Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

शादी करनी हो तो इस 19 नवम्बर को कर लें, वरना फिर कम ही मिलेंगे मौके

Spread the love

नैनीताल, 16 नवंबर 2018। इस महीने 19 नवंबर को देवोत्थान एकादशी के दिन देव जागरण हो जाएगा। देवोत्थान एकादशी के दिन बिन सुझाहे (बिना मुहूर्त वाले) भी विवाह किये जा सकते हैं। लेकिन इसके बाद पांच अप्रैल तक शहनाइयों की आवाज बहुत कम सुनने को मिलेगी। क्योंकि पांच अप्रैल तक कुल 25 मुहूर्त ही शेष है। वहीँ इस वर्ष तो गुरु के अस्त होने के कारण दस दिसंबर तक विवाह मुहूर्त नहीं हैं। इसलिए यदि आप अविवाहित हैं, और विवाह की योजना बना रहे हैं, तो इस अनुरूप योजना बना लें।

उल्लेखनीय है कि भारतीय विवाह पद्धति के अनुसार विष्णु जागरण, शुक्र जागरण और गुरु जागरण पर विवाह तय किए जाते हैं। विवाहों का समय विष्णु के जागृत हो जाने के बाद शुरू हो जाता है। भारतीय विवाह पद्धति के अनुसार देवोत्थान एकादशी को बिन सुझाहे (बिना मुहूर्त वाले) विवाह हो जाते हैं। इस बार गुरु के पश्चिम में अस्त होने के कारण 19 नवंबर देव जागरण के दिन के अलावा दस दिसंबर तक विवाह मुहूर्त नहीं हैं। आगे सात दिसंबर को पूर्व दिशा में गुरु उदय हो जाएगा। सात दिसंबर से दस दिसंबर तक गुरु उदय में बाल्यत्व दोष बना रहेगा। परिणाम स्वरूप 19 नवंबर को बिन सुझाहे विवाहों के बाद फिर दस दिसबंर तक कोई भी मुहूर्त नहीं है। इस संवत्सर का समापन पांच अप्रैल को होगा। तब तक मार्गशीर्ष मास में कुल दो मुहूर्त, माघ मास में 15 मुहूर्त तथा फाल्गुन मास में 11 मुहूर्त शेष बचे हैं। इस प्रकार पांच अप्रैल तक कुल मिलाकर 25 दिन ही शहनाइयां बजेंगी। 12 और 13 दिसंबर को बहुत बड़ा विवाह मुहूर्त है। इस प्रकार नौ फरवरी बसंत पंचमी के दिन बिन सुझाहे बड़ा मुहूर्त पड़ रहा है। विवाह के लिए शुक्र और गुरु का उदय होना भी बहुत जरूरी होता है। यह उदय भी तब मान्य है जब विष्णु जागरण हो चुका हो। गृहस्थ का आधार भगवान विष्णु और लक्ष्मी हैं। दामाद को विष्णु स्वरूप तथा पुत्री को लक्ष्मी स्वरूप मानकर विवाह किया जाता है। शुक्र उपस्थित न हो तो दाम्पत्य प्रेम नहीं उपज सकता। गुरु के अस्त रहने पर क्रूर गृह प्रबल हो जाते हैं। विवाह का संबंध शुभ बना रहे, अत: शुक्र और गुरु का उदित काल जानकर ही मुहूर्त निकाला जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कन्या का विवाह सम वर्षों में तथा पुत्र का विवाह विषम वर्ष में किया जाए तो स्थाई सुख प्राप्त होता है। शास्त्रों में सगोत्रीय विवाह भी वर्जित किया गया है।

यह भी पढ़ें : वट-पीपल बंधे विवाह बंधन में, गांव वाले बने बाराती

  • धूमधाम से हुआ बरगद व पीपल के पेड़ों का विवाह
  • हल्द्वानी रोड चील चक्कर के पास स्थित शिवालय में हुआ आयोजन
  • पुरानी चुंगी से बैंड बाजे के साथ निकली बारात, कुमाउनी परिधानों में ताकुला व रूसी की महिलाओं ने निकाली कलशयात्रा
  • मानव स्वरूप में किये गये विवाह संस्कार के साथ इन्हें कभी न काटे जाने का के संकल्प के साथ यह विवाह पेड़-पौधों के संरक्षण की अनूठी पहल भी है
बरगद एवं पीपल के विवाह समारोह में शगुन आखर, मंगलगान गाती महिलाएं।

नैनीताल। जी हां, धार्मिक मान्यताओं के लिए प्रसिद्ध देवभूमि उत्तराखंड में युवा वट यानी बरगद और पीपल के वृक्षों ने आपस में ब्याह रचा लिया है। नगर के समीपवर्ती हल्द्वानी रोड चील चक्कर के पास स्थित शिवालय में लोग एक अनोखे विवाह समारोह के साक्षी बने। यह विवाह था मंदिर में लगे करीब 6 वर्ष की उम्र के वर के रूप में पीपल एवं करीब 4 वर्ष के कन्या के रूप में बट यानी बरगद के वृक्षों के बीच। 11 फ़रवरी को आयोजित हुए इस अनोखे विवाह में बाराती बने ताकुला और रूसी गांव के लोग, जिन्होंने न केवल बैंड बाजे पर युवक-युवतियों, बच्चों ने कुमाउनी नृत्य के साथ पुरानी चुंगी से मंदिर तक बारात निकाली तथा महिलाओं ने पारंपरिक कुमाउनी परिधानों में कलश यात्रा निकाली, वहीं हल्द्वानी मार्ग से गुजरते लोगों, सैलानियो जिसने भी इस अनूठे विवाह के बारे में सुना, ठिठक गया। इस प्रकार सैकड़ो लोग इस अनूठे विवाह के साक्षी बने। खास बात यह भी है कि इस धार्मिक आयोजन के बाद बरगद व पीपल के मंदिर में लगे धार्मिक आयोजनों, पूजा आदि के योग्य हो गये हैं, तथा इस प्रकार इन्हें मानव स्वरूप में किये गये विवाह संस्कार के साथ कभी न काटे जाने का संकल्प भी लिया गया है, जिसके साथ यह विवाह आयोजन पेड़-पौधों के संरक्षण का भी एक उपक्रम है।

Gamaraयह भी पढ़ें :  गौरा-महेश को बेटी-जवांई के रूप में विवाह-बंधन में बांधने का पर्व: सातूं-आठूं (गंवरा या गमरा) कुछ अंश : गौरा से यहां की पर्वत पुत्रियों ने बेटी का रिश्ता बना लिया हैं, तो देवों के देव जगत्पिता महादेव का उनसे विवाह कराकर वह उनसे जवांई यानी दामाद का रिश्ता बना लेती हैं। यहां बकायदा वर्षाकालीन भाद्रपद मास में अमुक्ताभरण सप्तमी को सातूं, और दूर्बाष्टमी को आठूं का लोकपर्व मना कर (गंवरा या गमरा) गौरा-पार्वती…

 

बरगद व पीपल के विवाह में नृत्य करती महिलाएं

बारात में बकायदा कुमाउनी विवाहों की धूलिअर्घ्य, शगुन आंखर व मंगलगान गाने, कन्या दान व फेरे सहित विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान एवं भोज का आयोजन हुआ। वर पीपल के माता-पिता की भूमिका दीपा जोशी व पूरन जोशी ने, जबकि जबकि कन्या बरगद के माता पिता की भूमिका जानकी जोशी व सतीश जोशी ने निभा। आचार्य कैलाश चंद्र सुयाल ने मंत्रोच्चारण के साथ विवाह की सभी रस्में पूरी कराईं। आयोजन में नीरज जोशी, पान सिंह खनी, कैलाश जोशी, भगवती सुयाल, पान सिंह परिहार, अमन जोशी, गोविंद सिंह, चन्दन सिंह, हितेश, भाष्कर, चेतन, महेंद्र रावत, देवेश मेहरा, नवीन शर्मा, पान सिंह सिजवाली, महेश जोशी, विशाल व चन्दन बिष्ट सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने भागीदारी की।

विवाह आयोजन के आचार्य पंडित कैलाश चन्द्र सुयाल ने बताया की उम्र में बड़े वृक्ष को वर एवं छोटे की कन्या के रूप में प्रतिष्ठा की जाती है। इसके बाद एक व्यक्ति वर एवं दूसरे कन्या के पिता के रूप में आयोजन को संपन्न कराते हैं, बाकायदा कन्या के पिता कन्यादान की परम्परा का निर्वाह भी करते हैं। यह पूरा आयोजन प्रकृति के अंगों को मानव स्वरुप में संरक्षित करने की भी पहल है। बरगद और पीपल के पेड़ों को काटे जाने की धार्मिक मनाही भी है।

बरगद व पीपल के विवाह में लिए गए प्रतीकात्मक फेरे.

इस आयोजन के लिए क्षेत्रवासी पखवाड़े भर पूर्व से ही पूर्ण विधि-विधान के साथ इस आयोजन की तैयारियों में उत्साहपूर्वक जुटे थे। नैनीताल के निकटवर्ती गांधी ग्राम ताकुला के युवा सामाजिक कार्यकर्ता नीरज कुमार जोशी ने बताया कि क्षेत्र में इस तरह का आयोजन पहली बार किया गया।  आयोजन की तैयारियों में आदि ग्रामीण जुटे हुए हैं।

बरगद एवं पीपल का धार्मिक महत्व
उल्लेखनीय है कि धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बरगद एवं पीपल के वृक्षों का धार्मिक महत्व व पर्यावरण की दृष्टि से विशेष महत्व है। बरगद को ब्रह्मा समान माना जाता है। वट-सावित्री सहित अनेक व्रत व त्यौहारों में वटवृक्ष की पूजा की जाती है। वहीं पीपल के वृक्ष में देवताओं का वास बताया जाता है। गीता में भगवान कृष्ण ने पीपल को स्वयं अपना स्वरूप बताया है। जबकि स्कंदपुराण में पीपल की विशेषता और उसके धार्मिक महत्व का उल्लेख करते हुए इसके मूल में विष्णु, तने में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में हरि और फलों में सभी देवताओं के साथ अच्युत देवों का निवास बताया गया है। हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मनुश्य के अंतिम संस्कार पीपल के वृक्ष के नीचे किए जाते हैं ताकि आत्मा को मुक्ति मिले और वह बिना किसी भटकाव के अपने गंतव्य स्थान तक पहुंच जाए।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply