विज्ञापन सड़क किनारे होर्डिंग पर लगाते हैं, और समाचार समाचार माध्यमों में निःशुल्क छपवाते हैं। समाचार माध्यम कैसे चलेंगे....? कभी सोचा है ? उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 30 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 13.7 मिलियन यानी 1.37 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

July 16, 2024

उत्तराखंड सरकार के अवैध धार्मिक निर्माणों के ध्वस्तीकरण अभियान पर एक याचिका ली गई वापस, एक और दायर…

0

van bhumi par dhwastikaren, A petition was withdrawn on the demolition drive of illegal religious constructions of the Uttarakhand government, another one was filed, uttaraakhand sarakaar ke avaidh dhaarmik nirmaanon ke dhvasteekaran abhiyaan par ek yaachika lee gaee vaapas, ek aur daayar,

Uttarakhand High Court, High Court Bar Association Election, PACS elections, Lokayukta, Jhoothe Arop, Uttarakhand civic elections will be held on time,

नवीन समाचार, नैनीताल, 17 मई 2023। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने राज्य की सरकारी जमीनों से अवैध धार्मिक निर्माणों के ध्वस्तीकरण के चल रहे अभियान के खिलाफ एक याचिका वापस लिए जाने के बाद एक और जनहित याचिका दायर की गई है। मामले में सरकार के साथ न्यायालय का कड़ा रुख नजर आया है, अलबत्ता न्यायालय ने याचिका पर सुनवाई के बाद अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया है। उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायालय इससे पूर्व ऐसी ही एक याचिका को खारिज कर चुकी है। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में बड़ा हाई प्रोफाइल दहेज-तलाक संबंधी मामला, विवाहिता के अपने आरोप, पर विवाहिता पर 100 करोड़ रुपए व विधानसभा की सीट मांगने के बड़े आरोप..

बुधवार को मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति विपिन सांघी व न्यायमूर्ति राकेश थपलियाल की खंडपीठ में हरिद्वार निवासी हमजा राव व अन्य की जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। याचिका में कहा गया है कि सरकार एक धर्म विशेष के धार्मिक स्थलों को अवैध बताकर ध्वस्त कर रही है। लिहाजा याचिका में सरकार की कार्रवाई को एक धर्म विशेष के विरुद्ध की जा रही कार्रवाई बताते हुए इस पर रोक लगाने और ध्वस्त मजारों का फिर से निर्माण करने का आदेश पारित करने की प्रार्थना की है। यह भी पढ़ें : ‘सा…कु…’ ऐसे शब्दों ने ले ली आंटी की बेहद वीभत्स तरीके से जान, हल्द्वानी के चर्चित मामले का सनसनीखेज खुलासा

वहीं राज्य सरकार की ओर से मुख्य स्थायी अधिवक्ता चंद्रशेखर रावत ने खंडपीठ को बताया कि इससे पहले भी ऐसी ही एक याचिका एकलपीठ खारिज कर चुकी है। एक ही बात को बार-बार जनहित याचिका के माध्यम से न्यायालय में लाया जा रहा है। सरकार की ओर से यह भी साफ किया गया कि अवैध धार्मिक स्थलों को हटाने में नियमों का अनुपालन किया गया है। करीब 300 अवैध मजारें हटा दी हैं और आगे और करीब 400 चिन्हित मजारों को हटाने की तैयारी है। यह भी पढ़ें : युवती का शव मिलने से सनसनी..

यह भी कहा है कि सर्वोच्च न्यायालय ने सभी राज्यों को सरकारी जमीनों से अवैध धार्मिक निर्माण हटाने के आदेश दिये थे, और आदेश में यह भी कहा था कि इस आदेश का पालन नहीं किया जाता है तो सबंधित राज्यों पर अवमानना की कार्रवाई की जाएगी। यह भी पढ़ें : यहां चल रही है खरीददारी पर 80 फीसद तक की छूट, एक दिन में डिलीवरी की सुविधा भी

नगर निगम की भूमि में बनी अवैध मजार के ध्वस्तीकरण पर जनहित याचिका वापस ली

नैनीताल। हरिद्वार में नगर निगम की भूमि पर बनी कनखल रोड आर्य नगर ज्वालापुर स्थित हजरत चंदन पीर बाबा मजार के मुतवल्ली सहित अन्य ने मजार के ध्वस्तीकरण के मामले में उत्तराखंड उच्च न्यायालय में दायर की गई अपनी दायर याचिका वापस ले ली गई है। न्यायमूर्ति रवींद्र मैठाणी की एकलपीठ के समक्ष इस मामले की सुनवाई हुई। यह भी पढ़ें : दोस्तों ने ही कर दी 19 वर्षीय युवक की हत्या, युवती से अवैध संबंध बताए जा रहे हत्या का कारण

इस मामले पीठ बाजार ज्वालापुर हरिद्वार निवासी जुल्फिकार अख्तर ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर कहा था कि वह कनखल रोड आर्य नगर ज्वालापुर स्थित हजरत चंदन पीर बाबा मजार के मुतवल्ली हैं। राज्य सरकार की ओर से उत्तराखंड लोक मार्गों, लोक पार्कों तथा अन्य स्थानों के अनधिकृत धार्मिक संरचनाओं को हटाने, पुर्नस्थापित करने, नियमितीकरण नीति-2016 का उल्लंघन कर इस मजार को ध्वस्त कर दिया है। याचिकाकर्ता ने इससे पहले मजार को हटाने से संबंधित नोटिस को चुनौती दी थी। यह भी पढ़ें : पहाड़ के हिस्से की गैस हल्द्वानी में अवैध रूप से बिक रही थी, हुआ भंडाफोड़, एक ट्रक सहित तीन वाहन जब्त

नोटिस में सहायक नगर आयुक्त हरिद्वार की ओर से कहा गया था कि नगर निगम की भूमि पर बनाई गई इस मजार में व्यावसायिक गतिविधियां चल रहीं हैं। पिछले दिनों याचिकाकर्ता के अनुपस्थति रहने पर न्यायालय ने नोटिस को चुनौती देने वाली याचिका को खारिज कर दिया था। इसलिए मजार के पुनर्निर्माण को लेकर दूसरी याचिका दायर की गई थी। सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से कहा गया कि याचिकाकर्ता सहित केयर टेकर को विधिवत नोटिस देकर सुनवाई का पूरा मौका दिया गया। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

Discover more from नवीन समाचार

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

गर्मियों में करना हो सर्दियों का अहसास तो.. ये वादियाँ ये फिजायें बुला रही हैं तुम्हें… नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला