April 23, 2024

Bhooskhlan : पार्किंग में खड़ी कारों पर गिरा पहाड़ी से मलबा, 2 महिलाओं व बच्चे सहित चार लोग जिंदा दफन

0

Bhooskhlan, Landslide, Aapda, malba,

Aapda

नवीन समाचार, टिहरी, 21 अगस्त 2023। टिहरी जिले के चंबा में एक पार्किंग में ऊपर पहाड़ी से भारी मात्रा में मलबा (Bhooskhlan) गिर गया। जिसके कारण कई वाहन इसमें दब गये। मलबे में 2 महिलाओं व बच्चे सहित चार लोगों की दबने से मौत हो गई। शवों को घंटों चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बरामद कर लिया गया है।

Bhooskhlan टिहरी कार हादसाप्राप्त जानकारी के अनुसार पहाड़ों पर हो रही बारिश के दौरान टिहरी जिले के चंबा की एक पार्किंग में ऊपर से ढेर सारा मलबा गिर गया, जिसमें पार्किंग में खड़े कई वाहन दब गये। इनमें सुमन खंडूड़ी निवासी ग्राम जसपुर, कंडीसौड, टिहरी की कार भी थी, जिसे वह पार्किंग में खड़ी कर पत्नी पूनम, चार महीने के बच्चे व बहन सरस्वती को कार में छोड़कर कपड़े लेने चंबा बाजार की ओर जा रहे थे। जैसे ही सुमन कार से उतर कर बाजार की तरफ जाने लगे तभी पहाड़ी से मलबा गिरने लगा, जिसकी चपेट में उनकी स्विफ्ट कार भी आ गई।

साथ ही पार्किंग में खड़ी मैक्स गाड़ी और 4 दोपहिया वाहन भी मलबे में दब गए। कार में बैठे तीनों लोग भी मलबे में दब गए, साथ ही एक अन्य व्यक्ति प्रकाश के दबे होने की सूचना भी मिली। पुलिस को घटना की जानकारी दी गई। घटना की सूचना मिलते ही जिलाधिकारी के निर्देशों के क्रम में भूस्खलन वाले क्षेत्र में विद्युत विभाग ने तत्काल विद्युत लाइन बंद की और राजस्व विभाग ने पास के घरों को खाली करवाया।

इसके बाद मौके पर तुरंत राहत बचाव दल पहुंचे। कई घंटों की मशक्कत के बाद मलबे में दबे चारों शवों को बरामद किया गया। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने बताया कि 6 जेसीबी और एसडीआरएफ, पुलिस जिला प्रशासन की टीम ने मौके पर तत्काल कार्य करते हुए 4 शवों को बरामद किया है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए बौराड़ी अस्पताल भेज दिया गया है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें Bhooskhlan : अंदरूनी ‘हलचल’ है ‘कुंवारी’ की समस्या

  • उत्तराखंड के बागेश्वर के कुंवारी गांव में हो रही हलचल सामान्य घटना नहीं, टेक्टोनिक प्लेटों टकराने का टकराना है वजह
  • वैज्ञानिकों ने लगातार हो रही हलचल को गांव के लिये माना खतरा, बरसात से पहले गांव को विस्थापित करने की दी सलाह

रवीन्द्र देवलियाल, नैनीताल, 7 अप्रैल। उत्तराखंड के बागेश्वर जनपद के कुंवारी गांव में पहाड़ी पर बेमौसम हो रहा भूस्खलन कोई सामान्य घटना नहीं है। यह भूगर्भीय हलचल का परिणाम है। इसे गांव के लिये खतरा माना जा रहा है। उत्तराखंड के आपदा न्यूनीकरण एवं प्रबंधन केन्द्र (डीएमएमसी) ने कुंवारी गांव को लेकर तैयार रिपोर्ट में ये बात कही है। 

देहरादून स्थित आपदा प्रबंधन केन्द्र की टीम पिछले 28 मार्च को गांव के दौरे पर गयी थी। टीम ने कई दिनों के अध्ययन के बाद रिपोर्ट तैयार कर शासन को सौंप दी है। प्रदेश सरकार ने इस घटना के प्रकाश में आने के बाद डीएमएमसी के वैज्ञानिकों के एक दल को गांव के दौरे पर भेजकर रिपोर्ट सौंपने को कहा था। डीएमएमसी के दो वैज्ञानिकों डा. कृष्ण सजवाण व डा. सुशील खंडूड़ी की टीम ने मौके पर जाकर वृहद जांच के बाद रिपोर्ट तैयार की है। 

डीएमएमसी के वैज्ञानिकों ने पहाड़ी पर हो रहे भूस्खलन व हलचल को गांव के लिये खतरा करार दिया है और गांव को विस्थापित करने के लिये कहा है। रिपोर्ट के अनुसार मानसून शुरू होने से पहले गांव को विस्थापित किया जाये। जिससे खतरे को टाला जा सके। वैज्ञानिकों ने पूरे मामले की तह तक जाने के लिये वृहद भूगर्भीय व तकनीकी जांच कराने की भी संस्तुति की है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि भूगर्भीय व तकनीकी जांच के बाद जो तथ्य सामने आयेंगे उसके अनुसार गांव की सुरक्षा व संरक्षा के लिये अल्पकालिक व दीर्घकालिक कदम उठाये जा सकते हैं। 

उल्लेखनीय है कि कुंवारी बागेश्वर जनपद के कपकोट तहसील के उच्च हिमालयी क्षेत्र में बसा हुआ है। यह गढ़वाल व कुमाऊं की सीमा पर बसा हुआ सीमांत गांव है। कुंवारी गांव 10 मार्च से चर्चाओं में है। गांव के ठीक ऊपर की पहाड़ी पर भूस्खलन हो रहा है। पहाड़ी दरक रही है। पहाड़ी से मलबा व पत्थर गिर रहे हैं। इससे गांव के एक हिस्से को नुकसान हुआ है। कभी-कभी बड़े बोल्डर भी खिसक रहे हैं जिससे गांव के जनजीवन व मवेशियों के लिये खतरा उत्पन्न हो गया है।

गांव का बैंगुनी तोक इससे खासा प्रभावित है और उस पर खतरा बना हुआ है। पूरे गांव में 106 परिवार रहते हैं। प्रशासन ने 18 परिवारों को यहां से विस्थापित कर दिया है। उनको बदियाकोट के पास एक स्कूल में टैंट में सुरक्षा दी गयी है। राजस्व विभाग व आपदा प्रबंधन की टीम गांव में डेरा डाले हुए है और मौके पर नजर बनाये हुए है। 

रिपोर्ट के अनुसार बागेश्वर जनपद का अधिकांश हिस्सा ‘लेसर हिमालय’ के तहत आता है और यहां अवसादी चट्टान (सेडीमेंटरी), मेटासेडीमेंटरी, वितलीय (प्लूटोनिक) चट्टान हैं। कुवांरी गांव के पास कपकोट फोरमेसन व हत्थसिला फोरमेशन होकर गुजर रहे हैं और उनके आपस में टकराने से टैक्टोनिक जोन बन रहा है। माना जा रहा है कि कुंवारी गांव की पहाड़ी पर हो रहा भूस्खलन उसी के फलस्वरूप है। 

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कुंवारी गांव भूंकप की दृष्टि से आने वाले जोन पांच के तहत आता है और संवेदनशील क्षेत्र है। नवम्बर 2012 में भी इस क्षेत्र में इसी प्रकार की हलचल हुई थी और तब भी आपदा न्यूनीकरण एवं राहत केन्द्र की टीम ने इस क्षेत्र का अध्ययन कर रिपोर्ट तैयार की थी। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि कुंवारी गांव को पहाड़ी पर हो रही इस हलचल से ही खतरा नहीं है बल्कि गांव के बायीं ओर बह रहा नाला भी गांव को खतरे की जद में ला रहा है। ब्यौरागाड़ नामक मौसमी नाला बरसात में सक्रिय हो जाता है और उसमें लगातार भूकटाव हो रहा है। इससे भी गांव को खतरा बढ़ रहा है। वैज्ञानिकों के अनुसार पहाड़ी पर हो रही हलचल से कुंवारी गांव को ही नहीं, बल्कि पहाड़ी के पार चमोली जनपद के गांव को भी खतरा बना हुआ है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

गर्मियों में करना हो सर्दियों का अहसास तो.. ये वादियाँ ये फिजायें बुला रही हैं तुम्हें… नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला