News

सर्वधर्म की नगरी में अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती ओर ईद पर पर मंगलवार को रहा ऐसा धार्मिक हर्षोल्लास…

समाचार को यहाँ क्लिक करके सुन भी सकते हैं

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 3 मई 2022। सर्वधर्म की नगरी सरोवरनगरी में मंगलवार यानी हनुमान जी के दिनएक ओर ईद और दूसरी ओर अक्षय तृतीया व परशुराम जयंती के अनूठे संगम पर शांति, सौहार्द व हर्षोल्लास का माहौल रहा। दो वर्ष रही कोविड की पाबंदियों के बाद सुबह नगर के ऐतिहासिक फ्लैट्स मैदान में जामा मस्जिद मल्लीताल के आगे उत्साहपूर्वक ईद-उल-फितर की नमाज अदा की गई।

पेश इमाम मुफ्ती अब्दुल खालिक ने नमाज अता करवाई। इस दौरान सभी नमाजियों के हाथ उठा मुल्क में अमन, खुशहाली व तरक्की और कोरोना के खात्मे तथा आपसी भाईचारे के लिए दुआ मांगी। लोगों ने एक-दूसरे को गले लगकर ईद की बधाई दी। हिंदू भाइयों ने भी उन्हें ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद लोग कब्रिस्तानों में अपने मरहूमों को याद करने के लिए भी पहुंचे और उनके लिए दुआ दी। पुलिस-प्रशासन भी सतर्क रहा। ईद के दौरान मस्जिद तिराहे से नगर पालिका तक के मार्ग पर वाहनों को नहीं जाने दिया गया। मल्लीताल से सूखा ताल की ओर जाने वाले वाहन रिक्शा स्टैंड से फ्लैट्स मैदान की पार्किग से होते हुए भेजे गए। इस दौरान छोटे-छोटे बच्चे भी सज-धज कर ईद की नमाज अता करने पहुंचे थे, जो आकर्षण का केंद्र बने रहे। बच्चों ने रंगबिरंगे गुब्बारे व खिलौने खरीद कर भी ईद को यादगार बनाया।

इस मौके पर तल्लीताल मस्जिद के पेश इमाम मोहम्मद नईम, अंजुमन इस्लामिया कमेटी के सद शोएब अहमद, सचिव जमाल सिद्दीकी, मोहम्मद हाशम, हारून खान पम्मी, युसूफ खान, सुहेल सिद्दीकी, पूर्व सदर मोहम्मद फारुख, अफजल हुसैन फौजी, अंजुमन इस्लामिया तल्लीताल के सदर अकरम शाह, सचिव मोहम्मद तय्यब, कमेटी के सदस्य मोहम्मद इकबाल, जैकी कुरैशी, मकमत खान, फैसल खान, फैसल कुरैशी, अजमल हुसैन, मोहम्मद शान, मोहम्मद, फैजान, मोहम्मद अजीज, मोहम्मद अजीज, नायब इमाम मोहम्मद साबिर, कमर खान, वशी कुरैशी, समीर कुरैशी व शमशाद हुसैन सहित सैकड़ों की संख्या में मुस्लिम समाज के लोगों ने नमाज अदा की।

दूसरी ओर अक्षय तृतीया, परशुराम जयंती व मंगलवार के अद्भुत संयोग पर हिंदू धर्म के लोगों में भी काफी उत्साह देखा गया। नगर के नयना देवी मंदिर के साथ ही हनुमानगढ़ी मंदिर में श्रद्धालुओं की काफी भीड़-भाड़ रही। कई स्कूलों के बच्चे भी यहां दर्शनों के लिए पहुचे और प्रसाद ग्रहण किया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : हनुमान जयंती पर मंदिरों में उमड़ा श्रद्धा का सैलाब

-हनुमानगढ़ी, नयना देवी, सूखाताल व नैना गांव के मंदिरों में सुंदरकांड एवं भंडारे का हुआ आयोजन
डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अप्रैल 2022। हनुमान जयंती के अवसर पर नगर एवं आसपास के क्षेत्रों में धार्मिक श्रद्धा का माहौल रहा। इस मौके पर मंदिरों में सुंदरकांड पाठ, हनुमान चालीसा पाठ व भंडारा का आयोजन किया गया। नगर के हनुमानगढ़ मंदिर में विशेष भजन-कीर्तन, आरती एवं भंडारे का आयोजन हुआ।

सूखाताल स्थित मंदिर में पहुंची विधायक सरिता आर्य।

मंदिर प्रबंधन के अनुसार यहां 10 हजार से अधिक श्रद्धालु पहुंचे। आयोजन में एमपी सिंह, उमेश साह, शैलेंद्र साह, भुवन बिष्ट, रोहित साह व अखिल जोशी आदि प्रमुखता से जुटे रहे। इधर नगर की आराध्य देवी नयना देवी के मंदिर में मुख्य पुजारी बसंत बल्लभ जोशी ने अनुष्ठान कराए। यहां भी सुंदरकांड पाठ के बाद भंडारा हुआ। आयोजन में राजीव लोचन साह, प्रदीप साह, हेमंत साह, सुरेश मेलकानी, सुमन साह, अमिता साह, बसंत जोशी, सीएस तिवारी, भुवन चनियाल आदि जुटे रहे।

उधर सूखाताल में प्रकाश जोशी ने पूजन कराया। यहां भजन कीर्तन व भंडारा भी हुआ। क्षेत्रीय विधायक सरिता आर्य भी दर्शन को पहुंची। माणिक शमा सरकार व विश्वकेतु यजमान की भूमिका में रहे। आयोजन में विजय सिंह, अजय कुमार, अजित, विनोद वैद्य, हिमांशु, अजय उपाध्याय, विवेक, समीर, विभोर, आकाश, लकी, आशा, विजयलक्ष्मी थापा, प्रभा, पार्वती, रमा, मु्न्नी, किशन, भव्या, दिव्या आदि रहे। नगर के करीब हल्द्वानी रोड पर नैना गांव स्थित हनुमान मंदिर में भी सुंदरकांड के पाठ के साथ नैना गांव, नैनीताल व ज्योलीकोट आदि के श्रद्धालुओं के सहयोग से भंडारा आयोजित किया गया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : मंगलवार को महाशिवरात्रि पर बिन मेले भी लगा श्रद्धालुओं का मेला

-तीन किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई चढ़कर छोटा कैलास पहुंचे कुमाऊं मंडलायुक्त व ब्लॉक प्रमुख, लगा बड़ा मेला व श्रद्धालुओं का जमावड़ा

नयना देवी मंदिर में शिव लिंग पर दुग्धाभिषेक करते श्रद्धालु।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 1 मार्च 2022। सरोवरनगरी सहित सभी निकटवर्ती क्षेत्रों में महाशिवरात्रि पर श्रद्धालुओं में जबर्दस्त धार्मिक उत्साह देखा गया। इसलिए भी कि इस वर्ष महाशिवरात्रि देवाधिदेव महादेव यानी रुद्र के 11वें अवतार कहे जाने वाले महाबली हनुमान के माने जाने वाले मंगलवार के दिन पड़ी। इस कारण मुख्यालय के खासकर हनुमानगढ़ी मंदिर में बिना मेले के भी श्रद्धालुओं के मेले जैसा माहौल रहा।

यहां श्रद्धालुओं को हनुमान जी की विशाल मूर्ति के दर्शनों तथा शिव मंदिर में जलाभिषेक के लिए लाइन में लगना पड़ा। ऐसा यहां कम ही मौकों पर होता है। श्रद्धालुओं को फलों के साथ साबूदाने की खीर का प्रसाद भी उपलब्ध कराया गया। मंदिर में हर मंगलवार की तरह गोस्वामी तुलसीदास रचित श्रीराम चरित मानस के संुंदरकांड का पाठ भी चलता रहा।

छोटा कैलास, नैनीताल
छोटा कैलास, नैनीताल
छोटा कैलास पर्वत में इस तरह खुले में विराजते हें शिव
छोटा कैलास पर्वत में महाशिवरात्रि को उमड़ा आस्था का सैलाब

यही स्थिति नगर की आराध्य देवी माता नयना देवी के मंदिर में भी शिवार्चन के लिए रही। नगर के पाषाण देवी मंदिर, गुफा महादेव मंदिर, मॉल रोड पर क्वालिटी बोट स्टेंड के पास स्थित शिवालय एवं चीना बाबा मंदिर आदि में भी श्रद्धालुओं में गजब का धार्मिक उत्साह देखा गया। जबकि उधर भीमताल-जंगलियागांव से आगे भगवान शिव के घर कैलास पर्वत की ही प्रतिकृति सी नजर आने वाली पहाड़ी पर स्थित छोटा कैलास मंदिर में हर वर्ष की तरह इस मौके पर बड़ा मेला लगा। श्रद्धालु यहां करीब तीन किलोमीटर की पैदल चढ़ाई भारी भीड़ के साथ लाइन में सरक-सरककर चढ़कर खुले में स्थित शिवालय पहुंचे और भारी भीड़ के बीच शिवलिंग के दर्शन किए। यहां पहुंचने वाले श्रद्धालुओं में कुमाऊं मंडल के आयुक्त दीपक रावत एवं भीमताल के ब्लॉक प्रमुख डॉ. हरीश बिष्ट भी शामिल रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : बसंत पंचमी पर हुए उपनयन संस्कार, कुमाउनी होली में घुले श्रृंगार के रंग

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 5 फरवरी 2022। वसंत पंचमी के अवसर पर मुख्यालय में नगर की सबसे पुरानी धार्मिक व सांस्कृतिक संस्था श्रीराम सेवक सभा के द्वारा सामूहिक उपनयन संस्कार का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस मौके पर आचार्य भगवती प्रसाद जोशी तथा घनानंद जोशी ने गर्वित साह, युवराज साह, नकुल बिष्ट, गौरव डालाकोटी, विनोद डालाकोटी, शिवम साह, हिमांशु साह, तनुज शर्मा व राजेंद्र पांडे आदि बटुकों के उपनयन संस्कार करवाए।

इस मौके पर सभा के अध्यक्ष मनोज साह, महासचिव जगदीश बवाड़ी, विमल चौधरी, विमल साह, राजेंद्र बजेठा, मुकेश जोशी ‘मंटू’, गिरीश जोशी, घनश्याम साह, उमेश जोशी, हिमांशु जोशी, रानी साह व रेखा जोशी तथा बटुकों के परिजन मौजूद रहे।

इधर शाम को सभा भवन में कुमाउनी बैठकी होली का आयोजन भी किया गया। इस दौरान गिरीश भट्ट, सतीष पांडे, रक्षित साह, मिथिलेश पांडे व हिमांशु साह आदि मौजूद रहे। मालूम हो कि कुमाउनी बैठकी होली पौष माह के पहले रविवार से शुरू हो जाती है, और बसंत पंचमी से इसमें श्रृंगार के रंग जुड़ने-घुलने लगते हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : क्रिसमस पर कोरोना से मुक्ति के लिए भी की गई प्रार्थना

मैथोडिस्ट चर्च में क्रिसमस पर आयोजित विशेष प्रार्थना सभा में शामिल लोग।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 25 दिसंबर 2021। इसाई समुदाय के लोगों का पर्व क्रिसमस सर्वधर्म की नगरी सरोवरनगरी में धार्मिक हर्षोल्लास से मनाया गया। इस अवसर पर नगर के माल रोड स्थित सेंट फ्रांसिस चर्च व मल्लीताल स्थित एशिया के पहले मैथोडिस्ट इसाई मिशनरियों के द्वारा बनाए गए मैथोडिस्ट चर्च आदि में विशेष प्रार्थना सभाएं हुईं। इस दौराान प्रभु यीशु का प्रेम व क्षमा का संदेश दिया गया तथा यीशु से कोरोना से मानवमात्र को बचाने की प्रार्थना भी की गई।

इस दौरान खूबसूरत तरीके से सजाए गए नगर के मल्लीताल स्थित मैथोडिस्ट चर्च में रात्रि से ही आयोजन प्रारंभ हो गए थे। इस दौरान यहां प्रभु यीशु के जन्म के समय घंटियां बजाई गईं एवं क्रिसमस कैरल गाए गए तथा केक वितरित किया गया। क्रिसमस की सुबह भी पादरी राजेंद्र लाल ने विशेष प्रार्थना की तथा प्रभु यीशु के जन्म लेने का संदेश दिया। साथ ही विश्व एवं खासकर भारत में कोरोना-ओमिक्रॉन से मुक्ति की प्रार्थना की गई। केक एवं कॉफी वितरित की गई। इस मौके पर सोनी अनीश ने ईश भक्ति गीत भी प्रस्तुत किए। इस मौके पर उक्रांद के पूर्व विधायक डॉ. नारायण सिंह जंतवाल, मुकेश दास अभिनव जोनाथन सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

ज्योलीकोट में भी हर्षोल्लास से मनाया गया क्रिसमस
नैनीताल। क्रिसमस पर मुख्यालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट स्थित संत एंथोनी चर्च में देर रात्रि और शनिवार की प्रातः आयोजित विशेष प्रार्थना सभा में बिशप इजीडोर, फादर उदय डिसूजा, फादर मनोज ने ईसा मसीह के जन्म से जुड़े प्रसंगों पर प्रवचन देते हुए कहा कि मानवता, प्रेम, सहिष्णुता, शांति जीवन के लिए सबसे जरूरी है। मानव कल्याण के लिए सब को मिलजुल कर कार्य करना चाहिये। इस दौरान सिस्टर डेमियन, सिस्टर शिवा, सिस्टर प्रतिभा सहित बड़ी संख्या में समुदाय के लोग सम्मलित हुए। प्रार्थना के दौरान कैरल गाये गए घरों को भी आकर्षक रूप से सजावट के साथ चरनिया बना कर जन्मोत्सव प्रदर्शित किया गया। प्रार्थना सभा के बाद क्रिसमस मिलन समारोह में ब्लॉक प्रमुख डॉ. हरीश, बिष्ट, जिला पंचायत सदस्य गीता बिष्ट, ग्राम प्रधान रजनी रावत, हरगोविंद रावत, जीवन चंद्र, राम दत्त चनियाल, सहित अन्य लोगों ने शिरकत की। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : शहरों में भैया दूज तो ग्रामीण क्षेत्र में ‘दुतिया त्यार’ मनाया गया

-बहनों ने भाइयों को च्यूड़े चढ़ाते हुए दी आशीष

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 नवम्बर 2020। दीपावली के तीसरे दिन शहरी क्षेत्रों में जहां भैय्यादूज का त्योहार मनाया जाता है, वहीं कुमाऊं मंडल के ग्रामीण क्षेत्रों में अब भी परंपरागत तौर पर लोक परम्परा के तहत यम द्वितीया या ‘दुतिया त्यार’ मनाया जाता है। मान्यता है कि इस दिन यमराज भी अपनी बहन यमुना से मिलने जाते हैं, जबकि रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाई से मिलने जाती हैं।
जनपद के ओखलकांडा में ऊखल में धान कूटकर च्यूड़े तैयार करता एक परिवार।इस त्योहार को मनाने की तैयारी कहीं एकादशी के दिन, कहीं धनतेरस के दिन और कहीं दीपावली के दिन शाम को तौले (एक बर्तन) में धान पानी में भिगाने के साथ शुरू होती है। गोवर्धन पूजा के दिन यानी एक दिन पूर्व इस धान को पानी में से निकाल लिया जाता है, और उन्हें देर तक कपड़े में रखकर या बांध कर उसका सारा पानी निथार लिया जाता है। इसके बाद धान को कढ़ाई में भून कर उन्हें गर्म-गर्म ही ओखल में मूसल से कूटा जाता है। गर्म होने के कारण चावल का आकार चपटा हो जाता है और उसका भूसा भी निकल कर अलग हो जाता है। इन हल्के भूने हुए चपटे चावलों को ही “च्यूड़े” कहते हैं। इन्हें गोवर्धन पूजा पर गौशाला में पाले गए गाय, भैंस व बैल, बछिया आदि पशुओं को तथा दुतिया त्यार को घर की बड़ी महिलाओं के द्वारा देवताओं, घर के सभी सदस्यों एवं बहनों के द्वारा भाइयों को चढ़ाकर पूजा जाता है। इन च्यूड़ों को सर्दियों में अखरोट व भूने हुए भांग के साथ खाने की भी परंपरा है। इससे शरीर को गर्मी भी मिलती है। इस दौरान “जी रया जागि रया, य दिन य मास भ्यटनें रया। पातिक जै पौलि जया दुबकि जैसि जङ है जौ. हिमाल में ह्यू छन तक, गाड़क बलु छन तक, घ्वड़ाक सींग उँण तक जी रया। स्याव जस चतुर है जया, बाघ जस बलवान है जया, काव जस नजर है जौ, आकाश जस उच्च है जया, धरति जस तुमर नाम है जौ. जी राया, जागि राया, फुलि जया, फलि जया, दिन य बार भ्यटनै राया” की आशीष दी जाती हैं। च्यूड़े चढ़ाने के दौरान पहले व बाद में दूब घास के गुच्छों से सिर में तेल भी लगाया जाता है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : दीपावली पर होली से रंग-बिरंगे रंगों में रंगी नजर आई नगरी..

-दीपावली पर होली की तरह रंग-बिरंगी रोशनियों में सराबोर एवं अपनी छवि नैनी झील में निहारती नजर आई सरोवरनगरी
-हर्षोल्लास से मनाया गया दीपावली व गोवर्धन पूजा का त्योहार
नवीन समाचार, नैनीताल, 15 नवम्बर 2020। शनिवार को दीपावली व रविवार को गोवर्धन पूजा का त्योहार जिला-मंडल मुख्यालय एवं जनपद के पर्वतीय ग्रामीण क्षेत्रों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। गांवों में परंपरागत तौर पर गन्ने एवं नीबू तथा शहरी क्षेत्रों में गन्ने एवं मुखौटों से माता लक्ष्मी की सौभाग्यशाली स्वरूप में मूर्ति का निर्माण किया गया एवं पूजा-अर्चना की गई। लोगों ने गांव व शहर के मंदिरों में जाकर भी ईश वंदना की एवं खील-खिलौने चढ़ाए तथा दिए जलाए। शाम के समय घरांे में पूजा-अर्चना व कीर्तनों के स्वर भी गूंजते रहे।

दीपों के पर्व पर होली सी रंग-बिरंगी सजी सरोवरनगरी
नैनीताल 31 दिसंबर की रात्रि

लोगों ने शाम ढले घरों को बिजली तथा असली-नकली फूलों की मालाओं एवं दीपकों की रोशनी से जमकर सजाया तथा देर रात्रि करीब 10 बजे तक दीपावली के त्योहार का उत्साह प्रदर्शित करते हुए जमकर आतिशबाजी की। इस दौरान सरोवरनगरी होली की तरह विभिन्न रंगों की रोशनियों से सराबोर एवं अपनी छवि नैनी झील में निहारती नजर आई। वहीं आतिशबाजी के दौरान पटाखों का काफी प्रदूषण आसमान की ओर ऊपर उठता दिखाई दिया। कुछ लोग पटाखों से घायल भी हुए। इस दौरान नगर में सैलानियों की भी काफी संख्या में उपस्थिति एवं बाजारों में रौनक दिखाई दी।

अल्मोड़ा में कुछ ऐसा दिखा नज़ारा :

दिवाली पर रोशनी में दमकता अल्मोड़ा शहर
दीपावली पर रोशनी में दमकता अल्मोड़ा शहर

रविवार को मनाई गई गोवर्धन पूजा
नैनीताल। रविवार को गोवर्धन पूजा का त्योहार मनाया गया। इस मौके पर नगर के सीमित गौ पालकों एवं पुराने, बड़ी-बुजुर्ग महिलाओं ने नगर के मल्लीताल स्थित गौशाला में जाकर गौमाता की पूजा आराधना की एवं अपने परिवार के सुख-सौभाग्य की कामना की। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में इस त्योहार का खासा आकर्षण देखा गया। लोगों ने पिछले नौ दिन से भिगोए गए नये धान भूनकर आज ऊखल यानी ओखली में कूटे व उनसे तैयार किये गए च्यूड़ों से घर के गौवंशीय, गाय-भेंस आदि पशुओं की पूजा की। आगे सोमवार को इन्हीं च्यूड़ों से भैयादूज त्योहार भी मनाया जाएगा, जिसमें बहनें अपने भाइयों को च्यूड़े चढ़ाकर उनकी लंबी उम्र एवं सुख-सौभाग्य की कामना करेंगी। इस मौके के लिए भाइयों का अपनी बहनों के पास जाने का नियम है, जबकि रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाइयों के पास जाती हैं। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : रक्षाबंधन: भाई-बहन के प्रेम पर पड़ा कोरोना का पहरा, क्वारन्टाइन में बहनों के इंतजार में रह गए भाई..

नवीन समाचार, नैनीताल, 03 अगस्त 2020। कोरोना के संक्रमण की संभावना के दृष्टिगत सोमवार को भाई-बहन के प्रेम के पर्व रक्षाबंधन पर कोरोना का काफी प्रभाव दिखाई दिया। बहनें अपने भाइयों से मिलने कम निकल पाईं। राखी पहनाने के दौरान भी भाई-बहन चेहरे पर मास्क व शील्ड पहने नजर आए। बाजार की मिठाइयांे की बिक्री भी कम हुई। इसकी बजाय लोग घर की बनी तथा पैक्ड मिठाइयों एवं चॉकलेट आदि का अधिक आदान-प्रदान करते नजर आए। वहीं कई भाइयों ने अपनी बहनों को राखी पहनाने के बाद मास्क और सैनिटाइजर के तोहफे भी भेंट किये।

फेस मास्क पहनकर फेस शील्ड पहने भाई को राखी बांधती एक बहन।

इधर क्वारन्टाइन सेंटरों में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता कम ही दिखाई दिया। मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में तो भाई-बहन के प्रेम की जगह प्रेमी-प्रेमिका वाले प्रेम के लिए युवती द्वारा हाथ की नस काटने की घटना भी हुई। वहीं प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि अनुमति लेकर बहनें अपने क्वारन्टाइन सेंटर में रह रहे अपने भाइयों को राखी बांध सकती थीं, लेकिन ऐसी कोई अनुमति नहीं ली गई।

वहीं राज्य सरकार ने बहनों के लिए रोडवेज की बसों में निःशुल्क यात्रा की व्यवस्था की थी, किंतु कोरोना की वजह से कम बसों के चलने एवं चालकों के भी अपनी बहनों को राखी बांधने के लिए अवकाश लेने की वजह से और भी कम बसें चल पाईं, इस कारण बहनें निःशुल्क यात्रा का कम ही लाभ उठा पाईं।

श्रावण मास के अंतिम सोमवार को मंदिरों में पूरे दिन हुआ जल व दुग्ध से रुद्राभिषेक

नयना देवी मंदिर में शिव लिंग पर दुग्धाभिषेक करते श्रद्धालु।

नैनीताल। श्रावण मास के अंतिम व चौथे सोमवार को नयना देवी मंदिर में शिवलिंग पर भक्तों द्वारा जल एवं दुग्धाभिषेक कर महादेव शिव की पूजा अर्चना की गयी। मंदिर में सुबह से ही नगर के श्रद्धालुओं के साथ ही काफी संख्या में सैलानी भी पूजा अर्चना के लिए मंदिर पहुंचे। श्रद्धालुओं के द्वारा शिवलिंग में जलाभिषेक व दुग्धाभिषेक तथा पूजा पाठ कर अपनी मनोकामना की प्रार्थना की गयी। इसके अलावा पाषाण देवी मंदिर, गुफा महादेव, क्वालिटी बोट स्टेंड, गोलू मंदिर, शनि मंदिर सहित वैष्णों देवी मंदिर में भी लोगों ने पूजा अर्चना की गयी। नगर के आसपास के क्षेत्रों में भी मंदिरों में लोगों नीे पूजा अर्चना कर पुण्य अर्जित किया। ईद के त्योहार का अवकाश होने के चलते निकटवर्ती घोड़ाखाल गोलज्यू मंदिर में भी काफी संख्या में भक्त पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply