विज्ञापन सड़क किनारे होर्डिंग पर लगाते हैं, और समाचार समाचार माध्यमों में निःशुल्क छपवाते हैं। समाचार माध्यम कैसे चलेंगे....? कभी सोचा है ? उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 30 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 13.7 मिलियन यानी 1.37 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

July 25, 2024

टिफिन टॉप पर प्रशासन के प्रतिबंध के दावों पर प्रश्न चिन्ह, व्यू प्वॉइंट तक पहुंच रहे सैलानी (Tiffin Top men pratibandh beasar)

0

Tiffin Top men pratibandh beasar, Question mark on claims of administration’s ban on Tiffin Top, tourists reaching view point, tiphin top par prashaasan ke pratibandh ke daavon par prashn chinh, vyoo pvoint tak pahunch rahe sailaanee,

नवीन समाचार, नैनीताल, 28 मई 2023। जिला प्रशासन ने इस माह के शुरू में नगर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल टिफिन टॉप-डॉर्थी सीट में दरारें बढ़ने के समाचार के बाद वहां व्यू प्वॉइंट पर लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाने की बात कही थी। इसके बाद दावा भी किया गया था कि वहां आम लोगों, खासकर सैलानियों के आवागमन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। लेकिन अब देखने में आ रहा है कि यहां सैलानियों का आवागमन खतरनाक व्यू प्वॉइंट पर भी बना हुआ है, और आवागमन के लिए कोई अवरोध नहीं लगाया गया है। यह भी पढ़ें : बड़ा सुखद समाचार: देहरादून के बाद अब कुमाऊं मंडल के दो स्टेशनों से वंदे भारत चलाने का प्रस्ताव.. 

उल्लेखनीय है कि टिफिन टॉप-डॉर्थी सीट का व्यू प्वॉइंट एक खतरनाक चट्टान के शीर्ष पर स्थित है। यहां कई बरसों से चट्टान में दरारें हैं, लेकिन इधर जोशीमठ में आई दरारों के बाद इस ओर भी ध्यान गया है। और प्रशासन की ओर से यहां आवागमन प्रतिबंधित करने की बात कही गई थी। इस बीच देहरादून से आई आपदा न्यूनीकरण केंद्र की टीम ने भी नैना पीक के साथ टिफिन टॉप में भूस्खलन का सर्वेक्षण करवाया था। यह भी पढ़ें : पत्नी के साथ टहल रहा था पति, अचानक चली गोली सीने के आरपार हुई गोली, हुआ सनसनीखेज खुलासा, प्रेमी-प्रेमिका सहित 4 गिरफ्तार…

हालांकि अभी साफ नहीं है कि टीम ने टिफिन टॉप की कमजोरी या यहां आई दरारों पर क्या रिपोर्ट दी है। ऐसे में सवाल उठता है कि यदि यहां सैलानियों के आवागमन पर कोई खतरा नहीं है तो यहां सैलानियों के आगमन को प्रतिबंधों की बात कहकर क्यों पर्यटन को हतोत्साहित किया गया है और यदि खतरा है तो क्यों सैलानियों को रोकने के पुख्ता प्रबंध नहीं किये गए हैं। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड पुलिस की कार्यशैली पर सवाल, तीन दिन से पुलिस थाने में चक्कर लगा रहा था व्यक्ति, मदद नहीं मिली तो थाने के पास ही जहर गटक कर कर ली आत्महत्या 

क्षेत्रीय सभासद मनोज साह जगाती ने कहा कि टिफिन टॉप पर प्रतिबंध का दावा झूठा है। वहां सैलानियों का आवागमन जारी है। (Tiffin Top men pratibandh beasar) (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :