Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

पुलिस ने दबोचे चोरों के गिरोह के सदस्य

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 11 मई 2019। कोतवाली पुलिस ने सीमावर्ती जिलों में चोरी की कई वारदातों को अंजाम देने वाले 40 से अधिक बताये जा रहे चोरों के गैंग के तीन सदस्यों को 315 बोर का एक तमंचा, दो जिंदा कारतूस व दो चाकू तथा चांदी की भगवान गणेश की पांच मूर्तियां, 28 सिक्के व भारी मात्रा में सोने-चांदी के जेवरात व नगदी सहित दबोचा है। शनिवार को कोतवाली में पुलिस अधीक्षक अपराध प्रमोद कुमार ने मीडिया के सामने खुलासा करते हुए बताया कि क्षेत्र में आपराधिक वारदातों पर लगाम कसने के लिए एसएसपी बरिंदरजीत सिंह के आदेश पर सीओ सदर हिमांशु शाह के नेतृत्व में पुलिस की कई टीमें पिछले कई दिनों से चोरों के गिरोह को पकडऩे में लगी हुई थी। उन्होंने बताया कि शुक्रवार की रात मुखबिर की सूचना तीन संदिग्धों को घेराबंदी कर दबोच लिया। तीनों से कड़ी पूछताछ में घटनाओं को अंजाम देने में शामिल होने की बात कबूल की, और अपना नाम पता काशीपुर के मोहल्ला अल्ली खां निवासी नाहिद खां पुत्र ताहिर खां, नईम पुत्र हनीफ और काशीपुर के ही गड्ढा कॉलोनी निवासी इरफान पुत्र शेरा बताया। बताया कि गिरफ्तार चोर रुद्रपुर, काशीपुर, रामनगर के अलावा यूपी के सीमावर्ती जिले रामपुर, बरेली के कई थाना क्षेत्रों में चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहे थे। बताया कि तीनों बदमाश काफी शातिर किस्म के हैं और बीती रात भी किसी ताला लगे हुए बंद घर की रेकी के लिए निकले थे। अधिकारियों ने टीम में शामिल कर्मियों-वरिष्ठ उपनिरीक्षक प्रथम कमलेश भट्ट, आदर्श कालोनी चौकी इंचार्ज विनोद कुमार, बाजार चौकी प्रभारी होशियार सिंह, एसआई मनोज सिंह देव, एसआई उमराव सिंह समेत सिपाही गणेश पांडे, राजेंद्र जोशी, भूपेंद्र सिंह, अनुज वर्मा, रमेश कुमार व सुभाष कुमार आदि को ईनाम देने की घोषणा की। बताया गया है कि रुद्रपुर पुलिस का लगातार यह तीसरा खुलासा है।

यह भी पढ़ें : बागेश्वर के एसओजी प्रभारी पंकज जोशी इसलिये बन गये ‘पुलिसमैन ऑफ द मंथ’

-हल्द्वानी की बैंकट हॉल की दुर्घटना, श्रीलंका में हुए बम विष्फोटों एवं ग्रीष्मकालीन पर्यटन सीजन के दृष्टिगत विशेष सतर्कता बरतने के डीआईजी ने दिये निर्देश

बुधवार को कुमाऊं परिक्षेत्र की अपराध समीक्षा बैठक में बागेश्वर के एसओजी प्रभारी को सर्वश्रेष्ठ ‘पुलिसमैन ऑफ द मंथ’ का पुरस्कार भेंट करते डीआईजी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अप्रैल 2019। बागेश्वर के एसओजी प्रभारी उप निरीक्षक पंकज जोशी को बीते मार्च माह के लिए कुमाऊं परिक्षेत्र का सर्वश्रेष्ठ ‘पुलिसमैन ऑफ द मंथ’ के रूप में सम्मानित किया गया। बुधवार को कुमाऊं परिक्षेत्र की अपराध समीक्षा बैठक में डीआईजी अजय जोशी ने उन्हें बागेश्वर के एसपी लोकेश्वर सिंह के साथ नियमानुसार 1000 रुपये की नगद धनराशि एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। उन्हें यह पुरस्कार बीते माह 13 मार्च को लोक सभा चुनाव के दौरान सबसे बड़ी 424 पेटी अवैध अंग्रेजी शराब की बरामदगी करने पर दिया गया।
बुधवार को परिक्षेत्र मुख्यालय में आयोजित हुई समीक्षा बैठक में इसके अलावा पिछले दिनों हल्द्वानी के एक बैंकट हॉल में बरातियों को कार से कुचलने की घटना से सबक लेते हुए इनमें समुचित पार्किंग व अग्निशमन की व्यवस्था बनाने के लिए कार्रवाई किये जाने के आदेश दिये गये। साथ ही ग्रीष्मकालीन पर्यटन सीजन में सुचारू यातायात व्यवस्था बनाने पर विशेष ध्यान देने, दुर्घटनाओं को रोकने के लिए हर तरह की प्रभावी कार्रवाई करने, फेरी लगाने वालों आदि बाहरी व्यक्तियों का सत्यापन कराने तथा श्रीलंका में हुई सीरियल बम ब्लास्ट की घटना के परिप्रेक्ष्य में सुरक्षा की दृष्टि से होटलों, धार्मिक स्थलों, भीड़भाड़ के स्थलों व खासकर विदेशी लोगों के ठहरने के स्थानों पर खास सतर्कता बरतने के निर्देश दिये गये।

यह भी पढ़े : डीआईजी से शिकायत करने आये किच्छा में तैनात पुलिस कर्मी ने नैनीताल कोतवाली में गटका जहर..

कोतवाली की बैरक में विषाक्त पदार्थ पीता पुलिस कर्मी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 15 अप्रैल 2019। मित्र पुलिस की कार्यप्रणाली पर बड़ा प्रश्न चिन्ह लगाते हुए सोमवार को एक पुलिस कर्मी ने नगर की मल्लीताल कोतवाली की बैरक में जहर गटक लिया। गनीमत रही कि उसे जल्दी पुलिस कर्मियों ने पास ही स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय पहुंचा दिया, जहां जल्दी उपचार मिलने से उसकी जान बच गयी है। बताया गया है यह पुलिस कर्मी पूर्व में भी अपने एक मामले की सुनवाई न होने का आरोप लगाते हुए नैनी झील में कूद कर डूबने का प्रयास भी कर चुका है, और मल्लीताल कोतवाली में तैनाती के दौरान हंगामा भी कर चुका है। वह कई वीआईपी की सुरक्षा में भी तैनात रहा बताया जा रहा है। खास बात यह है कि पुलिस द्वारा पुलिस कर्मी के मामले की सुनवाई न होने की इस घटना की गंभीरता इसलिये भी बढ़ जाती है कि यह कुमाऊं परिक्षेत्र के सबसे बड़े पुलिस अधिकारी डीआईजी कार्यालय के बगल में स्थित मल्लीताल कोतवाली में हुई है, और पीड़ित पुलिस कर्मी डीआईजी कार्यालय में भी अपनी समस्या के समाधान के लिए गुहार लगा चुका है। पीड़ित पुलिसकर्मी ने विषपान करने का वीडियो भी बनाया है, और इसे स्वयं कुछ मीडिया कर्मियों को भी भेजा।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व में मल्लीताल कोतवाली में भी तैनात रहा व वर्तमान में ऊधमसिंह नगर किच्छा में तैनात पुलिस आरक्षी लक्ष्मण सिंह राणा सोमवार को मुख्यालय में डीआईजी अजय जोशी को एक शिकायती पत्र देने आया था। इसके बाद वह मल्लीताल कोतवाली के दोमंजिले में स्थित पुलिस कर्मियों के लिए बैरक में चला गया। बैरक में ही अपराह्न करीब तीन बजे शूट हुए बताये जा रहे एक वीडियो में नजर आ रहा है कि वह फैंटा कोल्ड ड्रिंक की नीले रंग के पेय से भरी बोतल से पेय पी रहा है, और संभवतया साथ में मौजूद किसी अन्य पुलिस कर्मी से बात भी कर रहा है। बताया गया है कि नीला पेय नुवान नाम का जहर है। पता चलने पर मल्लीताल कोतवाली के एसएसआई बीसी मासीवाल, एसआई दीपक बिष्ट व सतेंद्र गंगोला आदि उसे बीडी पांडे जिला चिकित्सालय ले गये। बाद में डीआईजी अजय जोशी सहित नगर कोतवाल ध्यान सिंह आदि भी अस्पताल पहुंचे। जहां उपचार के बाद ईएमओ डा. जाने आलम ने उसकी स्थिति में सुधार बताया है।

यह है पुलिस कर्मी की समस्या

बृहस्पतिवार को पत्रकार वार्ता करते डीआईजी अजय जोशी।

नैनीताल। विषपान करने वाले पुलिस कर्मी लक्ष्मण सिंह राणा के अनुसार वर्ष 2015 में मल्लीताल कोतवाली में तैनाती के दौरान कोतवाली परिसर में ही खड़ी उसकी बोलेरा कार संख्या यूके04एम-7467 गाड़ी के कागजात तथा उसकी पुलिस की वर्दी व अन्य सामान के साथ चोरी हो गयी थी, जो बाद में पुलिस ने बरामद भी कर ली, किंतु तब से यह गाड़ी उसे वापस नहीं मिल पायी। बताया जा रहा है कि यह गाड़ी लक्ष्मण ने किसी और से खरीदी थी और वह उसके नाम पर ट्रांसफर नहीं हुई थी, इस कारण ही गाड़ी मिलने के बावजूद उसे लौटाने में समस्या है। डीआईजी अजय जोशी ने बताया कि गाड़ी नाम पर न होने के कारण उसे वापस नहीं दी जा सकी। इस कारण ही उसे लगता है कि पुलिस में होने के बावजूद उसे न्याय नहीं मिला। इस कारण भी उसने ऐसा कदम उठाया है। इधर उसने एक प्रार्थना पत्र दिया है। उस पर यथोचित कार्रवाई करने का प्रयास किया जाएगा।

थराली के गांव में सड़ी-गली अवस्था में मिला बागेश्वर में तैनात पुलिस कर्मी

बागेश्वर। बागेश्वर पुलिस लाइन में तैनात और बीते दो सप्ताह से गायब एक पुलिस आरक्षी कैलाश चित्रवान का शव चमोली जिले के थराली के पास के राजस्व क्षेत्र कुलसारी गांव स्थित नहर में सड़ी-गली अवस्था में मिला। उसकी जेब से परिचय पत्र से उसकी शिनाख्त हुई। इस आधार पर ही राजस्व उपनिरीक्षक कृष्ण सिंह रावत ने बागेश्वर पुलिस को सूचित किया। करीब 35 साल का कैलाश उत्तरकाशी जिले का रहने वाला था। बैजनाथ पुलिस शव की शिनाख्त के लिए घटनास्थल की ओर रवाना हो गयी है।

यह भी पढ़ें : पर उपदेश कुशल बहुतेरे : देखिये महिला पुलिस कर्मियों की पहाड़ पर बिन हेलमेट हाथ-छोड़ मस्ती

हिमांशु गढ़िया @ नवीन समाचार, बागेश्वर, 9 अप्रैल 2019। शायद ‘पर उपदेश कुशल बहुतेरे’ का इससे बेहतर उदाहरण करीब में नहीं मिलेगा। सोशल मीडिया पर सोमवार को एक वीडियो फेसबुक के माध्यम से वायरल हुआ है जिसमें दो दुपहिया वाहनों पर चलती चार युवतियां पहाड़ की सर्पीली सड़क पर जमकर मस्ती कर रही हैं। उनमें से एक बाइक चालक युवती हैंडल से हाथ छोड़कर भी बाइक को चला रही है। साथ ही दो बाइकों में से केवल आगे चल रही बाइक की चालक ही हेलमेट पहनी हुई हैं, और अन्य तीन ने हेलमेट नहीं पहना है। वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि वीडियो बनाने वाली और पीछे से आ रही मोटर साइकिल दोनों ही रॉंग साइड (गलत तरफ से) चल रहे हैं। इससे भी अधिक चौंकाने वाली बात यह है कि बाइक सवार चारों युवतियां पीएसी रुद्रपुर में तैनात बताई जा रही हैं और इनकी लोक सभा चुनाव में सुरक्षा के लिए बागेश्वर में ड्यूटी लगी है। यानी युवतियां कोई आम नहीं, बल्कि जनता को नियमविरुद्ध यातायात पर चालान की कड़वी दवा पिलाने वाली उत्तराखंड पुलिस की महिला पुलिसकर्मी हैं।

देखें वीडियो :

सोशियल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में सड़क के एक ओर पहाड़ तो दूसरी तरफ खाई साफ नजर आ रही है। वीडियो में आ रहे जिक्र के अनुसार बागेश्वर जिले के कौसानी की हसीन वादियों से गुजरते हुए बिना हेलमेट पहने पीछे बैठे बैठक वीडियो बना रही एक पुलिस कर्मी (संभवतः मीना गोस्वामी) सहित एक अन्य टीवीएस अपाचे मोटर साइकिल में सवार कुल चार युवतियों में से केवल आगे चल रही स्कूटी चालक ने ही हैलमेट पहन रखा है। वीडियो में भले युवतियों का मोटर साइकिल को हाथ छोड़कर चलाना देखने वालों को भी रोमांचक कर रहा हो और युवतियां भी अपनी हिम्मत दिखा रही हों, लेकिन जैसा कि बताया जा रहा है कि युवतियां पुलिस कर्मी हैं, स्वाभाविक तौर पर प्रश्न उठ रहा है कि दूसरों को नियम-कानूनों का पाठ सिखाने वाली पुलिस इस पर क्या कहेगी।
वीडियो में कहा जा रहा है कि वीडियो बनाने वाली मीना गोस्वामी का भी वीडियो बनाने के लिए धन्यवाद होना चाहिए। सफर में खुश नजर आ रही स्कूटी चालक युवती का कहना है कि ऐसा आनंद उन्होंने कभी नहीं उठाया है। परिजनों के साथ तो बहुत घूमी हैं लेकिन दोस्तों के साथ पहली बाद सैर-सपाटे पर निकली हैं। वीडियो में पीले स्वेटर में काला सन ग्लास लगाए युवती कह रही हैं कि उन्होंने बहुत मुश्किल से स्कूटी का इंतजाम किया है। वीडियो का खतरनाक हिस्सा 1 मिनट 10 सेकेंड पर आता है जब पीछे मोटर साइकिल चला रही युवती दोनों हाथ छोड़ देती है। बताया जा रहा है कि सिविल ड्रेस में घूम रही इन पुलिस कर्मियों ने अपने फ्री टाइम में ना केवल कौसानी के गांधी ग्राम का दौरा किया बल्कि वो बैजनाथ मंदिर दर्शनों के लिए भी रुकी।
पुलिस कर्मियों के इस वीडियो संदेश से बागेश्वर और अल्मोड़ा जिले समेत राज्य के अन्य जिलों में मोटर साइकिल चालकों के कानून का सम्मान करने वालों के लिए अच्छा संदेश नहीं जा रहा है। साथ ही यह खतरनाक भी साबित हो सकता था। जरूरत यह भी है कि कानून की अवमानना करते इस तरह के वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट नहीं किये जाने चाहिए ताकि ये वाइरल ना हो सकें। इस बाबत पुलिस अब मामले की जांच करने की बात कर रही है।

पर उपदेश कुशल बहुतेरे

महिला पुलिस कर्मियों की इस जानलेवा मस्ती के उलट पुलिस दोपहिया वाहनों पर कितना सख्ती बरतती है, इसकी बानगी है कि बागेश्वर जैसे छोटे से जिले में पुलिस ने बीते केवल मार्च माह में ही 1852 चालान किये हैं, और 145 दुपहिया वाहनों को तो सीज ही कर दिया है, और इनसे दो लाख आठ हजार 350 रुपये जुर्माना वसूले हैं।

यह भी पढ़ें : सिख ट्रक चालक ने अपनी पगड़ी खुद उतारकर दिया था मामले को सांप्रदायिक रंग, 60 पर दर्ज हुआ मामला…

तलवारबाजी मामले में 60 अज्ञात के खिलाफ एफआईआर, लाठी चार्ज की होगी मैजिस्ट्रेट जांचनवीन समाचार, रुद्रपुर, 31 मार्च 2019। ऊधमसिंह नगर जनपद के रुद्रपुर में 29 मार्च को हाथ में तलवार लेकर उत्पात मचाने वाले ट्रक चालक को गिरफ्तार करने गई पुलिस टीम और एसपी क्राइम पर हमला करने के मामले में खुलासा हुआ है कि सिख ट्रक ड्राइवर ने खुद ही अपनी पगड़ी उतारी थी। घटना के दौरान सीपीयू द्वारा बनाये गये वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि 29 जुलाई की शाम करीब आठ बजकर 34 मिनट पर सिख ट्रक चालक खुद ही अपनी पगड़ी उतार रहा है, और सीपीयू कर्मियों के शांत तरीके से किये जा रहे अनुरोध पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। उल्लेखनीय है सिख ट्रक चालक की पगड़ी उतारे जाने को सांप्रदायिक रंग दिये जाने के कारण ही यह इस मामले में बड़ा बवाल हुआ। बाद में सिख ट्रक चालक ने पुलिस के अधिकारियों पर प्रहार करने के लिए तलवार भी निकाली।
इधर पुलिस के अधिकारियों पर हमला करने वाले 60 अज्ञात लोगों के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। साथ ही धारा 144 का उल्लंघन कर पुलिस टीम पर हमला करने वाले लोगों पर पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज के मामले की डीएम नीरज खैरवाल ने एसडीएम रुद्रपुर को मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं। उधर इस पूरे मामले में एसएसपी ने सिटी पेट्रोल यूनिट के दो कांस्टेबल को मजिस्ट्रेट जांच पूरी होने तक पद से हटाते हुए लाइन हाजिर कर दिया है। हालांकि इस बेहद गंभीर मामले पर जिले के एसएसपी के साथ ही पुलिस-प्रशासन का कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।
गौरतलब है कि 29 मार्च की रात रुद्रपुर-नैनीताल हाईवे पर हाथ में तलवार लेकर नो एंट्री में घुसे एक ट्रक चालक को हिरासत में लेने के दौरान एक समुदाय विशेष के लोगों ने एसपी क्राइम पर हमला कर दिया था। शराब के नशे में धुत ट्रक चालक करीब आधे घंटे तक हाईवे पर ट्रक खड़ा कर उत्पात मचाता रहा था। मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने काफी मशक्कत के बाद इस शराबी ट्रक चालक पर काबू पाया था। इस दौरान ट्रक चालक ने तलवार से सीओ पर भी हमला करने का प्रयास किया था। बचाव में पुलिसकर्मियों द्वारा हवाई फायर भी करनी पड़ी थी। ऐसे में पुलिस को मौके पर विरोध कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज करना पड़ा था।

यह भी पढ़ें : नशे के तस्करों व नशेड़ियों पर ‘….. फाड़’ कर रख देंगे नये कोतवाल

नये नगर कोतवाल ध्यान सिंह।

नवीन समाचार, नैनीताल, 5 फरवरी 2019। नैनीताल नगर की मल्लीताल कोतवाली के नये कोतवाल ध्यान सिंह ने नशेड़ियों व नशे के तस्करों के खिलाफ बेहद कड़ा प्रहार करने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा, लोग बस उन्हें इनकी सूचना दे दें, बाकी काम उनका है। वे उन पर डंडे फाड़ कर रख देंगे।
उत्तराखंड पुलिस के तेजतर्रार, अपने सेवाकाल का काफी समय यूपी में बिताने वाले पुलिस निरीक्षक ध्यान सिंह ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण किया। कार्यभार ग्रहण करते ही उन्होंने नगर के पत्रकारों एवं सभासदों सहित समाज के विभिन्न वर्ग के लोगों के साथ बैठक की, एवं समाज में बढ़ते नशे को जड़ से समाप्त करना उनकी पहली प्राथमिकता है। इसके लिए सभी वर्गों से सहयोग की अपील करते हुए उन्होंने नगर में नशेड़ियों के अड्डे बन चुके स्थानों एवं नशे का कारोबार फैला रहे लोगों के बारे में फीडबैक ली। कहा कि नशा संबंधित व्यक्ति का तो जीवन नष्ट कर ही देता है, उसके परिवार और समाज को भी दूषित करता है। नशे की गिरफ्त में आये व्यक्ति दुर्घटनाओं व आत्महत्या आदि के कारण भी अपना जीवन खो बैठते हैं और समाज में छेड़छाड़, चोरी-नकबजनी आदि अपराधों में भी संलिप्त होते है। इसके अलावा समाज को साथ लेकर यातायात व अपराध नियंत्रण के कार्य भी किये जाएंगे।

यह भी पढ़ें : नैनीताल जिले में 26 दरोगाओं के तबादले, गंगवार कालाढूंगी व जोशी को चोरगलिया की जिम्मेदारी

नवीन समाचार, नैनीताल, 3 फरवरी 2019। जनपद में गत दिवस हुए एक दर्जन इंस्पेक्टरों के अंतरजिला स्थानांतरणों के बाद एसएसपी सुनील कुमार मीणा ने तत्काल प्रभाव से नागरिक  पुलिस के 26 उप निरीक्षकों  के स्थानांतरण कर दिए हैंः-
1 उ0नि0 श्री शांति कुमार गंगवार थानाध्यक्ष चोरगलिया थानाध्यक्ष कालाढूंगी
2 उ0नि0 संजय जोशी प्रभारी चौकी लामाचौड़ थानाध्यक्ष चोरगलिया
3 उ0नि0 श्री कुलदीप सिंह थाना मुखानी एसएसआई भवाली एसएसआई भवाली
4 उ0नि0 श्री जितेन्द्र गर्ब्याल थाना चोरगलिया मानव वध विवेचना सैल,फील्ड यूनिट
5 उ0नि0 श्री मनोहर सिंह पांगती थाना काठगोदाम थाना लालकुंआ
6 उ0नि0 श्री इन्द्रजीत थाना रामनगर थाना लालकुंआ
7 उ0नि0 श्री विपिन चन्द्र जोशी प्रभारी चौकी पीरूमदारा थाना हल्द्वानी
8 उ0नि0 श्री चेतन रावत थाना रामनगर थाना हल्द्वानी
9 उ0नि0 श्री अजेन्द्र प्रसाद प्रभारी चौकी टी0पी0 नगर प्रभारी चौकी गर्जिया रामनगर
10 उ0नि0 श्री देवनाथ गोस्वामी थाना भवाली थाना मल्लीताल
11 उ0नि0 श्री हरीश पुरी प्रभारी चौकी गर्जिया रामनगर प्रभारी चौकी खैरना भवाली
12 उ0नि0 श्री राजेन्द्र कुमार पुलिस लाइन प्रभारी चौकी मालधन रामनगर
13 म0उ0नि0 आशा बिष्ट थाना मल्लीताल थाना भवाली
14 उ0नि0 श्री राजेश मिश्रा थाना लालकुंआ थाना बलभूलपुरा
15 उ0नि0 श्री संजय बृजवाल थाना कालाढूंगी प्रभारी चौकी आरटीओ रोड मुखानी
16 उ0नि0 श्री देवेन्द्र बिष्ट प्रभारी चौकी खैरना प्रभारी चौकी मण्डी हल्द्वानी
17 उ0नि0 श्री प्रताप सिंह नगरकोटी प्रभारी चौकी भोटिया पड़ाव थाना रामनगर
18 उ0नि0 श्री निर्मल लटवाल प्रभारी चौकी हीरानगर थाना चोरगलिया
19 म0उ0नि0 दीपा भट्ट थाना हल्द्वानी थाना चोरगलिया
20 उ0नि0 जगबीर सिंह पुलिस लाइन थाना काठगोदाम
21 उ0नि0 श्री कैलाश नेगी प्रभारी चौकी मण्डी प्रभारी चौकी टी0पी0 नगर
22 उ0नि0 श्री कवीन्द्र शर्मा थाना रामनगर प्रभारी चौकी पीरूमदारा
23 उ0नि0 श्री विनय मित्तल चौकी की मालधन प्रभारी चौकी लामाचौड़
24 उ0नि0 श्री राजेन्द्र रावत प्रभारी चौकी आरटीओ रोड थाना रामनगऱ
25 उ0नि0 श्री मंगल सिंह नेगी थाना बलभूलपुरा प्रभारी चौकी मेडिकल
26 उ0नि0 श्री भगवान महर पीआरओ प्रभारी चौकी भोटिया पड़ाव

उल्लेखनीय है कि इससे पहले रविवार को तीन इंस्पेक्टरों को खाली हुई कोतवालियों का प्रभार सोंपा गया था। निरीक्षक योगेश चंद्र उपाध्याय थाना लालकुआं और आशुतोष कुमार सिंह प्रभारी निरीक्षक कोतवाली भवाली की जिम्मेदारी दी गयी है। वहीं पिथौरागढ़ से आये ध्यान सिंह को जिला व मंडल मुख्यालय स्थित मल्लीताल कोतवाली का नया कोतवाल बनाया गया है।

यह भी पढ़ें : गणतंत्र दिवस पर नित्यानंद पन्त सहित उत्तराखंड के 52 पुलिस अधिकारी-कर्मचारी होंगे राज्यपाल से सम्मानित

-परेड ग्राउण्ड में होने वाले समारोह में राज्यपाल करेंगे सम्मानित 
नवीन समाचार, देहरादून, 23 जनवरी 2019। पुलिस विभाग में उत्कृष्ट कार्य के लिए गणतंत्र दिवस पर पुलिस विभाग के 52 अधिकारी और कर्मचारी सम्मानित होंगे। परेड ग्राउंड में आयोजित होने वाले समारोह में राज्यपाल इन अधिकारियों और कर्मचारियों को सम्मानित करेंगे। पुलिस मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार गणतंत्र दिवस-2019 पर सेवा आधार पर एवं विशिष्ट कार्य के लिए अधिकारियों व कर्मचारियों को राज्यपाल उत्कृष्ट सेवा पदक एवं उत्कृष्ट व सराहनीय सेवा सम्मान चिह्न प्रदान करने की घोषणा की गई है। इनमें उत्कृष्ट सेवा के लिए (सेवा के आधार पर) राज्यपाल उत्कृष्ट सेवा पदक से वीरेन्द्र सिंह रावत (पुलिस उपाधीक्षक देहरादून), प्रकाश चन्द्र देवली (पुलिस उपाधीक्षक पीटीसी नरेन्द्रनगर), धन सिंह तोमर (पुलिस उपाधीक्षक/सहायक सेनानायक 46वीं वाहिनी पीएसी रुद्रपुर), महेश चन्द्र जोशी (पुलिस उपाधीक्षक बागेश्वर), रमेश कुमार पाल (निरीक्षक एम/अनुभाग अधिकारी पुलिस मुख्यालय देहरादून) और राजेन्द्र सिंह नेगी (प्लाटून कमाण्डर 46वीं वाहिनी पीएसी रुद्रपुर) शामिल हैं। इसके अलावा विशिष्ट कार्य के लिए राज्यपाल उत्कृष्ट सेवा पदक से संजय उप्रेती (निरीक्षक एसडीआरएफ), सतीश शर्मा (उप निरीक्षक नागरिक पुलिस एसडीआरएफ), मनोज सिंह रावत (उप निरीक्षक नागरिक पुलिस एसडीआरएफ), रवि चौहान (लीडिंग फायरमैन एसडीआरएफ उत्तराखंड), रोशन कोठारी (लीडिंग फायरमैन एसडीआरएफ उत्तराखंड), वीरेन्द्र प्रसाद काला (आरक्षी नागरिक पुलिस एसडीआरएफ), सूर्यकान्त उनियाल (आरक्षी नागरिक पुलिस एसडीआरएफ), मनोज जोशी (आरक्षी नागरिक पुलिस एसडीआरएफ), विजेन्द्र कुड़ियाल (आरक्षी नागरिक पुलिस एसडीआरएफ), प्रवीण सिंह (फायरमैन एसडीआरएफ), योगेश रावत (फायरमैन एसडीआरएफ), सुशील कुमार (आरक्षी एसडीआरएफ), दिगम्बर सिंह (आरक्षी एसडीआरएफ) सम्मानित किए जाएंगे। इनके अलावा उत्कृष्ट एवं सराहनीय सेवा सम्मान चिह्न के लिए भी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के नामों की घोषणा की गई है, जिन्हें गणतंत्र दिवस पर पुलिस महानिदेशक द्वारा पुलिस मुख्यालय में सम्मान चिह्न से अलंकृत किया जाएगा। अराजपत्रित अधिकारी/कर्मचारी को सम्मान चिह्न के साथ पांच हजार और दो हजार रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। इनमें उत्कृष्ट सेवा के लिए (सेवा के आधार पर) उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिह्न के लिए चार अधिकारियों को सम्मानित किया जाएगा। नित्यानन्द पंत (निरीक्षक नागरिक पुलिस जनपद नैनीताल), हरीश मोहन मठपाल (उप निरीक्षक एम पुलिस मुख्यालय देहरादून), शिव प्रसाद (उपनिरीक्षक विशेष श्रेणी परिवहन एसटीएफ), मोहन राम (उपनिरीक्षक विशेष श्रेणी अभिसूचना पुलिस अधीक्षक (क्षेत्रीय) हल्द्वानी), विशिष्ट कार्य के लिए उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिह्न से जसवीर सिंह (आरक्षी नागरिक पुलिस देहरादून) को सम्मानित किया जाएगा। सराहनीय सेवा के लिए (सेवा के आधार पर) सराहनीय सेवा सम्मान चिह्न से सुरजीत कुमार (पुलिस उपाधीक्षक द्यमसिंहनगर), महेश चन्द्र (निरीक्षक एम/गोपनीय सहायक पुलिस मुख्यालय देहरादून), मोहन लाल (दलनायक आईआरबी-द्वितीय हरिद्वार), ललित मोहन भट्ट (रेडियो केन्द्र अधिकारी बागेश्वर), योगेन्द्र प्रसाद (द्वितीय अग्निशमन अधिकारी चमोली), मदन मोहन ढ़ौडियाल (उपनिरीक्षक अभिसूचना मुख्यालय देहरादून), दर्शन सिंह (प्लाटून कमाण्डर विशेष श्रेणी आईआरबी प्रथम रामनगर नैनीताल), लक्ष्मण राम ( प्लाटून कमाण्डर विशेष श्रेणी 46वीं पीएसी रुद्रपुर), मोहन सिंह (प्लाटून कमाण्डर विशेष श्रेणी 46वीं पीएसी रुद्रपुर), प्यारे लाल ( हेड कांस्टेबल प्रोन्नत नागरिक पुलिस बागेश्वर), तनवीर अब्बास (हेड कांस्टेबल प्रोन्नत नागरिक पुलिस ऊामसिहंनगर), सतीश चन्द्र (उपनिरीक्षक विशेष श्रेणी देहरादून), रमेश चन्द्र देवरानी (उप निरीक्षक विशेष श्रेणी नागरकि पुलिस ऊधमसिंहनगर), केदार दत्त (उपनिरीक्षक विशेष श्रेणी नागरिक पुलिस चम्पावत), जगदीश राम (प्लाटून कमाण्डर विशेष श्रेणी 46 वीं वाहिनी पीएसी रुद्रपुर), विक्रम सिंह (प्लाटून कमांडर विशेष श्रेणी 31वीं वाहिनी पीएसी रुद्रपुर), शान्ति प्रकाश (उप निरीक्षक विशेष श्रेणी सीआईडी खंड देहरादून) और रोहन सिंह (हेड कांस्टेबल नागरिक पुलिस नैनीताल) को सम्मानित किया जाएगा। विशिष्ट कार्य के लिए सराहनीय सेवा सम्मान चिह्न के लिए धर्मेन्द्र सिंह रौतेला (उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस/थानाध्यक्ष क्लेमेनटाउन देहरादून), नरेश राठौर (उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस /थानाध्यक्ष सहसपुर देहरादून), मोहन चन्द्र पाण्डे (उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस जनपद ऊधमसिंहनगर), नीरज कुमार (प्लाटून कमाण्डर एटीएस/40वीं वाहिनी पीएसी हरिद्वार), मदन सिंह (हेड कांस्टेबल कमाण्डो, एटीएस,/40वीं वाहिनी पीएसी हरिद्वार), लोकेन्द्र सिंह बिष्ट (उपनिरीक्षक अभिसूचना ऊधमसिंहनगर), जगदेव सिंह (हेड कांस्टेबल विशेष श्रेणी उत्तराखण्ड सदन नई दिल्ली), अनिल कुमार (आरक्षी नागरिक पुलिस देहरादून), आशीष रावत (उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस देहरादून), मुनीत कुमार (आरक्षी पुलिस मुख्यालय देहरादून), संदीप नेगी (निरीक्षक नागरिक पुलिस एसटीएफ), आशुतोष सिंह (उप निरीक्षक नागरिक पुलिस एसटीएफ), वेद प्रकाश भट्ट ( मुख्य आरक्षी एसटीएफ), विजेन्द्र चौहान (आरक्षी एसटीएफ) और लोकेन्द्र सिंह (आरक्षी एसटीएफ) के नाम की घोषणा की गई है।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं रेंज के नवागत डीआईजी ने बताया, कैसी हो ‘मित्र पुलिस’

  • कहा, अपराधियों पर सख्त, आम जन से नम्र रहे ‘मित्र पुलिस’, अपनी पहली औपचारिक पत्रकार वार्ता में बोले कुमाऊं परिक्षेत्र के नवागत उपमहानिरीक्षक अजय जोशी
बृहस्पतिवार को पत्रकार वार्ता करते डीआईजी अजय जोशी।

नवीन समाचार, नैनीताल, 3 जनवरी 2018। कुमाऊं परिक्षेत्र के नवागत उपमहानिरीक्षक डीआईजी अजय जोशी ने कमजोर व निचले वर्ग के लोगों व आम लोगों की शिकायतों पर तत्काल कार्यवाही किये जाने को अपनी पहली प्राथमिकता बताया। उन्होंने मित्र पुलिस की भूमिका को साफ करते हुए कहा कि उसे गंभीर आपराधिक मामलों में अपराधियों के साथ सख्ती दिखानी चाहिए जबकि सामान्य मामलों में सामाजिक पहलू को देखते हुए दोनों पक्षों के राजी होने पर समझौतावादी दृष्टिकोण भी अपनाना चाहिए तथा आम लोगों के प्रति मित्रवत नम्र होना चाहिए।
डीआईजी जोशी बृहस्पतिवार को अपने परिक्षेत्र कार्यालय में कार्यभार ग्रहण करने के उपरांत पत्रकारों से पहली औपचारिकत वार्ता कर रहे थे। उन्होने इस बात पर भी चिंता जताई कि अपराधों से कई गुना अधिक लोग सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवा रहे हैं। इस पर नियंत्रण लगाने के लिए हर स्तर पर प्रयास करने की आवश्यकता है। साथ ही उन्होंने सडक दुर्घटनाओं में अंकुश लगाकर उनमें जान माल की कमी लाने तथा नशाखोरी के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही किये जाने को भी अपनी प्राथमिकताओं’ में शामिल किया। साथ ही उन्होंने साइबर अपराधों के मामले पंजीकृत कर उनका अनावरण करने, आगामी लोकसभा चुनाव को सफलतापूवर्क सम्पन्न कराने, कानून व्यवस्था बनाये रखने में समन्वय स्थापित करने, सोशल मीडिया में अफवाहों का तत्काल खंडन करने, आपदा प्रबंधन मे बेहतर तालमेल किये जाने एवं पुलिस कर्मचारियों के कल्याण पर कार्य किये जाने की भी बात कही।इसके पश्चात उन्होंने पुलिस उपमहानिरीक्षक कार्यालय का भ्रमण भी किया, एवं लंबित प्रकरणों की जानकारी भी ली। साथ ही सभी कर्मचारियों के साथ वार्तालाप कर ईमानदारी व अनुशासन से कार्य करने की बात कही। इस अवसर पर अपर राज्य रेडियो अधिकारी गिरिजाशंकर पांडेय व देवेश पांडे आदि भी मौजूद रहे।
चित्र परिचयः 03एनटीएल-1ः नैनीताल। बृहस्पतिवार को पत्रकार वार्ता करते डीआईजी अजय जोशी।

यह भी पढ़ें : 18 साल बाद उत्तराखंड पुलिस की नियमावली तैयार, पुलिसकर्मियों के लिए बहुत कुछ होगा खास

नैनीताल, 27 अक्तूबर 2018। 18 साल के लंबे इंतजार के बाद उत्तराखंड पुलिस नियमावली बनकर तैयार हो गई हैं। इसी के साथ कांस्टेबल से लेकर इंस्पेक्टर तक के प्रमोशन का रास्ता साफ हो गया हैं। नियमावली न बन पाने के कारण काफी समय से कई सौ पुलिस कर्मियों के प्रमोशन अटके हुए थे। नियमावली आने के बाद नवंबर माह के अंत तक विभागीय प्रमोशन प्रक्रिया पूरी होने की उम्मीद जग गई हैं।

उत्तराखंड बनने के बाद पुलिस महकमे की नियमावली नहीं बन पाई थी। विभागीय प्रमोशन प्रक्रिया पुलिस स्थापना कमेटी के माध्यम से होते रहे हैं। पुलिस नियमावली न होने के चलते अधिकांश प्रमोशन प्रक्रिया को पुलिसकर्मी कोर्ट में चुनौती देते रहे हैं। इस कारण कई पदाें की प्रमोशन प्रक्रिया कई-कई साल उलझी रही हैं। लंबे समय से पुलिस नियमावली तैयार करने की कवायद चल रही थी। अब त्रिवेंद्र रावत सरकार में पुलिस नियमावली बनकर तैयार हुई हैं। कांस्टेबल, उप निरीक्षक, इंस्पेक्टर की नियमावली पर सरकार की मुहर लग चुकी है। हेड कांस्टेबल की नियमावली में थोड़ा सुधार अपेक्षित हैं। पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों के मुताबिक नियमावली तैयार होने के बाद विभाग में 600 कांस्टेबल, 70 हेड कांस्टेबल, 37 दारोगा और करीब 50 इंस्पेक्टरों के प्रमोशन का रास्ता साफ हो गया है।

प्रमोशन के बाद होगी सिपाहियों की भर्ती

पुलिस और पीएसी के कांस्टेबलों को बड़ी संख्या में प्रोन्नति मिलने के बाद प्रदेश भर में कांस्टेबल के छह सौ ज्यादा पद रिक्त होने का अनुमान है। ऐसे में नई भर्ती कर कांस्टेबल के पदों को भरा जाएगा। पुलिस मुख्यालय प्रमोशन प्रक्रिया पूरी करने के बाद शासन को कांस्टेबलों की भर्ती का प्रस्ताव भेजेगा।

मिनिस्ट्रीयल स्टाफ को करना होगा इंतजार 
पीएसी और पुलिस महकमे के मिनिस्ट्रीयल स्टाफ की नियमावली बननी बाकी हैं। पीएसी की नियमावली तो शासन में विचाराधीन है, जबकि मिनिस्ट्रीयल स्टाफ की नियमावली बनने में अभी थोड़ा समय लगेगा।

253 फायर कर्मियों की होगी भर्ती
अग्निशमन विभाग में फायर कर्मियों की कमी को भी पूरा किया जाएगा। शासन ने हाल में रिक्त चल रहे 253 फायर कर्मियों के पदों पर भर्ती को स्वीकृति प्रदान कर दी है। निकाय चुनाव के बाद फायर कर्मियों की भर्ती प्रक्रिया शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही हैं।

पुलिस नियमावली बनकर तैयार हो गई हैं। निकाय चुनाव की आचार संहिता हटने के बाद कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, उप निरीक्षक और इंस्पेक्टर के प्रमोशन की प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा। महकमे में बड़े पैमाने पर प्रमोशन प्रस्तावित हैं। हेड कांस्टेबल की नियमावली को संशोधन के साथ स्वीकृति के लिए भेजा गया हैं।
जीएस मत्तोलिया, पुलिस महानिरीक्षक कार्मिक

यह भी पढ़ें : पुलिस सुधार-पुलिस के काम के घंटे आठ घंटे तक सीमित करने का हाईकोर्ट का आदेश लागू करना दूर की कौड़ी

राष्ट्रीय सहारा, 18 मई 2018

-इसी कारण आदेशों पर राज्य के पुलिस कर्मियों में नहीं दिख रहा है खास उत्साह, उन्हें उम्मीद नहीं है कि राज्य सरकार इसे लागू कर पाएगी
नवीन जोशी, नैनीताल, 17 मई 2018। नैनीताल उच्च न्यायालय के राज्य पुलिस सुधार आयोग की 2012 में आई सिफारिशें लागू करने के सरकार को दिये गये आदेशों को लागू करने के लिए तीन माह का समय दिया है, लेकिन आसान नहीं लगता है। खासकर उत्तराखंड पुलिस के काम के घंटे आठ घंटे तक सीमित करने का आदेश लागू करना तो बहुत दूर की ही कौड़ी होगा। कारण, उत्तराखंड पुलिस में मौजूदा जरूरतों, यानी जब पुलिस कर्मी दिन के 24 घंटे कार्य करने के लिए पाबंद हैं, तब 1500 से अधिक स्वीकृत पद ही रिक्त पड़े हैं, जबकि मौजूदा जरूरतों के लिहाज से भी इसके कम से कम दोगुने पुलिस यानी 3000 कर्मियों की आवश्यकता है। और यदि राज्य सरकार नैनीताल उच्च न्यायालय के आदेशों पर राज्य पुलिस सुधार आयोग की सिफारिशें लागू करती है तो आठ-आठ घंटे की तीन शिफ्टों के लिए 3 गुना अधिक पुलिस कर्मियों की आवश्यकता पड़ेगी, जो कार्मिकों को वेतन देने के लिए सरकार के समक्ष आ रही कर्ज लेने की मजबूरी की स्थितियों में आसान नहीं लगता।

एक रिपोर्ट के अनुसार पूरे देश में पुलिस महकमे में पांच लाख पद रिक्त हैं। इसका असर पुलिसिंग पर पड़ रहा है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों से रिक्त पदों का ब्यौरा तलब किया है। उत्तराखंड पुलिस में भारतीय पुलिस सेवा, प्रांतीय पुलिस सेवा समेत सभी पदों को मिलाकर 27,442 पद हैं। इन पदों के सापेक्ष 26 हजार पदों पर कर्मचारी तैनात हैं। ऐसे में मौजूदा समय में रिक्त पदों की संख्या तकरीबन डेढ़ हजार है।
यही कारण है कि उत्तराखंड उच्च न्यायालय के ताजा आदेश ऊपरी तौर पर खासे आकर्षक नजर आने के बावजूद राज्य के पुलिस कर्मियों में खास उत्साह पैदा नहीं कर पाये हैं। पुलिस कर्मियों को उम्मीद नहीं है कि पुलिस इन आदेशों को लागू कर पायेगी। अलबत्ता उन्हें केवल इतना लगता है कि सरकार उन्हें उच्च न्यायालय के आदेशों पर वर्ष भर में 30 दिनों की जगह 45 दिनों का अतिरिक्त वेतन दे सकती है। इससे आरक्षियों को प्रतिवर्ष लगभग 14000, उपनिरीक्षकों को 18 हजार और निरीक्षकों को 22000 रुपयों का लाभ होगा, और सरकार पर करीब 28 करोड़ का प्रतिवर्ष अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ेगा। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक पूरन सिंह रावत ने भी माना कि आदेशों को लागू करना सरकार के लिए आसान नहीं होगा। अलबत्ता, उम्मीद जताई कि सरकार कोई बीच का रास्ता निकाल सकती है।

कुमाऊं परिक्षेत्र में 544 पद हैं रिक्त
नैनीताल। कुमाऊं परिक्षेत्र में निरीक्षक के स्वीकृत 56 में से 23, उप निरीक्षक नागरिक पुलिस के 297 में से 54, उप निरीक्षक सशस्त्र पुलिस के 14 में से 7, मुख्य आरक्षी नागरिक पुलिस के 393 में से 120, सशस्त्र पुलिस के 343 में से 64, आरक्षी सशस्त्र पुलिस के 1330 में से 250 व लिपिक संवर्ग के 79 में से 26 यानी कुल 544 पद रिक्त हैं। वहीं आरक्षी नागरिक पुलिस के 3182 स्वीकृत पदों पर अभी हाल में राज्य को मिली 700 में से 370 महिला आरक्षियों की नियुक्ति पदों को बढ़ाए बिना भविष्य में होने वाली रिक्तियों के सापेक्ष तैनात किये गये हैं। यही स्थित उपनिरीक्षक के पदों पर भी है, जहां 140 महिला उपनिरीक्षकों की तैनाती की गयी है।

उपलब्ध पदों के एक तिहाई पुलिस कर्मी ही हैं थानों में तैनात
नैनीताल। पुलिस महकमे की मौजूदा स्थितियों को देखें तो जितने पुलिस कर्मी जिलों में तैनात हैं, उनके एक तिहाई ही थानों पर रहकर अपना मूल कार्य कर पा रहे हैं। पुलिस से ही जुड़े सूत्रों ने उदाहरण के तौर पर बताया कि नैनीताल जिले में करीब 2100 पुलिस कर्मी तैनात हैं, इनमें से करीब 1250 नागरिक पुलिस व 850 सशस्त्र एवं एलआईयू, अग्निशमन, रेडियो व लिपिक संवर्ग आदि में कार्यरत हैं। नागरिक पुलिस के 1250 पदों में से करीब आधे कर्मी थानों-कोतवालियों व चौकियों से इतर नित नये खुल रहे विभिन्न प्रकोष्ठों (सेलों), एसआईटी, हाईकोर्ट, जीआरपी, सीपीयू, पुलिस मुख्यालय एवं कुमाऊं परिक्षेत्र कार्यालय आदि में संबद्ध हैं। ऐसे में केवल 700 के करीब पुलिस कर्मियों पर ही जनपद की 2011 की जनगणना के अनुसार करीब 9.55 लाख व वर्तमान में करीब 11 लाख की जनसंख्या की सुरक्षा व कानून व्यवस्था बनाये रखने का बोझ है।

आंध्र, तमिलनाडु, कर्नाटक में पहले से हैं प्राविधान
नैनीताल। पुलिस कर्मियों को आठ घंटे ही नौकरी कराने के प्राविधान देश के आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु व कर्नाटक आदि राज्यों की पुलिस नियमावली में पहले से हैं, बावजूद वहां भी इसका पालन नहीं हो पा रहा है। देश में केवल राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की पुलिस में ही आंशिक तौर पर यह व्यवस्था लागू हो पा रही है। अलबत्ता संबंधित याचिका के अनुसार केरल और मध्य प्रदेश के पांच पुलिस थानों में इस प्रयोग के बेहतर परिणाम देखने को मिले हैं, तथा मेघालय व पंजाब में इसके लिए पहल हुई हैं, लेकिन उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों में इस संबंध में कोई प्राविधान नहीं हैं।

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने राज्य पुलिस सुधार आयोग की सिफारिशों के तहत दिए 12 बड़े निर्देश

उत्तराखंड हाईकोर्ट की वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति शरत शर्मा की खंडपीठ ने अधिवक्ता अरूण भदौरिया की जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद प्रदेश में राज्य पुलिस सुधार आयोग की सिफारिशों के तहत पुलिस कर्मियों के कल्याण के लिये राज्य सरकार को पुलिस एक्ट व पुलिस कर्मियों के बाबत 10 बड़े आदेश-निर्देश दिए हैं। यह निर्देश हैं : 

  1. सरकार को दिए पुलिस एक्ट में बदलाव करने के निर्देश
  2. पुलिस कर्मियों से रोजाना आठ घंटे से अधिक काम न लेने के निर्देश
  3. कठिन ड्यूटी करने पर 45 दिन का अतिरिक्त वेतन देने के निर्देश
  4. पुलिसकर्मी को करियर के दौरान तीन प्रमोशन जरूरी
  5. तीन माह में पुलिस अतिरिक्त (कॉर्पस) फंड का गठन करने के निर्देश
  6. पुलिसकर्मियों की हर तीन महीने के भीतर स्वास्थ्य जांच हो
  7. पुलिस विभाग में योग्य चिकित्सकों खासकर पुलिस कर्मियों के तनाव को दूर करने के लिये मनोचिकित्सकों की भी नियुक्ति करे सरकार
  8. ट्रैफिक पुलिस कर्मियों को मिले मास्क व अन्य आवश्यक सुविधायें और गर्मी में आवश्यक अंतराल में ब्रेक देने के निर्देश
  9. पुलिस कर्मियों की आवासीय सुविधा में सुधार करें
  10. पुलिस वालों के रहने के लिए बनाई जाए हाउसिंग स्कीम
  11. खाली पदों को भरने के लिये विशेष चयन बोर्ड गठित करने के निर्देश
  12. पुलिस थानों में हो जिम और स्वीमिंग पूल की व्यवस्था

उल्लेखनीय है कि इस मामले में याचिकाकर्ता की ओर से मार्च 2013 में प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र दिया था। साथ ही प्रदेश मानवाधिकार आयोग में भी मामला दायर किया था। उसके बाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को पत्र भेजा था।

आज से इतिहास हो गई शेरशाह सूरी के जमाने की ‘गांधी पुलिस’ और ‘गाँधी’ !!

प्रदेश में राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के नाम से ‘गाँधी पुलिस’ कही जाने वाली 150 वर्षों से चली आ रही राजस्व पुलिस व्यवस्था अब इतिहास बन जाएगी। और इसके साथ लगता है कि गाँधी के ‘अहिंसात्मक’ सन्देश भी कहीं पीछे छूट जायेंगे। उत्तराखंड उच्च न्यायलय नैनीताल ने राजस्व पुलिस को तफ्तीश व कार्यवाही में असफल बताते हुए पूरे प्रदेश को सिविल पुलिस व्यवस्था के तहत लाने का आदेश दिया है। इधर शुक्रवार (12 जनवरी 2018) को नैनीताल हाईकोर्ट ने टिहरी जनपद के दहेज हत्या के एक मामले की सुनवाई करते हुए राजस्व पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े  किये और राज्य सरकार को छह महीने के अंदर इस व्यवस्था को खत्म करने के निर्देश दिये। जस्टिस राजीव शर्मा  व आलोक सिंह की खंडपीठ ने यह फैसला दिया है। बताते चलें कि वर्ष 2013 में केदारनाथ व प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्र  में आई आपदा के दौरान भी राजस्व पुलिस की कार्यशैली व क्षमता पर सवाल खड़े हुए थे और सरकार ने क्रमिक रूप से इस व्यवस्था को खत्म करने और उसके स्थान पर सिविल पुलिस का दायरा बढाने की नीति बनाई थी। त्यूनी थाने और कई पुलिस चौकियों को इसी उद्देश्य से गठित किया गया था। तत्कालीन पुलिस महानिदेशक ने भी राजस्व पुलिस को खत्म करने की सलाह सरकार को दी थी।

ऐतिहासिक संदर्भों की बात करें तो देश में ग्रांड ट्रंक रोड के निर्माता अफगान बादशाह शेरशाह सूरी के दौर में उनके दरबार में भूलेख के मंत्री राजा टोडरमल के द्वारा जमीन संबंधी कार्याे के सम्पादन के लिये पटवारी पद की स्थापना की गयी थी। बाद में मुगह शहंशाह अकबर ने भी इस प्रणाली को बढ़ावा दिया। ब्रितानी शासनकाल के दौरान इसमें मामूली परिवर्तन हुये यह प्रणाली जारी रही। उत्तराखंड में हाथ में बिना लाठी-डंडे के तकरीबन गांधी जी की ही तरह गांधी पुलिस भी कहे जाने वाले यह जवान देश आजाद होने और राज्य अलग होने के बाद भी अब तक उत्तराखण्ड राज्य के पर्वतीय भू भाग में शान्ति व्यवस्था का दायित्व सम्भाले हुऐ थे। लेकिन इधर अपराधों के बढने के साथ बदले हालातों में राजस्व पुलिस के जवानों ने व्यवस्था और वर्तमान दौर से तंग आकर स्वयं भी इस दायित्व का परित्याग कर दिया था।

1857 में जब देश का पहला स्वतंत्रता संग्राम यानी गदर लड़ा जा रहा था, तत्कालीन हुक्मरान अंग्रेजों को पहली बार देश में कानून व्यवस्था और शान्ति व्यवस्था बनाने की सूझी थी। अमूमन पूरे देश में उसी दौर में पुलिस व्यवस्था की शुरूआत हुई, लेकिन उत्तराखण्ड के पहाड़ों के लोगों की शान्ति प्रियता, सादगी और अपराधों से दूरी ने अंग्रेजों को अत्यधिक प्रभावित किया था, सम्भवतया इसी कारण अंग्रेजों ने 1861 में यहां अलग से ‘कुमाऊँ रूल्स” के तहत पूरे देश से इतर ‘बिना शस्त्रों वाली” गांधी जी की ही तरह केवल लाठी से संचालित ‘राजस्व पुलिस व्यवस्था” शुरू की, जो बाद में देश में ‘गांधी पुलिस व्यवस्था” के रूप में भी जानी गई। इस व्यवस्था के तहत पहाड़ के इस भूभाग में पुलिस के कार्य भूमि के राजस्व सम्बंधी कार्य करने वाले राजस्व लेखपालों को पटवारी का नाम देकर ही सोंप दिऐ गऐ। पटवारी, और उनके ऊपर के कानूनगो व नायब तहसीलदार जैसे अधिकारी भी बिना लाठी-डंडे के ही यहां पुलिस का कार्य संभाले रहे। गांवों में उनका काफी प्रभाव होता था, और उन्हें सम्मान से अहिंसावादी गांधी पुलिस भी कहा जाता था। कहा जाता था कि यदि पटवारी क्या उसका चपरासी यानी सटवारी भी यदि गांव का रुख कर ले तो कोशों दूर गांव में खबर लग जाती थी, और ग्रामीण डर से थर-थरा उठते थे।

एक किंवदन्ती के अनुसार कानूनगो के रूप में प्रोन्नत हुऐ पुत्र ने नई नियुक्ति पर जाने से पूर्व अपनी मां के चरण छूकर आशीर्वाद मांगा तो मां ने कह दिया, `बेटा, भगवान चाहेंगे तो तू फिर पटवारी ही हो जाएगा´। यह किंवदन्ती पटवारी के प्रभाव को इंगित करती है।

कहते हैं कि तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने प्रदेश के पर्वतीय इलाकों में पुलिस खर्च का बजट कम रखने के उद्देश्य से यह व्यवस्था की थी। इसके तहत पटवारी, कानूनगो और तहसीलदार जैसे राजस्व अधिकारी ही पुलिस, दरोगा व इंस्पेक्टर का काम काज देखते हैं। आईपीसी के आरोपियों की गिरफ्तारी व उन्हें जेल भेजने की जिम्मेदारी भी उन्हीं की होती है। आज की तारीख में भी प्रदेश के 65 फीसदी इलाके में अपराध नियंत्रण, राजस्व संबंधी कार्यों के साथ ही वन संपदा की हकदारी का काम पटवारी ही संभाल रहे हैं।लेकिन अब यह व्यवस्था खत्म होने वाली है।

पूर्व आलेख : ‘तदर्थ” आधार पर चल रही प्रदेश की राजस्व व्यवस्था

नवीन जोशी, नैनीताल। अंग्रेजों से भी पहले मुगल शासक शेरशाह सूरी के शासनकाल से देश में शुरू हुई और खासकर उत्तराखंड में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौर से सफलता से चल रही ‘गांधी पुलिस” के रूप में शुरू हुई राजस्व पुलिस व्यवस्था कमोबेश ‘तदर्थ” आधार पर चल रही है। प्रदेश के संपूर्ण राजस्व क्षेत्रों में पुलिस कार्य संभालते आ रहे पटवारियों ने बीते वर्ष दो अक्टूबर से पुलिस कार्यों का बहिस्कार किया हुआ है, जबकि उनसे ऊपर के कानूनगो, नायब तहसीलदार व तहसीलदार के अधिसंख्य पद रिक्त हैं। और जो भरे हैं वह, तदर्थ आधार पर भरे हैं। शुक्रवार (22.01.2015) को उत्तराखंड सरकार के इस मामले में पटवारियों के लिए ‘नो वर्क-नो पे” की कार्रवाई करने के फरमान से व्यवस्था की कलई खुलने के साथ ही सरकार की कारगुजारी भी सामने आने की उम्मीद बनती नजर आ रही है।
कुमाऊं मंडल की बात करें तो यहां 325 लेखपालों में से 204 एवं पटवारियों के 410 पदों में से 82 रिक्त हैं। आज से भी उनकी भर्ती की कवायद शुरू हो तो वह 30 जून 2016 के बाद ही मिल पाएंगे, और तब तक रिक्तियां क्रमश: 212 और 123 हो जानी हैं। इसी तरह नायब तहसीलदारों के 60 में से 14 तथा तहसीलदारों के 49 में से 33 पद रिक्त पड़े हैं। यही नहीं इन पदों पर जो लोग कार्यरत हैं, वह भी पिछले दो वर्ष से डीपीसी न हो पाने के कारण तदर्थ आधार पर कार्य करने को मजबूर हैं। स्थिति यह है कि उनकी तदर्थ नियुक्ति में डीपीसी होने पर दो वर्ष पुरानी ही तिथि से नियुक्ति माने जाने का उल्लेख है, किंतु इस दौरान नई नियुक्ति पर आए कर्मी उन्हें खुद से जूनियर बता रहे हैं। ऐसे में उनका मनोबल टूट रहा है। प्रदेश में 2006 से पटवारियों की नई भर्तियां नहीं हुई हैं, जबकि इनका हर वर्ष, अगले दो वर्ष की रिक्तियों का पहले से हिसाब लगाकर भर्ती किये जाने का प्राविधान है।

अब पटवारी खुद नहीं चाहते खुद की व्यवस्था, चाहते हैं पुलिस की तरह थानेदार बनना

-1857 के गदर के जमाने से चल रही पटवारी व्यवस्था से पटवारी व कानूनगो पहले ही हैं विरत
-पहले आधुनिक संसाधनों के लिए थे आंदोलित, सरकार के उदासीन रवैये के बाद अब कोई मांग नहीं
-हाईटेक अपराधियों और सरकार की अनसुनी के आगे हुए पस्त
नवीन जोशी, नैनीताल। अंग्रेजों से भी पहले मुगल शासक शेर शाह सूरी के शासनकाल से देश में शुरू हुई और उत्तराखंड में खासकर 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौर से सफलता से चल रही ‘गांधी पुलिस” व्यवस्था बीती दो अक्टूबर यानी गांधी जयंती के दिन से कमोबेश इतिहास ही बन गई है। पूरे देश से इतर राज्य के 65 फीसदी पर्वतीय हिस्से में राजस्व संबंधी कार्यों के साथ ही अपराध नियंत्रण और पूर्व में वन संपदा की हकदारी का काम भी संभालने वाले पटवारियों ने अपने बस्ते अपने जिलों के कलक्ट्रेटों में जमा करा दिए हैं, और मौजूदा स्थितियों में खुद भी अपनी व्यवस्था के तहत कार्य करने से एक तरह से हाथ खड़े कर दिए हैं। सवालिया तथ्य यह भी है कि इतनी बड़ी व्यवस्था के ठप होने के बावजूद शासन व सरकार में इस मामले में कोई हरकत नजर नहीं आ रही है।

लेकिन बदले हालातों और हर वर्ग के सरकारी कर्मचारियों के कार्य से अधिक मांगों पर अड़ने के चलन में पटवारी भी कई दशकों तक बेहतर संसाधनों की मांगों के साथ आन्दोलित रहे। उनका कहना था कि वर्तमान गांवों तक हाई-टेक होते अपराधों के दौर में उन्हें भी पुलिस की तरह बेहतर संसाधन चाहिऐ, लेकिन सरकार ने कुछ पटवारी चौकियां बनाने के अतिरिक्त उनकी एक नहीं सुनी। यहाँ तक कि वह 1947 की बनी हथकडि़यों से ही दुर्दांत अपराधियों को भी गिरफ्त में लेने को मजबूर थे। 2010 में  40-40 जिप्सियां व मोटर साईकिलें मिलीं भी तो अधिकाँश पर कमिश्नर-डीएम जैसे अधिकारियों ने तक कब्ज़ा जमा लिया। 1982 से पटवारियों को प्रभारी पुलिस थानाध्यक्ष की तरह राजस्व पुलिस चौकी प्रभारी बना दिया गया, लेकिन वेतन तब भी पुलिस के सिपाही से भी कम था। अभी हाल तक वह केवल एक हजार रुपऐ के पुलिस भत्ते के साथ अपने इस दायित्व को अंजाम दे रहे थे। उनकी संख्या भी बेहद कम थी।प्रदेश के समस्त पर्वतीय अंचलों के राजस्व क्षेत्रों की जिम्मेदारी केवल 1250 पटवारी, उनके इतने ही अनुसेवक, 150 राजस्व निरीक्षक यानी कानूनगो और इतने ही चेनमैन सहित कुल 2813 राजस्व कर्मी सम्भाल रहे थे। इनमें से कुमाऊं मंडल में 408 पद हैं, जिनमें से 124 पद लंबे समय से रिक्त पड़े हैं। इस पर पटवारियों ने मई 2008 से पुलिस भत्ते सहित अपने पुलिस के दायित्वों का स्वयं परित्याग कर दिया। इसके बाद थोड़ा बहुत काम चला रहे कानूनगो के बाद पहले 30 मार्च 2010 से प्रदेश के रहे सहे नायब तहसीलदारों ने भी पुलिस कार्यों का परित्याग कर दिया था, जबकि इधर बीती दो अक्टूबर से एक बार फिर गांधी पुलिस के जवानों ने गांधी जयंती के दिन से अपने कार्य का परित्याग कर दिया है। खास बात यह है कि उनकी अब कोई खास मांग भी नहीं है। मंडलीय अध्यक्ष कमाल अशरफ ने कहा कि मौजूदा व्यवस्थाओं, सुविधाओं से वर्तमान हाई-टेक अपराधियों के दौर में कार्य कर पाना संभव नहीं है। अच्छा हो कि चार-पांच पटवारी सर्किलों को जोड़कर नागरिक पुलिस के थाने-कोतवाली जैसी कोई व्यवस्था ही कर दी जाए। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस डीआईजी गणेश सिंह मर्तोलिया ने कहा कि जब तक राजस्व पुलिस कार्य से विरत है, नागरिक पुलिस कार्य करने को तैयार नहीं है।

1.5 करोड़ में करते हैं 400 करोड़ का काम

नैनीताल। उत्तराखंड के मुख्य सचिव सुभाष कुमार ने कुछ समय पूर्व एक मुलाकात में इस प्रतिनिधि को साफगोई से बताया कि पूरे प्रदेश में राजस्व पुलिस व्यवस्था पर करीब केवल 1.5 करोड़ रुपये खर्च होते हैं, जबकि इसकी जगह यदि नागरिक पुलिस लगाई जाए तो 400 करोड़ रुपये खर्च होंगे। यही बड़ा कारण है कि राज्य सरकार राजस्व पुलिस व्यवस्था को जारी भी रखना चाहती है, लेकिन उनकी सुन भी नहीं रही, यह सवालिया निशान खड़े करता है।

Loading...

नवीन समाचार

मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….।मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड

Leave a Reply