उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 16 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 12.6 मिलियन यानी 1.26 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

March 3, 2024

Vidyarthiyon ki Kalam se : विद्यार्थियों की कलम से-अंक 2 : मणिपुर संकट-न्याय, शांति, ईमानदारी, सृजन

0

Vidyarthiyon ki Kalam se, bachchon ke lekh, Abhivyakti, Bachchon ki Abhivyakti, Kalam,

Vidyarthiyon ki Kalam se

‘नवीन समाचार’ में हम बच्चों की रचनात्मकता को मंच प्रदान करने के लिए ‘विद्यार्थियों की कलम से’ (Vidyarthiyon ki Kalam se) नाम से एक नया स्तंभ शुरू कर रहे हैं। इस स्तंभ में हम बच्चों की चुनिंदा, मौलिक व स्तरीय रचनाओं को प्रकाशित करेंगे। इस स्तंभ हेतु बच्चे अपनी रचनाएं अधिकतम 500 शब्दों में क्रुतिदेव-10 या यूनीकोड फॉंट में हमें saharanavinjoshi@gmail.com पर ईमेल के माध्यम से भेज सकते हैं। -संपादक

Vidyarthiyon ki Kalam se

यहाँ क्लिक कर सीधे संबंधित को पढ़ें

Vidyarthiyon ki Kalam se-2

मणिपुर एक बहुत खूबसूरत और गहरी संस्कृति वाला स्थान है। हालांकि, इस खूबसूरती के पीछे मणिपुर में कई मुश्किलें हैं जिनसे संकट पैदा होता है। न्याय, शांति, ईमानदारी और सृजन की दिशा में प्रतिबद्ध जेपिक समूह, जो सेंट मैरीज कॉन्वेंट कॉलेज नैनीताल की सृजनात्मकता को बढ़ावा देने में लगा हुआ है, उन समस्याओं के बारे में जागरूकता फैलाने, समझ को बढ़ावा देने और सकारात्मक प्रभाव डालने का प्रयास कर रहा है।

न्याय
मणिपुर में संकट के बीच, न्याय की खोज केंद्र स्तर पर होती है, जो इस क्षेत्र के सामने आने वाली मुश्किलों के निष्पक्ष और न्यायसंगत समाधान की आवश्यकता को प्रकाशित करती है। यह सिर्फ अच्छा होने के बारे में नहीं है, बल्कि यह एक मौलिक नियम है कि हर किसी के साथ उचित व्यवहार किया जाना चाहिए। यह एक बड़ी लड़ाई के बारे में है जिसमें दुनिया भर में कई लोग जुटे हुए हैं। वे चाहते हैं कि सभी को उनके अधिकार मिलें, सभी के साथ भले तरीके से व्यवहार किया जाए और सभी का सम्मान किया जाए।

शांति
जो अमानवीय घटनाएं मणिपुर में घटित हो रही है उससेे संपूर्ण भारत की शांति भंग हो रही है । अगर समय रहते कोई सार्थक कदम नहीं उठाए गए तो स्थिति और भी गंभीर होती चली जाएगी । प्रत्येक मनुष्य का परम कर्तव्य बनता है कि वह संपूर्ण भारत में शांति का प्रवाह करें एवं ऐसे जगत के निर्माण के लिए अपना योगदान दे जहां चारों ओर शांति एवं एकता की गूंज गूंजे।

ईमानदारी
मणिपुर एक जटिल संकट से जूझ रहा है जो पहचान, अखंडता और शासन के मुद्दों के इर्द-गिर्द घूमता है। राज्य की अखंडता विवाद का विषय रही है, कुछ की मान्यता की मांग के साथ जनजातीय क्षेत्रों को स्वायत्त क्षेत्र या यहां तक कि अलग प्रशासनिक इकाइयों के रूप में। ये मांगें अक्सर एकजुट मणिपुर बनाए रखने की आवश्यकता से टकराती हैं, जिससे शासन संरचनाओं पर सवाल उठते हैं जो स्थानीय स्वायत्तता और राज्य की समग्र सुसंगतता दोनों को समायोजित कर सकते हैं।

सृजन
जब हम सृजन नहीं कर सकते तो क्या हमें विध्वंस करने का अधिकार है? मणिपुर हिंसा के पिछले तीन महीनों में कम से कम 130 लोग मारे गए हैं और 400 घायल हुए हैं। हिंसा को रोकने के लिए सेना, अर्धसैनिक बलों और पुलिस के संघर्ष के कारण 60,000 से अधिक लोगों को अपने घरों से मजबूर होना पड़ा है। क्या महिलाओं ने अपनी पवित्रता और आत्मसम्मान बनाए रखने का अधिकार खो दिया है? मानव पूंजी भारी मात्रा में नष्ट हो गई है और अब समय आ गया है कि हम चुप न रहें और इस विकृत शो के मात्र दर्शक न बने रहें ।

अक्षिता बिष्ट – 12B
दिव्यांशी तिवारी – 12B
फातिमा सिद्दीकी- 11-A
आद्या जोशी -10A 

(Vidyarthiyon ki Kalam se) आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। (Vidyarthiyon ki Kalam se)

Vidyarthiyon ki Kalam se-1: मणिपुर हिंसा 

एक विद्यार्थी का एकमात्र शस्त्र होती है-उसकी कलम। आज इसी कलम के उपयोग द्वारा मैं आप सभी के हृदय में सजगता का संचार करना चाहूँगी। हम सभी भलीभांति अवगत हैं दिनांक 3 मई, 2023 से मणिपुर में घटित अमानवीय दुर्घटनाओं से। आज ऐसी बेहाल स्थिति ने मुझे यह लिखने पर विवश कर दिया।

दो पक्षों के बीच में जब कोई विवाद छिड़ता है तो उसके दुष्परिणाम केवल उन दो पक्षों को ही नहीं भोगने पड़ते हैं बल्कि कई अन्य मासूम जिन्दगियाँ भी अपने प्राणों की आहुति देने पर विवश हो जाती हैं। इस गंभीर स्थिति के लिए कौन जिम्मेदार है-इस पर मुझे अपना निर्णय सुनाने का कोई अधिकार नहीं है। मैं केवल काँपते हाथों से यह लिखते समय उन मासूम लोगों की कराहों की गूँज सुन सकती हूँ जिन्होंने अपनी अमूल्य जान गंवायी।

मैं उन हजारों लोगों की पीड़ा का आभास कर सकती हूँ जो अपने ही घरों से बेघर कर दिए गए। मैं अपनी आँखों में वह दृश्य देख सकती हूँ जब छोटी-छोटी बच्चियों एवं स्त्रियों के साथ इतनी शर्मनाक घटनाएँ घटित हुई होंगी। नारी को तो सभ्य समाज में अत्यंत पूजनीय माना जाता था। तो अब यह मान्यता धुंधली कैसे पड़ गयी ? आज ईश्वरतुल्य नारी की अस्मिता खतरे में है।

ऐसी निंदनीय एवं अमानवीय घटनाएँ जो मणिपुर में हो रही हैं, उसके कल्पना-मात्र से ही मेरा हृदय पीड़ा से द्रवित हो उठता है। एक बार, बस-एक बार मणिपुर में पीड़ित लोगों की स्थिति का अनुमान लगाकर देखिए। आज क्या मानवता कहीं इतनी लुप्त हो गयी है कि सम्पूर्ण घटना ज्ञात होने पर भी हम उसे नजरअंदाज कर देते हैं।

हमारे पास सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट्स पर मनोरंजन के लिए भिन्न-भिन्न पोस्ट डालने के लिए तो पर्याप्त समय है। परंतु बात जब अपने देश के लिए कोई कदम उठाने की आती है तब क्यों हम केवल मूक दर्शक बनकर ही रह जाते हैं ? देश के प्रति सजगता केवल 15 अगस्त था 26 जनवरी को नहीं दिखायी जाती बल्कि देश के प्रति प्रेम एवं देशवासियों के प्रति सांत्वना ऐसे अवसरों पर ही दिखायी जाती है।

कहने को तो हम सभी ने अपने विद्यालयों में प्रभात सभा के समय पर यह वाक्य हजारों बार दोहराया होगा ‘प्रत्येक देशवासी मेरे भाई-बहन हैं’। परंतु क्या हमने यह बोलते समय कभी भी इस पंक्ति को महसूस किया ? मैं देश की आने वाली पीढ़ी हूँ और बड़े दुख से मुझे आज यह कहना पड़ रहा कि मेरे देशवासियों में प्रेम से अधिक ईर्ष्या, अहिंसा से ज्यादा हिंसा और दया से ज्यादा निर्दयता देखने को मिलती है।

‘देश की एक सजग नागरिक’ होने के कारण कम-से-कम मैं अपनी लेखनी को शस्त्र के रूप में ढालकर यदि किसी एक भी व्यक्ति के हृदय में कुछ करुणा के भाव उजागर कर पाई तो अपनी लेखनी को सफल समझूंगी। यह कलम लोक-निर्माण के लिए उठी है और मुझे पूरा विश्वास है कि इसका सकारात्मक एवं क्रांतिकारी प्रभाव अवश्थ पड़ेगा। जय हिंद, जय भारत।।
-फातिमा सिद्दीकी, सेंट मैरी कॉन्वेंट कॉलेज, नैनीताल।

(Vidyarthiyon ki Kalam se) आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। (Vidyarthiyon ki Kalam se)

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग