उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 16 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 12.6 मिलियन यानी 1.26 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

March 2, 2024

जम्मू कश्मीर के राजौरी में आतंकियों से मुठभेड़ में नैनीताल के जवान ने दिया सर्वोच्च बलिदान (Shahid), पूरा क्षेत्र शोकाकुल

0

Shahid

Shok Suchana, Shok Samachar

नवीन समाचार, नैनीताल, 22 नवंबर 2023। जम्मू कश्मीर के राजौरी में बुधवार को आतंकवादियों से हुई भारतीय सेना के जवानों की मुठभेड़ में नैनीताल के एक लाल (Shahid) ने सर्वोच्च बलिदान दिया है। इससे पूरे क्षेत्र में शोक छा गया है। नैनीताल के वीर सपूत संजय के बलिदान पर रुला देगा और देशप्रेम से भर देगा यह दृश्य, देखें वीडिओ :

मुठभेड़ में बलिदान देने वाला जवान (Shahid) संजय बिष्ट नैनीताल के कैंची धाम के पास स्थित हली गांव का रहने वाला है। 29 वर्षीय (Shahid) संजय का अभी विवाह भी नहीं हुआ था। उसके पिता दीवान सिंह रातीघाट में पोस्टमास्टर हैं। उनका परिवार अब रातीघाट में ही रहता है।

(Shahid) दु:खद(उत्तराखंड)नैनीताल जनपद का जवान सीमा पर हुआ शहीद.क्षेत्र में शोक !!

प्राप्त जानकारी के अनुसार (Shahid) संजय 2012 में भारतीय सेना में भर्ती हुआ था यानी 11 वर्षों से भारतीय सेना में था। वह एक माह पूर्व अपने दादा कुशल सिंह बिष्ट के निधन पर गांव आया था और इधर 15 दिन पूर्व ही वह घर आकर लौटा था और एक दिन पूर्व ही उसकी फोन से अपने परिजनों से बात हुई थी। दो भाइयों में छोटे (Shahid) संजय के बड़े भाई नीरज बिष्ट भाजपा किसान मोर्चा के जिला मंत्री हैं।

उनकी एक बड़ी बहन विनीत की शादी हो चुकी है, जबकि दूसरी बहन ममता अविवाहित है। (Shahid) संजय के सर्वोच्च बलिदान से पिता दीवान बिष्ट, मां मंजू बिष्ट, भाई नीरज बिष्ट, बहन ममता बिष्ट व विनीता बिष्ट आदि बुरी तरह से शोकाकुल हैं।

बताया गया है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक बुधवार सुबह 9 बजे सेना को आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद सर्च ऑपरेशन चलाया गया। इसके बाद जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में धर्मसाल के बाजीमल इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हुई। बताया गया है कि सर्च ऑपरेशन में सेना के राष्ट्रीय राइफल्स के जवानों के साथ पैराट्रूपर्स भी शामिल थे, लेकिन आतंकी घात लगाकर बैठे थे।

जैसे ही सेना उन आतंकियों के नजदीक पहुंची, वैसे ही आतंकियों की ओर से सेना पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी गई। ऐसे में सेना के 2 कैप्टनों सहित चार जवानों (Shahid) ने अपना सर्वोच्च बलिदान दे दिया।
आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।
 

यह भी पढ़ें : (Shahid) दीपावली पर उत्तराखंड के एक लाल सेना में शहीद

नवीन समाचार, हल्द्वानी, 15 नवंबर 2023 (Shahid)। दीपावली के त्यौहार के बीच भारतीय सेना की ओर से एक दुखद समाचार सामने आया है। सैन्य भूमि उत्तराखंड के हल्द्वानी के हिम्मतपुर तल्ला हरीपुर नायक निवासी 13 महर रेजीमेंट में तैनात दीपक मेलकानी के शहीद होने का समाचार है। इससे उनके परिजनों में शोक की लहर दौड़ पड़ी है।

Shahidदीपक अपने पीछे पत्नी पुष्पा मेलकानी व 12 वर्षीय बेटे निर्मल व 7 वर्षीय बेटी को पीछे छोड़ गए हैं।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। 

यह भी पढ़ें : Shahid : नैनीताल जनपद के मुक्तेश्वर का एक जवान शहीद (Shahid) ….

नवीन समाचार, नैनीताल, 3 सितंबर 2023। नैनीताल जिले के मुक्तेश्वर थाना क्षेत्र के रहने वाला एक सेना के एक जवान जम्मू के उधमपुर में शहीद (Shahid) हुआ है। जवान के शहीद (Shahid) होने की सूचना के बाद शहीद (Shahid) के परिवार के साथ ही यह सूचना प्राप्त करने वाला हर व्यक्ति शोकग्रस्त हो गया है।

मुक्तेश्वर का जवान जम्मू के उधमपुर में शहीदबताया जा रहा है कि मुक्तेश्वर थाना क्षेत्र के मल्ला गहना सुपाकोट के रहने वाले 27 वर्षीय दीपक पांडे कुमाऊं रेजीमेंट के बंगाल इंजीनियरिंग में तैनात थे। शनिवार रात जम्मू स्थित सेना के मुख्यालय से परिवार वालों को सूचना मिली कि दीपक पांडे शहीद (Shahid) हो गये हैं। जवान के शहीद (Shahid) होने की खबर के बाद परिवार में शोक छा गया। इसके बाद परिवार वाले जम्मू कश्मीर को रवाना हुए हैं।

शहीद (Shahid) जवान दीपक पांडे के चाचा चंद्रशेखर पांडे ने बताया कि सेना के अधिकारियों का शनिवार रात फोन आया। उन्होंने बताया एक दुर्घटना के दौरान दीपक पांडे शहीद (Shahid) हो गए हैं। स्वर्गीय दीपक पांडे का पार्थिव शरीर सोमवार तक पहुंचाने की उम्मीद है।

शहीद (Shahid) जवान दीपक पांडे 2017 में कुमाऊं रेजीमेंट के बंगाल इंजीनियरिंग में तैनात हुए थे। वह इंटरमीडिएट और स्नातक पढ़ाई के बाद सेना में भर्ती हुए थे और बंगाल इंजीनियरिंग में इलेक्ट्रीशियन के पद पर तैनात थे। वर्तमान में उनकी तैनाती जम्मू के उधमपुर में थी। परिवार में माता-पिता के अलावा एक छोटी बहन और एक बड़ा भाई है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : विजय दिवस, जिस दिन भारत ने पड़ोसी देश के दो टुकड़े किए थे, उसी दिन शहीद (Shahid) हुए थे नैनीताल के लीलाम्बर…

-विजय दिवस पर अमर शहीद (Shahid) नायक लीलाम्बर पाण्डे व लांस नायक प्रकाश लाल को किया गया याद
विजय दिवस पर शहीद लीलाम्बर पाण्डे व लांस नायक प्रकाश लाल को किया गया याद -  हिन्दुस्थान समाचारनवीन समाचार, नैनीताल, 16 दिसंबर 2022 (Shahid) नगर के सबसे पुराने सीआरएसटी इंटर कॉलेज में शुक्रवार को विजय दिवस मनाया गया। इस अवसर पर छात्रों को सम्बोधित करते हुए विद्यालय के प्रधानाचार्य मनोज कुमार पाण्डे ने वर्ष 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हए युद्ध में भारतीय सेना अदम्य साहस एवं पराक्रम का विस्तारपूर्वक वर्णन किया।

उन्होंने बताया कि इस युद्ध में भारतीय सैनिकों के पराक्रम से पाकिस्तान से नये देश बांग्लादेश का उदय हुआ। इस युद्ध में उनके चचेरे भाई नायक लीलाम्बर पाण्डे ने ठीक 16 दिसंबर 1971 को युद्ध विराम घोषित होने के दिन अपना सर्वोच्च बलिदान दिया था। यह भी पढ़ें : गजब हाल : जिला कार्यकारिणी नैनीताल की, नैनीताल का एक भी पदाधिकारी नहीं, आधे एक विधानसभा के और आधे से अधिक एक नगर मंडल के….

बताया कि स्वर्गीय पांडे 9 कुमाऊं रेजिमेन्ट में कार्यरत थे। उनके बलिदान से जहां एक ओर सभी पारिवारिक सदस्य दुखी थे वहीं स्वयं को गौरवान्वित भी महसूस कर रहे थे। उनकी वीरांगना पत्नी मुन्नी पांडे अवकाश प्राप्त प्रधानाचार्य हैं, एवं वर्तमान में रामनगर में निवास करती हैं।

विद्यालय के ही शिक्षक राजेश लाल ने भी छात्रों को सम्बोधित करते हुए बताया कि 17 कुमाऊं रेजिमेन्ट में तैनात उनके चाचा लांस नायक प्रकाश लाल ने भी इस युद्व में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया था। यह भी पढ़ें : लिव-इन साथी महिला अपने ही अंतरंग पलों के वीडियो से शिक्षक को एक करोड़ के लिए कर रही ब्लेकमेल, फ्लैट पर भी कर लिया कब्जा

स्वर्गीय प्रकाश लाल की प्रारम्भिक शिक्षा नगर के जुबली हॉल मल्लीताल में हुई थी। जूनियर हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण करने के उपरान्त वह सेना में शामिल हो गये थे, उन्हें प्रथम नियुक्ति नागालैण्ड में मिली थी। कार्यक्रम में भारत माता की जय, 16 दिसम्बर अमर रहे और भारत के अमर शहीदों (Shahid) की जय जैसे उदघोष गूंजते रहे। 

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Shahid): धामी सरकार ने शहीदों (Shahid) को दो वर्गों में बांटा, शहीदों (Shahid) के परिजन स्तब्ध, लगाया दोहरा रवैया अपनाने का आरोप…

-2014 के बाद के शहीदों (Shahid) को 10 लाख की अनुग्रह राशि देगी सरकार, जबकि 2015 से पूर्व के शहीदों के परिवारों को अनुग्रह राशि देने के हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गई सरकार, वहां से लगी हाईकोर्ट के आदेशों पर रोक
38 साल बाद सियाचिन में मिला उत्तराखंड के लांसनायक चंद्रशेखर का पार्थिव शरीर

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 नवंबर 2022 (Shahid)। उत्तराखंड के शहीदों के परिजन राज्य सरकार के बदले रुख एवं सर्वोच्च न्यायालय के उत्तराखंड सरकार की अपील पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय के सभी शहीदों के परिवारों को 10 लाख रुपए की अनुग्रह राशि देने के फैसले पर रोक लगो के फैसले से स्तब्ध है।

यह भी पढ़ें : हाईकोर्ट के बाद नैनीताल तीन अन्य मुख्यालयों को भी शिफ्ट करने की उठी मांग, आगे 9 पर्वतीय जिलों के मुख्यालयों के लिए उठ जाए यही मांग तो आश्चर्य नहीं….

उनका कहना है कि उत्तराखंड सरकार एक ओर राज्य में पांचवे धाम के रूप में सैन्य धाम की स्थापना कर रही है, वहीं शहीदों (Shahid) के परिवारों के प्रति उनका दोहरा रवैया साफ तौर पर नजर आ रहा है। सरकार शहीदों (Shahid) को भी 2014 से पूर्व के व बाद के वर्गों में बांट रही है। इससे सरकार की मंशा सवालों के घेरे में है। यह भी पढ़ें : आज यहां रहे विराट-अनुष्का

(Shahid) सरकार ने 5 मार्च 2014 तक के शहीद हुए सैनिकों के परिवारों को 10 लाख रुपए देने के लिए शासनादेश जारी किया था। इस शासनादेश के जारी होने के बाद इससे पूर्व के शहीदों के परिवारों ने भी अनुग्रह राशि देने की मांग की थी और वह उच्च न्यायालय गए। इस पर उच्च न्यायालय ने वर्ष 2015 से पूर्व के शहीदों के परिवारों को भी अनुग्रह राशि देने के आदेश दिए थे। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में बड़ा हादसा, एक दर्जन से अधिक लोगों का जीवन खतरे में…

(Shahid) लेकिन राज्य सरकार ने इस आदेश को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दे दी। सरकार का कहना था कि इससे सरकार पर काफी आर्थिक बोझ पड़ेगा। जिस पर सुनवाई करने के बाद सर्वोच्च न्यायालय ने उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दी है।

बताया गया है कि सैनिक बहुल उत्तराखंड में पिछले 21 वर्षों में ही 267 सैनिक शहीद हुए हैं। इससे पहले के कुल शहीदों की संख्या 1700 से अधिक बताई जा रही है। यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में दो वर्ष के बाद हुए पहले छात्र संघ चुनाव में ही छात्रों के सिर फूटे…

38 वर्ष बाद शहीद का शव आया तो सीएम भी घर आए, पर नहीं मिलेगी अनुग्रह राशि

नैनीताल (Shahid)। सिचायिन ग्लेशियर में शहीद हुए नैनीताल जनपद के हल्द्वानी निवासी लांसनायक चंद्रशेखर हरबोला की वीरांगना पत्नी शांति देवी ने इस मामले में कहा कि बीते अगस्त माह में 38 वर्ष बाद उनके पति का पार्थिव शरीर मिलने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी उनके घर आए थे और बड़े जलसे की तरह शहीद का अंतिम संस्कार प्रशासन की ओर से कराया गया था।

यह भी पढ़ें : आफताब ने हत्या कर श्रद्धा के लिए 35 टुकड़े, मामले में मुंबई-दिल्ली के बाद उत्तराखंड की इंट्री

(Shahid) लेकिन अब प्रदेश सरकार के इस रवैये से वह तथा सैकड़ों अन्य शहीदों के रवैये से सदमे जैसी स्थिति में हैं। सरकार को इस पर पुर्नविचार कर उन्हें भी अन्य शहीदों की तरह अनुग्रह राशि देनी चाहिए। शहीदों में भी विभेद करने के सरकार के कदम की प्रशंसा नहीं की जा सकती है। 

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंयदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो यहां क्लिक कर हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, यहां क्लिक कर हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें (Shahid) : दु:खद समाचार : कर्तव्य पालन करते हुए घायल पुलिस कर्मी शहीद….

नवीन समाचार, रुद्रपुर, 15 नवंबर 2022 (Shahid)। बीते छह नवंबर की देर रात्रि ऊधमसिंह नगर जिले के किच्छा में चुकटी स्थित टोल के पास वाहन चेकिंग के दौरान लकड़ी से भरे एक ट्रक ने पुलिस आरक्षी लक्ष्मण बिष्ट को रोंद दिया था।

(Shahid) एक सप्ताह से अधिक समय से जिंदगी की जंग लड़ रहे लक्ष्मण सोमवार देर रात्रि ड्यूटी पर तैनाती के दौरान अपने कर्तव्य का पालन करते हुए हुई घटना के बाद शहीद हो गए, और उन्होंने रुद्रपुर के एक निजी अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इससे पुलिस विभाग में शोक की लहर छा गई है।

यह भी पढ़ें : वहां लिव-इन में रहने वाली महिला के 35 टुकड़े, यहां भतीजे के साथ लिव-इन में रहने वाली महिला की संदिग्ध मौत…

(Shahid) विदित हो तक छह नवंबर की देर रात लालपुर चौकी प्रभारी सुनील बिष्ट मध्य रात्रि आरक्षी लक्ष्मण बिष्ट और किशोर कुमार को साथ लेकर ओवरलोड वाहनों की चेकिंग कर रहे थे। इसी दौरान लकड़ी से ऊपर तक भरे ट्रक संख्या यूके06सीए-7713 पुलिस के रोकने पर नहीं रुका और लक्ष्मण को रौंदता हुआ फरार हो गया। यह भी पढ़ें : पोल से टकराई बाइक, 22-24 वर्षीय दो युवकों की मौत

(Shahid) गंभीर हालत में लक्ष्मण को रुद्रपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। पुलिस ने ट्रक चालक के खिलाफ जानलेवा हमले का मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इधर, लक्ष्मण को उपचार के दौरान होश नहीं आया। उनकी हालत लगातर बिगड़ती गई।

(Shahid) चिकित्सक भी लगातार उसकी जान बचाने का प्रयास कर रहे थे। परंतु लक्ष्मण सोमवार रात जिंदगी की जंग हार गये। मंगलवार सुबह पुलिस ने आरक्षी लक्ष्मण के शव को पंचनामा भर कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग