उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 16 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 12.6 मिलियन यानी 1.26 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

March 3, 2024

कब है रक्षाबंधन (Rakshabandhan)-जनेऊ पूर्णिमा, कब रखें पूर्णिमा का ब्रत और कब बदलें जनेऊ व बांधें राखी, सही जानकारी यहां…

0

Rakshabandhan, Rakhi, Rakshabandhan Kab hai, janeoo, Janeoo Purnima, Janyo Punyoo, Raksha dhaga, Raksha Sootra, Raksha Sutra,

Rakshabandhan

नवीन समाचार, आस्था डेस्क, 23 अगस्त 2023 (Rakshabandhan)। हिंदू मान्यताओं में समय की गणना दुनिया के किसी भी अन्य कलेंडर के मुकाबले अधिक व्यापक व विस्तृत है। इस कारण हिंदू त्योहारों में अक्सर असमंजस की स्थिति देखी जाती है। क्योंकि यहां त्योहार केवल तिथि के आधार पर नहीं, वरन ग्रहों की स्थितियों के आधार पर समय की अधिक व्यापक गणना के आधार पर मनाये जाते हैं। यह हिंदू त्योहारों की कमी नहीं वरन अच्छाई है। यह भी पढ़ें : आधुनिक विज्ञान से कहीं अधिक समृद्ध और प्रामाणिक था प्राचीन भारतीय ज्ञान

कुमाऊं में परंपरागत तौर पर 'जन्यो पुन्यू' के रूप में मनाया जाता है  रक्षाबंधन - हिन्दुस्थान समाचारइस वर्ष भी श्रावणी पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला रक्षाबंधन का त्योहार, जो मूलतः जनेऊ-यज्ञोपवीत बदलने, उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में जन्यो पुन्यू यानी जनेऊ पूर्णिमा व रक्षा सूत्र बांधने का पर्व-त्योहार है, अलबत्ता वर्तमान में भाई-बहन के प्रेम के त्योहार के रूप में अधिक प्रचारित है, के 30 या 31 अगस्त को मनाने पर असमंजस की तिथि बताई जा रही है। इस पर हमने स्थिति स्पष्ट करने का प्रयास किया है।

नगर के वरिष्ठ आचार्य पंडित हंसा दत्त जोशी ने बताया कि इस बार श्रावणी पूर्णिमा 30 अगस्त को है, लेकिन इस दिन पूरे दिन व रात्रि 9 बजकर 2 मिनट तक भद्रा नक्षत्र की मौजूदगी है। भद्रा के दौरान नया जनेऊ नहीं पहना जा सकता है। इसलिए जन्यो पुन्यू व रक्षा बंधन का त्योहार 30 अगस्त को नहीं मनाया जा सकता है, परंतु इस दिन यानी 30 अगस्त को पूर्णिमा का ब्रत किया जाएगा।

आगे 31 अगस्त की सुबह सात बजकर पांच मिनट तक पूर्णिमा की तिथि है, और इसके बाद ‘पड़वा’ यानी प्रथमा तिथि प्रारंभ हो रही है, फिर भी इसी दिन यानी 31 अगस्त को जन्यो पुन्यू व रक्षा बंधन का त्योहार मनाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनेऊ व राखी तथा रक्षा धागा पूर्णिमा की अवधि में ही यानी सुबह-सुबह ही बांधा जाना श्रेयस्कर है। अलबत्ता राखी पूरे दिन भी बांधी जा सकती है। 31 अगस्त को ही उत्तराखंड के चंपावत जनपद में प्रसिद्ध बग्वाल यानी पाषाण युद्ध भी खेला जाएगा।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं में परंपरागत तौर पर ‘जन्यो-पुन्यू’ के रूप में मनाया जाता है रक्षाबंधन (Rakshabandhan)

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल (Rakshabandhan)। वैश्वीकरण के दौर में लोक पर्व भी अपना मूल स्वरूप खोकर अपने से अन्य बड़े त्योहार में स्वयं को विलीन करते जा रहे हैं। उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के पर्वतीय क्षेत्रों का सबसे पवित्र त्यौहार माना जाने वाला ‘जन्यो पुन्यू’ यानी जनेऊ पूर्णिमा और देवीधूरा सहित कुछ स्थानों पर ‘रक्षा पून्यू’ के रूप में मनाया जाने वाला लोक पर्व रक्षाबंधन के त्योहार में समाहित हो गया है।

कुमाऊं में परंपरागत 'जन्यो-पुन्यू' के रूप में मनाया जाता है रक्षाबंधन – यह  नवीन समाचार का पुराना संस्करण है, नया संस्करण http://www.navinsamachar.com/  पर ...श्रावणी पूर्णिमा के दिन मनाए जाने इस त्योहार पर परंपरागत तौर पर उत्तराखंड में पंडित-पुरोहित अपने यजमानों को अपने हाथों से बनाई गई जनेऊ (यज्ञोपवीत) का वितरण आवश्यक रूप से नियमपूर्वक करते थे, जिसे इस पर्व के दिन सुबह स्नान-ध्यान के बाद यजमानों के द्वारा गायत्री मंत्र के साथ धारण किया जाता था। इस प्रकार यह लोक-पर्व भाई-बहन से अधिक यजमानों की रक्षा का लोक पर्व रहा है।

इस दिन देवीधूरा में प्रसिद्ध बग्वाल का आयोजन होता है। साथ ही अनेक स्थानों पर बटुकों के सामूहिक यज्ञोपवीत धारण कराने के उपनयन संस्कार भी कराए जाते हैं। इस दौरान भद्रा काल का विशेष ध्यान रखा जाता है। भद्रा काल में रक्षाबंधन, यज्ञोपवीत धारण एवं रक्षा धागे-मौली बांधना वर्जित रहता है।

Rakshabandhanइसके अलावा भी इस दिन वृत्तिवान ब्राह्मण अपने यजमानों को यज्ञोपवीत धारण करवाकर तथा रक्षा-धागा बांधकर दक्षिणा लेते हैं। वह सुबह ही अपने यजमानों के घर जाकर उन्हें खास तौर पर हाथ से तकली पर कातकर तैयार किए गए रक्षा धागे ‘येन बद्धो बली राजा, रक्षेः मा चल मा चल’ मंत्र का उच्चारण करते हुए पुरुषों के दांए और महिलाओं के बांए हाथ में बांधते हैं।

प्राचीन काल में यह परंपरा श्रत्रिय राजाओं को पंडितों द्वारा युद्ध आदि के लिए रक्षा कवच प्रदान करने का उपक्रम थी। रक्षा धागे और जनेऊ तैयार करने के लिए पंडितों-पुरोहितों के द्वारा महीनों पहले से तकली पर धागा बनाने की तैयारी की जाती थी। अभी हाल के वर्षों तक पुरोहितों के द्वारा अपने दूर-देश में रहने वाले यजमानों तक भी डाक के जरिए रक्षा धागे भिजवाने के प्रबंध किए जाते थे।

Rakshabandhanउत्तराखंड के कुमाऊं अंचल के नगरीय क्षेत्र में अब यह त्योहार भाई-बहन के त्योहार के रूप में ही मनाया जाता है, लेकिन अब भी यहां के पर्वतीय दूरस्थ गांवों में यह त्योहार अब भी नया जनेऊ धारण करने और पुरोहित द्वारा बच्चों, बूढ़ों तथा महिलाओं आदि सभी को रक्षा धागा या रक्षा-सूत्र बांधा जाता है। इस दिन गांव के बुजुर्ग नदी या तालाब के पास एकत्र होते हैं, जहां पंडित मंत्रोच्चार के साथ सामूहिक स्नान और ऋषि तर्पण कराते हैं। इसके बाद ही नया जनेऊ धारण किया जाता है।

सामूहिक रूप से जनेऊ की प्रतिष्ठा और तप करने के बाद जनेऊ बदलने का विधान लोगों में बीते वर्ष की पुरानी कटुताओं को भुलाने और आपसी मतभेदों को भुलाकर परस्पर सद्भाव बढ़ाने का संदेश भी देता है। पंडित की अनुपस्थिति में ‘यग्योपवीतम् परमं पवित्रम्’ मंत्र का प्रयोग करके भी जनेऊ धारण कर ली जाती है, और इसके बाद यज्ञोपवीत के साथ गायत्री मंत्र का जप किया जाता है। इस दिन बच्चों को यज्ञोपवीत धारण करवाकर उपनयन संस्कार कराने की भी परंपरा है।

रक्षाबंधन (Rakshabandhan) पर रक्षा धागा बांधने का मंत्र और इसका कारण

‘जन्यो-पुन्यू’, रक्षाबंधन पर ‘येन बद्धो बली राजा, तेनत्वाम् अपिबंधनामि रक्षेः मा चल मा चल’ मंत्र का प्रयोग किए जाने की भी दिलचस्प कहानी है। कहते हैं कि जब महाराजा बलि का गर्व चूर करने के लिए भगवान विष्णु ने बामन रूप लिया और उसके द्वारा तीन पग धरती दान में प्राप्त की और दो पग में धरती, आसमान और पाताल यानी तीनों लोक नाप दिये, तथा तीसरे पग के लिए राजा बलि ने अपना घमंड त्यागकर अपना सिर प्रभु के चरणों में रख दिया। तभी बलि की होशियार पत्नी ने भगवान विष्णु को पहचानते हुए सुझाया कि बलि भी विष्णु से कुछ मांगे। भगवान बिष्णु से आज्ञा मिलने पर बलि ने पत्नी के सुझाने पर मांगा कि भगवान उसके द्वार पर द्वारपाल बनकर रहें, ताकि वह रोज उनके दर्शन कर सके।

इस कारण भगवान विष्णु को अपना वचन निभाते हुए बलि का द्वारपाल बनना पड़ा। उधर काफी दिन तक विष्णुलोक न लौटने पर विष्णु पत्नी लक्ष्मी ने देवर्षि नारद से जाना कि विष्णु राजा बलि के द्वारपाल बने हुए हैं। इस पर वह रूप बदलकर राजा बलि के पास गई और उसे अपना भाई बना लिया, तथा उसे रक्षाबंधन पर रक्षा धागा बांधते हुए बदले में द्वारपाल को मांग लिया। बलि ने बताया कि द्वारपाल कोई आम व्यक्ति नहीं, वरन विष्णु देव हैं तो लक्ष्मी भी अपने वास्तविक स्वरूप में आ गई। तभी से रक्षा धागा, मौली आदि बांधने पर इस मंत्र का प्रयोग किया जाता है। इस प्रकार जान लें कि माता लक्ष्मी ने दैत्यराज बलि को सबसे पहले राखी बाँधी थी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग