Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

चिंताजनक: बारिश से नैनी झील लबालब पर जल प्रदाता सूखाताल झील खाली

Spread the love
शनिवार 1 सितम्बर 2018 को पानी से लबालब 11 फिट के स्तर तक भरी नैनी झील।
शनिवार 1 सितम्बर 2018 को एक कोने में पानी के अलावा शेष हिस्से में सूखी पड़ी सूखाताल झील।

नवीन जोशी, नैनीताल (1 सितम्बर 2018)। सरोवरनगरी की लाइफलाइन नैनी झील लबालब भरकर शनिवार को सितंबर माह के मानकों के अनुसार इसके गेट खोले जाने के स्तर 11 फिट तक पहुंच गयी है। वहीं नैनी झील की सर्वाधिक जल प्रदाता सूखाताल झील अब भी सूखी हुई है। इससे नगर वासियों में चिंता की स्थिति है। एक अध्ययन के अनुसार सूखाताल झील नैनी झील के 40 फीसद से अधिक प्राकृतिक जल श्रोतों का जलागम है, लिहाजा लोगों को आशंका है कि भले नैनी झील अभी भर गयी है, लेकिन सूखाताल झील के न भरने के कारण यह आगे बरसात के बाद तेजी से खाली होती जाएगी, क्योंकि सूखाताल झील इसे अपेक्षित मात्रा में पानी दे नहीं पायेगी।
उल्लेखनीय है कि हालिया वर्षों में 2014 में भी सूखाताल झील बरसात के मौसम में पानी से लबालब भर गयी थी, और इसी वर्ष सर्दियों में बर्फ से भी पटी थी। किंतु बीते वर्षों में जहां प्रशासन की ओर से भी इसमें मलबा भरा गया है, वहीं इधर इस झील को जल निगम, एडीबी आदि शासकीय विभागों व नगर पालिका द्वारा निष्प्रयोज्य सामग्री, पाइप, कूड़ेदान आदि रखने का अघोषित ‘सरकारी डंपयार्ड’ बना दिया है, वहीं इसके कुछ नालों को अन्यत्र मोड़े जाने के भी प्रशासन पर आरोप लगते हैं। इसके अलावा इस झील के डूब क्षेत्र में हालिया वर्षों में भी अवैध भवन निर्माण हुए हैं।

यह भी पढ़ें : सूखाताल से निकलने वाली नदी से हुआ था नैनी झील का निर्माण

सूखाताल की पुरानी कुछ सुखद तस्वीरें : 

This slideshow requires JavaScript.

नाम सूखाताल लेकिन नैनी झील को वर्ष भर और सर्वाधिक देती है पानी

नैनीताल। सूखाताल झील विश्व प्रसिद्ध नैनी सरोवर की सर्वाधिक जल प्रदाता झील है। वैज्ञानिकों का कहना है कि बेशक सूखाताल झील का नाम सूखी रहने वाली ताल है, लेकिन यह नैनी झील को वर्ष भर और सर्वाधिक पानी देती है। इसके जरिए ही नैनी झील को सर्वाधिक 50 फीसद पानी जमीन के अंदर से रिसकर और 20 फीसद सतह से बहकर पहुंचता है, जबकि झील में अन्य सभी नालों से कुल मिलाकर केवल 10 फीसद और झील के ऊपर बारिश से भी सीधे इतना ही यानी 10 फीसद पानी ही आता है। यह भी उल्लेखनीय है कि जहां सूखाताल की ओर से नैनी झील में 50 फीसद भूजल आता है, जबकि इससे अधिक यानी 55 फीसद भूजल तल्लीताल की ओर से रिसकर बाहर निकल जाता है।

इंदिरा गांधी इंस्टिट्यूट फॉर डेवलपमेंटल रिसर्च मुंबई द्वारा वर्ष 1994 से 1995 के बीच नैनी झील में आये कुल 4,636 हजार घन मीटर पानी में से सर्वाधिक 42.6 प्रतिशत यानी 1,986,500 घन मीटर पानी सूखाताल झील से, 25 प्रतिशत यानी 1,159 हजार घन मीटर पानी अन्य सतह से बहकर, 16.7 प्रतिशत यानी 772 हजार घन मीटर पानी नालों से बहकर तथा शेष 15.5 प्रतिशत यानी 718,500 घन मीटर पानी बारिश के दौरान तेजी से बहकर पहुंचता है। वहीं झील से जाने वाले कुल 4,687 हजार घन मीटर पानी में से सर्वाधिक 1,787,500 घन मीटर यानी 38.4 प्रतिशत यानी डांठ के गेट खोले जाने से निकलता है। 1,537 हजार घन मीटर यानी 32.8 प्रतिशत पानी पंपों के माध्यम से बाहर निकाला जाता है, 783 हजार घन मीटर यानी 16.7 प्रतिशत पानी झील से रिसकर निकल जाता है, वहीं 569,500 घन मीटर यानी 12.2 प्रतिशत पानी वाष्पीकृत हो जाता है।

वहीं एक अध्ययन के अनुसार सूखाताल झील नैनी झील के 40 फीसद से अधिक प्राकृतिक जल श्रोतों का जलागम है, लिहाजा इसकी वजह से नैनी झील के जल्द ही पूरी तरह सूख जाने का खतरा उत्पन्न हो सकता है। इसी झील से नैनी झील में 70 फीसद पानी पहुंचता है। साथ ही आईआईटी रुड़की की एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार नैनी झील में सर्वाधिक 53 फीसद पानी जमीन के भीतर और २४ फीसद सतह से भरकर यानी कुल 77 फीसद पानी आता है। इसमें से सर्वाधिक हिस्सा सूखाताल झील की ओर से ही आता है। वहीं इंदिरा गांधी इंस्टिट्यूट फॉर डेवलपमेंटल रिसर्च मुंबई की 2002 की रिपोर्ट के अनुसार नगर की सूखाताल झील नैनी झील को प्रति वर्ष 19.86 लाख यानी करीब 42.8 फीसद पानी उपलब्ध कराती है।

आठ मीटर की ऊंचाई तथा 20 मीटर चौड़ाई व 30 मीटर की लंबाई में पट गई है सूखाताल झील

नैनीताल। इधर हाल में सीडार व कैंब्रिज विवि के शोधकर्ताओं द्वारा शोध अध्ययन करते हुए बताया गया है कि सूखाताल झील की तलहटी लगातार मलवा डाले जाने से करीब आठ मीटर की ऊंचाई तथा 20 मीटर चौड़ाई व 30 मीटर की लंबाई में पट गई है। इस भारी मात्रा के मलवे की वजह से झील की तलहटी में मिट्टी सीमेंट की तरह कठोर हो गई है, और झील स्विमिंग पूल जैसी बन गई है। कैंब्रिज विवि की इंजीनियर फ्रेंचेस्का ओ हेलॉन व सीडार के डा. विशाल सिंह का कहना है कि यदि झील में भरे मलवे और इसमें भरी प्लास्टिक की गंदगी को ही हटा दिया जाए तो इस झील का पुनरुद्धार किया जा सकता है।
शनिवार को एक कोने में पानी के अलावा शेष हिस्से में सूखी पड़ी सूखाताल झील।
चित्र परिचयः 01एनटीएल-5ः नैनीताल। शनिवार को पानी से लबालब 11 फिट के स्तर तक भरी नैनी झील।

यह भी पढ़ें: कुदरत सूखाताल को भरने और प्रशासन सुखाने पर आमादा

-प्रशासन पंप लगाकर खाली करा रहा झील को
नवीन जोशी, नैनीताल (16 अगस्त 2014)। वर्षभर पानी से विहीन सूखाताल झील को पुनर्जीवित करने के प्रति उत्तराखंड उच्च न्यायालय की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन झील में पंप लगाकर पानी बाहर निकलवा रहा है। इन दिनों हुई भारी बरसात के कारण झील के किनारे बने घरों के साथ झील के बीच में बना जल संस्थान का पंप हाउस व एडीबी का स्टोर भी पानी में डूब गया है। खतरे को भांपते हुए जिला प्रशासन ने पंप चलाकर झील से पानी बाहर निकालना प्रारंभ कर दिया। उल्लेखनीय है कि सूखाताल झील, विश्व प्रसिद्ध नैनी झील की सबसे बड़ी प्राकृतिक जल प्रदाता है। आईआईटी रुड़की की रिपोर्ट के अनुसार नैनी झील में सर्वाधिक 53 फीसद पानी जमीन के भीतर और 24 फीसद सतह से भरकर यानी कुल 77 फीसद पानी आता है। लिहाजा सूखाताल झील का भरे रहना विशेष महत्व रखता है। पूर्व में भी सूखाताल झील भरती थी और सितंबर तक पानी से भरी रहती थी और अगले वर्ष मार्च-अप्रैल तक इसका पानी रिस-रिस कर नैनी झील में पहुंचता था, जिससे नैनी झील में पानी की मात्रा बनी रहती थी।

इस कारण झील के किनारे बने दर्जन भर घरों के साथ जल संस्थान द्वारा झील के बीच में बनाए गए पंप हाउस व एडीबी का स्टोर भी पानी में डूब गया है, जिसके बाद जिला प्रशासन ने पंप चलाकर झील से पानी बाहर निकालना प्रारंभ कर दिया है। उल्लेखनीय है कि इन दिनों नैनीताल नगर से अतिक्रमण हटाने का माध्यम बनी प्रो. अजय रावत की याचिका मूलतः सूखाताल झील की परिधि में हुए अनाधिकृत निर्माणों को हटाने और झील को पुर्नर्जीवित करने को लेकर ही है, और इस याचिका पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने बेहद कड़ा एवं नगर के पर्यावरण प्रेमियों के लिहाजा से अपेक्षित रुख अपनाया है, लेकिन झील के हालात यथावत बने हुए हैं।

फिर बारिश का सर्वोच्च रिकार्ड टूटने के आसार
-15 अगस्त को हुई 213 मिमी बारिश, झील उच्चतम स्तर तक भरने के बाद पूरे 15 इंच खोलने पड़े झील के गेट

वर्ष 2010, 11 और 2013 में बना बारिश का रिकार्ड लगता है कि इस बार अगस्त में ही टूट जाएगा। बारिश का सर्वोच्च रिकार्ड वर्ष 2010 में 4,289.55 मिमी का था। 2011 में 16 अगस्त तक 3,644.64 मिमी, 2013 में 3685.54 मिमी बारिश हुई थी, जबकि इस वर्ष इसी तिथि तक 3300.74 मिमी हो चुकी है। ऐसे में आशंका व्यक्त की जा रही है कि इंद्रदेव कहीं रिकार्ड तोड़ने के लिए शेष करीब 900 मिमी बारिश भी इसी माह में न कर दें। शनिवार को नैनी झील का पानी नियंतण्र कक्ष के पैमाने पर अंकित सर्वाधिक 12 फीट यानी खतरे का स्तर पार करता हुआ पानी माल रोड के पास तक चढ़ आया। इसके परिणामस्वरूप हालिया दौर में झील के पांचों गेटों को सर्वाधिक 15 इंच तक खोलना पड़ गया।
गौरतलब है कि वर्ष 2010 के सितंबर महा में आई ‘जलप्रलय’ के बाद मुख्यालय में सर्वाधिक वर्षा का रिकार्ड बना था। झील नियंत्रण कक्ष के अनुसार तब आज की तिथि यानी 16 अगस्त तक 2,153.15 मिमी बारिश हुई थी, लेकिन इस वर्ष 16 अगस्त की सुबह तक 3,300.7 मिमी बारिश हो चुकी है। उल्लेखनीय है कि नगर में बीते 24 घंटों में 213.36 मिमी एवं इससे पूर्व 14 अगस्त को 109.22 मिमी बारिश हुई। नगर में गत जुलाई माह तक 1788.16 मिमी बारिश हुई थी, जबकि इस माह एक पखवा़े में रिकार्ड 1512.58 मिमी बारिश हो चुकी है।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड