विज्ञापन सड़क किनारे होर्डिंग पर लगाते हैं, और समाचार समाचार माध्यमों में निःशुल्क छपवाते हैं। समाचार माध्यम कैसे चलेंगे....? कभी सोचा है ? उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 30 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 13.7 मिलियन यानी 1.37 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

July 16, 2024

अब महिलाओं को हर मुसीबत में मदद करेगी ‘सखी’, बस करना होगा एक टॉल फ्री नंबर पर फोन

0

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 जुलाई 2020। विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर विमर्श संस्था की ओर से टॉल फ्री सखी हेल्पलाइन नंबर की शुरुआत कर दी गई है। पालिकाध्यक्ष सचिन नेगी ने शनिवार को टोल फ्री नंबर 18002124471 का शुरभारंभ किया। हेल्पलाइन के जरिए सुबह दस से शाम 6 बजे तक कोरोना काल के दौरान दिक्कतों से प्रभावित महिलाओं तथा युवतियों की समस्याओं का समाधान किया जाएगा।
विमर्श संस्था की मैनेजिंग डायरेक्टर कंचन भंडारी ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान महिलाएं तथा युवतियां माहवारी, परिवार नियोजन, प्रजनन यौनिक स्वास्थ्य, गर्भ समापन आदि की समस्याओं से परेशान व तनाव में हैं इस सेवा का उद्देश्य ऐसी हर तरह की समस्याओं में महिलाओं को सेवाएं देना है। उन्होंने कहा कि ऐसी दिक्कतों के चलते महिलाएं हैं। जिससे हिंसा के प्रकरणों में इजाफा हो सकता है। ऐसे लोगों की मदद के लिए विमर्श संस्था की ओर से कोविड सपोर्ट सखी हेल्पलाइन शुरू की गई है। पालिकाध्यक्ष नेगी ने संस्था की इस पहल की सराहना की। इस मौके पर गायत्री दर्मवाल, हरीश चंद्र, भावना, रेनू इंदर आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : अभिनेता वरुण धवन ने किया ट्वीट, नैनीताल की ‘कर्तव्य-कर्म’शील महिलाओं को अपनी सी लगेगी ‘सुई-धागा’ की कहानी

-सिने अभिनेता कलाकार वरुण धवन ने ट्वीट कर उम्मीद जताई ‘हमारी फिल्म आपकी वास्तविक कहानी से जुड़ेगी’
नवीन जोशी, नैनीताल। इरादे यदि नेक हों तो राह और प्रशंसा स्वतः ही मिलती जाती हैं। ऐसा ही कुछ हो रहा है नैनीताल के ज्योलीकोट-गेठिया की महिलाओं की संस्था ‘कर्तव्य-कर्म’ के साथ। अब तक अपने घरों में पुराने फटे कपड़ों पर ‘पाबंद’ लगाने व बटन टांगने तक सीमित पहाड़ की इन महिलाओं ने जब ‘सुई-धागा’ ‘फिरंगी बैग’ व कपड़े की ज्वेलरी बनाने पर चलाये तो उनके काम की गूंज कुछ ही महीनों में सात समुद्र पार कनाडा और देश के सबसे बड़े उद्योगपति समूह अंबानी और भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय तक तो पहुंची ही है, सिने अभिनेता वरुण धवन ने भी उम्मीद जताई है कि संस्था की महिलाओं को ‘मौजी’ और ‘ममता’ (सुई धागा फिल्म के किरदारों) की कहानी अपनी सी लगेगी। उल्लेखनीय है कि वरुण धवन और अनुष्का शर्मा अभिनीत बॉलीवुड फिल्म ‘सुई धागा- मेड इन इंडिया’ आगामी 2 अक्टूबर 2018 को गांधी जयंती के दिन सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही है। इससे पहले कर्तव्य कर्म की ओर से वरुण एवं अनुष्का को टैग करके कहा था कि संस्था की कहानी सुई-धागा जैसी है, और संस्था की 45 ‘मौजी’ (जैसी) महिलाएं इस फिल्म का बेसब्री से इंतजार कर रही हैं। और सभी एक साथ इस फिल्म का पहला शो देखने जाएंगी।

देखें वरुण धवन का ट्वीट : 

फिरंगी बैग
फिरंगी बैग

अब बात करते हैं ‘कर्तव्य-कर्म’ की। ‘कर्तव्य-कर्म’ कहने को मार्च 2013 में पंजीकृत किसी आम एनजीओ की तरह ही है। किंतु इधर कुछ महीनों में संस्था ने स्वयं को उत्तराखंड की महिलाओं के वास्तविक सशक्तीकरण और यहां की जड़ी-बूटियों को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित किया है कि उसकी पहचान लगातार बढ़ती जा रही है। इसके तल्ला गेठिया स्थित केंद्र पर करीब दो दर्जन महिलाओं द्वारा तैयार किये जा रहे कपड़े के झोले कभी छोटी बिलायत कहे जाने वाले नैनीताल के ‘फिरंगी’ वाशिंदों के नाम से खासे लोकप्रिय हो रहे हैं। गुजरात स्थित ‘धीरूभाई अंबानी इंस्टिट्यूट ऑफ कम्यूनिकेशन एंड टेक्नोलॉजी’ ने बकायदा अपने 18 छात्रों की तीन सप्ताह की ‘इंटर्नशिप’ के लिए उनसे 6 दिसंबर 2018 से समय आरक्षित करा लिया है। वहीं कनाडा की एक संस्था ने इन महिलाओं से बिच्छू घास के रेशों से बने कपड़ों पर यही कार्य करवाने और अंगूरा ऊन से स्वेटर आदि बुनने का ऑर्डर दिया है। इसके अलावा संस्था को पुणे, मुंबई, फरीदाबाद, ऋषिकेश व दिल्ली की संस्थाओं से भी ‘फिरंगी बैग्स’ के ऑर्डर मिले हैं।
संस्था के प्रमुख गौरव अग्रवाल एवं पुष्कर जोशी ने बताया कि संस्था के तीन केंद्र चल रहे हैं। गेठिया केंद्र में महिलाएं हाथों से फिरंगी बैग व कुशन कवर बनाते हैं, वहीं ज्योलीकोट केंद्र पर हाथ से कूटे व धूप से सूखे मसाले एवं हर्बल चाय व शहद आदि तैयार करते हैं। वहीं रानीखेत के चिलियानौला स्थित केंद्र पर महिलाएं हाथ से बुनाई कर स्वेटर, कार्डिगन आदि तैयार करती हैं। उन्होंने बताया कि इधर उन्होंने सुई-धागा फिल्म की टीम को अपनी संस्था की महिलाओं द्वारा किये जा रहे कार्य की जानकारी दी थी, इस पर फिल्म के अभिनेता वरुण धवन ने ट्वीट करके कहा है कि उनकी फिल्म की कहानी जरूर कर्तव्य-कर्म संस्था की महिलाओं को उनकी वास्तविक कहानी से जुड़ी हुई लगेगी। उन्होंने बताया कि संस्था का उद्देश्य पहाड़ की महिलाओं को घर पर उनके हुनर का रोजगार उपलब्ध कराने तथा पहाड़ की संस्कृति को ‘पहाड़ी हाट’ ब्रांड नाम से आगे बढ़ाने का है। वर्तमान में संस्था से सीधे तौर पर करीब 50 एवं परोक्ष तौर पर 250 से अधिक महिलाएं जुड़ी हुई हैं। इस पहल को केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने भी सराहा है, और उनके उत्पादों को अपनी वेबसाइट ‘ई-हाट’ में भी स्थान उपलब्ध कराया है। आगे उन्होंने तय किया है कि संस्थान की करीब 45 ‘’ममता’ व  मौजी’ महिलाएं सुई धागा फिल्म का पहला शो साथ देखने जाएंगी।

इसलिये बैगों का नाम रखा गया ‘फिरंगी’

नैनीताल। कर्तव्य कर्म संस्था के पुष्कर जोशी ने बताया कि बैगों के निर्माण के बाद इनके लिए ब्रांड नाम सोचा जा रहा था। कभी नैनीताल, ज्योलीकोट, गेठिया बैग्स जैसे नामों पर विचार हुआ, किंतु तभी अंग्रेजों का समूह पास से गुजरा, इस पर रंग-बिरंगे बैगों का नाम फिरंगी रख दिया गया। वैसे भी नैनीताल को पूर्व में ‘छोटी बिलायत’ यहां रहने वाले तत्कालीन अंग्रेज वाशिंदों को फिरंगी कहा जाता था।

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

Discover more from नवीन समाचार

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

गर्मियों में करना हो सर्दियों का अहसास तो.. ये वादियाँ ये फिजायें बुला रही हैं तुम्हें… नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला