Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

एनडी के घर बजी शहनाई…

Spread the love
बीती 20 जुलाई से अस्वस्थता की वजह से दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती यूपी व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी के घर में एक बार फिर शहनाई बजी। वयोवृद्ध नेता के पुत्र रोहित शेखर ने 11 मई को उन्हें अनूठी खुशी दी। रोहित ने पहले शनिवार 7 अप्रैल को पिता के दिल्ली स्थित सरकारी आवास पर चुनिन्दा पारिवारिक सदस्यों की उपस्थिति में बेहद सादगी के साथ मूलतः मध्य प्रदेश निवासी सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता अपूर्वा शुक्ला के साथ सगाई की, और 11 मई को शादी कर ली। इस दौरान उन्होंने मां उज्ज्वला शर्मा के साथ पिता का आशीर्वाद भी लिया।  
उल्लेखनीय है कि 88 वर्षीय तिवारी ने पुत्र रोहित द्वारा वर्ष 2008 में अदालत में दायर पैतृक वाद के बाद अप्रैल 2014 में रोहित को अपना पुत्र स्वीकार कर लिया था, और 4 वर्ष पूर्व ही मार्च 2014 में उनकी माँ 62 वर्षीया उज्ज्वला शर्मा से विवाह किया था।

यह पूर्व आलेख भी पढ़ें: रोहित शेखर झटकेंगे पिता एनडी का ‘हाथ’, थामेंगे भाजपा का दामन 

रोहित शेखर

-करीब एक वर्ष से राहुल-सोनिया को भी साधने के बावजूद कांग्रेस से कोई सकारात्मक संकेत न मिलने से हैं नाखुश, कहा था-पिता के जन्म दीं के बाद होंगे ‘खुले पंछी’
-भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट व सांसद भगत सिंह कोश्यारी के हुई है बात, लालकुआ, भीमताल, किच्छा और काशीपुर सीटों से चुनाव लड़ने के दिए हैं विकल्प, समाजवादी पार्टी से भी हैं बेहतर संबंध
नवीन जोशी, नैनीताल। कभी प्रदेश ही नहीं देश की राजनीति के शीर्ष पुरुष रहे यूपी व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी के पुत्र रोहित शेखर पिता की 80 वर्ष से सेवित कांग्रेस पार्टी का श्हाथश् झटक सकते हैं। पहले से ही यूपी सरकार में ट्रांसपोर्ट सलाहकार के पद का श्लुत्फश् ले रहे रोहित के लिए पिता एनडी के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट व नैनीताल-ऊधमसिंह नगर सीट से सांसद भगत सिंह कोश्यारी के बात हो चुकी है। बताया गया है की भाजपा को लालकुआ, भीमताल, किच्छा और काशीपुर सीटों से चुनाव लड़ने के विकल्प दिए गए हैं। इन सीटों का एनडी पिछले दिनों खुद जायजा भी ले गए हैं। वहीँ समाजवादी पार्टी भी एनडी के पुराने दौर के करिश्मे की उम्मीद और ब्राह्मण चेहरे के साथ अब से पहले कभी न चढ़ पाई श्साइकिलश् को उनके सहारे पहाड़ चढ़ाने की फिराक में है। रोहित ने भी साफ कह दिया है कि वे एक वर्ष के असफल इंतजार के बाद कांग्रेस से अब ‘भीख’ माँगने वाले नहीं हैं।
गौरतलब है की एनडी एक बार फिर, लगातार दूसरे वर्ष अपना जन्मदिन मनाने पत्नी उज्जवला शर्मा और जैविक पुत्र रोहित शेखर के साथ आगामी 18 अक्टूबर को हल्द्वानी आये। इससे पूर्व समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सत्यनारायण सचान ने हल्द्वानी में यह कहकर चर्चाओं को हवा दे दी थी कि यदि उनके पुत्र रोहित शेखर समाजवादी पार्टी की सदस्यता लेते हैं तो पार्टी उन्हें कुमाऊं मंडल की किसी भी सीट से टिकट देने के लिये तैयार है। इस तरह चर्चा जोरों पर है कि सपा प्रदेश में ब्राह्मण चेहरे को आगे कर अपनी डूबती-उतराती चुनावी नैया को नए माझी के साथ प्रदेश की राजनीति में उतार सकती है। इस पर 37 वर्षीय रोहित शेखर ने लखनऊ से बात करते हुये कहा कि वह अपने पिता द्वारा 80 वर्ष से सेवित कांग्रेस को ही अपनी पार्टी और सोनिया गांधी को अपनी मां के समान मानते हैं। उन्होंने ही इस वर्ष 13 जनवरी को अपने पिता को बचपन के बाद युवा राहुल गांधी से पहली बार मिलाया। फरवरी माह में सोनिया गांधी से भी अपने पिता के साथ मुलाकात हुई। इसके बाद से वे कांग्रेस पार्टी से जुड़ने के प्रति आशान्वित थे। लेकिन अक्टूबर माह तक कांग्रेस पार्टी की ओर से कोई सकारात्मक संकेत न मिलने से वह इधर बीच में हताशा महसूस करने लगे हैं। उन्हें लगता है कि कांग्रेस पार्टी में ‘स्थानीय व प्रदेश स्तर पर’ कुछ लोग हैं, जो नहीं चाहते कि वह यानी एनडी की राजनीतिक विरासत संभालने आ रहे पुत्र उनकी दुनिया में कदम भी रखें। आखिर में वह दो-टूक बोले-18 के बाद उनके सभी विकल्प खुले हैं। इस दिन के बाद कोई भी निर्णय लेने के लिये वे ‘खुले पंछी’ हैं। साथ ही समाजवादियों से अपनी नजदीकी को खुलकर स्वीकारते हुए उन्होंने कहा कि सपा प्रमुख मुलायम सिंह उत्तराखंड आंदोलन के दौर के मतभेदों के बावजूद आज पिता एनडी को बड़े भाई और गुरू के रूप में पूरा सम्मान दे रहे हैं, और अखिलेश भी रोहित को छोटे भाई के रूप में पिता एनडी की तरह ही पूरा अपनापन और प्यार देते हैं। वहीं भाजपा नेताओं के एनडी से मिलने के बाद उन्होंने कहा-उनके पिता का जो भी पार्टी सम्मान करेगी, उसमें जाने से उन्हें कोई गुरेज नहीं है। लेकिन फिर से उन्होंने स्वयं को अपने पिता के जन्म दिन तक के लिये संयत रखा है। 18 अक्टूबर को हल्द्वानी आकर देखेंगे कि उन कांग्रेस जनों, जो आज भी उनके पिता से बात करते रहते हैं, तथा कांग्रेस पार्टी उन्हें कैसा ‘रिस्पॉंस’ देते हैं। कहा कि वे आज भी किसी पार्टी में नहीं हैं। आगे चुनाव के लिये काफी कम समय शेष रहते उनके लिये इस दिन के बाद आगामी विस चुनावों के लिये कोई न कोई निर्णय लेने की मजबूरी होगी। कहा-वह कांग्रेस पार्टी से कोई ‘भिक्षा’ मांगने वाले नहीं हैं। वह तो अपने पिता की राजनीतिक विरासत के साथ कहीं भी जा सकते हैं, पर उनके जाने से किसे वास्तव में नुकसान होगा, बताना कठिन नहीं है। कहा कि वह लखनऊ-देहरादून रहते भी हर रोज पूरे उत्तराखंड प्रदेश की समस्याओं से अवगत रहते हैं।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply