Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

सिर्फ कोल्ड ड्रिंक की एक बोतल के लिए मीट काटने वाली छुरी से काट दिए पति पत्नी, मौत, कोई बचाने नहीं आया, वीडियो बनाते रहे…

Spread the love

नवीन समाचार, नई दिल्ली, 17 जनवरी, 2019। नई दिल्ली की जेजे कॉलोनी की उस गली में गुरुवार को सिर्फ हृदय विदारक रोने-चीखने की आवाजें सुनाई दे रही थीं। बुधवार शाम गली में जो कत्लेआम हुआ, उसे देख-सुनकर हर कोई कांप उठा। पहले सुनीता की हत्या, फिर अस्पताल में उसके पति वीरू ने दम तोड़ दिया। वहीं उनके बेटे आकाश की हालत अभी भी गंभीर है।
कत्लेआम की सबसे अहम चश्मदीद वीरू की बड़ी बेटी 19 साल की खुशबू हैं। शादीशुदा हैं। ससुराल आगरा में है। 5 महीने की गर्भवती हैं। खुशबू रविवार को ही मायके आई थीं। वीरू के परिवार को मारने की स्क्रिप्ट आरोपी 2 महीने पहले ही लिख चुका था। वजह थी कोल्डड्रिंक की एक बोतल। उस दिन वीरू की सबसे छोटी बेटी खुशी और 11 साल का अमन छत पर खेल रहे थे। अचानक कोल्डड्रिंक की बोतल आरोपी के चबूतरे पर गिरी। बाहर निकलकर उसने बच्चों और पड़ोसियों को बहुत देर तक गाली दी। सभी पड़ोसियों को जान से मारने की धमकी दी। उस वक्त सुनीता ने बच्ची को गाली देने का विरोध किया था और पुलिस आई थी। तब मामले को सुलझाकर शांत करा दिया था। खुशबू ने पुलिस को बताया कि बुधवार शाम मां गली के नुक्कड़ पर कुछ सामान लेने जा रही थीं। रास्ते में आरोपी सब्जी लेकर लौट रहा था। आरोपी ने सुनीता को घूरकर देखा और बुदबुदाते हुए गंदी बात बोलते हुए पास से गुजरा। सुनीता लौटीं। घर के गेट पर पति और बेटे को आवाज लगाते हुए मोबाइल मंगवाया। कहा कि ‘जल्दी फोन ला 100 नंबर पर कॉल कर पुलिस को बुला’। सुनीता के पति वीरू और बेटा आकाश नीचे उतरकर आए। आकाश उसके दरवाजे पर पहुंचा। जोर-जोर से दरवाजा खटखटकाया। आरोपी को बाहर निकलने के लिए कहा।
आरोपी कमरे से मीट काटने वाला छुरा हाथ में लेकर निकला। दरवाजा खोलते ही सीधे आकाश के पेट में घोंप दिया। फिर बाहर की ओर भागा। वीरू ने आरोपी को रोकने की कोशिश की तो उन पर भी हमला कर दिया। इतने में सुनीता ने ईंट उठा ली। तभी आरोपी ने सुनीता के पेट और सिर पर हमला कर दिया। गली में वीरू, सुनीता और आकाश तड़पने लगे। प्रेग्नेंट खुशबू बहन को साथ लेकर भागी थी
आरोपी ने वीरू की बेटी खुशबू और सबसे छोटी बेटी खुशी को भी देख लिया था। वह उनके पीछे भागा। गर्भवती खुशबू, छोटी बहन को लेकर चिल्लाते हुए भागती रही। वह लोगों से कहती रही, ‘मेरे घरवालों को बचा लो’। कोई भी मदद को नहीं आया। लोग विडियो बनाने में लगे थे।

यह भी पढ़ें : रुद्रपुर में कांग्रेस नेता की हत्या, आरोपित भाजपा नेता

नवीन समाचार रुदपुर, 4 जनवरी 2019। मंदिर कमेटी के विवाद में कांग्रेस पार्टी के वार्ड अध्यक्ष की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई है। पुलिस ने आरोपित को  हिरासत में ले लिया है। आरोपित भाजपा कार्यकर्ता एवं पूर्व सभासद बतायाा गया है।

संजय नगर खेड़ा वार्ड संख्या 11 में दुर्गा पूजा समिति के विवाद को निपटाने के लिए गणमान्य लोगों की एक पंचायत बुलाई गई थी। इसी दौरान भाजपा के पूर्व मेंबर सुभाष विश्वास अपने पुत्र संजू व अन्य लोगों के साथ वहां पहुंचे। जिससे दोनों पक्षों के बीच तनाव का माहौल बन गया। इसी दौरान संजू ने पंचायत में मौजूद कांग्रेस वार्ड अध्यक्ष डॉक्टर नीरज के सिर पर सटाकर तमंचे से फायर झोंक दिया। इससे डाक्‍टर नीरज धड़ाम से नीचे गिर पड़े। फायर होते ही मौके पर भगदड़ मच गई। आनन-फानन में गंभीर रूप से घायल डॉक्टर नीरज को इलाज के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया गया, जहां चिकित्सकों ने डॉ नीरज को मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर नीरज की मौत की सूचना शहर में जंगल में आग की तरह फैल गई। महानगर में मौजूद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह व पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ ने भी सूचना मिलते ही जिला अस्पताल की ओर कूच कर दिया। जहां भारी संख्या में तादाद क्षेत्रवासियों ने जमकर आरोपियों के खिलाफ प्रदर्शन किया। मौके पर पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक कमलेश उपाध्याय व स्वतंत्र कुमार के सामने ही कैंप पुलिस के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। इधर, प्रशासन ने संजय नगर में पीएसी तैनात कर दी है। वहीं जिला अस्पताल में भी भारी पुलिस फोर्स में डेरा डाल दिया है। पुलिस अधिकरियों ने मुख्य आरोपी समेत कई लोगों को हिरासत में लेने का दावा किया है।

यह भी पढ़ें : दूसरी शादी की राह में आयी पहली पत्नी तो कर दी हत्या, एक माह बाद हुआ खुलासा

नवीन समाचार, देहरादून, 30 दिसंबर 2018। बीती 25 नवंबर को थाना विकासनगर क्षेत्र में के अंतर्गत आसन नदी से बरामद हुए अज्ञात महिला के शव की शिनाख्त एक माह बाद मीना (38) नाम की महिला के रूप में हो गई है। उसकी हत्या उसके ही पति मधुसूदन जगूड़ी (41) पुत्र सुरेशानंद निवासी ग्राम जोगत पट्टी थाना धरासू जिला उत्तरकाशी ने की थी। उसके पति ने 22 नवंबर को उसकी हत्या करने की बात स्वीकार कर ली है। मृतका अपने पति की पहली पत्नी थी। मधुसूदन ने उसकी हत्या उसे रास्ते से हटाने के लिए पहले पत्थरों से कुचलकर और फिर उसका सिर नदी के पानी में डुबोकर की थी। थाना विकासनगर पुलिस ने अभियुक्त मधुसूदन को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 व 201 के तहत ग्राम फतेहपुर से गिरफ्तार कर लिया है।
उल्लेखनीय है कि इधर 25 दिसंबर को थाना सहसपुर पर जयंती प्रसाद नौटियाल पुत्र सत्येश्वर प्रसाद, निवासी ग्राम जगड गांव थाना धरासू जिला उत्तरकाशी ने अपनी पुत्री मीना देवी के गायब होने की सूचना दी थी। उनका कहना था कि मीना का विवाह वर्ष 2001 में मधुसूदन के साथ किया गया था। दोनो पति पत्नी 2010 तक साथ रहे, जिससे उनके दो बच्चे हुए। एक दिन अचानक मधुसूदन मीना को छोड़ कर बिना बताए गांव से चला गया। काफी तलाश करने पर पता चला वह देहरादून के ग्राम फतेहपुर में दूसरी शादी करके रह रहा है, और मीना को बच्चों सहित ग्राम फतेहपुर धर्मावाला में एक कमरे में रखा था। इधर करीब एक महीने से मीना से कोई संपर्क न होने पर उसके पति ने पूछने पर बताया मीना 22 नवंबर को घर से उत्तरकाशी बोल कर गई है, लेकिन उसका कहीं कोई अता-पता नहीं चला।

इस गुमशुदगी पर पुलिस को जांच करते हुए पता चला कि दो बच्चे होने के बाद पति-पत्नी में विवाद होने लगा था जिस कारण मधुसूदन निे उसे छोड़ दिया और दिसंबर 2011 में टिहरी जिले से शीतल नामक दूसरी महिला से कर ली। इधर मीना के वापस आ जाने से उसने मीना को ग्राम फतेहपुर में अलग एक कमरा किराये पर दे दिया और हर रोज उसके पास भी आने-जाने लगा। इधर उसे रास्ते से हटाने के लिए उसने 22 नवंबर की शाम 7 बजे उसे घुमाने के बहाने आसन पुल धर्मावाला नदी के पास ले जा कर उसके सर पर पत्थर से वार किये और बेहोश हो जाने पर नदी में लगभग 15 मिनट तक डुबा कर रखा और मीना के मर जाने पर उसके शव को नदी में बहा दिया और घर आकर सबको बोल दिया कि वह उत्तरकाशी वापस चली गई है।

Loading...

Leave a Reply