Khanan

अवैध खनन करने वाले पट्टा धारक पर 2.63 लाख का जुर्माना

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-एसडीएम ऋचा सिंह ने पट्टा धारक के खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही की संस्तुति भी की
नवीन समाचार, नैनीताल, 11 जून 2020। जनपद के कोश्यॉ कुटौली तहसील की एसडीएम ऋचा सिंह ने बृहस्पतिवार को अवैध उप खनिज के भण्डारण एवं परिवहन के खिलाफ कार्रवाई करते हुए को अपनी टीम के साथ ग्राम सेठी धारा में स्थित एसएस इंटरपाईजेज के भंडारण स्थल पर औचक छापेमारी की। छापेमारी के दौरान लगभग 144 घन मीटर उप खजिन का अवैध भंडारण मौके पर पकड़ा। इस पर पट्टा धारक पर उत्तराखंड खनिज नियमावली 2006 एवं उत्तराखण्ड खनिज नीति 2016 के अनुसार रॉयल्टी का 5 गुना अर्थात 440 प्रति घनमीटर की दर से 63 हजार 228 रुपये तथा अर्थदंड के रूप में दो लाख रुपये यानी कुल दो लाख 63 हजार 228 रुपये का जुर्माना लगाया गया। साथ ही पट्टाधारक के विरुद्ध कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही की संस्तुति भी एसडीएम ने कर दी है।
एसडीएम सिंह ने बताया कि डीएम सविन बंसल के निर्देशों पर लगातार अवैध खनन पर छापेमारी की जा रही है। इसी क्रम में यह छापेमारी भी की गयी। उन्होंने बताया कि अवैध उप खजिन को भंडारण करने वाले संचालनकर्ता (मुंशी) बक्तावर सिंह पुत्र प्रेम सिंह के सुपर्द करते हुए निर्देश दिए कि अवैध उप खनिज के खुर्द-बुर्द होने की दशा में सम्पूर्ण जिम्मेदारी संचालनकर्ता की होगी। छापेमारी टीम में बेतालघाट की तहसीलदार नीतेश डागर तथा राजस्व उप निरीक्षक प्रवीण सिंह ह्यांकी, राकेश कठायत आदि भी शामिल रहे।

यह भी पढ़ें : खनन डंपरों की वजह से नये 16 करोड़ से बने पुल पर आई दरारें

नवीन समाचार, नैनीताल, 01 जून 2020। नैनीताल जनपद के बेतालघाट ब्लॉक के ओखलढुंगा, अमगढ़ी होते हुए बेतालघाट-रामनगर जाने वाले मोटर मार्ग पर हालिया वर्षों में बने अमेल और मल्ली सेठी के बीच कोसी नदी पर बने पुल में दरारें आने की सूचना है। बेतालघाट के ज्येष्ठ प्रमुख गिरधर सिंह मजखोली ने जानकारी देते हुए बताया कि लगभग 7-8 साल पहले काबीना मंत्री यशपाल आर्या के प्रयासों से लगभग 16 करोड़़ की लागत से बने इस पुल पर एक बार में आरबीएम से लदे हुए 7 से 10 डंपर एक साथ चल रहे हैं। इस कारण पुल पर इतनी कम अवधि में ही दरारें उभर आई हैं, और इन्हें कच्चा प्लास्टर लगाकर भरा जा रहा है। वहीं स्थानीय विधायक संजीव आर्य ने बताया कि 2006-07 में यह पुल बना था। इस क्षेत्र में सरकार से स्वीकृत खनन होता है, यहां पांच-छह स्टोन क्रेशर भी हैं और स्थानीय लोगों के ही डम्पर चलते हैं और यह राजस्व पुलिस के अंतर्गत है। उन्होंने पुल पर आ रही दरारों पर संज्ञान में लेने की बात कही है।
चित्र परिचय: 01एनटीएल-2: नैनीताल: अमेल और मल्ली सेठी के बीच कोसी नदी पर बने पुल पर एक साथ गुजरते डंपर एवं पुल पर उभरी दरारें।

Leave a Reply

loading...