उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 16 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 12.6 मिलियन यानी 1.26 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

March 3, 2024

अवैध चरस के साथ आरोपित को पकड़ने के चक्कर में 12 वर्ष कानूनी शिकंजे में फंसे रहे दो पुलिस कर्मी (Policemen), अब हुए दोष मुक्त, एक सेवानिवृत्त भी हो चुके

0

Two Policemen, who were trapped in legal clutches for 12 years after apprehending an individual with illegal charas, have finally been acquitted. One of the officers has also retired. The wife of the accused had filed a charge sheet accusing the policemen of arresting her husband for possessing illegal hashish. This long-standing case, originating from Betalghat in Nainital district in 2010, concluded with the court of Additional Chief Judicial Magistrate Nainital Jyotsna’s ruling in favor of the acquitted officers. Despite their involvement in apprehending the person with illegal charas, they remained accused throughout the 12-year legal process. The allegations forced one of the officers to retire with a tarnished reputation.

Policemen, High Court, Court Order,

-अवैध चरस के आरोपित को पकड़ने पर आरोपित की पत्नी ने दर्ज कराया था अभियोग
नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जून 2023। अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट नैनीताल ज्योत्सना की अदालत ने वर्ष 2010 में नैनीताल जनपद के बेतालघाट में घटित एक घटना के संबंध में दो पुलिसकर्मियों (Policemen) को 12 वर्ष तक चली कानूनी प्रक्रिया के बाद आखिर दोषमुक्त कर दिया है। गौरतलब है कि इस मामले में अब दोषमुक्त किए गए पुलिस कर्मी उस टीम का हिस्सा थे, जिन्होंने एक व्यक्ति को अवैध चरस के साथ पकड़ा था। फिर भी वह 12 वर्ष तक चली कानूनी प्रक्रिया के दौरान आरोपित रहे। इस बीच एक पुलिस कर्मी आरोपों के दाग के साथ सेवानिवृत्त होने को भी मजबूर रहे।

Policemenइस मामले में किरण फर्त्याल ने न्यायालय में यह कहकर वाद दायर किया था कि 22 दिसंबर 2010 को दिन के लगभग एक बजे उनके निवास स्थान कालाखेत थाना बेतालघाट जिला नैनीताल में 4-5 लोग हथियारबंद लोग अल्टो कार से आए तथा उन्हें यानी किरण तथा उनके पति विजय फर्त्याल को बलपूर्वक जबरदस्ती गाड़ी में बैठा कर अल्मोड़ा ले गए। जब मौके पर गांव वाले इकट्ठा हुए और उनका विरोध किया गया तो इन हथियारबंद लोगों ने खुद को एसओजी यानी पुलिस का होना बताया तथा गोली चलाने की धमकी दी।

इसके बाद आरोपित किरण तथा उनके पति विजय फर्त्याल को अल्मोड़ा थाना उठा ले गए। वहां दोनों को रात भर थाने में बंद रखा गया तथा सुबह किरण को छोड़कर उनके पति विजय फर्त्याल को झूठे चरस के मामले में फंसा कर जेल भेज दिया। इसके बाद आरोपित आरक्षी देवीदत्त पांडे तथा आरक्षी संदीप सिंह के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 342, 352, 448, 365 व 34 के तहत यह मामला वर्ष 2011 से न्यायालय में चला। वादी की ओर से अभियोजन ने 8 गवाह पेश किए गए। गौरतलब है कि अदालती सुनवाई के दौरान एक आरोपित आरक्षी देवी दत्त पांडे सेवानिवृत्त भी हो गए।

आरोपितों की ओर से पैरवी करते हुए अधिवक्ता पंकज कुलौरा ने न्यायालय में यह तर्क रखा कि वादी के पति विजय फर्त्याल को उसी दिन तथा उसी समय अल्मोड़ा पुलिस द्वारा 1 किलो 585 ग्राम अवैध चरस के साथ पकड़ा गया था। इसके बाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश अल्मोड़ा द्वारा अवैध चरस के मामले में उसे 10 साल का कारावास तथा एक लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई गई थी। उस मामले में दोनों पुलिसकर्मी पुलिस टीम के सहयोगी थे। इसलिए उन पर कोई अपराध नहीं बनता है। लिहाजा पति को बचाने के लिए पुलिस कर्मियों को झूठा फंसाया गया है।

न्यायालय ने पुलिसकर्मियों के पक्ष में दस्तावेजी साक्ष्यों के आधार पर तथा वादी के अपने मामले को साबित न किए जाने के कारण दोनों पुलिसकर्मियों को दोषमुक्त कर दिया है। गया। बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता रितेश सागर व सुधीर सिंह ने भी पैरवी की। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..

Two policemen, who were trapped in legal clutches for 12 years for catching the accused with illegal charas, are now acquitted, one has also retired

The wife of the accused had filed a charge sheet on arresting the accused of illegal hashish
Naveen Samachar, Nainital, 20 June 2023. The court of Additional Chief Judicial Magistrate Nainital Jyotsna has finally acquitted two policemen in connection with an incident that took place in Betalghat of Nainital district in the year 2010 after a legal process that lasted for 12 years. Significantly, in this case, the now exonerated police personnel were part of the team that nabbed a person with illegal charas. Yet he remained accused during the legal process which lasted for 12 years. Meanwhile, a policeman was also forced to retire with the taint of the allegations.

In this case, Kiran Fartyal had filed a suit in the court saying that on 22nd December 2010, at around one o’clock in the day, 4-5 armed men came in an Alto car at her residence, Kalakhet police station, Betalghat district, Nainital, and she i.e. Kiran and her husband Vijay Fartyal was forcefully taken to Almora by forcefully sitting in the car. When the villagers gathered on the spot and protested against them, these armed men introduced themselves as SOG i.e. police and threatened to shoot.

After this, the accused Kiran and her husband Vijay Fartyal were taken to Almora police station. There both were kept locked in the police station overnight and in the morning except Kiran, her husband Vijay Fartyal was implicated in a false charas case and sent to jail. After this, the case against the accused constable Devidutt Pandey and constable Sandeep Singh under sections 342, 352, 448, 365 and 34 of the Indian Penal Code went on in the court from the year 2011. Eight witnesses were produced by the prosecution on behalf of the plaintiff. Significantly, during the court hearing, one of the accused constable Devi Dutt Pandey also retired.

Appearing on behalf of the accused, advocate Pankaj Kulaura argued in the court that the husband of the plaintiff, Vijay Fartyal, was caught with 1 kg 585 grams of illegal charas by the Almora police on the same day and at the same time. After this, he was sentenced to 10 years imprisonment and a fine of one lakh rupees by the District and Sessions Judge Almora in the case of illegal charas. In that case both the policemen were associates of the police team. That’s why no offense is made on them. Therefore, to save the husband, the police personnel have been falsely implicated.

The court has acquitted both the policemen on the basis of documentary evidence in favor of the policemen and because the plaintiff has not proved his case. Went. Advocates Ritesh Sagar and Sudhir Singh also appeared on behalf of the defence.

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग