उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 16 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 12.6 मिलियन यानी 1.26 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

March 2, 2024

Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai : रेलवे ने पर्यटन नगरी में अपनी 317 एकड़ भूमि को भूमाफियाओं के कब्जे से मुक्त कराने को शुरू की बड़ी कार्रवाई

0

Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai

Van Bhumi par Atikraman. Van Bhumi par Bulldozer, Bulldozer, Buldojar, Van Bhumi, Atikraman, JCB, Encroachment on Forest Land, Forest Land,

नवीन समाचार, मसूरी, 5 अक्टूबर 2023 (Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai)। भारतीय रेलवे ने उत्तराखंड के मसूरी में अपनी करीब 317 एकड़ भूमि को माफियाओं के कब्जे से मुक्त कराने का बड़ा कार्य शुरू कर दिया है। बताया गया है कि मसूरी में उत्तरी रेलवे की करीब 317 एकड़ भूमि के बड़े हिस्से पर माफियाओं ने कब्जा कर सड़क पर निर्माण कर दिया था। इस पर उत्तरी रेलवे प्रशासन द्वारा कार्रवाई की गई है।

गुरुवार को उत्तरी रेलवे के मुरादाबाद मंडल के अधिकारी, रेलवे पुलिस और स्थानीय पुलिस जेसीबी के साथ मसूरी के झड़ी पानी क्षेत्र पर उत्तरी रेलवे के ओक ग्रोव स्कूल के निचले वाले हिस्से पर पहुंचे। यहां भूमाफियाओं द्वारा अनाधिकृत रूप से रेलवे की भूमि को काटकर सड़क और पुश्ते का निर्माण कराया गया था। इस पर कार्रवाई करते हुए जेसीबी के माध्यम से करीब 400 मीटर बने पुश्ते को ध्वस्त कर दिया गया (Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai)।

उत्तरी रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि भूमाफिया द्वारा उत्तरी रेलवे की 317 एकड़ की भूमि के कुछ हिस्से पर कब्जा कर लिया गया था जिस पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है। जल्द इस भूमि का सीमांकन कराकर तार बाड़ की जायेगी और जिन लोगों द्वारा भूमि पर कब्जा का निर्माण किया गया है उन पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

बताया जा रहा है कि नगर पालिका प्रशासन द्वारा भूमाफिया और वन विभाग के अधिकारियों से बड़े भ्रष्टाचार को अंजाम देकर सड़क और पुश्ते का निर्माण कराया जा रहा था। जबकि यह पूरा क्षेत्र नोटिफाई है। इस क्षेत्र में किसी भी प्रकार के निर्माण पर पाबंदी है लेकिन भूमाफियाओं द्वारा करीब आधा किलोमीटर लंबी सड़क और पुश्ते का निर्माण करा दिया गया। सवाल उठता है कि आखिरकार नोटिफाइड क्षेत्र में आधा किलोमीटर सड़क का निर्माण कैसे हो गया। वन विभाग और मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण द्वारा समय पर कार्रवाई (Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) क्यों नहीं की गई।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट के आदेश पर तुरंत रेलवे की भूमि से अतिक्रण हटाने (Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) की कार्रवाई शुरू, 4000 अतिक्रमणकारियों को हटाया जा रहा…

नवीन समाचार, लालकुआं, 18 मई 2023 (Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai)। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के अतिक्रमण हटाने के आदेश के बाद लालकुआं की नगीना कॉलोनी में रेलवे भूमि से अतिक्रमणकारियों का कब्जा हटाने की प्रक्रिया तुरत-फुरत शुरू हो गई है। प्रातः 9 बजे से प्रशासन द्वारा ब्रीफिंग की कार्रवाई के पश्चात अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई प्रातः 10.30 बजे से शुरु की। हालांकि अतिक्रमण हटाने पहुंची टीम को भारी विरोध झेलना पड़ा। यह भी पढ़ें : दो युवक कर रहे 16 वर्षीय नाबालिग किशोरी से दुष्कर्म, महिला दे रही बाहर पहरा

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai)(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) इसके बाद भी रेलवे ने भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में जिला प्रशासन के साथ मिलकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी है। इस दौरान नगीना कॉलोनी के लोगों एवं आम आदमी पार्टी, परिवर्तन कामी छात्र संगठन, महिला एकता केंद्र सहित कई संगठनों के प्रतिनिधियों ने शुरुआत में भारी विरोध प्रदर्शन किया।

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) इसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग के बाद दर्जनों प्रदर्शनकारियो को गिरफ्तार कर लिया, प्रशासन ने लगभग 300 से अधिक घरों को हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी है। अतिक्रमण के दायरे में एक मजार भी आई है। उसे जेसीबी से ध्वस्त कर दिया गया है। फिलहाल पूरे मामले में रेलवे प्रशासन कुछ भी कहने से बच रहा है। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, नैनीताल, हरिद्वार सहित कई जिलों के डीएम सहित दो दर्जन से अधिक आईएएस-पीसीएस अधिकारियों के दायित्वों में बदलाव

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई में उप जिलाधिकारी हल्द्वानी मनीष कुमार और एसपी सिटी हरबंस सिंह के नेतृत्व में पुलिस क्षेत्राधिकारी हल्द्वानी भूपेंद्र धौनी, पुलिस क्षेत्राधिकारी लालकुआं संगीता, तहसीलदार सचिन कुमार सहित भाी संख्या में जनपद के तमाम कोतवाली व पुलिस चौकी के चौकी प्रभारी व पुलिसकर्मियों के साथ पीएसी भी तैनात रही।

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही के लिए रेलवे द्वारा चार जेसीबी लगाई गई है। उप जिलाधिकारी मनीष कुमार ने बताया कि प्रशासन कानून व्यवस्था के दृष्टिगत रेलवे का सहयोग कर रहा है। यहां करीब 400 मीटर के दायरे में अतिक्रमण हटाया जाना है। यह भी पढ़ें : हनी ट्रैप: व्यक्ति को भारी पड़ा ह्वाट्सएप पर अन्जान महिला का फोन उठाना, 1.81 लाख का हुआ सैक्सटॉर्शन

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) उल्लेखनीय है कि लालकुआं रेलवे स्टेशन कुमाऊं का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। यहां से कई राज्यों के लिए ट्रेनें संचालित की जाती हैं। रेलवे प्रशासन की यहां से अमृत भारत योजना के तहत वंदे भारत रेल चलाने की योजना है। इसके लिए इस रेलवे स्टेशन का विस्तारीकरण के साथ-साथ फिटलाइन का भी निर्माण होना है। जिसके लिए रेलवे को अपनी भूमि की आवश्यकता है। यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट ने दिए रेलवे की भूमि से अवैध कब्जे हटाने के आदेश, करीब 4000 अतिक्रमणकारी हटाए जाएंगे

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) उल्लेखनीय है कि यहां नगीना कॉलोनी में पिछले कई सालों से अतिक्रमणकारी कब्जा किए हुए थे। रेलवे ने कई बार नोटिस जारी किया। इसके बाद भी अतिक्रमणकारियों ने अतिक्रमण नहीं हटाया। जिसके बाद मामला उच्च न्यायालय पहुंचा। इसे अतिक्रमणकारियों ने उच्च न्यायालय में चुनौती देते हुए कहा कि रेलवे ने 3 मई को नोटिस देकर 15 दिन के अंदर यानी आज 18 मई से अवैध कब्जा हटाने का आदेश दिया था। यह भी पढ़ें : नैनीताल में 10 माह बाद भी नहीं हुआ हाईकोर्ट के आदेश का पालन, कोर्ट ने सरकार पर लगाया 20 हजार का जुर्माना

(Railway ki Bhumi se atikraman hatane ki karrwai) 2018 में इस भूमि पर राज्य सरकार व रेलवे ने एक साथ जांच शुरू की थी। उस वक्त 84 अतिक्रमण पाए गए। जबकि अब करीब 4 हजार लोगों ने यहां टिन शेड डालकर रेलवे की भूमि पर अतिक्रमण किया हुआ है। लेकिन हाईकोर्ट के अतिक्रमण हटाने के आदेश के बाद रेलवे प्रशासन और जिला प्रशासन ने बलपूर्वक आज अतिक्रमण हटाना शुरू कर दिया है। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग