News

अंकिता हत्याकांड के परिप्रेक्ष्य में उच्च न्यायालय में राजस्व पुलिस व्यवस्था को समाप्त करने की मांग पर दायर हुई याचिका, सीएस से व्यक्तिगत जवाब तलब…

यहाँ क्लिक करके देखें नैनीताल जनपद के सभी पुलिस अधिकारियों के फोन नंबरों की सूची:

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 28 सितंबर 2022। राज्य के बहुचर्चित अंकिता हत्याकांड के परिप्रेक्ष्य में उत्तराखंड में राजस्व पुलिस व्यवस्था को समाप्त करने की मांग उत्तराखंड उच्च न्यायालय तक पहुंच गई है। इस पर उच्च न्यायालय में समाधान 256 कृष्णा विहार लाइन जाखन देहरादून की ओर से जनहित याचिका दायर की गई है। याचिका में कहा गया कि उच्च न्यायालय ने वर्ष 2018 में राज्य में राजस्व पुलिस व्यवस्था को छः माह के भीतर समाप्त करने के आदेश दिए थे। यदि इस आदेश का पालन किया होता तो अंकिता हत्याकांड की जांच में इतनी देरी नहीं होती, इसलिए राजस्व पुलिस व्यवस्था को समाप्त किया जाए।

बुधवार को इस याचिका पर मुख्य न्यायधीश विपिन सांघी व न्यायमूर्ति आरसी खुल्बे की खंडपीठ ने सुनवाई करते हुए प्रदेश के मुख्य सचिव से तीन सप्ताह में अपना व्यक्तिगत शपथपत्र पेश कर यह बताने को कहा है कि इस संबंध में 2018 में उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णय का क्या हुआ ?

जनहित याचिका में कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने 13 जनवरी 2018 को राज्य सरकार को राज्य में 157 वर्षों से चली आ रही राजस्व पुलिस व्यवस्था को छः माह में समाप्त कर अपराधों की विवेचना का काम सिविल पुलिस को सौंपने, इन छः माह के भीतर राज्य में थानों की संख्या बढ़ाने व उन्हें सुविधाएं उपलब्ध कराने, सिविल पुलिस की नियुक्ति के बाद राजस्व पुलिस को प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करने और अपराधों की जांच के कार्य से हटाने के निर्देश दिए थे।

यह भी कहा था कि राज्य की जनसंख्या एक करोड़ से अधिक के सापेक्ष राज्य में थानों की संख्या 156 बहुत कम है। 64 हजार लोगों पर औसतन एक थाना है। इसलिए थानों की संख्या को बढ़ाया जाए ताकि अपराधों पर अंकुश लग सके। इसके अलावा एक पुलिस सर्किल में दो थाने बनाने और थाने का संचालन एक सब इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अधिकारी को देने को भी कहा था।

2004 में सर्वोच्च न्यायालय ने भी नवीन चंद्र बनाम राज्य सरकार के मामले में इस व्यवस्था को समाप्त करने की आवश्यकता समझी थी। यह भी कहा था कि राजस्व पुलिस को सिविल पुलिस की भांति प्रशिक्षण नहीं दिया जाता है। राजस्व पुलिस के पास कम्प्यूटर, डीएनए और रक्त परीक्षण, फोरेंसिक जांच, फिंगर प्रिंट जैसी मूलभूत आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध नहीं होती हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : यौन शोषण के आरोप में फंसे कोतवाल अशोक कुमार, डीजीपी ने किया निलंबित

नवीन समाचार, देहरादून, 27 सितंबर 2022। प्रदेश पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए यौन शोषण के आरोप में जसपुर के कोतवाल अशोक कुमार को निलंबित कर दिया है। बताया गया है कि महिला ने डीजीपी से मिलकर उनसे कोतवाल से संबंधित लगभर डेढ़ मिनट का एक वीडियो दिखाते हुए खुद का यौन शोषण करने की शिकायत की थी। माना जा रहा है कि इस आधार पर ही कोतवाल अशोक कुमार को निलंबित किया गया है। मामले की जांच सीओ काशीपुर वंदना वर्मा को सौंपी गई है। देखें विडियो :

Jaspur Kotwal suspended : यौन शोषण के आरोप में जसपुर कोतवाल अशोक कुमार  निलंबित - Jaspur Kotwal Ashok Kumar suspended for women harassmentप्राप्त जानकारी के अनुसार एक महिला ने उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार को एक शिकायती पत्र दिया था। जिसमें इंस्पेक्टर अशोक कुमार पर पद का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया था। महिला ने डीजीपी को इस संबंध में एक करीब डेढ़ मिनट का वीडियो भी सौंपा था, जिसमें कोतवाल महिला के साथ दिखाई दे रहे थे। अब यह वीडियो भी जांच के दायरे में है।

उल्लेखनीय है कि मूल रूप से हरिद्वार जनपद के निवासी अशोक कुमार कुछ माह पूर्व ही शिकायत के बाद किच्छा के कोतवाल के पद से भी हटाए गए थे और जसपुर भेजे गए थे। वहां उन पर कांग्रेसियों के उत्पीड़न का आरोप लगा था। विधायक तिलकराज बेहड़ के सदन में मामला उठाने के बाद उनका तबादला किच्छा से जसपुर कर दिया गया था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अंकिता भंडारी हत्याकांड को लेकर विधानसभा अध्यक्ष ऋतु बुरी तरह व्यथित, उठाया बड़ा सवाल

विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी ने CM धामी से की मुलाकात | PostmanIndiaनवीन समाचार, देहरादून, 24 सितंबर 2022। प्रदेश की विधानसभा अध्यक्ष ऋतु भूषण खंडूड़ी भी अंकिता भंडारी की निर्मम हत्या से व्यथित हैं। उन्होंने इस मामले को लेकर राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में अब भी जारी, कभी गांधी पुलिस भी कही जाने वाली राजस्व पुलिस को लेकर सवाल उठाए हैं। इस संबंध में उन्होंने प्रदेश में राजस्व पुलिस की व्यवस्था को समाप्त करने के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है।

खंडूडी ने अपने पत्र में जहां कहीं भी राजस्व पुलिस की व्यवस्था चली आ रही है, उसे तत्काल समाप्त कर सामान्य पुलिस बल के थाने-चौकी स्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शीघ्र ही इस विषय पर आदेश जारी करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आज भी कई क्षेत्रों में राजस्व पुलिस व्यवस्था जारी है।

आज के आधुनिक युग में जहां सामान्य पुलिस विभाग में पूरे देश में एक राज्य से दूसरे राज्य में पीड़ित जीरो एफआईआर दर्ज कराकर अपनी शिकायत पंजीकृत करा सकता है। वहीं ऋषिकेश शहर से मात्र 15 किमी की दूरी पर राजस्व पुलिस है, जिसके पास पुलिस के आधुनिक हथियार और जांच के लिए किसी भी प्रकार का प्रशिक्षण नहीं है, वे जांच कर रहे है। यह जानकर अत्यन्त ही पीड़ा होती है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस दरोगा भर्ती जांच मामले में बड़ा समाचार, अब सामने आएंगे फर्जी तरीके से भर्ती दरोगाओं के नाम…

नवीन समाचार, देहरादून, 22 सितंबर 2022। 2015 में हुई दरोगा भर्ती की जांच मामले में बड़ा समाचार है। इस मामले की जांच कर रही उत्तराखंड पुलिस के हल्द्वानी स्थित कुमाऊं सतर्कता मुख्यालय ने शासन को पत्र भेजकर प्राथमिकी दर्ज कराने की अनुमति मांगी है।

इस संदर्भ में पुलिस अधीक्षक सतर्कता प्रह्लाद नारायण मीणा ने बताया कि शासन द्वारा उन्हें सतर्कता जांच के निर्देश मिले थे। जांच में प्रथम दृष्टया कमियां मिली हैं। लिहाजा इसके बाद मामले में प्राथमिकी कराने के लिए शासन की अनुमति मांगी गई है। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद उन उप निरीक्षकों के नाम सामने आएंगे जो अवैधानिक तरीके से सेवा में आए हैं।

उल्लेखनीय है कि 2015 में 339 पदों पर उप निरीक्षक पद पर भर्ती हुई थी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर इस नियुक्ति की गड़बड़ी की जांच सतर्कता को सौंपी गई है। अब कुमाऊं सतर्कता दल ने जांच प्रारंभ कर दी है जल्द ही अनियमित रूप से भर्ती हुए दारोगाओं पर कार्रवाई होगी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड पुलिस की दरोगा भर्ती की विजीलेंस जांच शुरू, टॉपर होने के बावजूद फिसड्डी दरोगाओं में हड़कंप !

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 22 सितंबर 2022। विजिलेंस ने उत्तराखंड पुलिस की दरोगा भर्ती की जांच शुरू कर दी है। प्रदेश के डीजीपी अशोक कुमार ने इसी पुष्टि करते हुए कहा है कि मामले की निष्पक्ष जांच की जाएगी और दोषी पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई होगी।

बताया जा रहा है कि विजिलेंस की जांच शुरू होते ही राज्य में खासकर 2015 बैच के दरोगाओं यानी सब इंस्पेक्टरों यानी उप निरीक्षकों में हड़कंप मचा है। विजिलेंस सूत्रों के अनुसार वर्ष 2015 में उत्तराखंड में 339 दारोगा भर्ती हुए। इनमें से कुमाऊं में 120 दारोगा तैनात हैं। इनमें 46 ऊधमसिंह नगर व 38 नैनीताल, पिथौरागढ़ में 15 और अल्मोड़ा, चंपावत व बागेश्वर में सात-सात दरोगा सेवारत हैं। सभी दारोगाओं का मुख्यालय से रिकार्ड लेकर जांच शुरू कर दी गई है।

यह भी बताया जा रहा है कि विजीलेंस के निशाने पर सबसे पहले वह टॉपर दरोगा हैं, जिनकी कार्यशैली लचर है। बताया जा रहा है कि इनमें से कुछ दरोगाओं को हिंदी लिखने में भी दिक्कत होती है। चर्चा है कि वह केस डायरी भी नहीं लिख पाते और यह काम पैंसे देकर या कोई बहाना बनाकर अपने मातहतों से कराते हैं। ऐसे दारोगाओं पर गाज गिरनी तय मानी जा रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस दरोगा भर्ती में हुई धाधली में 30-35 दरोगाओं की जा सकती है नौकरी, नकल करके पास हुए, केस डायरी भी नहीं भर पाते…

नवीन समाचार, देहरादून 6 सितंबर 2022। उत्तराखंड में भर्तियों में हुई धांधली को लेकर बवाल मचा है। विधानसभा सचिवालय में पिछले दरवाजे से हुई नियुक्तियों के साथ ही पुलिस दरोगा भर्ती में हुई धांधली की भी जांच शुरू हो गई है।

गोपनीय जांच में पता चला है कि वर्ष 2015 में भर्ती हुए 30 से 35 दरोगा फजीर्वाड़ा कर पास हुए। यह सख्या उस वर्ष भर्ती हुए कुल दरोगाओं की 10 फीसदी बताई जा रही है।

पता चला है कि यह अपना मूल काम केस डायरी तक लिखना नहीं जानते हैं। इसके लिए वे अक्सर व्यस्तता का दावा कर अपने साथियों और जूनियरों को पैसे देते हैं ताकि समय पर केस डायरी लिखी जा सके। विभाग में ऐसे दरोगाओं की इन दिनों खूब चर्चा है। उल्लेखनीय है कि दरोगा भर्ती को लेकर पहले भी आरक्षण को लेकर विवाद हो चुका है। पहले भर्ती में विवाद हुआ था।

प्रदेश के डीजीपी ने इस मामले में विजिलेंस जांच के आदेश दे दिए हैं। इसके बाद ऐसे दरोगाओं पर सख्त कार्रवाई तय मानी जा रही है। जांच में इनके नकल कर पास होने की पुष्टि हुई तो उन्हें नौकरी से हाथ भी धोना पड़ सकता है। इतना ही नहीं गड़बड़ी पाए जाने पर कुछ विभागीय अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई हो सकती है, क्योंकि बिना उनकी मिलीभगत के भर्ती में गड़बड़ी करना असंभव है।

डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि प्राथमिक पड़ताल में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। इसी कारण उन्होंने विजिलेंस जांच की सिफारिश की थी। जांच में कोई दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस विभाग में ‘ग्रेड-पे’ की समस्या को सुलझाने के लिए नई बड़ी पहल…

नवीन समाचार, देहरादून 11 सितंबर 2022। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस जवानों की ‘ग्रेड पे’ की लंबे समय से चली आ रही समस्या का समाधान करने के लिए नई पहल करते हुए पुलिस के जवानों को पदोन्नति देने का निर्णय लिया है। बताया गया है कि पुलिस विभाग में आरक्षियों के 17500 व हेड कांस्टेबलों के 3440 पद हैं, जबकि एएसआई यानी एडिशनल एसआई का एक भी पद नहीं है।

अब मुख्यमंत्री धामी के निर्देश पर पुलिस विभाग ने हेड कांस्टेबल रैंक के 1750 नए पद तथा एएसआई का नया रैंक सृजित करते हुए इसमें भी 1750 नए पद स्वीकृत करने के आदेश जारी कर दिए हैं। यह भी महत्वपूर्ण बात यह है कि इन पदों का ग्रेड पे 4200 होगा। इसके बाद मुख्यमंत्री धामी ने विश्वास जताया है कि इससे जवानों को प्रोन्नति के ज्यादा अवसर प्राप्त होंगे।

डीजीपी अशोक कुमार ने इस संबंध में शासन द्वारा लिए गए निर्णय पर खुशी जाहिर की है, और मुख्यमंत्री धामी को धन्यवाद देते हुए विश्वास जताया है कि शासन के इस फैसले से जवानों को प्रोन्नति के ज्यादा अवसर प्राप्त होंगे। साथ ही विवेचना हेतु नए विवेचक उपलब्ध होने से विवेचना की गुणवत्ता में भी सुधार आएगा। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अब अपराधियों की खैर नहीं, कुमाऊं के सभी थानों में चलेगा अपराधियों के खिलाफ ‘ऑपरेशन चक्रव्यूह‘, जानें क्या होगा इसमें खास…

कुमाऊं परिक्षेत्र के अधिकारियों व कर्मचारियों की वर्चुअल बैठक लेते डीआईजी।डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 8 सितंबर 2022। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने गुरुवार को कुमाऊं परिक्षेत्र के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ परिक्षेत्रीय कार्यालय नैनीताल में वर्चुअल गोष्ठी की। इस दौरान उन्होंने परिक्षेत्र में ‘ऑपरेशन चक्रव्यूह चलाने और इस दौरान सभी जनपदों, थानों के पेशेवर अपराधियों की सूची तैयार कर अपराधियों पर प्रतिदिन निगरानी रखते हुए उनके विरूद्ध व्यापक रूप से कड़ी कार्यवाही अमल में लाने, मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले अपराधियों की शीघ्रातिशीघ्र गिरफ्तारी करने की कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

साथ ही सक्रिय व आदतन अपराधियों का चिन्हीकरण कर उनके विरूद्ध गैगस्टर की कार्रवाई कर उनकी संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई करने, साथ ही उनकी आपराधिक गतिविधियों व आय के स्रोतों पर पैनी नजर रखते हुए त्वरित कार्यवाही करने, ईनामी अपराधियों के विरूद्ध त्वरित कार्रवाई करते हुए उनकी शत-प्रतिशत गिरफ्तारी सुनिश्चित करने व जनपदों में सक्रिय शराब माफियाओं पर भी आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

इसके अलावा हत्या, लूट, डकैती व नकबजनी आदि उन्होंने आपराधिक घटनाओं के अनावरण में फिंगरप्रिंट आदि वैज्ञानिक विधि का अधिकाधिक उपयोग करने, अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए नई तकनीकों व उपकरणों का उपयोग करने के भी निर्देश दिए। गोष्ठी में सभी जनपदों के जनपद प्रभारी व क्षेत्राधिकारी ऑपरेशन, नैनीताल के पुलिस अधीक्षक यातायात डॉ. जगदीश चन्द्र के साथ क्षेत्राधिकारी ऑपरेशन तथा सभी जिलों के एसओजी व एंटी नारकोटिक्स टास्क फार्स के समस्त अधिकारी, कर्मचारी व समस्त एसओजी प्रभारी उपस्थित रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी ने 5 महिला पुलिस कर्मियों को किया निलंबित…

शराब पीकर स्कूल आता था शिक्षक, संयुक्त संचालक ने किया निलंबितनवीन समाचार, देहरादून, 3 सितंबर 2022। जनपद के एसएसपी ने 5 महिला पुलिस कर्मियों को ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिा है। बताया गया है कि दो सितंबर को विधानसभा में प्रदर्शन के दौरान शांति व यातायात व्यवस्था की ड्यूटी में तैनात 05 महिला पुलिस कर्मियों के ड्यूटी के दौरान निर्धारित ड्यूटी पॉइंट पर मौजूद न रहते हुए अपने कर्तव्य के प्रति शिथिलता बरतने पर एसएसपी देहरादून ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निलंबित महिला कर्मचारियों में आरक्षी वर्षा, दीक्षा, रजनी, कंचन व अजीता शामिल हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : यह क्या ? अचानक जिले के एसओजी प्रभारी बदले, कारण…?

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 31 अगस्त 2022। नैनीताल जनपद के एसएसपी पंकज भटट ने बुधवार को अचानक जनपद के एसओजी प्रभारी व कालाढुंगी के थाना प्रभारी अदल-बदल दिए हैं। उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस नंदन सिंह रावत को एसओजी प्रभारी नैनीताल के पद से हटाकर थानाध्यक्ष कालाढुंगी बना दिया है। जबकि उनकी जिम्मेदारी कालाढूंगी के थानाध्यक्ष राजवीर सिंह नेगी को दे दी है।

एसएसपी के इस कदम के निहितार्थ ढूंढे जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि नंदन सिंह रावत पूर्व में भी कालाढुंगी के थाना प्रभारी रहे हैं। उन्हें करीब 5 माह पूर्व यहां से हटाकर एसओजी प्रभारी बनाया गया था। बताया जा रहा है कि इधर कालाढुंगी में चोरी एवं शराब व स्मैक आदि नशे आदि की घटनाएं बढ़ गई थीं। इस पर क्षेत्रीय लोगों ने नंदन सिंह रावत को फिर से कालाढुंगी लाए जाने की मांग भी उठ रही थी। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 20 रुपए के पकौड़ों के लिए पुलिस कर्मियों ने कर दिया ‘मित्र पुलिस’ का नाम बदनाम…

नवीन समाचार, किच्छा, 27 अगस्त 2022। उत्तराखंड पुलिस को चाहे जितना ‘मित्र पुलिस’ कहा जाए, लेकिन कई पुलिस कर्मियों में मित्र पुलिस का चरित्र नहीं आ पा रहा है। इसका उदाहरण नगर में देखने को मिला। यहां एक पुलिस कर्मी ने एक कैंटीन से पकौड़े खाए और पैंसे मांगने पर न केवल कैंटीन संचालक की पिटाई कर दी, बल्कि जब उसके बेटे ने अपने मोबाइल से वीडियो बनाने का प्रयास किया तो उसका मोबाइल भी छीन लिया।

आरोप तो यह भी है कि जब पुलिस कर्मी ने मोबाइल वापस किया तो उसके कवर में रखे 12 सौ रुपये की नकदी भी गायब मिली। हद तो यह भी हो गई कि पुलिस कोतवाली में आरोपित पुलिस कर्मी के विरुद्ध शिकायत की गई तो इस पर भी दो दिन से कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

रेलवे स्टेशन पर कैंटीन लगाने वाले बंडिया निवासी श्याम सुंदर गुप्ता पुत्र गोविंद राम गुप्ता ने बताया कि बीते बुधवार शाम लगभग साढ़े छह बजे दो पुलिस कर्मी उसकी कैंटीन पर आए और उससे बीस रुपये के पकौड़े बनाने को कहा। पकौड़ी पैक करवा कर दोनों बिना पैसा दिए जाने लगे तो गुप्ता ने उनको पैसे के लिए टोक दिया। इस पर मित्र पुलिस का पारा चढ़ गया और उन्होंने कैंटीन संचालक को धमकाना शुरु कर दिया। कहा आज तक किसी ने उनसे पैसा मांगने की हिम्मत नहीं की तो उसने कैसे पैसे मांग लिये।

उनकी इस हरकत को देख कर श्याम सुंदर गुप्ता का बेटा अपने मोबाइल से उनकी वीडियो बनाने लगा तो पुलिस कर्मी, जिसकी वर्दी पर नेम प्लेट भी लगी थी, उसने मोबाइल छीन लिया और उसकी बनाई हुई वीडियो को डिलीट कर दिया। उसके बाद भी उसका मोबाइल वापस नहीं किया और बिना पैसा दिए मोबाइल साथ लेकर चले गए। आधे घंटे के बाद उन्होंने मोबाइल वापस किया तो उसके मोबाइल के कवर में रखी 1210 रुपये की नकदी उसमें नहीं थी।

श्याम सुंदर के मुताबिक वहां मौजूद स्टेशन मास्टर ने भी पुलिस कर्मियों की हरकत का विरोध किया। लेकिन दोनों पुलिस कर्मियों ने वहां मौजूद जीआरपी के दरोगा की भी एक नहीं सुनी। गुप्ता ने इसकी शिकायत कोतवाली में की, पर कोई उसकी शिकायत पर कोई कार्रवाई अभी तक नहीं हो पाई है। प्रभारी निरीक्षक धीरेंद्र कुमार ने कहा मामला संज्ञान में आया है जांच की जा रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी ने 6 चौकी प्रभारियों को हटाने के बाद किया थाना व चौकी प्रभारी को सस्पेंड

नवीन समाचार, देहरादून, 22 अगस्त 2022। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के नए एसएसपी ने अपने आदेश के बावजूद ड्यूटी के दौरान लापरवाही का मामला सामने आने पर थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज पर सख्त कार्रवाई अमल में लाई गई है। एसएसपी ने रविवार के दिन चेकिंग के आदेश दिए थे लेकिन मातहत इस मामले में लापरवाह नजर आए।

इस पर एसएसपी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए थाना प्रभारी राजपुर व चौकी प्रभारी आराघर को सस्पेंड कर दिया है जबकि अन्य दो पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई के आदेश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले एसएसपी देहरादून ने छह चौकी प्रभारियों को व्हाट्सएप पर लोकेशन न देने पर हटा दिया था। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल डीएम के पूर्व गनर पुलिस कर्मी की बीमारी से मौत

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 17 अगस्त 2022। मंगलवार रात्रि एक पुलिस कर्मी 38 वर्षीय संजय कुमार पुत्र दीवान राम निवासी ग्राम कपकोट जिला बागेश्वर की मृत्यु हो गई। वह पुलिस लाइन में तैनात थे। उनकी पत्नी अनुराधा रोंकली भी पुलिस में आरक्षी है। वह ही उन्हें रात्रि में स्वास्थ्य अधिक खराब होने पर बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए लायीं।

जिला चिकित्सालय के ईएमओ डॉ. अजहर वारसी ने बताया कि उनकी चिकित्सालय लाने से पूर्व ही मृत्यु हो गयी थी। इसलिए उन्हें मृत घोषित कर दिया, और शव को शव गृह में रखवा दिया। बाद में पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर शव का पोस्टमार्टम कराया और बुधवार शाम उनका चित्रशिला घाट रानीबाग में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के समय मंडलायुक्त दीपक रावत, एसएसपी पंकज भट्ट ने भी उन्हें श्रद्धा-सुमन अर्पित किए। पुलिस के कई अन्य अधिकारी-कर्मचारी भी उपस्थित रहे।

उल्लेखनीय है कि स्वर्गीय संजय कूमार वर्तमान मंडलायुक्त दीपक रावत के नैनीताल के जिलाधिकारी रहते उनके गनर के रूप मेें भी कार्यरत रहे, जबकि उनकी पत्नी मल्लीताल कोतवाली में आरक्षी के पद पर कार्यरत रही। बताया गया है कि वह काला पीलिया की बीमारी से लंबे समय से ग्रस्त थे। उनका बरेली के श्रीराम मूर्ति अस्पताल में उपचार चल रहा था। वह अपने पीछे पत्नी के साथ दो बच्चों को अकेला रोता-बिलखता छोड़ गए हैं। बताया गया है कि संजय 2007 में पुलिस में भर्ती हुए थे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : स्वतंत्रता दिवस पर उत्तराखंड के दो पुलिस अधिकारियों को राष्ट्रपति का पुलिस पदक, 5 को पुलिस पदक, इनमें 3 नैनीताल के

Imageनवीन समाचार, देहरादून, 14 अगस्त 2022। स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के ऐतिहासिक अवसर पर देश के राष्ट्रपति के द्वारा उत्तराखंड के दो पुलिस अधिकारियों को विशिष्ट सेवा हेतु ‘राष्ट्रपति का पुलिस पदक’ व पांच पुलिस अधिकारियों को सराहनीय सेवा हेतु ‘पुलिस पदक’ से सम्मानित किये जाने की घोषणा की गई है।

राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित होने वाले पुलिस अधिकारियों में सीबीआई के पुलिस उपाधीक्षक तेजप्रकाश देवरानी तथा नैनीताल जनपद में पुलिस दूरसंचार में पुलिस अधीक्षक गिरिजा शंकर पांडे शामिल हैं। इनके अलावा कमल सिंह पवार पुलिस उपाधीक्षक, एसडीआरएफ उत्तराखंड, विजय थापा, पुलिस उपाधीक्षक, उत्तराखंड हाईकोर्ट सुरक्षा नैनीताल, विजेंद्र दत्त डोभाल, अपर पुलिस अधीक्षक, जनपद टिहरी गढ़वाल, शुक्रलाल, दल नायक, 31वीं वाहिनी पीएसी, रुद्रपुर और पूरन चंद्र पंत, उपनिरीक्षक विशेष श्रेणी नागरिक पुलिस सतर्कता सेक्टर हल्द्वानी को ‘पुलिस पदक’ देने की घोषणा हुई हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी देहरादून ने 6 चौकी प्रभारियों को किया निलंबित, वजह चौंकाने वाली

नवीन समाचार, देहरादून, 10 अगस्त 2022। पुलिस को अनुशासित बल माना जाता है। लेकिन देहरादून पुलिस के कुछ कर्मियों के लिए शायद अनुशासन के कोई मायने नहीं हैं। कंट्रोल रूम द्वारा बार- बार लोकेशन पूछे जाने के उपरांत भी वायरलेस सेट पर जवाब न देने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून ने छह चौकी प्रभारियों को लाइन हाजिर कर दिया है।

बताया गया है कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून दलीप कुंवर द्वारा सभी थाना-चौकी प्रभारियों को पीक आवर्स के दौरान अपने थाना-चौकी क्षेत्रान्तर्गत यातायात दबाव वाले क्षेत्रों में स्वयं उपस्थित रहकर यातायात व्यवस्था का सुचारू संचालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए है। साथ ही इस दौरान कंट्रोल रूम को सभी थाना व चौकी प्रभारियों की नियमित रूप से लोकेशन लेते हुए उन्हें अवगत कराने को कहा गया है।

इसके बावजूद आज दिनांक बुधवार को कंट्रोल रूम द्वारा थाना-चौकी प्रभारियों की लोकेशन पूछे जाने के दौरान नगर क्षेत्र में चौकी प्रभारी करनपुर, सर्किट हाउस, नयागांव, आईएसबीटी, जोगीवाला तथा इंदिरा नगर द्वारा न ही कंट्रोल रूम को अपनी लोकेशन से अवगत कराया गया और न ही उनके द्वारा सेट पर कोई उत्तर दिया गया। इसका संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुंवर ने इन सभी चौकी प्रभारियों को तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर किया गया है। साथ ही सभी थाना-चौकी प्रभारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि लापरवाही व अनुशासनहीनता को किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

ह भी पढ़ें : एसएसपी ने आधा दर्ज पुलिस अधिकारियों के किए तबाबले, कई प्रभारी बदले

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 6 अगस्त 2022। जनपद के एसएसपी पंकज भटट ने शनिवार को 6 पुलिस निरीक्षकों व उप निरीक्षकों के स्थानान्तरण कर दिए हैं। सभी से तत्काल नवनियुक्त स्थान हेतु रवाना होने को कहा गया है।

प्रभारी निरीक्षक थाना भवाली डीआर वर्मा को प्रभारी निरीक्षक थाना लालकुआं, संजय कुमार को प्रभारी निरीक्षक थाना लालकुआं से प्रभारी साईबर सेल व एडीटीएफ, उमेश कुमार मलिक को प्रभारी निरीक्षक थाना भवाली, उप निरीक्षक विजय कुमार को थाना बनभूलपुरा से साईबर सेल, जोगा सिंह को साईबर सैल से प्रभारी चौकी छोई व महेन्द्र राज सिंह को पुलिस लाईन से थाना काठगोदाम भेजा गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ा मामला: फिर उभरा पुलिस ग्रेड-पे का मुद्दा, परिजनों के प्रेस वार्ता करने के बाद चार पुलिस कर्मी निलंबित

Big Breaking: यंहा परिजनों का विरोध, उधर चार पुलिसकर्मी निलंबित... - Pahadi  Khabarnama पहाड़ी खबरनामानवीन समाचार, देहरादून, 2 अगस्त 2022। पुलिस विभाग ने अपने ही चार पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है। यह कार्रवाई इन पुलिस कर्मियों के परिजनों के द्वारा रविवार को पुलिस कर्मियों के ग्रेड-पे मामले में राजधानी देहरादून में प्रेस कान्फ्रेंस करने को लेकर की गई है। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कार्रवाई की जद में आए पुलिस कर्मियों के परिजनों ने सरकार पर विश्वासघात का आरोप लगाया था और की आंदोलन की चेतावनी दी थी।

निलंबित पुलिस कर्मियों में एसडीआरएफ यमुनोत्री में तैनात कुलदीप भंडारी, चमोली में तैनात दिनेश, दून पुलिस मुख्यालय में तैनात हरिंदर सिंह और लक्खीबाग चौकी में तैनात मनोज बिष्ट शामिल हैं। बताया गया है कि इन पुलिस कर्मियों के परिजनों ने रविवार को ग्रेड पे मामले में राजधानी दून में प्रेस कान्फ्रेंस कर आंदोलन की चेतावनी दी थी। पुलिस परिजनों का कहना था कि सरकार ने उनके साथ विश्वासघात किया है।

उनका कहना था कि मुख्यमंत्री ने पिछले साल पुलिस स्मृति दिवस पर 2001 बैच के पुलिस कर्मियों को 4600 ग्रेड पे देने की घोषणा की थी, लेकिन बाद में सरकार ने दो लाख रुपए देने का शासनादेश जारी कर दिया। जो मुख्यमंत्री घोषणा से बिल्कुल उलट था। परिजनो का कहना था उन्होंने एक बार फिर मुख्यमंत्री से मुलाकात की, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

वहीं इस मामले में कार्रवाई करते हुए विभाग का कहना है कि एक अगस्त 2022 को दैनिक समाचार पत्रों के माध्यम से पुलिस कर्मियों के परिजनों द्वारा दी गई राजनीतिक गतिविधियों में संलिप्त होकर आंदोलन की चेतावनी दी गई है। उनका यह कृत्य ‘सरकारी सेवक आचरण नियमावली नियम 5 (2) एवं नियम 24-क’ का उल्लंघन है एवं उनके द्वारा बरती गई लापरवाही व अनुशासनहीनता के फलस्वरूप यह कार्रवाई की गई है। इस मामले संबंधितों के वरिष्ठ अधिकारियों को 7 दिन के भीतर जांच आख्या देने को भी कहा गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बिग ब्रेकिंग : एसएसपी ने किए 34 उप निरीक्षकों के तबादले

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 27 जुलाई 2022। नैनीताल जनपद के एसएसपी पंकज भट्ट ने बुधवार को 34 उप निरीक्षकों के तबादले कर दिए हैं। स्थानांतरित उप निरीक्षकों से तत्काल स्थानांतरित स्थान को रवाना होने को कहा गया है। इन उपनिरीक्षकों के स्थानांतरण किए गए हैं:

1- महेन्द्र प्रसाद पुलिस लाईन-सम्बद्ध चौकी रूसी बाईपास, नैनीताल से वरिष्ठ उप निरीक्षक द्वितीय, थाना हल्द्वानी
2- तारा सिंह राणा वरिष्ठ उप निरीक्षक द्वितीय, थाना हल्द्वानी से थाना रामनगर
3- आशा बिष्ट पुलिस लाईन से थाना तल्लीताल
4- दीपा जोशी थाना रामनगर से थाना बनभूलपुरा
5- जगदीप सिंह नेगी प्रभारी चौकी मण्डी से प्रभारी चौकी मंगल पड़ाव
6- गुलाब सिंह थाना लालकुआं से प्रभारी चौकी मण्डी

7- कश्मीर सिंह प्रभारी चौकी मंगल पड़ाव से प्रभारी चौकी गर्जिया, (थाना रामनगर)
8- धर्मेन्द्र कुमार पुलिस लाईन-सम्बद्ध चौकी नारायण नगर से प्रभारी चौकी हीरानगर
9- विजयपाल सिंह प्रभारी चौकी हीरानगर से प्रभारी चौकी ढैला (थाना रामनगर)
10- दिनेश चन्द्र जोशी वाचक, अपर पुलिस अधीक्षक नगर, हल्द्वानी से प्रभारी चौकी राजपुरा, (थाना हल्द्वानी)
11- हरि राम पुलिस लाईन से प्रभारी चौकी मेडिकल, हल्द्वानी
12- प्रवीण कुमार प्रभारी चौकी आरटीओ, मुखानी से प्रभारी चौकी गन्ना सेंटर, हल्द्वानी
13- प्रीति थाना रामनगर से प्रभारी चौकी आरटीओ,

14- सुरेश कुमार कम्बोज पुलिस लाईन से प्रभारी चौकी आम्रपाली, मुखानी
15- नीरज कुमार चौहान प्रभारी चौकी आम्रपाली से थाना रामनगर
16- त्रिभुवन जोशी पुलिस लाईन से प्रभारी चौकी दमुवाढूॅगा
17- भुवन सिंह राणा प्रभारी चौकी दमुवाढूॅगा से एफएफयू हल्द्वानी
18- भूपेन्द्र सिंह मेहता पुलिस लाईन से प्रभारी चौकी मालधन
19- मनोज कुमार यादव प्रभारी फोरेन्सिक यूनिटध् सम्बद्ध थाना बनभूलपुरा से थाना बनभूलपुरा
20- देवेन्द्र सिंह राणा पुलिस लाईन से प्रभारी चौकी रामगढ़
21- जसवीर सिंह पुलिस लाईन से प्रभारी चौकी सलड़ी (थाना भीमताल)

22- बबीता थाना तल्लीताल से थाना हल्द्वानी
23- लता खत्री थाना तल्लीताल निरस्त करते हुये थाना काठगोदाम यथावत।
24- मनीषा सिंह पुलिस लाईन से थाना रामनगर
25- रेनू पुलिस लाईन से थाना रामनगर
26- सुनील गोस्वामी पुलिस लाईन से थाना मुखानी
27- सोमेन्द्र सिंह पुलिस लाईन से थाना मुखानी
28- अविनाश कुमार मौर्य पुलिस लाईन से थाना मल्लीताल
29- अरूण सिंह राणा पुलिस लाईन से थाना भीमताल

30- श्याम सिंह बोरा पुलिस लाईन से थाना तल्लीताल
31- अनिल कुमार पुलिस लाईन से थाना लालकुऑ
32- त्रिवेणी प्रसाद जोशी थाना तल्लीताल से प्रभारी फोरेन्सिक यूनिट हल्द्वानी
33- बालकृष्ण आर्य थाना हल्द्वानी से प्रभारी चौकी क्वारब (थाना भवाली)
34- हरीश प्रसाद थाना लालकुऑ से थाना कालाढॅूगी आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हिमाकत: पुलिसकर्मी दबंगों की हनक में न झुका तो किया जिन्दा जलाने का प्रयास…!!

रुद्रपुर में पुलिस लाइन गेट पर तैनात कांस्टेबल पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर जलाने की कोशिशनवीन समाचार, रुद्रपुर, 13 जुलाई 2022। उधमसिंह नगर जिला मुख्यालय स्थित एक पुलिस लाइन में एक पुलिस कर्मी पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर उसे जलाने की हिमाकत करने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। बताया गया है कि पुलिस लाइन के गेट पर तैनात पुलिस कर्मी ने जब बोलेरो सवार दबंगों को बिना कारण बताए अंदर जाने से रोका तो पहले वे धरने पर बैठ गए। और फिर उसके हाथ पर ज्वलनशीन पदार्थ डालकर उसमें आग लगा दी। गंभीर रूप से झुलसे पुलिस कर्मी को जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार शाम पुलिस लाइन में तैनात लक्ष्मण सिंह राणा पुलिस लाइन के अटरिया मंदिर वाले गेट पर डयूटी पर तैनात थे। इस दौरान बोलेरो में सवार होकर चार लोग पुलिस लाइन में जाने लगे तो आरक्षी लक्ष्मण राणा ने उन्हें रोक दिया और अंदर जाने का कारण पूछा। इस पर दबंगों ने रौब झाड़ते हुए लक्ष्मण को वर्दी उतरवाने की धमकी दे डाली। बावजूद जब लक्ष्मण उनके दबाव में नहीं आया और उनको बिना कारण बताए अंदर जाने से मना कर दिया, तो दबंग धरने पर बैठ गए।

यही नहीं, उन्होंने लक्ष्मण के हाथ पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर आग लगा दी। इससे पुलिस लाइन में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। पुलिस लाइन में मौजूद पुलिस कर्मियों ने चारों दबंगों को हिरासत में ले लिया, और बुरी तरह से झुलस गए पुलिस कांस्टेबल लक्ष्मण सिंह राणा को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। एसपी सिटी मनोज कत्याल ने जिला अस्पताल पहुंच कर घटना की जानकारी ली। पुलिस पकड़े गए आरोपितों से सिडकुल चौकी में पूछताछ कर रही है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : एसएसपी ने एक थानाध्यक्ष को हटाया…

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 27 जून 2022। जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट ने दो उप निरीक्षकों के तबादले किए हैं। खास बात यह है कि इस तबादला आदेश में हल्द्वानी के मुखानी थाने के अध्यक्ष दीपक बिष्ट को हटाया गया है। उनके स्थान पर भीमताल सहित कई थानो की जिम्मेदारी पूर्व में संभाल चुके उपनिरीक्षक रमेश सिंह बोरा को मुखानी का थानाध्यक्ष बनाया गया है।

बताया जा रहा है दीपक बिष्ट को कुछ मामलों में हीलाहवाली के कारण हटाया गया है। इनमें से एक मामला एक विवाहिता से दुष्कर्म का भी हो सकता है, जिसमें दो माह पूर्व अभियोग पंजीकृत होने, आरोपित को उच्च न्यायालय से भी राहत न मिलने के बावजूद गिरफ्तार नहीं किया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दुःखद समाचार: कुमाऊं पुलिस ने खोया एक तेज-तर्रार व ऊर्जावान जवान, दो जिलों के एसएसपी ने दी शोक सलामी

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 13 जून 2022। उत्तराखंड पुलिस ने सोमवार को अपने एक तेज-तर्रार व ऊर्जावान जवान को खो दिया। कुमांऊ की एसटीएफ यूनिट में तैनात जांबाज जवान आरक्षी प्रमोद रौतेला का आकस्मिक निधन हो गया। उनके निधन से पुलिस विभाग में शोक की लहर दौड़ गयी। ऊधमसिंह नगर के एसएसपी मंजूनाथ टीसी एवं नैनीताल के एसएसपी पंकज भट्ट ने मृतक जवान के पार्थिव शरीर को सुसज्जित सेरिमोनियल गार्द के साथ कोतवाली परिसर हल्द्वानी में शोक सलामी दी। प्रमोद की पत्नी भी पुलिस आरक्षी हैं। उनके दो बच्चे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आरक्षी प्रमोद पुलिस लाईन रुद्रपुर में परिवार सहित रहते थे। सोमवार सुबह अचानक उनकी तबियत खराब हुई। उन्हें हल्द्वानी स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उनका निधन हो गया। शोक सलामी के दौरान जनपद नैनीताल के समस्त राजपत्रित अधिकारी, जनपद ऊधम सिंह नगर तथा रेंज एसटीएफ के अधिकारी तथा अधीनस्थ पुलिस कर्मी मौजूद रहे। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : कुमाऊं मंडल में 546 आरक्षियों एवं 100 उपनिरीक्षकों के तबादले

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 7 जून 2022। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने मंगलवार को 546 आरक्षियों एवं 100 उपनिरीक्षकों के तबादले कर दिये हैं। मैदानी जनपदों में से नैनीताल के 17 व ऊधमसिंह नगर के 25 तथा पर्वतीय जनपदों में से अल्मोड़ा व पिथौरागढ़ के 23-23, बागेश्वर के 7 व चंपावत के 5 उप निरीक्षकों तथा मैदानी जनपदों-नैनीताल व ऊधमसिंह नगर के 137-137 तथा पर्वतीय जनपदों-पिथौरागढ़ के 126, चंपावत के 74, अल्मोड़ा के 40 व बागेश्वर के 32 आरक्षियों के स्थानांतरण किए गए हैं। पूरी सूची: CamScanner 06-07-2022 05.38.10 आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : अजब मामला : पुलिस कर्मी ने छुट्टी के लिए किए एसएसपी के फर्जी हस्ताक्षर

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 4 जून 2022। राज्य में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। एक सिपाही ने छुट्टी के लिए प्रार्थना पत्र पर अपने ही हाथ से कप्तान के जाली दस्तखत कर दिए। मामला संज्ञान में आने के बाद सिपाही को निलंबित कर दिया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद ऊधमसिंह नगर के रुद्रपुर पुलिस लाइन में मूलतः पिथौरागढ़ निवासी सिपाही राकेश कुमार करीब 10 साल से तैनात है। बीती 29 मई को राकेश ने घर में आवश्यक कार्य के लिये एसएसपी के नाम 14 दिन के अवकाश का प्रार्थना पत्र लिखा, लेकिन इस पर अवकाश स्वीकृति के लिए खुद ही एसएसपी के हस्ताक्षर कर दिये।

इसके बाद जवान ने यह प्रार्थना पत्र पुलिस लाइन के संबंधित कर्मी को सौंप दिया। संबंधित कर्मी को एसएसपी के हस्ताक्षर संदिग्ध लगे, तो उन्होंने प्रतिसार निरीक्षक वेदप्रकाश भट्ट को यह प्रार्थना पत्र दिखाया। प्राथमिक जांच में स्पष्ट हुआ कि एसएसपी के हस्ताक्षर फर्जी हैं। रिपोर्ट एसएसपी को भेजी गयी। इस पर एसएसपी ने सिपाही राकेश को निलंबित कर दिया है आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: दो इंस्पेक्टरों का तबादला, एक कोतवाल बदले

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 30 मई 2022। जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने सोमवार को निरीक्षकों के स्थानांतरण किए हैं। इस कड़ी में भवाली के प्रभारी निरीक्षक संजय गर्ब्याल को हटाकर सूचना सेल व चुनाव प्रकोष्ठ का प्रभारी बनाया गया है, जबकि उनकी जगह अब तक चुनाव प्रकोष्ठ की जिम्मेदारी संभाल रहे निरीक्षक डीआर वर्मा को प्रभारी निरीक्षक थाना भवाली बनाया गया है। स्थानांतरित निरीक्षकों को तत्काल नवनियुक्त स्थान हेतु रवाना होकर आदेश का अनुपालन कराने को कहा गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : उफ पुलिस की ऐसी हैवानियत, महिला आरोपित को जूते व बेल्ट से पीटा, बिजली के झटके भी लगाए…!

UP: Tantric raped sick woman in Saharanpur - सहारनपुर में तांत्रिक बना  हैवान, बीमार महिला के साथ किया दुष्कर्मनवीन समाचार, देहरादून, 18 मई 2022। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में मित्र पुलिस की हैवानियत सामने आई है। आरोप है कि देहरादून के जोगीवाला पुलिस स्टेशन में चोरी की एक आरोपित महिला को बिजली के झटके दिए गए। इसके बाद महिला को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। महिला के परिवारवालों ने मामले में पुलिस उच्चाधिकारियों से शिकायत की।

इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मेजय खंडूरी ने बताया कि जोगीवाला थाना प्रभारी दीपक गैरोला को घटना के सिलसिले में निलंबित कर दिया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार मंजू नाम की महिला मोहकमपुर इलाके में सेवानिवृत्त वैज्ञानिक देवेंद्र ध्यानी के घर घरेलू सहायिका का काम करती है। आरोप है कि 14 मई को जब देवेंद्र ध्यानी और उनका परिवार एक शादी में शामिल होने दिल्ली गया था, उस समय घर में चोरी हो गई थी।

शिकायत मिलने पर मंजू को मामले में पूछताछ के लिए मंगलवार को जोगीवाला थाने लाया गया। उसके साथ थाने गई मंजू के पति ने आरोप लगाया कि थाने के पुलिसकर्मियों ने उसकी पत्नी को जूते और बेल्ट से पीटा, उसे बिजली के झटके दिए और पूछताछ के दौरान गाली-गलौज की गई। बाद में पुलिस कर्मियों ने मंजू को घर छोड़ दिया और उसके परिजन उसे अस्पताल ले गए। उसका इलाज कोरोनेशन अस्पताल में चल रहा है, जहां डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर बताई है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पुलिस कर्मी ने दूसरे के नाम व प्रमाण पत्रों से पाई नौकरी, मुकदमा दर्ज

police: पुलिस की पिटाई से हुई मौत? एसएचओ समेत छह पुलिसकर्मी सस्पेंड -  policemen beats a man and he died, 6 suspended | Navbharat Timesनवीन समाचार, रुद्रपुर, 8 मई 2022। नैनीताल जनपद के कालाढुंगी थाने में तैनात एक पुलिस कर्मी पर उत्तराखंड बनने से पहले किसी अन्य के शैक्षिक अभिलेख के सहारे यानी फर्जी तरीके से पुलिस विभाग में भर्ती होकर नौकरी करने का मामला सामने आया है। इस मामले में पंतनगर थाने में आरोपित पुलिस कर्मी के खिलाफ अभियोग पंजीकृत कर जांच शुरू कर दी है।

थानाध्यक्ष पंतनगर राजेंद्र सिंह डांगी के हवाले से बताया गया है कि कि ग्राम बंडिया, तहसील खटीमा निवासी चंद्रप्रकाश पुत्र महेंद्र सिंह ने सतर्कता मुख्यालय को शिकायती पत्र सोंपकर कहा था कि जनपद नैनीताल के कालाढूंगी में तैनात पुलिस आरक्षी राजीव कुमार का वास्तविक नाम-पता सत्यपाल पुत्र शिवदान प्रसाद निवासी ग्राम विरेंद्रनगर गोठा, थाना सितारगंज है।

वह वर्ष 1990 में राजकीय इंटर कालेज सितारगंज से हाईस्कूल की परीक्षा में अनुत्तीर्ण हो गया था। इस पर उसने राजीव कुमार नाम से दस्तावेज तैयार करके या फिर किसी अन्य के शैक्षिक अभिलेख के सहारे पुलिस में आरक्षी पद पर भर्ती होकर नौकरी कर विभाग को झांसा दिया है। इस पर सतर्कता मुख्यालय के आदेश पर हुई जांच के बाद पंतनगर थाना पुलिस ने आरक्षी राजीव कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। जांच सिडकुल चौकी प्रभारी पंकज कुमार को सौंपी गई है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल पुलिस ने तीन लोगों को किया गिरफ्तार, सैलानी को खोया पर्स लौटाया

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 मई 2022। गुरुवार को तल्लीताल थाना पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बताया गया कि पुलिस को राजभवन तिराहे के पास दो व्यक्तियों के शराब पीकर लड़ाई-झगडा तथा लोगों से अभद्रता करते हुए अभिषेक टांक पुत्र त्रिलोचन टांक निवासी नए टीवी टावर स्नो व्यू वार्ड मल्लीताल एवं अनिल कुमार पुत्र चंद्र प्रकाश निवासी तल्लापाली बगड़ पंगोट मल्लीताल को गिरफ्तार किया गया।

इसके अलावा फर्जी गाइड का काम करते हुए पर्यटकों से अभद्रता करते हुए एक अन्य व्यक्ति अभिजीत कुमार उर्फ बिट्टू पुत्र सुनील कुमार उर्फ फौजी निवासी धोबीघाट तल्लीताल को भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 151, 107 व 116 के तहत गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम में उपनिरीक्षक बबीता, हेड कांस्टेबल उमेश जोशी, आरक्षी ललित राम चीता मोबाइल अमित कुमार व शिवराज सिंह राणा शामिल रहे।

इसके अलावा आज चीता मोबाइल अमित गहलोत को लखनऊ के हुसैनाबाद निवासी सैलानी जीशान हैदर पुत्र शाजिद हुसैन का खोया हुआ पर्स मिला। पर्स में मिले होटल के कार्ड के आधार पर अमित ने पर्स सैलानी को लौटा दिया। इसके लिए सैलानी पुलिस ने नैनीताल पुलिस की सराहना की। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : भारी पड़ा पुलिस द्वारा लगाए गए जैमर को खुद हटाने का प्रयास, हुआ 5 हजार का चालान

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 4 मई 2022। देहरादून निवासी टैक्सी चालक सोनू गुप्ता अपनी स्विफ्ट डिजायर कार संख्या यूके07टीबी-6808 में मुंबई से आए पर्यटक को घुमाने के लिए नैनीताल लाया था। यहां वह अपनी कार को मॉल रोड पर चर्च के पास सड़क किनारे खड़ा कर गायब हो गया। इस पर तल्लीताल थाना पुलिस ने उसकी टैक्सी के अगले पहिये पर जैमर लगा दिया।

लौटने पर टैक्सी चालक ने जैमर को हटाने के लिए पुलिस के पास पहुंचने के बजाय जैमर को तोड़ने का प्रयास किया। और ऐसा न कर पाने पर वह पहिए को ही स्टपनी से बदलने का प्रयास कर रहा था। इस बीच एक स्थानीय व्यक्ति ने उसे करने पर टोका तो उसका कहना था कि वह ऐसा पहले भी कई बार कर चुका है।

इस पर वहां से वापस गुजरते हुए चीता मोबाइल प्रभारी शिवराज राणा ने उसका वीडियो बना लिया और थाने ले गए। वहां टैक्सी को सीज करने की तैयारी हो रही थी किंतु सैलानियों द्वारा निवेदन करने एवं चालक द्वारा लिखित में भविष्य में ऐसा कार्य न किए जाने के माफीनामे पर टैक्सी चालक का पांच हजार रुपए का चालान कर दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल पुलिस की ‘खाकी में दिखा इंसान’, जवान ने रक्तदान कर गर्भवती महिला को दिया नया जीवन

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 29 अप्रैल 2022। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक की कृति ‘खाकी में इंसान’ में उल्लेखित खाकी में इंसान शुक्रवार को हल्द्वानी में दिखाई दिया। यहां एसएसपी कैंप कार्यालय हल्द्वानी में नियुक्त पुलिस आरक्षी अमित शरण ने सूझ बूझ तथा मानवता का परिचय देते हुए एक गर्भवती महिला की जान बचाई।

बताया गया कि सुशीला तिवारी चिकित्सालय हल्द्वानी में एक गर्भवती महिला रेनू पत्नी भास्कर सिंह निवासी खटीमा ऊधमसिंह नगर का अचानक स्वास्थ्य बिगड़ जाने से विपरीत परिस्थितियों में ऑपरेशन करना पड़ा। ऑपरेशन के दौरान महिला के गर्भ में पल रहे शिशु की मृत्यु हो गई। महिला को काफी रक्तस्राव भी हो गया और जान बचाने के लिए अतिरिक्त रक्त चढ़ाना आवश्यक हो गया।

इस आपातकालीन परिस्थिति में महिला के परिजनों द्वारा अनेक माध्यमों से रक्त का प्रबंध किए जाने की भरसक कोशिश की। जब आरक्षी अमित शरण को इसकी सूचना मिली, तो उन्होंने तत्काल सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी जाकर गर्भवती महिला के लिए रक्तदान कर उसकी जान बचाई गई। नैनीताल पुलिस के इस मानवीय कार्य की महिला के परिवारजनों एवं चिकित्सकों ने सराहना की और नैनीताल पुलिस को धन्यवाद कहा। बताया गया कि इससे पूर्व भी अमित शरण द्वारा तीन बार रक्तदान किया जा चुका है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल: ड्यूटी के दौरान शराब पीकर दुर्घटना करने पर पुलिस अधिकारी निलबित

नवीन समाचार, रामनगर, 28 अप्रैल 2022। रामनगर कोतवाली में तैनात एक एएसआइ अमित कुमार ने बीती रात्रि नशे में धुत होकर अपनी कार से टेंपो में टक्कर मार दी। हादसे में टेंपो में सवार दो छोटी बच्चियों सहित चार लोग घायल हो गए। इस पर ड्यूटी में लापरवाही बरतने व शराब के नशे में होने की वजह से एएसआइ को एसएसपी ने निलंबित कर दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार एएसआइ अमित कुमार की ड्यूटी बीती रात्रि पुलिस के डायल 112 वाहन में थी। लेकिन वह ड्यूटी से अनुपस्थित होकर अपनी कार से कोसी बैराज जा रहे थे। इस बीच उनकी कार एक टेंपो से टकरा गई। जिससे टेंपो चालक शादाब, नसरीन व दो बच्चियां घायल हो गईं। जिसके बाद एएसआइ अमित कुमार ने ही 112 वाहन बुलाकर घायलों को संयुक्त चिकित्सालय पहुंचाया।

हालांकि इस मामले में अभी घायलों की ओर से तहरीर पुलिस को नहीं दी गई है। लेकिन घटना की सूचना पुलिस के अधिकारियों को रात में दे दी गई थी। सीओ बलजीत भाकुनी ने बताया कि एएसआइ का रात में मेडिकल कराया गया। उनके नशे में होने की पुष्टि हुई। प्रभारी कोतवाल की रिपोर्ट के आधार पर ड्यूटी में लापरवाही बरतने व शराब के नशे में होने पर एएसआइ को निलंबित कर दिया गया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : रूसी बाईपास पर शुरू हुईं दो पुलिस चौकियां, चौकी प्रभारी भी नियुक्त

रूसी बाइपास पर नई पुलिस चौकी-2 को शुरु कराते सीओ संदीप नेगी एवं तल्लीताल थाना प्रभारी रोहताश सागर व अन्य।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 22 अप्रैल 2022। जनपद के एसएसपी पंकज भट्ट के निर्देशों पर मुख्यालय से बाहर रूसी बाईपास पर शनिवार को दो पुलिस चौकियां ऑपचारिक तौर पर प्रारंभ हो गईं। दोनों चौकियों पर वायरलेस सेट तथा अन्य संसाधन उपलब्ध करा दिए गए, साथ ही चौकी प्रभारी भी नियुक्त कर दिये गए हैं।

पुलिस क्षेत्राधिकारी संदीप नेगी ने बताया नारायणनगर के पास की पुलिस चौकी रूसी बाइपास चौकी-1 व बल्दियाखान की ओर की पुलिस चौकी रूसी बाइपास चौकी-2 कही जाएगी। पहली चौकी का प्रभारी उप निरीक्षक महेंद्र प्रसाद को वह दूसरी का उप निरीक्षक धर्मेंद्र कुमार को प्रभारी बनाया गया है। दोनों चौकियों पर चार-चार आरक्षियों की नियुक्ति भी कर दी गई है। पहली चौकी फिलहाल टेंट में चलेगी, जबकि दूसरी के लिए हल्का भवन भी तैयार हो गया है।

अलबत्ता, उन्होने बताया कि दोनों जगह अभी पेयजल सहित कुछ समस्याएं हैं, जिन्हें अगले कुछ दिनों में दूर कर लिया जाएगा। दोनों चौकियों का उपयोग खासकर पर्यटन सत्र में सैलानियों की भीड़ बढ़ने पर यातायात नियंत्रण में किया जाएगा।आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें : जवान की अचानक मौत से नैनीताल पुलिस स्तब्ध, शोकाकुल..

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 10 अप्रैल 2022। उत्तराखंड पुलिस के नैनीताल जनपद में कार्यरत एक जवान की रविवार को अचानक आकस्मिक मृत्यु हो गई। जवान की मौत से नैनीताल पुलिस स्तब्ध है, और नैनीताल पुलिस परिवार में शोक की लहर है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार को थाना चोरगलिया में कार्यरत खटीमा निवासी आरक्षी भरत प्रसाद गौतम पुत्र नंदन प्रसाद की अचानक मृत्यु हो गई। इस पर नैनीताल पुलिस के अधिकारियों ने स्वर्गीय पुलिस कर्मी भरत प्रसाद गौतम के घर जाकर उनके परिजनों को शोक संवेदना व्यक्त कर सांत्वना दी कि दुःख की इस घड़ी में नैनीताल पुलिस उनके परिवार के साथ है। साथ ही अंतिम यात्रा में शामिल होकर आरक्षी के पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ आनर देकर पूरे सैन्य सम्मान के साथ नम आंखो से खटीमा घाट में अंतिम विदाई दी आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बड़ा समाचार : पुलिस कर्मियों को अब ह्वाट्सएप पर मिलेगी छुट्टी…

नवीन समाचार, देहरादून, 1 अप्रैल 2022। पुलिसकर्मियों को छुट्टी के लिए अब थाने अथवा पुलिस कार्यालय के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने पुलिस कल्याण के तहत नई व्यवस्था शुरू की है। इसके तहत व्हाट्सएप मैसेज पर पुलिसकर्मियों को छुट्टी मिल जाएगी।

पुलिस महानिदेशक ने गुरुवार को जनपद के प्रभारियों और सेनानायकों को इस व्यवस्था को लागू करने के निर्देश दिए हैं। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि कभी-कभी समय के अभाव के कारण पुलिसकर्मियों का अवकाश समय से स्वीकृत नहीं हो पाता है, जिसके कारण उन्हें अनावश्यक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पुलिसकर्मी को आपातकाल में छुट्टी चाहिए और उसके पास इतना समय नहीं होता है कि वह अपने उच्चाधिकारियों के पास जाकर छुट्टी के लिए अर्जी दे सकें, तो वह अपने उच्चाधिकारियों को व्हाट्सएप पर छुट्टी का प्रार्थना पत्र भेजकर अपनी समस्या बता सकते हैं।

उच्चाधिकारी आवेदन पत्र पर अवकाश की स्वीकृति प्रदान करते हुए संबंधित कर्मी को अवगत भी कराएंगे। इस नई व्यवस्था से पुलिस कर्मियों को आवश्यकता पड़ने पर आकस्मिक अवकाश मिल जाएगा। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि हाल ही में सेना व अर्द्धसैनिक बल के जवान, सेवानिवृत्त जवानों एवं परिजनों की शिकायतों के निराकरण के लिए शुरू की गयी डिफेंस फोर्स हेल्प डेस्क पर जवानों और उनके परिजन अब हेल्पलाइन नम्बर 9411112780 पर कॉल अथवा व्हाट्सएप के माध्यम से भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

उत्तराखंड पुलिस से संबंधित ‘नवीन समाचार’ पर पूर्व में प्रकाशित समाचार पढ़ने को यहां क्लिक करें।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply