News

बिग ब्रेकिंग: प्रेमिका शादी की जिद पर प्रेमी के घर पहुंची, भाई ने शरेआम गोली मारकर कर दी उसके प्रेमी की हत्या

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, काशीपुर, 10 अगस्त 2020। ऊधमसिंह नगर जनपद के काशीपुर के निकट कुंडेश्वरी के पत्थरपुरी गांव में आधा दर्जन से अधिक बदमाशों ने सोमवार दोपहर दिनदहाड़े घर में घुसकर एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। दिनदहाड़े हुई इस वारदात से समूचे क्षेत्र में सनसनी फैल गई, घटना को अंजाम देकर हत्यारे फरार हो गए। मामला प्रेम प्रसंग का बताया जा रहा है मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया गया है कि मृतक की प्रेमिका सुबह अपना घर छोड़कर उसके घर आ गई थी और विवाह करने की जिद कर रही थी। इससे खुन्नस खाए प्रेमिका के भाई ने उसके भाई की गोली मारकर हत्या कर दी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार काशीपुर के गुलजारपुर पत्थरपुरी कुंडेश्वरी निवासी गौरव पुत्र सुरजीत सिंह उम्र 22 वर्ष का गांव की ही एक किशोरी से प्रेम प्रसंग चल रहा था। बताया जा रहा है कि प्रेम प्रसंग के चलते किशोरी सोमवार की सुबह तड़के करीब चार बजे गौरव के घर आ गई तथा गौरव से विवाह करने की जिद पर अड़ गई थी। गौरव के परिजनों ने उसे काफी समझाने का प्रयास किया परंतु वह गौरव से ही विवाह करने की जिद कर रही थी।यह बात जब किशोरी के परिजनों को पता चली तो आज दोपहर किशोरी का भाई अपने साथ 8-10 युवकों को लेकर गौरव के घर आ धमका, और तमंचे से गौरव पर फायर झोंक दिया। गोली लगते ही गौरव जमीन पर गिर गया और मौके पर तड़प-तड़प कर उसने दम तोड़ दिया। गोली की आवाज सुनकर आसपास के लोग इकट्ठा हुए लेकिन आरोपी तब तक वारदात को अंजाम देकर मौके से फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है तथा मामले की गहनता से जांच शुरू कर आरोपियों की धरपकड़ के लिए दबिश दे रही है।

यह भी पढ़ें : फंदे पर लटकी मिली युवती की मौत के मामले में उम्र में छोटे ग्राम प्रधान के भाई पर मुकदमा दर्ज

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 जुलाई 2020। गत 25 जुलाई को जनपद के धारी विकासखंड के दूरस्थ ग्राम भुम्का के जंगल में एक युवती का शव लटका हुआ मिला था। युवती 24 जुलाई की शाम से गायब थी। मृतका की पहचान 23 वर्षीया राजयंती देवी के रूप में हुई थी। इधर सोमवार को इस मामले में मृतका के भाई खिलेश राम की तहरीर पर ग्राम प्रधान के 19 वर्षीय भाई विपिन चंद्र एवं अन्य अज्ञात लोगों पर राजयंती की हत्या करने के आरोप में पट्टी पटवारी नाई में मुकदमा दर्ज हो गया है। तहरीर में दोनों के बीच प्रेम प्रसंग एवं आरोपित द्वारा शादी से इंकार किये जाने के आरोप भी लगाए गए हैं। राजस्व उपनिरीक्षक रवि पांडे ने पूछने पर बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

यूपी में हत्या कर सड़क किनारे फेंकी गयी युवती की शिनाख्त नैनीताल जनपद निवासी के रूप में हुई, हत्यारा…

यह भी पढ़ें : सुबह तड़के अवैध शराब कारोबारी की घर में घुसकर-गोली मारकर हत्या, पत्नी पर हत्या करवाने का आरोप

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 20 जून 2020। शनिवार की सुबह तड़के जिला मुख्यालय का का ट्रांजिट कैम्प क्षेत्र एक बार फिर गोलियों के धमाकों से गूंज गया। यहां अल सुबह करीब तीन बजे समीर विश्वास नाम के व्यक्ति की अज्ञात लोगों ने घर में घुस कर गोली मार दी। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इससे पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गयी है। इससे भी अधिक सनसनीखेज बात यह है कि मृतक के परिजनों के अनुसार हत्या मृतक की पत्नी ने करवाई है। मृतक अवैध शराब का कारोबारी बताया गया है। ट्रांजिट कैम्प पुलिस जांच में जुट गई है और जल्द ही हत्याकांड का खुलासा करने का दावा कर रही है।
परिजनों के अनुसार हत्या से एक दिन पूर्व मृतक समीर ने अपनी पत्नी और एक अन्य व्यक्ति के साथ मिलकर शराब पी थी। उसकी पत्नी ने ही अज्ञात युवक के साथ मिलकर समीर की हत्या का षड्यंत्र रचा है। बताया जा रहा है कि शडयंत्र के तहत आज प्रातः करीब 3 बजे के लगभग कुछ युवक एक युवक के घर में जा घुसे और उन्होंने युवक पर गोली चला दी। इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

यह भी पढ़ें : युवती की जहर पिलाकर हत्या, चाचा व चचेरा भाई गिरफ्तार

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अप्रैल 2020। नैनीताल जनपद के कोटाबाग के दूरस्थ स्यात इलाके में एक युवकी की जहर पीने से मृत्यु हो गयी। मामले में मृतका के पिता की तहरीर पर राजस्व पुलिस के निरीक्षक राजेंद्र सनवाल, उपनिरीक्षक ओमप्रकाश आर्या व अनुसेवक गोधन सिंह ने शुक्रवार को मृतका के चाचा शिवदत्त और चचेरे भाई बंशीधर को कोटाबाग से गिरफ्तार कर लिया। शाम को उन्हें रिमांड मजिस्ट्रेट जयश्री राणा की अदालत में पेश कर अदालत के आदेश पर छह मई तक के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। मामले में आरोपित की पत्नी यानी चाची मुन्नी देवी भी आरोपित है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद के पट्टी स्यात के फतेहपुर में लक्ष्मी दत्त पुत्र परमानंद ने अपने सगे छोटे भाई व उसके परिवार पर बेटी की हत्या करने का अरोप लगाते हुए तहरीर दी है। आरोप लगाया कि बीती 16 अप्रैल को आपसी विवाद में उसके छोटे भाई शिवदत्त, पत्नी मुन्नी और बेटे बंशीधर ने उसकी 22 वर्षीय बेटी भावना को जहर पिला दिया। गंभीर हालत में परिजन उसे हल्द्वानी स्थित निजी अस्पताल ले जाया गए, जहां उपचार के दौरान 17 अप्रैल को उसकी मौत हो गई। राजस्व पुलिस ने लक्ष्मी दत्त की तहरीर पर शिवदत्त, उसकी पत्नी मुन्नी देवी व बेटे बंशीधर के खिलाफ धारा-302, 323, 504, 506 के तहत केस दर्ज कर लिया।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी जेल में खूनी संघर्ष, छेड़छाड़ के आरोपित ने कर दी डकैती के आरोपित की हत्या

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 13 अप्रैल 2020। हल्द्वानी उपकारागार में बीती रात्रि कैदियों के बीच खूनी संघर्ष हो गया। इसमें एक ही बैरक में रहने वाले दो कैदी आपस में किसी बात को लेकर भिड़ गए। इस दौरान छेड़छाड़ के आरोपी एक कैदी ने डकैती के आरोपी दूसरे कैदी के सीने पर मुक्कों से ऐसे प्रहार किये कि उसकी मृत्यु हो गई। घटना के बाद से जेल प्रशासन सकते में है। रात्रि में ही जेलर संजीव ह्यांकी की ओर से आरोपित कैदी के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया है। वहीं मृतक के शव को उसके परिजनों को सोंपने की तैयारी की जा रही है।
प्राप्त जानकारी के अनुसर बाजपुर के मुडिया गांव निवासी 19 वर्षीय शानू पुत्र नन्हे डकैती के आरोप में बीती चार मार्च से जेल में बंद था। वहीं हल्द्वानी के दमुवाढूंगा का निवासी आलोक नेगी पुत्र रमेश सिंह छेड़छाड़ के आरोप में छह मार्च को जेल लाया गया था। दोनों बैरक नंबर एक में साथ रखे गए थे। बताया गया है कि रविवार की रात खाना खाने के बाद टीवी देखने के दौरान शानू और आलोक के बीच किसी बात को लेकर बहस हो गई। इस पर आलोक ने गुस्से में लेटे हुए शानू के सीने पर मुक्के से कई प्रहार कर दिए। इस पर शानू उठने की कोशिश में गश खाकर जमीन पर गिर गया और तड़पने लगा। जेल प्रशासन ने सूचना मिलने पर जेल परिसर में ही चिकित्सक से उसका प्राथमिक उपचार कराया। यहां स्वास्थ्य में सुधार न होने पर उसे पहले सुशीला तिवाड़ी मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। वहां केवल कोरोना का ही उपचार होने के कारण उसे वहां उपचार नहीं मिला। इस पर उसे बेस चिकित्सालय ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने शानू को मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें : शादी में हाईकोर्ट के आदेश पर डीजे ऑपरेटर रात्रि 10 बजे डीजे बंद करने लगा तो सीने में मार दी गोली….

नवीन समाचार, बाजपुर (ऊधमसिंह नगर), 29 फरवरी 2020। नगर के करीबी केलाखेड़ा थाना क्षेत्र के बेरिया दौलत गांव में बीती-शुक्रवार की देर रात्रि करीब 10 बजे गुरप्रीत सिंह नाम के युवक की शादी के समारोह के दौरान डीजे बंद करने को लेकर हुए विवाद में गोली चल गई। गोली डीजे ऑपरेटर युवक के सीने में लग गई, जिससे डीजे ऑपरेटर की मौत हो गई। घटना के बाद आरोपी फरार हो गए, जबकि सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार शादी समारोह के दौरान रात्रि 10 बजे जब डीजे संचालक युवक हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देकर डीजे बंद करने लगा तो नृत्य कर रहे युवकों ने इसका विरोध किया। इस पर कुछ युवकों ने तंमचे से फायरिंग शुरू कर दी। गोली लगने से डीजे ऑपरेटर अवतार सिंह (20) पुत्र सुखदेव सिंह गंभीर रूप से घायल हो गया। आनन फानन में उसे गंभीर अवस्था में बाजपुर के एक निजी अस्पताल ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। गोली चलने से शादी समारोह में भगदड़ मच गई। इस दौरान आरोपी मौका पाकर फरार हो गए। चौकी इंचार्ज प्रकाश चंद ने पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल की। पुलिस के अनुसार आरोपी गांव बेरिया दौलत गांव का ही रहने वाला है। आरोपी की तलाश में दबिश दी जा रही है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर बाजपुर सीएचसी की मोर्चरी में रख दिया है और पोस्टमार्टम कराने की तैयारी चल रही है। घटना के बाद से ही युवक के घर में कोहराम मच गया।

यह भी पढ़ें : गन्ने के खेत में अर्धनग्न मिली महिला की गला दबाकर की गई थी हत्या, पति सहित 4 हुए नामजद

नवीन समाचार, जसपुर, 14 फरवरी 2020। गत 12 फरवरी को हाईवे से 200 मीटर अंदर एलबीएस काॅलेज महुआडाबरा के निकट स्थित निर्माणाधीन पुलिया के पास खेत में अर्धनग्न अवस्था में मिली मृत महिला के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मुंह दबाकर मार डालने का खुलासा हुआ है। इसके बाद मृतका के भाई ने दहेज की खातिर उसकी बहन की हत्या करने का शक जाहिर करते हुए उसके पति हरविंदर सिंह, ससुर चरनजीत सिंह, सास राणो कौर, देवर हरजीत सिंह उर्फ बाऊ के खिलाफ तहरीर देकर धारा 302, 201 के तहत हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया है।
उधर, कोतवाल उमेद सिंह दानू ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार मृतका जसवीर कौर की मौत 12 से 36 घंटे पूर्व दम घुटने की वजह से हुई थी। उन्होंने बताया कि घटनास्थल से पुलिस को एक मोबाइल, पर्स और एक जूता मिला है। पुलिस घटना के खुलासे को लेकर कोतवाली अंतर्गत लगे सभी सीसीटीवी कैमरो की फुटेज खंगाल रही है। पुलिस ने अब तक एक दर्जन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की है। पुलिस मामले की तह तक पहुंचने के लिए हर पहलू जांच कर रही है । कोतवाल ने घटना का शीघ्र ही खुलासा करने का दावा किया है। एएसपी राजेश भट्ट ने भी कोतवाली पहुंचकर पूरे मामले की जानकारी ली तथा संदिग्धों से पूछताछ की और पुलिस को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
उल्लेखनीय है कि क्षेत्र के ग्राम मलपुरी निवासी राजेंद्र सिंह पुत्र अमर जीत सिंह ने पुलिस को दी हुई तहरीर में कहा है कि उसकी बहन जसवीर कौर उर्फ सिमरन कौर की शादी वर्ष 2005 में ग्राम शेरगढ़ बहादर नगर थाना अफजलगढ़ जिला बिजनौर (उत्तर प्रदेश) निवासी हरविंदर सिंह पुत्र चरनजीत सिंह के साथ सिख रीति रिवाज के अनुसार हुई थी। शादी के दौरान सामर्थ्य के अनुसार दान दहेज भी दिया गया था। बावजूद कम दहेज मिलने के ताने देकर ससुराल वाले उसकी बहन को आये दिन प्रताड़ित करते रहते थे, करीब तीन महीने पूर्व उसकी बहन के साथ ससुरालियों ने कई बार मारपीट की। उसकी बहन ने थाना अफजलगढ़ में 100 नंबर पर डायल कर मारपीट की शिकायत दर्ज कराकर जैसे-तैसे कर अपनी जान बचाई थी। इसके बाद उसके साथ मारपीट कर उसको जलाने का प्रयास भी किया गया था। कई बार पंचायतें कर उसके ससुराल वालों को समझाया गया। लेकिन वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आए और लगातार पैसों की मांग करते थे। इधर एक पखवाडे पूर्व उसकी बहन अपने मायके आई थी और एक सप्ताह रहकर वापस अपनी ससुराल चली गई थी।

यह भी पढ़ें : ऐसी हिमाकत : पुलिस थाने के सामने मिला उत्तराखंड के हिस्ट्रीशीटर का शव, जेल में बंद बदमाशों पर गैंगवार में हत्या करने का शक…

नवीन समाचार, देहरादून, 8 फरवरी 2020। देहरादून के नेहरू कालोनी थाना क्षेत्र के नत्थनपुर निवासी हिस्ट्रीशीटर पंकज सिंह की खतौली-मुजफ्फरनगर में गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई है। तीन गोलियां सीने और एक गर्दन के नीचे मारी गई है। पंकज का शव मुजफ्फरनगर जिले के खतौली में जानसठ बस अड्डे पर पुलिस सहायता केंद्र के बाहर खड़ी काले रंग की फॉरच्युनर गाड़ी की डिग्गी से बरामद हुआ। पंकज की पत्नी अंशु ने इस मामले में टिहरी जेल में बंद जितेंद्र रावत उर्फ जित्ती, देहरादून निवासी यतेन्द्र सिंह (मूल निवासी मेरठ), रोजी और रामबीर (मूल निवासी मुजफ्फरनगर) को नामजद कराया है। दून पुलिस गैंगवार में हत्या की आशंका जता रही है।

हिस्ट्रीशीटर पंकज सिंह
हिस्ट्रीशीटर पंकज सिंह
बताया गया है कि अपराध की दुनिया में लंबे समय तक सक्रिय रहा पंकज सिंह 2010 में एक साथी की हत्या में जेल गया था। सीओ खतौली आशीष प्रताप सिंह की मौजूदगी में पुलिस ने कार का शीशा तोड़कर शव को बाहर निकाला। कार के अंदर ड्राइवर के बराबर वाली सीट खून से सनी हुई थी। खिड़की से गोली निकलने का निशान था। कार से शराब की बोतल और तमंचा भी बरामद हुआ है। खतौली पुलिस ने कार से मिले मोबाइल नंबर से परिजनों से बात की, तब जाकर शव की पहचान हो सकी। पत्नी का आरोप है कि जेल से जितेंद्र उसके पति से रंगदारी मांग रहा था। आरोप लगाया कि रोजी नाम की महिला ने पति पंकज सिंह को शुक्रवार रात करीब 8:30 बजे फोन करके बुलाया था। खतौली पुलिस ने इस मामले में देहरादून की एसपी सिटी श्वेता चौबे से बात कर पूरे मामले पर चर्चा की है।
एसपी सिटी श्वेता चौबे का कहना है कि पंकज सिंह का अपराध से पुराना जुड़ाव रहा है। प्रापर्टी विवाद में छह मार्च 2010 को पंकज सिंह ने जेल में बंद शातिर अपराधी जितेन्द्र उर्फ जित्ती के साथ मिलकर अपने साथी मुनीर उर्फ बब्बल की हत्या की थी। पंकज सिंह नेहरू कालोनी थाने का हिस्ट्रीशीटर था, लेकिन कई बरस से वह शांत था। पंकज सिंह प्रापर्टी की खरीद-फरोख्त के साथ रिंग रोड पर गेस्ट हाउस चला रहा था। उन्होंने कहा कि प्रापर्टी विवाद या गैंगवार में कत्ल की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता। दून पुलिस हत्या के कारणों की जांच कर रही है। 

यह भी पढ़ें : पेट में ताबड़तोड़ वार कर हत्या की और खुद ही खून से सना चाकू लेकर थाने पहुंच गया…

नवीन समाचार, किच्छा, 3 फरवरी 2020। किच्छा में पुरानी रंजिश के चलते घर से बेटे के साथ दवाई लेने निकले 30 वर्षीय एक युवक की चाकू से कई वार कर हत्या कर दी गई। घटना के बाद हत्यारा वार्ड 15 निवासी सूरज राठौर पुत्र स्वर्गीय केदार राठौर खुद ही खून से सना चाकू लेकर पुलिस के पास पहुंच गया और आत्मसमर्पण कर दिया। हत्या का कारण पुरानी रंजिश बताया जा रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक मूल रूप से मुरादाबाद निवासी विकास कुमार पुत्र रूप किशोर नगर के वार्ड 15 में अपनी पत्नी व बेटे के साथ रहता था और मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करता था। बताया गया है कि तीन माह पूर्व किच्छा की विकास कॉलोनी में हुए संघर्ष में घायल सूरज राठौर के पिता स्वर्गीय केदार राठौर की मौत उपचार के दौरान हल्द्वानी में हो गयी थी। पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। मृतक हत्यारोपितों का ही पारिवारिक सदस्य था। आरोपित को यह बात नागवार गुजर रही थी। अंदर ही अंदर पनपते आक्रोश के कारण सोमवार सुबह जब विकास अपने बेटे के साथ बाजार की तरफ जा रहा था। इसी दौरान पहने से घात लगाए आरोपित ने उसे घेर कर चाकू से ताबड़ तोड़ हमला कर घायल कर दिया। जबकि वहां खड़े लोग मूकदर्शक बने रहे। बाद में एक युवक ने साहस कर सड़क पर पड़े विकास को टुकटुक से सीएचसी किच्छा पहुंचाया, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। अस्पताल में चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हत्या की सूचना पर पुलिस में हड़कंप मच गया और आनन फानन में पुलिस घटना स्थल पहुंच गयी।

यह भी पढ़ें : फॉलोअप : ब्लू व्हेल, हार्ट अटैक… नो मर्डर…हल्द्वानी में बेटी द्वारा पिता की हत्या मामले में लगातार आ रही हैं नई बातें..

हत्यारोपी बेटी व मृतक पिता।

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 19 जनवरी 2020। हल्द्वानी में 2 दिन पूर्व 17 जनवरी की करीब मध्य रात्रि विवाहिता बेटी द्वारा अपने ही पिता की हत्या किये जाने की हर किसी को झकझोरने वाली खबर में लगातार नई-नई बातें सामने आ रहे हैं। हम इनमें से किसी बात की पुष्टि नहीं कर रहे हैं, न ही अपनी कोई राय या अंदाजा जाहिर कर रहे हैं, बल्कि जैसे जैसे जो बातें सामने आ रही हैं, उन्हें अपने पाठकों के सामने रख रहे हैं। पहले मामले में बेटी के नशे की अवस्था में पिता की हत्या करने की बात सामने आई थी। फिर उसके मानसिक रूप से बीमार होने की स्थिति में हत्या किये जाने की बात कही गई। अब पुलिस के अनुसार लड़की कथित तौर पर भारत मे प्रतिबंधित एक ऑनलाइन गेम ‘ब्लू व्हेल’ के कारण पिता की हत्या किये जाने की बात कर रही है। इस ऑनलाइन गेम के आखिरी चरण में कथित तौर पर खेलने वाले को आत्महत्या या दूसरों की हत्या करने के टास्क दिये जाते हैं। वहीं, पिता की मौत के बाद पुणे से अपनी माँ को लेकर लौटे इकलौते बेटे श्याम सिंह नेगी ने पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखने का दावा करते हुए कहा है कि पिता की मौत हार्ट अटैक से हुई है। उसकी बहन ज्योति मानसिक रूप से बीमार जरूर है, पर उसने पिता की हत्या नहीं की है, जबकि पुलिस अभी पोस्टमार्टम की रिपोर्ट ही नहीं आने की बात कह रही है। मृत्यु का सही कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही पता चलेगा।
उधर हत्यारोपी बेटी ज्योति का अब भी सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में उपचार चल रहा हा। पुलिस ने पोस्टमार्टम के उपरांत शव पुत्र को सौंप दिया है, जबकि ज्योति का पति राजेंद्र अपनी तीन साल की बेटी को अपने घर छोड़कर अपनी पत्नी की देखभाल के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल आ गया है। पुलिस को मामले में किसी की ओर से कोई शिकायती तहरीर नहीं मिली है, फिर भी पुलिस मामले की जांच कर रही है। मृतक के परिजनों के साथ ही पड़ोसियों के बयान भी लिए जा रहे हैं।
मामले में यह बातें भी सामने आ रही है कि रात्रि करीब 11 बजे हत्या होने से पहले सांय पांच बजे से पिता ज्योति से दवा खाने का आग्रह कर रहे थे। बताया जा रहा है कि अपने पिता की शिकायत करने के लिए ज्योति ने कई बार पुलिस की महिला सेल में शिकायत की थी। कई बार महिला सिपाही घर पर भी आईं, पर पिता ने किसी तरह से उन्हें लौटा दिया। इधर, बनभूलपुरा उप निरीक्षक सुशील कुमार ने बताया कि सुशीला तिवारी में भर्ती करने के दौरान आरोपिता केवल ब्लू ह्वेल से आदेश मिलने की बात कर रही थी। इसके बाद किसी तरह की जानकारी से इंकार कर रही है। उप निरीक्षक ने बताया कि कुछ समय से ज्योति का डा.मनोज त्रिवेद्वी से इलाज चल रहा था। उन्होंने कहा कि आरोपिता गंभीर रूप से मानसिक रोगी है। उन्होंने यह भी बताया कि पुलिस ने मृतक के शव का पीएम और जांच का काम पूरा कर लिया है। साक्ष्य भी एकत्र कर लिए हैं।

यह भी पढ़ें : तो इसलिए हल्द्वानी में बेटी ने ही कर दी अपने सगे पिता की हत्या..?

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 18 जनवरी 2020। हल्द्वानी में बरेली रोड स्थित चौधरी कॉलोनी में शुक्रवार देर शाम बेटी ज्योति ने अपने पिता की हत्या मानसिक रोग की अवस्था में की थी। पुलिस से हत्यारोपी बेटी को सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती करा दिया है। अब पता चला है कि ज्योति अपने पति राजेंद्र कन्याल के साथ दिल्ली में रहती थी। इधर वह मानसिक रूप से बीमार हो गई। जानकारी मिलने पर 2 दिन पूर्व 15 जनवरी को उसके पिता पूर्व फौजी सूर्य सिंह नेगी बेटी व दामाद तथा उनकी 3 साल की बेटी को हल्द्वानी ले आये थे। इसके बाद ज्योति का पति राजेन्द्र 16 जनवरी को उसे नवाबी रोड स्थित मानसिक अस्पताल में दिखाकर अपने घर कोटाबाग चला गया था, जबकि घर पर सूर्य सिंह नेगी, ज्योति और उसकी 3 साल की बेटी ही थे। जबकि सूर्य सिंह नेगी की पत्नी पुणे में कार्यरत अपने फौजी बेटे के पास गई हुई थी। पड़ोसियों के अनुसार यहां आने के बाद से ही ज्योति लगातार हंगामा कर रही थी। लोग इसे देवी-देवता का प्रकोप मान रहे थे। घटना के दौरान मानसिक रोग की अवस्था में ही हंगामा कर रही ज्योति ने अपने पिता का गला दबा दिया। नेगी के शोर मचाने पर पड़ोसी किराएदार राकेश घर में पहुंचे। इस बीच किसी तरह ज्योति ने ही अंदर से दरवाजा खोल दिया। वह विकराल लग रही थी जबकि सूर्य सिंह नेगी जमीन पर अचेत पड़े थे। लोग उन्हें सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल लेकर पहुंचे जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें : Big Breaking : हल्द्वानी में घोर कलयुग : अभी-अभी नशेड़ी बेटी ने नशे में अपने सगे पिता को मार डाला

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 17 जनवरी 2020। हल्द्वानी में ऐसी घटना हुई है, जैसी कभी न देखी न सुनी होगी। यहां थाना बनभूलपुरा क्षेत्र अंतर्गत चौधरी कॉलोनी में एक 28 साल की शादीशुदा महिला ने नशे की हालत में अपने ही पिता-पूर्व सैनिक की गला घोंट कर हत्या कर दी है। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर हत्यारोपी बेटी को हिरासत में ले लिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार चौधरी कॉलोनी में रहने वाले पूर्व सैनिक सूर्य सिंह नेगी की बेटी ज्योति कन्याल नेगी शादीशुदा व नशे की आदी है। वह अपनी बेटी को लेकर कुछ दिन पहले ही अपने पिता के घर आयी थी। इधर शुक्रवार देर रात्रि उसने नशे की हालत में अपने पिता की गला दबाकर हत्या कर दी। थाना प्रभारी सुशील जोशी दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में लिया और हत्यारी बेटी को हिरासत में ले लिया। पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल अस्पताल के बाद नैनीताल जेल से हलद्वानी कोर्ट भी प्राइवेट कार से आया चर्चित हत्याकांड का शातिर हत्यारोपी और फिर बेहोश भी हो गया..

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 10 जनवरी 2020। हल्द्वानी के बहुचर्चित भूपेंद्र पांडे उर्फ भुप्पी के एक हत्यारोपित गौरव गुप्ता सीजीएम की अदालत में पेश होने से पहले ही कथित तौर पर बेहोश हो गया। बेस अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद हत्यारोपित को न्यायालय में पेश करने के बाद वापस जेल भेज दिया गया है। वहीं हत्यारोपित को नैनीताल से प्राइवेट कार से हल्द्वानी लाने पर भी कई सवाल उठे।
उल्लेखनीय है कि सरेराह दिनदहाड़े प्रोपटी डीलर भूपेंद्र पाण्डे उर्फ भूप्पी पांडे हत्याकांड में जेल में बंद सौरभ गुप्ता और गौरव गुप्ता को धोखधड़ी के एक मामले में शुक्रवार को नैनीताल से प्राइवेट कार में हल्द्वानी सीजीएम की अदालत में लाया गया। इससे पूर्व नैनीताल के अस्पताल भी उसे पुलिस प्राइवेट कार से ही लाई थी। बताया जा रहा है कि यहां न्यायालय परिसर के बाहर ही आरोपित गौरव गुप्ता की तबियत खराब हो गई और वह बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ा। आनन-फानन में आरोपित का बेस अस्पताल में प्राथमिक उपचार किया गया। करीब एक घंटे बाद आरोपित को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। पुलिस सूत्रों के अनुसार यह मामला रामपुर रोड निवासी लेखिका सौम्या दुआ से ज़ुड़ा है। सौम्या ने सौरभ और गौरव गुप्ता पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया है। आज दोनों की कोर्ट में पेशी थी। बताया जा रहा है कि कोर्ट परिसर में पहुंचते ही गौरव गुप्ता उल्टियां करने लगा। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इलाज के बाद दोनों को दोबारा कोर्ट में पेश किया गया।

Leave a Reply

loading...