ममेरी बहन से करता रहा बलात्कार, विरोध किया तो कत्ल कर लाश दफना दी !

रुद्रपुर के ट्रांजिट कैंप में आरोपी के साथ रहकर काम करती थी लड़की

रुद्रपुर, 18 सितंबर 2018। लोग अपनी बहन- बेटियों को दूसरे शहरों में सुरक्षा के लिये अपने रिश्तेदारों के साथ रखते हैं। लेकिन इस घटना के बाद शायद ऐसा करने से डरें। 

रुद्रपुर के ट्रांजिट कैंप क्षेत्र में रहने वाले एक युवक पर साथ में रहकर नौकरी करने वाली अपनी ही ममेरी बहन से बलात्कार करने और बलात्कार के आरोप से बचने के लिए बहन का कत्ल करने व उसकी लाश को दफनाने का आरोप लगा है। मामले में न तो लड़की का कहीं पता है और न ही आरोपी का। पूरे मामले में गायब लड़की के पिता ने अपने मूल स्थान शाहजहांपुर उत्तर प्रदेश में मामला दर्ज कराया है। यूपी पुलिस ने यह मामला अब ट्रांजिट कैंप पुलिस के सुपुर्द कर दिया है। पुलिस गहनता के साथ दोनों की तलाश कर रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार खुटार शाहजहां उत्तर प्रदेश की रहने वाली एक लड़की यहां ट्रांजिट कैंप स्थित चामुंडा मंदिर वाली गली में रह एक कंपनी में काम करती थी। यहीं हाफिजगंज बरेली उत्तर प्रदेश का रहने वाला अनिल कुमार शर्मा पुत्र स्व.राम बहादुर शर्मा भी रहता था। बताया जाता है कि लड़की अनिल की ममेरी बहन थी। दोनों लंबे समय से यहां रह रहे थे। कुछ कुछ महीनों के अंतराल में हमेशा लड़की अपने परिजनों से मिलने के लिए शाहजहांपुर जाती थी, लेकिन पिछले कुछ माह से लड़की अपने परिजनों से मिलने नहींं गई। ऐसे में परिजनों ने अपनी बेटी को फोन किया, लेकिन उसका फोन लगातार स्विच ऑफ मिला। इस पर परिजनों को शक हुआ तो उन्होंने अनिल को फोन किया, लेकिन अनिल ने यह कहते हुए पल्ला झाड़ लिया कि उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। इस जवाब पर परिजन अपने स्तर पर पड़ताल में जुट गए और यह बात सामने आई कि अनिल उनकी बेटी का बलात्कार कर रहा था। जब बेटी ने धमकी दी कि वह यह बात सबको बता देगी तो बचने के लिए अनिल ने उसका अपहरण किया और जान से मार दिया। लाश बरामद न हो सके इसलिए उसकी लाश को कहीं ले जा कर दफना दिया। परिजनों की इस तहरीर पर खुटार थाने में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। चूंकि घटना स्थल ट्रांजिट कैंप था तो यूपी पुलिस ने पूरा केस ट्रांजिट कैंप पुलिस के हस्तांतरित कर दिया है। अब पुलिस अपने स्तर से मामले की छानबीन कर रही है। हालांकि ट्रांजिट कैंप पुलिस का कहना है कि जांच से पहले मामले में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।

यह भी पढ़ें : चंपावत का तिहरा हत्याकांड सीरियल किलर की हरकत, मात्र मोबाइल फोन के लिए किशोर सहित हरिद्वार, हल्द्वानी में भी कर चुका है हत्याएं

पूर्णागिरि मंदिर के पास पुलिस को किशोर का डेढ़ वर्ष पुराना कंकाल बरामद करता हत्यारा।

टनकपुर, 5 सितंबर 2018। सीबीसीआईडी ने बुधवार को पूर्णागिरि मंदिर के पास हत्यारे प्रीतम सिंह की निशानदेही पर एक कंकाल बरामद किया। उसकी शिनाख्त शव के पास पड़े कपड़ों के आधार पर मृतक के भाई सुशील कुमार ने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व गायब हुए रुद्रपुर निवासी 16 वर्षीय किशोर संजीव कुमार के रूप में हुई। पुष्टि के लिए पुलिस कंकाल का डीएनए परीक्षण कराएगी। अलबत्ता हत्यारे ने कबूल किया है कि उसने मोबाइल लूटने के लिए ही संजीव को मौत के घाट उतार दिया था। उसने पुलिस टीम को बताया कि वह संजीव को बहला-फुसलाकर इसी जगह पर लाया था और बातों ही बातों में चट्टान पर बैठाकर उसके सिर में पत्थर से वार कर दिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। इसके बाद हत्यारे ने शव को बगल में ही बड़े पत्थरों के बीच में फेंक दिया। घटना काफी पुरानी होने के कारण पत्थरों के बीच में मिट्टी और रेत भर गई थी, जिससे कंकाल दबा हुआ था। पुलिस और सीबीसीआईडी की टीम ने कंकाल बरामद कर अपने पास सुरक्षित रख लिया है, जिसे फॉरेसिंक जांच के लिए भेजने की तैयारी की जा रही है। बताया गया है कि जिस दिन संजीव की हत्या की गई थी, उस दिन उसके पास दो मोबाइल फोन और जेब में मात्र चार सौ रुपये थे। हत्या के बाद रुद्रपुर के एक व्यापारी को मोबाइल फोन बेचा गया।
इसके अलावा हत्यारे प्रीतम सिंह ने इससे पहले हरिद्वार में हर की पैड़ी के पास झाड़ू लगाने वाली एक महिला की चिड़ियापुर में दुष्कर्म के बाद हत्या करने की बात भी कबूली है।

चंपावत में वृद्ध दंपति व मां सहित 3 को काट डाला, 3 दिन बाद पता चली घटना

तीन दिन बाद घटनास्थल गांव पहुंचे पुलिसकर्मी।

चंपावत, 4 सितंबर 2018। चंपावत जनपद में बीते छह माह में तीसरी तिहरे हत्याकांड का मामला सामने आया है। जनपद के सील्याड़-उदाली ग्राम सभा के चांचडी तोक में तीन दिन बाद एक ही परिवार के तीन लोगों की निर्मम हत्या किये जाने का मामला प्रकाश में आया है। टनकपुर कोतवाली पुलिस द्वारा सोमवार रात्रि पकड़े गए दो लोगों-प्रीतम सिंह (34) पुत्र हुकुम सिंह निवासी तामली चंपावत व विशाल (20) पुत्र प्रेम सिंह निवासी हरिपुरकलां रायवाला हरिद्वार से घटना का खुलासा हुआ। सूचना के बाद घटनास्थल पहुंची चंपावत पुलिस को मौके पर कृष्ण सिंह (60) पुत्र चन्दन सिंह उनकी पत्नी मनू देवी (45) व मां पार्वती देवी (85) के तीन दिन से मृत पड़े शव पड़े मिले। घर का सामान भी बिखरा हुआ था। मृतक के तीन पुत्र प्रकाश, भीम व सचिन गुजरात मे काम करते है। बताया गया है कि मामले की जानकारी पुलिस को मीडिया के बाद मिली। इस पर एसपी धीरेन्द्र गुंज्याल मीडिया पर भड़क गए, और पहले घटना को छुपाते रहे व बदसलूकी की।

Loading...

Leave a Reply

%d bloggers like this: