क्या इसी लिये चाही थी बराबरी ! अपने नाबालिग शिष्य व मकान मालिक के पुत्र को लेकर फरार हुईं युवतियां…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
(प्रतीकात्मक चित्र)

नवीन समाचार, बागेश्वर/रुद्रपुर, 22 जुलाई 2019। क्या इसी लिए महिलाओं व पुरुषों में बराबरी अपेक्षित थी। क्या इसी लिये प्यार के लिए कहा गया था, न उम्र की सीमा हो-न जाति का हो बंधन। अब तक जो आरोप पुरुषों पर लगते थे वे अब दो युवतियों पर लगे हैं। दोनों मामले कुमाऊं मंडल से संबंधित हैं। एक मामले में यहां की लड़की राजस्थान से अपने नाबालिग शिष्य को भगा लायी है तो दूसरे मामले में यूपी की लड़की यहां के अपने नाबालिग मकान मालिक को भगा ले गयी है। यानी न यूपी की लड़कियां कम हैं न उत्तराखंड की। दोनों मामले प्यार के बताये जा रहे हैं, और युवतियां स्वीकार कर रही हैं कि वे भगाये गये नाबालिगों से प्यार करती हैं, और शादी करना चाहती हैं।
पहली घटना बागेश्वर जिले के कांडा की है। यहां की एक 25 वर्षीय युवती राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक निजी विद्यालय में शिक्षिका के पद पर कार्यरत है। उसके विरुद्ध राजस्थान के परागपुर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करायी गयी है कि वह अपने नाबालिग छात्र को भगा ले गयी है। राजस्थान पुलिस ने सर्विलांस की मदद से उसकी लोकेशन तलाशी तो वह कांडा बागेश्वर की आई। इस पर पुलिस ने शिक्षिका व नाबालिग छात्र को कांडा से बरामद कर लिया और अपने साथ ले गये।
वहीं दूसरी घटना में रुद्रपुर के ट्रांजिट कैंप क्षेत्र से एक नाबालिग बालक गायब हो गया है। बालक के माता पिता ने ने उनके घर में किराये पर रहकर एक फैक्टरी में काम करने वाली यूपी के कुशीनगर जिले की 22 वर्षीय युवती इंद्रावती उर्फ इंदु पर अपने नाबालिग बेटे को भगाने का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि इंद्रावती नाबालिग बेटे से प्यार होने और उससे शादी करने का खुलेआम ऐलान कर चुकी है, और इस बात को लेकर पूर्व में विवाद भी हो चुका है। उन्होंने पुलिस में इंद्रावती के खिलाफ अपने नाबालिग पुत्र का अपहरण करने के आरोप में मुकदमा भी दर्ज करा दिया है। पुलिस लड़की और नाबालिग को तलाश रही है।

Leave a Reply

Loading...
loading...