अधिकारियों पर शारीरिक शोषण का आरोप, विरोध किया तो…

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवीन समाचार, काशीपुर, 18 जनवरी 2020। कुंडा थाना क्षेत्र के ग्राम शिवराज पट्टी निवासी एक युवती ने आवास एवं निर्माण सहकारी संघ लिमिटेड के अधिकारियों पर शारीरिक शोषण करने, विरोध करने पर नौकरी से निकालने व आठ माह वेतन भी न देने का आरोप लगाते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र दिया है। पीड़िता ने एसएसपी से आठ माह का वेतन व नौकरी वापस दिलाकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। एसएसपी ने मामले की जांच कुंडा थाने को सौंपी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
युवती का कहना है कि वह आवास एवं निर्माण सहकारी संघ लिमिटेड में कनिष्क लिपिक के पद पर तीन अप्रैल 2019 से कार्यरत थी। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि संघ के अधिकारी उसका शारीरिक शोषण करते थे। उसे अवकाश के दिन भी बुलाते थे, और अनैतिक कृत्य के लिये उस पर दबाव बनाने को मोबाईल पर मैसेज भेजते थे। युवती ने जब इसका विरोध किया तो उसे नौकरी से निकाल दिया ओर आठ माह का वेतन भी नहीं दिया। किसी को बताने पर जान से मार देने की धमकी भी दी।

यह भी पढ़ें : मकान मालिक दुकानदार बनाता था लड़कियों की नहाते हुए वीडियो, आज …

नवीन समाचार, हरिद्वार, 17 जनवरी 2020। हरिद्वार की ज्वालापुर पुलिस ने किराये पर रहने वाली लड़कियों की शिकायत पर उनके मकान मालिक को उनकी नहाते हुए वीडियो बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोप है कि मकान मालिक काफी समय से लडकियों की वीडियो बना रहा था। लड़कियों द्वारा मकान मालिक को ऐसा करते हुए मौके पर ही पकड़े जाने पर आरोपी की पत्नी ने एक महिला होते हुए भी महिला होने का धर्म निभाने की जगह लड़कियों की वीडियो को डिलीट कर अपने पत्नी धर्म का पालन करते हुए पति को बचाने का प्रयास किया। कई लोग भी उसके बचाव में कोतवाली पहुंचे। बावजूद पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर उसके विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कर दिया है।
बताया गया है कि आरोपी रजनीश कुमार पुत्र चोखे राम निवासी शांति विहार आर्य नगर ज्वालापुर हरिद्वार परचून की दुकान चलाता है और अपने मकान में एक कमरा सहारनपुर व बिजनौर यूपी की रहने वाली व हरिद्वार में एक कंपनी में काम करने वाली दो लडकियों को दिया हुआ है। शुक्रवार को बाथरूम में नहाते हुए अचानक एक लडकी को उसकी वीडियो बनाए जाने का अहसास हुआ। उसने बाहर आकर आरोपी मकान मालिक को रंगे हाथों वीडियो बनाते हुए पकड लिया। उसके मोबाइल में लड़कियों के कई वीडियो थे। हंगामा होता देख आरेापी की पत्नी ने सबूतों को मिटाने का प्रयास भी किया। उधर पीड़िता सीधे पुलिस थाने पहुंची और पूरी आपबीती बताई। इस पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़ें : नाबालिग से छेड़छाड़ करने पर दुकानदार और दो नाबालिगों से दुष्कर्म करने पर नाई को भेजा जेल

नवीन समाचार, देहरादून, 15 जनवरी 2020। महिलाओं के साथ अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में बुधवार को तेग बहादुर रोड स्थित डिपार्टमेंटल स्टोर के मालिक ने सामान लेने आई 16 साल की किशोरी से छेड़छाड़ की। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी व्यापारी को गिरफ्तार कर लिया। डालनवाला कोतवाली प्रभारी मणिभूषण श्रीवास्तव के अनुसार, एक महिला ने तहरीर देकर बताया कि 10 जनवरी को उसकी 16 साल की बेटी तेग बहादुर रोड स्थित ग्रह संग्रह डिपार्टमेंटल स्टोर में सामान लेने गई थी। इस दौरान दुकानदार अजय गांधी पुत्र विजय गांधी निवासी फव्वारा चौक नेहरू कॉलोनी ने बेटी से छेड़छाड़ कर दी। विरोध करने पर डराया-धमकाया। किशोरी ने घर आकर सारी बात बताई। पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया और कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। डिपार्टमेंटल स्टोर में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को कब्जे में लिया है।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

वहीं दूसरी घटना में रायपुर थाना क्षेत्र में दो नाबालिग किशोरियों के साथ दो युवकों ने दुष्कर्म किया। आरोप है कि आरोपी युवक किशोरियों को बहला-फुसलाकर घुमाने के बहाने रायपुर क्षेत्र के जंगलों में ले गए, जहां उन्होंने दुष्कर्म किया। पुलिस ने एक किशोरी की मां की तहरीर पर पॉक्सो ऐक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया। रायपुर थाना प्रभारी परमजीत रावत के अनुसार, महिला ने तहरीर देकर बताया कि उनकी नाबालिग बेटी और उसकी सहेली को दो युवक बहला-फुसलाकर घुमाने के बहाने अपने साथ ले गए। रायपुर क्षेत्र के जंगलों में दोनों आरोपियों ने उनके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस के अनुसार, रुड़की निवासी आरोपी युवक एजाज की रायपुर क्षेत्र में नाई की दुकान है। जबकि बदायूं निवासी गुलफाम शहर में ऑटो चलाता है।

यह भी पढ़ें : नवविवाहिता ने पति के खिलाफ दुष्कर्म के बाद गर्भपात कराने का दर्ज कराया मुकदमा

नवीन समाचार, काशीपुर, 12 जनवरी 2020। युवक ने दुष्कर्म करने के बाद कार्रवाई से बचने के लिए युवती से मजबूरी में शादी तो कर ली, लेकिन शादी करने के बाद पत्नी को झांसे में लेकर उसका गर्भपात करा दिया। इसके बाद पत्नी को दुत्कार दिया। यही नहीं जान से मारने की धमकी भी दी। इस पर पत्नी ने पति पर दुष्कर्म के बाद गर्भपात कराने का मुकदमा दर्ज करा दिया है।
पीड़िता का आराेप है कि वसीम नाम के युवक ने उससे शादी का वादा कर शारीरिक संबंध बनाए, जिससे उसे दो माह का गर्भ ठहर गया। बाद में बदनामी के डर से वसीम ने उसके साथ कोर्ट मैरिज कर ली थी। लेकिन शादी के बाद आरोपित ने उसका गर्भपात करा दिया और उसका ससुराल में आना जाना भी बंद करा दिया। तब से वह खुद रामनगर रोड स्थित एक निजी चिकित्सालय मे रह रहा है, और पत्नी को खर्च के लिए पैसे भी नहीं दे रहा है। पीड़िता को शक है कि उसके पति के अन्य महिलाओं से अवैध संबंध हैं। कोतवाली पुलिस ने नवविवाहिता की तहरीर पर उसके पति के खिलाफ धारा 376, 313, 323, 504 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़ें : दहेज को लेकर विवाहिता के कान का पर्दा फाड़ डाला, चेहरे पर तेजाब भी डाला…

नवीन समाचार, बाजपुर, 11 जनवरी 2020। ऊधमसिंह नगर जनपद के बाजपुर मोहल्ला आदर्श नगर सुल्तानपुर पट्टी निवासी विवाहिता मोबीन जहां पुत्री अब्दुल शफीक ने ससुरालियों पर दहेज में दो लाख रुपये की मांग को लेकर बेरहमी से पीटने, मारपीट में उसके कान का पर्दा फाड़ डालने तथा तेजाब डालकर चेहरा खराब करने की कोशिश भी करने का आरोप लगाया है। पीड़िता की तहरीर के आधार पर पुलिस ने पति महबूब हसन सहित पांच ससुरालियों-सास रुकसाना, ससुर अब्दुल हसन, याकूब व कय्यूम निवासी रोशनपुर बहेड़ी मुरादाबाद उप्र के खिलाफ धारा 323, 325, 504, 506, 498, 326 आइपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। तफ्तीश महिला एसआइ नीलम मेहता को सौंपी गई है।
पीड़िता ने तहरीर में कहा है कि उसकी शादी मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार रोशनपुर बहेड़ी मुरादाबाद उप्र निवासी महबूब हसन पुत्र अब्दुल हसन के साथ हुई थी। परिजनों ने सामर्थ्य के अनुसार काफी सामान उपहार स्वरूप दिया था। आरोप है कि कम दहेज लाने का ताना मारकर ससुराल वाले उसे प्रताड़ित करने लगे और मारपीट भी की। इधर ससुरालियों ने दो लाख रुपये दहेज में दिलाने की मांग को लेकर उसकी बेरहमी से पिटाई की जिससे उसके कान का पर्दा फट गया। यह भी आरोप लगाया है कि पति ने उसके ऊपर तेजाब छिड़ककर चेहरा खराब करने का प्रयास किया। पीड़िता ने मामले की जांच कर आरोपितों पर कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़ें : महिला से सैक्स चैट में फंसे एसएसपी सस्पेंड

IPS वैभव कृष्ण अक्सर चर्चाओं में रहते हैं (फाइल फोटो) नवीन समाचार, नोएडा, 9 जनवरी 2019। यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया है। शासन ने यह कार्रवाई गोपनीय रिपोर्ट को लीक कर आचरण नियमावली के उल्लंघन को लेकर की है। खास बात यह भी है कि वैभव कृष्ण के खिलाफ यह कार्रवाई एक महिला के साथ उनकी सैक्स चैट के वायरल विडियो को लेकर फॉरेंसिक लैब की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के तुरंत बाद की गई है।
उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले वैभव कृष्ण की एक महिला के साथ कथित सेक्स चैट का एक विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। विडियो में महिला नहीं दिख रही थी लेकिन उसके फोन की स्क्रीन की किसी अन्य डिवाइस से रिकॉर्डिंग की गई थी। विडियो वायरल होने के बाद वैभव कृष्ण ने नोएडा सेक्टर पुलिस स्टेशन में विडियो को मॉर्फ्ड और एडिटेड बताते हुए केस दर्ज कराया था। एसएसपी के सेक्स चौट का विडियो वायरल होने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। वायरल विडियो की जांच मेरठ के एडीजी और आईजी को सौंपी गई थी। उन्होंने जांच के दौरान विडियो को फरेंसिक जांच के लिए गुजरात की लैब में भेजा। फरेंसिक लैब की रिपोर्ट में चैट का विडियो सही पाया गया। इसके ठीक बाद वैभव कृष्ण को सस्पेंड कर दिया गया।
एसएसपी ने कर दिया ‘गोपनीय’ रिपोर्ट का खुलासा
इसके अलावा प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसएसपी वैभव कृष्ण ने सफाई दी थी कि वीडियो उनकी छवि खराब करने की साजिश है। उन्होंने 5 आईपीएस अफसरों का नाम लेते हुए उन पर पोस्टिंग के लिए रिश्वत लेने समेत भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामलों में उनकी कार्रवाई से नाराज अफसरों ने एडिटेड विडियो वायरल किया है। कहा था कि उन्होंने पांच आईपीएस अफसरों के खिलाफ सीएम ऑफिस, डीजीपी व अपर मुख्य सचिव (गृह) को करीब एक महीना पहले गोपनीय जांच रिपोर्ट भेजी थी। तबसे एक बड़ी लॉबी उनके खिलाफ साजिश रच रही है और फेक विडियो इसी का हिस्सा है। गोपनीय रिपोर्ट को मीडिया में जारी करने पर खुद डीजीपी ओपी सिंह ने नाराजगी जाहिर की थी और वैभव कृष्णा से जवाब तलब किया था। डीजीपी ने कहा था, श्गोपनीय दस्तावेज को वायरल करना गैरकानूनी है। गोपनीय दस्तावेज के साथ ऑडियो क्लिप भी था।
इन अफसरों के खिलाफ भेजी थी रिपोर्ट
एसएसपी वैभव कृष्ण के मुताबिक, उन्होंने एसएसपी (गाजियाबाद) सुधीर कुमार सिंह, एसपी (सुलतानपुर) हिमांशु कुमार, एसएसपी (एसटीएफ) राजीव नारायण मिश्र, एसपी (बांदा) गणेश साहा और एसपी (रामपुर) डॉ. अजय पाल शर्मा के खिलाफ जांच रिपोर्ट भेजी थी। एसएसपी ने साजिश के लिए इन्हीं अफसरों पर आरोप लगाए थे। नोएडा का चार्ज लेते ही वैभव कृष्ण ने अग्निशमन-होमगार्ड विभाग के बड़े अफसरों, पुलिस और पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई की थी। आरोप है कि इसी के बाद उनका विरोध शुरू हो गया था। इसके बाद सोशल मीडिया पर वैभव कृष्ण के तीन कथित आपत्तिजनक विडियो वायरल हुए थे। उन्होंने नोएडा सेक्टर-20 थाने में इसकी रिपोर्ट दर्ज करवाकर आईजी रेंज (मेरठ) से इसकी जांच करवाने की अपील की थी।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में हैदराबाद कांड की पुनरावृत्ति, लड़की की जली हुई लाश आपत्तिजनक स्थिति में बरामद, उस्मान कुरैशी नाम का शख्श गिरफ्तार

-लड़की की मंगनी होने पर दिया रात्रि में वारदात को अंजाम
नवीन समाचार, देहरादून, 6 जनवरी 2019। देहरादून के गणेशपुर में सडक किनारे एक खेत में एक लड़की की अधजली लाश आपत्तिजनक स्थिति में मिलने पर सनसनी फैल गई। हैदराबाद कांड की याद दिलाने वाली इस घटना में युवती के सर पर चोट के निशान भी मिले हैं। मामले में पकड़े गये आरोपित उस्मान कुरैशी नाम के शख्श का कहना है कि लड़की की मंगनी होने से नाराज होकर उसने रात्रि में इस वारदात को अंजाम दिया।
सूचना पर पुलिस उच्चाधिकारियों ने तत्काल मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का निरीक्षण किया। घटना की संवेदनशीलता के दृष्टिगत पुलिस उप महानिरीक्षक व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा घटना के अनवारण हेतु पुलिस अधीक्षक नगर के निर्देशन में क्षेत्राधिकारी सदर के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों का गठन किया। मृतका की शिनाख्त हेतु तत्काल कन्ट्रोल रूम के माध्यम से मृतका के हुलिये से मिलती जुलती युवती की गुमशुदगी के सम्बन्ध में समस्त थानों से जानकारी प्राप्त की गयी। परन्तु कोई जानकारी प्राप्त नहीं हो सकी। जिस पर सभी बीट कान्सटेबलों को व्हाट्सअप के माध्यम से मृतका की फोटो भेजते हुए उन्हें अपनी-अपनी बीट पर ऐसी युवतियों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करने के निर्देश दिये गये जो अपने घर से गुमशुदा होें तथा गुमशुदगी के सम्बन्ध में पुलिस को कोई सूचना न दी गयी हो। तभी पुलिस को पता चला कि गोरखपुर क्षेत्र टी स्टेट से एक युवती का कल शाम से अपने घर से चले जाना व वापस न आना प्रकाश में आया, जिस पर तत्काल उक्त युवती के परिजनों से सम्पर्क कर उन्हें मौके पर बुलाया गया जिनके द्वारा मृतक युवती की पहचान रीना (काल्पनिक नाम) निवासी गोरखपुर टी स्टेट बडोवाला देहरादून के रूप में की गयी तथा बताया कि उनकी पुत्री 4 जनवरी की शाम करीब 3.30 बजे घर से बिना बताये कहीं चली गयी थी। पुलिस टीम द्वारा मृतका के घर के आस-पास व अन्य क्षेत्रों के सीसीटीवी फुटेज चेक किये गये, जिसमें युवती एक युवक के साथ जाती हुई दिखाई दी। फुटेजों को मृतका के परिजनों को दिखाने पर उनके द्वारा फुटेज में दिख रहे युवक की पहचान घर के पास में ही रहने वाले एक युवक उस्मान कुरैशी के रूप में की गयी। परिवार ने बताया कि उनकी पुत्री का विगत कुछ वर्षों से उस्मान कुरैशी के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था। तब तक उस्मान कुरैशी फरार हो चुका था। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर अभियुक्त उस्मान कुरैशी को आईएसबीटी क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया, जिसके द्वारा पूछताछ में युवती की हत्या करना स्वीकार किया गया। गिरफ्तार अभियुक्त ने अपना नाम उस्मान कुरैशी पुत्र मो. एहसान कुरैशी निवासी गोरखपुर नजदीक जामा मस्जिद आरकेडिया ग्रान्ट टी स्टेट देहरादून उम्र 23 वर्ष बताया है।

यह भी पढ़ें : देवी जागरण से लौट रही नाबालिग ‘देवी’ से अगवा कर किया गया दुष्कर्म, तीन दिन शेष थे बालिग होने मे

नवीन समचार, जसपुर (ऊधमसिंह नगर), 26 दिसंबर 2019। उत्तराखंड के जसपुर में नाबालिग से दुष्कर्म की घटना सामने आई है। क्षेत्र के एक गांव में देवी जागरण से लौट रही किशोरी को अगवा कर उसके साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के निकटवर्ती ग्राम निवासी ग्रामीण ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया है कि बुधवार की रात गांव में ही उसके घर के पास देवी जागरण हो रहा था। उसकी नाबालिग बेटी भी जागरण में गई थी। बृहस्पतिवार सुबह करीब पांच बजे जब उसकी बेटी घर लौट रही थी तो ग्राम ध्यान नगर निवासी राजकुमार उसे अगवा कर जंगल में ले गया। वहां उसने उसकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया। लड़की के शोर मचाने पर वह उसे छोड़कर भाग गया। युवक को भागते हुए उसकी छोटी बेटी ने देख लिया। आरोप लगाया कि पीड़ित ग्रामीण जब आरोपी के घर शिकायत करने के लिए गया तो उसके परिजन मारपीट पर आमादा हो गए। कोतवाल उमेद सिंह दानू ने मीडिया कर्मियों को बताया कि युवक के खिलाफ धारा 376 और पॉक्सो अधिनियम की धारा 7ध्8 में केस दर्ज कर लिया गया है। पीड़िता को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया है। जन्मतिथि के मुताबिक पीड़िता के बालिग होने में अभी तीन दिन कम हैं।

यह भी पढ़ें : विवाहिता की तहरीर पर प्रेमी के खिलाफ बलात्कार के आरोप में मुकदमा दर्ज

-विवाहिता ने पुलिस थाने के पास मंगलवार को किया था विषपान
-प्रेम प्रसंद, जबर्दस्ती शादी, संबंध विच्छेद और बेवफाई से भरी है कहानी
नवीन समाचार, नैनीताल, 18 दिसंबर 2019। जनपद के दूरस्थ बेतालघाट क्षेत्र के एक गांव की निवासी 20 वर्षीया नवविवाहिता की तहरीर पर बुधवार को बेतालघाट थाना पुलिस ने मझेड़ा खैरना निवासी दीपक त्रिपाठी पुत्र प्रकाश त्रिपाठी के खिलाफ बलात्कार के आरोप में भारतीय दंड संहिता की धारा 376 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। उल्लेखनीय है कि इस मामले में युवती ने मंगलवार को बेतालघाट थाने के पास कीटनाशक पीकर अपनी जीवन लीला समाप्त करने का प्रयास किया था। युवती को हल्द्वानी के सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज भेजा गया। युवती के विषपान करने का कारण प्रेम प्रसंग, अनैतिक संबंध एवं बेवफाई से जुड़ा बताया गया। युवती का हल्द्वानी के सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में उपचार चल रहा है। बेतालघाट के थाना प्रभारी एचएस नेगी ने बताया कि युवती की मंगलवार को दी गई तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें : नवविवाहिता ने पुलिस थाने के पास किया विषपान… प्रेम प्रसंद, जबर्दस्ती शादी, संबंध विच्छेद और बेवफाई से भरी है कहानी..

नवीन समाचार, बेतालघाट (नैनीताल), 17 दिसंबर 2019। मंगलवार अपराह्न क्षेत्र के एक गांव की निवासी 20 वर्षीया नवविवाहिता ने कीटनाशक पीकर अपनी जीवन लीला समाप्त करने का प्रयास किया। युवती को देर शाम हल्द्वानी के सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। युवती के विषपान करने का कारण प्रेम प्रसंग, अनैतिक संबंध एवं बेवफाई से जुड़ा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार करीब ढाई बजे के करीब बेतालघाट थाने आई एक 20 वर्षीया युवती ने थाने से लौटते हुए थाने के 100 मीटर की दूरी के भीतर ही कीटनाशक पी लिया। जानकारी मिलते ही पुलिस युवती को बेतालघाट के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गई, जहां प्राथमिक उपचार के बाद रात्रि करीब आठ बजे युवती को रेफर करने के बाद 108 आपातकालीन वाहन से सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया। इस बीच युवती ने क्षेत्रीय तहसीलदार मजिस्ट्रेट नितेश डागर को बयान मझेड़ा खैरना निवासी दीपक त्रिपाठी पुत्र प्रकाश त्रिपाठी को विषपान करने के लिए जिम्मेदार बताया है। युवती के अनुसार उसका दीपक त्रिपाठी से लंबे समय से प्रेम प्रसंग था। दीपक ने शादी का झांसा देकर उसके साथ हरिद्वार व हल्द्वानी आदि ले जाकर शारीरिक संबंध बनाये। इस बीच उसके परिजनों ने उसकी मर्जी के विरुद्ध उसका विवाह 14 अप्र्रैल 2019 को पीपली रानीखेत निवासी कमल किशोर के साथ कर दिया। इस पर दीपक ने उसे कमल से तलाक लेने के लिए उकसाया। कहा कि अपना बिजनेस ठीक चलने पर वह उससे विवाह कर लेगा। इस पर वह ससुराल के बड़े-बुजुर्गाें की सहमति से पति से संबंध विच्छेद कर मायके आ गई और दीपक से शादी करने के लिए संपर्क किया तो वह शादी से मुकर गया। इस पर वह सोमवार को पहले खैरना पुलिस चौकी गई। वहां पुलिस के बुलाने पर दीपक ने कुछ दिन बाद शादी कर लेने की हामी भरी, किंतु घर वापस लौटकर जब उसने पुनः दीपक से संपर्क किया तो उसने उसका फोन नंबर ब्लॉक कर दिया। इसके बाद वह मंगलवार को बेतालघाट के पुलिस थाने पहुंची और वहां से लौटते हुए परेशान होकर विषपान कर लिया। उसे कुछ होता है तो उसके लिए दीपक ही जिम्मेदार होगा। इस दौरान सीओ भवाली अनुषा बडोला, एसओ बेतालघाट व राजस्व उप निरीक्षक भुवन जोशी आदि पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें : वायरल वीडियो पर पुलिस ने की कार्रवाई : महिला ग्राम प्रधान को सरेराह पीट रहा था पति !

नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 13 दिसंबर 2019। सोशल मीडिया पर एक वीडिया वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में एक व्यक्ति पहले गोद में बच्चा लिये एक महिला को थप्पड़ मारता है। आगे वह महिला को लातों से भी मारता है, और जैकेट के अंदर से कोई हथियार निकालकर महिला को जान से मारने की बात भी करता है। इस बीच वीडियो बना रहा व्यक्ति बताता है कि वह नाटा डोल गांव का प्रधान है। वह महिला का अपमान न करे। कलवानी व गजार गांवों की भी उस पर जिम्मेदारी है। वह ग्रामीणों को भी कोसता है कि उन्होंने ऐसे व्यक्ति को वोट दिये। वार्तालाप में पता चलता है कि महिला पीट रहे व्यक्ति की पत्नी है।

वायरल वीडियो :

प्रारंभिक पड़ताल के अनुसार मामला अल्मोड़ा जनपद के लमगड़ा तहसील के नाटा डोल ग्राम प्रधान से संबंधित बताया जा रहा है। जबकि नाटा डोल में महिला ग्राम प्रधान है। ऐसे में यह संभावना भी व्यक्त की जा रही है कि ग्राम प्रधान महिला को उसका पति पीट रहा हो। महिला का संभवतया यह कसूर है कि वह पति के उत्पीड़न से परेशान होकर अपने बच्चे को लेकर बिना बताये घर छोड़कर आ गई है, और उसे रास्ते में रोक लिया गया है और उसका पति इसी बात से नाराज है कि वह बिना बताये क्यों आ गई। मामले में पुलिस को कहीं से कोई शिकायत नहीं मिली है। अलबत्ता, सोशल मीडिया में लोग पत्नी को सरेराह पीट रहे ऐसे व्यक्ति को सबक सिखाने की बात कर रहे हैं।

वायरल वीडियो का हुआ असर : युवक के खिलाफ मुकदमा हुआ दर्ज
वीडियो वीएल होने के बाद हरकत में आई लमगड़ा पुलिस ने वीडियो का संज्ञान ले लिया है। मामले में थानाध्यक्ष लमगड़ा द्वारा जाॅच कराने के बाद शुक्रवार को थाना लमगड़ा में चौकी प्रभारी अनीश अहमद द्वारा जीवन आर्या निवासी- झीली गाॅव (नाटाडोल) लमगड़ा के विरूद्व धारा- 323/504/506 भादंवि का अभियोग पंजीकृत कर दिया है। बताया जा रहा है कि महिला से मारपीट करने वाला युवक उसका पति है। वह ग्राम प्रधान महिला का पति बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : उन्नाव रेप पीड़िता ने तोड़ा दम, जानें क्या थे आखिरी शब्द..

नवीन समाचार, नई दिल्ली, 6 दिसंबर 2019। उत्तर प्रदेश के उन्नाव में आग के हवाले की गई बलात्कार पीड़िता की देर रात दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई। अस्पताल के बर्न एवं प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. शलभ कुमार ने बताया, हमारे बेहतर प्रयासों के बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका। शाम में उसकी हालत खराब होने लगी। रात 11 बजकर 10 मिनट पर उसे दिल का दौरा पड़ा। हमने बचाने की कोशिश की लेकिन रात 11 बजकर 40 मिनट पर उसकी मौत हो गई। बता दें कि 95 फीसदी जलने के बाद भी पीड़िता ने जीने की उम्मीद नहीं छोड़ी थी और अपने भाई से कहा था कि वह मरना नहीं चाहती है।

यह भी पढ़ें : जेल से छूट कर आये दुष्कर्मियों ने दुष्कर्म पीड़िता को चाकू मारकर जलाया, 90 फीसद जली, हालत नाजुक

नवीन समाचार, उन्नाव, 5 दिसंबर 2019। उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र के सिंदुपुर गांवमें गैंगरेप की एक पीड़िता को गुरुवार सुबह पांच लोगों ने जिंदा जलाने की कोशिश की। पुलिस ने मामले में सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पीड़िता 90 फीसदी तक जल गई है। उसे लखनऊ के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीड़िता का इलाज सरकारी खर्च पर कराए जाने और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का दावा किया है।

उन्नाव के एसपी विक्रांत वीर ने बताया कि मार्च में रायबरेली के लालगंज थाना क्षेत्र में एक केस दर्ज हुआ था। इसमें लड़की की तरफ से आरोप था कि शादी का झांसा देकर दो लोगों द्वारा उसके साथ गैंगरेप किया गया। इन दोनों आरोपियों का नाम पेट्रोल डालकर जलाने की घटना में भी शामिल है। इधर, पीड़िता के परिवार का कहना है कि जेल से छूटकर आए आरोपी पिछले दो दिनों से उन्हें धमकी दे रहे थे।
पीड़िता ने ममजिस्ट्रेट को बयान दिया है कि वह गुरुवार तड़के 4 बजे रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी। गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर, शुभम, शिवम और उमेश ने उसे घेर लिया और सिर पर डंडे से और गले पर चाकू से वार किया। इस बीच वह चक्कर आने से गिरी तो आरोपियों ने पेट्रोल डालकर आग लगा दी। बता दें कि इस केस की जांच रायबरेली पुलिस ने की थी। इस केस में दोनों आरोपी जेल से जमानत पर बाहर आए थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, रेप केस की सुनवाई में रायबरेली जाने के लिए पीड़िता स्टेशन की तरफ बढ़ रही थी, तभी रेप केस में नामजद दो आरोपियों समेत 5 लोगों ने पेट्रोल डालकर उसे जला दिया। चीखें सुनकर इकट्ठा हुए राहगीरों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर आई पुलिस उसे लेकर सबसे पहले सुमेरपुर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पीएचसी पहुंची। नाजुक हालत में उसे उन्नाव जिला अस्पताल भेज दिया गया। इससे पहले एसडीएम दयाशंकर पाठक पीएचसी पहुंच गए। उधर, यूपी पुलिस ने दावा किया है कि घटना के तत्काल बाद पीड़िता के बयान के आधार पर सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने जब आरोपियों के घरों पर छापे मारे तो तीन आरोपी अपने- अपने घरों पर परिवारवालों के बीच मौजूद मिले। घटना की गहन तफ्तीश की जा रही है। इस घटना से जुड़े कुछ और तथ्य भी मिले हैं, जिनकी पुलिस जांच कर रही है।

हैदराबाद एनकाउंटर पर आप भले खुश हों, लेकिन ये सारे हैं नाखुश…

नवीन समाचार, नई दिल्ली, 6 दिसंबर 2019। हैदराबाद में महिला चिकित्सक से गैंगरेप के बाद हत्या करने के आरोपियों के एनकाउंटर को लेकर जहां देश भर में आम लोग हैदराबाद पुलिस की तारीफ कर रहे हैं, वहीं देश में खासकर विपक्ष के कुछ राजनेता सामने आए हैं, जो पुलिस द्वारा किये गए एनकाउंटर पर सवाल उठा रहे हैं। इनमें से कुछ का कहना है कि देश के लोगों द्वारा की जा रही एनकाउंटर की प्रशंसा का अर्थ यह है कि देश के लोगों का देश की न्यायिक व्यवस्था से विश्वास उठ गया है। वहीं अन्य एनकाउंटर पर भी सवाल उठा रहे हैं कि किन परिस्थितियों में पुलिस ने एनकाउंटर किया। क्या आरोपितों के पास कोई हथियार थे ? क्या आरोपित पुलिस के हथियार छीन कर भाग रहे थे ? क्या न्यायिक व्यवस्था व सभ्य समाज में एनकाउंटर सही हैं ? आदि….
एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार हर मुठभेड़ की जांच की जानी चाहिए। उनके अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने ट्वीट किया, ‘न्यायिक व्यवस्था से परे इस तरह के एनकाउंटर स्वीकार नहीं किए जा सकते।’ एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, ‘हमें और जानने की जरूरत है। यदि क्रिमिनल्स के पास हथियार थे तो ही पुलिस अपनी कार्रवाई को सही ठहरा सकती है। जब तक पूरी सच्चाई सामने न आए तब तक हमें निंदा नहीं करनी चाहिए। लेकिन कानून से चलने वाले समाज में इस तरह का गैर-न्यायिक हत्याओं को सही नहीं ठहराया जा सकता।’
उनके अलावा राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा, ‘एक आम नागरिक के तौर पर मैं खुश हूं कि उनका वह अंत हुआ है, जैसा हम लोग चाहते थे। लेकिन, ऐसा न्याय कानूनी सिस्टम के तहत होना चाहिए था। यह सही प्रक्रिया के तहत होना चाहिए था।’ उन्होंने कहा कि हम हमेशा से उनके लिए मौत की सजा मांग रहे थे और यहां पुलिस सबसे अच्छी जज साबित हुई। मैं नहीं जानती कि आखिर किन परिस्थितियों में यह एनकाउंटर हुआ।
वहीं वामपंथी दल-सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि गैर-न्यायिक हत्याएं महिलाओं के प्रति हमारी चिंता का जवाब नहीं हो सकतीं। उन्होंने कहा कि बदला कभी न्याय नहीं हो सकता। इसके साथ ही उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप कांड के बाद लागू हुए कड़े कानून को हम सही से लागू क्यों नहीं कर पा रहे है।
बीजेपी की सांसद मेनका गांधी ने भी इस एनकाउंटर को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा, ‘जो भी हुआ है, वह इस देश के लिए बहुत भयानक हुआ है। आप लोगों को इसलिए नहीं मार सकते क्योंकि आप ऐसा चाहते हैं। आप कानून अपने हाथ में नहीं ले सकते। उन्हें किसी भी तरह से कानून के जरिए ही सजा दी जानी चाहिए थी।’
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि एनकाउंटर को लेकर लोग खुशी जाहिर कर रहे हैं। हालांकि यह भी चिंता का विषय है कि किस तरह से लोगों का क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम से भरोसा उठ गया है। निर्भया केस पर उन्होंने कहा कि मुझे दुख है कि उन्हें 7 साल हो गए हैं। हमने एक दिन में ही दया याचिका को खारिज कर दिया था। अब मैं राष्ट्रपति जी से अपील करता हूं कि वह भी जल्दी ही इस पर फैसला लें और दोषियों को फांसी के फंदे पर पहुंचाया जा सके।
इसी पर टिप्पणी करते हुए पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि एक जिम्मेदार व्यक्ति के तौर पर मैं कहूंगा कि इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मैं तथ्य नहीं जानता कि आखिर हैदराबाद में क्या हुआ। लेकिन एक जिम्मेदार नागरिक के तौर पर मैं कहूंगा कि इसकी पूरी जांच होनी चाहिए ताकि यह पता चल सके कि आरोपी भागने की कोशिश कर रहे थे या कुछ और मामला था।

यह भी पढ़ें : ऐसे हुआ ‘इन्काउंटर स्पेशलिस्ट’ की अगुवाई में हैदराबाद के हवसियों पर ‘फैसला ऑन द स्पॉट’, 2008 की कहानी दोहराई, जानें पूरी कहानी…

नवीन समाचार, हैदराबाद, 6 दिसंबर 2019। हैदराबाद के शादनगर में जानवरों की महिला चिकित्सक से बलात्कार और निर्मम हत्या करने की जानवरों जैसी ही हरकत करने वाले चार हवस के दरिंदों के साथ हैदराबाद पुलिस ने ‘इन्काउंटर स्पेशलिस्ट’ कमिश्नर वीसी सज्जनहार की अगुवाई में ‘फैसला ऑन द स्पॉट’ कर दिया है। दरिंदों को वहीं मुठभेड़ में मार डाला गया, जहां उन्होंने 27 साल की महिला चिकित्सक के साथ हैवानियत की थी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पुलिस जांच के लिए इन आरोपियों को मौका-ए-वारदात पर लेकर गई थी। चारों ने वहां से भागने की कोशिश की, जिस पर पुलिस ने उन्हें वहीं ढेर कर दिया।
उल्लेखनीय है कि हैदराबाद के साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार ने तत्कालीन आंध्र प्रदेश में सक्रिय माओवादियों के खिलाफ भी कई एनकाउंटर किए थे। इनका नाम सुनते ही माओवादी खौफ खाते थे। हैदराबाद में बतौर पुलिस कमिश्नर उन्होंने डेढ़ साल पहले ही कमान संभाली थी। तेलंगाना (तत्कालीन आंध्र प्रदेश) के वारंगल में साल 2008 में एक छात्रा के ऊपर तेजाब से हमला किया गया था। इस दौरान छात्रा गंभीर रूप से जख्मी हो गई थी। इस मामले ने भी राज्य में खूब सुर्खियां बटोरीं। पुलिस ने इस मामले में पकड़े गए तीन आरोपियों को एक मुठभेड़ में मार गिराया था। तब भी पुलिस ने कहा था कि आरोपियों ने पुलिस टीम पर हमला किया जिस दौरान हुई गोलीबारी में तीनों आरोपी मारे गए।
बता दें कि हैदराबाद शादनगर में जानवरों की डॉक्टर से रेप और हत्या के केस में पुलिस ने चारों आरोपियों शिवा, नवीन, केशवुलू और मोहम्मद आरिफ को पुलिस रिमांड में रखा था। बताया जा रहा है कि पुलिस जांच के लिए चारों को उस फ्लाइओवर के नीचे लेकर गई थी, जहां उन्होंने पीड़िता को आग के हवाले किया था। वहां क्राइम सीन को रीक्रिएट किया जा रहा था। इसी बीच चारों ने भागने की कोशिश की। इस पर पुलिस ने प्रतिक्रिया करते हुए गोलियां चलाईं और मुठभेड़ में चारों को ढेर कर दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हैदराबाद के साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर ने इसकी पुष्टि की है। बता दें कि हैवानियत भरे इस कांड के बाद से देश भर में उबाल था और चारों को फांसी दिए जाने की मांग उठ रही थी। जहां इन आरोपियों को लेकर जाया गया, इन्होंने रेप के बाद के डॉक्टर की हत्या करके शव को वहीं जलाया था। बता दें कि 27 नवंबर की रात 27 साल की जानवरों की डॉक्टर को इन दरिंदो ने शराब पीते हुए डॉक्टर को स्कूटी पार्क करते हुए देखा था और यह दुस्साहसी प्लान बना लिया था। स्कूटी की हवा निकालकर पहले मदद का बहाना किया और फिर मोबाइल छीन लिया। इसके बाद चारों आरोपियों ने डॉक्टर के साथ बारी-बारी से दरिंदगी की और गला दबाकर हत्या कर दी। ये यहीं नहीं रुके। हत्या के बाद शव को ट्रक में रखकर टोल बूथ से करीब 25 किलोमीटर दूर एक ओवरब्रिज के नीचे फेंक दिया और फिर पेट्रोल-डीजल छिड़कर आग के हवाले कर दिया। सुबह एक दूध बेचने वाले ने जले हुए शव को देखकर पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद इस हैवानियत के बारे में पता चला।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जिले में भी हैदराबाद के महिला डॉक्टर जैसे ही कांड की संभावना ! युवती ने बहन को फोन किया-घर आ रही हूं, लेकिन दूसरे दिन बदहवास मिली….

नवीन समाचार, लालकुआं, 30 नवंबर 2019। लालकुआं कोतवाली क्षेत्र की रहने वाल एक युवती को पड़ोस में ही रहने वाले एक युवक द्वारा हवस का शिकार बनाने का मामला सामने आया है। युवती की बहन द्वारा स्थानीय कोतवाली में दी गई तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा पंजीकृत कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

पीड़िता की बहन द्वारा कोतवाली में दी गई तहरीर के अनुसार पीड़िता गत 27 नवंबर को देहरादून में अपने पिता के अस्पताल में भर्ती होने के दौरान उनकी देखरेख करके देहरादून से वापस लौट रही थी। दोपहर बाद उसने पुनः फोन करके बताया कि वह रुद्रपुर पहुंच गई है। उसे लेने के लिए कोई लालकुआं आ जाए। लेकिन उसे लेने जब उसका भाई लालकुआं पहुंचा तो अपनी बहन यानी पीड़िता नहीं मिली। इस पर उसने उसके मोबाइल नंबर पर फोन किया तो फोन नहीं उठा। परेशान परिजन उसे तलाशने रुद्रपुर तक गए परंतु उसका कहीं पता नहीं चला। जब 28 नवंबर को उसकी गुमशुदगी की तहरीर देने परिजन घर से लालकुआं को आ रहे थे तो रास्ते में वह टुकटुक से आती हुई दिखाई दी। टुकटुक को रोककर जैसे ही उससे बातचीत की तो वह बदहवास हालत में थी। बस इतना ही बता रही थी कि जैसे ही वह लालकुआं उतरी उसे पड़ोस में रहने वाला राजू नाम का एक लड़का मिला। इससे आगे वह बताने की स्थिति में नहीं थी। उसके शरीर में चोटों के निशान भी थे। पीड़िता की बहन ने स्थानीय पुलिस को दी तहरीर में आशंका व्यक्त की है कि अवश्य ही युवती के साथ में दुष्कर्म हुआ है। जिसके बाद पुलिस ने मामले को राजू के विरुद्ध आईपीसी की धारा 323 और 376 के तहत पंजीकृत कर मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है। लालकुआ कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक योगेश चन्द्र उपाध्याय ने बताया युवती की चिकित्सकीय जांच कराने के साथ-साथ उसके मजिस्ट्रेटी बयान भी करा दिए गए हैं। उसने जांच अधिकारी को भी अपने बयान दिये हैं। मामले में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है, तथा प्रकरण की तफ्तीश की जा रही है। जांच के बाद आरोपित की गिरफ्तारी की जाएगी।

यह भी पढ़ें : विवि के छात्रा छात्रावास अधीक्षक ने छात्रा से कहा-‘पत्नी घर पर नहीं है, तुम आ जाओ’, राज्यपाल ने दिये कार्रवाई के आदेश

नवीन समाचार, देहरादून, 14 नवंबर 2019। देश के श्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में शामिल गोविंद बल्लभ पंत कृषि विविद्यालय के छात्रावास में एक छात्रा द्वारा छात्रावास अधीक्षक के विरुद्ध की गई शिकायत पर प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति बेबी रानी मौर्य ने बेहद गंभीरता से लेते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति को इस संबंध में जांच कर कठोर कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं।
उल्लेखनीय है कि पंतनगर विवि में गत दिनों छात्रों को नग्न कर रैगिंग किये जाने का विश्वविद्यालय की छवि को धूमिल करने वाला मामला उछलने के बाद एक छात्रा ने छात्रावास अधीक्षक (वार्डन) पर आरोप लगाया था कि उसने आधी रात में फोन पर टेक्स्ट संदेश भेज कर कहा था, ‘पत्नी घर पर नहीं है, तुम आ जाओ।’ इस मामले की छात्रा ने विवि के कुलपति से शिकायत की परंतु कोई कार्यवाही नहीं हुई।
उल्लेखनीय है कि विवि की कुछ छात्राओं ने हॉस्टल के वार्डन के खिलाफ कुलपति से शिकायत कर बताया था कि एक महीने पहले वार्डन ने एक छात्रा को टेक्स्ट मैसेज कर कहा था कि ‘घर पर बीवी नहीं है, खाना कौन बनायेगा ? तुम घर पर आ जाओ।’ जिसके बाद 21 अक्टूबर को जांच के लिए बुलाई गई विश्विद्यालय की छात्र अनुशासन समिति की बैठक में छात्रा ने टेक्स्ट मैसेज भी दिखाए। बताया गया है कि इससे पहले भी वार्डन के खिलाफ कई शिकायतें विवि प्रशासन से की गईं, लेकिन आरोपी वार्डन के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। जिसमें छात्रों की रैगिंग भी शामिल है। छात्राओं ने बताया कि वार्डन आये दिन उन्हें फोन पर घंटों परेशान करता था। अगर कोई फोन काट दे तो उसे धमकी देता था।

यह भी पढ़ें : कलयुगी हैवान पति ने पत्नी से खुद भी और दोस्त से भी कराया अप्राकृतिक दुष्कर्म

नवीन समाचार, काशीपुर, 12 नवंबर 2019। काशीपुर के कुंडेश्वरी चौकी क्षेत्र में पति परमेश्वर कहे जाने वाले एक हैवान ने अपनी गृह देवी कही जाने वाली पत्नी से घिनौना कृत्य किया है कि मानवता शर्मसार हो जाए। महिला ने अपने पति चंद्रशेखर जोशी पर न केवल स्वयं अप्राकृतिक तरीके से दुष्कर्म करने बल्कि अपने साथी अजय सिंह बिष्ट से भी ऐसा ही कराने का आरोप लगाया है। यही नहीं, आरोपितों ने विरोध करने पर महिला से मारपीट और जान से मारने की धमकी भी दी। महिला की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी पति और उसके साथी के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।
जानकारी देते अपर पुलिस अधीक्षक डॉ. जगदीश चंद्र ने पीड़िता के हवाले से स्थानीय पत्रकारों को बताया कि पीड़िता से गत एक नवबंर की शाम उसके पति और साथी ने जबदस्ती करते हुए उसके साथ दुष्कर्म और अप्राकृतिक कृत्य किया। तहरीर में बताया है कि विरोध करने पर आरोपितों ने उसके साथ मारपीट की और किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी। पीड़िता की तहरीर पर आरोपी पति और उसके साथी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 377, 504 और 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल की बेटी का उत्पीड़न कर रहे थे दिल्ली निवासी पति व ससुराली, मुकदमा दर्ज

नवीन समाचार, नैनीताल, 10 नवंबर 2019। नैनीताल के रुकुट कंपाउंड निवासी एक विवाहिता ने शादी के करीब एक वर्ष बाद ही अपने दिल्ली निवासी ससुरालियों-पति, सास, ससुर व ननद-नंदोई आदि पर दहेज के लिए प्रताणित करने के आरोप लगाए हैं। विवाहिता की तहरीर पर मल्लीताल कोतवाली पुलिस ने ससुरालियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। मामले की जांच महिला एसआई पुष्पा बिष्ट को सोंपी गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार रुकुट कंपाउंड मल्लीताल निवासी महिला का विवाह विगत वर्ष दिल्ली के दिलशाद गार्डन निवासी पुनीत सरन से हुआ था। आरोप है कि तभी से ससुराली उसका दहेज के लिए उत्पीड़न कर रहे हैं, जबकि विवाह में महिला के परिजनों ने अपनी क्षमता से अधिक दहेज दिया था। बावजूद उनकी दहेल की की भूख नहीं मिट रही थी। लिहाजा कोतवाली पुलिस ने आरोपित पति के साथ ही ससुर विनीत सरन, सास पूनम सरन व ननद दीपिका और नंदोई करन के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323, 504, 498ए व 3/4 दहेज उत्पीड़न अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।

यह भी पढ़ें : उफ ऐसी हवस: धर्म नगरी में मानसिक विक्षिप्त से आधी से भी कम उम्र के रिश्तेदार ने किया दुष्कर्म
नवीन समाचार, हरिद्वार, 4 नवंबर 2019। समाज में शिक्षा, महिलाओं के प्रति सम्मान बढ़ाने एवं खास कर यौन अपराधों पर दंड कड़े करने के बावजूद समाज में हवस कम होने का नाम नहीं ले रही। देवभूमि की धर्मनगरी कहे जाने वाले हरिद्वार में एक ऐसा मामला प्रकाश में आया है कि मानवता पर सवाल उठ रहे हैं। यहां श्यामपुर क्षेत्र में एक 45 वर्ष की मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला के परिजनों ने रिश्तेदारी में आने वाले एक 21 वर्षीय यानी करीब आधी उम्र के युवक सुमित पुत्र पूरन सिंह निवासी ग्राम अंदरपीली श्यामपुर हरिद्वार पर महिला से दुष्कर्म किये जाने का मुकदमा पुलिस में दर्ज कराया है। पुलिस ने महिला का मेडिकल परीक्षण करा लिया है, तथा युवक की गिरफ्तारी के लिए प्रयासों मंे जुट गई है। घटना 31 अक्टूबर की बताई जा रही है।

यह भी पढ़ें : युवक के फोन पर मैसेज भेजने से परेशान युवती पहुंची थाने

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 अक्टूबर 2019। नगर के मल्लीताल क्षेत्र की एक युवती ने सोमवार को मल्लीताल कोतवाली पहुंची और नगर के ही एक युवक के खिलाफ शिकायती पत्र सोंपा। युवती का कहना था कि युवक उसे फोन पर लगातार मैसेज भेजकर परेशान कर रहा है। कई बार मना करने पर भी मैसेज भेजने से बाज नहीं आ रहा है। इस पर कोतवाली पुलिस ने युवक का जवाब तलब किया। इस पर युवक की सिट्टी-पिट्टी गुम हो गया और उसने लिखित माफी मांगकर आगे से ऐसा करने से तौबा की। इस पर युवती ने उसे बमुश्किल आगे कानूनी कार्रवाई करने से बख्श दिया।

यह भी पढ़ें : हल्द्वानी के चिकित्सक पर छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज, मामले में 4 लाख की रंगदारी का ट्विस्ट..

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 15 सितंबर 2019। शहर के दमुवाढूंगा निवासी युवती की तहरीर पर काठगोदाम पुलिस ने शहर के एक चिकित्सक पर छेड़छाड़ के आरोप में मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है। युवती का कहना है कि वह आयुष आयुर्वेद क्लीनिक में कार्य करती है। गत दिवस क्लीनिक के संचालक आयुर्वेदिक चिकित्सक ने उससे छेड़छाड़ की, और विरोध करने पर धमकाया, लिहाजा उसके खिलाफ कार्यवाही की जाए। तहरीर के आधार पर पुलिस ने चिकित्सक के खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर उसकी गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिये है।

चिकित्सक के अनुसार मामला चार लाख रुपए की रंगदारी का

इधर आरोपित चिकित्सक के हवाले से बताया गया है कि युवती साजिशन एक दिन के लिए ही चिकित्सक के क्लीनिक पर कार्य करने गई थी। अगले दिन ही एक मीडिया कर्मी के द्वारा चिकित्सक से 4 लाख रुपए की मांग करते हुए मुकदमा दर्ज कराने की धमकी दी गयी है। चिकित्सक की ओर से विजीलेंस को भी मामले की जानकारी देने की बात की जा रही है। यदि ऐसा है तो मामले में काठगोदाम पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठते हैं।

यह भी पढ़ें : महिला पटवारी का शादी के नाम पर 5 वर्ष से करता रहा यौन शोषण, अपनी नौकरी लगी तो शादी से मुकर गया पशुधन प्रसार अधिकारी !

नवीन समाचार, जसपुर, 1 सितंबर 2019। पौड़ी जनपद में राजस्व उप निरीक्षक (पूर्व पद नाम पटवारी) ने पशुधन प्रसार अधिकारी के पद पर तैनात युवक पर शादी का झांसा देकर यौन शोषण करने का लगाया है। युवती की शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो उसने ऊधमसिंह नगर जिले के एसएसपी को शिकायती पत्र देकर कार्रवाई करने की गुहार लगाई है।
ऊधमसिंह नगर जनपद पतरामपुर पुलिस चौकी क्षेत्र निवासी युवती ने एसएसपी से शिकायत की है कि 2013 में शहर के मोहल्ला चौहान निवासी युवक से कोचिंग सेंटर में पढ़ाई के दौरान उसकी दोस्ती हुई थी। जनवरी 2014 में युवक ने उसे कोचिंग के नोट्स देने के लिए अपने घर बुलाया था, और शादी करने का झांसा देकर उससे यौन संबंध बना लिए थे। लेकिन बाद में शादी के लिए परिजनों को मनाने की बात कहकर टालता रहा। इधर दो वर्ष पूर्व राजस्व विभाग में उसकी नौकरी लग गई। इसके बाद भी वह पौड़ी में उसके तैनाती स्थलों पर भी आता रहा। इधर लगभग छह माह पूर्व युवक की भी पशुधन प्रसार अधिकारी के पद पर नौकरी लगी तो उसने तब से उसका फोन उठाना बंद कर दिया। इधर छह अगस्त 2019 को वह उससे अल्मोड़ा में मिला तो उसने फिर शादी का दबाव बनाया। तब उसने उसके साथ अभद्रता कर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए शादी से साफ इन्कार कर दिया। पता चला है कि वह किसी अन्य युवती से शादी कर रहा है और उसकी सगाई भी हो गई है। इस पर उसने पिछले माह 23 अगस्त को जसपुर कोतवाली पुलिस को घटना की तहरीर भी दी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। युवती का कहना है कि आरोपित के पिता उत्तर प्रदेश पुलिस में हैं इसलिए कोतवाली पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। उसे न्याय दिलवाया जाये।

यह भी पढ़ें : शादी के 13 माह बाद ही पत्नी को ज़हर देकर मारने वाले पुलिस कर्मी को आजीवन जेल की सजा…

नवीन समाचार, बागेश्वर, 31 अगस्त 2019। अपर जिला सत्र न्यायाधीश कुलदीप शर्मा की अदालत ने दहेज हत्या के आरोप में मृतका के पुलिस कर्मी पति को दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास एवं दहेज प्रतिषेध में एक साल की अतिरिक्त कठोर कारावास और दस हजार रुपये के अर्थदंड की सजा सुनाई है।
उल्लेखनीय है कि मृतका के भाई ने कोतवाली में तहरीर देकर कहा था कि उसकी बहन नीमा का विवाह 21 फरवरी 2018 को बागेश्वर पुलिस लाइन में चालक पद पर तैनात अनिल घिल्डियाल पुत्र उमाकांत निवासी कालीगांव, करगेत जिला अल्मोड़ा के साथ हुआ था। मृतका नीमा अपने पति के साथ बागेश्वर के सैंज में किराए के मकान में रहती थी। 26 मार्च 2019 को शादी के 13 माह बाद ही मृतका का शव स्थानीय लोगों ने अग्निकुंड पुल के पास विकास भवन वाली रोड पर नदी किनारे होने की सूचना स्थानीय पुलिस को दी। पुलिस और आसपास के लोगों ने शव की पहचान नीमा पत्नी अनिल घिल्डियाल के रूप में की। नीमा की मौत की सूचना पर उसके मायके से परिवार वाले आए और मौत को दहेज हत्या मानते हुए उसके भाई ने कोतवाली में तहरीर दी। जिस पर कोतवाली पुलिस ने अभियुक्त अनिल घिल्डियाल के विरुद्ध धारा 304बी, 498ए आइपीसी और 314 डीपी एक्ट में रिपोर्ट दर्ज की। मामले की विवेचना पुलिस क्षेत्राधिकारी महेश चंद्र जोशी ने की। विवेचक ने मृतका की मौत का सही कारण जानने के लिए कराई गई बिसरा रिपोर्ट में जहर मिलने की पुष्टि हुई। मामले का विचारण अपर सत्र न्यायाधीश कुलदीप शर्मा की अदालत में चला। अभियोजन पक्ष ने मामले में 12 गवाह और अभियुक्त के द्वारा अपने बचाव में एक गवाह अदालत के समक्ष परीक्षित करवाया गया। अदालत ने गवाहों के बयान और पत्रावली में उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर अभियुक्त को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास के दंड से दंडित किया। इसके अलावा दहेज प्रतिषेध के आरोप में एक साल के कठोर कारावास और दस हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया गया। मामले में राज्य की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी आविद हसन, सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी चंचल पपोला ने पैरवी की।

यह भी पढ़ें : अभागी की 3 भाइयों ने अस्मत लूटी, और पिता ने 10 लाख में अस्मत का सौदा कर दिया…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 20 अगस्त 2019। हल्द्वानी की एक अभागी युवती के साथ उसके दूर के रिश्ते के भाइयों ने तमंचे के बल पर गैंगरेप किया और इस सब का वीडियो भी बनाया। हद तो तब हो गई जब उसके पिता ने आरोपियों से दस लाख रुपये लेकर उसकी अस्मत का समझौता कर लिया। कोतवाली पुलिस ने एसीजेएम कोर्ट के आदेश पर आरोपियों के खिलाफ गैंगरेप का मुकदमा दर्ज किया है।
हल्द्वानी निवासी युवती ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर कहा है कि उसके रिश्ते का भाई उसे बीती नौ जून को कार से अपने घर ले गया। सुनसान रास्ते में कार में ही तीन लोगों ने तमंचे के बल पर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया, और मोबाइल से उसके साथ दुष्कर्म करने का वीडियो भी बना लिया। बाद में उसके पिता ने आरोपियों से 10 लाख रुपये लेकर समझौता कर लिया। लेकिन अब एसीजेएम कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने सभी आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

यह भी पढ़ें : प्यार में युवक बन गया युवती, उसने बलात्कार कर दिया, अब फोन पर धमका रहा, हाईकोर्ट ने एसएसपी को किया तलब..

प्रतीकात्मक फोटो।

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अगस्त 2019। प्रदेश के बहुचर्चित लिंग परिवर्तन कर महिला बनी युवती का मामला एक बार फिर से उत्तराखंड उच्च न्यायालय की दहलीज पर पहुंच गया है। पीड़ित युवती ने अपने बलात्कारी पूर्व पुरुष मित्र पर अब फोन पर धमकाने का आरोप लगाते हुए मामले की जांच के लिए जांच अधिकारी बदलने अथवा जांच सीबीसीआईडी या राजपत्रित अधिकारी से कराए जाने की मांग की है। मामले में उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति आलोक वर्मा की एकलपीठ ने मामले में जिले के पुलिस कप्तान से एक सप्ताह के भीतर व्यक्तिगत रूप से जवाब पेश करने को कहा है। मामले की सुनवाई के लिए 23 अगस्त की तिथि नियत की गई है।
उल्लेखनीय है कि पूर्व में पीड़ित ने अने पूर्व पुरुष मित्र परीक्षित जोशी के खिलाफ 17 जुलाई को कोटद्वारा कोतवाली में दुराचार की शिकायत की थी। लेकिन आरोप है कि पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद उन्होंने मुख्यमंत्री शिकायत पोर्टल में शिकायत की। किंतु जांच अधिकारी एसआई अरविंद पंवार ने ‘जांच अपेक्षित नहीं’ लिखकर मुख्यमंत्री पोर्टल में अपना जवाब दे दिया। सूचना के अधिकार से मांगी गई सूचना के आधार पर बीती 10 अगस्त को पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया। लेकिन फिर से जांच उसी एसआई अरविंद पंवार को दे दी गई, जो कि पहले ही मुख्यमंत्री पोर्टल में नकारात्मक उत्तर दे चुके हैं। ऐसे में पीड़िता का कहना है कि उनसे निष्पक्षता से जांच की अपेक्षा नही की जा सकती। गौरतलब है कि पूर्व में उच्च न्यायालय ने पीड़िता से हुए दुराचार के मामले में अपने आदेश में पीड़िता को सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के मुताबिक महिला मानने को कहा था।

यह भी पढ़ें : अपनी ही छात्रा से छेड़छाड़ के आरोपित प्रधानाचार्य को स्कूल से हटाकर किया संबद्ध, विभागीय कार्यवाही भी हुई शुरू ..

दान सिंह लोधियाल @ नवीन समाचार, धानाचूली, 23 जुलाई 2019। बीते 20 जुलाई को ओखलकांडा के खनस्यू राइंका में हुई छेड़छाड़ वाली घटना ने तूल पकड़ लिया है। राइंका खनस्यू में छात्रा से हुई छेड़छाड़ की घटना में आरोपित विद्यालय के प्रधानाचार्य को जिला शिक्षा अधिकारी ने विद्यालय से हटाकर अपने कार्यालय में अटैच करने का आदेश दे दिया है। साथ ही आरोपित प्रधानाचार्य के खिलाफ विभागीय कार्यवाही भी शुरू हो गयी है।
मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी कमलेश कुमार गुप्ता ने बताया खनस्यू के आरोपित प्रधानाचार्य कुंदन सिंह नयाल को जिला कार्यालय अटैच कर दिया गया है। साथ ही विभागीय जाँच भी की जा रही है। वहीं ग्रामीणों ने एसडीएम से मिलकर आरोपित प्रधानाचार्य के गिरफ्तारी की मांग दोहराई। वही उपजिलाधिकारी ने अपने स्तर से कार्यवाही का भरोसा दिया है। मंगलवार को ओखलकांडा विकास खंड के कालाआगर, बडो़ंन, गलनी, और खनस्यू के दर्जनों ग्रामीणों ने एसडीएम धारी विजयनाथ शुक्ल से मुलाकात कर आरोपित प्रधानाचार्य की गिरफ्तारी की मांग की। इस पर एसडीएम ने राजस्व उपनिरीक्षक को त्वरित जाँच कर कार्यवाही के निर्देश दिए। ज्ञापन के अनुसार आरोपित प्रधानाचार्य कुंदन सिह नयाल ने बीते सोमवार को पीड़ित लड़की को तहसील में घमकाया था। जिससे पीड़ित के पिता डरे व सहमे हुए है। साथ ही वह लड़की के भविष्य को लेकर चिंतित है। उन्होंने तत्काल गिरफ्तारी कर उन्हें न्याय दिलाने की मांग की की है।
उधर उपनिरीक्षक ने बताया लड़की के बयान दर्ज कराने के पश्चात आगे की कार्यवाही की जाएगी। आरोपित के विभाग के मेल व डाक से सूचित किया जा चुका है। आपको बताते चले बीते 20 जुलाई को राइका खनस्यू के प्रधानचार्य कुंदन सिंह नयाल पर उनके ही विधालय की 12 वी एक छात्रा ने अपने ऑफिस में बुलाकर हाथ पकड़ कर छेड़खानी का आरोप लगाया। जिस पर पट्टी पटवारी के यहाँ पीड़ित लड़की ने 354 ने तहत एफआईआर दर्ज कराई है। इधर धारी में ज्ञापन देने वालो में पानसिंह मेवाड़ी, डिकर सिह मेवाड़ी, राजेन्द्र सिंह, नंदन, रघुवीर सिंह स्थित कई लोग मौजूद थे।

यह भी पढ़ें : राइंका के प्रधानाचार्य पर छात्रा ने लगाया छेड़खानी का आरोप, मामले में दोनों और से राजनीति भी…

-पूरे दिन ग्रामीणों ने किया तहसील में कार्रवाई की मांग पर प्रदर्शन, देर शाम हुई रिपोर्ट दर्ज
नवीन समाचार, धानाचूली, 22 जुलाई 2019। जनपद के दूरस्थ ओखलकांडा विकास खंड के राजकीय इंटर कॉलेज खनस्यू के प्रधानाचार्य पर विद्यालय की ही एक छात्रा ने छेड़खानी का सनसनीखेज आरोप लगाया है। इससे शिक्षक समाज एक बार फिर से शर्मसार व कलंकित हो गया है। प्रधानाचार्य के खिलाफ कार्यवाही की माग को लेकर ग्रामीण दिन भर तहसील मुख्यालय में जमे रहे, जिसके बाद देर शाम को राजस्व पुलिस में आरोपित प्रधानाचार्य के खिलाफ खेड़खानी की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। मामले में राजनीति का घालमेल भी देखने को मिला। बताया गया है कि आरोपित की पत्नी राजनीति में हैं और अच्छे पद पर भी हैं। इसलिए आरोपित के खिलाफ कार्रवाई करने और न करने को लेकर दोनों ओर से दबाव भी देखा गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार राइंका खनस्यू के प्रधानाचार्य कुंदन सिह नयाल पर विद्यालय की कक्षा 12 की एक छात्रा ने छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए तहसील खनस्यू में लिखित सूचना दी। जिस पर भारतीय दंड संहिता की धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। राजस्व उप निरीक्षक मोहम्मद शकील अहमद ने पीड़ित छात्रा के हवाले से बताया कि प्रधानाचार्य ने उसे बीती 20 जुलाई यानी शनिवार को कन्या धन के फार्म में आय प्रमाण पत्र लगाने की बात को लेकर अपने ऑफिस में बुलाया। जिस पर उसने दो-चार दिन में आय प्रमाण पत्र देने की बात कही। इस बीच प्रधानाचार्य कुंदन सिह ने उसका हाथ पकड़ लिया और उसके साथ छेड़छाड़ शुरू कर प्यार जताने लगा। छात्रा ने विरोध किया तो वह किसी को ना बताने की बात कहने लगा। छात्रा ने अपने माता-पिता को आपबीती सुनाई, तो सोमवार को पट्टी बिश्जुला में एफआईआर दर्ज करा दी गई। राजस्व उप निरीक्षक शकील अहमद ने बताया कि भादंसं की धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्यवाही शुरू कर दी गई है। इससे पूर्व दिन भर तहसील खनस्यू में आरोपित प्रधानाचार्य के खिलाफ कार्यवाही की मांग करते लोगों का हुजूम उमड़ा पड़ा।

यह भी पढ़ें : पहाड़ के गाँव में 12 वर्ष की मासूम के अपहरण का प्रयास, दांत काट कर बची मासूम…

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 जुलाई 2019। दुग-नाकुरी तहसील के पचार गांव में आठवीं कक्षा की 12 वर्षीय छात्रा के अपहरण की कोशिश करने का मामला प्रकाश में आया है। दो युवकों ने जबरन छात्रा का मुंह बंद कर उसे कार में बैठाने का दुस्साहस किया। तभी छात्रा ने एक युवक के हाथ में जोर से दांत काट लिया और किसी तरह उनके चुंगल से भागकर घर पहुंची। उसने अपनी मां को आपबीती बताई। कुछ ही देर में यह खबर पूरे गांव में फैल गई। ग्रामीणों ने रात में ही रीमा पुलिस चौकी को सूचना दी। घटना से गुस्साए ग्रामीण मंगलवार को ग्राम प्रधान नवीन पांडेय के नेतृत्व में पीड़िता समेत रीमा चौकी में धमक गए। यहां पीड़िता तथा उसकी मां ने पुलिस को घटना की पूरी जानकारी दी। ग्रामीणों ने आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की और पुलिस को तहरीर सौंपी है।

बताया गया है कि छात्रा शाम करीब सात बजे पेन लेने के लिए देवी मंदिर स्थित दुकान में जा रही थी। दुकान के कुछ ही दूर दो युवक उसकी बेटी से मिले। उन्होंने मुंह में रूमाल बांध रखा था। उन्होंने छात्रा से कहा कि उसकी ताई उसे बुला रही है। उनकी बात पर भरोसा कर छात्रा उनके साथ जाने लगी। वह कुछ ही कदम चली थी कि युवकों ने छात्रा का मुंह बंद कर दिया और घसीटते हुए धौलदेव गधेरे तक ले गए। वहां पहले से एक लाल रंग की कार खड़ी थी। उसमें चालक भी बैठा था। दोनों युवक छात्रा को जबरन कार में बैठाने लगे। इसी बीच हिम्मत दिखाकर छात्रा ने एक युवक के हाथ में जोर से दांत गाढ़ दिया और किसी तरह उनके चुंगल से बच निकली।

पुलिस ने बताया कि ग्रामीणों ने पुलिस में शिकायती पत्र दे दिया है। पुलिस जांच में जुट गई है। घटना को अंजाम देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। प्रदर्शन करने वालों में भाजपा मंडल अध्यक्ष योगेश हरड़िया, महमंत्री कैलाश पांडेय, हेम पांडेय, मदन पांडेय, दीनदयाल पांडेय, आचार्य ललित पांडेय, आचार्य टेक चंद्र पांडेय, हेम पांडेय, बिशन राम, फकीर राम तथा तिलक राम गोस्वामी आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Loading...
loading...