News

वैलेंटाइन डे: यहां ‘प्रेम’ पर भारी पड़ा ‘राष्ट्र प्रेम’, केवल मीडिया में, धरातल पर नहीं दिखा ‘वैलेंटाइन डे’…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

-सोशल मीडिया पर भी लोग वैलेंटाइन डे से अधिक गत वर्ष इसी दिन पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि देते व राष्ट्रभक्ति से ओत प्रोत नजर आए
नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 14 फरवरी 2020। पिछले वर्षों में युवाओं के सिर चढ़कर बोलने वाले, मीडिया के एक वर्ग द्वारा उकसाये गए ‘वैलेंटाइन डे’ के प्यार का बुखार युवाओं के सिर से उतरता नजर आ रहा है, और इसकी जगह, खासकर पिछले वर्ष इसी दिन पुलवामा में सैनिकों पर हुए हमले में जवानों की शहादत के बाद देश प्रेम की भावनाएं युवा दिलों में भी उबल रही हैं। सरोवरनगरी नैनीताल, जिसे पर्यटन से जुड़ा एक वर्ग ‘हनीमून सिटी’ के रूप में प्रचारित करता है, यहां भी वैलेंटाइन डे का न तो स्थानीय युवाओं में ही, और ना ही सैलानियों में ही कोई खास क्रेज दिखाई दिया। यहां तक कि सोशल मीडिया में भी वैलेंटाइन डे पर युवा एक-दूसरे को फूल भेजने से अधिक देश प्रेम की बातें करते, पुलवामा के शहीदों को शहादत देते नजर आये। इस मौके पर पिछले कई वर्षों से रैली निकालकर युवाओं के लिए डर का प्रतीक बनने वाले शिव सेना के दर्जन भर कार्यकर्ताओं ने रैली निकालकर ऐसे युवा जोड़ों की तलाश की, जो वैलेंटाइन डे के नाम पर अश्लीलता कर रहे हों। परंतु उन्हें जोड़ों के नाम पर केवल चचेरे भाई-बहन मिले जो कुमाऊं विवि से कोई प्रमाण पत्र बनाने आए थे।
उल्लेखनीय है कि ‘ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन’ नाम की पुस्तक में पहली बार आए वैलेंटाइन के जिक्र के अनुसार यह दिन रोम के एक पादरी संत वैलेंटाइन के नाम पर मनाया जाता है। बताया जाता है कि संत वैलेंटाइन दुनिया में प्यार को बढ़ावा देने में विश्वास रखते थे, लेकिन रोम में राजा सम्राट क्लाउडियस को उनकी ये बात पंसद नहीं थी। क्योंकि वह प्रेम विवाह के खिलाफ थे। राजा को लगता था कि रोम के लोग अपनी पत्नी और परिवारों के साथ मजबूत लगाव होने की वजह से सेना में भर्ती नहीं हो रहे हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए क्लाउडियस ने रोम में शादी और सगाई पर पाबंदी लगा दी। पादरी वैलेंटाइन ने सम्राट के आदेश को लोगों के साथ नाइंसाफी के तौर पर महसूस किया। उन्होंने इसका विरोध करते हुए कई अधिकारियों और सैनिकों की शादियां भी कराई। इसके बाद उन्हें 14 फरवरी को फांसी पर चढ़ा दिया गया। बीते वर्षों में उपभोक्तावादी संस्कृति को बढ़ावा देते हुए और पश्चिमी सभ्यता का अंधानुकरण करते मीडिया के एक वर्ग ने भारत में वैलेंटाइन डे को बहुप्रचारित करना शुरू किया। इससे पहले के दिनों को भी हग डे, चॉकलेट डे, रोज डे के रूप में प्रचारित किया, ताकि युवा इन वस्तुओं को अधिकाधिक खरीदें। परंतु अब नैनीताल जैसे शहर में इसका प्रभाव कहीं नजर नहीं आ रहा है। बल्कि लोग पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को शहीद हुए 45 भारतीय जवानों को नमन करते नजर आ रहे हैं। शिव सेना के प्रदेश महामंत्री भूपाल सिंह कार्की ने बताया कि उन्होंने आज वैलेंटाइन डे पर पिछले वर्षों की तरह रैली निकाली। रैली में करीब 15 कार्यकर्ता ही जुट पाए और इस दौरान उन्हें पूरा शहर छानने के बावजूद एक चचेरे भाई-बहन के अलावा उन्हें कहीं संदिग्ध युवा जोड़े नहीं मिले।

यह भी पढ़ें : क्या इसी लिये चाही थी बराबरी ! अपने नाबालिग शिष्य व मकान मालिक के पुत्र को लेकर फरार हुईं युवतियां…

नवीन समाचार, बागेश्वर/रुद्रपुर, 22 जुलाई 2019। क्या इसी लिए महिलाओं व पुरुषों में बराबरी अपेक्षित थी। क्या इसी लिये प्यार के लिए कहा गया था, न उम्र की सीमा हो-न जाति का हो बंधन। अब तक जो आरोप पुरुषों पर लगते थे वे अब दो युवतियों पर लगे हैं। दोनों मामले कुमाऊं मंडल से संबंधित हैं। एक मामले में यहां की लड़की राजस्थान से अपने नाबालिग शिष्य को भगा लायी है तो दूसरे मामले में यूपी की लड़की यहां के अपने नाबालिग मकान मालिक को भगा ले गयी है। यानी न यूपी की लड़कियां कम हैं न उत्तराखंड की। दोनों मामले प्यार के बताये जा रहे हैं, और युवतियां स्वीकार कर रही हैं कि वे भगाये गये नाबालिगों से प्यार करती हैं, और शादी करना चाहती हैं।
पहली घटना बागेश्वर जिले के कांडा की है। यहां की एक 25 वर्षीय युवती राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक निजी विद्यालय में शिक्षिका के पद पर कार्यरत है। उसके विरुद्ध राजस्थान के परागपुर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करायी गयी है कि वह अपने नाबालिग छात्र को भगा ले गयी है। राजस्थान पुलिस ने सर्विलांस की मदद से उसकी लोकेशन तलाशी तो वह कांडा बागेश्वर की आई। इस पर पुलिस ने शिक्षिका व नाबालिग छात्र को कांडा से बरामद कर लिया और अपने साथ ले गये।
वहीं दूसरी घटना में रुद्रपुर के ट्रांजिट कैंप क्षेत्र से एक नाबालिग बालक गायब हो गया है। बालक के माता पिता ने ने उनके घर में किराये पर रहकर एक फैक्टरी में काम करने वाली यूपी के कुशीनगर जिले की 22 वर्षीय युवती इंद्रावती उर्फ इंदु पर अपने नाबालिग बेटे को भगाने का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि इंद्रावती नाबालिग बेटे से प्यार होने और उससे शादी करने का खुलेआम ऐलान कर चुकी है, और इस बात को लेकर पूर्व में विवाद भी हो चुका है। उन्होंने पुलिस में इंद्रावती के खिलाफ अपने नाबालिग पुत्र का अपहरण करने के आरोप में मुकदमा भी दर्ज करा दिया है। पुलिस लड़की और नाबालिग को तलाश रही है।

Leave a Reply

Loading...
loading...