियाई एवं लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड बनाने के लिए साइकिलों से देश के सभी प्रांतों से होते हुए करीब चार माह में 15 हजार किमी की यात्रा के अभियान पर निकलेंगे।
शुक्रवार को संस्था के प्रमुख पूर्व अंतर्राष्ट्रीय धावक हरीश तिवाड़ी ने युवा इकाई के सदस्यों के साथ पत्रकार वार्ता कर कार्यक्रमों की जानकारी दी। बताया कि 3 नवंबर को नगर के डीएसबी परिसर के छात्र सागर, ऋषभ व पंकज मल्लीताल बैंड स्टेंड से निकलेंगे और यहां से जसपुर, हरिद्वार होते हुए हिमांचल प्रदेश के पोंटा साहिब, आगे पजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, पुणे, गोवा, कर्नाटक, केरला़, तमिलनाडु, कर्नाटक आंध्र प्रदेश, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, आसाम, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम, मणीपुर, नागालेंड, अरुणांचल प्रदेश, सिक्किम, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, यूपी होते हुए 5 मार्च 2020 को नैनीताल वापस लौटेंगे। सागर ने बताया कि इस दौरान ‘धरती को प्रदूषण मुक्त कर बचाने’ के मुख्य संदेश के साथ ही नैनीताल के खेलों एवं शिक्षा के क्षेत्र में छवि को उभारने तथा महिला सशक्तीकरण, नशा मुक्त भारत, स्वच्छ और स्वस्थ भारत, देश प्रेम तथा हिमालय बचाने के संदेश भी दिये जाएंगे। इस मौके पर युवा इकाई से जुड़ रहे योगिता सती, ऋषभ रावल, गोपाल सिजवाली, सुंदर चमियाल व शुभम विश्वकर्मा आदि युवा तथा संस्था के सुधीर पंत, हरीश नयाल आदि सदस्य भी मौजूद रहे।

20 दिन में साइकिल से लद्दाख व 5 दिन में पैदल 315 किमी दौड़ चुके हैं ऋषभ व सागर

नैनीताल। युवा ऋषभ जोशी व सागर आर्या पूर्व में 25 से 30 अक्तूबर 2017 के बीच नैनीताल से रानीखेत, कौसानी, बागेश्वर, अल्मोड़ा होते हुए वापस नैनीताल तक 315 किमी दौड़ चुके हैं। साथ ही 2018 में 20 दिन में नैनीताल से साइकिल से लद्दाख की 2500 किमी की यात्रा भी पूरी कर चुके हैं। नये 15000 किमी के साइकिलिंग अभियान के लिए वे एलआईसी में इस बीच होने जा रही भर्ती के अवसर को भी छोड रहे हैं।

मासी मैराथन में भी सहयोग करेगी रन टु लिव

नैनीताल। नैनीताल से पहले विगत माह पौड़ी मैराथन भी आयोजित कर चुकी रन टु लिव संस्था आगामी 20 अक्तूबर को ‘दौड़ो पहाड़ के लिए’ की थीम पर अल्मोड़ा जनपद के दूरस्थ क्षेत्र मासी-चौखुटिया में आयोजित हो रही ‘मासी मैराथन’ में भी पूरा सहयोग कर रहे हैं। संस्था के प्रमुख हरीश तिवारी ने बताया कि मासी मैराथन में 31000 रुपए के इनाम वाली पुरुषों की 21 किमी, 11 हजार के इनाम वाली महिलाओं की 10 किमी की दौड़ों के साथ ही 3 किमी की ‘रन फॉर फन’ दौड़ भी होगी। दोनों मुख्य दौड़ों में सातवे स्थान तक आने वाले प्रतिभागी भीी 1500 रुपए के सांत्वना पुरस्कारों से पुरस्कृत होंगे, जबकि रन फॉर फन दौड़ के लिए पहले 600 प्रतिभागियों को प्रतिभाग प्रमाण पत्र दिये जाएंगे।

यह भी पढ़ें : 10वें वर्ष में वास्तव में पहली बार हुई ‘नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन’, जीते ये…

-लगातार भारी बारिश के बीच हुई प्रतियोगिता में कीनिया के स्टीवन दूसरे प्रयास में रहे पुरुषों में विजेता, जबकि महिलाओं की विेजेता हमेशा जीतती रही है, तीसरे स्थान पर रही रेनू ने इस वर्ष पौड़ी मैराथन भी जीती, अगले वर्ष 30 अगस्त को मिलने के वादे के साथ हुआ आयोजन का समापन, नैब के 10 दृष्टिबाधित बच्चे और बागेश्वर जिले के सीमांत सरमूल-झूती गांव के बच्चे भी दौड़े
नवीन समाचार, नैनीताल, 25 अगस्त 2019। जी हां, नगर की ‘रनटुलिव’ संस्था के तत्वावधान में पिछले 10 वर्षों से आयोजित हो रही नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन ‘एनएम-3, 10’ के रूप में अपने 10वें पड़ाव पर वास्तव में अपने नाम को साकार करती नजर आई। पूरी दौड़ के दौरान जमकर बरसे मानसून के साथ नैनीताल की पर्वतीय चोटियों के ‘दुनिया के सबसे कठिन ट्रेक’ पर प्रतियोगिता आयोजित हुई और इसमें कीनिया के स्टीफन दूसरे प्रयास में रहे पुरुषों में विजेता रहे, जबकि महिलाओं की विेजेता रही अर्पिता के बारे में बताया गया कि वह इस प्रतियोगिता के शुरू से प्रतियोगिता के किसी न किसी वर्ग में जीतती रही है। वहीं, महिलाओं में तीसरे स्थान पर रही रेनू ने ‘रनटुलिव’ संस्था के द्वारा ही इस वर्ष पहली बार आयोजित की गयी पौड़ी मैराथन भी जीती है। आज की प्रतियोगिता में नैब के 10 दृष्टिबाधित बच्चे और बागेश्वर जिले के सीमांत सरमूल-झूती गांव के 20 बच्चे भी दौडे और इस तरह अगले वर्ष 30 अगस्त को मिलने के वादे के प्रतियोगिता का समापन हुआ। और मजे की बात, पुरस्कार वितरण के निपटने के साथ बारिश भी बंद हो गई।

देखें विभिन्न वर्गों में पुरस्कार प्राप्त करते हुए प्रतिभागियों के व अन्य चित्र :

This slideshow requires JavaScript.

समाज में फैल रहे नशे के खिलाफ ‘से नो टु ड्रग्स’ की थीम पर आयोजित प्रतियोगिता में नैब के महासचिव श्याम धानिक, काउंसलर ज्योति नौला व पूजा मेहता के निर्देशन में आये कविता आर्या, भूपाल बिष्ट, लक्ष्मण धामी व चांदनी आर्या आदि दृष्टिबाधित बच्चों ने प्रेरणास्पद व देशभक्तिपूर्ण गीत गाये तथा दौड़ने एवं साइकिल चलाने के लाभों पर वक्तत्व दिये। एलआईसी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर विनय साह, वरिष्ठ मंडल प्रबंधक एनएस रावत, अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी सुरेश पांडे, पावर लिफ्टिंग चैंपियन दीप्ति जोशी, आरएस कालाकोटी, सेंट मेरीज कान्वेंट की प्रधानाचार्या सिस्टर मंजूशा अािद ने पुरस्कार वितरित किये। 2012 से इस प्रतियोगिता में लगातार आठवीं मैराथन दौड़ रहे व कई मैराथन दौड़ चुके दिल्ली के अनीस अहमद खान ने नैनीताल मैराथन दुनिया की सबसे कठिन मैराथन बताते हुए इसमें 42 किमी की दौड़ भी शुरू करने की आवश्यकता जताई। नैनीताल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ की ओर से प्रतिभागियों को स्वास्थ्यवर्धक मीठा दही-योघर्ट भेंट किया गया। प्रतिभागियों ने प्लास्टिक की बोतलों व रैपरों आदि का उचित निस्तारण करके भी मिसाल पेश की। हालांकि कुछ पर्यावरण प्रेमियों ने आयोजन स्थल पर झील के निकट व पूरे ट्रेक पर जगह-जगह धावकों द्वारा फेंकी गई प्लास्टिक की पानी की कुछ खाली बोतलें पड़ी होने पर चिंता जताई है। इस बार नगर में साफ सफाई व आवारा कुत्तों की संख्या में भी कुछ कमी आने से गत वर्षों की तरह किसी प्रतिभागी को दौड़ते हुए कुत्तों द्वारा काटने की कोई घटना भी प्रकाश में नहीं आई। आयोजन में ‘रनटुलिव’ संस्था के अध्यक्ष पूर्व अंतर्राष्ट्रीय धावक हरीश तिवारी, महासचिव बीएस ह्यांकी, प्रवीण सिंह, आरसीएस राणा, भूपाल नयाल, अजय साह, बासु साह, मनोज कुमार, विनोद पंत, बालम सिंह, विक्रम चौहान, जैफ्री वॉर्जेस, हरीश नयाल, सतीश चंद्र, भाष्कर साह, मीनाक्षी कीर्ति व खजान डंगवाल आदि ने प्रमुख भूमिका निभाई। हेमंत बिष्ट व नवीन पांडे ने संचालन किया।

यह रहे विजेता:

प्रतियोगिता की प्रमुख 21 किमी की पुरुषों की हाफ मैराथन दौड़ किनिया के स्टीवन ने एक घंटा 22 मिनट 6 सेकेंड का समय लेकर मात्र 17 सेकेंड के अंतर से 50 हजार रुपए के ईनाम के साथ जीती। वहीं विपिन कुमार दूसरे, अनिल कुमार यादव तीसरे, हेम चौथे, धर्मेंद्र सिंह पांचवे, रविंदर छठे, विजय डेका सातवें, रजत आठवें, मनोज सिंह 9वें व सुनील कुमार 10वें स्थान पर रहे। वहीं 21 किमी की ही महिलाओं की 50 हजार रुपए के इनाम वाली हाफ मैराथन अर्पिता सैनी ने जीता। दूसरे स्थान पर रेनू, तीसरे पर रीमा पटेल, चौथे पर विनीता व पांववे पर काजल, छठे पर नीलम, सातवें पर केएम सुशीला, आठवें पर गरिमा, नौवें पर लक्ष्मी व 10वें पर रानी रहीं। इनमें से अधिकांश यूपी के मुजफ्फरनगर, अमरोहा आदि की हैं। वहीं वरिष्ठ बालकों में गिरीश पहले, हिमांशु पलड़िया दूसरे व आयुष्मान तीसरे, बालिकाओं में करुणा पहले, प्रियंका दूसरे व मनीषा तीसरे, कनिष्ठ बालकों में प्रत्यूष बिष्ट पहले, ललित दूसरे व गिरीश तीसरे, कनिष्ठ बालिकाओं में अर्पिता चंद्रा पहले, ज्योति दूसरे व बीना बसेड़ा तीसरे तथा 60 से अधिक के बुजुर्गों में एक घंटा 37 मिनट 57 सेकेंड का समय लेकर दामोदर पहले, अनिल कुमार दूसरे, चरण सिंह तीसरे, सुभाष सिंह तीसरे, योगेंद्र प्रताप चौथे, जोगिंदर सिंह पांचवे, सोहनवीर सिंह छठे व जगदीश राम सातवें स्थान पर रहकर पुरस्कृत हुए। पुरुषों के साथ बुजुर्गों के वर्ग में दौड़ी पुणे से आई 61 वर्षीय दुर्गा सिल सहित कई अन्य को भी विशेष पुरस्कार दिये गये।

‘फन’ में जीता माइक्रोवेव ओवन, तीन ‘गौरवों’ को मिला जीतने का गौरव

नैनीताल। एनएम-3 में रन फॉर फन नाम की दौड़ भी प्रमुख आकर्षण रहती है, जिसमें बच्चे-बड़े, महिला-पुरुष कोई भी दौड़ सकता है, और इसमें विजेताओं की घोषणा जल्दी दौड़ खत्म करने से नहीं, बल्कि लक्की ड्रॉ से होती है। इस प्रकार इस प्रतियोगिता में लक्की ड्रॉ से पहले स्थान पर रही प्रज्ञा नेगी ने पुरस्कार में माइक्रोवेव ओवन जीता, जबकि नैब की पूजा मेहता ने दूसरा, गौरव बिष्ट ने तीसरा, गौरव साह ने चौथा, उत्कर्ष ने पांचवां, हिया नेगी ने छठा, प्रखर साह ने सातवां, गौरव ने आठवां, सिद्धि कनवाल ने नौवां और नरेंद्र ने दसवां पुरस्कार जीता।

यह भी पढ़ें : माउंटेन बाइकिंग: सवा घंटे से भी कम में पूरी की 30 किमी की दूरी, यह रहे विजेता

माउंटेन बाइकिंग प्रतियोगिता के लिए साइकिल सवारों को झंडी दिखाकर रवाना करती मुख्य अतिथि।

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अगस्त 2019। शनिवार को नगर में नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन के तहत रन टू लिव संस्था के तत्वावधान में एमटीबी चैलेंज साइकिलिंग प्रतियोगिता  का आयोजन हुआ। 30 किमी के ओपन मैन वर्ग की इस प्रतियोगिता को रजत पांडे ने एक घंटा 10 मिनट का समय लेकर जीत लिया, वहीं राकेश राणा 1 घंटा 12 मिनट के साथ दूसरे और निर्मल कुमार एक घंटा 20 मिनट का समय लेकर तीसरे स्थान पर रहे। वहीं 30 किमी की ही ओपन वूमन वर्ग की यानी महिलाओं की दौड़ में समर अहमद 2 घंटे 23 मिनट लेकर पहले और अचला मेर 2 घंटो 30 मिनट लेकर दूसरे स्थान पर रहीं। वहीं 4 किमी की बच्चों के वर्ग की साइकिल दौड़ में समरजीत सिंह पहले, स्वाति राणा सिंह दूसरे और अनंजय तीसरे स्थान पर रहे।

माउंटेन बाइकिंग प्रतियोगिता में विजयी रहे प्रतिभागी।

इससे पूर्व सुबह तड़के आर्मी सिग्नल कोर की लेफ्टिनेंट कर्नल गीतांजलि तिवारी ने नैनीताल दुग्ध उत्पादक संघ के प्रबंध निदेशक प्रकाश चंद्र व विद्युत विभाग के मुख्य अभियंता अतुल गर्ब्याल के साथ प्रतियोगिता का औपचारिक शुभारंभ किया। आयोजन में आरएस कालाकोटी, पूर्व अंतर्राष्ट्रीय धावक हरीश तिवारी, प्रवीण सिंह, बीएस ह्यांकी, आरसीएस राणा, भूपाल नयाल, अजय साह, बासु साह, मनोज कुमार, विनोद पंत, बालम सिंह, विक्रम चौहान, जैफ्री वॉर्जेस, हरीश नयाल, सतीश चंद्र, भाष्कर साह व खजान डंगवाल आदि ने प्रमुख भूमिका निभाई।

यह भी पढ़ें : आज की इस प्रतिस्पर्धा से नाम के फेर में देश-दुनिया में ‘अल्टीमेट बदनाम’ जरूर हो गया नैनीताल….!

-उच्च न्यायालय व राज्य अतिथि गृह के बीच सड़क पर उफनती सीवर के ऊपर से गुजरी साइकिलें और साइकिलिस्टों का झेलने पड़े खुद पर सीवर की गंदगी के छींटे
नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अप्रैल 2019। हम उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद, एशियन डेवलपमेंट बैंक तथा साइकिल फेडरेशन ऑफ इंडिया के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित ‘द अल्टीमेट उत्तराखंड हिमालयन एमटीबी चेलेंज’ की बात कर रहे हैं। इस प्रतियोगिता का औपचारिक शुभारंभ हालांकि बृहस्पतिवार को ही हो गया था किंतु वास्तव में शुक्रवार को प्रतिस्पर्धा प्रारंभ हुई। उम्मीद थी कि प्रतिस्पर्धा से देश-दुनिया में नैनीताल सहित इस प्रतिस्पर्धा के पूरे पथ एवं पूरे प्रदेश का नाम होगा, सम्मान बढ़ेगा। यह कितना हुआ या होगा, पता नहीं, परंतु शुक्रवार को प्रतिस्पर्धा के शुरुआत में ही जो हुआ उसने नैनीताल ‘अल्टीमेट बदनाम’ जरूर हो गया।
तस्वीरें गवाह हैं, और सच्ची तस्वीरें कभी झूठ नहीं बोलतीं। हुआ यह कि सुबह सात बजे जब यह प्रतिस्पर्धा शुरू हुई तो उत्तराखंड उच्च न्यायालय एवं मल्लीताल राज्य अतिथि गृह नैनीताल क्लब के बीच चीना बाबा चौराहे पर सीवर लाइन बुरी तरह से उफन रही थी। जहां आयोजकों की ओर से पूरे यात्रा पथ पर निर्बाध यात्रा के लिए पूरी तैयारियां किये जाने की बात कही जा रही थी, वहीं जिला व मंडल मुख्यालय एवं विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी में उच्च न्यायालय एवं राज्य अतिथि गृह के चंद कदमों की दूरी पर सीवर लाइन के चोक होने से सड़क पर बह रही सीवर को रोकने का कोई प्रबंध नहीं किया गया। फलस्वरूप प्रतिस्पर्धा में शामिल साइकिलिस्टों को सीवर के ऊपर से साइकिलें चलाकर गुजरना और खुद पर सीवर की गंदगी के छींटे सहने पड़े। उल्लेखनीय है कि इस बहु प्रचारित प्रतिस्पर्धा में जर्मनी, इजराइल, ईरान, थाइलेंड, मलेशिया, सिंगापुर, श्रीलंका व नेपाल आदि के 13 अंतर्राष्ट्रीय पुरुष तथा 9 अंतरराष्ट्रीय महिलाएं तथा देश के 62 पुरुष व 3 महिला साइकिलिस्ट यानी कुल 87 प्रतिभागी शामिल हैं, जो अल्मोड़ा, कौसानी, रुद्रप्रयाग, टिहरी व चिन्यालीसौड़ होते हुए आगामी 26 अप्रैल को मसूरी पहुचेंगे।

यह भी पढ़ें : 24 विदेशियों सहित कुल 87 प्रतिभागी अल्टीमेट उत्तराखंड हिमालयन एमटीबी चेलेंज के लिए चयनित

-सुबह क्वालीफाइंग दौड़ में दौड़े 14 विदेशियों व 14 महिलाओं सहित कुल 93 प्रतिभागी

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 अप्रैल 2019। भारी बारिश के बीच उत्साह की तनिक भी कमी के बिना बहुप्रतीक्षित ‘द अल्टीमेट उत्तराखंड हिमालयन एमटीबी चेलेंज’ बृहस्पतिवार को प्रारंभ हो गयी। उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद, एशियन डेवलपमेंट बैंक तथा साइकिल फेडरेशन ऑफ इंडिया के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित प्रतिस्पर्धा के लिए सुबह तड़के सात बजे गोविंद बल्लभ पंत पार्क से प्रारंभ हुई क्वालीफाइंग रेस के बाद कुल 87 प्रतिभागियों का चयन किया गया। जिसमें जर्मनी, इजराइल, ईरान, थाइलेंड, मलेशिया, सिंगापुर, श्रीलंका व नेपाल आदि के 13 अंतर्राष्ट्रीय पुरुष तथा 9 अंतरराष्ट्रीय महिलाएं तथा देश के 62 पुरुष व 3 महिला साइकिलिस्ट शामिल हैं।

इससे पूर्व सुबह सात बजे बारिश के बीच भारतीय साइकिलिंग संघ के अध्यक्ष ओमकार सिंह ने 14 महिलाओं एवं इतने ही यानी 14 विदेशियों सहित कुल 93 साइकिलिस्टों को सरोवरनगरी की सुरम्य वादियों में रूसी बाइपास की सर्पीली सड़कों पर दो चक्कर लगाते हुए 48 किमी की परीक्षण दौड़ के लिए रवाना किया। इस दौरान जोशीले नौजवान युवक-युवतियों के साइकिल पर कौशल और दमखम का आलम यह था कि आयोजकों के चौपहिया वाहनों को उन्हें ओवरटेक करने में खासी मशक्कत करनी पड़ रही थी। इस अवसर पर आयोजन का प्रतीक (मस्कट) ‘बर्फी’ आकर्षण का केंद्र बना हुआ था। आगे शाम को मुख्य प्रतिस्पर्धा का उद्घाटन अपर सचिव पर्यटन सी रविशंकर ने मल्लीताल स्थिति शैले हॉल से किया। उन्होंने बताया कि माउंटेन बाइक रैली का पहला पड़ाव अल्मोड़ा होगा, इसके बाद कौसानी, रुद्रप्रयाग, टिहरी, चिन्यालीसौड़ और मसूरी होते हुए साइकिल सवारों का यह दल देहरादून पहुंचेगा, जहां 26 तारीख को प्रतियोगिता का समापन समारोह आयोजित किया जाएगा। शुक्रवार से आरंभ होने जा रही इस प्रतियोगिता के प्रत्येक दिन विभिन्न वर्गों के विजेताओं को आकर्षक पुरस्कार दिए जाएंगे। स्थानीय युवाओं को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से उनके लिए भी विशेष पृथक पुरस्कार रखे गए हैं। उद्घाटन समारोह में प्रतिभागी एवं दर्शक स्थानीय लोक नृत्य झोड़ा तथा छपेली की धुनों पर झूम उठे। इस अवसर पर जनपद के एडीएम एसएस जंगपांगी, संयुक्त निदेशक पर्यटन पूरन चंद, जिला पर्यटन अधिकारी अरविंद गौड़, कुमाऊं मंडल विकास निगम के महाप्रबंधक अशोक जोशी, पुलिस के नगर क्षेत्राधिकारी विजय थापा आदि भी इस अवसर पर उपस्थित रहे। जिला पर्यटन अधिकारी अरविंद गौड़ ने बताया कि इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के लिए कुल 170 साइकिलिस्टों ने ऑनलाइन पंजीकरण कराया था।

यह भी पढ़ें : केआरसी के रोहित रहे नैनीताल के विजेता, इथियोपिया के मेंजिस्टिक रहे तीसरे स्थान पर

-नैनीताल मैराथन में देश विदेश के सैकड़ों प्रतिभागियों ने किया प्रतिभाग
-विदेशी प्रतिभागियों के भाया मैराथन का प्राकृतिक सौंदर्य से युक्त ट्रेक

नैनीताल मैराथन के विजेताओं को पुरस्कृत करते ओलंपियन नितेंद्र रावत, शीतल राज, योगेश गर्ब्याल एवं आयोजक।

नैनीताल, 26 अगस्त 2018 । सरोवरनगरी नैनीताल में रन टु लिव संस्था के तत्वावधान में आयोजित हुई नगर की पहचान बन चुकी 9वीं मानसून माउंटेन मैराथन केआरसी रानीखेत के रोहित नयाल ने प्रथम स्थान, आनंद सिंह रावत ने द्वितीय तथा इथियोपिया के मेंजिस्टिक बिनयम ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। वहीं विजय सिंह चौथे और खुशाल सिंह पांचवे स्थान पर रहकर भी पुरस्कृत हुए। मैराथन का शुभारंभ ओलंपियन नितेन्द्र रावत ने पर्वतारोही शीतल राज व योगेश गर्ब्याल बतौर मुख्य अतिथि हरी झंडी दिखाकर किया, तथा विजेताओं को क्रमशः 50, 25 एवं 5 हजार रुपए के नगद पुरस्कारों से पुरस्कृत भी किया। प्रतियोगिता के सभी वर्गों में पहली बार डिजिटल चिप का प्रयोग किया गया, इस कारण ऑनलाइन माध्यम से परिणाम घोषित होने में देरी भी हुई।
तेज बारिश के बीच हुई प्रतियोगिता में 21 किलोमीटर की हाफ मैराथन में 76 तथा कुल मिलाकर 1000 से अधिक धावकों ने प्रतिभाग किया। इसके अलावा महिला-पुरुषों की 10-10 किमी, 45 से अधिक उम्र के बुजुर्गों तथा 7 गुणा 3 किमी की पहली बार रोड रिले, 5-5 किमी की बालक-बालिकाओं की वरिष्ठ वर्ग की एवं 4-4 किमी की जूनियर वर्ग की तथा रन फॉर फन प्रतियोगिताएं भी आयोजित हुईं। बुजुर्गों की 10 किमी की दौड़ में सुभाष चंद्र, चरन सिंह व संदीप कुमार, सीनियर बालकों की 10 किमी की दौड़ में अमन कुमार, विजय कपकोटी व विवेक कुमार, सीनियर गर्ल्स में करुणा बुढलाकोटी, भानुप्रिया बिष्ट व सोनिया पांडे, जूनियर बालक वर्ग में आदित्य प्रथम, दीपक रावत व अभिषेक बिष्ट, बालिका वर्ग में उर्मिला, ज्योति व बीना ने क्रमशः प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया। इसके अलावा रन टू फन में लकी ड्रॉ के आधार पर अंजली साह, शिवांश व शुभम ने प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किये। इसके साथ ही माउंटेन बाइकिंग प्रतियोगिता में महिला वर्ग में पूनम खोलिया, प्रतिभा सेठ व मंजू खड़का तथा पुरुष वर्ग में सौरभ फुलारा प्रथम, हिमाल टम्टा द्वितीय व दीपक भंडारी तृतीय के साथ ही 7 गुणा 3 किमी की रोड रिले में प्रथम स्थान पर देहरादून व द्वितीय स्थान पर रामनगर की टीम रही। महिला वर्ग में अकेले प्रतिभाग करने वाली नमिता पांडे भी पुरस्कृत की गयीं। आयोजन के दौरान अनेक बच्चों को छात्रवृत्तियां भी प्रदान की गयीं। आयोजन को सफल बनाने में आयोजक अंतराष्ट्रीय धावक हरीश तिवारी, चंद्रविजय सिंह, एनके दीक्षित, नैनीताल बैंक के एके सिंह, एसके छाबड़ा, अंगद, आरएस कालाकोटी, हरीश नयाल, वीरू ह्यांकी, विनय चौहान, वासु साह, मनीष जोशी, जितेंद्र काला, योगेंद, सुरेश पांडेय व मिलन सहित रन टु लिव संस्था के अनेक सदस्य जुटे रहे।

नेपाल की अनीता और शुभम ने जीता नैनीताल एमटीबी चेलेंज, (फोटो सौजन्य मनोज कुमार)

This slideshow requires JavaScript.

नैनीताल, 25 अगस्त 2018। रविवार को आयोजित होने जा रही नौवीं नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन की कड़ी में शनिवार को मुख्यालय में भारी बारिश के बीच एमटीबी चेलेंज यानी साइकिलिंग प्रतियोगिता आयोजित हुई। प्रतियोगिता में बालिकाओं के वर्ग में नेपाल की अनीता सिंह भंडारी प्रथम व यहीं की मंजू कुमार खड़का द्वितीय व पूनम तृतीय रहीं। जबकि बालकों के वर्ग में शुभम फुलारा पहले, दीपक सिंह भंडारी द्वितीय व हिमाल टम्टा तीसरे रहे। प्रतियोगिता में 5 बालिकाएं, 17 बालक एवं 19 बच्चे सहित कुल 41 प्रतिभागी शािमल हुए। बालक एवं बालिकाओं ने 30 किमी एवं बच्चों ने 2 किमी के ट्रेक पर साइकिल दौड़ाई। इससे पूर्व एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड के डिविजनल डिप्टी मैनेजर एनके दीक्षित ने आयोजक सचिव अंतरराष्ट्रीय धावक हरीश तिवाड़ी व अन्य के साथ हरी झंडी दिखाकर प्रतियोगिता के लिए साइकिलिस्टों को रवाना किया।

नैनीताल मैराथनः पहली बार 21 किमी की रिले भी, कीनिया-नेपाल के धावक भी भागेंगे

  • कुल 2.74 लाख के ईनाम बटेंगे आगामी 26 अगस्त को प्रस्तावित मैराथन में
  • पहली बार सभी धावक दौड़ेंग डिजिटल टाइमिंग चिप के साथ
  • सुब्बाराव, गुलाब चंद सहित कई नामी खिलाड़ी भी आएंगे
  • मैराथन से एक दिन पहले साइकिल रेस भी होगी
नैनीताल मॉनसून माउंटेन मैराथन के पोस्टरों का अनावरण करते आयोजक।

नैनीताल, 7 अगस्त 2018। सरोवरनगरी में बीते आठ वर्षों से हर वर्ष अगस्त माह के अंतिम रविवार को आयोजित होने वाली प्रतिष्ठित नैनीताल मॉनसून माउंटेन मैराथन अपने नौवें संस्करण में इस बार आगामी 26 अगस्त को होगी और इस बार इसमें कुल 2.74 लाख के ईनाम बटेंगे। साथ ही नगर की पहचान बन चुकी इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के ताज में इस बार 21 किमी की रिले मैराथन का नया नगीना भी जुड़ने जा रहा है। यह रिले दौड़ टीम आधारित होगी, और इसमें शामिल होने वाली टीमों में कोई भी 7 महिला-पुरुष शामिल हो सकते हैं। इनमें से प्रत्येक को डिजिटल बेटन लेकर 3-3 किमी दौड़ना होगा। साथ ही पहली बार मैराथन की सभी प्रतियोगिताओं में सभी धावकों को इलेक्ट्रॉनिक टाइमिंग चिप उपलब्ध कराई जाएंगीं। पिछले बार यह केवल 21 किमी की मैराथन दौड़ के धावकों को ही उपलब्ध कराये गये थे। इनके जरिये धावकों के सही समय की ऑनलाइन जानकारी एवं प्रमाण पत्र भी उपलब्ध कराये जाएंगे। मुख्य आकर्षण 21 किमी की मैराथन के लिए कीनिया के 4-5 तथा नेपाल के 8 धावक-साइकिलिस्ट पहले ही अपनी स्वीकृति दे चुके हैं। साथ ही 65 की उम्र के एक एशियाई धावक तथा भारत के पहले कृत्रिम पांव से दौड़ने वाले ‘ब्लेड रनर’ मेजर डीपी सिंह के भी इस दौड़ में शामिल होने की संभावना है। मैराथन से एक दिन पहले साइकिल रेस भी होगी।

पंजीकरण व किसी भी तरह की अन्य जानकारियों के लिए इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं। पंजीकरण की आखिरी तारिख 17 अगस्त 2016।

मंगलवार को आयोजक ‘रन टु लिव’ संस्था के प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय धावक हरीश तिवाड़ी ने बोट हाउस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारियां दीं। नगर की ऊंची-नीची खूबसूरत राहों पर 21 किमी की ओपन-मेन मैराथन दौड़ के सबसे बड़े आकर्षण वाली इस मैराथन के लिए ऑनलाइन-ऑफलाइन दोनों तरीके से पंजीकरण आगामी 17 अगस्त तक कराये जा सकते हैं। जबकि अब तक भी करीब 600 पंजीकरण हो चुके हैं। आगे यह संख्या 1200 तक पहुंचने की संभावना है। मैराथन के अवसर पर भारतीय बॉलीबॉल टीम के पूर्व कप्तान सुब्बा राव, अर्जुन पुरस्कार विजेता गुलाब चंद तथा भारतीय जूनियर टेबिल टेनिस टीम के कोच पराग अग्रवाल के भी पहुंचने की संभावना है। दौड़ के दौरान फर्स्ट एड व 2 एंबुलेंस के साथ ही 1 चिकित्सक की भी तैनाती की जाएगी। इस दौरान वाहनों को कुछ समय के लिए रोकने के लिए एसएसपी से अनुरोध किया जाएगा। मैराथन से एक दिन पहले साइकिल रेस भी होगी। इस दौरान मैराथन के पोस्टरों का अनावरण भी किया गया। पत्रकार वार्ता में प्रायोजक एलआईसी के डीएस गुंज्याल, एलाआईसी हाउसिंग के सौरभ श्रीवास्तव, विनोद पंत, पवन कुमार, बालम मेहरा व हरीश नयाल आदि भी मौजूद रहे।

प्रतियोगिता निम्न श्रेणियों में होगी :-

1.  Open Men- 21 KM. Prizes : 50000, 25000, 5000 INR

2. Women- 10 KM. Prizes : 20000, 10000, 5000 INR

3. Men-10 KM,  Prizes : 20000, 10000, 5000 INR

4. Veteran (45+),  Prizes : 20000, 10000, 5000 INR

5. Road Relay 7X3 Km. = 21 Km.  Prizes : 17000 and 7000 INR

6.Sr. School Boys  (Class 9 to 12) 5 Km  Prizes : 5000, 3000, 2000 INR

7.Sr. School Girls  (Class 9 to 12) 5 Km  Prizes : 5000, 3000, 2000 INR

8.Jr. School Boys (Upto Class 8) 4 Km  Prizes : 5000, 3000, 2000 INR

6.Jr. School Girls (Upto Class 8) 4 Km  Prizes : 5000, 3000, 2000 INR

Run for Fun- 3 KM. Prizes-Gifts through Lucky Dram

First 3 Finishers form Nainital in 21 Km – Prizes : 5000, 3000, 2000 INR

CONTACT NUMBERS 7830004030, 9410749695,7905370720

E-Mail us :-  run2live.in@gmail.com

पिछले वर्ष का समाचार : 1000 राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय धावक दौड़े आठवीं नैनीताल मैराथन में

नैनीताल। सरोवरनगरी में आयोजित हुई आठवीं नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन 27 अगस्त 2017 को आयोजित हुई। इसमें खास तौर पर ले. कर्नल सुन्दरेशन रंगनाथन जैसे धावक भी शामिल रहे जो 50 शहीद सैनिकों के परिवारों के लिये धनराशि एकत्र करने के लिये लगातार 50 मैराथन दौड़ने का संकल्प लिये हुए हैं। नैनीताल मैराथन उनकी 38वीं मैराथन रही। इस मैराथन में केन्या के तीन धावक जेम्स किपलेटिंग, जूलियस किपचुम्बा व माइकल बिवेट और इससे एक दिन पूर्व 26 अगस्त को आयोजित होने जा रही एमटीबी चेलेंज यानी साइकिलिंग प्रतियोगिता में नेपाल के तीन धावक भी शामिल हुए। पहली बार मैराथन के दौरान सभी प्रतिभागियों को इलेक्ट्रानिक चिप लगाई गई, ताकि किसी भी प्रकार की गड़बड़ न हो।

IMG-20160829-WA0002उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व वर्ष यह Rashtriya Sahara 07th August 2016प्रतियोगिता अपने छठे संस्करण में नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन यानी नम: एनएम-3 के नाम से 28 अगस्त 2016 को आयोजित हुई थी। तब इसमें 2.67 लाख रुपए की बड़ी ईनामी राशि थी, और इसमें 10 किमी की ओपन वुमेन के साथ ही स्कूली बालक-बालिकाओं की वरिष्ठ व कनिष्ठ वर्ग की प्रतियोगिताएं भी आयोजित हुईं। इस दौरान नगर के सेंट जोसफ से ही पढ़े और ‘कुमाऊं का डॉन विलियम’ कहे जा रहे चर्चित गायक गौरव पांडे द्वारा लिखे, कंपोज किए व गाये गये थीम सॉंग को भी लॉंच किया गया। इस वर्ष पहली बार एक दिन पूर्व 27 अगस्त को पुरुषों की 20 और महिलाओं की 10 किमी की माउंटेन बाइकिंग प्रतियोगिता भी हुईं तथा इस वर्ष आयोजन से स्वर्गीय देवकी नंदन जोशी तथा अन्य की स्मृतियों में चार छात्रवृत्तियां भी जोड़ी गईं। प्रतियोगिता में रियो ओलंपिक की मैराथन प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर लौट रहे धावक नितेंद्र रावत के साथ ही Walk प्रतियोगिता के प्रतिभागी मनीष रावत के भी भाग लेने की संभावना थी, लेकिन वे नहीं पहुँच पाए।

यह भी देखें : नैनीताल मानसून मैराथन का पहला संस्करण-2010

नैनीताल मानसून मैराथन के पहले संस्करण में पहुंची देश की पहली पदक विजेता महिला खिलाडी कर्णम मल्लेश्वरी.

नितेन्द्र की ओलम्पिक पदक की दौड़ से परे अनसुनी कहानी जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।

नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन में प्रतिभाग करने के लिए अभी यहाँ क्लिक करके ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं ।

IMG-20160816-WA0019

पुराना समाचार : फोटोग्राफी प्रतियोगिताएं:

नमह नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन के लिए अलग-अलग दो फोटोग्राफी प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं। एक प्रतियोगिता आयोजक ‘रन टु लिव’ की ओर से, तो दूसरी सहयोगी ‘डीएस समूह’ की ओर से। ‘रन टु लिव’ की फोटो प्रतियोगिता में आयोजन के दौरान ट्रेक पर खींची जाने वाली सर्वश्रेष्ठ फोटो पर पुरस्कार मिलेंगे,  जबकि ‘डीएस समूह’ की ओर से आयोजित प्रतियोगिता फेसबुक पर नैनीताल लवर्स ग्रुप, नैनीताल सचमुच स्वर्ग , उत्तराखंड लवर्स और हम तो ठैरे उत्तराखंड लवर्स ग्रुप आदि ग्रुपों और पेजों के सदस्यों के लिए हैं। इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को अपनी प्रविष्टियाँ नैनीताल लवर्स ग्रुप पर @ https://www.facebook.com/groups/Lovenainital/ अथवा नैनीताल सचमुच स्वर्ग पेज @ https://www.facebook.com/NainitalLovers/ पर पूरे resolutions में डालनी होंगी।

फोटो प्रतियोगिता से सम्बंधित नियम व शर्तें :

Theme of Photography should be on Fitness, Running and Monsoon Marathon Route.

नैनीताल लवर्स और नैनीताल सचमुच स्वर्ग पेज पर प्रतियोगिता के लिए फोटो डालने पर फोटो में “नमह नैनीताल मानसून माउंटेन मैराथन के लिए” आवश्यक तौर पर लिखना होगा। साथ ही फोटो का शीर्षक भी दें, और पोस्ट पर #NamahNainitalMonsoonMountainMarathon भी लगाएं। फोटो स्वयं की खिंची हुई हो, इसकी घोषणा भी करें, तथा अपना नाम, मोबाइल नंबर व स्थान का भी उल्लेख करें।

प्रतिभागियों से उनकी श्रेष्ठ प्रविष्टियाँ यानी फोटो कम से कम 1600 X 1200 pixels आकार एवं 200 pixels/inch के resolution आकार में पोस्टर बनाने हेतु ई-मेल के माध्यम से ली जाएंगी, जिन्हें गैर व्यवसायिक उद्देश्य से पोस्टर के रूप में प्रदर्शित किया जायेगा।

विजेताओं के चुनाव का अधिकार प्रायोजक “डीएस समूह” के पास होगा, तथा उनका निर्णय अंतिम होगा, एवं निर्णय को चुनौती नहीं दी जा सकेगी। 

पुरस्कार निम्नवत होंगे :

प्रथम पुरस्कार : Rs.3000 Cash & Meal Voucher for Two

द्वितीय पुरस्कार  – Rs.2000 Cash & Meal Voucher for Two®ú

तृतीय पुरस्कार  – Rs.1000 Cash & Evening Hi Tea for Two

Leave a Reply

Loading...
loading...