Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

नैनीताल के बाल वैज्ञानिक का राष्ट्रीय इंस्पायर अवार्ड के लिए चयन

Spread the love
राष्ट्रीय इंस्पायर अवार्ड्स प्रदर्शनी के लिए चयनित बाल वैज्ञानिक रोहित कुमार।

नैनीताल। गत 22 व 23 मई को देहरादून के राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में आयोजित हुई राज्य स्तरीय इंस्पायर अवार्ड प्रदर्शनी में प्रतिभाग कर नैनीताल जनपद के एक बाल वैज्ञानिक का चयन राष्ट्रीय इंस्पायर अवार्ड्स प्रदर्शनी के लिए किया गया है। उल्लेखनीय है कि राज्य स्तरीय इंस्पायर अवार्ड प्रदर्शनी में राज्य भर के 97 एवं नैनीताल जनपद के 4 बाल वैज्ञानिकों ने जनपद के विज्ञान समन्वयक डा. बृजमोहन तिवारी के नेतृत्व में प्रतिभाग किया था।

राष्ट्रीय सहारा, 25 मई 2018

इनमें से डीएसबी आगर इंटर कॉलेज टांडी पोखराड़ के छात्र रोहित कुमार का चयन राज्य के कुल 10 बाल वैज्ञानिकों के साथ राष्ट्रीय इंस्पायर अवार्ड्स प्रदर्शनी के लिए हुआ है। जनपद के विज्ञान समन्वयक डा. तिवारी ने बताया कि रोहित ने ‘यातायात नियंत्रण हेतु स्वचालित प्रणाली’ का मॉडल प्रदर्शनी में प्रस्तुत किया, जिसे राज्य प्रदर्शनी में काफी सराहना मिली। रोहित की इस उपलब्धि पर जनपद के मुख्य शिक्षा अधिकारी केके गुप्ता, जिला शिक्षा अधिकारी एचएल गौतम व समन्वयक डा. तिवारी ने प्रशंसा करते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की है।

यातायात नियंत्रण की स्वचालित प्रणाली विकसित की है रोहित ने

नैनीताल। जनपद के बाल वैज्ञानिक रोहित के जिस प्रोजेक्ट को राष्ट्रीय इंस्पायर अवार्ड्स प्रदर्शनी के लिए चयनित किया गया है, उसमें यातायात नियंत्रण की सेंसर युक्त स्वचालित प्रणाली विकसित की गयी। रोहित के प्रोजेक्ट के अनुसार ट्रेफिक सिग्नल लाल होने के साथ ही सड़क पर स्वचालित अवरोधक खड़े हो जाएंगे, जिसके बाद लोग चाहकर भी ट्रेफिक सिग्नल लाल होने के बाद आगे नहीं बढ़ पाएंगे। इससे दुर्घटनाएं रोकने में मदद मिलेगी। रोहित ने ऐसी ही प्रणाली स्कूलों की छुट्टी व अस्पतालों के लिए भी विकसित करने का विचार दिया है, जिसे राष्ट्रीय नवप्रवर्तन प्रतिष्ठान के द्वारा सराहा गया है।

यह भी पढ़ें : 12 दिवसीय डीएलएड प्रशिक्षण का समापन, अब 31 से परीक्षायें

This slideshow requires JavaScript.

नैनीताल। भीमताल स्थित एलपी राजकीय इंटर कॉलेज में बीती 13 मई से चल रहे 76 प्रतिभागियों के 12 दिवसीय डीएलएड प्रशिक्षण का बृहस्पतिवार को समापन हो गया। इस अवसर पर आखिरी दिन कक्षा शिक्षण के महत्वपूर्ण घटक-टीएलएम यानी शिक्षण अधिगम सामग्री की प्रदर्शनी लगाई गई।

राष्ट्रीय सहारा, 25 मई 2018

प्रदर्शनी में प्रतिभागियों ने मॉडलों, पोस्टरों व अन्य शिक्षण सहगामी क्रियाकलापों की एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां दीं।आगे 31 मई तथा 1 व 2 जून को परीक्षायें आयोजित की जाएंगी। इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य डा. बृज मोहन तिवारी, राजेंद्र प्रसाद वर्मा एवं कार्तिक शर्मा आदि शिक्षक एवं लोकेश तिवारी, गीता पन्त, मंजू जीना, आँचल आर्य, तरुण कर्म्याल, बबीता चौधरी, पुष्पा बिष्ट, रश्मि आर्य, गीता सुयाल, रेनू बिष्ट, सुनीता, निधि राणा, सजनी आर्य, निवेदिता साह, विनोद, किरन, दीप्ति जोशी, कंचन जोशी, बीना पाठक, मनोज कुमार, दिव्या भगत, भानु आर्या, प्रीती ढैला, लता खाती, श्याम, अंकित कुमार, जानकी आर्य, सुचित्रा जोशी, कविता, निशि, एन मनराल, नीतू भाकुनी, बीना जोशी व भारती जोशी सहित अनेक प्रतिभागी शिक्षक-शिक्षिकाएं मौजूद रहे।

फोटो को बड़ा करने के लिए दो बार क्लिक करें :

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply