Hadsa

नैनी झील में उतराता मिला अधेड़ का शव…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
https://chat.whatsapp.com/BXdT59sVppXJRoqYQQLlAp

 

मृतक हरीश चंद्र

नवीन समाचार, नैनीताल, 3 अप्रैल 2020। नगर की विश्व प्रसिद्ध नैनी झील में शुक्रवार सुबह एक शव उतराता हुआ देखा गया। किसी ने 112 नंबर के जरिये पुलिस कंट्रोल रूम को इसकी सूचना दी। सूचना पर तल्लीताल थाना पुलिस ने शव को जल पुलिस की मदद से बरामद किया। शव की शिनाख्त गत 25 मार्च से घर से गायब हुए 47 वर्षीय हरीश चंद्र पुत्र स्वर्गीय खेम चंद्र निवासी हरिनगर 25 मार्च के रूप में हुई। तब से परिजन उसकी तलाश कर रहे थे। उसकी गुमशुदगी तल्लीताल थाने में दर्ज भी कराई गई थी। उसके भाई रमेश चंद्र ने बताया कि हरीश 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लागू होने के दिन से वह काम पर नहीं जा पाने से परेशान थे। इसी दौरान उसका उसकी पत्नी से विवाद भी हो गया था, जिसके बाद वह 25 मार्च की शाम तीन बजे बिना बताये कहीं चले गये थे। तब से उन्हें हर संभावित स्थान पर तलाशा जा रहा उनके दो छोटे बेटे भी हैं। उनकी पत्नी गत वर्ष हुए निकाय चुनाव में सभासद पद का चुनाव लड़ चुकी है। तल्लीताल थाना प्रभारी विजय मेहता ने बताया कि पति-पत्नी में अक्सर एवं उसके घर से जाने से पहले विवाद होने की जानकारी मिली है। इस कारण संभवतया उसने आत्महत्या की होगी। पुलिस ने पंचनामा भरने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। सहारा इंडिया के शाखा प्रबंधक अनिल रावत ने कहा कि हरीश कई वर्षों से सीनियर कोऑर्डिनेटर के पद पर थे व करीब 20 वर्षों से सहारा से जुड़े थे और काफी मेहनती थे।

यह भी पढ़ें : पिता की डांट से क्षुब्ध होकर फंदे पर लटका युवक !

नवीन समाचार, नैनीताल, 1 मार्च 2020। रुद्रपुर की सुभाष कॉलोनी में रविवार को एक युवक के फांसी पर लटककर आत्महत्या करने की खबर से सनसनी फैल गई। इसका पता चलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। बाद में पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया है। पुलिस भी प्रथमदृष्टया मामले को आत्महत्या ही मान रही है। बहरहाल, सभी पहलुओं पर जांच भी कर रही है। बताया जा रहा है कि मृतक ने पिता की डांट से क्षुब्ध होकर आत्महत्या की होगी। वह कुछ नहीं करता था। इसी पर बीती रात्रि उसके पिता ने उसे डांट दिया दी। बताया गया है कि वह जब चार वर्ष का था, तभी उसकी मां की मौत हो गई थी। मृतक तीन भाइयों में छोटा था।
पुलिस के अनुसार सुभाष कालोनी निवासी 22 वर्षीय कमलेश मंडल मजदूरी करता था। रविवार दोपहर वह घर में अकेला था। जबकि परिवार के अन्य सदस्य कहीं गए हुए थे। इसी बीच कमलेश ने अज्ञात कारणों के चलते पंखे के कुुंडे में फंदा बनाकर आत्महत्या कर ली। कुछ देर बाद जब परिजन घर पहुंचे तो वह नहीं मिला। कमरे में देखा तो वह लटका हुआ था। यह देख परिजनों के होश उड़ गए। शोर शराबा होने पर आसपास के लोग एकत्र हुए और पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने घटना की जानकारी ली। साथ ही शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया। कोतवाल कैलाश चंद्र भटट ने बताया कि मृतक के पास से किसी भी प्रकार का सुसाइड नोट नहीं मिला है। आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें : 10 साल के भाई ने कार्टून नहीं लगाने दिया तो फंदे पर झूल गई 8 साल की बहन

नवीन समाचार, देहरादून, 23 फरवरी 2020। बच्चों पर कार्टून का नशा ऐसे जानलेवा हो जाएगा, कोई सोच भी नहीं सकता है। देहरादून के वसंत विहार थाना क्षेत्र के जीएमएस रोड स्थित एक घर में बीती शुक्रवार यानी 21 फरवरी को एक आठ साल की, शहर के एक स्कूल में कक्षा तीन की छात्रा फंदे से लटकी हुई मिली थी। अब पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर दावा किया है बच्ची ने टीवी पर मनपसंद कार्टून न लगाने पर दस साल के भाई से नाराज होकर खुदकुशी की थी।

पुलिस की ओर से बताया गया है कि बालिका गुस्सा होकर अपने कमरे में चली गई थी और उसने खुद को कमरे में बंद करने के बाद बेड पर स्टूल लगाकर पंखे से चुन्नी का फंदा बनाकर फांसी लगा ली थी। परिजन बालिका को फंदे से नीचे उतारकर अस्पताल ले गए थे, लेकिन उसे मृत घोषित कर दिया गया। पहले बच्ची की उम्र के दृष्टिगत पुलिस फांसी की बात पर यकीन नहीं कर रही थी। इस पर एफएसएल की टीम को मौके पर जाकर बारीकी से निरीक्षण किया। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने से पहले कुछ भी कहने से बचती रही। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद पुलिस ने फांसी की पुष्टि की।

यह भी पढ़ें : प्रेम प्रसंग में असफल होने पर युवक ने खुद को गोली से उड़ाया…

नवीन समाचार, सितारगंज, 22 फरवरी 2020। शहर के बिज़्टी रोड स्थित सिद्धि विनायक कॉलोनी में एक 23 वर्षीय युवक गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी पुत्र स्वर्गीय कुलवंत सिंह ने शनिवार शाम घर के अंदर कुर्सी पर बैठे-बैठे अपनी कनपटी पर रिवाल्वर सटाकर खुद को गोली से उड़ा लिया। गोली की आवाज सुनकर उसकी मां अंदर आई लेकिन तब तक गुरप्रीत की मौत हो चुकी थी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव का पंचनामा कराकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि मृतक प्रेम प्रसंग में असफल होने ने गहरे तनाव में था। मृतक के पिता नहीं हैं, तथा एकमात्र बहन की शादी शादी हो चुकी है।

यह भी पढ़ें : 9वीं कक्षा के छात्र ने पिता की लाइसेंसी पिस्तौल से मारी गोली…

नवीन समाचार, देहरादून, 11 फरवरी 2020। घर में हथियारों की मौजूदगी आत्मघाती हो सकती है। राजधानी में एक 14 वर्षीय कक्षा 9 के छात्र ने कथित तौर पर अपने पिता की लाइसेंसी पिस्तौल से अपने सिर में गोली मार ली। घटना रविवार शाम को हुई थी लेकिन मामला अब सामने आया जब पुलिस को एक स्थानीय अस्पताल से सूचना मिली कि वहां एक छात्र के माता-पिता उसे उपचार के लिये लेकर आए थे। बताया गया है कि लड़का अपने परिवार के साथ शहर के वसंत विहार इलाके में रहता है, जबकि उसके पिता शहर के ही एक शैक्षणिक संस्थान में काम करते हैं। रविवार शाम करीब 7 बजे जब पिता ऑफिस से लौटे तो अपने बेटे को फर्श पर खून के साथ लथपथ देखा। इस पर वे उसे तत्काल पास के अस्पताल में ले आये। जब चिकित्सकों ने उसका उपचार शुरू किया तो पता चला कि उसे एक गोली लगी है। इसके बाद अस्पताल प्रशासन ने पास के कैंट थाना पुलिस को सूचित किया। वहां से वसंत विहार पुलिस स्टेशन ने संबंधित को सूचित किया। देहरादून शहर की पुलिस अधीक्षक श्वेता चौबे के अनुसार शुरुआती जांच में लड़के के मानसिक बीमारी से पीड़ित होने का पता चला है। उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है और जांच भी जारी है।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग : साथ जीने के लिए साथ मर गए दोनों, 100 फिट ऊंचे पुल से कूद गए साथ-साथ…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 13 जनवरी 2020। कहते हैं किसी के लिये मरने की बातें सिर्फ फिल्मों में ही होती हैं। कोई बिरला ही किसी के साथ मरता है तो दिल में यही होता है कि काश उसी के साथ जिए। ऐसा किसी कीमत पर संभव न हो, तभी कोई किसी के साथ मर सकता है। पर सोमवार शाम दो युगल घंटों अंतिम समय साथ गुजारने के बाद आखिर साथ-साथ हलद्वानी में 100 फिट से अधिक ऊंचे गौला पुल से नीचे पथरीली गौला नदी में कूद गए।
बताया जा रहा है सोमवार शाम करीब छह बजे प्रेमी युगल ने गौला पुल से कूदकर खुदकशी कर ली। लोगों ने इससे घंटों पहले से दोनों को पुल पर आपस में बातें करते देखने का दावा भी किया है। पुलिस ने शव को पोस्‍टमार्टम के लिए मोर्चरी भिजवा दिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। पता चला है कि मृतक युवक की शिनाख्त 22 वर्षीय आसिफ निवासी लखीमपुर खीरी यूपी व नाबालिग किशोरी पीलीभीत यूपी की निवासी के रूप में हुई है। दोनों के परिवार शहर के जवाहर नगर इलाके में रहते हैं। दोनों के बीच लंबे समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था। परिजनों की डांट के बाद उनके द्वारा ऐसा कदम उठाए जाने की बात प्रारंभिक तौर पर सामने आ रही है। जानकारी के अनुसार दोनों के बीच संबंधों को लेकर उनके परिजनों को आपत्ति थी। युवक आसिफ का पिता नहीं है और वह मकानों में पुताई का काम करता है। जबकि लड़की का पिता राकेश भी मेहनत मजदूरी करता है। प्राथमिक जांच में सामने आया कि दोनों के संबंधों को लेकर उन्हें घर पर डांट पड़ी थी। माना जा रहा है कि इस ही वजह से दोनों ने पुल से छलांग लगा कर जान दे दी। आसिफ सात भाईयों में सबसे छोटा था। उसके तीन भाई व मां यहां रहते हैं जबकि बाकी भाई लखीमपुर में ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें : फंदे पर लटके मिले मंदिर के युवा पुजारी, शरीर का पिछला हिस्सा भी जला हुआ मिला

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 12 जनवरी 2020। शहर के मल्ला गोरखपुर स्थित निवारण नगर में त्रिपुरेश्वरी शक्ति पीठ के युवा पुजारी पंडित भास्करानंद जोशी (35) रविवार सुबह मंदिर परिसर स्थित अपने कक्ष में फंदे से लटके हुए मिले। उनके शरीर का पिछला हिस्सा भी जला हुआ मिला। बताया गया है कि वे काफी समय से अवसादग्रस्त थे। पुलिस को आशंका है कि उन्होंने स्वयं को रसोई गैस के सिलेंडर का पाइप निकाल कर आग लगाने का प्रयास किया होगा, जिससे उनके शरीर का पिछला हिस्सा जल गया होगा। जिसके बाद उन्होंने धोती को फंदा बना कर कमरे के कुंडे से लटक कर अपनी इहलीला समाप्त कर ली होगी। बताया जा रहा है कि युवा पुजारी पिछले काफी समय से तनाव में थे, उनका इलाज भी चल रहा था।
प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार सुबह छह बजे जब पंडित भास्करानंद जोशी पूजा के लिए अपने कमरे से नहीं निकले तो मंदिर में पहुंचे लोगों ने उनके कमरे में झांक कर देखा तो उनका शव कमरे की छत पर लगे पंखे के कुंडे से लटका दिखाई पड़ा, इस पर पुलिस को मामले की सूचना दी गई। कोतवाली के एसएसआई कश्मीर सिंह व भोटिया पड़ाव चौकी पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शव को फंदे से उतारा। शव का पिछला हिस्सा जला हुआ मिला। रसोई में जाकर देखने से पता चला कि सिलेंडर का पाइप निकाल गया है। इस आधार पर अनुमान लगाया जा रहा है कि सिलेंडर में आग लगा कर उस पर बैठने का प्रयास किया गया होगा। इससे उनका पिछला हिस्सा जल गया होगा। मृतक बागेश्वर जिले के रीमा गांव के रहने वाले थे। उनका परिवार रीमा में ही रहता था। वे मंदिर परिसर स्थित कमरे में अकेले ही रहते थे। उनका पिछले साल ही बेटा हुआ है।

यह भी पढ़ें : रात्रि में झील में मिला विवाहिता का शव, परिस्थितियां संदिग्ध

नवीन समाचार, नैनीताल, 4 जनवरी 2019। मुख्यालय के निकटवर्ती अपेक्षाकृत कम गहरी सड़ियाताल-सरिताताल झील में शनिवार सुबह तड़के तीन बजे एक विवाहिता 35 वर्षीया महिला मीता देवी पत्नी संजय निवासी चारखेत का शव बरामद किया गया है। मृतका के परिजनों के अनुसार वह रात्रि 10 बजे के करीब गायब हो गई थी। रात्रि में परिजन उसे ढूंढते रहे। उनका कहना है कि रात्रि तीन बजे झील में उन्हें महिला के मोबाइल का टॉर्च जलता हुआ दिखा, जिस पर झील में उसकी तलाश की गई तो झील में उसका शव मिल गया। महिला की शादी को करीब साढ़े छह वर्ष हुए हैं, परंतु उसके कोई संतान नहीं थी। मृतका का पति मुख्यालय में पीआरडी कर्मी के तौर पर कायरत है। राजस्व क्षेत्र होने के कारण क्षेत्रीय तहसीलदार ने पंचायतनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने की औपचारिकताएं पूरी कीं। सीओ विजय थापा सहित मल्लीताल पुलिस के अधिकारियों-कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे थे।

यह भी पढ़ें : चंडीगढ़ में उत्तराखंड के 22 वर्षीय युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत..

खुदकुशी करने वाला युवकनवीन समाचार, चंडीगढ़, 2 जनवरी 2020। चंडीगढ़ के सेक्टर-24 स्थित वासंती माता मंदिर में एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। बीती 30 दिसंबर की सुबह युवक का शव सेक्टर-24 स्थित वासंती माता मंदिर में सेवादारों को रहने के लिए कमरे में पंखे से लटकता हुआ मिला। मृतक की पहचान नयागांव निवासी दुर्गेश जोशी (22) के रूप में हुई। वह उत्तराखंड का मूल निवासी था और चार महीने से मंदिर में सेवादार के रूप में काम कर रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दुर्गेश को पंखे से उतारकर जीएमएसएच-16 पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस को शुरुआती जांच में घटनास्थल से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है। सेक्टर-11 थाना पुलिस ने शिकायत के आधार पर सीआरपीसी 174 के तहत मामले की छानबीन में जुट गई है। पोस्टमार्टम होने के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया है।

दुर्गेश के पिता चिंतामणि जोशी ने सेक्टर-9 स्थित एसएसपी विंडो में शिकायत देकर मंदिर के प्रधान अशोक शर्मा के खिलाफ दुर्गेश को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। कहा है कि बीते रविवार को दुर्गेश ने अपने छोटे भाई को फोन कर कहा कि मंदिर में तुम सोने लिए आ जाओ। दुर्गेश ने कहा था कि उसने जब मंदिर प्रबंधन से इस बारे में पूछा तो उन्होंने मना कर दिया। जबकि अगली सुबह करीब 7 बजे उन्हें सूचना मिली कि उनके बेटे की मौत हो गई है।
दुर्गेश के छह भाई-बहन हैं। उसके बड़े भाई श्याम ने बताया कि दुर्गेश से उनकी बीती रात फोन पर बात हुई थी तब वह बिल्कुल खुश था। दुर्गेश इससे पहले सुखना लेक पर आइसक्रीम का बिजनेस करता था। करीब 4 महीने पहले वह मंदिर में सेवादार का काम करने लगा था। मंदिर में उसके साथ चार दोस्त भी रहते थे, जो बीते रविवार को अपने गांव चले गए। श्याम का आरोप है कि मंदिर के कमेटी के लोग उसे तंग करते थे, इसी वजह से उसने आत्महत्या की होगी। उन्होंने दुर्गेश की हत्या की आशंका भी जताते हुए न्याय दिलाने की गुहार लगाई है।
उधर, पुलिस ने बताया कि दुर्गेश रोजाना की तरह रविवार रात करीब 9 बजे मंदिर परिसर को बंद कर अपने कमरे में सोने चला गया। मंदिर के पुजारी ने सोमवार सुबह 6 बजे जब सेवादार दुर्गेश का दरवाजा खटखटाया तो अंदर से कोई आवाज नहीं आई। इसके बाद उन्होंने देखा कि दुर्गेश पंखे से लटका हुआ है। शोरशराबे पर मंदिर परिसर में रहने वाले अन्य सेवादार इकट्ठे हो गए। इसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस जांच में सामने आया है कि दुर्गेश पिछले काफी समय से उदास रहता था। पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद मामला साफ हो जाएगा।

यह भी पढ़ें : अब पिता बच्चों को टोकें भी नहीं ? फोन पर अधिक फोन करने से टोका तो बेटे ने कर ली खुदकुशी

नवीन समाचार, देहरादून, 31 दिसंबर 2019। माता-पिता क्या बच्चों को टोकें भी नहीं ? यह सवाल इसलिए उठ रहा है कि महानगर में एक बेटे द्वारा पिता द्वारा फोन पर अधिक लगे रहने पर टोकने पर खुदकुशी करने का मामला प्रकाश में आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार अपराह्न को प्रेमनगर-मसूरी बार्डर पर मंझोड़ के जंगल में एक युवक का शव पेड़ से लटकता मिला। स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। युवक की शिनाख्त 24 वर्षीय आकाश पुत्र मनोज कुमार निवासी झौलचौकी के रूप में हुई। मृतक के पिता ने पुलिस में पहले ही तहरीर देकर बताया कि उनका बेटा आकाश शनिवार दोपहर को घर से निकला था, लेकिन अभी तक वापस नहीं लौटा है। मनोज ने बेटे की फोटो भी पुलिस को दी और उसके मोबाइल का नंबर भी बताया। मृतक के चेहरे का मिलान आकाश की फोटो से कराया गया तो उसकी पहचान हो गई। बताया गया है कि आकाश हर समय फोन पर लगा रहता था। इस पर ही उसे उसके परिजनों ने टोका था। जिसके बाद वह गायब हो गया था।

यह भी पढ़ें : प्रेमी ने अश्लील फोटो वायरल कर दी, बीएससी की छात्रा ने लगा ली फांसी..

नवीन समाचार, टनकपुर (चम्पावत), 29 दिसंबर 2019। शनिवार को बीएससी की एक छात्रा ने अपनी ननिहाल में पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली थी। अब मामले में यह तथ्य प्रकाश में आया है कि उसके प्रेमी ने उसे अश्लील फोटो सोशल मीडिया पर वायरल कर दी थी। इससे ही तनाव में आकर उसने शनिवार सुबह आत्महत्या कर ली थी। पिता ने तहरीर देकर कथित प्रेमी और उसके दोस्तों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को जीआइसी के पुराने खंडहर के पास दुपट्टे से पेड़ में लटकता किशोरी का शव दिखा था। इस पर विद्यालय के प्रवक्ता एसके मिश्र ने कोतवाली पुलिस को घटना की जानकारी दी। टनकपुर कोतवाल धीरेंद्र कुमार टीम के साथ मौके पर पहुंचे और शव पेड़ से नीचे उतरवाया। लोगों से पूछताछ में पता चला कि वह वर्तमान में चम्पावत महाविद्यालय से बीएससी तृतीय सेमेस्टर की पढ़ाई कर रही थी। उसके पिता ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट शनिवार सुबह ही टनकपुर कोतवाली में दी थी। बताया था कि सुबह करीब सात बजे ही बेटी घर से नहाने की बात कहकर गई थी, और तब से लापता हो गई थी। काफी खोजबीन की गई, लेकिन पता नहीं चला। इस बीच पुलिस ने उसकी आत्महत्या की सूचना दी। इधर पिता ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि टनकपुर व चम्पावत के दो लड़के उनकी पुत्री को परेशान कर रहे थे। इस कारण वह तनाव में रह रही थी। पिता ने दोनों युवकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। बताया गया है कि मृतका का चम्पावत के एक युवक के साथ एक साल पूर्व से प्रेम प्रसंग चल रहा था। इस दौरान प्रेमी ने उसकी अश्लील फोटो खींच ली और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। तभी से वह तनाव में थी। मामले को लेकर चम्पावत कोतवाली में अक्टूबर 2018 में समझौता भी हुआ था।

यह भी पढ़ें : जेल में पेड़ पर लटक गया बंदी…

नवीन समाचार, हरिद्वार, 27 दिसंबर 2019। हरिद्वार जिला जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी सुशील गुर्जर (50) पुत्र महेंद्र निवासी हरिद्वार ने जेल परिसर में पेड़ पर रस्सी के फंदे के सहारे लटककर फांसी लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। गनीमत रही कि एक कैदी की नजर जल्दी ही उस पर पड़ गई, इस पर तत्काल सक्रिय हुए बंदीरक्षकों ने उसे बचा लिया। कैदी को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। बताया जा रहा है कि दूसरे कैदियों के उत्पीड़न से परेशान होकर कैदी ने आत्महत्या की कोशिश की थी। जिला अस्पताल में भर्ती कैदी की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। कैदी ने अस्पताल में मीडिया कर्मियों को बताया कि उसको जेल में बंद कैदी परेशान करते हैं, जिसके चलते वह आत्महत्या करना चाह रहा था। जेल अधीक्षक अशोक कुमार से जब इस बाबत पूछा गया तो उनका कहना था कि कैदी अक्सर इस तरह की हरकत करता रहता है।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग : अल्मोड़ा निवासी युवक ने रुद्रपुर में लाइसेंसी बंदूक से खुद को मार ली गोली..

नवीन समाचार, रुद्रपुर , 17 दिसंबर 2019। रुद्रपुर के भगवानपुर में पिछले चार-पांच माह से किराए में रह रहे मूलरूप से अल्मोड़ा के धौलछीना निवासी 29 वर्षीय प्रभात जागेश्वरी पुत्र दीवान लाल नाम के युवक ने लाइसेंसी बंदूक से आत्महत्या कर ली। इससे मृतक के परिजनों में कोहराम मच गया। सूचना पर पहुुंची पुलिस ने घटना की जानकारी ली, साथ ही शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस के मुताबिक आत्महत्या का कारण मानसिक तनाव बताया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि एमकॉम करने के बाद नौकरी न मिलने से परेशान शादीशुदा युवक ने डिप्रेशन के चलते खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। उसके पिता सीआईएसएफ से एएसआई पद से सेवानिवृत्त हैं। घटना की सूचना पुलिस को दी गई है। वह मूल रूप से अल्मोड़ा के धौलछीना कसाड़ बैंड के निवासी हैं। मंगलवार सुबह 10 बजे के आसपास प्रभात अपने कमरे में गया, और उसने लाइसेंसी बंदूक से गोली चलाकर आत्महत्या कर ली। गोली की आवाज सुनकर आसपास रहने वालों में हड़कंप मच गया। परिजन कमरे में पहुंचे तो प्रभात खून से लथपथ पड़ा हुआ था। इस पर परिजन उसे अस्पताल ले गए लेकिन डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर काेतवाल कैलाश चंद्र भटट पुलिस कर्मियों के साथ पहुंचे और जानकारी ली। साथ ही शव पोस्टमार्टम को भेज दिया। पूछताछ में परिजनों ने बताया कि वह काफी समय से तनाव में चल रहा था। परिजनों से जानकारी मिली है कि प्रभात काफी समय से डिप्रेशन में चल रहा था। वह नौकरी न लगने के कारण भी परेशान था। उन्होंने बताया कि शादी के बाद से ही प्रभात की दुश्वारियां और ज्यादा बढ़ गई थी। ढाई वर्ष पहले ही शादी हुई थी,उसके एक डेढ़ वर्ष की बच्ची है। मृतक एम कॉम था। वह अक्सर कहता था कि पढ़ लिख कर कोई फायदा नहीं था। नौकरी के लिये धक्के खा रहा है। भगवानपुर में उसका मकान का काम भी चल रहा है।

यह भी पढ़ें : गणित का ट्यूशन न पढ़ने को लेकर फंदे पर लटक गई 11वीं कक्षा की छात्रा

नवीन समाचार, काशीपुर, 9 दिसंबर 2019। शहर के करीबी ग्राम खड़कपुर देवीपुरा निवासी कक्षा 11वीं की एक छात्रा अपने घर में फंदे पर लटकी हुई मिली। प्रथमदृष्टया पुलिस मामले में छात्रा द्वारा स्वयं फांसी लगाकर आत्महत्या करने की बात मान रही है। एएसपी डा. जगदीश चन्द्र ने मृतका के परिजनों के हवाले से बताया कि उसके परिजन उससे गणित का ट्यूशन पढ़ने को कह रहे थे, जबकि वह घर पर स्वयं ही गणित पढ़ लेने की बात कह रही थी। इसी बात पर परिवार में बीते कुछ दिनों से विवाद चल रहा था। पुलिस मान रही है कि इतने छोटे से कारण से ही उसने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली हो। हालांकि यह बात अविश्वसनीय सी लग रही है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार सुबह लगभग साढ़े आठ बजे प्रीति नाम की छात्राघर के कमरे में कुंडे पर फंदे में लटकी हुई मिली। घटना के वक्त घर में कोई मौजूद नहीं था। वह अलीगंज रोड स्थित सरोजनी देवी तारावती सरस्वती विद्या मंदिर में 11वीं की छात्रा थी। मृतका चार बहनों में से सबसे छोटी थी।

यह भी पढ़ें : अधिकारी की असामयिक मौत पर दुःखी पत्नी ने गटक लिया ज़हर..

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 8 दिसंबर 2019। सहकारिता विभाग में तैनात अधिकारी की हृदयाघात से निधन के बाद वियोग में उनकी पत्नी ने जहर गटक लिया। उन्हें महिला बेस चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। चिकित्सकों के अनुसार महिला की हालत खतरे से बाहर है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मदन मोहन मैठानी पुत्र पुरुषोत्तम मैठानी नगर में डेढ़ वर्ष पूर्व सहकारिता विभाग में बतौर अपर जिला सहकारी अधिकारी के पद पर तैनात थे। वह कोसी रोड स्थित नगर के मोहल्ला पांडेखोला में किराये के मकान में रहते थे। सुबह मैठानी को सीने में दर्द व बेचैनी की शिकायत हुई। आस-पड़ोस के लोगों की मदद से मकान मालिक प्रेम सिंह बिष्ट उन्हें अपनी कार से तत्काल बेस चिकित्सालय ले गए। साथ में मैठानी की पत्नी मधु भी थीं। अस्पताल में चिकित्सकों ने मैठानी को मृत घोषित कर दिया। पति की असमय मौत से दुखी पत्नी मधु बेसुध-सी हो गईं। आस-पास के लोगों की राय पर उसे घर ले जाया गया, जहां कुछ ही देर बाद पति के वियोग में मधु ने जहर गटक लिया। इसका पता लगते ही लोग उसे बचाने दौड़े। उसे इलाज के लिए मकान मालिक की ही कार से बेस चिकित्सालय में भर्ती कराया। अब महिला की हालत में सुधार बताया गया है। अस्पताल में भर्ती मधु के पिता व अन्य नाते रिश्तेदार व सहकारिता विभाग के स्टाफ का जमावड़ा लग गया।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी में शराबी ने पहले पत्नी व दादी पर किया हमला, फिर अपना गला ही रेत डाला, हुई मौत

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 3 दिसंबर 2019। शराब की लत एक युवक पर ऐसी भारी पड़ी कि पत्नी मायके चली गई। पत्नी को ससुराल लेने गया तो पत्नी ने आने से इंकार कर दिया। इस पर शराब के नशे में बदहवास युवक ने पहली अपनी पत्नी व फिर उसकी 80 वर्षीय दादी पर चाकू से हमला किया। उन्हें लोगों ने किसी तरह बचा लिया तो खुद का ही दुश्मन बन बैठा और शराब के नशे में अपना ही गला रेत डाला। फलस्वरूप उसकी मौत हो गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से दन्या अल्मोड़ा निवासी व यहां दमुवाढूंगा में रहने तथा वहीं दमुवाढूंगा चौराहे पर चाउमिन का ठेला लगाने वाला 36 वर्षीय प्रेम सिंह गैड़ा पुत्र भूप सिंह गैड़ा शराब का लती है। उसके हमेशा शराब के नशे में रहने के कारण उसके परिवार में भी कलह होती रहती थी। इस कारण ही उसकी पत्नी कमला अपनी 8 वर्षीय पुत्री के साथ करीब एक माह से घर से कुछ ही दूरी पर स्थित अपने मायके में रह रही थी। बताया जा रहा है कि मंगलवार की प्रात: प्रेम सिंह शराब के नशे में धुत होकर अपनी ससुराल पहुंचा और अपनी पत्नी पर वापस घर चलने का दबाव बनाने लगा। पत्नी ने जब उसके शराब के नशे में होने के कारण साथ न चलने की बात कही तो वह तैश में आ गया और हाथापाई पर उतारू हो गया। वह काफी दूर तक कमला के बाल पकड़ कर घसीटता हुआ भी ले गया और इंकार करने पर उसने अचानक चाकू निकाल लिया और कमला पर हमला करने लगा। इस पर आस-पास के लोगों ने कमला को उसके हमले से बचा लिया। इसके बाद प्रेम तैश में आकर अपनी पत्नी की 80 वर्षीय दादी कुंती देवी पर चाकू से हमला करने दौड़ पड़ा। किसी तरह लोगों ने उसके हाथ से चाकू छीनकर कुंती देवी को बचाया। इसी बीच उसने अपनी जेब से एक अन्य चाकू निकाला और खुद का गला रेत लिया। जिससे वह लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़ा। इस घटना से वहां मौजूद लोगों में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में लोग उसे उपचार के लिए डा. सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय ले गए, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।घटना की सूचना मिलने पर पहुंची काठगोदाम थाना पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और जानकारी शव का पंचनामा भर कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इधर, सब्जी का ठेला लगाने वाले कमला के पिता बहादुर सिंह का कहना है कि करीब 15 दिन पूर्व प्रेम सिंह ने काठगोदाम थाने पहुंचकर पत्नी कमला पर बदचलनी का आरोप लगाते हुए कहा था कि कमला बदचलनी के चलते उसके घर में नहीं रुकती है और मायके में रहती है। बाद में उसी दिन जब कमला अपने घर चली गई तो प्रेम सिंह ने उसके साथ मारपीट की और रात में वह ससुराल पहुंच गया और कहा कि उनकी पुत्री घर से गायब हो गई है। जब वह वहां गये तो देखा कि कमला सो रही थी। इधर काठगोदाम थानाध्यक्ष नंदन सिंह रावत का कहना है कि पूरे मामले की गहनता से छानबीन की जा रही है। किसी ओर से कोई तहरीर आने पर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग अभी-अभी : नैनी झील से शव हुआ बरामद

-सप्ताह भर पूर्व गायब हुए बुजुर्ग का निकला शव

मृतक

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 नवंबर 2019। नैनीताल में बुधवार के दिन की शुरुआत एक बुरी खबर से हो रही है। सुबह माल रोड एचडीएफसी बैंक के पास नैनी झील में एक शव तैरता हुआ देखा गया। स्थानीय नाविक एवं पुलिस कर्मी उसे बोट हाउस क्लब के पास ले गए। मृतक की पहचान चार्टन लॉज निवासी किशन सिंह (50) पुत्र रघुवीर सिंह के रूप में हुई बताई जा रही है।

उत्तराखंड की अन्य ताज़ा खबरें :
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बुजुर्ग मृतक पिछले बुधवार 20 नवंबर की रात्रि करीब 8:30 बजे घर से लापता हो गए थे। परिजनों के काफी खोजबीन के बाद भी किशन सिंह का कोई पता नही लगा। जिसके बाद उनकी गुमशुदगी की रिर्पोट मल्लीताल पुलिस दी गई। पुलिस तभी से उनकी तलाश कर रही थी। बताया गया है कि वे भुट्टे आदि बेचकर गुजारा करते थे। सीओ विजय थापा, एसएसआई भुवन चंद्र मासीवाल, एसआई दीपक बिष्ट, आरक्षी मनोज जोशी आदि शव को पंचायतनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिये भेजने की कार्रवाई कर रहे हैं, ताकि मृत्यु के सही कारणों का पता चल सके।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के पुलिसकर्मी ने काशीपुर में खुद को गोली मारकर उड़ाया

नवीन समाचार, काशीपुर, 25 नवंबर 2019। नगर स्थित बंद पड़ी काशीपुर चीनी मिल सोमवार सुबह गोली की आवाज से दहल उठी। पता चला की उत्तराखंड पुलिस के एक जवान ने अपनी ‘थ्री नॉट थ्री राइफल’ बंदूक से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। मृतक पुलिसकर्मी बंद पड़ी DCM चीनी मिल की सुरक्षा में तैनात गारद के वर्ष 2001 में भर्ती कांस्टेबल नरेंद्र कुमार (35) पुत्र कुंदन राम मूल निवासी ग्राम कुशियाचौन भिकियासैंण थाना सल्ट जिला अल्मोड़ा का रहने वाला था, व सात भाई-बहनों में 5वें नंबर का था। वह नैनीताल जनपद के बेतालघाट का निवासी बताया गया है। सूचना मिलने पर काशीपुर के कोतवाल, सीओ एवं जनपद के एसएसपी मौके पर पहुंचे और पूरी घटना का जायजा लिया। मृतक के साथियों के अनुसार वह कुछ दिनों से मानसिक अवसाद में था।खाना भी नहीं खा रहा था और केवल शराब पी रहा था। कुछ पुलिसकर्मियों ने उसे हटाने अथवा स्वयं को ड्यूटी से हटाने का उच्चाधिकारियों से अनुरोध भी किया था। मृतक की सास घटनास्थल पर पहुंच गई है जबकि दिल्ली में रहने वाले उसके भाई का इंतजार किया जा रहा है। हम आगे भी इस खबर पर नजर रखे हुए हैं। अपडेट के लिए खबर को रिफ्रेश करते रहें।

यह भी पढ़ें : उफ, बेटियां क्यों पड़ीं कमजोर ? हल्द्वानी में कुछ ही घंटों में दो ने दे दी जान

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 24 नवंबर 2019। क्या बेटियां कमजोर पड़ रही हैं ? रविवार को शहर में कुछ ही घंटों में दो बेटियों के मामूली बात पर जान दे देने की घटनाएं प्रकाश में आने के बाद यह सवाल हल्द्वानी में सबकी जुबान पर रहा। बताया गया कि घर में काम करने को लेकर एक मां ने अपनी बेटी को हल्का सा डांटा तो बेटी को इतना बुरा लग गया कि उसने जहर गटक लिया। हालत बिगड़ने पर परिजन उसे एसटीएच ले गये, जहां उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई।

पुलिस के अनुसार शहर के इंदिरानगर निवासी- वनभूलपुरा में कक्षा 8वीं की छात्रा खुशनुमा (19) घर में मां के साथ काम में हाथ नहीं बंटाती थी। इसे लेकर शनिवार रात उसकी मां ने उसे डांट दिया। इससे गुस्साई खुशनुमा ने दुःखद तरीके से जहर खा लिया। वहीं बिठौरियां की गीता (29) ने भी कुछ ही घंटों के अंतराल में अज्ञात कारणों के चलते जहर खा लिया। हालत बिगड़ने पर परिजन उसे एसटीएच ले गये। जहां उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है युवती डिप्ररेशन में रहती थी। मेडिकल चौकी पुलिस ने दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिये हैं।

यह भी पढ़ें : नाबालिग बच्ची ने लिखा-यह दुनिया अच्छी नहीं लगती और चलती ट्रेन के आगे कूद गई…

नवीन समाचार, पंतनगर, 19 नवंबर 2019। मंगलवार अपराह्न निकटवर्ती नगला बाइपास के पास एक किशोरी काठगोदाम-लखनऊ एक्सप्रेस ट्रेन के आगे कूद गई। इससे उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। किशोरी की पहचान 16 वर्षीया आरती पुत्री जीसुख निवासी ग्राम गिरधरपुर बिल्सा, शीशगढ़ जनपद बरेली उत्तर प्रदेश के रूप में हुई है। युवती के पास से उसके आधार कार्ड के साथ सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। जिसमें उसने अपने पिता के मोबाइल नंबर के साथ लिखा है। उसे दुनिया अच्छी नहीं लगती है। इसलिए वह जान दे रही है। उसकी मौत के लिए किसी को दोषी न ठहराया जाए।

यह भी पढ़ें : आखिर हो गई भूमियाधार में मिले सड़े-गले शव की शिनाख्त…हावड़ा कोलकाता का निकला शव

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 नवंबर 2019। बुधवार को निकटवर्ती भूमियाधार में वन विभाग की नर्सरी के पास पेड़ पर लटके हुए सड़ी गली अवस्था में मिले शव की शिनाख्त हो गई है। शव की जेब से मिले एक नंबर के आधार पर पुलिस की पड़ताल में सामने आया कि हावड़ा कोलकाता पश्चिम बंगाल निवासी 25 वर्षीय युवक रोनित कुमार सिंह पुत्र देवेंद्र सिंह पुणे महाराष्ट्र से गायब हुआ है। उसकी गुमशुदगी पुणे में दर्ज है। इस पर पुलिस ने रोनित के परिजनों तक किसी तरह से संपर्क किया। उसके परिजन मुख्यालय पहुंच गए हैं। अब शुक्रवार को पुलिस शव का पोस्टमार्टम कराएगी, जिसके बाद उसकी मृत्यु की तिथि एवं कारणों पर स्थिति साफ हो सकती है।
उल्लेखनीय है कि बुधवार देर शाम मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर भूमियाधार स्थित वन विभाग की नर्सरी के पास, हल्द्वानी-भवाली रोड से करीब 15-20 मीटर नीचे पेड़ पर लटका एक पूरी तरह से सड़ा-गला शव बरामद हुआ था। इस आधार पर माना जा रहा है कि शव 10 दिन से अधिक पुराना हो सकता है, और पुलिस के अनुसार मृत्यु का कारण प्रथम दृष्टया आत्महत्या करना प्रतीत हो रहा है। तल्लीताल थाना पुलिस ने शव को पेड़ से उतार कर उसकी शिनाख्त के प्रयास शुरू किये थे, जिस पर अब सफलता मिलती दिख रही है। मृत्यु के पीछे के कारणों के बारे में पूरी पुष्टि होने पर ही सही पता लगने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें : ब्रेकिंग अभी-अभी : भूमियाधार में मिला युवक का सड़ा-गला शव

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 नवंबर 2019। मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर भूमियाधार स्थित वन विभाग की नर्सरी के पास पेड़ पर लटका एक शव बरामद हुआ है। शव पूरी तरह से सड़-गल गया है। इस आधार पर माना जा रहा है कि शव 10 दिन से अधिक पुराना हो सकता है, और पुलिस के अनुसार मृत्यु का कारण प्रथम दृष्टया आत्महत्या करना प्रतीत हो रहा है। बताया गया है कि घटनास्थल हल्द्वानी-भवाली रोड से करीब 15-20 मीटर नीचे है। इसलिए इतने दिनों में इस पर किसी की नजर नहीं पड़ी। इधर बुधवार देर शाम घास लेकर लौटती महिलाओं को किसी तरह से शव दिखाई दे गया। इसके बाद भवाली एवं तल्लीताल थाना पुलिस मौके पर पहुंची एवं शव को पेड़ से उतार कर उसकी शिनाख्त के प्रयास शुरू किये, किंतु कोई सफलता नहीं मिली। सीओ नैनीताल विजय थापा ने बताया कि मृतक की उम्र करीब 25-30 के बीच हो सकती है। उसकी शिनाख्त के प्रयास किये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के होटल मैनेजर की कथित आत्महत्या के मामले में पत्नी ने लगाया हत्या का आरोप

नवीन समाचार, नैनीताल, 8 नवंबर 2019। गत 23 अक्टूबर को तल्लीताल थाना पुलिस ने नगर के ठंडी सड़क स्थित पाषाण देवी मंदिर के पास नैनी झील से नगर के आशीष होटल के मैनेजर विनोद कुमार पुत्र गंगा प्रसाद निवासी तल्ला कृष्णापुर का शव बरामद किया था। पुलिस ने तब मृत्यु का प्रथम दृष्टया कारण आत्महत्या बताया था। किंतु इस मामले में मृतक की पत्नी गीता टम्टा ने अपने पति की हत्या किये जाने का शक जताते हुए तल्लीताल थाना पुलिस में एवं एसएसपी को पत्र देकर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। बताया है कि घटना के दिन उसके पति होटल के कार्य से मल्लीताल गए थे और कार्य के बाद रात्रि 10.46 बजे उनके मोबाइल से मिस्ड कॉल आई थी, किंतु कॉल बैक करने पर फोन बंद आया। लिहाजा मुकदमा दर्ज किया जाए। मामले में पूछे जाने पर थाना अध्यक्ष राहुल राठी ने बताया कि अभी मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें : नैनी झील में मिला होटल मैनेजर का शव

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अक्तूबर 2019। बृहस्पतिवार सुबह-सुबह नगर की नैनी झील में एक युवक का शव उतराता देखा गया। मृतक की पहचान नगर के तल्लीताल बाजार स्थित आशीष होटल के मैनेजर तल्ला कृष्णापुर निवासी 43 वर्षीय विनोद कुमार पुत्र स्वर्गीय गंगा प्रसाद के रूप में हुई। पुलिस प्रथमदृष्टया मौत का कारण आत्महत्या मान रही है। शव को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है। तभी मृत्यु के कारणों का वास्तविक खुलासा होगा।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार बृहस्पतिवार सुबह स्थानीय लोगों ने ठंडी सड़क स्थित पाषाण देवी मंदिर के पास शव को झील में उतराते हुए देखा और पुलिस को सूचना दी। इस पर पहुंची पुलिस ने शव को झील से बाहर निकाला। उसकी जेब में पड़े प्रपत्रों, पैन कार्ड आदि से उसकी पहचान हुई। पुलिस के अनुसार शव में किसी तरह के चोट के निशान नहीं मिले हैं। कुछ लोगों ने उसे बीती शाम देखे जाने की बात भी कही है। लिहाजा माना जा रहा है कि उसने रात्रि में आत्महत्या की होगी। मृतक के एक पुत्र व पुत्री हैं। वह बुधवार को उन्हें स्कूल छोड़ने भी गया था। होटल इन दिनों बंद बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : बर्दाश्त नहीं हुई कम नम्बर आने पर पिता की डांट, मां के दुपट्टे से फंदे पर लटक गया 11वीं का छात्र

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 16 अक्तूबर 2019। बच्चों को अब पिता की डांट भी बर्दाश्त नहीं हो रही। पिता की डांट से क्षुब्ध होकर 11वीं का छात्र घर में पंखे के कुंडे से लटक गया। परिजन उसे बचाने की कोशिश में उपचार के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल ले गये, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची मेडिकल चौकी पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और उसका पंचनामा भर पोस्टमार्टम करा कर उसके परिजनों को सौंप दिया।

मेडिकल चौकी प्रभारी कैलाश नेगी के अनुसार सोन बिहार कुसुमखेड़ा निवासी एसएच परिहार का 17 वर्षीय पुत्र करन परिहार नगर के एक निजी स्कूल में कक्षा 11वीं में पढ़ता था। परीक्षा में कम नम्बर लाने पर उसे उसके पिता ने फटकार लगा दी, जिससे वह काफी गुमसुम रहने लगा। बीती रात करन खाना खाकर अपने कमरे में चला गया और दुपट्टे को पंखे के कुंडे में बांधकर वह उससे लटक गया। कुछ देर के बाद जब उसकी मां किसी काम से उसके कमरे में गयी तो उसके पैरों के नीचे से धरती खिसक गयी। पुत्र को लटका देख उसने शोरगुल मचा दिया। इतने में परिवार के अन्य लोग करन के कमरे में पहुंचे और उन्होंने करन को नीचे उतारा और उसे उपचार के लिए सुशीला तिवारी अस्पताल ले गये। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मामले की सूचना अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को दी। सूचना पर मौके पर पहुंची मेडिकल चौकी पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और बुधवार की प्रात: उसका पंचनामा भर उसके शव को उसके परिजनों को सौंप दिया है। इस घटना से परिजनों में कोहराम मचा है।

यह भी पढ़ें : शादी के छह माह बाद ही फंदे पर लटक गया युवक, परिजनों ने हत्या की जताई आशंका

-घर के पास ही आम के पेड़ पर लटका मिला

नवीन समाचार, नैनीताल, 2 नवंबर 2019। जनपद के बेतालघाट तहसील मुख्यालय के निकटवर्ती ग्राम रानीबाग नौघर में एक 26 वर्षीय युवक संजू गोस्वामी पुत्र रमेश पुरी का शव आम के पेड़ में लटका हुआ मिला। परिजनों ने उसकी हत्या कर शव पेड़ पर लटकाने का अंदेशा जता कर राजस्व पुलिस को सूचना दी। राजस्व पुलिस ने शव को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पोस्टमार्टम में युवक के फंदे पर लटकने से ही मौत होने की पुष्टि हुई है। इसके बाद माना जा रहा है कि भावावेश में उसने आत्महत्या कर ली होगी। युवक का 6 माह पूर्व ही विवाह हुआ है। बताया जा रहा है कि विवाह के बाद पति-पत्नी में संबंध बेहतर नहीं थे। मृतक गुड़गांव में प्राइवेट नौकरी करता था और इधर पंचायत चुनाव व दीपावली के लिए घर आया हुआ था। राजस्व उप निरीक्षक भुवन जोशी ने बताया कि पोस्टमार्टम में युवक की मृत्यु का कारण फांसी पर लटकने से होने की बात प्रकाश में आई है।

यह भी पढ़ें : वाहन दुर्घटना में मौत के लिए खुद को जिम्मदार मान मार ली अपनी कनपटी पर गोली, मौत

नवीन समाचार, किच्छा, 10 अक्तूबर 2019। उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर जनपद के किच्छा में बृहस्पतिवार की सुबह करीब साढ़े 10 बजे एक 35 वर्षीय युवक की खुद को गोली मारकर आत्महत्या करने की खबर से हर कोई स्तब्ध रह गया। बताया गया कि आदित्य चौके के पास रहने वाले मुकेश चंद्र के वाहन की कुछ दिन पहले एक टुकटुक वाहन चालक से टक्कर हो गई थी। दुर्घटना में टुकटुक चालक की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद से वह परेशान था, और इधर दो दिन पहले मुकेश को उस दुर्घटना के लिए नोटिस मिला था। जिसके बाद से वह और भी अधिक अवसाद में चला गया था। माना जा रहा है कि इसी कारण उसने खुद को तमंचे से गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। प्रभारी निरीक्षक उमेश मलिक ने घटनास्थल पर पहुंचकर शव को पंचायतनामे के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

यह भी पढ़ें : कर्ज के बोझ तले दबे ठेकेदार ने जहर गटक कर मौत को लगाया गले!

-आर्थिक तंगी को माना जा रहा है लोनिवि व एनएच के प्रतिष्ठित ठेकेदार की आत्महत्या का कारण
-भारी कर्ज के तले दबे थे मृतक पांडे, 6 माह से रुद्रपुर रह रहे थे, घर भी किया था बिकाऊ
नैनीताल। मुख्यालय के निकटवर्ती तल्ला गेठिया निवासी एक प्रतिष्ठित ठेकेदार अम्बा दत्त पांडे (50) बुधवार को बेचैनी में उल्टी करते हुए मिले। उनके मुंह से झाग भी निकल रहा था। गंभीर हालात में परिजन उन्हें इलाज के लिए हल्द्वानी ले गए हैं। जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। ज्योलीकोट पुलिस को मृतक के कब्जे से एक सुसाइड नोट मिला है। पुलिस ने सुसाइड नोट में लिखे तथ्यों का खुलासा तो नहीं किया है, अलबत्ता माना जा रहा है कि आर्थिक तंगी के कारण पांडे ने मौत को गले लगाया होगा। साथ ही पुलिस ने मृतक की कार भी कब्जे में ली है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार अपराह्न करीब साढ़े तीन-चार बजे लोनिवि व एनएच के प्रतिष्ठित ठेकेदार अम्बा पांडे अपनी कार से ज्योलीकोट की ओर आ रहे थे। बीरभट्टी से पहले पायलट बाबा आश्रम के पास वे बेचैनी होने पर कार से उतरकर उल्टी करने लगे। उनकी हालत भी लगातार बिगड़ रही थी। इस पर आसपास के लोगों ने 108 आपातकालीन सेवा एवं ज्योलीकोट चौकी पुलिस को भी इसकी सूचना दी। तत्काल ही पास ही स्थित घर से उनके भतीजे व परिजन मौके पर पहुंचकर उन्हें हल्द्वानी उपचार के लिए ले गये। जहां बताया गया है सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। प्रथम दृष्टया माना जा रहा है कि उन्होंने जहर गटक कर आत्महत्या की होगी, हालांकि ज्योलीकोट चौकी प्रभारी दिनेश जोशी ने इसकी पुष्टि नहीं की है। उन्होंने उनकी कार में भी किसी तरह का जहरीला पदार्थ मिलने से इंकार किया है।
इधर सूत्रों पर यकीन करें तो लोनिवि व एनएच के प्रतिष्ठित ठेकेदार रहे अम्बा पांडे बीते कुछ समय से जबर्दस्त आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे। वे बीते करीब 6 माह से अपने घर के बजाय रुद्रपुर में रह रहे थे, तथा उन्होंने अपना तल्ला गेठिया स्थित घर भी बिकाऊ कर रखा था। स्वर्गीय पांडे अपने पीछे दो पुत्रियों एवं एक पुत्र तथा पत्नी सहित भरा-पूरा परिवार छोड़ गये हैं।

Leave a Reply

Loading...
loading...