Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

जनवरी में होने वाले राज्य खेलों पर निर्भर करेगी उत्तराखंड की राष्ट्रीय खेलों हेतु मंजूरी

Spread the love

-छह जनवरी से होंगे प्रदेश में राज्य खेल, 39 खेलों का होगा आयोजन
नवीन जोशी, नैनीताल। 38वें राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी से पहले ही हाथ धो चुके उत्तराखंड के लिये 39वें राष्ट्रीय खेलों के लिये मेजबानी की दावेदारी करने का मौका जनवरी 2018 में आने जा रहा है। आगामी छह जनवरी से राज्य में राज्य खेलों के अंतर्गत वे सभी 39 प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी, जो राष्ट्रीय खेलों का हिस्सा भी होती हैं। यह राज्य खेल एक तरह से राष्ट्रीय खेलों के लिये तैयारी को परखने का मौका तो होंगे ही, साथ ही इनसे उत्तराखंड की राष्ट्रीय खेलों हेतु मेजबानी के दावे की परख भी की जाएगी। भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता ने ‘एक्सक्लूसिव’ बातचीत में खुलासा किया कि उत्तराखंड सरकार से उन्हीं स्थलों-खेल मैदानों में राज्य खेलों की विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित करने को कहा गया है। आगे राज्य खेलों के दौरान भारतीय ओलंपिक संघ की तकनीकी समिति सभी खेल स्पर्धाओं पर नजर रखकर तय करेगी कि उत्तराखंड की 39वें राष्ट्रीय खेलों के आयोजन के लिये जरूरी तैयारियां हैं अथवा नहीं।

5 अक्टूबर 2017 को नैनीताल पहुंची 21वें राष्ट्रमंडल खेलों की क्वीन’स बेटन
यह भी पढ़ें : 19th CWG: रिकार्ड पर रिकार्ड, क्वींस बेटन से ही हो गयी थी इतिहास रचने की शुरुआत

नवीन जोशी, नैनीताल। 1930 से हो रहे राष्ट्रमण्डल खेलों के 70 वर्षों के इतिहास में भारत को 19वें संस्करण में आयोजन का जो पहला मौका मिला…. 

राष्ट्रमंडल खेलों की क्वीन्स बेटन रिले के साथ अपने गृहनगर सरोवरनगरी नैनीताल पहुंचे श्री मेहता ने बातों के दौरान इस बात पर निराशा भी जताई कि उत्तराखंड का खेलों का बजट केवल 40 करोड़ रुपए है, जबकि 2018 में 38वें राष्ट्रीय खेल आयोजित करने जा रहे गोवा का बजट 300 करोड़ रुपए का है। ऐसे में उत्तराखंड के 39वें राष्ट्रीय खेल कराने की गंभीरता को भी समझा जा सकता है। वहीं राज्य में पिछली सरकार के दौर में 38वें राष्ट्रीय खेलों के लिये हामी तो भरी गयी, किंतु तैयारियों के नाम पर हल्द्वानी में बनाए गए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को बड़ी उपलब्धि के रूप में प्रदर्शित किया गया, जबकि सच्चाई यह है कि एक खेल के बजाय खली के मनोरंजक सीडब्लूई यानी कांटिनेंटल रेसलिंग इंटरटेनमेंट कार्यक्रम के जरिये शुभारंभ किये गए इस मैदान का क्रिकेट के अलावा अन्य किसी भी खेल के लिये उपयोग हो ही नहीं सकता है। राष्ट्रीय खेलों में भी इस मैदान का उपयोग नहीं हो सकता है, जबकि अन्य स्टेडियमों का निर्माण बस कहने भर को ही हो रहा है। ऐसे में जनवरी 17 तक यह मैदान राज्य खेलों के लिये भी तैयार हो जाएं तो बड़ी बात होगी। अलबत्ता स्थानीय विधायक संजीव आर्य एवं पूर्व में जिला क्रीड़ा अधिकारी व राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी रहे द्वाराहाट के विधायक महेश नेगी ने उम्मीद जताई कि उत्तराखंड निश्चित रूप से 39वें राष्ट्रीय खेल आयोजित करेगा।

उत्तराखंड में वर्ष 2018 में देश के 38वें राष्ट्रीय खेल आयोजित किए जाने की 19 दिसंबर 2014 को भारतीय ओलंपिक संघ ने घोषणा कर दी है। इसे उत्तराखंड सरकार के द्वारा मुख्यमंत्री हरीश रावत के स्वप्न के सच होने के रूप में प्रचारित किया गया। गौरतलब है कि हमने 2 नवंबर 2014 को बोट हाउस क्लब में यहीं नैनीताल निवासी भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता से मुलाकात के आधार पर 5 नवंबर के अंक में प्रथम पृष्ठ पर एवं ‘नवीन जोशी समग्र’ पर यह समाचार प्रकाशित कर दिया था। श्री मेहता ने कहा था-उनकी हमेशा से इच्छा थी कि वह भारतीय ओलंपिक संघ में होने का लाभ लेते हुए अपने राज्य को कुछ दें। उन्होंने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों से भी इस बाबत बात की थी, पर शायद उनकी समझ में बात नहीं आई। अलबत्ता, हरीश रावत ने उन्हें इस बाबत औपचारिक पत्र देने का वादा किया है।

भाजपा सरकार ने खेलों का बजट आधा कर दिया: हरीश रावत

नैनीताल। शुक्रवार को सरोवरनगरी में मौजूद प्रदेश के पूर्व सीएम हरीश रावत ने राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी के बाबत पूछे जाने पर दावा किया कि मौजूदा भाजपा सरकार ने राज्य का खेलों का बजट आधा कर दिया है। हालांकि वह बता नहीं पाए कि उनकी सरकार के समय खेलों का बजट कितना था। उन्होंने कहा कि उन्होंने तीन वर्षों में हर वर्ष ग्रामीण खेलों, खेल क्लबों और खेल संस्थाओं को समय दिया था। साथ ही मुन्स्यारी में ‘हाई एल्टीट्यूड’ प्रशिक्षण संस्थान स्थापित करने के साथ देहरादून, हल्द्वानी, अल्मोड़ा, काशीपुर व पिथौरागढ़ आदि स्थानों के पुराने खेल स्टेडियमों के विस्तार के कार्य भी शुरू करवाए थे।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

One thought on “जनवरी में होने वाले राज्य खेलों पर निर्भर करेगी उत्तराखंड की राष्ट्रीय खेलों हेतु मंजूरी

Leave a Reply