News

लॉक डाउन में बच्चों-शिक्षकों को मोबाइल-कम्प्यूटर से दी ‘छुट्टी’

यहाँ से दोस्तों को भी शेयर करके पढ़ाइये
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

योग्यता के नये नियमों से पदोन्नति से वंचित रह सकते हैं कई शिक्षक

-ओकवुड स्कूल की निदेशक गीतांजलि आनंद ने की अलग पहल

गीतांजलि आनंद।

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 जून 2020। लॉक डाउन के दौरान देश भर में बच्चे पढ़ाई के लिए भी मोबाइल व कम्प्यूटर की स्क्रीन पर चिपकने को मजबूर हैं, जबकि इससे पहले बच्चों को इनसे दूर ही रहने की सलाह दी जाती थी। इन स्थितियों में शिक्षा नगरी के ओकवुड स्कूल ने बच्चों को 9 जून से 29 जून तक ग्रीष्मकालीन छुट्टियां घोषित कर दी हैं। साथ ही एक अलग तरह की पहल करते हुए इस दौरान बच्चों को ऐसी परियोजना देने की बात कही है जिसमें अभिभावकों की न्यूनतम भागीदारी होगी और मोबाइल फोन तथा कंप्यूटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का कम से कम उपयोग होगा।
इस संबंध में विद्यालय की निदेशक गीतांजलि आनंद ने अभिभावकों के लिए एक पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने कहा है कि बच्चे और शिक्षक पिछले दो माह से फोन या कंप्यूटर स्क्रीन के सामने एकटक घंटों बैठकर स्कूल का काम पूरा करने में जुटे हुए हैं। शायद सामान्य परिस्थितियों में उन्हें ना ही इतना मोबाइल फोन और ना ही कंप्यूटर पर रहने की इजाजत दी जाती। सामान्य स्थितियां होती तो 31 मई से ओकवुड स्कूल में वार्षिक ग्रीष्म काल की छुट्टियां हो गई होतीं। उन्हें लगता हे कि बच्चों और शिक्षकों को स्क्रीन से कुछ दिनों के लिए राहत देना जरूरी है। इसलिए यह छुट्टियां दी जा रही हैं। इन छुट्टियों के दौरान शिक्षक प्रत्येक बच्चे को अखबार, पत्रिकाओं, पाठ्यपुस्तकों, बुजुर्गों के अनुभवों व कहानी कहने के तरीको पर आधारित परियोजनाएं देंगे। इसका उद्देश्य है कि बच्चे समाचार पत्रों के माध्यम से अपने उत्तरों का खोजना, घर में रखी अनुपयुक्त वस्तुओं का उचित उपयोग करना सीख सकें, तथा अपने आसपास के वातावरण के विषय में सामान्य जागरूकता उत्पन्न कर सके, और परिवार के बड़े लोगों से बात करके ज्ञान अर्जित कर सकें। उन्हें उम्मीद है कि बच्चे व शिक्षक इन छुट्टियों में निरंतर स्क्रीन के उपयोग से दूर रहकर आवश्यक ब्रेक का आनंद लेंगे और बच्चे घर बैठे शिक्षा दिलाने में हमें अपना पूर्ण सहयोग देंगे। विद्यालय के प्रबंधक संतोष कुमार ने बताया कि विद्यालय की ओर से बच्चों के लिए परियोजनाएं तैयार की जा रही हैं।

यह भी पढ़ें : अभिभावकों के लिए महत्वपूर्ण समाचार: प्रतिष्ठित विद्यालय ने किया ऐलान-तीन माह तक भी नहीं लेंगे लेट फीस

सेंट जोसफ कॉलेज के प्रधानाचार्य ब्रदर हैक्टर पिंटो।

नवीन समाचार, नैनीताल, 30 मई 2020। शिक्षा नगरी नैनीताल के प्रतिष्ठित विद्यालय सेंट जोसफ कॉलेज की फीस की दूसरी किस्त जमा करने की आखिरी तिथि 1 जून है। किंतु विद्यालय की ओर से बड़ा ऐलान करते हुए कहा गया है कि कोरोना विषाणु की महामारी और लॉक डाउन की वजह से आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण यदि कोई अभिभावक अभी फीस नहीं दे पा रहे हैं तो उन्हें चिता करने की आवश्यकता नहीं है। विद्यालय के प्रधानाचार्य ब्रदर हैक्टर पिंटो के हवाले से विद्यालय के धर्मेंद्र शर्मा ने बताया कि जो अभिभावक समर्थ हों, वे फीस जमा कर सकते हैं। लेकिन यदि कोई अभिभावक समर्थ न हों तो ऐसे अभिभावकों से अगस्त माह तक भी लेट फीस नहीं ली जाएगी। साथ ही यह भी कहा कि यदि राज्य अथवा केंद्र सरकार भविष्य में फीस कम करने जैसा कोई निर्णय करती है तो अभी जमा की गई फीस आगे समायोजित भी की जा सकती है। यदि किसी अंतिम वर्ष के विद्यार्थी की फीस जमा हो जाती है तो वह वापस भी की जा सकती है।

यह भी पढ़ें : नैनीताल के विद्यालय के दो ‘सूर्य’ जेईई मेन्स परीक्षा में चमके…

जेईई मेन्स परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों भास्कर पंत व आदित्य मित्तल को बधाई देते प्रधानाचार्य नरेंद्र सिंह।

नवीन समाचार, नैनीताल, 21 जनवरी 2020। नगर के वीर भट्टी स्थित पार्वती प्रेमा जगाती सरस्वती विहार दुर्गापुर के 12 कक्षा में अध्ययनरत दो मेधावी छात्रों भास्कर पंत और आदित्य मित्तल ने जेईई मेन्स परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है। उल्लेखनीय है कि भास्कर एवं आदित्य दोनों सूर्य के पर्यायवाची शब्द हैं। भास्कर पंत ने इस परीक्षा में 90 परसेंटाईल तथा अदित्य ने 77.70 परसेंटाईल अंक हासिल किये हैं। उल्लेखनीय है कि गत वर्ष इसी विद्यालय के 12वीं कक्षा के छात्र शिव त्यागी ने भी अपनी प्रखर मेधा का परिचय देते हुए 90 परसेंटाईल के साथ जेईई मेन क्वालीफाई किया था। विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष कामेश्वर प्रसाद काला, प्रबंधक डा. केपी सिंह तथा प्रधानाचार्य नरेंद्र सिंह ने दोनों छात्रों की इस सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुऐ उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है।

यह भी पढ़ें : इस विद्यालय को मिला ‘मोस्ट रिकमंडेड डे बोर्डिंग स्कूल इन नैनीताल’ का पुरस्कार

-सुप्रसिद्ध अभिनेत्री सुश्री मंदिरा बेदी के हाथों प्रदान किया गया पुरस्कार

नई दिल्ली में अभिनेत्री मंदिरा बेदी से ‘मोस्ट रिकमंडेड डे बोर्डिंग स्कूल इन नैनीताल’ पुरस्कार ग्रहण करते एलपीएस के प्रधानाचार्य एवं शिक्षिका।

नवीन समाचार, नैनीताल, 20 जनवरी 2020। नगर के एलपीएस यानी लांग व्यू पब्लिक स्कूल को वर्ष 2020 के लिए ‘मोस्ट रिकमंडेड डे बोर्डिंग स्कूल इन नैनीताल’ यानी नैनीताल नगर के सर्वाधिक संदर्भित किये जाने वाले गैर छात्रावासी विद्यालय के पुरस्कार से नवाजा गया है। विद्यालय को यह पुरस्कार ‘ब्रांड इम्पैक्ट’ संस्था के द्वारा ‘प्राइड ऑफ इंडिया एजुकेशन अवार्ड’ के तहत नई दिल्ली के पश्चिम विहार स्थित रेडिसन ब्लू होटल में आयोजित एक भव्य समारोह में सुप्रसिद्ध अभिनेत्री सुश्री मंदिरा बेदी के हाथों प्रदान किया गया। विद्यालय के लिए आयोजन में उपस्थित प्रधानाचार्य भुवन त्रिपाठी और वरिष्ठ शिक्षिका कविता सनवाल ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। को दिया गया। आयोजन में ‘राइट च्वाइस अवार्ड्स’ और भारत के बेस्ट डॉक्टर्स अवार्ड्स भी दिये गये।

नियमित रूप से नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड के समाचार अपने फोन पर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप में इस लिंक https://t.me/joinchat/NgtSoxbnPOLCH8bVufyiGQ से एवं ह्वाट्सएप ग्रुप से इस लिंक https://chat.whatsapp.com/ECouFBsgQEl5z5oH7FVYCO पर क्लिक करके जुड़ें।

यह भी पढ़ें : वृंदावन में रही नन्हे बच्चों के मासूम नृत्यों की धूम

-विद्यालय के पूर्व ताइक्वांडो कोच ललित आर्य को समर्पित रहा वार्षिकोत्सव
नवीन समाचार, नैनीताल, 24 नवंबर 2019। नगर के तल्लीताल स्थित वृंदावन पब्लिक स्कूल में रविवार को बच्चों के मासूमियत भरे रंगारंग कार्यक्रमों की धूम रही। मौका था विद्यालय के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम की। कार्यक्रम विद्यालय के पूर्व दिवंगत कोच ललित आर्य को समर्पित रहा। कार्यक्रम में बच्चों ने वंदना, फ्रंेड्स, ब्रेकअप, बोलो तारा रारा, देशी गर्ल्स, अली, चोगारा तारा, सानू केंदी, ये जवानी आदि गीतों पर रंगारंग प्रस्तुतियां दीं। किंतु खास बात यूकेजी व प्ले वे के नन्हे बच्चों की मासूमियत ही रही, जो हर नृत्य प्रस्तुति में दर्शकों को भावुक किये रही। बच्चों ने छोलिया नृत्य की प्रस्तुति भी दी।

राज्य के सभी प्रमुख समाचार पोर्टलों में प्रकाशित आज-अभी तक के समाचार पढ़ने के लिए क्लिक करें इस लाइन को…

आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में सेंट मेरीज कॉन्वेंट की प्रधानाचार्या सिस्टर मंजूषा, विशिष्ट अतिथि सिस्टर डिग्ना, विद्यालय के चेयरमैन राजेंद्र लाल साह, प्रबंधक आलोक साह, प्रधानाचार्या राखी साह, ओकवुड स्कूल की प्रधानाचार्या लता साह, रामा मांटेसरी स्कूल की प्रधानाचार्या नीलू एल्हेंस, एसडीएम विनोद कुमार, आलोक जोशी, हरीश लाल साह, डा. अनंता ठुलघरिया, दीपाली साह के साथ ही विद्यालय की संघमित्रा, नेहा, किरन, सुप्रीता, उज्मा, कंचन, मनीष व नारायण आदि शिथिकाएं व सहयोगी कर्मी मौजूद रहे।
वार्षिकोत्सव में एक मासूमियत भरा नृत्य प्रस्तुत करते वृंदावन पब्लिक स्कूल के नन्हे बच्चे।

नवीन समाचार
मेरा जन्म 26 नवंबर 1972 को हुआ था। मैं नैनीताल, भारत में मूलतः एक पत्रकार हूँ। वर्तमान में मार्च 2010 से राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र-राष्ट्रीय सहारा में ब्यूरो चीफ के रूप में कार्य कर रहा हूँ। इससे पहले मैं पांच साल के लिए दैनिक जागरण के लिए काम कर चुका हूँ। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग से ‘नए मीडिया’ विषय पर शोधरत हूँ। फोटोग्राफ़ी मेरा शौक है। मैं NIKON COOLPIX P530 और अडोब फोटोशॉप 7.0 के साथ फोटोग्राफी कर रहा हूँ। फोटोग्राफी मेरे लिए दुनियां की खूबसूरती को अपनी ओर से चिरस्थाई बनाने का बहुत छोटा सा प्रयास है। एक फोटो पत्रकार के रूप में मेरी तस्वीरों को नैनीताल राजभवन सहित विभिन्न प्रदर्शनियों में प्रस्तुत किया गया, तथा उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती मार्गरेट अलवा द्वारा सम्मानित किया गया है। कुछ चित्रों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुके हैं। गूगल अर्थ पर चित्र उपलब्ध कराने वाली पैनोरामियो साइट पर मेरी प्रोफाइल को 18.85 Lacs से भी अधिक हिट्स प्राप्त हैं।पत्रकारिता और फोटोग्राफी के अलावा मुझे कवितायेँ लिखना पसंद है। काव्य क्षेत्र में मैंने नवीन जोशी “नवेन्दु” के रूप में अपनी पहचान बनाई है। मैंने बहुत सी कुमाउनी कवितायेँ लिखी हैं, कुमाउनी भाषा में मेरा काव्य संकलन उघड़ी आंखोंक स्वींड़ प्रकाशित हो चुका है, जो कि पुस्तक के के साथ ही डिजिटल (PDF) फार्मेट पर भी उपलब्ध होने वाली कुमाउनी की पहली पुस्तक है। मेरी यह पुस्तक गूगल एप्स पर भी उपलब्ध है। ’ यहां है एक पत्रकार, लेखक, कवि एवं छाया चित्रकार के रूप में मेरी रचनात्मकता, लेख, आलेख, छायाचित्र, कविताएं, हिंदी-कुमाउनी के ब्लॉग आदि कार्यों का पूरा समग्र। मेरी कोशिश है कि यहां नैनीताल, कुमाऊं, उत्तराखंड और वृहद संदर्भ में देश की विरासत, संस्कृति, इतिहास और वर्तमान को समग्र रूप में संग्रहीत करने की….। मेरे दिल में बसता है, मेरा नैनीताल, मेरा कुमाऊं और मेरा उत्तराखंड
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...