April 12, 2024

भाजपा का गैरों पे रहम, अपनों पे सितम, दूसरे दलों के लिये खोले दरवाजे, अपने बागियों को घर वापसी के लिये नहीं दी जा रही हरी झंडी, जानें कितने पूर्व बागी-भाजपाई हैं लाइन में ?

0
BJP Chunav, Nainitals Ghoda Library, Tibetan New Year

नवीन समाचार, देहरादून, 23 मार्च 2024  (BJPs doors open for others But not for Rebels)। लोकसभा चुनाव 2024 से पहले उत्तराखंड में एक ओर कांग्रेस एवं अन्य पार्टियों के नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं, वहीं पूर्व में भाजपा छोड़ चुके बागियों को भाजपा में लौटने की इच्छा के बावजूद भाजपा में वापसी नहीं मिल पा रही है। बताया जा रहा है कि भाजपा ऐसे अपने नेताओं को पार्टी में वापसी कराने के प्रति उतनी दरियादिली नहीं दिखा रही है। अलबत्ता, इधर ऐसे कुछ नेताओं की पार्टी में वापसी की शुरुआत हो गयी है।

(BJPs doors open for others But not for Rebels)

बताया जा रहा है कि उत्तराखंड में भाजपा, कांग्रेस सहित विपक्षी दलों के करीब 15 हजार नेताओं कार्यकर्ताओं को अपनी पार्टी में शामिल कर चुकी है। इनमें 6 पूर्व और 1 वर्तमान विधायक भी शामिल हैं। दूसरी तरफ भाजपा अपने बागियों पर बेहद सख्त है। बागियों की पार्टी में वापसी बहुत मुश्किल से हो रही है।

ये हुए भाजपाई (BJPs doors open for others But not for Rebels)

बदरीनाथ केकांग्रेस विधायक राजेंद्र भंडारी
कांग्रेस के पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण
पूर्व मंत्री और टिहरी के पूर्व विधायक दिनेश धनै
पूर्व विधायक भीमताल दान सिंह भंडारी
पूर्व विधायक गंगोत्री मालचंद
पूर्व विधायक धनौल्टी महावीर रांगड़
पूर्व विधायक कोटद्वार शैलेंद्र रावत

भाजपा के ये बागी नेता लंबे समय से चाह रहे हैं भाजपा में वापसी (BJPs doors open for others But not for Rebels)

वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में पार्टी द्वारा टिकट न दिए जाने के कारण भाजपा के कई नेता पार्टी से बागी हो गए थे। इनमें रुद्रपुर के पूर्व भाजपा विधायक व निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले राजकुमार ठुकराल, कर्णप्रयाग से चुनाव लड़ने वाले टीका प्रसाद मैखुरी, डोईवाला से लड़ने वाले जितेंद्र नेगी, रायपुर से महेंद्र नेगी, कोटद्वार से धीरेंद्र चौहान और भीमताल से चुनाव लड़े मनोज साह प्रमुख रूप से शामिल हैं। इन्हें भाजपा ने छह साल के लिए निष्कासित किया था।

उल्लेखनीय है कि इनके अलावा धर्मपुर से वीर सिंह पंवार, चकराता से कमलेश भट्ट, यमुनोत्री से मनोज कोली, किच्छा से अजय तिवारी, लालकुआं से पवन चौहान भी भाजपा के कार्यकर्ता होने के बावजूद भाजपा से इतर लड़े थे। लेकिन इन पर पार्टी ने कोई कार्रवाई नहीं की।

भाजपा के एक बागी नेता महेंद्र नेगी का कहना है कि वह भाजपा के सच्चे सिपाही थे और लगातार पार्टी के प्रति समर्पित थे। लेकिन पार्टी द्वारा उनके समर्पण को दरकिनार किया गया। इस कारण उन्होंने पार्टी छोड़ दी। वहीं हाल में पार्टी में वापस आये महावीर रांगड़ ने कहा कि राजनीति में कुछ कठिन फैसले लेने पड़ते हैं। वह लंबे समय से भले ही पार्टी से दूर थे, लेकिन मन से भाजपा में ही थे।

भाजपा ने 2022 विधानसभा चुनाव में बगावत दिखाने वाले नेताओं को नहीं बख्शा है (BJPs doors open for others But not for Rebels)

2022 के विधानसभा चुनाव में पार्टी से चुनाव टिकट नहीं मिलने पर बगावत करने वाले नेताओं की घर वापसी के लिये भाजपा नरम रुख नहीं दिखा रही है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री आदित्य कोठारी का कहना है कि जब ये लोग बागी हुए थे, तो उन्हें मनाया गया था। लेकिन वह नहीं माने। फिर उन्हें थोड़ा पश्चाताप का मौका दिया गया। (BJPs doors open for others But not for Rebels)

लेकिन अब देखा जा रहा है कि बागी नेताओं द्वारा किस तरह का आचरण इन 2 सालों में किया गया है। उन्होंने पार्टी के खिलाफ कितनी गतिविधियों में भाग लिया, इस आधार पर 2022 में पार्टी के खिलाफ काम करने वाले लोगों को घर वापसी की अनुमति दी जा रही है। (BJPs doors open for others But not for Rebels)

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप चैनल से, फेसबुक ग्रुप से, गूगल न्यूज से, टेलीग्राम से, कू से, एक्स से, कुटुंब एप से और डेलीहंट से जुड़ें। अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..। (BJPs doors open for others But not for Rebels)

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

गर्मियों में करना हो सर्दियों का अहसास तो.. ये वादियाँ ये फिजायें बुला रही हैं तुम्हें… नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला