News

कब खत्म होगा कोरोना, ‘लाइफ साइकिल कर्व्स’ से किया जा रहा है दावा

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
https://chat.whatsapp.com/BXdT59sVppXJRoqYQQLlAp

नवीन समाचार, नैनीताल, 27 अप्रैल 2020। पिछले एक माह से भी अधिक समय से लॉक डाउन में घरों पर सिमटे देश-विश्व वासियों को एक ही यक्ष प्रश्न कुरेद रहा है कि कोरोना की यह महामारी कब खत्म होगी। ऐसे में एक वेबसाइट सामने आई है जो ‘लाइफ साइकिल कर्व्स’ के आधार पर शिक्षा एवं शोध के उद्देश्य से विश्व एवं विभिन्न देशों में कोरोना के समाप्त होने का अनुमान प्रस्तुत कर रही है। वेबसाइट के मौजूदा अनुमान के अनुसार भारत व सिंगापुर में कोरोना 24 मई, अमेरिका में चार सितंबर, तुर्की में आठ मई, सउदी अरब में 22 जून, इटली में 8 मई, इंग्लेंड में 16 मई, जर्मनी में 3 मई, फ्रांस में 6 मई, स्पेन में एक मई, कनाडा में 22 मई, आस्ट्रेलिया में 13 जून, जापान में 16 मई, यूएई में 21 मई, रूस में 24 मई, ईरान में 20 मई, कतर में 4 अगस्त व विश्व में 26 नवंबर तक समाप्त हो सकता है। वेबसाइट में इस लिंक (https://ddi.sutd.edu.sg/) पर आज के ताजा अनुमान देख सकते हैं।India
Worldउल्लेखनीय है कि लाइफ साइकिल कर्व्स एक ऐसा तरीका है, जो बताता है कि संसार में हर वस्तु, उत्पाद, व्यक्ति, बीमारी आदि का एक जीवन चक्र होता है, जिसके तहत कोई भी वस्तु शुरुआत में धीमी गति और फिर काफी तेज गति से बढ़ती है। उच्चतम गति स्तर पर पहुंचने के बाद एक लंबे समय अंतराल में उसकी गति स्थिर हो जाती है, और फिर पहले तेजी से और फिर धीरे-धीरे गिरती हुई शून्य हो जाती है। इसे इस तरह भी समझ सकते हैं, कि कोई भी बच्चा पहले धीरे-धीरे, फिर किशोर व युवा अवस्था में बहुत तेजी से बढ़ता है। फिर प्रौढ़ अवस्था में लंबे समय तक उम्र ठहरी सी भी लगती है, लेकिन बुढ़ापे में उम्र तेजी से गिरती नजर आती है, और आखिर धीरे-धीरे व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है। इसी तरह हर उत्पाद का भी जीवन चक्र होता है। इसी आधार पर इस वेबसाइट ने भी कोरोना का भी विश्व एवं विभिन्न देशों में अंत होने का अनुमान लगाया है। साथ ही यह स्पष्टीकरण भी दिया है कि अनुमान सटीक नहीं हैं। बदलती स्थितियों में कोरोना के समाप्त होने का अनुमान बदल सकता है।

यह भी पढ़ें : ईरान से तीन बड़े समाचार : ईरान ने अमेरिकी अड्डों पर मिसाइलें दागीं, ईरान में प्लेन क्रैश में 180 यात्रियों की मौत, परमाणु प्रतिष्ठानों के पास भूकंप के झटके

नवीन समाचार, एजेंसी, 8 जनवरी 2020। ईरान से क्या विश्व युद्ध की शुरुआत होने जा रही है। बुधवार सुबह ईरान से एक साथ तीन बड़े समाचार आ रहे हैं। पहला ईरान ने ईराक स्थित दो अमेरिकी सैन्य अड्डों पर एक दर्जन से ज्यादा मिसाइलें दागी हैं। दूसरी खबर के अनुसार ईरान में तेहरान एयरपोर्ट के पास यूक्रेन का एक यात्री जहाज क्रैश होग गया है। इस जहाज में 180 यात्री सवार बताए जा रहे हैं। वहीं तीसरे समाचार के अनुसार ईरान के बुशहर शहर के पास 4.9 तीव्रता के भूंकप के झटके महसूस किए गए हैं, इस जगह से परमाणु प्रतिष्ठान काफी नजदीक हैं। यह भूकंप के ही झटके थे अथवा कुछ और, इस पर भी कयास लगाए जा रहे हैं।

https://twitter.com/AFP/status/1214735994483662848

ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी की अमेरिका ड्रोन हमले में मौत के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। अमेरिका के इस कदम पर अब ईरान ने ईराक स्थित दो अमेरिकी सैन्य अड्डों पर एक दर्जन से ज्यादा मिसाइलें दागी हैं। इस हमले में अमेरिका और गठबंधन सेनाओं को अभी तक किसी भी नुकसान की खबर नहीं है। अमेरिकी रक्षा अधिकारी ने बताया कि सुबह तड़के करीब साढ़े पांच बजे इराक में अमेरिकी और गठबंधन सेना के 2 सैन्य अड्डों पर 1 दर्जन मिसाइलों से हमला किया गया है। इन सैन्य अड्डों पर अमेरिका के साथ गठबंधन सेनाएं तैनात हैं। वहीं इसी बीच ईरान में तेहरान एयरपोर्ट के पास एक प्लेन क्रैश हो गया है। इस प्लेन में 180 यात्री सवार बताए जा रहे हैं। अभी तक मिली रही जानकारी के मुताबिक हादसे की वजह तकनीकी खामी बताई जा रही है। यह भी सवाल उठ रहे हैं कि क्या इस विमान हादसे का ईरान और अमेरिका के बीच जारी तनाव से कोई संबंध है, अभी तक इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। इस बीच ईरानी मिसाइल हमले के बाद अमेरिका राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का ट्वीट भी सामने आया है। जिसमें कहा गया है, ‘ईरान ने 2 मिलिटरी बेस पर मिसाइल से हमला किया। सब ठीक है। हम नुकसान का आकलन कर रहे हैं। हमारे पास दुनिया की सबसे आधुनिक संसाधनों से लैस सेना है, कल सुबह दूंगा बयान।’
वहीं अमेरिका सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले के बाद ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ का बयान, ‘ईरान ने यूएन चार्टर के आर्टिकल 51 के तहत ऐहतियाती कदम उठाए हैं। इस सैन्य ठिकाने से हमारे नागरिकों और अधिकारियों पर कायराना तरीके से हमला किया गया। हम जंग की ओर नहीं बढ़ना चाहते हैं, लेकिन किसी भी उकसावे के खिलाफ खुद की रक्षा करेंगे।’

नवीन समाचार
मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...