April 12, 2024

नैनीताल : वनाग्नि से पांच घर जले, ग्रामीणों का सब कुछ हो गया खाक

0
वनाग्नि बुझाने में जुटे अग्निशमन कर्मी।

नवीन समाचार, भवाली, 29 अप्रैल 2022। उत्तराखंड में वनाग्नि की घटनाएं मानव आबादी में परेशानी खड़ी करने लगी हैं। वन संपदा का नुकसान होने के साथ ही लोगों के मकान भी जल रहे हैं। नैनीताल जनपद के ओखलकांडा ब्लॉक की दूरस्थ ग्राम पंचायत हरीशताल के तोक तेगुनिया में गुरुवार को जंगल की आग से पांच घर जल गए।

गनीमत रही कि इस दौरान घर के अंदर कोई नहीं था। यदि आग रात को लगती तो बड़ी जन व पशु हानि हो सकती थी। सामाजिक कार्यकर्ता ललित भट्ट, डूंगर ढोलगाई, प्रदीप मटियाली, पूरन भट्ट, भोला भट्ट, नवीन, तारा भट्ट, त्रिलोचन भट्ट ने घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।

फिर भी आग से घर में रखा अनाज, कपड़े, बर्तन समेत अन्य सामान जलकर नष्ट हो गया है। पीड़ित परिवारों को अन्यत्र शिफ्ट कर दिया गया है। ग्राम प्रधान आशा भट्ट ने बताया कि जंगल की आग से तेगुनिया निवासी त्रिलोचन, नवीन चंद्र, भुवन चंद्र, देवीराम व चंद्र दत्त का मकान जल गया है।

पीड़ित परिवारों के पास शरीर पर पहने कपड़ों के अलावा और कुछ नहीं बचा है। ग्रामीणों ने घंटों बाद आग पर काबू पाया। क्षेत्र में नेटवर्क की समस्या के चलते ग्रामीणों को सूचना का आदान-प्रदान करने में परेशानियां उठानी पड़ीं। जबकि विधायक राम सिंह कैड़ा ने घटना पर दुःख जताते हुए एसडीएम धारी व डीएफओ को तत्काल मौका मुआयना कर उचित मुआवजा देने के निर्देश दिए हैं। (डॉ. नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यहाँ क्लिक कर सीधे संबंधित को पढ़ें

यह भी पढ़ें : अग्निशमन बलों ने पूरी रात लगकर मुख्यालय के पास जंगल में लगी आग बुझाई

नवीन समाचार, नैनीताल, 26 अप्रैल 2022। गर्मी बढ़ने के साथ वनाग्नि की घटनाएं निरंतर बढ़ती ही जा रही हैं। तमाम जागरूकता एवं पूर्व में सड़कों के किनारे पिरूल हटाने जैसे प्रबंधों के बावजूद जिला-मंडल के मुख्यालय के आसपास के जंगलों में भी आग से आफत मचा रखी है। इससे अन्य दूरस्थ क्षेत्रों में लग रही आग की विभीषिका को समझा जा सकता है।

बहरहाल, बीती रात्रि अग्निशमन बलों को नगर से लगे हल्द्वानी रोड पर चीलचक्कर व रूसी बाईपास क्षेत्र में कमोबेश पूरी रात आग बुझाने में जुटना पड़ा। फायर ब्रिगेड से प्राप्त जानकारी के अनुसर सोमवार की मध्य रात्रि करीब एक बजकर 35 मिनट पर चील चक्कर, रुसी बाईपास मे वनाग्नि लगने की सूचना मिली थी।

इस सूचना पर फायर स्टेशन नैनीताल से जवाहर सिंह राणा, विपिन बडोला, धीरेन्द्र सिंह व महमूद अली आदि अग्निशमन कर्मी घटना स्थल तक पहुंचे तथा फायर टेंडर की सहायता से पंपं कर सुबह बजे तक आग बुझाने मे जुटे रहे। इसके बाद क्षेत्र में वनाग्नि को पूरी तरह बुझना सुनिश्चित करने के बाद ही टीम वापस लौटी। 

इसके अलावा अग्निशमन कर्मियों ने आज मंगलवार को भवाली रोड पर जोखिया के पास आवासीय घरों की ओर बढ़ रही जंगल की आग को बुझाकर शांत किया। यहाँ आग बुझाने में प्रकाश मेर, उमेश कुमार, दिनेश सिंह, रवि आर्य व मोहन सिंह  आदि अग्निशमन कर्मियों ने योगदान दिया। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : नैनीताल : बारिश के बावजूद वनाग्नि जारी, भवाली-कालाढुंगी रोड, बीरभट्टी पर लगी आग

पाइस क्षेत्र में आग बुझाते अग्निशमन कर्मी।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 24 अप्रैल 2022। दो दिन पूर्व रात्रि में हुई बारिश के बावजूद नगर के निकटवर्ती जंगलों में इन दिनों आग लगने की घटनाएं कम नहीं हुई हैं। रविवार को नगर के निकटवर्ती भवाली रोड कैलाखान-पाइंस तथा दूसरी ओर कालाढुंगी रोड पर मंगोली के पास के जंगलों में आग लगी हुई है।

भवाली रोड की आग के आबादी वाले क्षेत्रों तक पहुंचने की सूचना पर आज हड़कंप मच गया। इस पर स्थानीय लोगों ने वन विभाग को इसकी सूचना दी। इस पर वन विभाग की टीम ने क्षेत्र में आग बुझाने के लिए जुटी, और आग पर काबू पा लिया। वन विभाग की टीम में वन दरोगा संतोष गिरी, हरीश आर्य, दिनेश आर्य, प्रियांशु नितिन रावत, आयुष कुमार, अंकित व रोशन आदि वन कर्मी शामिल रहे।

इसके अलावा अग्निशमन बलों ने बीती रात्रि त्रिमूर्ति पास आबादी तक आई आग के अलावा आज सुबह सवा नौ बजे बीरभट्टी क्षेत्र में, दोपहर 12 बजे आर्मी केंट कैलाखान एवं साढ़े 12 बजे कालाढूंगी रोड़ पर बजून, खुर्पाताल के पास वन क्षेत्र मे लगी आग की सूचनाओं पर प्रभारी अग्निशमन अधिकारी चन्दन राम आर्य के नेतृत्व मे आग को रिहायशी क्षेत्र की ओर बढ़ने से रोका।

इस कार्य में अमर सिंह अधिकारी, प्रकाश मेर, जवाहर सिंह राणा, जयप्रकाश आर्य, विपिन बडोला, उमेश कुमार, महमूद अली, जीतेंद्र कुमार, राजेंद्र सिंह, दिनेश सिंह, जसवीर सिंह, धीरेंद्र सिंह, महमूद अली व मोहन सिंह आदि अग्निशमन कर्मी शामिल रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : आग से ग्रामीण का घर-गौशाला सब कुछ खाक, नगर में भी धधकी रही आग

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 19 अप्रैल 2022। गर्मी बढ़ने के साथ जनपद में भी वनाग्नि की घटनाएं निरंतर बढ़ रही हैं। मुख्यालय के निकट हनुमानगढ़ी क्षेत्र में सोमवार रात्रि से ही लगी आग के साथ थाना बेतालघाट क्षेत्र अंतर्गत ग्राम मल्लाकोट (धनियाकोट) गांव में मंगलवार को भीषण आग लग गई। आग लगने से गांव के 40 वर्षीय दीवान सिंह पुत्र स्वर्गीय दिलीप सिंह का मकान व गौशाला दोनों जल गए।

अग्निकांड की सूचना मिलने पर थानाध्यक्ष बेतालघाट सतीश शर्मा ने तत्काल फायर सर्विस को अवगत कराते हुए थाना बेतालघाट पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर जाकर फायर सर्विस भीमताल के जवानों, वन विभाग व फायर वॉचर तथा स्थानीय व्यक्तियों की मदद से करीब तीन घंटे बाद आग पर काबू पाया। आग लगने का कारण स्पष्ट नही हो पाया।

अग्निकांड में जन व पशु हानि का नुकसान नहीं हुआ परंतु घरेलू सामान, अनाज, राशन, रजाई, गद्दे, कपड़े और कुछ पैसे आग से जल गए। मकान के पास स्थित 15 घास के लूटों पर आग लगने से पूरे गांव में आग फैलने की गंभीर स्थिति भी उत्पन्न हो गयी थी जिसे गांव के स्थानीय लोगों फायर सर्विस एवं स्थानीय पुलिस प्रशासन की मदद से बमुश्किल काबू पाकर आग पूर्णतः बुझाया गया।

इधर मुख्यालय में एलपीएस स्कूल के पीछे कूड़े के ढेर में एवं हल्द्वानी रोड़ पर त्रिमूर्ति-हनुमान गढ़ी क्षेत्र मे जंगलों में लगी भीषण आग को भी फायर स्टेशन नैनीताल की टीम द्वारा मोटर फायर टेंडर से पंप कर बमुश्किल बुझाया गया। इस अग्नि कांड के सड़क से काफी नीचे होने के कारण अग्नि शमन कर्मियों ने दुर्गम रास्तों से होते हुए आग तक पहुंचकर तीन टेंकर पानी का प्रयोग कर अग्नि शमन कार्य पूर्ण किया।

आग बुझाने में अमर सिंह अधिकारी, जवाहर सिंह राणा, प्रकाश सिंह मेर, विपिन बडोला, जयप्रकाश आर्य, दिनेश सिंह, विक्रांत सिंह,राजेंद्र सिंह, मो. उमर, धीरेंद्र सिंह, जितेंद्र कुमार, नीरज कुमार व कुलदीप कुमार ने योगदान दिया। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : पाइंस एवं लांग व्यू क्षेत्र में शरारती तत्वों ने लगाई भीषण आग, अग्निशमन कर्मियों ने बुझाई

पाइस क्षेत्र में आग बुझाते अग्निशमन कर्मी।

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 अप्रैल 2022। गर्मी बढ़ने के साथ पहाड़ों पर वनाग्नि की घटनाएं बढ़ने लगी हैं। सोमवार को मुख्यालय के निकट भवाली रोड पर पाइंस एवं नगर में लॉग व्यू पब्लिक स्कूल के निकट जंगल क्षेत्र में भीषण आग लग गई। सूचना मिलने पर फायर स्टेशन नैनीताल के अग्निशमन कर्मियो की टीमों ने मोटर फायर टेंडर व मिनी वाटर टेंडर से पंप कर आग को पूर्ण रूप से बुझा कर शांत किया और वनाग्नि को बढ़ने से रोककर वन सम्पदा को बचा लिया।

अग्निशमन कर्मियों ने बताया कि संभवतः शरारती तत्वों द्वारा सड़क के किनारे आग जलाने से नगर क्षेत्र के अंतर्गत आग की घटनाएं बढ़ रहीं हैं। आग बुझाने में फायर सर्विस के प्रकाश मेर, जवाहर सिह, उमेश कुमार, विपिन बडोला, मो. उमर, विक्रांत सिंह, धीरेंद्र सिंह, नीरज कुमार, राजेंद्र सिंह व दिनेश सिंह आदि कर्मी शमिल रहे। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : जंगल की आग ने रिजॉर्ट को लिया अपनी चपेट में, 30 पर्यटकों की जान पर आई आफत

करीब 30 पर्यटकों ने बमुश्किल रिसार्ट से निकलकर जान बचाई।नवीन समाचार, अल्मोड़ा, 16 अप्रैल 2022। अल्मोड़ा के निकट विदेशी पर्यटकों के पसंदीदा पर्यटक स्थल कसारदेवी के जंगल की आग से इंपीरियल हाइट्स नाम का रिजोर्ट खाक होने की बड़ी घटना प्रकाश में आई है। गनीमत रही कि रिजोर्ट में आग के भड़कने से पहले समय रहते वहां 15 कमरों में ठहरे करीब 30 पर्यटकों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। वनाग्नि की घटना को लेकर वन विभाग की ओर से पुलिस में अभियोग दर्ज हो गया है, और उल्लेखनीय बात यह भी है कि आग लगाने का आरोप कुछ बच्चों पर लगा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार की पूर्वाह्न से कसारदेवी और अल्मोड़ा के बीच कालीमट के जंगल में भीषण आग लग गई थी। धीरे-धीरे पूरे जंगल में आग फैलने लगी थी। सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम आग बुझाने में जुटी रही। लेकिन संकरे और ढलान वाले पहाड़ पर आग लगी होने के कारण इसे बुझाया नहीं जा सका।

इधर शाम को हवा तेज होने पर आग ने कसारदेवी स्थित इंपीरियल हाइट्स रिसार्ट के रेस्टोरेंट की इमारत को अपनी चपेट में ले लिया। इस पर वन एवं अग्निशमन विभाग के कर्मियों ने तेजी से कार्य कर आग को रिजॉर्ट के बुक कमरों में पहुंचने से पहले काबू में कर लिया लेकिन रेस्टोरेंट की इमारत पूरी तरह से खाक हो गई। दूसरी ओर वन विभाग ने चार नाबालिग स्कूली बच्चों को आग लगाने के शक के आधार पर पकड़ लिया है। विभागीय टीम उनसे पूछताछ कर रही है।

नैनीताल में बैंक कर्मियों को दिया आग बुझाने का प्रशिक्षण
नैनीताल। नैनीताल में अग्निशमन सेवा सप्ताह के तहत अग्निशम कर्मियों ने नैनीताल नगर के विभिन्न बैंको मे अग्नि सुरक्षा के प्रति जन जागरूकता अभियान चलाया। अभियान के तहत विभाग की नैनीताल इकाई द्वारा नगर के नैनीताल बैंक मुख्यालय में बैंक कर्मियों को फायर एक्सटिंग्युसर से आग बुझाने का प्रशिक्षण दिया, और आग से बचाव व रोकथाम तथा अग्निशमन उपकरणों के बारे मे आवश्यक जानकारी देने वाले पर्चे वितरित किये। फायर सर्विस की जागरूकता टीम में अमर सिंह अधिकारी, उमेश कुमार, कुलदीप कुमार, मोहन सिंह व नीरज कुमार शामिल रहे। (डॉ.नवीन जोशी) आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : 6 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से खरीदा जाएगा पिरूल, 30 हजार रुपए तक कमा सकेंगी महिलाएं

-आगामी ग्रीष्मकाल व वनाग्नि को रोकने के लिए वनाधिकारियों व कर्मियों को दिया गया ड्रोन उड़ाने सहित आग बुझाने का प्रशिक्षण

DFO टीआर बीजूलाल

डॉ. नवीन जोशी @ नवीन समाचार, नैनीताल, 18 फरवरी 2022। आगामी ग्रीष्मकाल में वनाग्नि की संभावना को देखते हुए नैनीताल वन प्रभाग ग्रामीण महिलाओं व नव युवक मंगल दल से जुड़े ग्रामीणों को रोजगार देने के मकसद से 6 रुपए प्रति किलो ग्राम की दर से पिरूल खरीदेगा। इसमें 3 रुपए वन विभाग एंव 3 रुपए सेंचूरी पेपर मिल लालकुआं की ओर से दिया जाएगा। इससे ग्रामीण महिलाएं प्रतिमाह 10 हजार की दर से एक वर्ष के तीन माह में 30 हजार रुपए तक कमा पाएंगी।

वनाग्नि रोकने को वन रक्षकों का प्रशिक्षण शुरूनैनीताल वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी बीजू लाल टीआर ने यह जानकारी देने के साथ ही बताया कि प्रभाग में वनाग्नि की घटनाओं को रोकने के लिए 69 स्टेशन स्थापित किए गए हैं। साथ ही वनाग्नि की संभावना से निपटने के लिए वन प्रभाग में 200 फायर वाचर और 100 से अधिक वन प्रहरी नियुक्त किए गए हैं। वन प्रभाग को 32 नए वन रक्षक भी मिले हैं। उन्हें वनाग्नि की रोकथाम हेतु ड्रोन संचालन सहित अन्य प्रशिक्षण दिया जा चुका है। अब आग बुझाने का व्यावहारिक प्रशिक्षण देकर तैयारियां पूरी की जा रही है।

श्री लाल ने यह जानकारी शुक्रवार को जिला मुख्यालय स्थित गोविंद बल्लभ पंत प्राणी उद्यान यानी नैनीताल चिड़ियाघर जू के सभागार में आगामी फायर सीजन के दौरान वनाग्नि पर रोकथाम के लिए वन कर्मचारियों व वन प्रहरियों के लिए आयोजित हुई प्रशिक्षण कार्यशाला के दौरान कही। कार्यशाला में मुख्य प्रशिक्षक संजय चौहान ने प्रभाग के अधिकारियों और नवनियुक्त वन रक्षकों को वायरलेस संचालन, फायर लाइन काटने और अत्याधुनिक उपकरणों के जरिए वनाग्नि से निपटने के साथ ही अपनी सुरक्षा करने का प्रशिक्षण दिया गया।

बताया कि कैसे उपलब्ध संसाधनों और उपकरणों का सदुपयोग कर वनाग्नि को बुझाने के दौरान आने वाली समस्याओं से उबरा जाए। अधिकारियों और कर्मचारियों को ड्रोन संचालन का प्रशिक्षण भी दिया गया है। प्रशिक्षण में वन क्षेत्राधिकारी प्रमोद तिवारी, प्रमोद आर्य, ममता चंद, सोनल पनेरु, अजय रावत, अतुल भगत, सहित सभी विभागीय अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

इस दौरान श्री लाल ने यह भी बताया कि सेंचूरी पेपर मिल के साथ 5 वर्ष का करार हुआ है। पिछले साल लॉक डाउन की स्थितियों में 400 गाड़ी पिरूल ही इकट्ठा किया गया था। इस वर्ष इससे कहीं अधिक पिरूल इकट्ठा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि नैनीताल चिड़ियाघर में आचार संहिता के दौरान लगभग 66 लोगों के बैठने की व्यवस्था युक्त अत्याधुनिक तकनीकी व सुविधाओं से युक्त थिएटर भी बनाया गया है। आज के अन्य ताजा ‘नवीन समाचार’ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें : वन व एनडीआरएफ की टीमें रहीं आग बुझाने में नाकाम तो ग्रामीणों ने संभाला मोर्चा

नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अप्रैल 2021। मुख्यालय के निकट मनोरा रेंज के अंतर्गत ज्योलीकोट के समीप के ग्राम चोपड़ा के जंगल बीते बुधवार की रात्रि से बृहस्पति तक धधकते रहे। बताया गया है कि इस अग्निकांड में कई हेक्टेयर जंगल जल कर नष्ट हो गए। धधकते हुए जंगलों की आग बुझाने के लिए एनडीआरएफ और वन विभाग की टीमें आग को बुझाने में नाकाम रहीं। इस पर गाँव के नजदीक पहुंची आग को आबादी क्षेत्र में फैलने से रोकने के लिये ग्राम के धन सिंह राठौर, मोती सिंह रावत, प्रेम बल्लभ पांडे, भीम सिंह रावत, गोपाल दत्त जोशी, खीमानन्द जोशी, भानु राठौर, यश जोशी, निखिल जोशी, रमेश रावत, हिमांशु जोशी, धर्मेंद्र कुंवर, योगेश कुंवर व पारस कुंवर आदि लोगों ने कमान संभाल कर आग को फैलने से रोका। ग्रामीणों ने वन विभाग की कार्य प्रणाली पर भी असंतोष व्यक्त किया है और बताया कि आज शुक्रवार को भी जंगल सुलग रहे है जिससे आग फैलने का खतरा बना हुआ है।

बिड़ला के जंगल में भी लगी आग
नैनीताल। नगर एवं आसपास के क्षेत्रों में वनाग्नि की घटनाएं जारी हैं। शुक्रवार को मुख्यालय में नगर पालिका की सीमा के अंतर्गत बिड़ला विद्या मंदिर के नीचे के जंगल में आग लग गई। नगर पालिका रेंज के वन क्षेत्राधिकारी प्रमोद तिवारी ने बताया कि वन कर्मियों ने आग पर काबू पा लिया है।

यह भी पढ़ें : चारखेत व पाइंस के जंगलों में लगी भीषण आग, केपी हॉस्टल की छात्राएं खुद बाल्टियों से जुटीं आग बुझाने में

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 अप्रैल 2021। जनपद एवं राज्य में एक बार फिर वनाग्नि की घटनाएं बढ़ने लगी हैं। बुधवार को मुख्यालय और मुख्यालय के निकट दोनों ओर वनाग्नि की कई बड़ी घटनाएं हुईं। आज नगर में डीएसबी परिसर के छात्राओं के केपी छात्रावास की पास के जंगल में आग लग गई। इसे बुझाने के लिए खुद छात्राएं आगे आईं। उन्होंने छात्रावास से बाल्टियों से पानी लाकर ‘संघे शक्तिः’ का परिचय देते हुए आग पर काबू पा लिया।

उधर नगर के भवाली रोड पर पाइंस और कालाढुंगी रोड पर चारखेत के पास के जंगलों में भी भीषण आग लग गई। यहां आग की लपड़ें काफी ऊंची उठती नजर आईं। वन और अग्निशमन विभाग की टीमें आग बुझाने के कार्य में जुटी रहीं।

यह भी पढ़ें : गैर चीड़ के नमी वाले टिफिन टॉप के जंगल में लगी आग

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 अप्रैल 2021। कुछ दिन थमने के बाद एक बार फिर वनों में आग लगने की घटनाएं प्रारंभ हो गई हैं। मंगलवार को नगर के टिफिन टॉप की पहाड़ी में आग लग गई। उल्लेखनीय है कि टिफिन टॉप की पहाड़ी उत्तरी ढाल की पहाड़ी है। इस पर धूप की कम मौजूदगी रहती है, और यहां चीड़ के पेड़ भी नहीं है, बल्कि यहां बांज-बुरांश एवं रिंगाल आदि का घना जंगल है। यहां आम तौर पर आग लगने की घटनाएं होती भी नहीं हैं। इस प्रकार साफ तौर पर माना जा रहा है कि किसी ने यहां आग लगाई होगी। बहरहाल, वन एवं अग्निशमन विभाग की टीम ने आग पर फायर टेंडर की मदद से काबू पा लिया।

यह भी पढ़ें : भूमियाधार, खूपी व करकोटक पहाड़ी पर जंगल में लगी आग

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 अप्रैल 2021। अभी भी आग की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। दो दिन पूर्व मुख्यालय के निकट देवता गांव में और एक दिन पूर्व शनिवार को हल्द्वानी रोड पर वेलुवाखान के पास वनाग्नि की घटनाएं हुई थीं। बेलुवाखान के पास आग लगने से जलकर एक पेड़ सड़क पर आ गिरा था, इस कारण मार्ग पर एक घंटे यातायात भी बंद रहा था। अब रविवार को निकटवर्ती भूमियाधार व खूपी गांवों के पास और उधर भीमताल की प्रसिद्ध करकोटक पहाड़ी पर आग लगने की घटनाएं हुईं। करकोटक में वन विभाग के कर्मियों को यहां आग बुझाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। जबकि भूमियाधार-खूपी में वनाग्नि को बुझाने में अग्निशमन बल के चंदन राम आर्य, संदीप सिंह, भोपाल सिंह मेहता, उमेश कुमार, मनोज भट्ट, नीरज कुमार, मोहन सिंह, धीरेंद्र सिंह व रवींद्र कुमार आदि कर्मचारियों ने योगदान दिया। इधर हल्द्वानी में भी गौलापार क्षेत्र में खेड़ा के पास के जंगलों में अभी जबर्दस्त आग लगी हुई है।

यह भी पढ़ें : मुख्यालय के निकट के गांव के पास जंगल में ‘लगाई’ आग !

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 अप्रैल 2021। बुधवार को पहाड़ों पर अनेक स्थानों पर हुई हल्की बारिश के साथ मौसम में हल्की नमी होने के साथ पहाड़ों पर वनाग्नि की घटनाओं में कमी आने की उम्मीद की जा रही है, परंतु बृहस्पतिवार सुबह मुख्यालय के निकट हनुमानगढ़ी के पास स्थित देव़ता गांव के नीचे के जंगल में आग लगी नजर आ रही है। इसकी सूचना वन विभाग के अधिकारियों को दी गई है। माना जा रहा है कि जल्द आग पर काबू पा लिया जाएगा। विश्वस्त सूत्रों की ओर से बताया गया है कि आसपास पशु पालक रहते हैं, और वे अच्छी घास के लिए आग लगाते हैं। कुछ दिन पूर्व भी यहां आग लगाई गई थी, जिसे बुझा दिया गया था। अब बृहस्पतिवार सुबह पुनः यहां आग लगाई गई है।

यह भी पढ़ें : तीसरे दिन भी नाकाम रहा हेलीकॉप्टर लौटा, इधर कुमाऊं मंडल में वनाग्नि पर पूरी तरह नियंत्रण का दावा

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 अप्रैल 2021। भारतीय सेना द्वारा कुमाऊं मंडल में आग पर नियंत्रण के लिए उपलब्ध कराया गया एमआई-17 हेलीकॉप्टर बुधवार को लगातार तीसरे दिन भी दृश्यता शून्य होने के कारण भीमताल झील से पानी नहीं ले पाया और वापस लौट गया। कुमाऊं मंडल में आग पर नियंत्रण के लिए हेलीकॉप्टर की सेवाओं के प्रयोग के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी डीएफओ टीआर बीजूलाल ने बताया कि इस बीच नैनीताल वन प्रभाग में आग पूरी तरह से नियंत्रण में है। मंगलवार को जनपद में 24 स्थानों पर आग लगी थी, जिसे बुझा दिया गया।

बुधवार को सुबह केवल एक स्थान-गेठिया में आग लगी थी, जिसे सुबह ही बुझा लिया गया। वहीं उन्होंने आग से अधिक प्रभावित बागेश्वर व पिथौरागढ़ जनपदों में आज दो दौर की बारिश के बाद आग के वन कर्मियों व बारिश से बुझ जाने का दावा किया। उधर बताया गया है कि बागेश्वर में सुबह हल्की बारिश के बाद दृश्यता में काफी सुधार आया है। अब दूर की पहाड़िया भी नजर आने लगी हैं। इधर श्री बीजूलाल ने बताया कि अब आपात स्थिति में ही हेलीकॉप्टर की सेवाएं ली जाएंगी। गौरतलब है कि हेलीकॉप्टर कुमाऊं मंडल में आग पर नियंत्रण हेतु धुंवे व प्रदूषण की वजह से दृश्यता शून्य होने के कारण एक बार भी अपनी सेवाएं नहीं दे पाया।

इधर वन विभाग के अनुसार  पिछले अक्टूबर से अब तक प्रदेश में 1 हजार 916 हेक्टेअर से अधिक का क्षेत्र वनाग्नि से प्रभावित हुआ है। इस अवधि में आग लगने की 1 हजार 409 घटनायें व 4 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। अब तक राज्य में वनाग्नि से 51 लाख 17 हजार 664 रुपये की आर्थिक क्षति हुई है।

यह भी पढ़ें : वनाग्नि की घटनाओं पर हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया, पीसीसीएफ कल कोर्ट में व्यक्तिगत रूप से तलब

नवीन समाचार, नैनीताल, 06 अप्रैल 2021। उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने मंगलवार को स्वतः संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाने के साथ ही प्रमुख वन संरक्षक राजीव भरतरी को बुधवार को सुबह सवा दस बजे व्यक्तिगत रूप से तलब किया है। न्यायालय ने पूछा है कि इस संबंध में 2016 के न्यायालय के आदेश का अनुपालन क्यों नहीं किया गया। उल्लेखनीय है कि 2016 में भी उच्च न्यायालय ने वनाग्नि की बड़ी घटनाएं होने पर स्वतः संज्ञान लेते हुए वनाग्नि की घटनाओं पर नियंत्रण के लिए आधुनिक उपकरण क्रय करने सहित वनाग्नि पर नियंत्रण के लिए जरूरी कदम उठाने के आदेश पारित किए थे। मंगलवार को उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान व न्यायाधीश न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ में इस मामले में सुनवाई हुई।
दूसरे दिन भी भीमताल झील से पानी नहीं ले पाया हेलीकॉप्टर
नैनीताल। भारतीय वायु सेना से उत्तराखंड को वनाग्नि बुझाने के लिए मिले दो में से एक हेलीकॉप्टर मंगलवार को दूसरे दिन भी कुमाऊं मंडल के वनों में लगी आग बुझाने के लिए भीमताल झील से पानी नहीं ले पाया। ऐसा इसलिए कि यहां वनाग्नि की वजह से एवं मैदानी क्षेत्रों की ओर से आई, वातावरण में फैली धुंध की वजह से दृश्यता बेहद कम रही। इस कारण हेलीकॉप्टर ने यहां पानी लेने के लिए आने का प्रयास किया किंतु वह इसमें सफल नहीं हो पाया। कुमाऊं मंडल में वनाग्नि बुझाने के लिए प्रयोग होने वाले हेलीकॉप्टर के नोडल प्रभारी नैनीताल के प्रभागीय वनाधिकारी बीजू लाल टीआर ने बताया कि दृश्यता बेहद कम है, और लगातार घट रही है। शाम पांच बजे तक हेलीकॉप्टर द्वारा पुनः प्रयास किए जाने की संभावना है।

अब खुद लोग स्वयं को वनाग्नि से बचाने के लिए आसपास लगा रहे आग
नैनीताल। जानकारी के अनुसार कुमाऊं मंडल में वनाग्नि की अनेक भीषण घटनाओं, एवं कुछ घटनाओं में वनाग्नि से ग्रामीणों के भी झुलसने की घटनाओं से लोगों में वनाग्नि से भय भी व्याप्त हो रहा है। ऐसे में लोग अपने घरों, गांवों के आसपास चारों ओर खुद ही नियंत्रित तरीके से आग लगाकर वनाग्नि से बचने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में पूरे वायुमंडल में धुंध छायी हुई है, और दृश्यता शून्य के करीब है।

यह भी पढ़ें : भीमताल झील से पानी नहीं ले पा रहा हेलीकॉप्टर, वन विभाग की वेबसाइट के अनुसार दो वर्ष से राज्य में नहीं लगी वनाग्नि

-एक घंटे बाद पुनः करेगा प्रयास
नवीन समाचार, भीमताल (नैनीताल), 05 अप्रैल 2021। भारतीय वायु सेना से उत्तराखंड को वनाग्नि बुझाने के लिए मिले दो में से एक हेलीकॉप्टर ने सोमवार को टिहरी झील से पानी लेकर आग बुझाने में अपना योगदान दिया। वहीं कुमाऊं मंडल में वनाग्नि बुझाने के लिए आया हेलीकॉप्टर भीमताल झील के पास नहीं आ पाया। ऐसा इसलिए कि यहां वनाग्नि की वजह से एवं मैदानी क्षेत्रों की ओर से आई, वातावरण में फैली धुंध की वजह से दृश्यता बेहद कम हो गई। इस कारण हेलीकॉप्टर ने यहां पानी लेने के लिए आने का प्रयास किया किंतु वह इसमें सफल नहीं हो पाया। कुमाऊं मंडल में वनाग्नि बुझाने के लिए प्रयोग होने वाले हेलीकॉप्टर के नोडल प्रभारी नैनीताल के प्रभागीय वनाधिकारी बीजू लाल टीआर ने बताया कि दृश्यता बेहद कम है, और लगातार घट रही है। सूर्य भी नजर नहीं आ रहे हैं। इस कारण हेलीकॉप्टर नहीं आ पा रहा है। एक घंटे बाद हेलीकॉप्टर द्वारा पुनः प्रयास किए जाने की संभावना है।

मई 2020 से अपडेट नहीं हुआ उत्तराखंड वन विभाग का ट्विटर अकाउंट, मई 2019 से वेबसाइट अपडेट नहीं
नैनीताल। डिजिटल इंडिया के दौर में उत्तराखंड वन विभाग एक वर्ष पीछे नजर आ रहा है। उत्तराखंड वन विभाग का ट्विटर खाता फरवरी 2020 में बनने के बाद 27 मई 2020 से अपडेट नहीं हुआ है। वहीं विभाग के एफआरएमएस यानी फायर रिपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम की बात करें तो इसके अनुसार राज्य में 6 मई 2019 के बाद से आग नहीं लगी है।

यह भी पढ़ें : दोहराया जाएगा 2016, फिर बॉम्बी बकेट युक्त हेलीकॉप्टर बुझाएंगे उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग

नवीन समाचार, देहरादून, 04 अप्रैल 2021। उत्तराखंड में कम बारिश और बर्फबारी के कारण इस बार फायर सीजन की शुरुआत में ही, मार्च माह से ही राज्य के जंगल धधकने लगे थे, जबकि अब अप्रैल माह में वनों की आग विकराल हो गई है। फरवरी से शुरू हुए फायर सीजन के बाद से अब तक कुमाऊं में 400 से अधिक व पूरे उत्तराखंड में 983 आग की घटनाएं हो चुकी हैं। इन घटनाओं में 1291.13 हेक्टेयर वन क्षेत्र को नुकसान पहुंचा है, 5 व्यक्तियों की आग बुझाने के दौरान मौत हो चुकी है और 2 व्यक्ति घायल हुए हैं। ऐसे में उत्तराखंड में बेकाबू होती जंगल की आग पर नियंत्रण के लिए वायु सेना की मदद ली जा रही है। रविवार को राज्य में वायु सेना की टीम रेकी करने के लिए उत्तराखंड पहुंच रही है। उम्मीद जताई जा रही कि एक-दो दिन के भीतर वायु सेना की टीम हेलीकॉप्टरों से राज्य में वनाग्नि पर नियंत्रण करने के लिए मोर्चा संभाल लेगी। उत्तराखंड के जंगलों में आग के सम्बंध में आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित साह ने भी प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से बात कर जानकारी ली। और आग पर काबू पाने और जानमाल के नुकसान को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने तुरंत उत्तराखंड सरकार को एनडीआरएफ की टीमें और हेलिकॉप्टर भेजने के निर्देश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले वर्ष 2016 में जंगलों की आग पर नियंत्रण को सेना के हेलीकाप्टरों की मदद ली गई थी। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत दिवस मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने जंगल की आग की समीक्षा के दौरान सेना के हेलीकाप्टरों की मदद लेने के लिए केंद्र को प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए थे। इस पर प्रमुख मुख्य वन संरक्षक (पीसीसीएफ) राजीव भरतरी ने प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा, जिसमें वायु सेना की बाम्बी बकेट सहित दो हेलीकाप्टर सेवाएं उपलब्ध कराने का आग्रह किया गया। सचिव आपदा प्रबंधन एसए मुरुगेशन के अनुसार शनिवार सुबह शासन ने दो हेलीकाप्टरों की सेवाएं उपलब्ध कराने का आग्रह करते हुए इस संबंध में रक्षा मंत्रालय को पत्र भेजा गया। इसके बाद देर शाम वायु सेना ने सकारात्मक रुख दिखाते हुए वन विभाग के मुखिया पीसीसीएफ से विभिन्न जानकारियां मांगी। पीसीसीएफ राजीव भरतरी के अनुसार वायु सेना ने राज्य में आग की स्थिति, हेलीकाप्टरों के बेस स्टेशन सहित अन्य जानकारियां मांगी, जो उपलब्ध करा दी गई हैं। उन्होंने बताया कि वायु सेना की टीम रेकी के लिए रविवार को पहुंच रही है। वायु सेना के साथ समन्वय के लिए गढ़वाल में वन संरक्षक एनएन पांडेय और कुमाऊं क्षेत्र के लिए डीएफओ नैनीताल बीजूलाल की बतौर समन्वयक तैनाती भी कर दी गई है। उन्होंने बताया कि वायु सेना का एक हेलीकाप्टर गढ़वाल और दूसरा कुमाऊं क्षेत्र में सेवाएं देगा। गढ़वाल क्षेत्र में सेवाएं देने वाला हेलीकाप्टर बाम्बी बकेट के जरिये टिहरी बांध से पानी प्राप्त करेगा, जबकि कुमाऊं का नौकुचियाताल (नैनीताल) से। बकेट में पानी भरकर एक निश्चित ऊंचाई से आग प्रभावित क्षेत्र में उड़ेला जाएगा। उन्होंने बताया कि हेलीकाप्टरों का उपयोग उन क्षेत्रों में अधिक किया जाएगा, जहां आबादी के नजदीक आग पहुंचने की आशंका हो।

यह भी पढ़ें : नैनीताल वन प्रभाग में आग लगाने वालों की सूचना देने वालों को मिलेगा 10 हजार रुपए का इनाम

नवीन समाचार, नैनीताल, 03 अप्रैल 2021। प्रदेश में चिंताजनक स्तर तक लगातार बढ़ रहीं वनाग्नि की घटनाओं को रोकने के लिए नैनीताल वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी टीआर बीजूलाल ने अपनी ओर से बड़ी पहल की है। उन्होंने आग लगाने वालों की सूचना देने वाले व्यक्ति को अपनी ओर से 10 हजार रुपए का नगद ईनाम देने की घोषणा की है। साथ ही यह भी आश्वस्त किया है कि सूचना देने वाले की पहचान पूरी तरह से गोपनीय रखी जाएगी। वहीं आग लगाने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेजा जाएगा।

DFO टीआर बीजूलाल

श्री बीजूलाल ने इसके साथ ही जनसामान्य से अपील की है कि वह आग लगने की सूचना देने के साथ ही आग को रोकने व बुझाने में स्वयं भी योगदान देकर वन विभाग का सहयोग करें। उन्होंने कहा है कि वन सभी के हैं, और सभी का जीवन वनों पर निर्भर है। बिना जनसहयोग के वनाग्नि को रोकना भी वन विभाग के लिए अकेले संभव नहीं है। साथ ही उन्होंने बताया कि वन विभाग के नैनीताल वन प्रभाग के द्वारा लीसा एवं पिरूल एकत्रीकरण के जरिये स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का प्रयास भी किया जा रहा है।

वनाग्नि बुझाने में हेलीकॉप्टर लगाए जाएं: प्रो. तिवारी
नैनीताल। कुमाऊं विश्वविद्यालय के शोध एवं प्रसार निदेशक तथा वनस्पति विज्ञानी प्रो. ललित तिवारी ने कहा कि प्रदेश में हो रही वनाग्नि की घटनाओं में बड़े पैमाने पर जैव विविधता को नुकसान पहुंच रहा है। उन्होंने इसे बुझाने के लिए तुरंत हेलीकॉप्टरों की सेवाएं लिए जाने की आवश्यकता जताई है। प्रो. तिवारी ने बताया कि राज्य में 4900 आवृतबीजी प्रजातियां हैं, इनमें से 701 प्रजातियां औषधीय पौधों की हैं। इनके अलावा भी हिमालयी क्षेत्र में 17000 जैव विविधता की प्रजातियां हैं। इन्हें वनाग्नि से नुकसान पहुंच रहा है। खासकर वनाग्नि से प्रभावित चीड़ व बांज के जंगलों में काफल, किल्मोड़ा, पत्थरचट्टा व हिसालू जैसी प्रजातियों को वनाग्नि से काफी नुकसान पहुंच रहा है। इसके साथ ही वनाग्नि छोटे जानवरों के साथ ही पक्षियों के घोंसलों व अंडों को भी सीधा नुकसान पहुंचा रही है। वनाग्नि के कारण वन्य जीव मानव बस्तियों का रुख कर सकते हैं। इससे मानव-वन्य जीव संघर्ष बढ़ सकता है।

जिला न्यायालय में हुई कोरोना सैंपलिंग
कोरोना के बड़ते मामलों के देखते हुवे शुक्रवार को जिला न्यायालय में जिला बार एसोसिएशन के अनुरोध पर न्यायिक अधिकारियों व अधिवक्ताओं सहित न्यायिक कर्मियों के कोरोना की आरटीपीसीआर जांच हेतु नमूने लिये गये। इस अवसर पर जिला न्यायालय परिसर में बीडी पांडे जिला चिकित्सालय के चिकित्सकोे कुल 94 लोगो के नमूने लिए। प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केएस धामी ने बताया कि जल्द ही सभी की जांच रिपोर्ट आ जायेगी। तब तक सभी से खुद को आइसोलेट होने को कहा गया है। इस मौके पर डॉ. अनिरुद्ध गंगोला, डॉ. प्रियांशु श्रीवास्तव, डॉ हिमानी पलड़िया, विशाल मार्टिन व नंदा बल्लभ पालीवाल सहित अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

वन व एनडीआरएफ की टीमें रहीं आग बुझाने में नाकाम तो ग्रामीणों ने संभाला मोर्चा
नवीन समाचार, नैनीताल, 16 अप्रैल 2021। मुख्यालय के निकट मनोरा रेंज के अंतर्गत ज्योलीकोट के समीप के ग्राम चोपड़ा के जंगल बीते बुधवार की रात्रि से बृहस्पति तक धधकते रहे। बताया गया है कि इस अग्निकांड में कई हेक्टेयर जंगल जल कर नष्ट हो गए। धधकते हुए जंगलों की आग बुझाने के लिए एनडीआरएफ और वन विभाग की टीमें आग को बुझाने में नाकाम रहीं। इस पर गाँव के नजदीक पहुंची आग को आबादी क्षेत्र में फैलने से रोकने के लिये ग्राम के धन सिंह राठौर, मोती सिंह रावत, प्रेम बल्लभ पांडे, भीम सिंह रावत, गोपाल दत्त जोशी, खीमानन्द जोशी, भानु राठौर, यश जोशी, निखिल जोशी, रमेश रावत, हिमांशु जोशी, धर्मेंद्र कुंवर, योगेश कुंवर व पारस कुंवर आदि लोगों ने कमान संभाल कर आग को फैलने से रोका। ग्रामीणों ने वन विभाग की कार्य प्रणाली पर भी असंतोष व्यक्त किया है और बताया कि आज शुक्रवार को भी जंगल सुलग रहे है जिससे आग फैलने का खतरा बना हुआ है।

बिड़ला के जंगल में भी लगी आग
नैनीताल। नगर एवं आसपास के क्षेत्रों में वनाग्नि की घटनाएं जारी हैं। शुक्रवार को मुख्यालय में नगर पालिका की सीमा के अंतर्गत बिड़ला विद्या मंदिर के नीचे के जंगल में आग लग गई। नगर पालिका रेंज के वन क्षेत्राधिकारी प्रमोद तिवारी ने बताया कि वन कर्मियों ने आग पर काबू पा लिया है।

यह भी पढ़ें : चारखेत व पाइंस के जंगलों में लगी भीषण आग, केपी हॉस्टल की छात्राएं खुद बाल्टियों से जुटीं आग बुझाने में

नवीन समाचार, नैनीताल, 14 अप्रैल 2021। जनपद एवं राज्य में एक बार फिर वनाग्नि की घटनाएं बढ़ने लगी हैं। बुधवार को मुख्यालय और मुख्यालय के निकट दोनों ओर वनाग्नि की कई बड़ी घटनाएं हुईं। आज नगर में डीएसबी परिसर के छात्राओं के केपी छात्रावास की पास के जंगल में आग लग गई। इसे बुझाने के लिए खुद छात्राएं आगे आईं। उन्होंने छात्रावास से बाल्टियों से पानी लाकर ‘संघे शक्तिः’ का परिचय देते हुए आग पर काबू पा लिया।
उधर नगर के भवाली रोड पर पाइंस और कालाढुंगी रोड पर चारखेत के पास के जंगलों में भी भीषण आग लग गई। यहां आग की लपड़ें काफी ऊंची उठती नजर आईं। वन और अग्निशमन विभाग की टीमें आग बुझाने के कार्य में जुटी रहीं।

यह भी पढ़ें : गैर चीड़ के नमी वाले टिफिन टॉप के जंगल में लगी आग

नवीन समाचार, नैनीताल, 13 अप्रैल 2021। कुछ दिन थमने के बाद एक बार फिर वनों में आग लगने की घटनाएं प्रारंभ हो गई हैं। मंगलवार को नगर के टिफिन टॉप की पहाड़ी में आग लग गई। उल्लेखनीय है कि टिफिन टॉप की पहाड़ी उत्तरी ढाल की पहाड़ी है। इस पर धूप की कम मौजूदगी रहती है, और यहां चीड़ के पेड़ भी नहीं है, बल्कि यहां बांज-बुरांश एवं रिंगाल आदि का घना जंगल है। यहां आम तौर पर आग लगने की घटनाएं होती भी नहीं हैं। इस प्रकार साफ तौर पर माना जा रहा है कि किसी ने यहां आग लगाई होगी। बहरहाल, वन एवं अग्निशमन विभाग की टीम ने आग पर फायर टेंडर की मदद से काबू पा लिया।

यह भी पढ़ें : भूमियाधार, खूपी व करकोटक पहाड़ी पर जंगल में लगी आग

नवीन समाचार, नैनीताल, 11 अप्रैल 2021। अभी भी आग की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। दो दिन पूर्व मुख्यालय के निकट देवता गांव में और एक दिन पूर्व शनिवार को हल्द्वानी रोड पर वेलुवाखान के पास वनाग्नि की घटनाएं हुई थीं। बेलुवाखान के पास आग लगने से जलकर एक पेड़ सड़क पर आ गिरा था, इस कारण मार्ग पर एक घंटे यातायात भी बंद रहा था। अब रविवार को निकटवर्ती भूमियाधार व खूपी गांवों के पास और उधर भीमताल की प्रसिद्ध करकोटक पहाड़ी पर आग लगने की घटनाएं हुईं। करकोटक में वन विभाग के कर्मियों को यहां आग बुझाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। जबकि भूमियाधार-खूपी में वनाग्नि को बुझाने में अग्निशमन बल के चंदन राम आर्य, संदीप सिंह, भोपाल सिंह मेहता, उमेश कुमार, मनोज भट्ट, नीरज कुमार, मोहन सिंह, धीरेंद्र सिंह व रवींद्र कुमार आदि कर्मचारियों ने योगदान दिया। इधर हल्द्वानी में भी गौलापार क्षेत्र में खेड़ा के पास के जंगलों में अभी जबर्दस्त आग लगी हुई है।

यह भी पढ़ें : मुख्यालय के निकट के गांव के पास जंगल में ‘लगाई’ आग !

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 अप्रैल 2021। बुधवार को पहाड़ों पर अनेक स्थानों पर हुई हल्की बारिश के साथ मौसम में हल्की नमी होने के साथ पहाड़ों पर वनाग्नि की घटनाओं में कमी आने की उम्मीद की जा रही है, परंतु बृहस्पतिवार सुबह मुख्यालय के निकट हनुमानगढ़ी के पास स्थित देव़ता गांव के नीचे के जंगल में आग लगी नजर आ रही है। इसकी सूचना वन विभाग के अधिकारियों को दी गई है। माना जा रहा है कि जल्द आग पर काबू पा लिया जाएगा। विश्वस्त सूत्रों की ओर से बताया गया है कि आसपास पशु पालक रहते हैं, और वे अच्छी घास के लिए आग लगाते हैं। कुछ दिन पूर्व भी यहां आग लगाई गई थी, जिसे बुझा दिया गया था। अब बृहस्पतिवार सुबह पुनः यहां आग लगाई गई है।

यह भी पढ़ें : तीसरे दिन भी नाकाम रहा हेलीकॉप्टर लौटा, इधर कुमाऊं मंडल में वनाग्नि पर पूरी तरह नियंत्रण का दावा

नवीन समाचार, नैनीताल, 07 अप्रैल 2021। भारतीय सेना द्वारा कुमाऊं मंडल में आग पर नियंत्रण के लिए उपलब्ध कराया गया एमआई-17 हेलीकॉप्टर बुधवार को लगातार तीसरे दिन भी दृश्यता शून्य होने के कारण भीमताल झील से पानी नहीं ले पाया और वापस लौट गया। कुमाऊं मंडल में आग पर नियंत्रण के लिए हेलीकॉप्टर की सेवाओं के प्रयोग के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी डीएफओ टीआर बीजूलाल ने बताया कि इस बीच नैनीताल वन प्रभाग में आग पूरी तरह से नियंत्रण में है। मंगलवार को जनपद में 24 स्थानों पर आग लगी थी, जिसे बुझा दिया गया। बुधवार को सुबह केवल एक स्थान-गेठिया में आग लगी थी, जिसे सुबह ही बुझा लिया गया। वहीं उन्होंने आग से अधिक प्रभावित बागेश्वर व पिथौरागढ़ जनपदों में आज दो दौर की बारिश के बाद आग के वन कर्मियों व बारिश से बुझ जाने का दावा किया। उधर बताया गया है कि बागेश्वर में सुबह हल्की बारिश के बाद दृश्यता में काफी सुधार आया है। अब दूर की पहाड़िया भी नजर आने लगी हैं। इधर श्री बीजूलाल ने बताया कि अब आपात स्थिति में ही हेलीकॉप्टर की सेवाएं ली जाएंगी। गौरतलब है कि हेलीकॉप्टर कुमाऊं मंडल में आग पर नियंत्रण हेतु धुंवे व प्रदूषण की वजह से दृश्यता शून्य होने के कारण एक बार भी अपनी सेवाएं नहीं दे पाया।

इधर वन विभाग के अनुसार  पिछले अक्टूबर से अब तक प्रदेश में 1 हजार 916 हेक्टेअर से अधिक का क्षेत्र वनाग्नि से प्रभावित हुआ है। इस अवधि में आग लगने की 1 हजार 409 घटनायें व 4 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। अब तक राज्य में वनाग्नि से 51 लाख 17 हजार 664 रुपये की आर्थिक क्षति हुई है।

यह भी पढ़ें : वनाग्नि की घटनाओं पर हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया, पीसीसीएफ कल कोर्ट में व्यक्तिगत रूप से तलब

नवीन समाचार, नैनीताल, 06 अप्रैल 2021। उत्तराखंड के जंगलों में लगी भीषण आग पर उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने मंगलवार को स्वतः संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाने के साथ ही प्रमुख वन संरक्षक राजीव भरतरी को बुधवार को सुबह सवा दस बजे व्यक्तिगत रूप से तलब किया है। न्यायालय ने पूछा है कि इस संबंध में 2016 के न्यायालय के आदेश का अनुपालन क्यों नहीं किया गया। उल्लेखनीय है कि 2016 में भी उच्च न्यायालय ने वनाग्नि की बड़ी घटनाएं होने पर स्वतः संज्ञान लेते हुए वनाग्नि की घटनाओं पर नियंत्रण के लिए आधुनिक उपकरण क्रय करने सहित वनाग्नि पर नियंत्रण के लिए जरूरी कदम उठाने के आदेश पारित किए थे। मंगलवार को उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान व न्यायाधीश न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ में इस मामले में सुनवाई हुई।
दूसरे दिन भी भीमताल झील से पानी नहीं ले पाया हेलीकॉप्टर
नैनीताल। भारतीय वायु सेना से उत्तराखंड को वनाग्नि बुझाने के लिए मिले दो में से एक हेलीकॉप्टर मंगलवार को दूसरे दिन भी कुमाऊं मंडल के वनों में लगी आग बुझाने के लिए भीमताल झील से पानी नहीं ले पाया। ऐसा इसलिए कि यहां वनाग्नि की वजह से एवं मैदानी क्षेत्रों की ओर से आई, वातावरण में फैली धुंध की वजह से दृश्यता बेहद कम रही। इस कारण हेलीकॉप्टर ने यहां पानी लेने के लिए आने का प्रयास किया किंतु वह इसमें सफल नहीं हो पाया। कुमाऊं मंडल में वनाग्नि बुझाने के लिए प्रयोग होने वाले हेलीकॉप्टर के नोडल प्रभारी नैनीताल के प्रभागीय वनाधिकारी बीजू लाल टीआर ने बताया कि दृश्यता बेहद कम है, और लगातार घट रही है। शाम पांच बजे तक हेलीकॉप्टर द्वारा पुनः प्रयास किए जाने की संभावना है।

अब खुद लोग स्वयं को वनाग्नि से बचाने के लिए आसपास लगा रहे आग
नैनीताल। जानकारी के अनुसार कुमाऊं मंडल में वनाग्नि की अनेक भीषण घटनाओं, एवं कुछ घटनाओं में वनाग्नि से ग्रामीणों के भी झुलसने की घटनाओं से लोगों में वनाग्नि से भय भी व्याप्त हो रहा है। ऐसे में लोग अपने घरों, गांवों के आसपास चारों ओर खुद ही नियंत्रित तरीके से आग लगाकर वनाग्नि से बचने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में पूरे वायुमंडल में धुंध छायी हुई है, और दृश्यता शून्य के करीब है।

यह भी पढ़ें : भीमताल झील से पानी नहीं ले पा रहा हेलीकॉप्टर, वन विभाग की वेबसाइट के अनुसार दो वर्ष से राज्य में नहीं लगी वनाग्नि

-एक घंटे बाद पुनः करेगा प्रयास
नवीन समाचार, भीमताल (नैनीताल), 05 अप्रैल 2021। भारतीय वायु सेना से उत्तराखंड को वनाग्नि बुझाने के लिए मिले दो में से एक हेलीकॉप्टर ने सोमवार को टिहरी झील से पानी लेकर आग बुझाने में अपना योगदान दिया। वहीं कुमाऊं मंडल में वनाग्नि बुझाने के लिए आया हेलीकॉप्टर भीमताल झील के पास नहीं आ पाया। ऐसा इसलिए कि यहां वनाग्नि की वजह से एवं मैदानी क्षेत्रों की ओर से आई, वातावरण में फैली धुंध की वजह से दृश्यता बेहद कम हो गई। इस कारण हेलीकॉप्टर ने यहां पानी लेने के लिए आने का प्रयास किया किंतु वह इसमें सफल नहीं हो पाया। कुमाऊं मंडल में वनाग्नि बुझाने के लिए प्रयोग होने वाले हेलीकॉप्टर के नोडल प्रभारी नैनीताल के प्रभागीय वनाधिकारी बीजू लाल टीआर ने बताया कि दृश्यता बेहद कम है, और लगातार घट रही है। सूर्य भी नजर नहीं आ रहे हैं। इस कारण हेलीकॉप्टर नहीं आ पा रहा है। एक घंटे बाद हेलीकॉप्टर द्वारा पुनः प्रयास किए जाने की संभावना है।

मई 2020 से अपडेट नहीं हुआ उत्तराखंड वन विभाग का ट्विटर अकाउंट, मई 2019 से वेबसाइट अपडेट नहीं
नैनीताल। डिजिटल इंडिया के दौर में उत्तराखंड वन विभाग एक वर्ष पीछे नजर आ रहा है। उत्तराखंड वन विभाग का ट्विटर खाता फरवरी 2020 में बनने के बाद 27 मई 2020 से अपडेट नहीं हुआ है। वहीं विभाग के एफआरएमएस यानी फायर रिपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम की बात करें तो इसके अनुसार राज्य में 6 मई 2019 के बाद से आग नहीं लगी है।

यह भी पढ़ें : दोहराया जाएगा 2016, फिर बॉम्बी बकेट युक्त हेलीकॉप्टर बुझाएंगे उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग

नवीन समाचार, देहरादून, 04 अप्रैल 2021। उत्तराखंड में कम बारिश और बर्फबारी के कारण इस बार फायर सीजन की शुरुआत में ही, मार्च माह से ही राज्य के जंगल धधकने लगे थे, जबकि अब अप्रैल माह में वनों की आग विकराल हो गई है। फरवरी से शुरू हुए फायर सीजन के बाद से अब तक कुमाऊं में 400 से अधिक व पूरे उत्तराखंड में 983 आग की घटनाएं हो चुकी हैं। इन घटनाओं में 1291.13 हेक्टेयर वन क्षेत्र को नुकसान पहुंचा है, 5 व्यक्तियों की आग बुझाने के दौरान मौत हो चुकी है और 2 व्यक्ति घायल हुए हैं। ऐसे में उत्तराखंड में बेकाबू होती जंगल की आग पर नियंत्रण के लिए वायु सेना की मदद ली जा रही है। रविवार को राज्य में वायु सेना की टीम रेकी करने के लिए उत्तराखंड पहुंच रही है। उम्मीद जताई जा रही कि एक-दो दिन के भीतर वायु सेना की टीम हेलीकॉप्टरों से राज्य में वनाग्नि पर नियंत्रण करने के लिए मोर्चा संभाल लेगी। उत्तराखंड के जंगलों में आग के सम्बंध में आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित साह ने भी प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से बात कर जानकारी ली। और आग पर काबू पाने और जानमाल के नुकसान को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने तुरंत उत्तराखंड सरकार को एनडीआरएफ की टीमें और हेलिकॉप्टर भेजने के निर्देश दिए हैं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले वर्ष 2016 में जंगलों की आग पर नियंत्रण को सेना के हेलीकाप्टरों की मदद ली गई थी। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत दिवस मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने जंगल की आग की समीक्षा के दौरान सेना के हेलीकाप्टरों की मदद लेने के लिए केंद्र को प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए थे। इस पर प्रमुख मुख्य वन संरक्षक (पीसीसीएफ) राजीव भरतरी ने प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा, जिसमें वायु सेना की बाम्बी बकेट सहित दो हेलीकाप्टर सेवाएं उपलब्ध कराने का आग्रह किया गया। सचिव आपदा प्रबंधन एसए मुरुगेशन के अनुसार शनिवार सुबह शासन ने दो हेलीकाप्टरों की सेवाएं उपलब्ध कराने का आग्रह करते हुए इस संबंध में रक्षा मंत्रालय को पत्र भेजा गया। इसके बाद देर शाम वायु सेना ने सकारात्मक रुख दिखाते हुए वन विभाग के मुखिया पीसीसीएफ से विभिन्न जानकारियां मांगी। पीसीसीएफ राजीव भरतरी के अनुसार वायु सेना ने राज्य में आग की स्थिति, हेलीकाप्टरों के बेस स्टेशन सहित अन्य जानकारियां मांगी, जो उपलब्ध करा दी गई हैं। उन्होंने बताया कि वायु सेना की टीम रेकी के लिए रविवार को पहुंच रही है। वायु सेना के साथ समन्वय के लिए गढ़वाल में वन संरक्षक एनएन पांडेय और कुमाऊं क्षेत्र के लिए डीएफओ नैनीताल बीजूलाल की बतौर समन्वयक तैनाती भी कर दी गई है। उन्होंने बताया कि वायु सेना का एक हेलीकाप्टर गढ़वाल और दूसरा कुमाऊं क्षेत्र में सेवाएं देगा। गढ़वाल क्षेत्र में सेवाएं देने वाला हेलीकाप्टर बाम्बी बकेट के जरिये टिहरी बांध से पानी प्राप्त करेगा, जबकि कुमाऊं का नौकुचियाताल (नैनीताल) से। बकेट में पानी भरकर एक निश्चित ऊंचाई से आग प्रभावित क्षेत्र में उड़ेला जाएगा। उन्होंने बताया कि हेलीकाप्टरों का उपयोग उन क्षेत्रों में अधिक किया जाएगा, जहां आबादी के नजदीक आग पहुंचने की आशंका हो।

यह भी पढ़ें : नैनीताल वन प्रभाग में आग लगाने वालों की सूचना देने वालों को मिलेगा 10 हजार रुपए का इनाम

नवीन समाचार, नैनीताल, 03 अप्रैल 2021। प्रदेश में चिंताजनक स्तर तक लगातार बढ़ रहीं वनाग्नि की घटनाओं को रोकने के लिए नैनीताल वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी टीआर बीजूलाल ने अपनी ओर से बड़ी पहल की है। उन्होंने आग लगाने वालों की सूचना देने वाले व्यक्ति को अपनी ओर से 10 हजार रुपए का नगद ईनाम देने की घोषणा की है। साथ ही यह भी आश्वस्त किया है कि सूचना देने वाले की पहचान पूरी तरह से गोपनीय रखी जाएगी। वहीं आग लगाने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेजा जाएगा।

DFO टीआर बीजूलाल

श्री बीजूलाल ने इसके साथ ही जनसामान्य से अपील की है कि वह आग लगने की सूचना देने के साथ ही आग को रोकने व बुझाने में स्वयं भी योगदान देकर वन विभाग का सहयोग करें। उन्होंने कहा है कि वन सभी के हैं, और सभी का जीवन वनों पर निर्भर है। बिना जनसहयोग के वनाग्नि को रोकना भी वन विभाग के लिए अकेले संभव नहीं है। साथ ही उन्होंने बताया कि वन विभाग के नैनीताल वन प्रभाग के द्वारा लीसा एवं पिरूल एकत्रीकरण के जरिये स्थानीय युवाओं को रोजगार देने का प्रयास भी किया जा रहा है।

वनाग्नि बुझाने में हेलीकॉप्टर लगाए जाएं: प्रो. तिवारी
नैनीताल। कुमाऊं विश्वविद्यालय के शोध एवं प्रसार निदेशक तथा वनस्पति विज्ञानी प्रो. ललित तिवारी ने कहा कि प्रदेश में हो रही वनाग्नि की घटनाओं में बड़े पैमाने पर जैव विविधता को नुकसान पहुंच रहा है। उन्होंने इसे बुझाने के लिए तुरंत हेलीकॉप्टरों की सेवाएं लिए जाने की आवश्यकता जताई है। प्रो. तिवारी ने बताया कि राज्य में 4900 आवृतबीजी प्रजातियां हैं, इनमें से 701 प्रजातियां औषधीय पौधों की हैं। इनके अलावा भी हिमालयी क्षेत्र में 17000 जैव विविधता की प्रजातियां हैं। इन्हें वनाग्नि से नुकसान पहुंच रहा है। खासकर वनाग्नि से प्रभावित चीड़ व बांज के जंगलों में काफल, किल्मोड़ा, पत्थरचट्टा व हिसालू जैसी प्रजातियों को वनाग्नि से काफी नुकसान पहुंच रहा है। इसके साथ ही वनाग्नि छोटे जानवरों के साथ ही पक्षियों के घोंसलों व अंडों को भी सीधा नुकसान पहुंचा रही है। वनाग्नि के कारण वन्य जीव मानव बस्तियों का रुख कर सकते हैं। इससे मानव-वन्य जीव संघर्ष बढ़ सकता है।

Leave a Reply

आप यह भी पढ़ना चाहेंगे :

 - 
English
 - 
en
Gujarati
 - 
gu
Kannada
 - 
kn
Marathi
 - 
mr
Nepali
 - 
ne
Punjabi
 - 
pa
Sindhi
 - 
sd
Tamil
 - 
ta
Telugu
 - 
te
Urdu
 - 
ur

माफ़ कीजियेगा, आप यहाँ से कुछ भी कॉपी नहीं कर सकते

गर्मियों में करना हो सर्दियों का अहसास तो.. ये वादियाँ ये फिजायें बुला रही हैं तुम्हें… नये वर्ष के स्वागत के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं यह 13 डेस्टिनेशन आपके सबसे करीब, सबसे अच्छे, सबसे खूबसूरत एवं सबसे रोमांटिक 10 हनीमून डेस्टिनेशन सर्दियों के इस मौसम में जरूर जायें इन 10 स्थानों की सैर पर… इस मौसम में घूमने निकलने की सोच रहे हों तो यहां जाएं, यहां बरसात भी होती है लाजवाब नैनीताल में सिर्फ नैनी ताल नहीं, इतनी झीलें हैं, 8वीं, 9वीं, 10वीं आपने शायद ही देखी हो… नैनीताल आयें तो जरूर देखें उत्तराखंड की एक बेटी बनेंगी सुपरस्टार की दुल्हन उत्तराखंड के आज 9 जून 2023 के ‘नवीन समाचार’ बाबा नीब करौरी के बारे में यह जान लें, निश्चित ही बरसेगी कृपा नैनीताल के चुनिंदा होटल्स, जहां आप जरूर ठहरना चाहेंगे… नैनीताल आयें तो इन 10 स्वादों को लेना न भूलें बालासोर का दु:खद ट्रेन हादसा तस्वीरों में नैनीताल आयें तो क्या जरूर खरीदें.. उत्तराखंड की बेटी उर्वशी रौतेला ने मुंबई में खरीदा 190 करोड़ का लक्जरी बंगला