News

शहरों में भैया दूज तो ग्रामीण क्षेत्र में ‘दुतिया त्यार’ मनाया गया

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

-बहनों ने भाइयों को च्यूड़े चढ़ाते हुए दी आशीष

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 नवम्बर 2020। दीपावली के तीसरे दिन शहरी क्षेत्रों में जहां भैय्यादूज का त्योहार मनाया जाता है, वहीं कुमाऊं मंडल के ग्रामीण क्षेत्रों में अब भी परंपरागत तौर पर लोक परम्परा के तहत यम द्वितीया या ‘दुतिया त्यार’ मनाया जाता है। मान्यता है कि इस दिन यमराज भी अपनी बहन यमुना से मिलने जाते हैं, जबकि रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाई से मिलने जाती हैं।
जनपद के ओखलकांडा में ऊखल में धान कूटकर च्यूड़े तैयार करता एक परिवार।इस त्योहार को मनाने की तैयारी कहीं एकादशी के दिन, कहीं धनतेरस के दिन और कहीं दीपावली के दिन शाम को तौले (एक बर्तन) में धान पानी में भिगाने के साथ शुरू होती है। गोवर्धन पूजा के दिन यानी एक दिन पूर्व इस धान को पानी में से निकाल लिया जाता है, और उन्हें देर तक कपड़े में रखकर या बांध कर उसका सारा पानी निथार लिया जाता है। इसके बाद धान को कढ़ाई में भून कर उन्हें गर्म-गर्म ही ओखल में मूसल से कूटा जाता है। गर्म होने के कारण चावल का आकार चपटा हो जाता है और उसका भूसा भी निकल कर अलग हो जाता है। इन हल्के भूने हुए चपटे चावलों को ही “च्यूड़े” कहते हैं। इन्हें गोवर्धन पूजा पर गौशाला में पाले गए गाय, भैंस व बैल, बछिया आदि पशुओं को तथा दुतिया त्यार को घर की बड़ी महिलाओं के द्वारा देवताओं, घर के सभी सदस्यों एवं बहनों के द्वारा भाइयों को चढ़ाकर पूजा जाता है। इन च्यूड़ों को सर्दियों में अखरोट व भूने हुए भांग के साथ खाने की भी परंपरा है। इससे शरीर को गर्मी भी मिलती है। इस दौरान “जी रया जागि रया, य दिन य मास भ्यटनें रया। पातिक जै पौलि जया दुबकि जैसि जङ है जौ. हिमाल में ह्यू छन तक, गाड़क बलु छन तक, घ्वड़ाक सींग उँण तक जी रया। स्याव जस चतुर है जया, बाघ जस बलवान है जया, काव जस नजर है जौ, आकाश जस उच्च है जया, धरति जस तुमर नाम है जौ. जी राया, जागि राया, फुलि जया, फलि जया, दिन य बार भ्यटनै राया” की आशीष दी जाती हैं। च्यूड़े चढ़ाने के दौरान पहले व बाद में दूब घास के गुच्छों से सिर में तेल भी लगाया जाता है।

यह भी पढ़ें : दीपावली पर होली से रंग-बिरंगे रंगों में रंगी नजर आई नगरी..

-दीपावली पर होली की तरह रंग-बिरंगी रोशनियों में सराबोर एवं अपनी छवि नैनी झील में निहारती नजर आई सरोवरनगरी
-हर्षोल्लास से मनाया गया दीपावली व गोवर्धन पूजा का त्योहार
नवीन समाचार, नैनीताल, 15 नवम्बर 2020। शनिवार को दीपावली व रविवार को गोवर्धन पूजा का त्योहार जिला-मंडल मुख्यालय एवं जनपद के पर्वतीय ग्रामीण क्षेत्रों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। गांवों में परंपरागत तौर पर गन्ने एवं नीबू तथा शहरी क्षेत्रों में गन्ने एवं मुखौटों से माता लक्ष्मी की सौभाग्यशाली स्वरूप में मूर्ति का निर्माण किया गया एवं पूजा-अर्चना की गई। लोगों ने गांव व शहर के मंदिरों में जाकर भी ईश वंदना की एवं खील-खिलौने चढ़ाए तथा दिए जलाए। शाम के समय घरांे में पूजा-अर्चना व कीर्तनों के स्वर भी गूंजते रहे।

दीपों के पर्व पर होली सी रंग-बिरंगी सजी सरोवरनगरी
नैनीताल 31 दिसंबर की रात्रि

लोगों ने शाम ढले घरों को बिजली तथा असली-नकली फूलों की मालाओं एवं दीपकों की रोशनी से जमकर सजाया तथा देर रात्रि करीब 10 बजे तक दीपावली के त्योहार का उत्साह प्रदर्शित करते हुए जमकर आतिशबाजी की। इस दौरान सरोवरनगरी होली की तरह विभिन्न रंगों की रोशनियों से सराबोर एवं अपनी छवि नैनी झील में निहारती नजर आई। वहीं आतिशबाजी के दौरान पटाखों का काफी प्रदूषण आसमान की ओर ऊपर उठता दिखाई दिया। कुछ लोग पटाखों से घायल भी हुए। इस दौरान नगर में सैलानियों की भी काफी संख्या में उपस्थिति एवं बाजारों में रौनक दिखाई दी।

अल्मोड़ा में कुछ ऐसा दिखा नज़ारा :

दिवाली पर रोशनी में दमकता अल्मोड़ा शहर
दीपावली पर रोशनी में दमकता अल्मोड़ा शहर

रविवार को मनाई गई गोवर्धन पूजा
नैनीताल। रविवार को गोवर्धन पूजा का त्योहार मनाया गया। इस मौके पर नगर के सीमित गौ पालकों एवं पुराने, बड़ी-बुजुर्ग महिलाओं ने नगर के मल्लीताल स्थित गौशाला में जाकर गौमाता की पूजा आराधना की एवं अपने परिवार के सुख-सौभाग्य की कामना की। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में इस त्योहार का खासा आकर्षण देखा गया। लोगों ने पिछले नौ दिन से भिगोए गए नये धान भूनकर आज ऊखल यानी ओखली में कूटे व उनसे तैयार किये गए च्यूड़ों से घर के गौवंशीय, गाय-भेंस आदि पशुओं की पूजा की। आगे सोमवार को इन्हीं च्यूड़ों से भैयादूज त्योहार भी मनाया जाएगा, जिसमें बहनें अपने भाइयों को च्यूड़े चढ़ाकर उनकी लंबी उम्र एवं सुख-सौभाग्य की कामना करेंगी। इस मौके के लिए भाइयों का अपनी बहनों के पास जाने का नियम है, जबकि रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाइयों के पास जाती हैं।

यह भी पढ़ें : रक्षाबंधन: भाई-बहन के प्रेम पर पड़ा कोरोना का पहरा, क्वारन्टाइन में बहनों के इंतजार में रह गए भाई..

नवीन समाचार, नैनीताल, 03 अगस्त 2020। कोरोना के संक्रमण की संभावना के दृष्टिगत सोमवार को भाई-बहन के प्रेम के पर्व रक्षाबंधन पर कोरोना का काफी प्रभाव दिखाई दिया। बहनें अपने भाइयों से मिलने कम निकल पाईं। राखी पहनाने के दौरान भी भाई-बहन चेहरे पर मास्क व शील्ड पहने नजर आए। बाजार की मिठाइयांे की बिक्री भी कम हुई। इसकी बजाय लोग घर की बनी तथा पैक्ड मिठाइयों एवं चॉकलेट आदि का अधिक आदान-प्रदान करते नजर आए। वहीं कई भाइयों ने अपनी बहनों को राखी पहनाने के बाद मास्क और सैनिटाइजर के तोहफे भी भेंट किये।

फेस मास्क पहनकर फेस शील्ड पहने भाई को राखी बांधती एक बहन।

इधर क्वारन्टाइन सेंटरों में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता कम ही दिखाई दिया। मुख्यालय स्थित बीडी पांडे जिला चिकित्सालय में तो भाई-बहन के प्रेम की जगह प्रेमी-प्रेमिका वाले प्रेम के लिए युवती द्वारा हाथ की नस काटने की घटना भी हुई। वहीं प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि अनुमति लेकर बहनें अपने क्वारन्टाइन सेंटर में रह रहे अपने भाइयों को राखी बांध सकती थीं, लेकिन ऐसी कोई अनुमति नहीं ली गई।

वहीं राज्य सरकार ने बहनों के लिए रोडवेज की बसों में निःशुल्क यात्रा की व्यवस्था की थी, किंतु कोरोना की वजह से कम बसों के चलने एवं चालकों के भी अपनी बहनों को राखी बांधने के लिए अवकाश लेने की वजह से और भी कम बसें चल पाईं, इस कारण बहनें निःशुल्क यात्रा का कम ही लाभ उठा पाईं।

यह भी पढ़ें : सर्वधर्म की नगरी में ईद और सावन के आखिरी सोमवार पर रहा ऐसा धार्मिक हर्षोल्लास…

नवीन समाचार, नैनीताल, 12 अगस्त 2019। सर्वधर्म की नगरी सरोवरनगरी में सोमवार को एक ओर ईद-उल-अजहा तो दूसरी ओर श्रावण मास के आखिरी सोमवार के संगम पर शांति, सौहार्द व हर्षोल्लास का माहौल रहा। नगर में सुबह वर्षा होने के कारण यहां जामा मस्जिद मल्लीताल व तल्लीताल मस्जिद के भीतर अलग-अलग नमाज अदा की गई। सुबह नौ बजे मल्लीताल जामा मस्जिद में इमाम मौलाना मोहम्मद तवरेज व मौलाना अब्दुल खलिक ने, तल्लीताल में 9.30 बजे मौलाना मुहम्मद नईम ने तथा 10 बजे कृष्णापुर मोटापानी इमामबाड़ा में शिया समुदाय के लोगों को मुरादाबाद से आये मौलाना सादाब नकवी ने नमाज अता करवाई। इस दौरान मुल्क में अमन व तरक्की की दुआएं की गई।
नमाज के बाद मुस्लिम भाईयों ने एक दूसरे के गले मिलकर ईद-उल-अजहा की बधाईयां दी। इसके उपरांत घरों व बंद कमरों में बकरों की कुर्बानी दी गई तथा इसके बाद दावतों का दौर शुरू हो गया जो दिन भर चलता रहा। बच्चों ने बाजारों से खरीददारी भी की, और पूरे दिन उत्सव का माहौल रहा। मल्लीताल मस्जिद में नमाज अता करने वाले प्रमुख लोगों में अंजुमन के मोहम्मद फारूक, मोहम्मद हामिद, सुहेल शम्सी, मोहम्मद ताजू तल्लीताल मस्जिद में सदर अकरम शाह, मुज्जफर शाह, अफजल फौजी, अजमल हुसैन, मोहम्मद इकबाल, जाकिर हसन, मोहम्मद तैय्यब, मोहम्मद इजाज, मोहम्मद शाह निक्की, कुरबान अली, बशी कुरैशी, जकी कुरैशी तथा मोटापानी इमामबाड़े में सदर एआर खान अमजद खान, मुस्तफा खान, सरवर खान, गुड्डु खान, अमजद खान, हसन रजा, सादिक रजा खान, फरमान खान, एमए खान, रमजानी खान, रजब खान, मुज्जफर अली, मंजूर हुसैन, खालिद खान, एहसान खान, गुलाम खान सहित सैकड़ों नमाजी शामिल रहे। इस दौरान मल्लीताल मस्जिद में मौजूद एसडीएम विनोद कुमार, सीओ विजय थापा, तहसीलदार भगवान सिंह चौहान, कोतवाल सिंह अशोक कुमार, एसएसआई बीसी मासीवाल, पटवारी अमित साह ने भी नमाजियों को ईद-उल-अजहा की बधाईयां दी।

श्रावण मास के अंतिम सोमवार को मंदिरों में पूरे दिन हुआ जल व दुग्ध से रुद्राभिषेक

नयना देवी मंदिर में शिव लिंग पर दुग्धाभिषेक करते श्रद्धालु।

नैनीताल। श्रावण मास के अंतिम व चौथे सोमवार को नयना देवी मंदिर में शिवलिंग पर भक्तों द्वारा जल एवं दुग्धाभिषेक कर महादेव शिव की पूजा अर्चना की गयी। मंदिर में सुबह से ही नगर के श्रद्धालुओं के साथ ही काफी संख्या में सैलानी भी पूजा अर्चना के लिए मंदिर पहुंचे। श्रद्धालुओं के द्वारा शिवलिंग में जलाभिषेक व दुग्धाभिषेक तथा पूजा पाठ कर अपनी मनोकामना की प्रार्थना की गयी। इसके अलावा पाषाण देवी मंदिर, गुफा महादेव, क्वालिटी बोट स्टेंड, गोलू मंदिर, शनि मंदिर सहित वैष्णों देवी मंदिर में भी लोगों ने पूजा अर्चना की गयी। नगर के आसपास के क्षेत्रों में भी मंदिरों में लोगों नीे पूजा अर्चना कर पुण्य अर्जित किया। ईद के त्योहार का अवकाश होने के चलते निकटवर्ती घोड़ाखाल गोलज्यू मंदिर में भी काफी संख्या में भक्त पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे।

नवीन समाचार
‘नवीन समाचार’ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी नैनीताल से ‘मन कही’ के रूप में जनवरी 2010 से इंटरननेट-वेब मीडिया पर सक्रिय, उत्तराखंड का सबसे पुराना ऑनलाइन पत्रकारिता में सक्रिय समूह है। यह उत्तराखंड शासन से मान्यता प्राप्त, अलेक्सा रैंकिंग के अनुसार उत्तराखंड के समाचार पोर्टलों में अग्रणी, गूगल सर्च पर उत्तराखंड के सर्वश्रेष्ठ, भरोसेमंद समाचार पोर्टल के रूप में अग्रणी, समाचारों को नवीन दृष्टिकोण से प्रस्तुत करने वाला ऑनलाइन समाचार पोर्टल भी है।
https://navinsamachar.com

Leave a Reply

loading...