यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..
 

यूपी से परिसंपत्तियों के बंटवारे को लेकर बनी सहमति, उत्तराखंड को मिलेगी ये धनराशि

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये

लखनऊ : उत्तराखण्ड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजीव कुमार के बीच परिसंपत्तियों और आस्तियों के बटवारे को लेकर सचिवालय एनेक्सी लखनऊ में गुरुवार को बैठक हुई जिसमें कई अहम मुद्दों पर सहमति बनी। वहीं कुछ मुद्दे भारत सरकार को संदर्भित करने पर भी सहमति बनी।
प्रमुख सचिव पुनर्गठन आनंद बर्धन ने बताया कि उत्तर प्रदेश सिंचाई अभिकरण 3.9 करोड़ रुपये उत्तराखंड के मत्स्य विभाग को देगा। इसी तरह से उत्तर प्रदेश वन निगम द्वारा उत्तराखण्ड वन निगम को पहले चरण में 99 करोड़ रुपये देने पर सहमति बनी। शेष धनराशि आयकर की देयता में कटौती कर अगले चरण में उत्तर प्रदेश देगा। खाद्य विभाग उत्तराखण्ड द्वारा उत्तर प्रदेश खाद्य विभाग को 105 करोड़ रुपये देने पर सहमति बनी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश परिवहन निगम द्वारा उत्तराखण्ड परिवहन को 8.27 करोड़ रुपये देने पर सहमति बनी। उत्तर प्रदेश ऊर्जा विभाग द्वारा उत्तराखण्ड ऊर्जा विभाग के कर्मचारियों के पीपीएफ का 174 करोड़ रुपये वास्तविक भुगतान करेगा। उत्तराखण्ड उत्तर प्रदेश को 160 करोड़ रुपये बिजली बिल का भुगतान करेगा। मनेरी भाली जल विद्युत परियोजना के लिए अविभाजित उत्तर प्रदेश द्वारा ऋण लेने और इस परियोजना पर व्यय न करने का मामला भारत सरकार को संदर्भित किया जाएगा। दोनों राज्यों के बीच में इस बात पर सहमति बनी की उत्तराखण्ड की सीमा में स्थित सिंचाई विभाग की ज़मीन का 25 प्रतिशत उत्तराखण्ड को दिया जाएगा।
बैठक में सचिव अमित नेगी, आर.मीनाक्षी सुंदरम, दिलीप जावलकर, अरविंद सिंह ह्यांकी सहित उत्तर प्रदेश के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

'
'

(साभार अवाम इंडिया)

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply

Next Post

उत्तराखंड के कुमाऊं-गढ़वाल को जोड़ने के लिए इस बड़ी कोशिश में है सरकार

Mon Jul 2 , 2018
यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये -इस हेतु प्रयासरत वन मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने कहा कंडी मार्ग बन कर रहेगी, बरसात पूर्व व बाद वन्य जीवों के आवागमन पर राष्ट्रीय वन्य जीव संस्थान के सहयोग से किया जा रहा है सर्वे, सितंबर तक आ जाएगी सर्वे […]
Loading...

Breaking News

सहयोग : श्रीमती रेनू सिंह

ads (1)

सहयोग : श्रीमती रेनू सिंह