News

तो यहां हो रही तीरथ सरकार को फेल करने की साजिश !

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
समाचार को सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें

-समाचार पोर्टलों के लिए गत वर्ष के मुकाबले 85 फीसद कम दरें तय की गईं
-उत्तराखंड डिजिटल मीडिया संगठनों ने नई विज्ञापन दरों पर नाराजगी जताते हुए कहा-यह तीरथ सिंह रावत सरकार को फेल करने की साजिश
नवीन समाचार, देहरादून, 05 जून 2021। सूचना विभाग द्वारा बीते वर्ष श्रेणी क के समाचार पोर्टलों के हेडर विज्ञापनों के लिए 80 हजार रुपए मासिक की दर निर्धारित थी, उसमें 85 फीसद की कमी कर मात्र 12 हजार की दरों पर सहमति जताने के लिए चयनित समाचार पोर्टलों को लिखा है। इसी तरह अन्य श्रेणियों की स्थिति भी है। इसे समाचार पोर्टलों ने उत्तराखंड की मौजूदा तीरथ सिंह रावत सरकार को फेल करने की साजिश करार दिया है। समाचार पोर्टलों के स्वामियों व संपादकों की शनिवार शाम को आयोजित हुई बैठक में कहा गया कि यह तीरथ सरकार को फेल करने की बहुत बड़ी साजिश का हिस्सा है। कुछ लोग चाहते हैं कि वर्तमान में सबसे पहले समाचार देने के कारण अन्य मीडिया माध्यमों के लिए आंखों की किरकिरी बने समाचार पोर्टल तीरथ सरकार से नाराज होकर उनके खिलाफ माहौल बनाएं और वह सरकार के हितैषी बनकर मोटे विज्ञापन अर्जित करें। इसलिए उन लोगों ने ही अपने लोगों के माध्यम से समाचार पोर्टलों के लिए शर्मनाक स्तर की न्यूनतम दरें दी हैं। इस साजिश के खिलाफ शीघ्र ही प्रदेश के समाचार पोर्टलों का एक प्रतिनिधिमंडल प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं सूचना सचिव व महानिदेशक से मिलकर साजिश का पर्दाफाश करेंगे, तथा यह जांचने का अनुरोध भी करेंगे कि सरकारी विज्ञापनों के लिए सूचीबद्ध समाचार पोर्टल क्या प्रदेश सरकार के विकास कार्यों को प्रमुखता से स्थान देते है। इस बात पर भी सवाल उठाए कि गत वर्ष केवल उत्तराखंड के समाचार पोर्टल ही राज्य में विज्ञापन मान्यता हेतु आवेदन कर सकते थे, परंतु पिछले सूचना महानिदेशक पंकज कुमार पांडेय ने बड़ी चालाकी से राज्य के बाहर के समाचार पोर्टलों के लिए भी रास्ता खोल दिया। इस कारण उत्तर प्रदेश के कई तथा उत्तराखंड के भी कई ऐसे पोर्टलों को सूचीबद्ध कर दिया गया है जो उत्तराखंड से संबंधित समाचार ही नहीं लगाते हैं। उनमें पूरे प्रदेश की राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक व अन्य विभिन्न गतिविधियों सम्बन्धी एक भी खबर प्रकाशित नहीं हुई है।

उत्तराखंड के न्यूज पोर्टलों के विभिन्न संगठनों द्वारा शनिवार शाम उत्तराखंड वेब मीडिया एसोसिएशन द्वारा आयोजित वर्चुअल बैठक में भागीदारी निभाते हुए कहा कि वर्तमान में जो विज्ञापन दर ई-टेंडर प्रक्रिया के बाद सामने आई हैं वह सीधे-सीधे मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की सरकार को फेल करने की साजिश का हिस्सा है। इस विज्ञापन प्रक्रिया को देखकर पत्रकार संगठन अपने को ठगा हुआ व अपमानित महसूस कर रहे हैं। पत्रकारों ने इस ई-टेंडर प्रक्रिया की स्वीकार्यता पर कई प्रश्न चिह्न लगाए व शंका जताई कि यह प्रक्रिया बिना विभागीय मिलीभगत के हो ही नहीं सकती थी। सभी ने कहा कि जब सोशल मीडिया का प्लेटफॉर्म उत्तराखंड के पत्रकारों हेतु विशेष रूप से तैयार किया गया था तब उसमें साफ-साफ शर्त लिखी गयी थी कि इसमें प्रदेश से बाहर के किसी भी न्यूज पोर्टल को स्थान नहीं दिया जाएगा, लेकिन पूर्व महानिदेशक सूचना पंकज पांडे के समय यह शर्त बेहद सफाई से हटा दी गयी और इसमें बदलाव किया गया। कहा गया कि विभाग में ही कुछ भ्रष्ट व करप्ट अधिकारी हैं जो किसी भी हद तक जाकर यह चाहते हैं कि पत्रकार त्रस्त होकर मुख्यमंत्री तीरथ के पक्ष की जगह उनके विपक्ष में खबरें लगाए। उत्तराखंड वेब मीडिया एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज इष्टवाल ने कहा कि यह वर्चुअल बैठक इसलिए आहूत की गई थी, क्योंकि इस बार 345 न्यूज पोर्टल्स सूचीबद्ध की श्रेणी में शामिल किए गए हैं व जिनमें से ज्यादात्तर न्यूज पोर्टल्स द्वारा वर्तमान में जारी विज्ञापन दर पर नाराजगी जाहिर करते हुए विरोध दर्ज करते हुए इसे सरकार विरोधी करार दिया है व आशंका व्यक्त की है कि जिन्होंने भी ऐसी शर्मनाक दरें डाली हैं वह सत्तारूढ़ दल के अंदरूनी कलह या उत्तराखंड के आगामी चुनाव में ताल ठोक रहे किसी बड़े राजनैतिक दल के इशारे पर किसी बड़ी साजिश के तहत किया गया कार्य बताया है। इस वर्चुअल बैठक में वरिष्ठ पत्रकार नागेंद्र उनियाल, अविकल थपलियाल, घनश्याम जोशी, हर्षवर्धन पांडे, विनोद भगत, पंकज पंवार, आलोक शर्मा, डॉ. नवीन जोशी, चन्द्रशेखर जोशी व शैलेश नौटियाल सहित पूरे प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकारों ने शिरकत की। (डॉ.नवीन जोशी)

यह भी पढ़ें : यहां कानून से भी लंबे निकले सोशल मीडिया के हाथ…बंगलुरू में मिली तीन माह पूर्व गायब पत्नी, नेपाल में गिरोह का सरगना

पिथौरागढ़, 26 सितंबर 2018। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जैसे दूरस्थ जिले से सोशल मीडिया के सदुपयोग का एक बड़ा मामला प्रकाश में आया है। एक पति ने अपनी तीन माह पूर्व गायब हुई पत्नी की तलाश के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक का सहारा लिया। उसने अपनी पत्नी की फोटो फेसबुक पर डाली, जो कि वायरल हाते हुए बंगलुरू के एक गांव तक पहुंच गई। जहां उसकी ही एक महिला रिश्तेदार और तीन अन्य लोगों ने उसकी पत्नी को मामूली कीमत पर बेच दिया गया था। गांव के लोगों ने जब फेसबुक पर पीड़िता की फोटो देखी तो उसके पति को सूचना दी। इसके बाद महिला का पति बंगलुरू गया और वहां बेच दी गई अपनी पत्नी को छुड़ा कर सोमवार की शाम अपने गांव ले आया। वहीं, पिथौरागढ़ पुलिस ने नेपाल पुलिस की मदद से सीमावर्ती पश्चिमी नेपाल के महाकाली अंचल में मानव तस्करी के बड़े गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए इसके सरगना को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि उसके अन्य तीन साथियों की तलाशी की जा रही है।
घटनाक्रम के अनुसार पिथौरागढ़ के बैतड़ी की एक महिला तीन माह पूर्व अपने घर से रहस्यमय ढंग से गायब हो गई थी। परिजनों द्वारा काफी खोजबीन भी की गई परंतु उसका पता नहीं चल सका। ऐसे पति ने पत्नी की फोटो फेसबुक में अपलोड कर लोगों से मिलने पर सूचना देने की अपील की। सोशल मीडिया पर वायरल यह पोस्ट बंग्लुरू में कार्य करने वाले महिला के गांव के लोगों तक भी पहुंची। इस बीच उन्हें वह महिला भी दिख गई। जिस पर तत्काल इसकी सूचना फोन से उसके पति को दे दी। इसके बाद महिला का पति बंगलुरू गया और वहां बेच दी गई अपनी पत्नी को छुड़ा कर सोमवार की शाम अपने गांव ले आया।
गांव पहुंचने के बाद महिला ने बताया कि उसकी एक महिला रिश्तेदार सहित चार अन्य लोगों ने उसकी गरीबी का फायदा उठाकर उसे बहलाया-फुसलाया, और उसे किसी पैसे वाले से दूसरी शादी करने का प्रलोभन दिय। घटना पता लगने पर पति ने इस मामले में लिप्त लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने इस मामले में तत्काल कार्रवाई करते हुए मानव तस्करी की इस गैंग के मुखिया डडेलधुरा आलीपाल गांव, पालिका वार्ड नंबर पांच सिन्सेना, नेपाल के गणेश बिष्ट को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में अन्य आरोपित बैतड़ी की एक महिला, डडेलधुरा आलीपाल वार्ड नंबर छह के शंकर अवस्थी और शंकर विक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया है। तीनों अभी पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सके हैं। बैतड़ी के पाटन पुलिस प्रहरी उपनिरीक्षक राजेंद्र बहादुर बिष्ट ने बताया कि भारत से खुली सीमा होने के कारण पिछले 11 माह में भारत से लगे बैतड़ी जिले की 44 महिलाएं गायब हुई हैं। जिसमें तलाशी के बाद सात महिलाएं मिल चुकी हैं। 37 महिलाओं का अभी तक कुछ पता नहीं चल सका है।

यह भी पढ़ें : कोरोना से बचाव पर नैनीताल पुलिस की दिलचस्प वीडियो हो रही वायरल

नवीन समाचार, नैनीताल, 6 अप्रैल 2021। सोशल मीडिया भले सबसे बड़ा जनसंचार का माध्यम है, लेकिन यहां भी वही विषयवस्तु वायरल होती है, जिसमें कुछ खास होता है। नैनीताल व उत्तराखंड पुलिस हालांकि समय-समय पर कोरोना व साइबर अपराधों से बचाव सहित विभिन्न संदेश देने के लिए अनेक प्रयास करती रहती है, परंतु यह प्रयास निश्चित ही दिलचस्प है, और लोगों को रोचक तरीके से कोरोना से बचने के लिए मास्क पहनने और हाथ धोने का संदेश देता है।
देखें नैनीताल पुलिस का दिलचस्प वीडियो :

यह भी पढ़ें: फायदे का समाचार : Facebook, Instagram से PayTm पर कमायें CASH

FACEBOOK चलाते हैं , तो ये वीडियो ज़रूर देखें :

Instagram चलाते हैं , तो ये वीडियो ज़रूर देखें :

रिलायंस जियो ने अपने ग्राहकों को बड़ा तोहफा देते हुए जियो प्राइम मेंबरशिप को एक साल के लिए बढ़ा दिया है। 31 मार्च 2018 तक जिसने भी जियो प्राइम मेंबरशिप ली होगी, वे अगले एक साल तक बिना कोई शुल्क चुकाए जियो प्राइम मेंबरशिप का फायदा उठा सकेंगे। यानी जियो के मौजूदा ग्राहकों को प्राइम मेंबरशिप को रिन्यू कराने के लिए कोई शुल्क नहीं देना है। जियो ने कहा है कि वो अपने साथ जुड़े सभी लॉयल प्राइम सदस्यों को महत्वपूर्ण समझता है और इन यूजर्स के लिए अतिरिक्त लाभ जारी रखेगा। हालांकि नए जियो ग्राहकों को जियो प्राइम मेंबरशिप के लिए 99 रुपये सालाना खर्च करने होंगे। उल्लेखनीय है कि रिलायंस जियो की प्राइम मेंबरशिप 1 अप्रैल 2017 को शुरू हुई और यह 31 मार्च 2018 को खत्म होने वाली थी। जियो प्राइम मेंबरशिप सब्सक्राइबर्स को भारत में फ्री वॉइस कॉल, 4जी डेटा और एसएमएस सर्विस देती है।

यह भी पढ़ें : 58 रुपये में अनलिमिटेड वॉइस कॉल, 500 एमबी डेटा, और भी बहुत कुछ

टेलीकॉम सेक्टर में यूजर्स को अपनी और अाकर्षित करने के लिए सरकारी कंपनी बीएसएनएल ने एक नया प्लान पेश किया है जिसका नाम ‘द ओनली ट्रैवल पैक’ रखा गया है। इस नए प्लान की कीमत 58 रुपए और वैधता सात दिनों की है। इस नए प्लान को जियो और एयरटेल के प्लान्स के जवाब में बताया जा रहा है। इस प्लान में यूजर्स को किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉल, प्रतिदिन 100 एसएमएस और 500 MB डाटा दिया जाएगा। इसके अलावा दिल्ली और मुंबई सर्किल्स को छोड़कर शेष सभी जगह रोमिंग कॉल भी मुफ्त रहेगी।

बड़ी खबर : आधार कार्ड है तो कमा सकते हैं ₹ 10,000

 
मौजूदा मोदी सरकार के पास अंतिम साल बचा है और अगले साल होने वाले आम चुनाव में अपनी स्थिति को मजबूती से पेश करने के लिए सरकार के पास जितना समय है वो उसे लोक लुभावन बनाने में जुट गयी है। हाल ही में वर्तमान सरकार में कई ऐसी योजनायें शुरू की हैं जिससे आम जनमानस को फायदा मिल सके।
 
इस कड़ी में नयी योजनान्‍तर्गत आप ₹ 10,000 तक की धनराशि का लाभ बहुत ही सरलता से उठा सकते है। यदि आपको रेल आरक्षण केंद्र से टिकट बुक करने से अच्छा ऑनलाइन टिकट बुकिंग अच्छी लगती है, तो आपके लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है, रेलवे ने ऐसे ग्राहकों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी दी है, जिसे जान कर आपके ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहेगा, इसका लाभ उठाने के लिए रेल की वेबसाइट पर आप अपना अकाउंट बनाना होगा ।
 
इसके आधार लिंक करते हैं, तो आपको ₹ 10,000 मिलने का मौका मिल सकता है। इसके लिये आपको आईआरसीटीसी की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर रजिस्टर होना है, उसके पश्‍चात आपको अपना आधार नंबर लिंक करना है उसके बाद आपको भी ₹ 10,000 जीतने का लकी ड्रा का मौका मिल सकता है।
 
जानकारी के मुताबिक इस योजना के तहत हर माह पांच विजेताओं की घोषणा की जाएगी, आपको मात्र ₹ 10,000 नहीं बल्कि जितने पैसे आपने टिकट बुकिंग पर खर्च किये है, वो आपको वापस कर दिए जायेंगे, आपको बता दें कि आधार लिंक करने से आप पांच लोगो की जगह बुक कर सकते हैं। इन दिनों यह खुशखबरी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है।
 
भाग्यलक्ष्मी योजना
इसी योजना की तरह उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक बड़ा एलान किया है. यूपी सरकार ने घोषणा की है कि वो राज्य की हर एक लड़की को ₹ 10 हजार का इनाम देगी, जो 10वीं क्लास पास करेगी. ये घोषणा राज्य के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने की है.
 
आपको बता दें कि 10वीं पास करने वाली लड़कियों को ₹ 10 हजार इनाम देने की घोषणा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के 45वें जन्मदिन के मौके पर की गई थी . इससे पहले योगी सरकार ने गरीब मुस्लिम परिवारों की बेटियों की शादी के लिए भी मदद का एलान किया था.
 
योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा ने कहा था कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने अल्पसंख्यक समूहों की गरीब लड़कियों के सामूहिक विवाह पर सहमति जताई है और हमने इस राज्य सरकार के 100 डे प्रोग्राम में शामिल कर लिया है. इसके तहत बेटी पैदा होने पर परिवार को ₹ 50 हजार का बॉन्ड दिया जाएगा. इतना ही नहीं मां को भी ₹ 5100 दिए जाएंगे. इस योजना के तहत जैसे-जैसे बेटियां बड़ी होंगी, उनको पढ़ाई में भी आर्थिक सहयोग सरकार की तरफ से मिलेगा.
 
योजना के तहत कक्षा 6 में पहुंचने पर बेटियों को 3 हजार, कक्षा 8 में ₹ 5 हजार मिलेंगे. जबकि हाईस्कूल में पहुंचने पर उन्हें ₹ 7 हजार और इंटर में आने पर बेटियों को ₹ 8 हजार मिलेंगे.

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply