उत्तराखंड सरकार से 'A' श्रेणी में मान्यता प्राप्त रही, 16 लाख से अधिक उपयोक्ताओं के द्वारा 12.6 मिलियन यानी 1.26 करोड़ से अधिक बार पढी गई अपनी पसंदीदा व भरोसेमंद समाचार वेबसाइट ‘नवीन समाचार’ में आपका स्वागत है...‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने व्यवसाय-सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं तक पहुँचाने के लिए संपर्क करें मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व saharanavinjoshi@gmail.com पर... | क्या आपको वास्तव में कुछ भी FREE में मिलता है ? समाचारों के अलावा...? यदि नहीं तो ‘नवीन समाचार’ को सहयोग करें। ‘नवीन समाचार’ के माध्यम से अपने परिचितों, प्रेमियों, मित्रों को शुभकामना संदेश दें... अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में हमें भी सहयोग का अवसर दें... संपर्क करें : मोबाईल 8077566792, व्हाट्सप्प 9412037779 व navinsamachar@gmail.com पर।

March 3, 2024

Shok Suchana : युवा छायाकार, पर्वतारोही, यूट्यूबर, व्लॉगर अमित साह के असामयिक निधन पर सीएम धामी ने जताया शोक…

0

नवीन समाचार, नैनीताल, 18 सितंबर 2023 (Shok Suchana)। नगर के ख्याति प्राप्त, कई पुरस्कारों से सम्मानित एवं अपार संभावनाओं से युक्त, 41 वर्षीय युवा छायाकार, कलाकार, पर्वतारोही, यूट्यूबर व व्लॉगर अमित साह का सोमवार सुबह तड़के अचानक असामयिक निधन हो गया। उनके चित्र प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं के प्रथम पृष्ठ एवं विभिन्न कॉफी टेबल बुक्स आदि में छपते रहते थे। फोटोग्राफी के लिये वह अनेकों बार अनेक संस्थाओं से सम्मानित भी हो चुके थे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी उनके असामयिक निधन पर शोक जताया है। 

यहाँ क्लिक कर सीधे संबंधित को पढ़ें

Shok Suchana

Shok Suchana (Shok Suchana) पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश जोशी ने बताया कि अमित को रात्रि 10 बजे के आसपास कुछ शारीरिक समस्या हुई। इसके बाद उन्हें परिजन बीडी पांडे जिला चिकित्सालय उपचार हेतु ले गये, जहां उन्होंने सुबह 4 बजे के करीब अंतिम सांस ली। उनकी अंतिम यात्रा सुबह 10 बजे उनके आवागढ़ कंपाउंड मल्लीताल से प्रारंभ हुई। इसके उपरांत पाइंस स्थित श्मशान घाट में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

बताया गया है कि स्वर्गीय साह अविवाहित थे। उन्हें रात्रि में सीने में दर्द की शिकायत होने पर परिजन रात्रि दो बजे बीडी पांडे जिला चिकित्सालय ले गये। यहां उनका ईसीजी किया गया, जिसमें उनके हृदय को खतरा बताया गया। इस दौरान ईएमओ यानी आपातकालीन चिकित्साधिकारी ने उन्हें तत्काल या सुबह अन्य बेहतर चिकित्सालय ले जाने को कहा।

इस पर अमित के कहने पर उनके परिजन उन्हें घर वापस ले गये। लेकिन कुछ देर में ही हालत गंभीर होने पर उन्हें वापस जिला चिकित्सालय लाया गया, लेकिन वहां पहुंचने पर चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इस कारण परिजनों में जिला चिकित्सालय की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को लेकर आक्रोश भी है। ‘नवीन समाचार’ दिवंगत आत्मा एवं उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी शोक संवेदना प्रकट करता है।

आज के अन्य एवं अधिक पढ़े जा रहे ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। यदि आपको लगता है कि ‘नवीन समाचार’ अच्छा कार्य कर रहा है तो हमें सहयोग करें..यहां क्लिक कर हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें। यहां क्लिक कर यहां क्लिक कर हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से, हमारे टेलीग्राम पेज से और यहां क्लिक कर हमारे फेसबुक ग्रुप में जुड़ें। हमारे माध्यम से अमेजॉन पर सर्वाधिक छूटों के साथ खरीददारी करने के लिए यहां क्लिक करें। 

यादों में अमित साह :

2013 की सर्दियों का वाक़या है. मेरे अन्तरंग मित्र दिवंगत सुनील शाह उन दिनों ‘अमर उजाला’ के कुमाऊँ संस्करण के सम्पादक थे. मोबाइल फोन को आए बहुत समय नहीं हुआ था. और कैमरे वाले मोबाइल तो और भी नई चीज़ थे. फोटो बहुत कम रेज़ोल्यूशन की आती थी लेकिन आम जन के लिए कैमरा सुलभ होता जा रहा था. शाह जी ने एक शाम मुझे बताया कि उन्होंने अपने अखबार में पाठकों द्वारा मोबाइल से खींचे गए फोटो छापने का फैसला किया है. अगले दिन के अखबार में इस बाबत सूचना जारी की गई और शाम तक अखबार का मेलबॉक्स सैकड़ों फोटुओं से अट गया.

पाठकों के इस रिस्पांस से उत्साहित सुनील शाह मुझे दिखाने को उनमें से एक फोटो विशेष रूप से लेकर आए. नैनीताल के एक तीस वर्षीय युवा अमित साह के उस फोटो में पतझड़ के मौसम में नैनीताल की मॉल रोड को कैद किया गया था. जिस कोण से फोटो लिया गया था, मैंने बीसियों बरसों में नैनीताल को कभी वैसे नहीं देखा था. बेहद साधारण फोन से खींची गई वह तस्वीर बताती थी कि फोटो खींचने वाले के पास विजुअल इमेज को पकड़ने की असाधारण कला-दृष्टि है. ज़ाहिर है ‘अमर उजाला’ ने उस सीरीज की शुरुआत अमित की उसी फोटो से ही करनी थी.

यह अमित और उसकी कला से पहला परिचय था. फिर एक दफा सुनील शाह और मैं ख़ास उसी से मिलने नैनीताल गए. फ्लैट्स किनारे जनवरी की धूप में चाय पीते हुए वह एक बेहद शर्मीला और संकोची युवा नज़र आया. जब उससे मॉल रोड वाली फोटो के बारे में पूछा तो उसने बताया कि एक सुबह जिम की तरफ जाते हुए उसने अपने फोन से वह फोटो यूं ही क्लिक कर लिया था. अखबार से मिले प्रोत्साहन के बाद उसने अपना पहला कैमरा खरीदा और अगले दस सालों में वह इलाके के सबसे शानदार फोटोग्राफरों में शुमार हो गया.

वह नैनीताल से बेपनाह प्यार करता था सो शुरू के सालों में उसने केवल नैनीताल की तस्वीरें खींचीं. जब वह हर रोज़ नैनीताल की तस्वीरें सोशल मीडिया में लगाता, मैं अक्सर सोचता था कि बित्ते भर के नैनीताल की तस्वीरें कोई आखिर कितने कोनों-कोणों से खींच सकता है. एक न एक दिन ऐसा आएगा कि नैनीताल को कैमरे में दर्ज करने को कोई नया फ्रेम मिलेगा ही नहीं. अमित ने मेरे इस विचार को झूठा साबित करते हुए इस शहर की ऐसी-ऐसी अकल्पनीय तस्वीरें निकालीं कि उसके जीनियस को देख कर सिर्फ हैरानी होती थी.

रसूल हमज़ातोव की ‘मेरा दागिस्तान’ में युवा लेखक को सीख दी गयी है – यह मत कहो – ‘मुझे विषय दो’. यह कहो – ‘मुझे आँखें दो’. जन्मजात कलाकार अमित की नैनीताल की तस्वीरें बताती हैं कि वह ऐसी आँखें लेकर जन्मा था जो लाखों में एक के पास होती है. उसे अपनी कला के लिए विषय चाहिए ही नहीं था. उसकी निगाह जहां जिस चीज पर पड़ी वह उसकी कला का विषय बन गई.

फिर उसने यात्राएं करनी शुरू कीं. वह अक्सर कुमाऊँ-गढ़वाल के सुदूर इलाकों की तरफ निकल जाता था और हर बार अपने काम से चमत्कृत कर दिया करता. उसके काम को मोहब्बत करने वालों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही थी और देश-विदेश के सम्मान उसकी झोली में आ रहे थे. अपने नैसर्गिक स्वभाव के अनुरूप उसने हर सफलता को विनम्रता से ग्रहण किया.

15 जनवरी 1982 के दिन नैनीताल में जन्मे अमित साह ने नैनीताल के ही सीआरएसटी इंटर कॉलेज और उसके बाद डीएसबी कैंपस से अपनी पढ़ाई पूरी की. बी. कॉम. और एम.ए. की डिग्रियां हासिल कीं. कुल दस बरस की अवधि में बिना किसी तरह की पेशेवर ट्रेनिंग के उसने अपनी कला के बूते एक ऐसा मुकाम हासिल कर लिया था जिस पर कोई भी गर्व करेगा.

अमित ने अपनी कला के माध्यम से बताया कि अच्छी फोटो खींचने के लिए महँगा कैमरा या लेंस नहीं चाहिए होते. उसके लिए आँख में पानी और दिल में मोहब्बत की दरकार होती है. कभी उसके खींचे गरीबों के पोर्ट्रेट्स देखिये. उन सबकी निश्छल आँखों में आपको अमित की आँख दिखेगी. ज्यादा गौर से देखेंगे तो उन आँखों का पानी आपकी अपनी आँखों में उतरता महसूस होगा.

एक आर्टिस्ट के तौर पर वह अपनी प्रतिभा के चरमोत्कर्ष पर था.

कल उसने अपने यूट्यूब चैनल पर नैनीताल में जाड़े के आगमन की खबर दी थी. कल शाम ही एक कार्यक्रम में उसे उसके काम के लिए फिर से सम्मानित किया गया था. रात को उसकी तबीयत बिगड़ी और आज सुबह के किसी शुरुआती पहर में उसकी आख़िरी सांस आई. स्तब्ध कर देने वाली इस खबर से समूचा नैनीताल ग़मज़दा है.

लिखने की हिम्मत तो मेरी भी नहीं पड़ रही थी पर किसी न किसी ने तो लिखना ही होगा. ज़माना बहुत तेज़ी से खराब हुआ है. लोग बहुत जल्दी भूलने लगे हैं. सो वीरेन डंगवाल की पंक्तियाँ दोहराता हूँ और अमित से कहता हूँ:

“घाट से नाव खुल रही है भाई
हम रुलाई दबाते हुए हाथ हिलाएंगे
और जहाँ तक होगा
किनारे-किनारे तेरे साथ दौड़े चले जाएंगे”

अभी तुमने नैनीताल की दस लाख तस्वीरें और खींचनी थी. काम अधूरा छोड़कर ऐसे कौन जाता है! यह तुम्हारे जाने की उम्र नहीं थी अमित, मेरे भाई.

फिर भी अलविदा.
लेखक अशोक पांडे की फेकबुक वॉल से…

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला नैनीताल : दिल के सबसे करीब, सचमुच धरती पर प्रकृति का स्वर्ग