यह सामग्री कॉपी नहीं हो सकती है, फिर भी चाहिए तो व्हात्सएप से 8077566792 पर संपर्क करें..
 

महाराष्ट्र में मराठी रंग में रंगे पहाड़ के लाल कोश्यारी, ली राज्यपाल पद की शपथ, देखें एक्सक्लुसिव वीडियो

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, देहरादून 5 सितंबर 2019। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता भगत सिंह कोश्यारी ने गुरुवार 5 सितंबर की शाम 6 बजे राजभवन में शपथ ग्रहण कर ली है।महाराष्ट्र पहुंचते ही कोश्यारी मराठी रंग में रंगे दिखे। शपथ लेते हुए कोश्यारी ने परिधान तो पर्वतीय ही पहने थे किंतु उनकी जुबान पर मराठी थी। उन्होंने मराठी में शपथ ली।

देखें कोश्यारी के महाराष्ट्र के राज्यपाल पद की शपथ लेने का एक्सक्लुसिव वीडियो :

कोश्यारी जी राज्यपाल पद का गौरव व गरिमा आगे बढ़ाएंगे, इस उम्मीद व आकांक्षा के साथ असीम हार्दिक बधाइयां एवं शुभकामनाएं…

देखें कोश्यारी के मुंबई पहुंचने का एक्सक्लुसिव वीडियो :

यह भी पढ़ें : कोश्यारी ने दिया भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा..

नवीन समाचार, देहरादून 2 सितंबर 2019। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता भगत सिंह कोश्यारी ने महाराष्ट्र का राज्यपाल नियुक्त होने के बाद अपनी-भारतीय जनता पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय भटट को इस संबंध में एक पत्र लिखकर कोश्यारी ने संवैधानिक जिम्मेदारी संभालने के मददेनजर उनसे इस्तीफा स्वीकार करने का आग्रह किया, जिसे स्वीकार कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें: पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी बने महाराष्ट्र के राज्यपाल !

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 सितंबर 2019। उत्तराखंड के वरिष्ठ भाजपा नेता भगत सिंह कोश्यारी को देश के बड़े प्रांत महाराष्ट्र का नया राज्यपाल बनाया जा रहा है।  उनकी नियुक्ति सी विद्यासागर राव के स्थान पर की जा रही है, जिनका पांच वर्ष का कार्यकाल 30 अगस्त 2019 को समाप्त हो गया है। बताया जा रहा है कि हल्द्वानी में अपने आवास में मौजूद कोश्यारी को इस संबंध में सूचना आ गई है। पुख्ता मानी जा रही इस सूचना से भाजपाइयों में हर्ष का माहौल व्याप्त हो गया है। लोग एक दूसरे को एवं श्री कोश्यारी को बधाइयां दे रहे हैं। कोश्यारी ने अपना मोबाइल फोन बंद कर लिया है। वे स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी के बाद उत्तराखंड से राज्यपाल बनने वाले देश के दूसरे राजनेता तथा अल्मोड़ा निवासी भैरव दत्त पांडे के बाद तीसरे व्यक्ति होंगे। आधुनिकता के दौर में भारतीय संसद के साथ देश-विदेश की यात्राओं में अपनी पहाड़ी टोपी व धोती के साथ ही बोलचाल में पहाड़ी-कुमाउनी पुट कोश्यारी की विशिष्टताओं में शामिल है।

उल्लेखनीय है कि भगत सिंह कोश्यारी का जन्म 17 जून 1942 को हुआ था। आरएसएस के अनुभवी कोश्यारी ने बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तराखंड के लिए पार्टी के पहले राज्य अध्यक्ष भी रह चुके है। उन्होंने 2001 से 2002 तक उत्तराखंड (पूर्व में उत्तरांचल) के दूसरे मुख्यमंत्री के रूप में भी कार्य किया और उसके बाद, 2002 से 2007 तक उत्तराखंड विधान सभा के विपक्ष के नेता रहे। उन्होंने उत्तर प्रदेश विधान परिषद में एमएलसी के रूप में भी कार्य किया है ( जब उत्तराखंड अविभाजित उत्तर प्रदेश का हिस्सा था) और उत्तराखंड विधानसभा में विधायक के रूप में नियुक्त हुए।बाद में उत्तराखंड से 2008 से 2014 तक राज्यसभा में एक सांसद के रूप में सेवा दी और वर्तमान में नैनीताल-उधमसिंह नगर निर्वाचन क्षेत्र से 16 वीं लोक सभा में सांसद हैं। उन्हें राज्य विधायी विधानसभा और राष्ट्रीय संसद के दोनों सदनों में निर्वाचित होने का गौरव प्राप्त हुआ। नैनीताल के मौजूदा सांसद अजय भट्ट से पूर्व उनके नाम पर नैनीताल एवं उत्तराखंड मंे सर्वाधिक वोटों से जीतने का रिकार्ड रहा। उल्लेखनीय है कोश्यारी को इस चुनाव में कुल पड़े 11,01,435 मतों में से 57.78 फीसद यानी 6,36,669 मत मिले, जबकि उनके विरोध में अन्य सभी प्रत्याशियों को मिलाकर 4,64,666 वोट ही मिले थे।

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply

Next Post

पंचायत चुनाव में बड़ा आदेश: पंचायती राज निदेशक से परिसीमन व आरक्षण पर आपत्तियां फिर दो सप्ताह में सुनने को कहा..

Thu Sep 5 , 2019
यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये      Share on Facebook Tweet it Share on Google Email https://navinsamachar.com/koshyari/#YWpheC1sb2FkZXI नवीन समाचार, नैनीताल, 5 सितंबर 2019। उत्तराखंड उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकल पीठ ने प्रदेश में आयोजित होने जा रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में सीटों के आरक्षण एवं परिसीमन […]

You May Like

Loading...

Breaking News